मोदी सरकार को हिलाने आये थे अन्ना हजारे, खुद ही हिल गए, तीसरे दिन ही मैदान खाली

LIKE फेसबुक पेज
anna-hazare-andolan-against-modi-sarkar-flop-on-third-day

नई दिल्ली: अन्ना हजारे के मोदी विरोधी आन्दोलन का आज तीसरा दिन है. उन्होंने आन्दोलन शुरू करने से पहले कहा था कि मैंने मोदी सरकार को हिला दूंगा, किसान विरोधी साबित कर दूंगा, मेरी रैली में किसानों की भीड़ उमड़ पड़ेगी जो मोदी सरकार को उखाड़ने की इबारत लिख देगी. आज आन्दोलन का तीसरा दिन है. आज रविवार होने की वजह से भीड़ आने की उम्मीद थी लेकिन आज जो लोग आन्दोलन में बैठे थे वह भी उठकर चले गए. तीसरे दिन ही मैदान खाली होगा, मोदी सरकार को हिलाने आये अन्ना हजारे खुद ही हिल गए.

अब खबर आ रही है कि अन्ना के आन्दोलन में भीड़ लाने के लिए मोदी विरोधी नेताओं को बुलाया जाएगा ताकि उनको देखने के लिए लोग आयें, हार्दिक पटेल जल्द आन्दोलन में शामिल हो सकते हैं. इसके अलावा दलित और अन्य जातिवादी नेता आन्दोलन में आ सकते हैं ताकि उनकी जातियों के लोग उन्हें देखने के लिए इस आन्दोलन में आयें और मोदी के खिलाफ भीड़ दिखाई जा सके.

अन्ना हजारे उसी रामलीला मैदान में भूख हड़ताल पर बैठे हैं जहां वह 2011 में भी बैठे थे। इस इस बार अन्ना के निशाने पर केन्द्र की मोदी सरकार है। हजारे कृषि पर स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने के अलावा केन्द्र में लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्तों की नियुक्ति की मांग पर जोर दे रहे हैं।

अन्ना आन्दोलन के अनशन में कल भी युवा नहीं आये थे और आज भी नहीं आये. अन्ना ने सोचा था कि 2011 की तरह इस बार भी भारत के युवाओं का हुजूम इस रैली में आएगा लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है. ऐसा लगता है कि युवा मोदी का विरोध नहीं करना चाहते क्योंकि भारत में मोदी से पॉपुलर कोई नेता नहीं है. यही नहीं मोदी दुनिया भर में सबसे मशहूर नेता हैं.

अन्ना के तमाम समर्थक रामलीला मैदान में मौजूद हैं लेकिन पिछली बार की तरह देश के अन्य किसी राज्य में उनके आंदोलन को पहले जैसे समर्थन नहीं मिलता दिख रहा है।

LEAVE A REPLY