राजा चौहान बोले, घर में घुस रहे थे सैकड़ों दलित, महिलाओं की इज्जत बचाने के लिए चलाई गोली

raja-chouhan-told-why-he-fire-on-dalits-on-bharat-bandh

ग्वालियर: भारत बंद के दिन सबसे अधिक हिंसा मध्य प्रदेश में हुई. ग्वालियर में राजा चौहान नाम का एक युवक दलित प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलाया दिखा. उसकी फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई. राजा सिंह इस वक्त फरार है लेकिन उसके परिजनों ने बताया है कि आखिर राजा चौहान को क्यों गोली चलानी पड़ी.

राजा चौहान के भाई सोहन चौहान ने नई दुनिया को बताया कि सोमवार को हजारों की भीड़ हाथों में पत्थर और लाठियां लेकर दौड़ पड़ी। उपद्रवी घरों में घुसकर गाड़ियों में तोड़फोड़ करने लगे और आग लगाने का प्रयास करने लगे। जो उन्हें रोक रहा था उसे वो पीट रहे थे। ऐसे में हम लोगों को मजबूरन हथियार उठाने पड़े और हवाई फायरिंग करनी पड़ गई। जब हवाई फायरिंग हुई तब भीड़ थोड़ा पीछे हटी। इसके बाद और भी लोग हमारे समर्थन में आ गए और भीड़ जाने तक सभी सतर्क रहे।

उन्होंने बताया कि उपद्रवी घरों में घुस आए और जो दिखा उसे पीटने लगे। हमारे वर्कशॉप में रखीं 12 से ज्यादा कारों की तोड़फोड़ कर दी। घर में महिलाओं से अभद्रता करने लगे। भीड़ इतनी थी कि एक दो और 10 को भी हाथ पैरों से रोकते तो कोई फायदा नहीं था,वो लोग हजारों में थे। ऐसे हालात में घर और परिवार के लोगों को बचाने के लिए हथियार न उठाते तो क्या करते। ऐसे में कोई भी होता तो यही करता। हजारों की भीड़ को हवाई फायरिंग कर दूर किया और बाद में वहां से पुलिस प्रशासन के अधिकारी निकले, जिन्होंने इसे साहसिक भी कहा।

नई दुनिया ने लिखा है कि वीडियो में दिखने वाले राजा चौहान ने अपने परिजन के जरिए उनसे बात की है । राजा ने कहा कि उग्र भीड़ जान से मारने को तैयार थी,पत्थर बरसाते हुए वे आगे बढ़ते जा रहे थे और घरों में इतना उपद्रव किया कि लोग दहशत में आ गए। जब अपनों की इज्जत से लेकर जान खतरे में आ गई तो हथियार उठाना पड़ा। हवाई फायरिंग भीड़ को दूर करने के लिए की जिससे वे थोड़ा पीछे हटे। मेरी हवाई फायरिंग से किसी भीड़ या व्यक्ति विशेष को नुकसान नहीं पहुंचा है।