पत्रकार पुष्पेन्द्र ने नहीं दी थी CP को धमकी, CP और कोर्ट को किया गया गुमराह, पढ़ें पूरा मामला

journalist-pushpendra-singh-rajput-never-threat-faridabad-cp-dhillon-news

फरीदाबाद: इन दिनों शहर में चर्चा चल रही है कि फरीदाबाद के नामचीन पत्रकार और हरियाणा अब तक न्यूज़ पोर्टल के चीफ एडिटर पुष्पेन्द्र सिंह राजपूत ने पुलिस कमिश्नर को धमकी दी है, एक पत्रकार ने इस बाबत खबर छापकर पुलिस कमिश्नर को गुमराह करने की कोशिश की है जबकि पत्रकार पुष्पेन्द्र ने पुलिस कमिश्नर को किसी भी प्रकार की धमकी नहीं दी, हाँ उन्होंने अवैध शराब और जुए के अड्डे के बारे में आगाह जरूर किया था और यह भी कहा था कि अगर पुलिस कमिश्नर ढिल्लों ने इनके खिलाफ कार्यवाही नहीं की तो उन्हें ढीला कर देंगे, ढीला कर देंगे का मतलब ये नहीं था कि ढिल्लो साहब को मार मार कर ढीला कर देंगे, उनके कहने का मतलब था कि अवैध शराब और अवैध जुवे के अड्डों के बारे में ख़बरें लिखकर दबंग ढिल्लों को ढीला कर देंगे.

पुष्पेन्द्र सिंह की भावना को पुलिस कमिश्नर के सामने गलत तरीके से पेश करके उन्हें शहर का सबसे बड़ा गुंडा साबित करने की कोशिश की जा रही है जबकि आज तक पुष्पेन्द्र सिंह ने किसी को भी धमकी नहीं दी है और ना ही उनके खिलाफ धमकी देने या गुंडागर्दी का मामला दर्ज है.

पुलिस कमिश्नर को गुमराह करके एक फर्जी मामले में पुष्पेन्द्र सिंह को दोबारा फंसाया गया और उन्हें कोर्ट में सबसे बड़ा गुंडा बताकर Anticipatory Bail कैंसिल करवा दी गयी, अब उन्हें जेल भेजने की तैयारी हो रही है.

क्या है मामला

दरअसल फरीदाबाद की ही एक महिला पत्रकार ने पुष्पेन्द्र सिंह के खिलाफ अश्लीलता फैलाने का एक मामला दर्ज करवाया था जिसमें पुलिस जांच में पुष्पेन्द्र सिंह की कोई संलिप्तता नहीं पायी गयी क्योंकि पोर्टल StarHaryana.com उनके भाई धर्मेन्द्र प्रताप सिंह का था. पुलिस ने धर्मेन्द्र प्रताप सिंह को अचानक गिरफ्तार करके सीधा जेल भेज दिया जिसकी वजह से पुष्पेन्द्र सिंह दुखी थे.

पत्रकार पुष्पेन्द्र सिंह राजपूत फरीदाबाद पुलिस के लिए हमेशा पॉजिटिव ख़बरें लिखते रहे हैं और उनके 2.50 फॉलोवर होने के नाते उनकी ख़बरें फरीदाबाद और हरियाणा में सबसे अधिक पढ़ी जाती हैं. उन्होंने पुलिस कमिश्नर ढिल्लों के लिए भी सैकड़ों पॉजिटिव ख़बरें लिखीं और उन्हें शहर का दबंग पुलिस कमिश्नर बना दिया.

अपने भाई धर्मेन्द्र सिंह जो कई न्यूज़ पोर्टल (Best Hindi News, Faridabad Latest News, Star Haryana, Sach Khabar) के मालिक और देश के नामचीन पत्रकार हैं, उन्हें इस कदर से जेल जाते देखते पुष्पेन्द्र सिंह दुखी थे, उन्होंने अपने व्हाट्स-अप ग्रुप हरियाणा अब तक पर अपनी भावना व्यक्त करते हुए लिखा – इन सीपी को 1000 लोग भी नहीं जानते होंगे, मैंने अनजाने में इन्हें हीरो बना दिया लेकिन आज दुःख हो रहा है जीरो अधिकारी को हीरो बनाकार, खुली चेतावनी, सीपी में हिम्मत हो तो कल से फरीदाबाद में अवैध शराब और अवैध जुए के अड्डे बंद करवाकर दिखाएं, ढिल्लों सर ढीला करूँगा, आओ मैदान में.

pushpendra-singh-rajput-news

पुष्पेन्द्र सिंह की इस भावनात्मक चेतावनी को शहर के ही एक पत्रकार सूरजभान ठाकुर ने धमकी बताकर पुलिस कमिश्नर को उनके खिलाफ गुमराह कर दिया, अपनी खबर में PinakaTimes के पत्रकार ने असली बात छिपा दी जिसे आप नीचे पोस्ट में देख सकते हैं.. जहाँ पुष्पेन्द्र सिंह ने अवैध शराब और जुए के अड्डे के बारे में लिखा था वहां पर पत्रकार सूरजभान ठाकुर ने …… करके असली बात छिपा दी जो Conceal of Facts है और कानून का उल्लंघन है, इस मामले में कोर्ट को भी गुमराह किया गया और पुष्पेन्द्र सिंह की बेल खारिज करवाई गयी, इसके खिलाफ पुष्पेन्द्र सिंह ने शिकायत भी दर्ज कराई है और ऐसा करने वाले पत्रकार के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की मांग की है.

pushpendra-singh-rajput

पुष्पेन्द्र सिंह का मानना है कि अगर पुलिस ने सही तरीके से इसकी जांच की होती तो मामला खारिज हो जाता क्योंकि यह Adnow कंपनी के इरोटिक एड का मामला था जिसे पीडिता ने पोर्न वीडियो बताकर शिकायत दर्ज करवाई है, आगे ट्रायल में इसकी जांच की जाएगी लेकिन तीन-चार वर्षों में दोनों पत्रकार भाइयों को मेंटल टॉर्चर और आर्थिक नुकसान से जरूर गुजरना पड़ेगा और यह सब पुलिस की वजह से ही होगा क्योंकि पुष्पेन्द्र सिंह ने हरियाणा के DGP से मिलकर फेयर इन्वेस्टीगेशन की मांग की थी जिसे शायद पूरा नहीं किया गया, हाई-कोर्ट में ऐसे मामले खारिज हो जाते हैं क्योंकि विज्ञापनों पर आज तक IT Act 67A लगा ही नहीं है, दूसरी बात ये गुड्स एंड सर्विसेज के विज्ञापन हैं जिन्हें ट्रायल में साबित किया जाएगा, सरकार भी इन विज्ञापनों से टैक्स के जरिये कमाई करती है.

LEAVE A REPLY