Showing posts with label States. Show all posts
Showing posts with label States. Show all posts

Oct 23, 2017

कांग्रेसी MLA के मुंह से भद्दी भद्दी गा-लियां सुनकर पूरे देश को आएगी शर्म, मंत्री ने खोली पोल

कांग्रेसी MLA के मुंह से भद्दी भद्दी गा-लियां सुनकर पूरे देश को आएगी शर्म, मंत्री ने खोली पोल

krishan-pal-gurjar-exposed-faridabad-tigaon-congress-mla-lalit-nagar

फरीदाबाद: विपक्ष में रहते हुए भी कांग्रेस कांग्रेस नेता अपने ही क्षेत्र के आम आदमी को इतनी भद्दी भद्दी गालियाँ दे सकता है यह कोई सोच भी नहीं सकता, मोदी सरकार के मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने फरीदाबाद के तिगांव विधानसभा के विधायक ललित नागर पर बहुत बड़ा खुलासा किया है और उनकी ऑडियो दिखाया है जिसमें वे एक व्यक्ति को अपशब्द बोल रहे हैं और गुंडागर्दी दिखा रहे हैं. ललित नगर बोल रहे हैं कि बस तू जगह बता दें, वहीं आकर तुझे मारूंगा. देखिये यह वीडियो.



बात दरअसल यह है कि आज तिगांव के विधायक ललित नगर ने केंद्रीय राज्य मंत्री और फरीदाबाद के सांसद कृष्ण पाल गुर्जर के मामा पर गंभीर आरोप लगाए हैं, उन्होंने कहा है कि कृष्ण पाल गुर्जर के मामा उनकी शह पर जिले में दलाली, वसूली कर रहे हैं, बदमाशों से पैसे लेकर उन्हें बचा रहे हैं, उनकी वजह से शहर में लूट, हत्या, बदमाशी को बढ़ावा मिल रहा है, शहर क्राइम सिटी बनता जा रहा है.

इन आरोपों पर सफाई देते हुए मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने कहा कि ये लोग मुझ पर कीचड उछालना चाहते हैं इसलिए मैं इनके आरोपों पर कुछ बोलना नहीं चाहता क्योंकि कीचड में पत्थर मारने से कुछ छींटें मुझपर भी पड़ सकते हैं इसलिए मैं इससे दूर रहना चाहता हूँ लेकिन इनकी सच्चाई मैं दुनिया को दिखाना चाहता हूँ कि इनका चाल और चरित्र कैसा है, कैसे ये एक आम इंसान को गालियाँ दे रहे हैं, उसे मारने की धमकी दे रहे हैं, ये कांग्रेस का कल्चर है. इनका कल्चर है झूठे आरोप लगाना लेकिन हमारा कल्चर है विकास करना, जनता ने मुझे विकास के लिए चुना है और हम काम कर रहे हैं. मैं इनसे यही कहना चाहता हूँ कि मेरे मामा के खिलाफ कोई एक सबूत दिखा दें तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा.
पीएम MODI बोले, अगर गुजरात में विकास विरोधी सरकार आ गयी तो केंद्र से एक पैसा नहीं मिलेगा

पीएम MODI बोले, अगर गुजरात में विकास विरोधी सरकार आ गयी तो केंद्र से एक पैसा नहीं मिलेगा

pm-narendra-modi-said-vikas-virodhi-sarkar-will-not-get-money

प्रधानमंत्री मोदी ने आज वड़ोदरा में एक रैली को संबोधित करते हुए जनता को अपने काम गिनाये, मोदी ने कहा कि पहले गुजरात के लोग पीने के पानी के लिए तरसते थे, 10-20 घरों में सिर्फ एक घर में पानी आता था और भरने के लिए लाइन लगती थी लेकिन हमने हर जगह पाइप से पानी पहुंचाया और आज करीब 80 फ़ीसदी लोगों के घरों में नल से शुद्ध पानी पहुँचता है. 

उन्होने वहां उपस्थित लोगों से पूछा कि हमने पानी पहुंचाकर आपकी परेशानी ख़त्म की या नहीं की, हमने विकास किया या नहीं किया. लोगों ने हाँ में जवाब दिया.

मोदी ने कहा कि हमने भारत सरकार को स्पष्ट निर्देश दिया है कि जनता के पैसे की पाई पाई का उपयोग सिर्फ जनकल्याण के कामों में और विकास के कामों में खर्च होंगे. सामान्य मानवी के जिन्दगी में बदलाव आये, सरकारी खजाने का इस्तेमाल सिर्फ इसके लिए इस्तेमाल किया जाएगा.

मोदी ने कहा कि जो भी राज्य विकास को लक्ष्य मानकर काम करेंगे, विकास की प्रतिस्पर्धा में आगे बढना चाहेंगे, विकास जिनकी प्राथमिकता होगी, केंद्र सरकार उनकी पूरी मदद करेगी, जितने पैसों की जरूरत होगी दिया जाएगी, लेकिन अगर किसी राज्य में विकास विरोधी सरकार आ गयी तो भारत सरकार उसे एक भी पैसा नहीं देगी. उन्होंने कहा कि जनता का पैसा सिर्फ विकास के लिए होता है, विकास के बिना सामान्य मानवी के जीवन में बदलाव नहीं आ सकता.

मोदी ने कहा कि आजादी के 70 साल हो गए लेकिन आज भी लोगों के घरों में बिजली नहीं आ पायी, आज देश के 4 करोड़ लोग बिना बिजली के रहते हैं, उनकी स्थिति बदलनी चाहिए कि नहीं चाहिए, उन्हें बिजली के कनेक्शन मिलने चाहिए, उनके मोबाइल चार्ज करने की व्यवस्था होनी चाहिए या नहीं चाहिए, उन्हें टीवी सीरियल देखने का हक होना चाहिए या नहीं चाहिए, मैंने उन्हें बिजली देने का बीड़ा उठाया, आज देश में कोई भी हो, झुग्गी में रहता हो या झोपडी में रहता हो, हमें उसके घर में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है, 18000 गाँवों में 16000 गाँवों में बिजली पहुंचा दी गयी है और बाकी के 3 हजार गांवों में बाकी का काम पूरा हो जाएगा.

Oct 22, 2017

मैं वड़ोदरा आया हूँ तो उन्हें परेशानी हो रही है, उनकी नींद उड़ गयी है: प्रधानमंत्री मोदी

मैं वड़ोदरा आया हूँ तो उन्हें परेशानी हो रही है, उनकी नींद उड़ गयी है: प्रधानमंत्री मोदी

pm-narendra-modi-make-fun-of-congress-for-gujarat-election-2017

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात में कई विकास कार्यों का लोकार्पण किया और कई विकास कार्यों का शिलान्याश किया. मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि मैं यहाँ पर इतना काम करवा रहा हूँ इसलिए विरोधियों को तकलीफ हो रही है, कई लोगों को तो यह भी तकलीफ हो रही है कि मैं दिवाली पर गुजरात क्यों जा रहा है. उन्होंने वहां उपस्थित लोगों से पूछा - क्या मुझे वड़ोदरा नहीं आना चाहिए, क्या मेरा वड़ोदरा पर कोई हक नहीं है.

मोदी ने कहा कि मेरा गुजरात से नाता देखकर उनको बहुत तकलीफ होती है, मुझे तो कुछ कह नहीं सकते इसलिए इलेक्शन कमीशन पर दबाव बना रहे हैं. क्या मुझे गुजरात आने के लिए इलेक्शन कमीशन से पूछना चाहिए.

मोदी ने आज के साथ गुजरात में कई विकास कार्यों की शुरुआत कर रहे हैं, वड़ोदरा में सिर्फ के दिन में ही लगभग 3600 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का लोकार्पण अथवा शिलान्याश किया जा रहा है.

मोदी ने कहा कि अब गुजरात में विकास कार्यों के एक नए युग की शुरुआत हो रही है, कुछ वर्ष पहले पूरे गुजरात का वजट ही 8-10 हजार करोड़ रुपये का होता था लेकिन हमने सिर्फ एक ही कार्यक्रम में वड़ोदरा में  3600 करोड़ रुपये का विकास कार्य शुरू करवाया है.
रो रो फेरी सर्विस में सफ़र करके खुश हो गए बच्चे, बोले - खूबसूरत गिफ्ट के लिए Thank You Modi Ji

रो रो फेरी सर्विस में सफ़र करके खुश हो गए बच्चे, बोले - खूबसूरत गिफ्ट के लिए Thank You Modi Ji

pm-narendra-modi-travelled-in-ro-ro-feri-service-with-children-happy

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात को विकास का अब तक का सबसे खूबसूरत तोहफा दिया. उन्होंने घोघा से दहेज़ के बीच में रो रो फेरी सेर्विस की शुरुआत की जिसमें शिप के जरिये समुंदर के रास्ते 8-10 घंटे की दूरी सिर्फ 1 घंटे में पूरी की जा सकेगी साथ ही कोस्टल टूरिज्म के एक नए युग की शुरुआत होगी.

मोदी का यह विकास प्रोजेक्ट करीब 600 करोड़ रुपये में बनकर तैयार हुआ है, पहले चरण में सिर्फ यात्रियों के जाने की व्यवस्था है, दूसरे चरण में गाड़ियों के साथ फेरी में जाया जा सकेगा, ट्रक, कार और अन्य गाड़ियों को सीधे लेकर फेरी में घुस बैठा जा सकेगा और दूसरे छोर पर पहुँच जा सकेगा, इसके जरिये समय के साथ साथ पेट्रोल-डीजल का पैसा भी बचेगा.

मोदी ने आज खुद इस फेरी में सवार होकर इसकी यात्रा का आनंद लिया. मोदी के साथ फेरी में बच्चों ने भी सफ़र किया. मोदी ने उनके साथ बातचीत की और उनका अनुभव पूछा. यात्रा के दौरान मोदी और बच्चों के लिए लंच की भी व्यवस्था फेरी में की गयी थी, फेरी में कैंटीन की भी सुविधा है.

children-happy-in-modi-ro-ro-feri-service

फेरी में बैठने से बच्चे काफी उत्साहित दिखे, उन्होने इतने खूबसूरत तोहफे के लिए प्रधानमंत्री मोदी का धन्यवाद किया, यह अपने आप में हिंदुस्तान का पहला विकास प्रोजेक्ट है, यही नहीं दक्षिण पूर्व एशिया का भी यह पहला ऐसा विकास प्रोजेक्ट है.

 modi-intract-with-children-in-ro-ro-feri-service

बच्चों ने तालियाँ बजाकर मोदी के इस काम की तारीफ की, उन्होंने कहा कि आज उनका सपना पूरा हो गया है, उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि कभी शिप में बैठने का मौका भी मिलेगा.

children-praised-modi-ro-ro-service-development-project

एक ही दिन में वड़ोदड़ा को 3600 करोड़ का विकास प्रोजेक्ट देकर बोले MODI, केम छो, लोग बोले, मजा मा

एक ही दिन में वड़ोदड़ा को 3600 करोड़ का विकास प्रोजेक्ट देकर बोले MODI, केम छो, लोग बोले, मजा मा

pm-modi-started-rs-3600-crore-development-project-in-varodara

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात में कई विकास कार्यों का लोकार्पण किया और कई विकास कार्यों का शिलान्याश किया. वड़ोदरा में मोदी ने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि वे एक साथ गुजरात में कई विकास कार्यों की शुरुआत कर रहे हैं, वड़ोदरा में सिर्फ एक ही दिन में ही लगभग 3600 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का लोकार्पण अथवा शिलान्याश किया जा रहा है.

मोदी ने कहा कि अब गुजरात में विकास कार्यों के एक नए युग की शुरुआत हो रही है, कुछ वर्ष पहले पूरे गुजरात का वजट ही 8-10 हजार करोड़ रुपये का होता था लेकिन हमने सिर्फ एक ही कार्यक्रम में वड़ोदरा में  3600 करोड़ रुपये का विकास कार्य शुरू करवाया है.

मोदी ने रैली में आये लोगों को विकास का तोहफा देने के बाद उनका हाल चाल पूछा - केम छो, तो लोगों ने हंसकर कहा, मजा मा. 

मोदी ने कहा कि मैं यहाँ पर इतना काम करवा रहा हूँ इसलिए विरोधियों को तकलीफ हो रही है, कई लोगों को तो यह भी तकलीफ हो रही है कि मैं दिवाली पर गुजरात क्यों जा रहा है. उन्होंने वहां उपस्थित लोगों से पूछा - क्या मुझे वड़ोदरा नहीं आना चाहिए, क्या मेरा वड़ोदरा पर कोई हक नहीं है.

मोदी ने कहा कि ये लोग मुझे तो कुछ कह नहीं सकते इसलिए इलेक्शन कमीशन पर दबाव बना रहे हैं. 
मोदी बोले, ये तोहफा गुजरात ही नहीं हिंदुस्तान के लिए भी है इसलिए हिंदी में बोलूँगा, माफ़ करना

मोदी बोले, ये तोहफा गुजरात ही नहीं हिंदुस्तान के लिए भी है इसलिए हिंदी में बोलूँगा, माफ़ करना

pm-narendra-modi-started-ghogha-dahej-ro-ro-feri-service-in-hindi

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात में घोघा से दहेज़ के बीच में अपने ड्रीम प्रोजेक्ट रो रो फेरी सर्विस की सौगात दी. उन्होंने पांच साल पहेल यह प्रोजेक्ट शुरू किया था जो आज बनकर तैयार हो गया और मोदी ने इसे अपने हाथों से गुजरात को सौंप दिया.

मोदी जब प्रोजेक्ट की शुरुआत करके भाषण देने के लिए खड़े हुए तो उन्होंने कहा कि यह तोहफा सिर्फ गुजरात के लिए नहीं है बल्कि हिंदुस्तान के लिए भी है क्योंकि यह एशिया में फेरी सर्विस का पहला सबसे लम्बा प्रोजेक्ट है, मैं इस सर्विस की जानकारी पूरे हिंदुस्तान को देना चाहता हूँ इसलिए आप लोग मुझे माफ़ कर देना, मैं गुजराती के अलावा हिंदी में भी बोलूँगा क्योंकि इसकी जानकारी पूरे हिंदुस्तान को मिलनी चाहिए.

मोदी ने कहा कि मैंने इस प्रोजेक्ट की शुरुआत पांच साल पहले ही थी लेकिन केंद्र में कांग्रेस की सरकार ने बहुत रोड़े डाले, उन्होने गुजरात के समुद्री तटों पर पर्यावरण के नाम पर सभी विकास प्रोजेक्ट पर रोक लगा दी थी, सभी उद्योगों को बंद कराया जा रहा था लेकिन जैसे ही आपने मुझे प्रधानमंत्री बनाकर दिल्ली भेजा, मैंने यहाँ पर से प्रतिबन्ध हटा दिए और रो रो फेरी सर्विस का काम तेज गति से करवा दिया और आज आपको यह सौगात मिल गयी.

मोदी ने कहा कि मुझे पता है कि जब मैं मुख्यमंत्री था तो कांग्रेस ने मुझे कितना परेशान किया है, मैंने परेशानी उठाते हुए गुजरात को आगे बढाने की कोशिश की लेकिन अब आपने मुझे प्रधानमंत्री बना दिया तो मैं गुजरात के लिए खुलकर काम कर सकता हूँ. उन्होंने कहा कि यह तो सिर्फ शुरुआत है, अभी कई अन्य जगहों पर फेरी सर्विस की शुरुआत होगी, घोघा और दहेज़ का फिर से विकास होगा.
गुजरात को खूबसूरत तोहफा रो रो फेरी सर्विस देने पहुंचे MODI, गुजरातियों ने कहा - THANK YOU

गुजरात को खूबसूरत तोहफा रो रो फेरी सर्विस देने पहुंचे MODI, गुजरातियों ने कहा - THANK YOU

pm-narendra-modi-inaugurate-ro-ro-feri-service-ghogha-dahej

आज गुजरात के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी गुजरात वालों को वह तोहफा देने जा रहे हैं तो देश के किसी भी राज्य में नहीं है, यह तोहफा पाकर गुजरात के लोगों ने मोदी को Thank You बोला है. आज प्रधानमंत्री मोदी ने घोघा से दहेज़ के बीच में रो रो फेरी सर्विस की शुरुआत कर दी है, यह प्रोजेक्ट उन्होंने ही मुख्यमंत्री रहते हुए शुरू किया था.

इस सर्विस के जरिये गुजरात के लोग समुंदर के रास्ते घोघा से दहेज़ और दहेज़ से घोघा के बीच की दूरी सिर्फ 1 घंटे से कम समय में पूरा कर सकेंगे, इससे पहले रोड के रास्ते यही सफ़र 10-12 घंटे में पूरा किया जाता था.

प्रधानमंत्री मोदी खुद भी इस फेरी सर्विस से घोघा और दहेज़ के बीच का सफ़र करेंगे. इससे पहेल वे एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे. 

आपको बता दें कि घोघा से दहेज़ के बीच की यह फेरी सर्विस एशिया में पहली ऐसे सेवा है, इसके जरिये समुंदर के रास्ते शिप में बैठकर सफ़र कर सकेंगे और दूसरे चरण में कारों और ट्रक के रास्ते जाया जा सकेगा.

गुजरात में वंशवादी और जातिवादी नेता BJP के खिलाफ हुए एकजुट, दिलचस्प हुई चुनावी जंग

गुजरात में वंशवादी और जातिवादी नेता BJP के खिलाफ हुए एकजुट, दिलचस्प हुई चुनावी जंग

caste-politics-started-against-modi-bjp-in-gujarat-election-2017

जातिवादी नेता और जातिवादी राजनीति हमारे देश के लिए बहुत खतरनाक है क्योंकि जातिवादी नेता अपनी अपनी जातियों के लोगों को सरकार और सिस्टम के खिलाफ भड़काते हैं, उन्हें बड़े बड़े सपने दिखाते हैं और अपना हित साधते हैं, नतीजा यह होता है कि जातिवादी राजनीति करने वाले लोग बड़े नेता बन जाते हैं लेकिन जनता को कुछ नहीं मिलता, उनका सिस्टम और सरकार के प्रति अविश्वास बढ़ता जाता है, उनके मन में क्रोध और गुस्सा भर जाता है.

अब गुजरात में एक बार फिर से जातिवादी पॉलिटिक्स शुरू हो गयी है, जातिवादी और वंशवादी नेता बीजेपी के खिलाफ एकजुट हो गए हैं, एक तरफ बीजेपी विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ना चाहती है लेकिन दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी जातिवादी नेताओं को बड़े बड़े लालच देकर उन्हें कांग्रेस से जोड़ रही है ताकि इनकी जाति के लोग उन्हें वोट देकर गुजरात में कांग्रेस की सरकार बना दें.

जातिवाद की राजनीति बहुत गन्दी होती है, यह ना सिर्फ समाज में एक दूसरे को लड़ाती है, आपसी प्रेम, भाईचारा और सद्भाव ख़त्म करती हैं, जनता को अँधा भी कर देती है, लोग अच्छा बुरा देखना छोड़ देते हैं और सिर्फ अपनी जाति देखना शुरू कर देते हैं, इसके बाद वे अंधे होकर अपनी जाति वाले नेताओं के कहने पर वोट देते हैं और पांच साल पछताते हैं.

अब गुजरात में जातिवादी राजनीति शुरू हो गयी है क्योंकि जातिवादी नेता अल्पेश काकोर (OBC), जिग्नेश मेवानी (दलित) और हार्दिक पटेल (पटेल) ने कांग्रेस को समर्थन देने का फैसला किया है, मुस्लिम वोट पहले से कांग्रेस के साथ हैं.

अब कांग्रेस गुजरात के मुस्लिमों, OBC, दलितों और पटेलों को अपने साथ मिलाकर गुजरात से मोदी के अस्तित्व को ख़त्म करना चाहती है, इन नेताओं ने भी मोदी को उखाड़ने की कसम खा ली है, अब देखना है कि बीजेपी वाले जातिवाद की राजनीति करने वालों से निपट पाते हैं या हार का मुंह देखते हैं क्योंकि जातिवाद की राजनीति बड़ी अंधी होती है, लोग आँखों से देखना छोड़ देते हैं और जाति की नजरों से देखना शुरू कर देते हैं. 

खैर बीजेपी को डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह राजनीति पहले भी हो चुकी है और विरोधियों ने मुंह की खाई है क्योंकि गुजरात के लोग सोच विचारकर, अच्छा बुरा तय करके वोट देते हैं, उन्हें पता है कि मोदी से अगर गुजरत का रिश्ता ख़त्म करेंगे तो उन्हें नुकसान होगा, क्योंकि उन्हें केंद्र से मदद नहीं मिल पाएगी.
गुजरात को विकास के 4 बड़े तोहफे देकर आज गुजरात के लाल मोदी फिर से उडाएंगे विरोधियों की नींद

गुजरात को विकास के 4 बड़े तोहफे देकर आज गुजरात के लाल मोदी फिर से उडाएंगे विरोधियों की नींद

gujarat-ke-lal-pm-narendra-modi-4-development-project-to-gujarat

आज गुजरात के लाल प्रधानमंत्री मोदी फिर से गुजरात के दौरे पर जाएंगे और गुजरातियों को विकास के 4 बड़े तोहफे देकर विरोधियों की नींद उड़ायेंगे. मोदी ने अपना इस कार्यक्रम की घोषणा पिछले हप्ते ही कर दी थी जिसकी वजह से विरोधी लोग परेशान हो गए थे, आज मोदी गुजरात को ये चार बड़े प्रोजेक्ट सौंपेंगे - 
  • समुंद्र के रास्ते रो फेरी सर्विस, घोघा से दहेज़, पहला चरण
  • सर्वोत्तम कैटल फीड फार्म, भावनगर
  • बड़ोदरा सिटी कमांड कंट्रोल सेण्टर, द वाघोदिया रीजनल वाटर सप्लाई स्कीम
  • प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत, गरीबों को घरों की चाबी
  • कई अन्य विकास प्रोजेक्ट की शुरुआत
प्रधानमंत्री मोदी सबसे पहले घोघा से दहेज़ के बीच में रो रो फेरी सर्विस शुरू करके और फेरी सर्विस में यात्रा करने के बाद के जनसभा को संबोधित करेंगे. इस सर्विस के शुरू होने से 8 घंटे का रोड का सफ़र समुंदर के रास्ते से सिर्फ एक घंटे में पूरा किया जा सकेगा. दूसरे चरण में इसमें गाड़ियों को लेकर जाया जा सकेगा. यह प्रोजेक्ट मोदी एक सपनों का प्रोजेक्ट है जिसे आज वे गुजरातियों को सौंप देंगे.

मोदी के इस दौरे से विरोधियों की पहेल से नींद उड़ी हुई है इसलिए गुजरात में जातिवादी पॉलिटिक्स शुरू हुई है, कल OBC नेता अल्पेश ठाकोर कांग्रेस में शामिल हो गए, कांग्रेस ने ऐसा इसलिए करवाया है ताकि OBC वोट उनके साथ आ जाएं. यही नहीं पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और दलित नेता जिग्नेश मेवानी ने भी कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है.
10 दिनों तक 6 जिलों में जनसभाएं करेंगे जातिवादी नेता हार्दिक पटेल, BJP का करेंगे खेल खराब

10 दिनों तक 6 जिलों में जनसभाएं करेंगे जातिवादी नेता हार्दिक पटेल, BJP का करेंगे खेल खराब

hardik-patel-public-meeting-10-days-and-6-districts-against-bjp

जातिवादी नेता हार्दिक पटेल आज से बीजेपी के खिलाफ आक्रामक चुनाव प्रचार करने जा रहे हैं, उन्होंने अगले 10 दिनों तक लगातार जनसभाएं करने का फैसला किया है, वे 6 जिलों में किसानों, मजदूरों और गरीबों के बीच जाएंगे और उनके बीच बीजेपी के खिलाफ अपनी बात रखेंगे, उन्होंने कहा कि अगर मैं सही होऊंगा तो जनता मेरी रैली में आएँगी लेकिन अगर गलत होऊंगा तो लोग नहीं आएगी.

हार्दिक पटेल ने कांग्रेस पार्टी को समर्थन दे दिया है, कल उन्होंने कहा कि बीजेपी से बढ़िया कांग्रेस पार्टी है इसलिए मैं चाहता हूँ कि गुजरात में कांग्रेस की सरकार बने और बीजेपी की गुलामी से मुक्ति मिले.

हार्दिक पटेल भले ही कांग्रेस की जीत का दावा कर रहे हैं लेकिन कल उनके दोनों पैर टूट गए जब उनके ही दो ख़ास साथी वरुण पटेल और रेशमा पटेल बीजेपी में शामिल हो गए. उनके बीजेपी में जाने के बाद हार्दिक पटेल ने कहा कि मेरे दोनों पैर टूट गए लेकिन जिस तरह से कनखजूरा पैर के टूट जाने के बाद भी दौड़ता है उसी तरह मैं भी दौडूंगा, मेरे साथ जनता है. मैं गुजरात को बीजेपी की गुलामी से मुक्ति दिलाकर रहूँगा.

Oct 21, 2017

मोदी सरकार का फायदा होगा यह सोचकर राहुल गाँधी कजाख्स्तान, रूस, इंडोनेशिया में उड़ा रहे हैं पैसा

मोदी सरकार का फायदा होगा यह सोचकर राहुल गाँधी कजाख्स्तान, रूस, इंडोनेशिया में उड़ा रहे हैं पैसा

rahul-gandhi-automated-bot-re-tweet-from-kazakh-indonesia-russia

चुनावों का एक फायदा यह भी होता है कि राजनीतिक पार्टियाँ अथाह पैसा खर्च करती हैं, गड़ा हुआ कालाधन भी बाहर आ जाता है, हजारों लोगों को चुनाव प्रचार में पैसे मिलते हैं, बैनर, पोस्टर, ऑटो-रिक्शा, टेंट वालों की अथाह कमाई होती है, अर्थव्यवथा में पैसा बढ़ता है, सरकार का टैक्स कलेक्शन बढ़ता है, जीडीपी बढती है और सरकार को विकास के लिए पैसे मिलते हैं.

क्या आप सोच सकते हैं कि भारत का कोई नेता ऐसा भी सोच सकता है कि मैं भारत में पैसा खर्च करूँगा तो भारत सरकार का फायदा होगा, मोदी सरकार को टैक्स मिलेगा इससे अच्छा है कि मैं विदेशी देशों में पैसा खर्च करूँ, वहां की कंपनियों को पैसा दूं ताकि मेरे देश का फायदा ना हो सके. राहुल गाँधी ऐसा ही सोचते हैं.

राहुल गाँधी खुद को पॉपुलर नेता बनाने के लिए भारत में नहीं बल्कि कजाख्स्तान, इंडोनेशिया और रूस में पैसे खर्च कर रहे हैं, इन्होने विदेशी कंपनियों को पैसा दे रखा है और वहां से इनके ट्वीट को बोट (आटोमेटिक प्रोग्राम) द्वारा रि-ट्वीट किया जता है ताकि देश के लोगों को लगे कि राहुल गाँधी के ट्वीट को बहुत रि-ट्वीट किया जा रहा है, ये तो ग्लोबल लीडर बन गया, ये तो मोदी से भी बड़ा लीडर बन रहा है.

राहुल गाँधी पैसे खर्च करके ट्वीट को रि-ट्वीट कराएं, इससे किसी को कोई दिक्कत नहीं लेकिन अगर वह यही पैसा भारत के युवाओं को दे दें, युवाओं को नौकरी देकर, उन्हें पैसे देकर अपने ट्वीट-को रि-ट्वीट कराएं तो वे हजारों लोगों को रोजगार दे सकते हैं और भारत सरकार का भी फायदा होगा, देश की GDP बढ़ेगी लेकिन राहुल गाँधी पहले ऐसे नेता हैं जो चाहते हैं कि कहीं देश की GDP ना बढ़ जाए, इसलिए मैं विदेशों में पैसे खर्च करूँगा.

राहुल गाँधी ने 15 अक्टूबर को डोनाल्ड ट्रम्प को लेकर मोदी के खिलाफ ट्वीट किया था, जिसके बाद कजाख्स्तान, रूस और इंडोनेशिया ने रि-ट्वीट होने लगे, देखते ही देखते 30 हजार लोगों ने रि-ट्वीट कर दिया, लोग हैरान हो गए कि राहुल गाँधी को कब से लोग इतने सीरियसली लेने लगे, बाद में बता चला कि यह तो बोट यानी कंप्यूटर प्रोग्राम का कमाल है.


ये रहे राहुल गाँधी के ट्वीट को रि-ट्वीट करने वालों के लिंक, इस लिंक पर क्लिक करके आप स्वयं देख सकते हैं, कहावत है मान ना मान, मैं तेरा मेहमान, कजाख्स्तान वाले ना तो राहुल गाँधी की भाषा समझते हैं, ना बोली समझते हैं उसके बाद भी उनके ट्वीट को रि-ट्वीट किये जा रहे हैं जिसका मतलब है कि उन्हें रि-ट्वीट करने के लिए मोटा माल दिया गया है.

https://twitter.com/charlot34583589
https://twitter.com/pkbjdasjyesc557
https://twitter.com/lawannapuchajd9
https://twitter.com/yrlkamcsmc1507

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 2019 लोकसभा चुनाव जितवाने का ठेका भी राहुल गाँधी ने अमेरिका की बड़ी कंपनी Cambridge Analytica को दिया है, यह वही कंपनी है जिसनें डोनाल्ड ट्रम्प को चुनाव जितवाया था, राहुल गाँधी को उसी दिन यह कंपनी भा गयी थी जिस दिन उन्हें पता चला था कि डोनाल्ड ट्रम्प ने चुनाव जितवाने का ठेका इसी कंपनी को दिया था.

यह कंपनी सोशल मीडिया पर लोगों की प्रोफाइलिंग करती है, पता लगाती है कि लोगों को क्या पसंद है और क्या नहीं पसंद है, लोगों की पसंद का डेटा तैयार करती है और उसी के आधार पर उन्हें चीजें परोसी जाती हैं, मान लीजिये आप कल तक मोदी के प्रशंसक थे लेकिन अचानक GST की वजह से आपको नुकसान हो गया और आप मोदी के विरोधी बन गए, कंपनी समझ जाएगी कि आप क्यों मोदी के विरोधी बन गए, उसके बाद कंपनी वही तरीका अपनाकर अन्य लोगों को भी मोदी विरोधी बना देगी और धीरे धीरे मोदी लहर ख़त्म कर देगी.

राहुल गाँधी विदेशों में ऐसे ही नहीं घूम रहे हैं, कह 2019 चुनाव की पूरी तैयारी कर रहे हैं, छल, कपट, धन बल, कुछ भी खर्च करके वह 2019 में ही दिल्ली की सत्ता पर काबिज होना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने अमेरिका की Cambridge Analytica को चुनाव जितवाने का ठेका दे दिया है.
हार्दिक पटेल ने खुद को बताया कनखजूरा, टूट गए दोनों पैर

हार्दिक पटेल ने खुद को बताया कनखजूरा, टूट गए दोनों पैर

hardik-patel-told-himself-kankhajoora-run-without-foot-in-gujarat

पाटीदार आन्दोलन के नेता हार्दिक पटेल ने खुद को कनखजूरा बताया है. उन्होंने कहा कि आज मेरे दोनों पैर टूट गए लेकिन जब कनखजूरा के पैर टूट जाते हैं तो भी वह दौड़ता है, उसी तरह से मैं भी कनखजूरे की तरह दौडूंगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज हार्दिक पटेल के लिए गुजरात से बड़ी खबर आयी, उनके दोनों पैर वरुण पटेल और रेशमा पटेल ने चौंकाने वाली फैसला लेते हुए बीजेपी ज्वाइन कर लिया, दोनों युवा ही पटेल अनामत आन्दोलन समिति आन्दोलन के संयोजक थे, हार्दिक पटेल की रणनीति भी यही तैयार करते थे.

जब वरुण और रेशमा ने देखा कि हार्दिक पटेल अपने हित के लिए कांग्रेस पार्टी में शामिल होने वाले हैं तो उन्होंने कहा कि कांग्रेस से तो अच्छी भारतीय जनता पार्टी है इसलिए हम बीजेपी में जाना अधिक पसंद करेंगे. यह कहते हुए दोनों नेता आज भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए.

दोनों के साथ छोड़ने के बाद हार्दिक पटेल ने कहा कि - कनखजूरा के पैर टूट जाने के बावजूद भी कनखजुरा दोड़ेगा, मेरें साथ जनता हैं। जनता का साथ है तब तक लड़ता रहूँगा.

hardik-patel-become-alone-in-gujarat

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बीजेपी को गुजरात से उखाड़ने के लिए हार्दिक पटेल कांग्रेस को समर्थन देने की सोच रहे हैं, इससे पहेल वे राहुल गाँधी को अपना भाई बता चुके हैं, उन्होंने कांग्रेस को अनौपचारिक समर्थन दे रखा है बस औपचारिकता बाकी है. हार्दिक के साथियों को उनकी यह पॉलिटिक्स पसंद नहीं आयी इसलिए उनका साथ छोड़ दिया.
गुजरात में BJP की आंधी देखकर हार्दिक के 2 ख़ास साथी BJP में शामिल, हार्दिक बोले, अकेला लडूंगा

गुजरात में BJP की आंधी देखकर हार्दिक के 2 ख़ास साथी BJP में शामिल, हार्दिक बोले, अकेला लडूंगा

hardik-patel-partner-varun-and-reshma-joined-bjp-in-gujarat

आज गुजरात से पाटीदारों के जातिवादी नेता हार्दिक पटेल के लिए बुरी खबर है. गुजरात में बीजेपी की आंधी देखकर उनके ही दो ख़ास साथी वरुण और रेशमा बीजेपी में शामिल हो गए और हार्दिक पटेल को अकेला छोड़ गए, इन्हीं लोगों के दम पर हार्दिक पटेल कूदते थे लेकिन जब वरुण और रेशमा ने देखा कि हार्दिक पटेल अपने हित के लिए कांग्रेस पार्टी में शामिल होने वाले हैं तो उन्होंने कहा कि कांग्रेस से तो अच्छी भारतीय जनता पार्टी है इसलिए हम बीजेपी में जाना अधिक पसंद करेंगे. यह कहते हुए दोनों नेता आज भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए.

दोनों के साथ छोड़ने के बाद हार्दिक पटेल ने कहा कि - कनखजूरा के पैर टूट जाने के बावजूद भी कनखजुरा दोड़ेगा, मेरें साथ जनता हैं। जनता का साथ है तब तक लड़ता रहूँगा.

hardik-patel-become-alone-in-gujarat

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बीजेपी को गुजरात से उखाड़ने के लिए हार्दिक पटेल कांग्रेस को समर्थन देने की सोच रहे हैं, इससे पहेल वे राहुल गाँधी को अपना भाई बता चुके हैं, उन्होंने कांग्रेस को अनौपचारिक समर्थन दे रखा है बस औपचारिकता बाकी है. हार्दिक के साथियों को उनकी यह पॉलिटिक्स पसंद नहीं आयी इसलिए उनका साथ छोड़ दिया.
अल्पेश, जिग्नेश और हार्दिक, तीनों जातिवादी नेता कांग्रेस के साथ मिलकर BJP को उखाड़ने को तैयार

अल्पेश, जिग्नेश और हार्दिक, तीनों जातिवादी नेता कांग्रेस के साथ मिलकर BJP को उखाड़ने को तैयार

alpesh-thakore-jignesh-mevani-hardik-patel-join-congress-against-bjp

गुजरात में कांग्रेस को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है, गुजरात के तीनों जातिवादी नेता अल्पेश ठाकोर, जिग्नेश मेवानी और हार्दिक पटेल ने कांग्रेस के साथ मिलकर बीजेपी को उखाड़ने का फैसला कर लिया है, ये तीनों खुद को गुजरात के युवा बता रहे हैं और गरीबों, किसानों और अलग अलग जातियों की आवाज बता रहे हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अल्पेश ठाकोर OBC नेता हैं, हार्दिक पटेल पाटीदारों के नेता हैं और जिग्नेश मेवानी दलितों के नेता हैं, इनका मानना है कि अगर ये अपनी अपनी जाति के लोगों को बीजेपी के खिलाफ भड़का देंगे तो ये कांग्रेस को वोट देंगे और गुजरात में कांग्रेस की सरकार बन जाएगी.

आज OBC नेता अल्पेश ठाकोर दिल्ली में राहुल गाँधी से मिलने आये हैं, उन्होने कांग्रेस में शामिल होने का फैसला किया है, हार्दिक पटेल ने भी कुछ शर्तों के साथ कांग्रेस में शामिल होने का फैसला किया है, जिग्नेश मेवानी से भी बीजेपी को गुजरात से उखाड़ने की कसम खा ली है.

हार्दिक पटेल ने कहा कि अगर कांग्रेस ने उनकी शर्तें मान लीं तो वे कांग्रेस को समर्थन दे देंगे क्योंकि गुजरात को बीजेपी की गुलामी से मुक्ति दिलाना उनका पहला मकसद है. वही जिग्नेश मेवानी का कहना है कि हर कीमत पर बीजेपी को हटाना है.
अवतार भड़ाना को गंभीरता से नहीं लेते कृष्ण पाल गुर्जर, बताया नासमझ नेता, पढ़ें क्यों

अवतार भड़ाना को गंभीरता से नहीं लेते कृष्ण पाल गुर्जर, बताया नासमझ नेता, पढ़ें क्यों

krishan-pal-gurjar-told-avtar-singh-bhadana-is-not-se-serious-leader

फरीदाबाद के पूर्व कांग्रेसी सांसद और उत्तर प्रदेश के वर्तमान बीजेपी विधायक अवतार सिंह भड़ाना को फरीदाबाद के वर्तमान सांसद और केंद्र में सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर गंभीरता से नहीं लेते. गुर्जर ने आज पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मैं सिर्फ समझदार लोगों के सवालों का जवाब देता हूँ, उनके बयान पर मैं कोई प्रतिक्रिया नहीं देता. जब उनसे सवाल किया गया कि क्या फरीदाबाद के पूर्व सांसद को आप नासमझ मानते हैं तो गुर्जर से कहा कि - उनके बारे में यहाँ के सभी लोग जानते हैं, हर कोई जानता है कि वो यहाँ पर क्या करके गए हैं.

बात दरअसल ये है कि दिवाली के दिन फरीदाबाद के एक वरिष्ठ पत्रकार विजेंदर शर्मा को उनके पड़ोसियों ने पटाखा फोड़ने से रोकने पर पिटाई कर दी, उनके घर में घुसकर उनपर जान लेवा हमला किया गया, उनकी पत्नी पर भी हमला किया गया. उनका हाथ टूट गया, कई जगह फ्रैक्चर हो गया, सर में भी गंभीर चोटें आयीं. उन्हें फरीदाबाद के सिविल हॉस्पिटल (बीके) में भर्ती किया गया है.

कल अवतार भड़ाना से पत्रकार से मुलाक़ात की तो हॉस्पिटल की हालत देखकर भड़क गए, पत्रकार को जिस कमरे में रखा गया था वहां पर ना बिजली थी और ना ही पंखे चल रहे थे, यही नहीं वहां पर कोई डॉक्टर भी नहीं था, जब उन्होंने CMO से संपर्क करने की कोशिश की तो वह भी अस्पताल में नहीं थे, अवतार भडाना से तुरंत ही स्वास्थय मंत्री अनिल विज से बात की और अस्पताल की बदहाल हालत से अवगत कराया.

उसके बाद अवतार भड़ाना से कहा कि शहर में अपराध बढ़ते जा रहे हैं, पहले यह बाबा फरीद की नगरी थी लेकिन अब अपराध की नगरी बनती जा रही है, उन्होंने कहा कि पत्रकार को मारने वाले लोगों को कोई मामा बचा रहा है, मामा ने पुलिस वालों को फोन किया और पुलिस वालों ने केस को हल्का बना दिया, इस मामले में 307, 308 की धाराएं लगनी थी लेकिन पुलिस ने यह धाराएं नहीं लगाईं जबकि ऐसे ही एक मामले में जब पुलिस वाले पर हमला हुआ तो अपराधियों के खिलाफ धारा 307 लगा दी गयी.

अवतार भड़ाना से कहा कि अपराधियों को मामा बचा रहा है, मैं सरकार से आग्रह करता हूँ कि इस मामा का पता लगाए वरना यह पार्टी की इज्जत की धज्जियाँ उड़ा देगा, फरीदाबाद के जन मानस परेशान हैं, मैं मोदीजी के सामने भी इस मामा का प्रश्न उठाऊंगा.

जब कृष्ण पाल गुर्जर से मामा के बारे में सवाल किया गया तो उन्होने अवतार सिंह भड़ाना जो उनकी ही पार्टी से विधायक हैं, उन्हें नासमझ नेता बता दिया, गुर्जर ने कहा कि मैं ऐसे नासमझ लोगों के सवालों का जवाब देना मुनासिब नहीं समझता. लेकिन इस मामले के अपराधियों पर कड़ी कार्यवाही का भरोसा जरूर देता हूँ.
मंत्री अनिल विज ने ताजमहल को बताया खूबसूरत कब्रिस्तान, घर में इसका मॉडल रखना असुभ

मंत्री अनिल विज ने ताजमहल को बताया खूबसूरत कब्रिस्तान, घर में इसका मॉडल रखना असुभ

taj-mahal-is-khoobsurat-kabristan-says-anil-vij-haryana-minister

ताज महल पर विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है, पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने ताज महल को ऐतिहासिक धरोहरों की लिस्ट से बाहर निकाला, उसके बाद बीजेपी विधायक संगीत सोम ने इसे मुगलों की कलंक कथा का नाम दे दिया और अब बीजेपी के ही एक वरिष्ठ नेता और हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने ताजमहल को एक खूबसूरत कब्रिस्तान बता दिया है.

वैसे अनिल विज का कहना गलत नहीं है क्योंकि ताज महल वाकई में एक कब्रिस्तान है उसे शाहजहाँ ने अपनी पहली पत्नी मुमताज की याद में बनवाया था और उन्हें इसी स्थान पर दफ़न किया गया था. जिस जगह पर किसी को दफ़न किया जाता है उस स्थान को भारत में कब्रिस्तान कहा जाता है.

अनिल विज ने ताज महल की तारीफ करते हुए इसे खूबसूरत कब्रिस्तान बताया साथ ही यह भी कहा कि क्योंकि यह कब्रिस्तान है इसलिए लोग घरों में इसका मॉडल या चित्र रखना अशुभ मानते हैं.

taj-mahal-is-a-khoobsurat-kabristan

ना बिजली, ना पानी, BK अस्पताल बदहाल देखकर भड़के BJP MLA अवतार भड़ाना, खोली खट्टर सरकार की पोल

ना बिजली, ना पानी, BK अस्पताल बदहाल देखकर भड़के BJP MLA अवतार भड़ाना, खोली खट्टर सरकार की पोल

bjp-mla-avtar-singh-badana-visit-bk-hospital-exposed-khattar-sarkar

आज खट्टर सरकार की पोल खुल गयी, पोल खोलने वाले भी BJP के विधायक निकले. आज एक पत्रकार से मिलने के लिए फरीदाबाद के पूर्व सांसद और मीरपुर उत्तर प्रदेश के BJP विधायक अवतार सिंह भडाना शहर के बीके सरकारी अस्पताल पहुंचें. आपको बता दें कि कुछ लोगों ने पत्रकार बिजेंदर शर्मा को पटाखा फोड़ने से रोकने पर उनके घर में घुसपर पीट दिया था, उन्हें इलाज के लिए बीके अस्पताल में भर्ती किया गया है. अवतार भड़ाना जब उनसे मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे तो बदहाल हालत देखकर भड़क गए.

अस्पताल में ना बिजली थी, ना पानी था, ना साफ़-सफाई थी और ना ही पंखे चल रहे थे. अवतार भड़ाना से यह देखा नहीं गया, वे पूर्व में फरीदाबाद के सांसद भी रह चुके हैं इसलिए उन्होंने तुरंत ही हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से बात की.

उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री को बताया कि - यहाँ पर एक पत्रकार, एक पुलिस और एक डॉक्टर को मारा पीटा गया है, सभी लोग यहाँ पर भर्ती हैं, अस्पताल में यह हालत है कि यहाँ पर ना डॉक्टर हैं, ना CMO हैं, ना PMO हैं, ना लिफ्ट है, यहाँ तक कि रूम में लाइट तक नहीं है. यहाँ पर जब पत्रकारों और पुलिस वालों की ऐसी हालत है तो यहाँ पर आने वाले फरीदाबाद के जन मानस के साथ क्या होता होगा.

उन्होंने कहा कि यहाँ पर हमारी सरकार है लेकिन इन्हें कैसे विश्वास दिलाएं कि हमारी सरकार में हम लोगों को न्याय मिलेगा. उन्होंने कहा कि आप यह पूछिए कि बिना लाइट और पंखे के उसे पूरी रात भगवान के रहमो-करम पर क्यों रखा गया.

उन्होंने कहा कि यहाँ पर एक डॉक्टर भी भर्ती है, एक पुलिस वाला भी भर्ती है, मैं आपने न्याय की उम्मीद करता हूँ मंत्री जी, आप अस्पताल की बदहाल हालत पर ध्यान दीजिये.

उन्होंने CMO को फोन पर कहा कि आप यहाँ पर जल्दी पहुँचिये तो ठीक होगा वरना ठीक नहीं होगा, उन्होंने कहा कि आज यहाँ पर जो कुछ भी हो रहा है, ना लाइट है, ना बिजली है, दोबारा ऐसा नहीं होना चाहिए वरना मुझे आपके खिलाफ सख्त कार्यवाही करनी पड़ेगी. मैं आपके साथ बहुत बुरा पेश आऊंगा. मैंने हेल्थ मिनिस्टर को बोल दिया है, मैं मुख्यमंत्री को भी बोलने जा रहा हूँ, फरीदाबाद के अस्पताल की ऐसी बुरी हालत है कि मैं इस शहर के लोगों को रहमों करम पर नहीं छोड़ना चाहता.

उन्होंने CMO को यह भी चेतावनी दी कि अगर पत्रकार की रिपोर्ट में तुम्हारे डॉक्टरों ने कुछ भी कमीं करने की कोशिश की तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा, यह 307 और 308 का मामला है, इनका क़त्ल करने की कोशिश की गयी, घटना के वक्त पुलिस को किसी मामा ने फोन किया और पुलिस वालों ने मामले को दबाने की कोशिश की.

डॉक्टर, पत्रकार और पुलिस, दिवाली पर जिसनें रोका, उसको फरीदाबाद के लोगों ने जमकर पीटा

डॉक्टर, पत्रकार और पुलिस, दिवाली पर जिसनें रोका, उसको फरीदाबाद के लोगों ने जमकर पीटा

faridabad-people-beaten-doctor-patrakar-and-police-for-patakha-bursting

फरीदाबाद, 21 अक्टूबर: दिवाली भारत का सबसे बड़ा त्यौहार है, दिवाली पर पटाखा फोड़ने का रिवाज है, खासकर बच्चों और युवाओं में पटाखा फोड़ने को लेकर बहुत क्रेज रहता है, इस बार दिल्ली एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट ने पटाखा बेचने पर प्रतिबन्ध लगाया था जिसकी वजह से लोग नाराज थे, लोगों ने जैसे-तैसे जुगाड़ करके पटाखे खरीदे और उसे जमकर फोड़ा. फरीदाबाद के लोगों ने भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ भड़ास निकालने हुए जमकर पटाखे फोड़े.

सुप्रीम कोर्ट पर लोगों ने पटाखा फोड़कर गुस्सा निकाला लेकिन कुछ ऐसे लोग भी गुस्से के शिकार बन गए जिन्होंने युवाओं को पटाखा फोड़ने से रोका, फरीदाबाद में पटाखा फोड़ने से रोकने पर एक डॉक्टर, एक पत्रकार और एक पुलिस असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर के साथ मार-पिटाई की गयी. 

कल रात में फरीदाबाद के 3 नंबर में ESI मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर राघवेंद्र ने अस्पताल के ही क्लर्कों को पटाखा फोड़ने से मना किया तो क्लर्क वीरेंद्र दहिया ने अपने साथियों के साथ मिलकर डॉक्टर की जमकर पिटाई की. इस मामले में आरोपी क्लर्क और उसके साथियों पर मार-पिटाई का मामला दर्ज कर लिया गया है.

इसी तरफ से नंगला एन्क्लेव में रहने वाले हरिभूमि अख़बार के ब्यूरो चीफ बीरेंद्र शर्मा की उनके पड़ोसियों ने घर में घुसकर पिटाई की, बिजेंद्र शर्मा ने उन्हें पटाखा फोड़ने से रोका जिसके बाद करीब 12-13 लोगों ने उनके घर में घुसकर उन्हें एवं उनकी पत्नी के साथ मार-पिटाई की, उन्हें काफी चोटें आयीं जिसकी वजह से उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया, इस मामले में भी FIR दर्ज हुई है और करीब 8 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

इसके बाद 3 नंबर में एक असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर जमील खान को भी पीट दिया गया, इन्होने भी गस्त के दौरान कुछ युवाओं को बाहर घूमने से रोका, उन्हें घर जाने के लिए कहा. इनका टोकना भी युवाओं को पसंद नहीं आया और इनकी भी जमकर पिटाई की गयी. इस मामले में भी FIR दर्ज की गयी है. जमीन खान को सिविल अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती किया गया है.

Oct 20, 2017

IAS अधिकारियों ने मानी योगी सरकार की बात, लाइन में लगकर मिले, दोनों हाथ जोड़कर किया नमस्ते

IAS अधिकारियों ने मानी योगी सरकार की बात, लाइन में लगकर मिले, दोनों हाथ जोड़कर किया नमस्ते

uttar-pradesh-cm-yogi-adityanath-meet-with-ias-officers-on-diwali

उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी प्रशासनिक अधिकारियों को आदेश दिया है कि वे जब भी किसी विधायक या सांसद से मिलें तो उन्हें दोनों हाथ जोड़कर नमस्ते करेंगे और उन्हें चाय नाश्ते के लिए पूछें, ऐसा इसलिए क्योंकि अधिकारियों और विधायकों में रुतबे को लेकर जंग चलती रहती है. योगी की बात को प्रशासनिक अधिकारियों ने मानना शुरू भी कर दिया है.

आज लखनऊ स्थित सरकारी आवास पर वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारीयों नें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दीपावली की बधाई दी एवं उन्हें हाथ जोड़कर नमस्ते भी किया, बाद में योगी आदित्यनाथ ने उन्हें संबोधित करते हुए उन्हें सभी जिलों में कानून और व्यवस्था पर मेहनत से काम करने के लिए कहा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले 2007 में भी पूर्व सरकार ने सभी प्रशासनिक अधिकारियों को ऐसा ही आदेश दिया था लेकिन समय के साथ साथ अधिकारी भूल गए, कई बार ऐसा भी होता है कि कई भ्रष्ट, अपराधी और बलात्कारी नेता भी विधायक बन जाते हैं, ऐसे नेताओं के आगे हाथ जोड़ना प्रशासनिक अधिकारी अपनी तौहीन समझते हैं, लेकिन योगी के आज के आदेश के बाद सभी अधिकारियों को दोनों हाथ जोड़कर विधायकों को सलाम नमस्ते करना ही पड़ेगा भले ही विधायक बलात्कारी, अपराधी और भ्रष्टाचारी हों.
श्रीसंत की इस बात से और चिढ़ गया BCCI, बोला ना इंडिया से खेलने देंगे और ना विदेश से खेलने देंगे

श्रीसंत की इस बात से और चिढ़ गया BCCI, बोला ना इंडिया से खेलने देंगे और ना विदेश से खेलने देंगे

bcci-said-sreesanth-will-not-play-for-any-other-country-not-india

क्रिकेट खिलाडी श्रीसंत ने आज BCCI को और नाराज कर दिया है, आज श्रीसंत ने एक ऐसी बात बोल दी जिसे सुनकर BCCI को मिर्ची लग गयी, उसनें बौखलाहट में कहा कि श्रीसंत ना तो भारत से खेल पाएंगे और ना ही किसी और देश की तरफ से खेल पाएंगे.

बात दरअसल यह है कि श्रीसंत पर BCCI ने मैच फिक्सिंग के आरोप में आजीवन प्रतिबंध लगाया था लेकिन कोई दोष साबित नहीं हो सका तो केरल हाई कोर्ट ने उनपर से प्रतिबन्ध हटाने का आदेश दिया, हालाँकि अभी तक BCCI ने उन पर से प्रतिबन्ध नहीं हटाया है.

आज श्रीसंत ने एक मीडिया संस्थान से इंटरव्यू में कहा कि मुझपर BCCI ने बैन लगाया है ICC ने कोई बैन नहीं लगाया, अगर मैं BCCI से नहीं खेल सकता तो किसी अन्य देश से तो खेल ही सकता हूँ. वैसे भी BCCI एक प्राइवेट संस्था है, भले ही यह कहा जाता है कि हम भारत की तरफ से खेलते हैं, या टीम इंडिया से खेलते हैं लेकिन सच यह है कि BCCI एक प्राइवेट संस्था है.

उन्होंने कहा की मैं इस वक्त 34 साल का हूँ, मेरा कैरियर सिर्फ चार-पांच साल का है, मैं क्रिकेट से प्यार करता हूँ इसलिए मैं इसे भूल नहीं सकता हूँ.

श्रीसंत की बात सुनकर BCCI को बहुत मिर्ची लगी, उन्होंने तुरंत ही प्रेस कांफ्रेंस करके कहा कि श्रीसंत किसी भी देश से नहीं खेल पाएंगे, उनपर प्रतिबन्ध जारी रहेगा. सीके खन्ना ने कहा कि BCCI का लीगल पोजीशन बहुत साफ़ है, श्रीसंत किसी भी अन्य देश से नहीं खेल पाएंगे.