काजल सिंगला ने खोल दी पोल, नेहरु-गाँधी रीति सदा चली आयी, देश को बांटो और खाओ मलाई

kajal-trivedi-exposed-congress-break-and-rule-politics-in-india

नई दिल्ली, 21 मार्च: सोशल मीडिया स्टार काजल त्रिवेदी ने आज कांग्रेस पार्टी की फूट डालो और राज करो की नीति का पर्दाफाश किया है. काजल ने कहा कांग्रेस पर बरसते हुए कहा कि – नेहरु-गाँधी रीति, सदा चली आयी, देश को बांटो और खाओ मलाई.

काजल त्रिवेदी ने कहा नेहरु गाँधी के जमाने से कांग्रेस पार्टी यही कर रही है, देश को जातियों और धर्मों में बाँटकर गिद्धों की तरह नोच नोच कर मलाई खा रही है लेकिन इनका अभी तक पेट नहीं भरा इसलिए अब कर्नाटक के हिन्दुओं को भी बाँट रहे हैं.

उन्होंने बताया कि पहले कांग्रेस ने भारत के टुकड़े कर लिए और हिंदुस्तान-पाकिस्तान बना दिया, उसके बाद भारत में हिन्दू-मुस्लिम का की राजनीति खेली गयी ताकि हिन्दू मुस्लिम हमेशा लड़ें और उन लोगों की राजनीतिक रोटियां सिकती रहें, कांग्रेस की राजनीति ही यही है कि बांटो और राज करो.

उन्होंने कहा कि हमारे घर में अगर कोई बाहर वाला दखल देता है तो बुरा लगता है, भारत हमारा घर है लेकिन राहुल गाँधी बाहर वाला है जो इटैलियन माँ की कोख से जन्मा है, ये आकर हमारे देश को तोड़ने की बात कर रहा है तो दुःख होता है और होना भी चाहिए. इस इटैलियन राहुल गाँधी की आज इतनी हिम्मत हो गयी कि अब ये हम हिन्दुओं को तोड़ने की बात कर रहा है.

काजल ने बताया कि कांग्रेस ने जो राजनीति गुजरात में खेली थी वैसी ही चाल कर्नाटक में चली है, गुजरात में पटेलों को अपर कास्ट में माना जाता है, वहां पर इन्होने पटेलों को लालच दिया और उन्हें अलग करने की कोशिश की, अब कर्नाटक में लिंगायत समुदाय के लोगों को अपर कास्ट का माना जाता है, वह शिवभक्त होते हैं. अब उन्हें अलग करके लालच दिया जा रहा है. गुजरात के पाटीदार हमेशा भाजपा के समर्थक रहे हैं और बीजेपी को वोट देते थे लेकिन कांग्रेस ने उन्हें भाजपा से अलग करने की कोशिश की, उसी तरह से कर्नाटक के लिंगायत भी भाजपा से जुड़े रहे हैं और भाजपा को वोट देते हैं, अब कांग्रेस उन्हें अलग धर्म में बांटकर उन्हें हिन्दू धर्म से अलग करना चाहती है ताकि उन्हें अल्पसंख्यक का दर्जा देकर उनका वोट ले सके.

काजल ने कांग्रेस पर बरसते हुए कहा कि ये भारत को अपने अब्बा की जागीर समझते हैं इसलिए जिसको मर्जी हिंदुस्तान से तोड़ देते हैं, कभी जातियों में तोड़ दिया, कभी धर्मों में तोड़ दिया और कभी हिन्दू-मुस्लिम में तोड़ दिया.

काजल ने कहा कि कांग्रेस ने गुजरात में पटेलों को हिन्दुओं से तोड़ दिया, उसके बाद दलितों को हिन्दुओं से तोड़ दिया, राजस्थान में आरक्षण का लालच देकर गुर्जरों को हिन्दुओं से तोड़ दिया, हरियाणा में जाटों को तोड़ दिया, महाराष्ट्र में मराठों को तोड़ दिया और कर्नाटक में लिंगायत को तोड़ दिया.