मुझे राष्ट्रपति बनना ही नहीं है, अगर प्रस्ताव आएगा भी तो नहीं करेंगे स्वीकार: मोहन भागवत

rss-chief-mohan-bhagwat-will-not-accept-president-post-proposal

New Delhi, 29 March: संघ प्रमुख मोहन भागवत ने आज उन संभी ख़बरों का खंडन किया जिसमें उनका नाम राष्ट्रपति पद के लिए प्रस्तावित किये जाने के बारे में लिखा गया था, उन्होंने नागपुर हेड क्वार्टर में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि ये ख़बरें पूरी तरह से निराधार हैं, ना तो मेरा नाम राष्ट्रपति के लिए प्रस्तावित किया गया है और ना ही मुझे राष्ट्रपति बनना है।

उन्होंने कहा कि जिस दिन मैं आरएसएस में शामिल हुआ था मैंने दूसरी चीजों के लिए अपने दरवाजे बंद कर लिए थे, हम संघ में काम करते हैं, हमें राष्ट्रपति बनना ही नहीं है और अगर मेरे पास प्रस्ताव आता भी है तो स्वीकार नहीं है।

जानकारी के लिए बता दें कि दी दिन पहले शिवसेना सांसद संजय राउत ने संघ प्रमुख मोहन भागवत को राष्ट्रपति के लिए सबसे उपयुक्त उम्मीदवार बताया था, उन्होंने कहा था कि अगर भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाना है तो मोहन भागवत को राष्ट्रपति बना चाहिए क्योंकि नरेन्द्र मोदी भी कट्टर हिन्दू हैं, सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी कट्टर हिन्दू हैं और मोहन भागवत भी कट्टर हिन्दू हैं। कुछ लोगों ने इसे शिवसेना की एक कुटिल चाल बताया था ताकि बीजेपी के खिलाफ अल्पसंख्यकों को डराया जा सके।