11 January, 2017

मुलायम सिंह ने राम गोपाल यादव के बारे मे किया खुलासा

मुलायम सिंह ने राम गोपाल यादव के बारे मे किया खुलासा

mulayam-singh-said-ram-gopal-yadav-want-to-break-sp

लखनऊ , 11 जनवरी: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने बुधवार को एक बार फिर रामगोपाल यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा के इशारे पर वह सपा को तोड़ने में लगे हुए हैं। मुलायम ने यह भी कहा कि पिछले कुछ दिनों में रामगोपाल भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से कई बार मिल चुके हैं। लखनऊ स्थित पार्टी कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान मुलायम ने ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि बड़े संघर्षो के साथ उन्होंने पार्टी को खड़ा किया है और वह नहीं चाहते हैं कि पार्टी टूट जाए।

सपा प्रमुख ने कहा, "मैं नही चाहता हूं कि पार्टी टूट जाए, लेकिन कुछ लोग भाजपा से मिलकर पार्टी को तोड़ने में लगे हुए हैं। पार्टी बनाने के लिए हमने काफी लाठियां खाई हैं। इसे टूटने नहीं देंगे।"

सपा अध्यक्ष ने कहा, "मेरे पास जो कुछ था हमने दे दिया। अब मेरे पास क्या बचा है? मैं बस इतना ही कह सकता हूं कि न तो पार्टी का नाम बदलेगा और न ही सिंबल।"

उन्होंने कहा कि बेटा, बहू के इशारे पर रामगोपाल यह सब कर रहे हैं। वह भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष से चार बार मिल चुके हैं।
जम्मू एंड कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों के वेतन में 2018 से होगी व्यापक वृद्धि

जम्मू एंड कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों के वेतन में 2018 से होगी व्यापक वृद्धि

jammu-and-kashmir-government-employee-salary

जम्मू, 11 जनवरी: जम्मू एवं कश्मीर के वित्त मंत्री हसीब दराबु ने अपने कार्यकाल का तीसरा बजट पेश करते हुए बुधवार को कहा कि राज्य सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों का क्रियान्वयन अप्रैल 2018 से करेगा। इससे राज्य के लाखों सरकारी कर्मचारियों व पेंशनधारकों के वेतन व पेंशन में 23.5 फीसदी की बढ़त होगी। दराबु ने विधानसभा में अपने बजट भाषण में कहा कि वेतन व पेंशन में बढ़त उसी दिन से लागू होगी, जिस दिन से आयोग की सिफारिशों को केंद्र सरकार द्वारा क्रियान्वित किया गया था।

दराबु ने कहा कि पहले का बजट माइक्रो फाइनेंस तथा औद्योगिक रूप से पिछड़े राज्य में विनियोजन पर आधारित था, जबकि मौजूदा बजट का उद्देश्य परियोजना संचालन पर है।

केंद्र सरकार ने बीते साल जून महीने में अपने कर्मचारियों के लिए आयोग की सिफारिशों के क्रियान्वयन का ऐलान किया था।

उन्होंने सरकार की भुगतान प्रणाली में सुधार की पेशकश की और घोषणा की कि कोषागारों की जगह पे एंड अकाउंट ऑफिस (पीएओ) लेंगे। इसका उद्देश्य भुगतान, बजटीय मंजूरी, उचित वर्गीकरण तथा अतिरिक्त भुगतान के मुद्दों पर निगरानी रखना तथा नियंत्रण करना होगा।

उन्होंने कहा, "वे उन लेखा प्रमुखों से संपर्क में रहेंगे, जो उनसे संबंधित विभागों के कार्यो से संबंधित हैं।"

दराबु ने कहा, "पावती ग्रहण करने तथा कोषागारों द्वारा विभिन्न विभागों के भुगतानों का निपटारा करने के बदले पीएओ केवल एक विभाग से संबंधित होगा।"

उन्होंने कहा कि नई प्रणाली, आडिट के लिए कोषागारों तक बिल तथा चालानों को ले जाने तथा विभागीय स्तर पर चालानों को जांच के लिए ले जाने की प्रक्रिया से छुटकारा दिलाएगी।

उन्होंने कहा, "इन सबके बदले एक कंप्यूटरीकृत एकीकरण वित्तीय प्रबंधन प्रणाली (आईएफएमएस) उन सभी कार्यो को ऑनलाइन करेगी। नई प्रणाली एक अक्टूबर, 2017 से अस्तित्व में आ जाएगी और अगले साल 31 मार्च तक अपने कामकाज को निश्चित रूप देगी।"

उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार ने सार्वजनिक परिवहन संचालकों को छह महीने तक टोकन कर में छूट देने का फैसला किया है, जिसकी शुरुआत इस साल जुलाई से शुरू होगी।

यह कदम कश्मीर में संकट के दौरान बंद तथा कर्फ्यू से परिवहन संचालकों को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए उठाया गया है।

उन्होंने यह भी घोषणा की है कि राज्य सरकार के विभिन्न विभागों में कार्यरत अस्थायी मजदूरों की सेवा को अगले साल से स्थायी किया जाएगा। वहीं ठेके पर काम कर रहे उन मजदूरों की सेवाओं को नियमित करने के लिए तत्काल कदम उठाए जाएंगे, जिन्होंने विकास कार्यो के लिए अपनी जमीनें मुफ्त में दी हैं।

बजट प्रस्ताव में उन व्यक्तियों के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य किया गया है, जो राज्य में सरकारी नौकरी चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि सरकारी विभागों को 10 फरवरी से उनके फंड आवंटन का 50 फीसदी हिस्सा मिलेगा और यह कदम इस बात को सुनिश्चित करेगा कि विभिन्न परियोजनाएं जल्द से जल्द शुरू हों।
पंजाब का मुख्यमंत्री पंजाब से ही होगा, सभी वादे मै पूरे करूँगा: अरविन्द केजरीवाल

पंजाब का मुख्यमंत्री पंजाब से ही होगा, सभी वादे मै पूरे करूँगा: अरविन्द केजरीवाल

kejriwal-said-i-will-not-become-punjab-cm-but-fulfill-all-promises

पटियाला, 11 जनवरी: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी की ओर से पंजाब के मुख्यमंत्री पद के चेहरे को लेकर सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए कहा है कि पंजाब का मुख्यमंत्री इसी राज्य से होगा। केजरीवाल ने यहां एक रैली में कहा, "मैं दिल्ली का मुख्यमंत्री हूं। दिल्ली की जनता ने मुझे एक जिम्मेदारी दी है और मैं पंजाब का मुख्यमंत्री नहीं हो सकता।"

आप नेता ने कहा, "पंजाब का मुख्यमंत्री और कहीं से नहीं, पंजाब से ही हो सकता है।"

उन्होंने कहा, "इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप की ओर से मुख्यमंत्री कौन होगा, लेकिन मैं ये सभी वादे कर रहा हूं और इन्हें पूरा कराना मेरी जिम्मेदारी है।"

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को पंजाब की जनता से कहा था कि वे 'यह सोचकर वोट दें कि वे केजरीवाल को मुख्यमंत्री बना रहे हैं।'

आप ने बाद में कहा कि सिसोदिया के बयान को गलत समझा गया। पार्टी के जीतने की स्थिति में केजरीवाल पंजाब के मुख्यमंत्री नहीं होंगे।