येद्दयुरप्पा का कमाल, आउट होने से पहले लगा दिया मास्टरस्ट्रोक, कांग्रेस-JDS का निकलेगा तेल

bs-yeddyurappa-hit-masterstroke-before-resignation-karnataka-cm

बेंगलुरु: कांग्रेस और JDS वाले कर्नाटक में बीजेपी की सरकार गिराकर भले ही खुश हो रहे हों लेकिन भाजपा ने हारकर भी मैच जीत लिया है लेकिन इसका रिजल्ट कुछ दिन बाद आएगा. बीएस येद्दयुरप्पा एक शानदार खिलाडी निकले और आउट होने से पहले उन्होंने मास्टरस्ट्रोक लगा दिया. अब कांग्रेस और जेडीएस सरकार का कर्नाटक में तेल निकलेगा.

बीएस येद्दयुरप्पा ने CM रहते हुए किसानों का 1 लाख तक का लोन माफ़ किया है, कर्नाटक में नयी सरकार को इस फैसले को लागू करना होगा, अगर नयी सरकार ने येद्दयुरप्पा का आदेश रद्द किया तो कांग्रेस-जेडीएस पर किसान विरोधी सरकार होने का ठप्पा लग जाएगा, यह सन्देश पूरे देश में जाएगा और कांग्रेस को 2019 चुनाव में इसका नुकसान होगा.

अगर कांग्रेस ने बीएस येद्दयुरप्पा के फैसले को लागू किये रखा तो ना तो उन्हें इसका क्रेडिट नहीं मिलेगा क्योंकि क्रेडिट तो येद्दयुरप्पा को ही मिलेगा, कांग्रेस को ना क्रेडिट मिलेगा उल्टा उनका तेल निकल जाएगा. लोन माफ़ करने के लिए मोटे फंड की जरूरत पड़ेगा. कांग्रेस को इस फंड का इंतजाम करना पड़ेगा. अगर कर्नाटक में भाजपा सरकार रही होती तो मोदी सरकार कोई ना कोई बहाना बनाकर या लोन देकर येद्दयुरप्पा की मदद कर देती लेकिन कांग्रेस-जेडीएस की मदद केंद्र सरकार नहीं करेगी. इन्हें खुद कमाकर किसानों का कर्ज माफ़ करना पड़ेगा, अगर इन्होने ऐसा किया तो राज्य में टैक्स बढ़ाकर इस पैसे का इंतजाम करना पड़ेगा और मंहगाई बढ़ जाएगी, ऐसे में कर्नाटक की जनता त्राहि त्राहि करेगी और 2019 चुनाव में बीजेपी को वोट देगी.

कहने का मतलब है कि कर्नाटक में भाजपा की भले ही सरकार ना बन पायी हो लेकिन 2019 लोकसभा चुनाव के लिए येद्दयुरप्पा मास्टरस्ट्रोक लगाकर गए हैं और आज उन्होंने कहा भी कि 2019 लोकसभा चुनाव में हम सभी 28 सीटें जीतेंगे.

आपको बता दें कि आज कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येद्दयुरप्पा ने बहुमत ना साबित कर पाने की वजह से फ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफ़ा दे दिया. इससे पहले उन्होंने काफी भावुक भाषण दिया. उन्होंने कहा कि अगर हमें 104 की जगह 113 सीटें मिली होतीं तो मैं किसानों के लिए काम करता, कर्नाटक को स्वर्ग बना देता लेकिन मुझे इस बात का दुःख है कि हमें 113 सीटें नहीं मिलीं और हम बहुमत की सरकार नहीं बना पाए.

बीएस येद्दयुरप्पा ने कहा कि हमें सरकार बनाने के लिए इमानदार विधायकों की जरूरत है, लेकिन हमारे पास पूरी संख्या नहीं थी इसलिए मैं अपना इस्तीफ़ा देने जा रहा हूँ.

बीएस येद्दयुरप्पा ने कहा कि मैं कर्नाटक के गरीबों और किसानों के लिए काफी काम करना चाहता था लेकिन हमें 113 सीटें नहीं मिली. अगर हमें 8 सीटें और मिल जातीं तो हमारी बहुमत की सरकार बनती और हम जनता की सेवा करते, इसके अलावा मोदी सरकार का भी हमें सहयोग मिलता लेकिन बहुमत ना होने की वजह से हम सरकार नहीं बना पाए, इसका मुझे दुःख है.

बीएस येद्दयुरप्पा ने कहा कि यह दुर्भाग्य की बात है कि जनता ने जिन लोगों को सत्ता से निकाल फेंका आज वही सरकार में वापस आ रहे हैं. जिन लोगों की वजह से जनता परेशान थी आज वही फिर से सत्ता करने जा रहे हैं. मुझे इस बात का दुःख रहेगा लेकिन मैं कर्नाटक की जनता के लिए अंतिम सांस तक काम करता रहूँगा.

LEAVE A REPLY