उपदेश राणा को रोकने के लिए चप्पे चप्पे पर तैनात थी पुलिस, लेकिन पहुँच गए कठुआ, दिखा दिया सच

updesh-rana-exposed-kathua-kand-media-false-propaganda-news

जम्मू: कठुआ मामले में भारतीय मीडिया चैनलों ने दावा किया था कि आसिफा नाम की 8 वर्षीय बच्ची का का रासना गाँव के एक मंदिर के गर्भगृह (तहखाने) में आठ दिनों तक गैंगरेप किया गया और उसकी हत्या करके मंदिर में ही उसकी लाश को 8 दिनों तक छुपा दिया गया. मीडिया चैनलों के इस झूठ का हिन्दू नेता उपदेश राणा ने पर्दाफाश कर दिया है साथ ही मीडिया चैनलों को जमकर फटकार लगाई है.

बता दें कि उपदेश राणा के काफिले को जम्मू-कश्मीर के लखनपुर बॉर्डर पर रोक लिया गया था लेकिन उपदेश राणा फ्लाइट पकड़कर जम्मू गए और उसके बाद सड़क के रास्ते कठुआ पहुँच गए. उन्होंने सच का खुलासा करने के लिए अपनी जान की बाजी लगा दी.

उपदेश राणा ने कठुआ पहुंचकर मामले का खुलासा किया है, उन्होंने मंदिर के अन्दर की वीडियो बनाकर देश को दिखा दिया है कि मंदिर में कोई गर्भगृह या तहखाना है ही नहीं तो गैंगरेप कहाँ हो सकता है, इसके अलावा मंदिर की खिड़कियाँ खुली हुई हैं, बाहर से ही अन्दर देखा जा सकता है, इसके अलावा मंदिर में तीन दरवाजे हैं और तीनों दरवाजों की चाबी तीन गाँव वालों के पास होती है, कोई भी किसी भी समय मंदिर में दर्शन के लिए आ सकता है. ऐसे में बच्ची के साथ आठ दिनों तक मंदिर में गैंगरेप कैसे हो सकता है. उसकी लाश को मंदिर में कैसे छुपाई जा सकती है.

इस मौके पर वहां मुख्य अभियुक्त सांजीराम की बेटी भी मौजूद थी, उसनें बताया कि जिस दिन बच्ची की लाश बरामद हुई थी उस रात बिजली काट दी गयी और बुलेट से कुछ लोग मंदिर में आये थे, बिजली ना होने की वजह से गाँव वालों ने केवल बुलेट की आवाज सुनी थी. रात बीतने के बाद मंदिर में बच्ची की लाश मिली और पुलिस भी आ पहुंची, इसके बाद सांजीराम सहित उनके बेटे, भतीजे और दोस्त को गैंगरेप का आरोपी बना दिया गया.

उपदेश राणा ने बताया कि हिन्दुओं को फंसाने के लिए सोची समझी साजिश की गयी, बच्ची की कहीं दूसरे स्थान पर ह्त्या की गयी, रात में उसकी लाश मंदिर में फेंकी गयी. हिन्दुओं को इस मामले फंसाया गया और मीडिया के जरिये मंदिर के गर्भगृह में गैंगरेप की खबर चलवाई गयी ताकि हिन्दुओं, मंदिरों, देवी-स्थान और हिंदुस्तान को बदनाम किया जा सके.

उपदेश राणा ने कहा कि मैं हिन्दुओं को साजिश का शिकार नहीं होने दूंगा, निर्दोष लोगों को सजा नहीं होने दूंगा, मामले की CBI जांच करवाकर असली कातिलों और साजिशकर्ताओं को सजा दिलवाकर रहूँगा.