बच्ची की वकील-परिवार नहीं चाहता मामले की CBI जांच हो, अब तो सच लग रहा कोई साजिश है इसके पीछे

kahua-case-asifa-lawyer-family-dont-want-cbi-investigation-exposed

जम्मू: कठुआ केस में जिस प्रकार की आशंका थी अब वैसा ही हो रहा है, कठुआ मामले में बड़ी साजिश का शक किया जा रहा है. आज इस मामले की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुए जिसमें आरोपी पक्ष ने CBI जांच की मांग की जबकि पीडिता पक्ष की वकील ने CBI जांच की मांग से इनकार कर दिया. उनका कहना था कि हम पुलिस की जांच से संतुष्ट हैं. अब आप खुद सोचिये, यह ऐसा पहला पीड़ित परिवार है जो मामले की CBI जांच नहीं चाहता, दीपिका सिंह राजवत पहली ऐसी वकील हैं तो अपने केस की जांच CBI से नहीं कराना चाहतीं, वहीँ पीड़ित पक्ष CBI जांच चाहता है ताकि सच बाहर आये. बता दें कि पीडिता के अपने माँ-बाप नहीं थे, वह चाचा के साथ रहती थी. उसके माँ-बाप उसके नाम से कुछ जमीन छोड़ गए थे, हो सकता है यह जमीन का मामला हो.

बता दें कि आज कठुआ में पीडिता मर्डर के आठों आरोपियों को जिला अदालत में पेश किया गया, कश्मीर क्राइम ब्रांच की शर्मनाक लापरवाही सामने आयी, उन्होंने अभी चार्जशीट ही फाइल नहीं की है, आरोपियों को चार्जशीट की कॉपी ही नहीं दी गयी. कोर्ट ने सभी आरोपियों को चार्जशीट की कॉपी देने का आदेश दिया है और अगली तारीख 28 अप्रैल को दे दी है.

आज आरोपियों ने बड़ा खुलासा किया. मीडिया से बातचीत करते हुए मुख्य अभियुक्त सांजी राम ने कहा कि हमें फंसाया जा रहा है. हम लोगों का नार्को टेस्ट करवा लो सच सामने आ जाएगा. नार्को टेस्ट जरूर होना चाहिए और हमने अदालत से भी यही मांग की है.

बता दें कि पीडिता की हत्या जनवरी महीनें में हुई थी, उसकी लाश एक मंदिर में मिली थी. पीड़ित पक्ष का कहना है कि मंदिर में पीडिता के साथ आठ दिनों तक गैंगरेप किया गया और उसकी हत्या करके आठ दिनों तक लाश को मंदिर में छिपा दिया गया जबकि आरोपी पक्ष का कहना है कि पीड़िता का क़त्ल कहीं और किया गया, रात में उसकी लाश को मंदिर में फेंककर उन्हें फंसा दिया गया.

आरोपी पक्ष के लोग इस मामले की जांच CBI को देने की मांग कर रहे हैं लेकिन पीड़ित पक्ष कश्मीर क्राइम ब्रांच की जांच से संतुष्ट है. यह पहला ऐसा केस है जिसमें आरोपी पक्ष CBI जांच और नार्को टेस्ट की मांग कर रहा है जबकि पीड़ित पक्ष CBI जांच से भाग रहा है.

कठुआ केस में आरोपियों के नाम

  1. सांजी राम, मंदिर का पुजारी
  2. विशाल जंगोत्रा, सांजी राम का बेटा
  3. नाबालिग, सांजी राम का भतीजा
  4. परवेश कुमार, सांजी राम का दोस्त
  5. दीपक खजुरिया, विशेष पुलिस ऑफिसर, साजिश करना
  6. सुरेंदर वर्मा, विशेष पुलिस ऑफिसर, साजिश करना
  7. तिलक राज, जाँच अधिकारी, घूस लेकर सबूत मिटाना
  8. आनंद दत्ता, सब-इंस्पेक्टर, घूस लेकर सबूत मिटाना