Showing posts with label Uttar Pradesh. Show all posts
Showing posts with label Uttar Pradesh. Show all posts

Oct 20, 2017

IAS अधिकारियों ने मानी योगी सरकार की बात, लाइन में लगकर मिले, दोनों हाथ जोड़कर किया नमस्ते

IAS अधिकारियों ने मानी योगी सरकार की बात, लाइन में लगकर मिले, दोनों हाथ जोड़कर किया नमस्ते

uttar-pradesh-cm-yogi-adityanath-meet-with-ias-officers-on-diwali

उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी प्रशासनिक अधिकारियों को आदेश दिया है कि वे जब भी किसी विधायक या सांसद से मिलें तो उन्हें दोनों हाथ जोड़कर नमस्ते करेंगे और उन्हें चाय नाश्ते के लिए पूछें, ऐसा इसलिए क्योंकि अधिकारियों और विधायकों में रुतबे को लेकर जंग चलती रहती है. योगी की बात को प्रशासनिक अधिकारियों ने मानना शुरू भी कर दिया है.

आज लखनऊ स्थित सरकारी आवास पर वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारीयों नें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दीपावली की बधाई दी एवं उन्हें हाथ जोड़कर नमस्ते भी किया, बाद में योगी आदित्यनाथ ने उन्हें संबोधित करते हुए उन्हें सभी जिलों में कानून और व्यवस्था पर मेहनत से काम करने के लिए कहा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले 2007 में भी पूर्व सरकार ने सभी प्रशासनिक अधिकारियों को ऐसा ही आदेश दिया था लेकिन समय के साथ साथ अधिकारी भूल गए, कई बार ऐसा भी होता है कि कई भ्रष्ट, अपराधी और बलात्कारी नेता भी विधायक बन जाते हैं, ऐसे नेताओं के आगे हाथ जोड़ना प्रशासनिक अधिकारी अपनी तौहीन समझते हैं, लेकिन योगी के आज के आदेश के बाद सभी अधिकारियों को दोनों हाथ जोड़कर विधायकों को सलाम नमस्ते करना ही पड़ेगा भले ही विधायक बलात्कारी, अपराधी और भ्रष्टाचारी हों.
योगी के आज के आदेश को पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह ने किया डिस-लाइक, पढ़ें क्यों

योगी के आज के आदेश को पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह ने किया डिस-लाइक, पढ़ें क्यों

cm-yogi-order-officers-to-namaste-mlas-mps-ias-sp-singh-dislike

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज प्रदेश के सभी अधिकारियों को आदेश दिया है कि वे सभी विधायकों और सांसदों के आने पर उन्हें खड़े होकर अभिवादन करें, उन्हें नमस्ते बोलें और चाय पानी के लिए पूछें. वैसे उत्तर प्रदेश में विधायकों और सांसदों को माननीय कहा जाता है, उन्हें उचित मान सम्मान दिया जाता है लेकिन अधिकारियों पर इस रिवाज के थोपे जाने से VIP कल्चर फिर से बढ़ सकता है.

पूर्व IAS अफसर सूर्य प्रताप सिंह ने योगी सरकार ने इस आदेश गैर-जरूरी बताया है, उन्होंने कहा कि जो विधायक सांसद अच्छे काम करते हैं उन्हें अधिकारी खुद ही मान सम्मान करते हैं लेकिन कई विधायक सांसद अपराधिक पृष्ठ भूमि के होते हैं, गायत्री प्रजापति जैसे कई नेताओं पर रेप जैसे घिनौने अपराध के आरोप भी लगे होते हैं, क्या ऐसे लोगों को दोनों हाथ जोड़कर नमस्ते बोलना सही है.

उन्होंने कहा कि मैं जब बदायूँ जनपद में DM था तो मैंने अपराधी विधायक डीपी यादव को NSA में गिरफ़्तार किया था, उस समय डीपी यादव ने विधानसभा में मेरी शिकायत की थी कि मैंने उन्हें खड़े होकर नमस्ते नहीं किया। इसपर मैंने सरकार को जवाब दिया था कि एक अपराधी, हत्यारे, बलात्कारी को ‘नमन’ करना मुझे स्वीकार नहीं।  'दुष्ट’ का सम्मान करना ‘दुष्टता’ को बढ़ावा देता है। 

उन्होंने बताया कि इससे पहले 2007 में यह नियम लागू हुआ था कि अधिकारीगण विधायकों, जंप्रतिनिधियों को खड़े होकर नमस्ते करेंगे, चाहे वह अपराधी ही क्यों न हो.

सूर्य प्रताप सिंह जो कई मोर्चों पर योगी सरकार का खुलकर समर्थन भी करते हैं और इस वजह से उन्हें परेशान भी किया जाता है, उनका कहना है कि सम्मान माँगा नहीं जाता, बल्कि अर्जित किया जाता है. असली सम्मान पद से नहीं, प्रतिभा, सदाचारण से आता है. यदि अच्छा आदर्श आचरण हो तो सम्मान दिल से आएगा ही. सम्मान एकतरफ़ा नहीं हो सकता है बल्कि पारस्परिक होता है। यह नहीं हो सकता कि अधिकारी तो विधायकों का सम्मान करें और जनप्रतिनिधि उन्हें गाली गलौज करें। 

उनका कहना है कि योगी सरकार का यह आदेश विधायकों और जनप्रतिनिधियों में घमंड पैदा करेगा, अफसरों को अपराधी नेताओं के आगे झुकने को मजबूर करेगा जिसकी वजह से उनके मनोबल पर भी असर पड़ेगा. अगर जनप्रतिनिधि ईमानदार और मेहनती होंगे तो अधिकारी उन्हें खुद ही मान-सम्मान देंगे इसलिए अफसरों को फ़ोर्स करना सही नहीं है.

Oct 19, 2017

अखिलेश ने रुकवा दी थी अयोध्या की 14 कोसी परिक्रमा, योगी ने श्री राम को अयोध्या में बुला लिया

अखिलेश ने रुकवा दी थी अयोध्या की 14 कोसी परिक्रमा, योगी ने श्री राम को अयोध्या में बुला लिया

akhilesh-yadav-stopped-14-kosi-ayodhya-parikrama-yogi-call-ram

उत्तर प्रदेश में इससे पहले पांच साल तक समाजवादी पार्टी की सरकार थी और अखिलेश यादव मुख्यमंत्री थे, विश्व हिन्दू परिषद ने 25 अगस्त 2013 से अयोध्या की 14 कोसी परिक्रमा शुरू करने का ऐलान किया था लेकिन अखिलेश यादव की सरकार ने सुरक्षा और साम्प्रदाईक तनाव का हवाला देकर यह परिक्रमा रुकवा दी, अयोध्या में धारा 144 लगाकर विश्व हिन्दू परिषद् के 70 नेताओं को गिरफ्तार करवा दिया.

गिरफ्तार किये गए नेताओं में विश्व हिन्दू परिषद के अध्यक्ष अशोक सिंघल, राम विलास वेदांती और प्रवीण तोगड़िया भी थे . ये लोग अयोध्या में आ चुके थे इसलिए इनको गिरफ्तार कर लिया गया जबकि अन्य नेताओं की एंट्री को बैन कर दिया गया. ऐसा लग रहा था कि ये लोग भारतीय नहीं बल्कि आतंकवादी हों, सपा सरकार ने एक धर्म के तुस्टीकरण के लिए राज्य में साम्प्रदाईक तनाव का माहौल बना दिया था, उस वक्त शासन व्यवस्था इनके हाथ में ही नहीं थी.

लेकिन योगी सरकार की शासन व्यवस्था देखिये, कल उन्होने एक लाख से अधिक संतों को अयोध्या बुलाया, श्री राम, सीता और लक्ष्मण का स्वागत समारोह आयोजित किया, दीपोत्सव कार्यक्रम आयोजित किया, लाखों लोग अयोध्या आये और श्री राम का दर्शन किया, दीपोत्सव में भाग लिया, सब कुछ एकदम शांति के साथ निपट गया. कभी से भी कोई गलत खबर नहीं आयी.

मतलब योगी ने अखिलेश यादव को दिखा दिया कि सरकार कैसे चलाते हैं, प्रशासन को कैसे हैंडल करते हैं, लोगों की आस्था का कैसे सम्मान करते हैं और सबको साथ लेकर कैसे चलते हैं. सपा ने एक धर्म के लोगों को खुश करने के लिए 14 कोसी परिक्रमा रुकवा दी थी लेकिन योगी तो स्वयं राम को लेकर ही अयोध्या आ गए.
राम जन्मभूमि पर जाकर बोले CM YOGI, इसमें मेरी व्यकतिगत आस्था है, विपक्ष नहीं दे सकता दखल

राम जन्मभूमि पर जाकर बोले CM YOGI, इसमें मेरी व्यकतिगत आस्था है, विपक्ष नहीं दे सकता दखल

up-cm-yogi-adityanath-visit-ram-janm-bhoomi-ayodhya-19-october

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज अयोध्या में राम जन्मभूमि के दर्शन किये. उन्होंने भगवान राम के दर्शन के बाद मीडिया से बात चीत की और काफी बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि अब राम जन्म भूमि को भी सजाया संवारा जाएगा, यहाँ पर व्यवस्थाओं में सुधार किया जाएगा, बुनियादी सुविधाएं विकसित की जाएंगी और प्रधानमंत्री मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को यहाँ पर भी चलाया जाएगा.

मुख्यमंत्री योगी ने पहले हनुमानगढ़ी में हनुमानजी के दर्शन किये और उसके बाद मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा यहाँ के दर्शन करने के बाद राम लला के भी दर्शन करने जा रहा हूँ, मैं यहाँ पर प्रदेश की सुख, समृद्धि और सुरक्षा की कामना करने के लिए आया हूँ.

राम-लला के दर्शन के बाद उन्होंने कहा कि राम में मेरी व्यकतिगत आस्था है, उसमें विपक्ष कैसे हस्तक्षेप कर सकता है, मैं यहाँ पर श्री राम के दर्शन करने आया हूँ, उनमें मेरी आस्था है. इसके अलावा मैं उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री भी हूँ तो मेरी जिम्मेदारी है कि प्रेदश के हर कोने, हर क्षेत्र, हर स्थान का विकास किया जाय.

उन्होंने कहा कि श्री राम जन्मभूमि में श्रद्धालू देश और दुनिया से आते हैं, उनकी सुरक्षा, सुविधा के लिए मेरी जिम्मेदारी बनती है, मैं यहाँ पर साफ़ सफाई भी देखने के लिए आया हूँ. यहाँ पर स्वच्छता अभियान शुरू करने की जरूरत है, मैंने प्रशासन को यहाँ पर बुनियादी सुविधाएं विकसित करने के आदेश दे दिए हैं, यहाँ पर सीवर, पीने के पानी और टॉयलेट की सुविधाओं पर काम करने की जरूरत है.
योगी का जोरदार अटैक, वो रावण-राज था जो जाति, मजहब, क्षेत्र और परिवार के नाम पर भेदभाव करता था

योगी का जोरदार अटैक, वो रावण-राज था जो जाति, मजहब, क्षेत्र और परिवार के नाम पर भेदभाव करता था

up-cm-akhilesh-yadav-told-akhilesh-rule-rawan-raj-for-bhedbhav

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल अयोध्या की धरती से उत्तर प्रदेश की जनता को बड़ा सन्देश दिया. उन्होंने पूर्व अखिलेश सरकार को रावण-राज बताते हुए कहा कि पहले अयोध्या को बिजली नहीं मिलती थी लेकिन अब बिजली दी जा रही है, अगर यहाँ पर ग्रिड साथ दे तो हम अयोध्या को 24 घंटे बिजली देने को तैयार हैं और हमारे ऊर्जा मंत्री यहाँ पर बैठे हैं. पहले उत्तर प्रदेश के तीन से चार जिलों में ही बिजली मिलती थी वह भी कुछ निश्चित स्थानों पर बाकी प्रदेश के 70-75 जिले बिजली से वंचित रहते थे.

पहले के लोग विकास में भेदभाव करते थे, बिजली में भेदभाव करते थे यही अंतर है, यही राम राज्य है जहाँ किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं है, ना जाति के नाम पर, ना चेहरा देख करके, ना जाति देख करके, ना मत देख करके, ना मजहब देख करके, यही राम राज्य है.

योगी ने कहा कई वो रावण राज्य था जो भेदभाव करता था, जाति के नाम पर, परिवार के नाम पर और क्षेत्र के नाम पर. अब आपकी भावनाओं का सम्मान होगा, आप चिंता मत कीजिये, विकास के कामों से जुड़िये, राज्य सरकार विकास के माध्यम से राम-राज्य की परिकल्पना को साकार करना चाहती है.

योगी ने कहा कि देश के अन्दर जो लोग जातिवाद की राजनीति करते थे, जो लोग क्षेत्र और भाषा के आधार पर समाज को बांटते थे, सभी लोग अब बेनकाब हुए हैं तो आरोप-प्रत्यारोप कर रहे हैं, वे लोग आरोप प्रत्यारोप भी इस हद तक कर रहे हैं कि उसका खंडन करना भी हम लोग अपना अपमान समझते हैं.

इन दोनों जोशीले कवियों को सुनकर संगीत सोम में आ गया था जोश, फिर दिया ऐसा भाषण कि मच गया बवाल

इन दोनों जोशीले कवियों को सुनकर संगीत सोम में आ गया था जोश, फिर दिया ऐसा भाषण कि मच गया बवाल

sangeet-som-speech-come-after-amit-sharma-kamal-agney-poem

इन दोनों युवा और जोशीले कवियों को सुनकर किसी के अन्दर भी जोश आ सकता है, ये दोनों जहाँ जहाँ भी जाते हैं अपनी कविताओं के माध्यम से श्रोताओं में इतना जोश भर देते हैं कि उसके बाद लोग देश और देशभक्ति की ही बातें करते हैं, इन्हीं दोनों कवियों की कविताओं को 15 अक्टूबर को बीजेपी के फायर ब्रांड नेता संगीत सोम ने सुन लिया था, मौका था मेरठ में महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर जी की मूर्ति के लोकार्पण समारोह का जिसमें संगीत सोम को मुख्य अतिथि बनाया गया था और श्रोताओं के मनोरंजन के लिए कवि अमित शर्मा और कमल आग्नेय को भी बुलाया गया था.

maharaja-anangpal-singh-tomer-news

कार्यक्रम में संगीत सोम के भाषण से पहले दोनों युवा कवियों ने कवितायें पढ़ीं, अमित शर्मा ने तिरंगे पर कविता सुनाई और कमल आग्नेय ने हामिद अंसारी पर कविता सुनायी जो पहले से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. दोनों की कवितायें और उनका कवितायें सुनाने का अंदाज देखकर सभी श्रोताओं में जोश भर गया, संगीत सोम भी जोश से भर गए और बाद में ऐसा भाषण ने दिया कि पूरे देश में बवाल मच गया.

संगीत सोम ने दिया ये भाषण जिसनें मचाया बवाल

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा ताजमहल को ऐतिहासिक धरोहरों की लिस्ट से बाहर निकालने के बाद लगभग सभी को हैरानी हुई थी क्योंकि ताजमहल को दुनिया के सात अजूबों में गिना जाता है, रोजाना लाखों लोग ताजमहल को देखने जाते हैं लेकिन आज बीजेपी विधायाक संगीत सोम ने बताया है कि ताजमहल को लिस्ट से बाहर क्यों निकाला गया है.

संगीत सोम ने कहा कि यह सुनकर बहुत लोगों को बड़ा दर्द हुआ कि आगरा के ताजमहल को ऐतिहासिक स्थलों से बाहर निकाल दिया गया, कैसा इतिहास, कहाँ का इतिहास, क्या वो इतिहास कि ताजमहल को बनाने वाले ने उसे बाप को भेंट किया था. 

क्या वो इतिहास कि ताजमहल को बनाने वालों ने उत्तर प्रदेश और हिंदुस्तान के सभी हिन्दुओं के सर्वनाश का काम किया था.

संगीत सोम ने कहा कि अगर ऐसे लोगों का आज भी इतिहास में नाम होगा तो यह दुर्भाग्य की बात है और मैं गारंटी के साथ कह सकता हूँ कि इतिहास बदला जाएगा और इतिहास बदल रहा है.

उन्होंने कहा कि पिछले बहुत सालों में इस हिंदुस्तान और उत्तर प्रदेश में जो इतिहास बिगाड़ने का काम किया है, आज उत्तर प्रदेश और हिंदुस्तान की सरकार उस इतिहास को सही स्थानों पर ले जाने का काम कर रही है. किताबों के अन्दर ले जाने का काम कर रही है. 

उन्होंने कहा कि - भगवान राम से लेकर कृष्णजी, महाराणा प्रताप और शिवाजी राव तक का इतिहास आज किताबों में लाने का काम कर रही है और वो कलंक कथा जो किताबों में लिखी गयी है, चाहे अकबर हों, चाहे औरंगजेब हों, चाहे बाबर हों, इनके इतिहास को निकालने का काम कर रही है.

Oct 18, 2017

योगी बोले, ताकतवर बने रहेंगे तो आप अपनी ताकत के दम पर कुछ भी कर सकते हैं, वरना बंगाल-कश्मीर

योगी बोले, ताकतवर बने रहेंगे तो आप अपनी ताकत के दम पर कुछ भी कर सकते हैं, वरना बंगाल-कश्मीर

up-cm-yogi-said-hindu-should-be-united-and-maintain-their-strength

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज अयोध्या की धरती से उत्तर प्रदेश की जनता को बड़ा सन्देश दिया. पहले उन्होंने विरोधियों पर हमला करते हुए कहा कि इस देश में कुछ ऐसे लोग हैं तो हर बात का विरोध करते हैं, अगर मैं किसी काम के लिए पूरब में जाऊँगा तो कहेंगे कि ये पूरब की तरफ क्यों चले गए, अगर मैं अयोध्या आ रहा हूँ तो लोग कहेंगे कि अयोध्या क्यों चले गए, अगर मैं ना आऊँ तो कहेंगे कि ये देखो डर के मारे अयोध्या नहीं आ रहे हैं. मतलब दोनों प्रकार के प्रश्न उठेंगे.

योगी ने कहा कि अब मुद्दा उठाया जा रहा है कि हम लोग जनता का ध्यान भटकाने एक लिए अयोध्या में इकठ्ठे हुए हैं, हम उनसे कहना चाहते हैं कि हम जनता का ध्यान भटकाने नहीं बल्कि अपनी योजनायें लेकर आये हैं. 6 महीनें के अन्दर उत्तर प्रदेश की सरकार ने जो काम किये हैं उसे बताता हूँ, हमने 86 लाख किसानों का कर्जा माफ़ करने का काम किया है, हमने 37 लाख मेट्रिक टन गेंहू किसानों से MSP से अधिक दाम पर सीधा खरीदा है. 25 हजार करोड़ रुपये गन्ना किसानों को भुगतान किया है, हमने शहर और ग्रामीण में 12 लाख लोगों को भारत सरकार के माध्यम से आवास उपलब्ध कराने के कार्य प्रारंभ किये गए हैं.

हमने 33 लाख गरीब लोगों को राशन कार्ड उपलब्ध कराये हैं, हम लोगों ने 22 लाख से अधिक लोगों को जिनके पास आजादी के बाद से कभी बिजली नहीं थी, उन्हें निशुल्क बिजली कनेक्शन दिए हैं.

हमने डेढ़ करोड़ से अधिक बच्चों को निशुल्क यूनिफार्म दिए हैं, उनको बैग दिए हैं, किताबें दिए हैं, जूते और मोज़े दिए हैं. पहले बिजली नहीं मिलती थी लेकिन अब बिजली दी जा रही है, अगर यहाँ पर ग्रिड साथ दे तो हम अयोध्या को 24 घंटे बिजली देने को तैयार हैं. पहले वाले लोग बिजली में भेदभाव करते थे, विकास में भेदभाव करते थे. वो रावण राज था तो जाति के नाम पर, साम्प्रदाय के नाम पर, परिवार के नाम पर एवं क्षेत्र के नाम पर भेदभाव करता था.

योगी ने कहा कि अब आपकी भावनाओं का सम्मान होगा, आप चिंता मत कीजिये, विकास के कामों में जुड़िये, प्रदेश सरकार विकास के माध्यम से राम-राज्य की परिकल्पना को साकार करना चाहती है, मोदी जी ने लोक कल्याण की जितनी योजनायें शुरू की हैं वह गरीबों के लिए हैं.

उन्होंने कहा कि भगवान राम अयोध्या तब आये थे जब उन्होने सभी ऋषियों मुनियों को दंडकारण्य में अभय देकर राक्षस राज्य का समापन करके, उस समय के आतंक के सबसे बड़े पर्याय रावण और उसकी पूरी सेना को ख़त्म कर दिया था. उसके बाद अयोध्या का एक कुमार पूरे देश की नजर में एक देवतुल्य हो गया.

योगी ने कहा कि ये अचानक नहीं होता है, आज देश को उसी दिशा में ले जाने का प्रयास मोदीजी के द्वारा हो रहा है, लोगों को विकास की दिशा में जोड़ने का कम चल रहा है, मैं आप लोगों को आश्वस्त कराना चाहता हूँ कि आप चिंता मत करिए, आपकी भावनाओं का एक एक करके सम्मान हो रहा है, एक एक करके सारे कार्य हो रहे हैं, आप केवल इन्तजार कीजिये, आप केवल उस संकल्प के साथ जुड़िये. अगर ताकत आपके पास होगी तो अपनी ताकत के बल पर आप कुछ भी कर सकते हैं लेकिन अगर ताकत नहीं होगी तो कुछ नहीं कर पाएंगे. (जैसे कि बंगाल और कश्मीर में कुछ नहीं कर पा रहे हैं.)

राम मंदिर के लिए पहले विनम्रता से प्रार्थना करेंगे, बात नहीं बनी तो जय श्री राम: केपी मौर्या

राम मंदिर के लिए पहले विनम्रता से प्रार्थना करेंगे, बात नहीं बनी तो जय श्री राम: केपी मौर्या

up-dcm-keshav-prasad-maurya-will-use-ram-method-for-ram-mandir

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने आज राम मंदिर की चर्चा करते हुए कुछ बड़ा इशारा किया. उन्होंने भगवान राम की याद दिलाते हुए कहा कि लंका पार करने के लिए पहले भगवान राम ने तीन दिनों तक हाथ जोड़कर विनम्रता के साथ समुद्र देव से प्रार्थना की थी, तीन दिनों तक प्रार्थना करने के बाद जब बात नहीं बनी तो भगवान राम ने भी क्रोध दिखाया था - उन्होंने कहा था -

बिनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति। (अर्थ - इधर तीन दिन बीत गए, किंतु जड़ समुद्र विनय नहीं मानता। तब श्री रामजी क्रोध सहित बोले- बिना भय के प्रीति नहीं होती)

उन्होंने कहा कि जब बिनय से बात नहीं बनती तो भय दिखाना भी गलत नहीं होता. उन्होंने कहा कि आज अयोध्या में जो आयोजन हो रहा है उसे देखकर दुनिया भर के राम-भक्त बहुत खुश हो रहे होंगे एक राम भक्त होने के नाते मैं भली भाँती महसूस कर रहा हूँ.

उन्होंने कहा कि राम मंदिर का मामला सुप्रीम कोर्ट में है, हम विनम्रता से उनके फैसले का इन्तजार कर रहे हैं, चाहे उनके आदेश से फैसला हो या समझौते से फैसला हो, हम भव्य राम मंदिर बनायेंगे लेकिन आज जो काम हमको करना है उसे करने से कोई नहीं रोक सकता, राम मंदिर बनाने से तो हमें रोक सकते हैं लेकिन अयोध्या का विकास करने से कोई नहीं रोक सकता.

योगी का ऐलान, हिन्दू हों या मुसलमान, अयोध्या की जितनी आबादी, आज जलाएंगे उतने दिए

योगी का ऐलान, हिन्दू हों या मुसलमान, अयोध्या की जितनी आबादी, आज जलाएंगे उतने दिए

up-cm-yogi-adityanath-told-diwali-burn-total-ayodhya-population

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज अयोध्या में दिवाली कार्यक्रम आयोजित किया, पहले श्री राम, लक्ष्मण और माता सीता के आगमन पर उनका स्वागत किया गया और बाद में दिवाली की रोशनी से पूरे शहर को जगमग कर दिया गया, सिर्फ सरयू नदी के किनारे पर दो लाख दिए जलाए गये जिसकी रोशनी में सरयू नदी का पूरा घाट जगमग हो गया.

उन्होंने कहा कि आज हम राज्य के लोगों को हजारों वर्ष पहले त्रेता युग की उन स्मृतियों के साथ जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं जब 14 वर्षों के वनवास के बाद भगवान श्री राम का अयोध्या में आगमन हुआ होगा, अयोध्या का उस समय क्या दृश्य रहा होगा, अयोध्या ने देश और दुनिया को दीपावली तो दी लेकिन सदैव आशंका की नजरों से अयोध्या को देखा जाता रहा. ऐसा क्यों?

योगी ने कहा कि ये आशंकाएं बंद होनी चाहियें, अयोध्या के नाम पर लगने वाले प्रश्न चिन्ह बंद हों, अयोध्या को उसकी पहचान मिले, अयोध्या को उसका मान-सम्मान मिले और अयोध्या वासियों को जिस प्रकार से राम-राज का सुख मिला था, वह फिर से मिले, इसी परिकल्पना के साथ हम यहाँ पर इकठ्ठे हुए हैं. 

उन्होंने कहा कि मैं अपने पूज्य संतों का आभारी हूँ, एक साथ सभी पूज्य संत यहाँ पर उपस्थित हुए हैं, संभवतः पहली बार ऐसा देखने को मिला है कि सारे संत एक साथ मंच पर उपस्थित हो करके अयोध्या के इस अद्भुत दीपोत्सव के कार्यक्रम के सहभागी बनने जा रहे हैं. 

उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया देखना चाहती है कि इसीलिए हमारी सरकार ने अयोध्या को नगर निगम के रूप में भी मान्यता दी है, याद रखना, अयोध्या नगर निगम की जितनी आबादी है, उतने दीप आज अयोध्या में जलेंगे, यहाँ के घाटों पर सरयू जी की आरती के तत्काल बाद जो कार्यक्रम भव्यता के साथ होने जा रहा है वह दीपोत्सव का कार्यक्रम बड़ी दिव्यता के साथ पूरा देश और दुनिया देखना चाहती है.
इंडोनेशिया का सभी मुस्लिम कहते हैं, हम भले ही इस्लाम हैं लेकिन हमारे पूर्वज श्रीराम हैं: योगी

इंडोनेशिया का सभी मुस्लिम कहते हैं, हम भले ही इस्लाम हैं लेकिन हमारे पूर्वज श्रीराम हैं: योगी

cm-yogi-adityanath-said-indonesia-muslims-accept-shri-ram-purvaj

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज अयोध्या में दिवाली कार्यक्रम के अवसर पर राज्य के लोगों को संबोधित किया और श्री राम की महिमा का बखान किया. उन्होंने कहा कि राम राज में सभी लोग प्रसन्न थे, सबके पास रोजगार था, सभी लोगों को शिक्षा मिलती थी, सभी लोगों को उचित मार्गदर्शन मिलता था.

योगी ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की हमारी सरकार भी रामराज लाने का प्रयास कर रही है, मोदी जी सभी देशवासियों को 24 घंटे बिजली का प्रबंध कर रहे हैं, पांच करोड़ गरीब महिलाओं को गैस सिलेंडर दे रहे हैं, नौजवानों के रोजगार के लिए मेक इन इंडिया, मुद्रा योजना, स्टार्ट-अप इंडिया, स्टैंड अप इंडिया, स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम शुरू किया है जो आने वाले समय में सभी नौजवानों को रोजगार दिलाएंगे. मोदी जी सभी योजनायें गरीबों को ध्यान में रखकर बनाते हैं, हमें भी 6 महीनें में बहुत काम करके दिखाया है, हमने किसानों का MSP पर 37 MT गेंहू खरीदा, किसानों का 36 हजार करोड़ का लोन माफ़ किया, गन्ना किसानों का 25 हजार करोड़ का बकाया चुकाया. ऐसे कई काम किये हैं जो आने वाले समय में राज्य के लोगों की समस्या ख़त्म करेंगे.

योगी ने श्री राम का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी पूजा सिर्फ भारत में नहीं होती बल्कि लगभग 12 देशों में होती है, यहाँ तक की सबसे बड़े मुस्लिम देश इंडोनेशिया में भी राम को पूजा जाता है, वहां पर सभी रोड राम के नाम से बने हैं, हर योजनायें राम के नाम से शुरू की जाती हैं, सभी विशेष काम राम के नाम से शुरू होते हैं.

योगी ने बताया कि एक बार मैं इंडोनेशिया गया तो हर जगह राम राम देखकर मेरे मन में सवाल आया, वहां पर राम लीला होती हैं जिसके कलाकार यहाँ भी आये हैं और सभी के सभी मुस्लिम हैं, मैं उनसे पूछा कि आप लोग मुस्लिम हैं, क्या आपको राम के नाम से समस्या नहीं होती तो उनका जवाब दुनकर मैं हैरान रह गया. उन्होंने कहा कि हम भले ही इस्लाम हो गए हैं लेकिन हमारे पूर्वज श्री राम हैं, हम आज भी खुद को श्री राम की संतान मानते हैं, हमारा धर्म इस्लाम हमें राम से अलग नहीं कर सकता.
CM योगी आदित्यनाथ ने भगवान राम, लक्ष्मण और सीता का किया अयोध्या वापसी पर स्वागत, राम-राज शुरू

CM योगी आदित्यनाथ ने भगवान राम, लक्ष्मण और सीता का किया अयोध्या वापसी पर स्वागत, राम-राज शुरू

cm-yogi-adityanath-welcome-shri-ram-lakshman-sita-in-ayodhya

आज से उत्तर प्रदेश में राम-राज शुरू हो रहा है, आज उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 14 वर्ष का वनवास काटकर आये प्रभु श्री राम, उनके भाई लक्ष्मण और पत्नी सीता का स्वागत किया. इस अवसर पर योगी सरकार के सभी मंत्री मौजूद थे, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक भी इस अवसर पर मौजूद थे.

इस अवसर पर योगी सरकार के मंत्रियों ने भी फूल मालाओं के साथ भगवान राम का स्वागत किया. इस अवसर पर भारी सुरक्षा व्यवस्था तैनात थी. योगी इसके बाद भगवान राम को सरयू नदी के किनारे सिंगासन पर बैठाकर उनका पूजन करेंगे, उनका मान सम्मान करेंगे और दिवाली मनाएंगे.

इस अवसर पर सरकार ने करीब 2 लाख दीपों को जलाने का प्रबंध किया है. जब ये दीप जलेंगे तो पूरी अयोध्या नगरी इनकी रौशनी से जगमगा जाएगी.

इससे पहले पुष्पक विमान से भगवान राम अयोध्या आये, उनके साथ लक्ष्मण और सीता भी थीं, योगी ने पुष्पक विमान से उतरते ही उनका स्वागत किया. 

योगी सरकार ने इस दिवाली को ठीक वैसे ही मनाने की तैयारी की है जैसी भगवान राम के वापिस आने पर अयोध्या वासियों और भरत ने मनाई थी. मीडिया की भी इस कार्यक्रम पर नजर लगी हुई हैं.
ताजमहल को हिन्दू शिवमंदिर साबित करने के लिए विनय कटियार ने दिया ये तर्क, पढ़ें

ताजमहल को हिन्दू शिवमंदिर साबित करने के लिए विनय कटियार ने दिया ये तर्क, पढ़ें

bjp-mp-vinay-katiyar-told-taj-mahal-was-hindu-shivmandir-earlier

ताज महल की मुसीबतें कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं, पहले उसे उत्तर प्रदेश सरकार ने ऐतिहासिक धरोहरों की लिस्ट से बाहर निकाल दिया, उसके बाद बीजेपी विधायक संगीत सिंह सोम ने ताज महल को मुगलों की कलंक कथा बता दिया और आज बीजेपी के ही संसद विनय कटियार ने उसे शिव मंदिर बता दिया.

विनय कटियार ने आज मुगलों पर हमला तेज करते हुए कहा कि उन्होंने हमारे सभी देव-स्थानों को तोड़ने का काम किया, ताज महल के स्थान पर पहले हिन्दू मंदिर था, आज भी वहां पर देवी देवताओं के चिन्ह हैं लेकिन उसे तोड़ दिया गया.

उन्होंने कहा कि ताज महल के अन्दर आज भी ऊपर से पानी टपकता है जो कि शिवलिंग से टपकता है, उस शिवलिंग को हटाकर वहां पर मजार बना दी गयी लेकिन पानी अभी भी ऊपर मौजूद शिवलिंग से टपकता है.
सुब्रमनियम स्वामी बोले, हम हिन्दुओं को बहुत गर्व है, आज श्रीराम के जैसे ही जगमग होगी अयोध्या

सुब्रमनियम स्वामी बोले, हम हिन्दुओं को बहुत गर्व है, आज श्रीराम के जैसे ही जगमग होगी अयोध्या

subramanian-swamy-on-diwali-celebration-in-ayodhya-hindu-proud

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आज अयोध्या जाएंगे. अयोध्या में आज एक विश्व रिकॉर्ड बनने जा रहा है, इस बार की दीवाली बेहद ख़ास रहने वाली है क्योंकि पहली बार यहाँ पर एक साथ 2 लाख दीयों को जलाया जाएगा. सरयू नदी का खूबसूरत नजारा अभी से लोगों को मनमोहित कर रहा है.

इस बार की दीवाली ठीक वैसी ही होने वाली है जैसी प्रभु श्री राम के अयोध्या लौटने पर मनायी गयी थी, जैसे उस समय शहर को दीपों की रौशनी से जगमग कर दिया गया था वैसे ही इस बार भी अयोध्या को 2 लाख दीयों से जगमग कर दिया जाएगा. जिस तरह यहाँ पर लाइटों से सजावट की गयी है उसे देखने के लिए लोग दूर दूर से पहुँच रहे हैं. यही नहीं विदेशी पर्यटक भी अयोध्या की भव्य दीवाली को देखने के लिए पहुँचने लगे हैं.

आप की जानकारी के लिए बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या में छोटी दिवाली के मौके पर श्री राम की नगरी अयोध्या पहुंचेंगे और दिवाली मनाएंगे. इस मौके पर राज्यपाल राम नाईक भी मौजूद रहेंगे. मुख्यमंत्री योगी और उनके सभी मंत्रियों के अलावा यहाँ पर करीब एक लाख साधू संत भी इकठ्ठे होंगे जिसके लिए कई तरह की ख़ास तैयारियां की गयी हैं. राम, लक्ष्मण और सीता को उड़नखटोले से अयोध्या लाया जाएगा और उनका पूजन भी किया जाएगा.

अयोध्या में ऐतिहासिक दिवाली की खबर से बीजेपी के दिग्गज नेता और राम मंदिर के योद्धा सुब्रमनियम स्वामी भी खुश हैं, उन्होंने ट्वीट करके कहा कि हम हिन्दू और ऐसे लोग जो अपने पूर्वजों को हिन्दू मानते हैं, बहुत खुश हैं क्योंकि आज अयोध्या वैसे ही रोशन होगी जैसे भगवान राम के समय में रोशन हुई थी.

subramanian-swamy-happy-diwali-celebration-in-ayodhya

Oct 17, 2017

ताजमहल को मनाने के लिए 25 अक्टूबर को योगी आदित्यनाथ जाएंगे आगरा, पोछेंगे आंसू

ताजमहल को मनाने के लिए 25 अक्टूबर को योगी आदित्यनाथ जाएंगे आगरा, पोछेंगे आंसू

cm-yogi-adityanath-will-visit-agra-taj-mahal-on-25-october-2017

ताजमहल बहुत दुखी है, फफक फफक का रो रहा है, इस महीनें दो दो बार उसका अपमान हुआ है, पहले तो योगी सरकार ने उसे ऐतिहासिक धरोहरों की लिस्ट से बाहर निकाल दिया और उसके बाद बीजेपी विधायक संगीत सोम ने उसे गद्दारों द्वारा बनायी निशानी बताते हुए कहा कि ताज महल को ऐतिहासिक धरोहरों की लिस्ट से बाहर करके मुगलों की कलंक कथा को मिटाने का काम किया जा रहा है.

अब आप खुद सोचिये, ताज महल को किसी ने भी बनाया हो लेकिन वह वर्तमान में भारत का सबसे बड़ा पर्यटन स्थल है और उसकी वजह से उत्तर प्रदेश को रोजाना करोड़ों रुपये की कमाई होती है, लाखों लोगों को रोजगार मिलता है, योगी सरकार को इतना पैसा कमवाने के बाद भी ताज महल को लिस्ट से बाहर कर दिया है तो उसे दुःख तो होगा ही.

खैर कोई बात नहीं, योगी को भी ताज महल की नाराजगी का अहसास हो गया है इसलिए वे 25 अक्टूबर को ताज महल को मनाने के लिए आगरा जाने वाले हैं, यही नहीं योगी ने संगीत सोम से भी उनके बयान पर सफाई देने को कहा है.

योगी ने न्यूज़ एजेंसी ANI से बात करते हुए कहा कि ताज महल को भले ही मुगलों ने बनाया लेकिन उसमें पसीना भारतीय मजदूरों और कारीगरों का लगा है, इस बात में कोई शक नहीं है कि ताज महल भारत का सबसे बड़ा पर्यटन स्थल है और पर्यटकों को सुरक्षा उपलब्ध कराना हमारी सरकार की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है.

योगी के इस दौरे से शायद ताज महल मान जाय, ताज महल के लिए सुकून की बात यह है कि योगी ने उसे पर्यटन स्थल मान लिया है वरना ताज महल को डर था कि कहीं उसे पर्यटन स्थल की सूची से भी बाहर ना निकाल दिया जाए, वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज सपा नेता आजम खान ने ताज महल को मिटाने की सलाह दी थी, उन्होंने कहा था कि अगर ताज महल गुलामी की निशानी है तो उसे ख़त्म कर देना चाहिए और साथ ही पार्लियामेंट, राष्ट्रपति भवन, लाल किला और क़ुतुब मीनार को भी ख़त्म कर देना चाहिये.

ताज महल पर हो रही राजनीति की वजह से ही योगी ने 25 अक्टूबर को ताज महल का दौरा करके उसे मनाने की पहल की है. वे आगरा में ताज महल के अलावा अन्य धरोहरों के भी दर्शन करेंगे.
अजाम खान बोले, ताजमहल सहित इन पांच इमारतों को ढहा दो

अजाम खान बोले, ताजमहल सहित इन पांच इमारतों को ढहा दो

azam-khan-told-taj-mahal-should-be-demolished-including-5-others

समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री अजाम खान ने भारतीय जनता पार्टी को ताजमहल सहित पांच इमारतों को ढहाने का सुझाव दिया है. उन्होंने कहा कि ताजमहल को गिरा देना चाहिए, ताजमहल ही क्यों, पार्लियामेंट, राष्ट्रपति भवन, क़ुतुब मीनार और लाल किले को भी गिरा देना चाहिए, ये सब गुलामी की निशानी हैं.

उन्होंने कहा कि मैं पहले से ही इस राय का समर्थन करता हूँ कि गुलामी की सभी निशानियों को मिटा देना चाहिए क्योंकि इनसे कल के शासन की बू आती है. वैसे भी आरएसएस के लोग उन्हें देशद्रोही कहते हैं, अगर ये देशद्रोह की निशानियाँ हैं तो उन्हें विल्कुल मिटाना चाहिए.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि उत्तर प्रदेश की सरकार ने ताजमहल को ऐतिहासिक धरोहरों की लिस्ट से बाहर कर दिया है, कल इसी बात पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी विधायक संगीत सोम ने कहा कि - यह सुनकर बहुत लोगों को बड़ा दर्द हुआ कि आगरा के ताजमहल को ऐतिहासिक स्थलों से बाहर निकाल दिया गया, कैसा इतिहास, कहाँ का इतिहास, क्या वो इतिहास कि ताजमहल को बनाने वाले ने उसे बाप को भेंट किया था. 

क्या वो इतिहास कि ताजमहल को बनाने वालों ने उत्तर प्रदेश और हिंदुस्तान के सभी हिन्दुओं के सर्वनाश का काम किया था. संगीत सोम ने कहा कि अगर ऐसे लोगों का आज भी इतिहास में नाम होगा तो यह दुर्भाग्य की बात है और मैं गारंटी के साथ कह सकता हूँ कि इतिहास बदला जाएगा और इतिहास बदल रहा है.

उन्होंने कहा कि पिछले बहुत सालों में इस हिंदुस्तान और उत्तर प्रदेश में जो इतिहास बिगाड़ने का काम किया है, आज उत्तर प्रदेश और हिंदुस्तान की सरकार उस इतिहास को सही स्थानों पर ले जाने का काम कर रही है. किताबों के अन्दर ले जाने का काम कर रही है. 

उन्होंने कहा कि - भगवान राम से लेकर कृष्णजी, महाराणा प्रताप और शिवाजी राव तक का इतिहास आज किताबों में लाने का काम कर रही है और वो कलंक कथा जो किताबों में लिखी गयी है, चाहे अकबर हों, चाहे औरंगजेब हों, चाहे बाबर हों, इनके इतिहास को निकालने का काम कर रही है.
जांच के दौरान पुलिस ने लालाजी का खुलवाया सोफा तो उड़ गए होश, छुपाकर रखे थे 4.5 करोड़ रुपये

जांच के दौरान पुलिस ने लालाजी का खुलवाया सोफा तो उड़ गए होश, छुपाकर रखे थे 4.5 करोड़ रुपये

kanpur-police-recovered-4-5-crore-from-vivek-kumar-agrawal-news

कानपुर, 17 अक्टूबर: मोदी सरकार ने नोटबंदी करके कालाधन रखने वालों के पैरों पर कुल्हाड़ी मार दी थी, ऐसा लगता था कि अब लोग तिजोरी में कैश छिपाने से बाज आएँगे लेकिन कालाधन प्रेमी अभी भी सुधरने अक नाम नहीं ले रहे हैं.

सरकार कालाधन रखने वालों पर पूरी तरह से शिकंजा कसने के हर प्रयास कर रही है लेकिन कालाधन रखने वाले कोई न कोई जुआड़ लगा ले रहे हैं। उत्तर प्रदेश के कानपुर के एक व्यापारी ने घर के सोफे में 4.5 करोड़ रूपये छुपा कर रखे थे जो पकडे गए हैं। 

पुलिस को खास मुखबिर से सूचना मिली थी कि कानपुर के किदवई नगर में रहने वाले विवेक कुमार अग्रवाल जो अग्रवाल ट्रेडर्स के नाम से एक फर्म चलाते हैं उनके यहाँ से हवाला कारोबार के जरिये नेपाल और बांग्लादेश में मोटी रकम भेजी जाती है।

पुलिस ने उनके घर छापा मार दिया लेकिन घर में कुछ नहीं निकला। एक पुलिस अधिकारी की नजर विवेक कुमार के एक सोफे पर गई और शक होने पर पुलिस अधिकारी ने उस सोफे को खुलवाया तो वहां मौजूद पुलिसकर्मियों के होश उड़ गए क्योंकि सोफे में पूरे साढ़े चार करोड़ रूपये मिले। 

नोटों की कई गड्डियां देख पुलिसवालों की आँखें फटी रह गईं। ये गड्डियां 2000, 100 और 500 के नोटों की थीं। 4.5 करोड़ रुपये बरामद होने के बाद पुलिस ने आयकर विभाग को सूचना दे दी। आगे की कार्यवाही आयकर विभाग के अधिकारी कर रहे हैं।

Oct 16, 2017

हिन्दुओं का सर्वनाश करने वाले मुगलों की कलंक कथा को मिटाने का काम शुरू हो गया है: संगीत सोम

हिन्दुओं का सर्वनाश करने वाले मुगलों की कलंक कथा को मिटाने का काम शुरू हो गया है: संगीत सोम

bjp-mla-sangeet-som-said-mughalon-ki-kalank-katha-being-removed

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा ताजमहल को ऐतिहासिक धरोहरों की लिस्ट से बाहर निकालने के बाद लगभग सभी को हैरानी हुई थी क्योंकि ताजमहल को दुनिया के सात अजूबों में गिना जाता है, रोजाना लाखों लोग ताजमहल को देखने जाते हैं लेकिन आज बीजेपी विधायाक संगीत सोम ने बताया है कि ताजमहल को लिस्ट से बाहर क्यों निकाला गया है.

संगीत सोम ने कहा कि यह सुनकर बहुत लोगों को बड़ा दर्द हुआ कि आगरा के ताजमहल को ऐतिहासिक स्थलों से बाहर निकाल दिया गया, कैसा इतिहास, कहाँ का इतिहास, क्या वो इतिहास कि ताजमहल को बनाने वाले ने उसे बाप को भेंट किया था. 

क्या वो इतिहास कि ताजमहल को बनाने वालों ने उत्तर प्रदेश और हिंदुस्तान के सभी हिन्दुओं के सर्वनाश का काम किया था.

संगीत सोम ने कहा कि अगर ऐसे लोगों का आज भी इतिहास में नाम होगा तो यह दुर्भाग्य की बात है और मैं गारंटी के साथ कह सकता हूँ कि इतिहास बदला जाएगा और इतिहास बदल रहा है.

उन्होंने कहा कि पिछले बहुत सालों में इस हिंदुस्तान और उत्तर प्रदेश में जो इतिहास बिगाड़ने का काम किया है, आज उत्तर प्रदेश और हिंदुस्तान की सरकार उस इतिहास को सही स्थानों पर ले जाने का काम कर रही है. किताबों के अन्दर ले जाने का काम कर रही है. 

उन्होंने कहा कि - भगवान राम से लेकर कृष्णजी, महाराणा प्रताप और शिवाजी राव तक का इतिहास आज किताबों में लाने का काम कर रही है और वो कलंक कथा जो किताबों में लिखी गयी है, चाहे अकबर हों, चाहे औरंगजेब हों, चाहे बाबर हों, इनके इतिहास को निकालने का काम कर रही है.

Oct 13, 2017

इंसानियत दिखाकर पूरे देश के हीरो बन गए यूपी के दरोगा, हर कोई कर रहा तारीफ

इंसानियत दिखाकर पूरे देश के हीरो बन गए यूपी के दरोगा, हर कोई कर रहा तारीफ

up-daroga-show-humanity-and-become-hero-viral-photo

देश के अधिकतर लोग खाकी वर्दी पहनने वालों से नफरत करते हैं, ये लोग यह कभी नहीं सोचते कि जिसने खाकी वर्दी धारण की है वह भी इसी समाज का है, हमारे बीच का है, उनका भी परिवार होता है, उनके अन्दर भी इंसानियत होती है.

अच्छे बुरे लोग हर समाज में होते हैं ऐसे में एक पुलिस वाले के खराब होने सभी पुलिस वालों को खराब समझना नादानी है। उत्तर प्रदेश से एक खाकीधारी की तस्वीर देख काफी लोग भावुक भी हो जा रहें हैं और पुलिस की तारीफ़ कर रहे हैं। दरअसल आज कल अविभावक अपने नाबालिग बच्चों के हाँथ में वाहन पकड़ा देते हैं, ये बच्चे स्कूल वगैरा जाते हैं। कई तो वाहन वगैरा चलाते हुए यातायात के हर नियम को ताक पर रख देते हैं। ऐसे छात्रों के पास न ड्राइविंग लाइसेंस होते हैं न ही ये छात्र हेलमेट वगैरा लगाते हैं। एक तस्वीर जो आप खबर के साथ देख रहे हैं उसमे एक छात्र रोता हुआ दिख रहा है और एक दरोगा जी उस छात्र को चुप कराते दिख रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक़ इस छात्र का नाम आशीष है और ये 15 वर्ष का है। ये छात्र पल्सर बाइक पर स्कूल जा रहा था। पुलिस ने इसे पकड़ लिया और पूंछा कि गाड़ी किसने दी तो छात्र ने कहा पापा ने दी। इसके बाद छात्र मौके पर ही दहाड़े मारकर रोने लगा जिसे देख दरोगा जी की आँखें नम हो गईं और उन्होंने छात्र को चुप कराने का प्रयास किया, उसे अपनों की तरह प्यार-दुलार दिया।

छात्र का चालान कट चुका था जिसे देखकर छात्र दहाड़े मारकर रोने लगा, दरोगा जी ने अपनी जेब से पैसे निकाले और चालान भरा और छात्र को समझाकर उसके घर भेज दिया। जानकारी के मुताबिक़ ये तस्वीर उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के कालाआम चौराहे की है।

सोशल मीडिया पर इन दरोगा जी की इतनी तारीफ़ हो रही है जितनी तारीफ तो किसी पुलिस अधिकारी की उस समय नहीं होती जब पुलिस अधिकारी कोई खूंखार अपराधी पकड़ता है। इंसानियत पुलिस में भी होती है।  इन दरोगा जी को जितनी तारीफ मिल रही है उतनी तारीफ़ तो कोई पुलिस अधिकारी लाखों खर्च करके भी शायद हासिल कर सके।

Oct 12, 2017

आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी में भारतीय सेना से भेजा टैंक

आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी में भारतीय सेना से भेजा टैंक

indian-army-send-tank-in-azam-khan-jauhar-university-rampur

आजम खान के लिए खुशखबरी है क्योंकि उनकी जौहर यूनिवर्सिटी में भारतीय सेना ने टैंक भेजा है. आजम खान ने खुद सेना को पत्र लिखकर टैंक की मांग की थी ताकि उनकी यूनिवर्सिटी के छात्र भारतीय सेना की वीरता को याद करते रहें और उनके मन में सेना के प्रति मान सम्मान बना रहे.

आज सेना ने आजम खान की मांग को मंजूर करते हुए उनकी यूनिवर्सिटी में टैंक भेज दिया. टैंक आने की खबर सुनकर आजम खान खुश हो गए. उन्होंने कहा कि हम बहुत वर्षों से यूनिवर्सिटी चला रहे हैं और भारत के लिए भविष्य का निर्माण कर रहे हैं, मुझे ख़ुशी है कि सेना ने हमारी मांग को माना और यहाँ पर टैंक भिजवाया. हम सेना का आभार जताते हैं.
पुलिस वालों को देखकर रोने लगा बिना हेलमेट बाइक चला रहा बच्चा, उसके बाद दरोगा ने ये किया

पुलिस वालों को देखकर रोने लगा बिना हेलमेट बाइक चला रहा बच्चा, उसके बाद दरोगा ने ये किया

up-police-daroga-pay-chalan-from-own-pocket-to-minor-boy

उत्तर प्रदेश ने ट्रैफिक नियंत्रण तेज कर दिया है, अक्सर नाकों पर चेकिंग होती रहती है, हाल ही में एक जगह पर पुलिस चेक-पोस्ट लगा रखी थी, एक बच्चा भी पल्सर बाइक चला रहा था, उसके पास ना हेलमेट था और ना ही कागजात थे इसलिए पुलिस वालों को देखकर वह फूट फूट कर रोने लगा. उसके पास पैसे भी नहीं थे. लड़के का नाम चिराग है जिसकी उम्र सिर्फ 15 वर्ष है.

दरोगा ने बच्चे से पूछा - गाड़ी किसने दी, लड़ने ने कहा कि मेरे पापा ने दी, यह कहकर बच्चा रोने लगा, दरोगा को बच्चे का ऐसे रोना अच्छा नहीं लगा, उन्होंने कुर्सी से उठकर उसे चुप कराया, उसके आंसू पोंछे और अपनी जेब से उसका चालान भी भरा.
दरोगा के इस व्यवहार की सोशल मीडिया पर काफी तारीफ हो रही है, लोगों ने कहा कि ऐसे भी दरोगा होते हैं जिनके अन्दर इंसानियत भी होती है, आपका बहुत बहुत धन्यवाद, इसे हर किसी को शिक्षा लेनी चाहिए. देखें कुछ कमेन्ट.

up-police-good-work