गुरुग्राम पुलिस रिमांड में बॉबी कटारिया के मन में कई बार आया सुसाइड करने का विचार, पढ़ें क्यों

bobby-kataria-thought-about-suicide-in-gurugram-police-remand

गुरुग्राम: बॉबी कटारिया के सनसनीखेज पत्र से हरियाणा का माहौल गरमा गया है, उसनें अपने पत्र में गुरुग्राम पुलिस का ऐसा खौफनाक चेहरा पेश किया है कि अच्छे लोगों की रूक कांप जाए. उसके साथ ऐसा टॉर्चर किया गया को बड़े बड़े आतंकवादियों के साथ भी नहीं होता होता.

बॉबी कटारिया को 24 दिसम्बर को गिरफ्तार करके गुरुग्राम पुलिस ने 6 दिन के लिए रिमांड में लिया था. बॉबी कटारिया ने एक पत्र में लिखा है कि 6 दिन की रिमांड में उसके साथ किस तरह की हैवानियत की. बॉबी कटारिया ने बताया कि कई बार उसके दिमाग में विचार आया कि वह आत्महत्या कर ले लेकिन फिर उसके मन में विचार आता था कि उसके समर्थक क्या सोचेंगे, उसे कायर समझा जाएगा, यही समझकर वह आत्महत्या का विचार त्याग देता था और ऑंखें मूंदकर पुलिस वह सब कुछ करता था जो गुरुग्राम पुलिस वाले उसे करने के लिए कहते थे.

बॉबी कटारिया ने अपने पत्र में लिखा है कि उसके साथ हर तरह का टॉर्चर किया गया, उसके ऊपर पुलिस वालों ने दूर दूर से आकर हाथ साफ़ किया, पुलिस वाले लाइन में लगकर उसे पीटते थे और उसके ऊपर लात घूंसों की बौछार करते थे. यही नहीं उसके ऊपर पुलिस वाले थूक-कर चले जाते थे, कई बार उससे थूक भी चटवाया गया, ऐसा ना करने पर बॉबी कटारिया को खूब पीटा जाता था इसलिए बॉबी कटारिया आंख मूंदकर ऐसा करता था.

बॉबी कटारिया ने बताया कि कई बार उसका सुसाइड करने का मन किया लेकिन जब वह ऑंखें बंद करता था तो उसके समर्थकों का ख्याल आता था, वह सोचता था कि कायर बनकर आत्महत्या नहीं करेगा, यही सोचकर वह थूक-चाट लेता था.

बॉबी कटारिया ने यह भी बताया कि उसे रात भर निर्वस्त्र करके रखा जाता था और आंख झपकते ही लठ्ठ से पीटा जाता था, उसके पैरों पर एक एक क्विंटल का रोलर चलाया जाता था और उस पर दो पुलिस वाले बैठ जाते थे, उसकी टाँगे फाड़ दी जाती थी, रात भर निर्वस्त्र रखकर उसे सुबह कपडे पहना दिए जाते थे और कपडे पहनकर फिर से कई लोग पीटने लग जाते थे.

उसनें बताया कि उसे पीटने वाले कई बार बाहर के लोग आते थे, नए नए लोग आकर उसे पीटते थे और चले जाते थे, कई बार उसे महिलाओं के कपडे पहनकर उसे नचवाया गया और उसके बाद उसके पीछे स्पिट किया गया. उसके साथ हैवानियत का यह खेल 6 दिन तक चलता रहा.

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के वकील राजविंदर सिंह बैंसला के मुताबिक़ पुलिस ने यह सब बॉबी कटारिया को पागल बनाने के लिए किया था, ऐसा टॉर्चर झेलकर या तो लोग पागल हो जाते हैं, या सुसाइड कर लेते हैं और या तो भागने की कोशिश करते हैं जिसके बाद पुलिस उनका एनकाउंटर करके उन्हें बदमाश साबित करने की कोशिश करती है.

LEAVE A REPLY