Showing posts with label South India. Show all posts
Showing posts with label South India. Show all posts

Sep 29, 2017

जो काम पाकिस्तान ने किया वही काम वामपंथी छात्र संगठन SFI ने किया, बहुत शर्मनाक.. बहुत शर्मनाक

जो काम पाकिस्तान ने किया वही काम वामपंथी छात्र संगठन SFI ने किया, बहुत शर्मनाक.. बहुत शर्मनाक

sfi-and-pakistan-used-same-photo-for-damaging-india-image

भारत के बारे में ऐसा कहा जाता है कि सिर्फ पाकिस्तान और चीन ही हमारे दुश्मन नहीं हैं, भारत के अन्दर ही हमारे लाखों दुश्मन मौजूद हैं जो देश विरोधी काम करते हैं. स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ़ इंडिया (SFI) भारत का वामपंथी छात्र संगठन हैं जिसकी जड़ें हिमाचल प्रदेश, दिल्ली, राजस्थान, वेस्ट बंगाल, त्रिपुरा, असम, ओड़िशा, महाराष्ट्र, तेलांगना, आंध्र प्रदेश, तमिल नाडु और केरल के विश्वविद्यालयों में फैली हैं.

हाल ही में SFI के बारे में एक शर्मनाक खबर आयी है, केरल में एक रैली के दौरान SFI ने मंच पर वही फोटो लगायी जिसे पाकिस्तान ने यूनाइटेड नेशन में दिखाया था. यह फोटो गाजा पट्टी की एक लड़की की थी लेकिन इसे कश्मीरी लड़की के रूप में दिखाया गया था. पाकिस्तान ने इस लड़की की फोटो को यूनाइटेड नेशन में दिखाकर कहा था कि ये देखिये, भारत कश्मीरियों पर कैसा अत्याचार कर रहा है, जब इस फोटो की पड़ताल की गयी तो यह फोटो गाजा पट्टी की निकली.

अब सवाल यह उठता है कि यह फोटो SFI ने पाकिस्तान को दी थी या पाकिस्तान ने SFI को दी थी, अगर SFI ने पाकिस्तान को यह फोटो दी है तो यह देश विरोधी काम है, अगर SFI ने यह जानते हुए कि यह फोटो गाजा पट्टी की है, उसे अपने मंच पर कश्मीरियों पर अत्याचार के रूप में दिखाया तो यह भी देशद्रोह है क्योंकि SFI ने भारत को बदनाम करने की कोशिश की है.

Mar 22, 2017

Human Development Index में भारत 131वें पायदान पर, पढ़ें कौन है नंबर वन

Human Development Index में भारत 131वें पायदान पर, पढ़ें कौन है नंबर वन

human-development-index-india-on-131-th-place-in-2017

न्यूयार्क, 22 मार्च: संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) द्वारा 2016 के लिए जारी किए गए मानव विकास सूचकांक में भारत 188 देशों में एक स्थान गिरकर 131वें पायदान पर फिसल गया। भारत को सूची में 'मध्यम मानव विकास' वर्ग में रखा गया है और भारत का मानव विकास सूचकांक 0.624 रहा, जो दक्षिण एशियाई देशों में श्रीलंका और मालदीव से भी कम है।

श्रीलंका इस सूची में 73वें और मालदीव 105वें पायदान पर है और दोनों देशों को 'उच्च मानव विकास' वर्ग में जगह दी गई है।

इस सूची में भारत, गैबन (109), मिस्र (111), इंडोनेशिया (113), दक्षिण अफ्रीका (119) और इराक (121) से भी पीछे है।

भारत के पड़ोसी देशों में चीन को सूची में 90वां स्थान, भूटान को 132वां, बांग्लादेश को 139वां, नेपाल को 144वां और पाकिस्तान को 147वां स्थान मिला है।

इस सूचकांक की शुरुआत 1990 में की गई। इस सूची में जीवन प्रत्याशा, शिक्षा और प्रति व्यक्ति आय के अधार पर देशों को चार वर्गो में रखा गया है।

सूची में नॉर्वे (0.949) शीर्ष पर, आस्ट्रेलिया (0.939) दूसरे स्थान पर और स्विट्जरलैंड (0.939) तीसरे स्थान पर हैं।

यूएनडीपी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है, "मानव विकास की दिशा में पीछे छूट गए देशों की पहचान और उनका चिह्नांकन बेहतर नीति के निर्माण और मानव विकास के मुद्दों के प्रति जागरूकता कार्यक्रम तैयार करने के लिए बेहद जरूरी है। इस तरह की सूची विकास के लिए काम करने वालों को कार्रवाई की मांग करने और नीति निर्माताओं पर विकास में पीछे छूट गए लोगों के लिए बेहतर योजनाएं बनाने के लिए दबाव बनाने में मददगार साबित होगी।"

रिपोर्ट में कहा गया है कि लिंगानुपात और महिला सशक्तीकरण मानव विकास निर्धारित करने के अहम बिंदु हैं। हालांकि वैश्विक स्तर पर महिलाओं की एचडीआई पुरुषों की तुलना में कम है, जबकि जन्म के समय महिलाओं की जीवन प्रत्याशा पुरुषों से अधिक है।

दक्षिण एशिया का जेंडर डेवलपमेंट इंडेक्स (जीडीआई) सबसे कम है। जीडीआई का निर्धारण महिलाओं और पुरुषों की एचडीआई में असमानता के आधार पर होता है। इसमें जितनी अधिक असामनता होगी जीडीआई उतना ही कम होगा।

Dec 5, 2016

सबसे बड़ी डॉक्टरों की टीम ने शुरू किया जयललिता का इलाज, लोगों का रो रो कर बुरा हाल

सबसे बड़ी डॉक्टरों की टीम ने शुरू किया जयललिता का इलाज, लोगों का रो रो कर बुरा हाल

biggest-team-of-doctors-started-j-jayalalithaa-treatment-people-crying

चेन्नई, 5 दिसम्बर: तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे.जयललिता को दिल का दौरा पड़ने के बाद उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। अपोलो अस्पताल में चिकित्सकों का एक दल उनकी जांच कर रहा है। जयललिता सितंबर से यहां भर्ती हैं। कल उन्हें बहुत तगड़ा वाला हार्ट अटैक आया है जिसकी वजह से उन्हें CCU में रखा गया है, इस वक्त सबसे बड़ी डॉक्टरों की टीम उनका इलाज कर रही है। AIIMS के भी 4 डॉक्टर उनके इलाज के लिए पहुँच चुके हैं। उनके प्रशंसक अस्पताल के बाहर इकठ्ठे हो गए हैं और लोगों का रो रो कर बुरा हाल है। हर कोई हाय अम्मा हाय अम्मा कहकर रो रहा है। 

अस्पताल के बाहर रविवार रात से ही जयललिता के प्रशंसकों की भारी भीड़ उमड़ी हुई है। देशभर से लोग और नेता उनके जल्द ठीक होने की प्रार्थना कर रहे हैं।

अपोलो अस्पताल की संयुक्त प्रबंध निदेशक संगीता रेड्डी ने सोमवार को कहा, "हमारे चिकित्सक मुख्यमंत्री के स्वास्थ्य की जांच कर रहे हैं और वे पूरी जी-जान से जुटे हुए हैं।"

महराष्ट्र के राज्यपाल सी.विद्यासगार राव मुंबई से अपोलो अस्पताल पहुंचे और जयललिता की तबीयत के बारे में पूछताछ की।

हालांकि, उन्होंने अस्पताल के दौरे के बाद कोई बयान जारी नहीं किया।

इससे पहले उनके अपोलो अस्पताल के दौरे के बाद राजभवन ने एक बयान जारी किया था।

अस्पताल ने रविवार रात जारी बयान में कहा, "तमिलनाडु की मुख्यमंत्री को आज साम दिल का दौरा पड़ा है। उनका चेन्नई के अपोलो अस्पताल में इलाज चल रहा है और चिकित्सकों और विशेषज्ञों का एक दल उनके स्वास्थ्य पर निगरानी बनाए हुए हैं।"

अस्पताल की ओर से जारी ट्वीट के मुताबिक, "लंदन से डॉक्टर रिचर्ड बील से भी सलाह ली गई है और उन्होंने हमारे ह्रदय रोग एवं श्वास रोग विशेषज्ञों के दल से सहमति जताई है।"

अस्पताल ने एक अन्य ट्वीट में कहा, "मुख्यमंत्री जयललिता आम जनता की नेता हैं। आईए, उनके जल्द ठीक होने की कामना करें।"

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी जयललिता के जल्द ठीक होने की कामना की है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा, "जयललिता को दिल का दौरा पड़ने की खबर से व्यथित हूं। उनके जल्द ठीक होने की कामना करता हूं।"

डीएमके प्रमुख एम.करुणानिधि और उनके बेटे एवं पार्टी नेता एम.के.स्टालिन ने भी ट्वीट कर जयललिता के जल्द ठीक होने की कामना की।

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने भी ट्वीट कर जयललिता के जल्द ठीक होने की प्रार्थना की।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जयललिता के स्वास्थ्य पर चिंता व्यक्त करते हुए उनके जल्दी ठीक होने की कामना की।

Dec 4, 2016

बुरी खबर, जयललिता को आया हार्ट अटैक, हालत गंभीर में भर्ती

बुरी खबर, जयललिता को आया हार्ट अटैक, हालत गंभीर में भर्ती

j-jayalalithaa-heart-attack-in-apollo-hospital-chennai-admitted-in-ccu

चेन्नई, 4 दिसम्बर: तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे.जयललिता को रविवार को दिल का दौरा पड़ा है और विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम उनकी निगरानी कर रही हैं। वह अपोलो अस्पताल में भर्ती हैं। डाक्टरों ने यह जानकारी दी है। अपोलो अस्पताल की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया, "जयललिता के स्वास्थ्य की निगरानी विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम कर रही है, जिसमें हृदय रोग विशेषज्ञ, फेफड़ा विशेषज्ञ और क्रिटिकल केयर विशेषज्ञ शामिल हैं।"

एआईएडीएमके प्रमुख 68 वर्षीय जयललिता को 22 सितंबर को बुखार एवं डिहाईड्रेशन की शिकायत पर अस्पताल में भर्ती किया गया था। 

डाक्टरों ने जांच के बाद बताया था कि उन्हें इंफेक्शन है, इसलिए उन्हें अस्पताल में कुछ दिन रहना होगा। इसके बाद उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था। 

अपोलो अस्पताल के मुताबिक, जयललिता की जांच कर रही टीम में हृदय रोग विशेषज्ञ, फेफड़ा विशेषज्ञ, इंफेक्शन डिजीज के विशेषज्ञ, मधुमेह विशेषज्ञ शामिल हैं।

हाल ही में अपोलो अस्पताल के चेयरमैन प्रताप सी. रेड्डी ने मीडिया से कहा था कि जयललिता की हालत बेहतर हो रही है और उनके सभी अंग काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा था कि अब उन्हें गहन चिकित्सा कक्ष से वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। उन्होंने यह भी कहा था कि जयललिता जब चाहें घर जा सकती हैं। 

Nov 15, 2016

तमिल सुपरस्टार विजय ने मोदी के नोटबंदी के फैसले की तारीफ की

तमिल सुपरस्टार विजय ने मोदी के नोटबंदी के फैसले की तारीफ की

tamil-superstar-vijay-praised-pm-modi-demonetization-scheme

चेन्नई, 15 नवंबर: तमिल फिल्मों के सुपरस्टार विजय ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि इससे भारतीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि इसके लिए पहले ही ऐसी योजना बनाई जानी चाहिए थी, जिससे आम आदमी को परेशानी ना झेलनी पड़े।

विजय ने यहां संवाददाताओं से कहा,"मैं नोटबंदी के फैसले का स्वागत करता हूं। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा और मुझे लगता है कि यह एक महत्वपूर्ण और साहसिक कदम है।"

उन्होंने कहा, "योजना सही ढंग से बनाई जानी चाहिए थी। लोगों को दवाइयां खरीदने में मुश्किल हो रही है। यह बुनियादी जरूरत है। 20 प्रतिशत गलत लोगों की वजह से 80 प्रतिशत लोगों को परेशानी झेलनी पड़ रही है।"

मुझे लगता है कि सरकार को जनता के सामने आ रही समस्याओं पर विचार करना चाहिए था।

उन्होंने कहा, "मैंने जब सुना कि एक बुजुर्ग की इसलिए मौत हो गई क्योंकि वह अपनी बेटी की शादी के लिए पैसों की व्यवस्था नहीं कर पाया, तो मुझे बहुत दुख हुआ। इसी तरह एक बच्चे की इसलिए मौत हो गई क्योंकि उनके माता-पिता इलाज का खर्च देने के लिए नए नोटों की व्यवस्था नहीं कर सके।"

उन्होंने कहा, "पहले से ही आम आदमी के लिए योजना सुनिश्चित की जानी चाहिए थी, जिससे दिक्कतें न होती।"

Nov 9, 2016

चेन्नई में ATM के बाहर लगी लंबी कतार, धक्कामुक्की

चेन्नई में ATM के बाहर लगी लंबी कतार, धक्कामुक्की

chennai-news-long-queue-outside-atm-scuffle-in-people

चेन्नई, 8 नवंबर: सरकार द्वारा मंगलवार को 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों को अवैध घोषित करने के बाद रुपये निकालने के लिए विभिन्न एटीएम पर लोगों की लंबी कतारें लग गई हैं। अधिकतर व्यक्ति 100 रुपये के नोट निकाल रहे हैं। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काले धन और नकली नोटों पर लगाम लगाने के उद्देश्य से मंगलवार की शाम घोषणा की कि 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोट मंगलवार की मध्यारात्रि से अवैध घोषित कर दिए गए हैं।

एटीएम पर लोग 100-100 के नोट निकालने के लिए खड़े रहे, लेकिन कई एटीएम मशीनों से 100 रुपये के नोट ही खत्म हो गए। बड़ी मात्रा में एटीएम से रुपया निकालने की कोशिश करने वालों को 500-500 के नोट लेकर जाना पड़ा।

इसी तरह एक आम गृहिणी वी. रेवती ने बताया, "मेरे घर पर सिर्फ 500 के नोट पड़े हैं। कल (बुधवार) से कोई भी उन्हें नहीं लेगा और बैंक भी नहीं खुलेंगे। बड़ी समस्या होने वाली है।"

एस. विश्वनाथन के बेटे की गुरुवार को शादी होने वाली है। उन्होंने बताया, "बहुत कठिन स्थिति है। 500 और 1,000 रुपये का नोट स्वीकार न करने की स्थिति में रेहड़ी और खोमचे वालों को नकद रुपये पाने के लिए कुछ दिनों का इंतजार करना होगा। या तो वे बड़े नोट लें और बाद में उन्हें बैंक में जमा करवाएं।"

Nov 5, 2016

डॉक्टरों ने कहा, जयललिता की तवियत अब पूरी तरह से ठीक लेकिन अभी अस्पताल में ही रहेंगी

डॉक्टरों ने कहा, जयललिता की तवियत अब पूरी तरह से ठीक लेकिन अभी अस्पताल में ही रहेंगी

doctor-said-jayalalithaa-is-fine-now-but-she-will-live-in-hospital

चेन्नई, 4 नवंबर: अपोलो अस्पताल ने कहा कि तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे.जयललिता की हालत पूरी तरह से सुधर गई है। वह बीते 43 दिनों से अस्पताल में इलाज करा रही हैं। अपोलो अस्पताल समूह के चेयरमैन प्रताप सी. रेड्डी ने कहा, "वह (जयललिता) काफी संतुष्ट हैं। उनकी तबियत पूरी तरह से ठीक हो चुकी है और वह समझ पा रही हैं कि उनके आसपास क्या हो रहा है।"

उन्होंने कहा कि यह जयललिता को तय करना है कि वह कब घर लौटना चाहती हैं। इलाज का सर्वाधिक महत्वपूर्ण पहलू अब पूरा हो चुका है।

जयललिता (68) को बुखार और डिहाइड्रेशन के बाद 22 सितंबर को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

चिकित्सकों ने बाद में कहा कि उन्हें लंबे समय तक अस्पताल में रहने की जरूरत है, क्योंकि उन्हें संक्रमण है। उन्हें श्वसन रक्षा तंत्र (रेसीपिरेट्री सपोर्ट) पर रखा गया था।

रेड्डी ने कहा कि हालांकि जयललिता ने नहीं पूछा है कि घर कब जाना है लेकिन यह निश्चित ही उनके मन में सबसे पहले आता होगा।

इससे पहले ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) के वरिष्ठ नेता सी. पोनाइयन ने आईएएनएस को बताया था कि जयललिता को जल्द ही क्रिटिकल केयर यूनिट (सीसीयू) से एक निजी कक्ष में भर्ती किया जाएगा।

उन्होंने बताया, "फेफड़ों का संक्रमण अब नियंत्रण में है। वह गंभीर स्थिति से बाहर आ चुकी हैं। श्वास प्रणाली को धीरे-धीरे हटाया जा रहा है। इसका इस्तेमाल कभी-कभी जरूरत पड़ने पर किया जा रहा है।" 

उन्होंने कहा कि पिछले एक सप्ताह से जयललिता को अर्ध ठोस आहार दिया जा रहा था। वह अब लोगों से बात भी करने लगी हैं।

अपोलो अस्पताल के मुताबिक, हृदय रोग विशेषज्ञ, श्वास चिकित्सक, संक्रामक रोगों के सलाहकार, मधुमेह चिकित्सक और एंडोक्रिन्कोलोजिस्ट उनका इलाज कर रहे हैं।

अपोलो अस्पताल ने 21 अक्टूबर को जारी मेडिकल बुलेटिन में कहा था कि जयललिता लोगों से बात कर रही हैं और अब उनकी हालत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है।

पोनाइयन के मुताबिक, यह चिकित्सकों को तय करना है कि जयललिता को कब अस्पताल से छुट्टी दी जाए।

पोनाइयन ने कहा, "अब उनकी हालत में सुधार हो चुका है। बाकी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को निजी कक्ष में स्थानांतरित होने के बाद या उनके निवास स्थान पर पहुंचने पर भी सुलझाया जा सकता है।"

उन्होंने कहा कि जयललिता फेफड़ों के संक्रमण से जूझ रही थीं, जिससे समस्या बढ़ी थी।

वह गहरे संक्रमण के कारण लगभग 18 दिनों तक तेज बुखार से पीड़ित रहीं।

Oct 30, 2016

CM जयललिता ने चुनावी दस्तावेज पर हस्ताक्षर की जगह अंगूठा लगाया, पढ़ें क्या है माजरा

CM जयललिता ने चुनावी दस्तावेज पर हस्ताक्षर की जगह अंगूठा लगाया, पढ़ें क्या है माजरा

jayalalithaa-planted-thumb-on-electoral-document-best-hindi-news

चेन्नई, 29 अक्टूबर: अपोलो अस्पताल में पिछले एक महीने से भर्ती तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे.जयललिता के दाएं हाथ में जलन और सूजन के कारण ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) के एक चुनावी दस्तावेज पर उनके बाएं हाथ के अंगूठे का निशान लिया गया है। अरवाकुरूची, तंजावुर तथा तिरुपारनकुंद्रम विधानसभा सीटों पर 19 नवंबर को चुनाव होने हैं, जिसके लिए एआईएडीएमके के उम्मीदवारों ने पर्चा भरा था।

लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत एक राजनीतिक पार्टी की तरफ से चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवार को फॉर्म बी जमा कराना होता है, जिसमें उम्मीदवार की पार्टी उसे अपने चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ने के लिए अधिकृत करता है।

एआईएडीएमके के तीनों उम्मीदवारों ने 28 अक्टूबर को रिटर्निग अधिकारियों के पास अपने दस्तावेज जमा कराए थे।

देखने में आया कि तिरुपारनकुंद्रम के उम्मीदवार ए.के.बोस द्वारा जमा कराए गए दस्तावेज में जयललिता के बाएं हाथ के अंगूठे का निशान था।

अंगूठे के निशान को सरकारी चिकित्सक पी.बालाजी ने अभिप्रमाणित किया है, जो मद्रास मेडिकल कॉलेज में मिनिमल एक्सेस सर्जरी के प्रोफेसर हैं।

अपनी टिप्पणी में बालाजी ने कहा, "चूंकि हस्ताक्षर करने वाले की हाल में ट्रैकियोस्टोमी हुई है, जिसके कारण उनके दाएं हाथ में सूजन है। फिलहाल वह हस्ताक्षर करने में अक्षम हैं। इसलिए उद्देश्य की पूर्ति के लिए मेरी उपस्थिति में उन्होंने अपने बाएं हाथ के अंगूठे का निशान लगाया है।"

अपोलो अस्पताल में कार्यरत डॉ.बाबू के अब्राहम ने गवाह के तौर पर हस्ताक्षर किया है।

जयललिता को बुखार व डीहाइड्रेशन (पानी की कमी) के कारण 22 सितंबर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

चिकित्सकों ने बाद में कहा कि उन्हें अस्पताल में लंबे समय तक रहने की जरूरत है, क्योंकि उन्हें संक्रमण है और रेस्पाइरेटरी सपोर्ट पर रखा गया है।

अपोलो अस्पताल ने 21 अक्टूबर को जारी अपनी चिकित्सकीय बुलेटिन में कहा कि जयललिता लोगों से बातचीत कर रही हैं और उनकी हालत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है।

Oct 26, 2016

कांग्रेस के लिए बुरी खबर, CBI अदालत ने BJP नेता येदियुरप्पा को भ्रष्टाचार के आरोप से बरी किया

कांग्रेस के लिए बुरी खबर, CBI अदालत ने BJP नेता येदियुरप्पा को भ्रष्टाचार के आरोप से बरी किया

bad-news-for-congress-cbi-free-yeddyurappa-from-corruption-charges

बेंगलुरु, 26 अक्टूबर: कांग्रेस के लिए एक बुरी खबर है क्योंकि बीजेपी के जिस एकमात्र नेता पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा था आज उसे CBI अदालत ने भ्रष्टाचार के सभी आरोपों से पूरी तरह से बरी कर दिया और बीजेपी का दाग भी धुल गया। 

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने बुधवार को बेल्लारी खनन मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता बी.एस. येदियुरप्पा को रिश्वत के आरोपों से मुक्त कर दिया। येदियुरप्पा ने ट्वीट कर कहा, "न्याय किया गया है, मैं दोषमुक्त हो गया हूं।"

उन्होंने संकट के समय में साथ खड़े रहने वाले अपने शुभेच्छों, मित्रों और समर्थकों को धन्यवाद दिया।

उन्होंने कहा, "सत्यमेव जयते।"

साल 2011 में येदियुरप्पा पर खनिज संपन्न बेल्लारी जिले में लौह अयस्क के अवैध खनन में मिलीभगत का आरोप लगाया गया था।

जानकारी के लिए बता ने कि कांग्रेस के कई नेताओं पर भ्रष्टाचार और घोटाले के आरोप लगे हैं और कई जेल भी जा चुके हैं, कांग्रेस अपने आरोपों का बदला येदुरप्पा पर ताना मारकर लेती थी लेकिन अब कांग्रेस बीजेपी पर भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगा सकेगी। 

Oct 17, 2016

तमिलनाडु में कावेरी बोर्ड के गठन के लिए प्रदर्शन

तमिलनाडु में कावेरी बोर्ड के गठन के लिए प्रदर्शन

tamil-nadu-hindi-news

चेन्नई, 17 अक्टूबर: तमिलनाडु में कावेरी प्रबंधन बोर्ड (सीएमबी) के गठन की मांग को लेकर किसान संगठनों और राजनीतिक दलों ने सोमवार को प्रदर्शन किया तथा रेलवे का परिचालन बाधित किया। थंजावुर जिले में पुलिस ने रेल पटरियों पर प्रदर्शन करने वाले कई किसानों को गिरफ्तार किया।

वहीं, राज्य की राजधानी चेन्नई में द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के नेता एम.के. स्टालिन के नेतृत्व में पेरम्बूर में प्रदर्शन किया गया।

राज्य के विभिन्न हिस्सों में प्रदर्शन के दौरान डीएमके, कांग्रेस तथा एमडीएमके कई सदस्यों को गिरफ्तार किया गया।

कावेरी नदी के जल बंटवारे को लेकर तमिलनाडु तथा कर्नाटक में पिछले काफी समय से तनाव की स्थिति है।

जल संसाधन मंत्रालय ने तीन अक्टूबर को सर्वोच्च न्यायलय में एक आवेदन दायर कर 30 सितंबर के उस आदेश में परिवर्तन का अनुरोध किया था, जिसमें न्यायालय ने चार अक्टूबर तक सीएमबी का गठन करने को कहा था।

मंत्रालय ने अपने आवेदन में कहा है कि सीएमबी का गठन इस वक्त नहीं किया जा सकता।

Oct 13, 2016

चंद्रबाबू बोले, 500, 1000 के नोट बंद होने चाहियें, क्योंकि?

चंद्रबाबू बोले, 500, 1000 के नोट बंद होने चाहियें, क्योंकि?

ap-cm-chandrababu-naidu-demand-to-ban-500-1000-rs-notes

अमरावती (आंध्र प्रदेश), 12 अक्टूबर: आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने बुधवार को देश में कालेधन पर लगाम लगाने के लिए जल्द 500 और एक हजार रुपये के नोटों को बंद करने की अपनी मांग दोहराई। उन्होंने नकद लेनदेन पर प्रतिबंध लगाने की जरूरत पर बल दिया।

अपने वेलागापुदी के नए कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि राजनीति भ्रष्टाचार की पनाहगाह बन गया है। उन्होंने इसे लेकर अपनी चिंता जाहिर की।

नायडू, बड़े नोटों पर प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह इसके लिए प्रधानमंत्री को पत्र लिखेंगे।

उन्होंने कहा कि बड़े नोटों को खत्म करना जरूरी है। इससे वोट खरीदने वाले लोगों और जनादेश का गलत इस्तेमाल करने पर रोक लग सकेगी। 

तेलगू देशम पार्टी (तेदपा) प्रमुख नायडू ने कहा, "राजनीति भ्रष्टाचारी लोगों और काला धन कमाने वालों के लिए शरणगाह बन गई है। "

काले धन को सभी बुराइयों की जड़ बताते हुए नायडू ने कहा कि नकदी और मुद्रा के लेनदेन को खत्म करके और सभी लेनदेन को बैंक के जरिए अनिवार्य करके इसे रोका जा सकता है।

उन्होंने कहा कि जब सभी भुगतान एक स्मार्टफोन के जरिए किए जा सकते हैं तो नकद लेनदेन की कोई जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा, "एक तय समय में हमें सभी लेनदेन बैंक के जरिए करने होंगे। हमें नियामक बनाने होंगे और संस्कृति विकसित करनी होगी। तभी जाकर हम सभी बुराइयों पर नियंत्रण कर सकेंगे और उसके बाद ही सभी सही तरीके से पैसा कमा सकेंगे। " 

उन्होंने कहा कि कुछ लोग रातोंरात अमीर होते जा रहे हैं और पूछने पर वह जवाबी हमला शुरू कर देते हैं।

नायडू ने कहा कि इस तरह के लोग 500 रुपये और एक हजार की नोट मतदाताओं में बांट कर लोगों का वोट लेते हैं। इससे विधायकों में प्रतिस्पर्धा बढ़ती है, जिससे वे पैसा बनाकर चुनाव जीतना चाहते हैं। यह एक दुष्चक्र है और इसे तोड़ने का एकमात्र तरीका सभी लेनदेन को बैंक के जरिए करना है। 

उन्होंने कहा कि वह काला धन अर्जन करने वालों के आय घोषणा योजना के पक्ष में नहीं थे, क्योंकि इससे उन्हें अपने कालेधन को वैध बनाने में सहायता मिलेगी। उन्हें अपने धन का 40-45 प्रतिशत देना होगा और उनका बाकी का पैसा वैध हो जाएगा। यह उनके लिए अच्छा है। वे खुशीपूर्वक इसका भुगतान कर देंगे। अब यह एक सामाजिक कलंक नहीं है। 
जयललिता ने राज्यपाल को कैसे सूचित किया, जब उनसे किसी को मिलने ही नही दिया जा रहा: विपक्ष

जयललिता ने राज्यपाल को कैसे सूचित किया, जब उनसे किसी को मिलने ही नही दिया जा रहा: विपक्ष

tamil-nadu-opposion-pointed-how-jayalalithaa-informed-her-bad-health-to-governor

चेन्नई, 12 अक्टूबर (आईएएनएस)| तमिलनाडु के विपक्ष के नेताओं ने बुधवार को सवाल किया कि तमिलनाडु के राज्यपाल विद्यासागर राव को बीमार मुख्यमंत्री जे. जयललिता ने अपने विभागों को वित्तमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम को आवंटित करने की सलाह कैसे दे दी? 

द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) के अध्यक्ष एम. करुणानिधि ने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि जयललिता (68) की सलाह पर उनके मातहत विभागों को पन्नीरासेल्वम को आवंटित कर दिया। 

एक बयान में उन्होंने कहा कि जयललिता पिछले 19 दिनों से अस्पताल में हैं और कई नेता जब उनके मिलने के लिए यहां अपोलो अस्पताल पहुंचे तो उनसे मिलने नहीं दिया गया। 

उन्होंने कहा कि तमिलनाडु के राज्यपाल, केरल के मुख्यमंत्री पिनारई विजयन, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, केंद्रीय मंत्री एम. वेंकैया नायडू सहित कई नेताओं को उन्हें यहां जिस अपोलो अस्पताल में भर्ती हैं, वहां जाने पर जयललिता को देखने या मिलने नहीं दिया गया।

ऐसी स्थिति में राजभवन से बुधवार को जारी बयान में जयललिता की सलाह पर उनके विभाग किसी और को देने की बात आश्चर्यजनक है। 

राजभवन से मंगलवार को जारी बयान के अनुसार, राज्यपाल विद्यासागर राव ने संविधान के अनुच्छेद 166 के परिच्छेद-3 के अनुसार अब तक जो विभाग जयलतिलता के पास थे, उन्हें उनकी सलाह पर पन्नीरसेल्वम को आवंटित कर दिया है। 

जयललिता के पास लोक सेवा, भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय पुलिस सेवा, भारतीय वन सेवा, समान्य प्रशासन, जिला राजस्व अधिकारी, पुलिस और गृह था। 

बयान में यह भी कहा गया है कि पन्नीरसेल्वम मंत्रिमंडल की बैठक की अध्यक्षता भी करेंगे। 

राजभवन के बयान में कहा गया है, "यह व्यवस्था मुख्यमंत्री की सलाह पर की गई है और वह तब तक यह जिम्मेदारी संभालेंगे जब तक जयललिता अपना दायित्व नहीं संभाल लेतीं। जयललिता मुख्यमंत्री बनी रहेंगी।"

जयललिता को गत 22 सितम्बर को बुखार और शरीर में पानी की कमी होने के बाद अस्पताल में भर्ती किया गया था।

बाद में डॉक्टरों ने कहा कि उन्हें अस्पताल में ज्यादा समय तक रहना होगा क्योंकि वह संक्रमण से पीड़ित हैं और उन्हें सांस लेने में सहायता दी जा रही है। 

चूंकि वह संक्रमणग्रस्त हैं इसलिए किसी भी मिलने वालों को उनके कमरे में जाने की बातचीत की इजाजत नहीं है। 

यह उनसे मिलने जाने वाले विशिष्ट लोगों को अन्नाद्रमुक के नेता और अस्पताल के चिकित्सक कह रहे हैं। 

पीएमके के संस्थापक एस रामदास ने कहा कि अस्पताल से जारी मेडिकल बुलेटिन के आधार पर यह स्पष्ट है कि डॉक्टरों के अलावा किसी को भी उनसे मिलने की इजाजत नहीं है। 

उन्हें सांस लेने में सहायता दी जा रही है यह बात अस्पताल से जारी मेडिकल बुलेटिनों में कही गई है। उन्होंने इस पर आश्चर्य जताया कि किस तरह से उन्होंने ऐसी स्थिति में अपने मातहत विभागों को बदलने के लिए कहा।

मंगलवार को कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष एस तिरुनावुक्कारसार ने आईएएनएस को कहा था कि विभागों का पुन: आवंटन एक स्वागत योग्य प्रगति है। उनहोंने कहा कि यह स्थिति ठीक वैसी ही है, जैसी 1984 के अक्टूबर में अन्नाद्रमुक के संस्थापक एम.जी. रामचंद्रन उसी अपोलो अस्पताल में भर्ती हुए थे तब की थी। 

अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता सी. पोनैयम ने आईएएनएस से कहा कि तब एमजीआर के विभाग नेदुनछेजियन को दिए गए थे। उनके अनुसार एमजीआर ने मौखिक तौर पर ही अपने विभाग नेदुनछेजियन को देने के लिए कहा था। 

उन्होंने कहा, "नियमानुसार मुख्यमंत्री मौखिक रूप से अपने मंत्रिमंडल के किसी एक को या उससे अधिक सदस्य को विभागों के संचालन के लिए कह सकते हैं। यह व्यवस्था पूरे देश में प्रचलन में है।"

सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक ने प्रभारी या अस्थायी मुख्यमंत्री की जरूरत से इनकार किया है। 

पन्नीरसेल्वम पहले मुख्यमंत्री के रूप में काम कर चुके हैं जब जयललिता को बेंगलुरु उच्च न्यायालय से भ्रष्टाचार के आरोप में दोषी करार दिए जाने के बाद पद छोड़ना पड़ा था। कनार्टक उच्च न्यायालय से आरोप मुक्ति किए जाने के बाद जयललिता फिर मुख्यमंत्री बनीं। 

अधिकारियों को उम्मीद है कि पन्नीरसेल्वम गुरुवार को सचिवालय जाएंगे। 

Oct 12, 2016

तमिलनाडु: मुख्यमंत्री जयललिता के विभाग पन्नीरसेल्वम को मिले

तमिलनाडु: मुख्यमंत्री जयललिता के विभाग पन्नीरसेल्वम को मिले

jayalalithaa-department-transfered-to-Finance-Minister-O-Panneerselvam

चेन्नई, 11 अक्टूबर (आईएएनएस)| तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे. जयललिता के पास जिन-जिन विभागों का मंत्री पद था, उन्हें राज्य के वित्तमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम को आवंटित किए गए हैं। राजभवन से मंगलवार को जारी एक बयान में यह बात कही गई है। बयान के मुताबिक, राज्यपाल विद्यासागर राव ने संविधान के अनुच्छेद 168 के परिच्छेद-3 के तहत अब तक जो विषय-वस्तु जयललिता के अधीनस्थ थे उन्हें उनकी सलाह पर पन्नीरसेल्वम को आवंटित किया है। 

जयललिता के पास लोक सेवा, भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय पुलिस सेवा, भारतीय वन सेवा, समान्य प्रशासन, जिला राजस्व अधिकारी, पुलिस और गृह था। 

पन्नीरसेल्वम ही मंत्रिमंडल की बैठकों की अध्यक्षता करेंगे। 

राजभवन के बयान में कहा गया है, "यह व्यवस्था मुख्यमंत्री की सलाह पर की गई है और वह तब तक यह जिम्मेदारी संभालेंगे जब तक जयललिता अपना दायित्व नहीं संभाल लेतीं। जयललिता मुख्यमंत्री बनी रहेंगी।"

68 वर्षीय जयललिता को गत 22 सितंबर को बुखार और शरीर में पानी की कमी होने के बाद अस्पताल में भर्ती किया गया था।

बाद में डॉक्टरों ने कहा कि उन्हें अस्पताल में ज्यादा समय तक रहना होगा, क्योंकि वह संक्रमण से पीड़ित हैं और उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही है, कृत्रिम सहायता दी जा रही है। 

आठ अक्टूबर को अस्पताल ने कहा कि उन्हें सुगमता से सांस लेने के लिए जो सहायता प्रणाली लगाई गई है, उस पर बारीकी से नजर रखी जा रही है। फेफड़ों में जमा बलगम खाली करने का उपचार चल रहा है। 

सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक ने प्रभारी या अस्थायी मुख्यमंत्री की जरूरत से इनकार किया है। पन्नीरसेल्वम पहले भी मुख्यमंत्री के रूप में काम कर चुके हैं, जब जयललिता को बेंगलुरू उच्च न्यायालय से भ्रष्टाचार के आरोप में दोषी करार दिए जाने के बाद पद छोड़ना पड़ा था। कर्नाटक उच्च न्यायालय से आरोपमुक्त किए जाने के बाद जयललिता फिर मुख्यमंत्री बनीं। 

Oct 11, 2016

जयललिता की मौत की अफवाह फैलाने वाले 2 गिरफ्तार

जयललिता की मौत की अफवाह फैलाने वाले 2 गिरफ्तार

jayalalithaa-death-rumor-2-arrested-by-channai-police

चेन्नई, 11 अक्टूबर: पुलिस ने सोशल मीडिया पर तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे. जयललिता के स्वास्थ्य के बारे में अफवाहें फैलाने को लेकर मंगलवार को दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया। सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक के आईटी सचिव की शिकायत के बाद सतीश कुमार और मदासामी को अफवाह फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया।

पुलिस ने जयललिता के स्वास्थ्य को लेकर अफवाहें फैलाने के 43 मामले दर्ज किए हैं।

68 वर्षीय मुख्यमंत्री को बुखार और डिहाइड्रेशन की समस्या के कारण 22 सितम्बर को अस्पताल में दाखिल कराया गया था।

चिकित्सकों ने बाद में कहा कि उन्हें अस्पताल में लंबे समय तक रखने की जरूरत है क्योंकि वह संक्रमण से ग्रस्त हैं।

पुलिस ने अफवाहें फैलाने के आरोप में हाल ही में फ्रांस के एक नागरिक के खिलाफ भी मामला दर्ज किया था।

इसी बीच, जयललिता का हालचाल जानने के लिए राजनीतिक दलों के नेताओं का अपोलो अस्पताल जाना जारी है।

कांग्रेस नेता एम. कृष्णस्वामी ने मीडिया को बताया कि अन्नाद्रमुक नेताओं ने उन्हें बताया है कि जयललिता की हालत में सुधार हो रहा है।

Oct 1, 2016

ब्रिटेन के चिकित्सक ने की जयललिता के स्वास्थ्य की जांच

ब्रिटेन के चिकित्सक ने की जयललिता के स्वास्थ्य की जांच

doctors-from-britain-examines-j-jayalalithaa-health

चेन्नई, 1 अक्टूबर: तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे.जयललिता के स्वास्थ्य की जांच ब्रिटेन से आए एक विशेषज्ञ चिकित्सक ने की। हालांकि इस बीच न तो राज्य सरकार और न ही अपोलो अस्पताल से उनके स्वास्थ्य को लेकर कोई आधिकारिक बयान आया है। जयललिता पिछले करीब एक सप्ताह से अपोलो अस्पताल में भर्ती हैं। उन्हें बुखार और शरीर में पानी की कमी के कारण 22 सितंबर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

ब्रिटिश चिकित्सक रिचर्ड जॉन बील ने शुक्रवार को अपोलो अस्पताल में जयललिता के स्वास्थ्य की जांच की। वह लंदन ब्रिज अस्पताल में कंसलटेंट इंटेनसिविस्ट हैं।

इस बीच, जयललिता के स्वास्थ्य को लेकर शहर तथा समाज के विभिन्न हिस्से में अफवाहों का बाजार गर्म हो गया है। लोग उनके स्वास्थ्य की विश्वसनीय व विस्तृत जानकारी की मांग करने लगे हैं।

अपोलो अस्पताल के अधिकारियों के अनुसार, जयललिता की हालत का बुलेटिन शनिवार को आ सकता है। शुक्रवार को कोई बुलेटिन नहीं जारी किया गया था।

इससे पहले अपोलो अस्पताल ने कहा था कि जयललिता का बुखार उतर गया है, पर उन्हें कुछ दिनों तक अस्पताल में रहने की आवश्यकता है।

हालांकि इस बीच जयललिता के हवाले से पार्टी की कई घोषणाएं होती रहीं।

विपक्षी दल द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री एम.करुणानिधि ने जयललिता के जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हुए कहा कि राज्य सरकार को उनके स्वास्थ्य से संबंधित अफवाहों पर विराम लगाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि चूंकि जयललिता की अध्यक्षता में कावेरी जल मुद्दे पर राज्य के अधिकारियों की बैठक हुई, ऐसे में राज्य सरकार को कम से कम अस्पताल की उनकी एक तस्वीर जारी करनी चाहिए।

Sep 25, 2016

भारतीय वायुसेना ने बाढ़ में फंसे 24 श्रमिकों को बचाया

भारतीय वायुसेना ने बाढ़ में फंसे 24 श्रमिकों को बचाया

indian-airforce-rescued-24-workers-by-helicopter-in-telangana-mendak

हैदराबाद, 25 सितम्बर: भारतीय वायुसेना ने रविवार को तेलंगाना के मेडक जिले में शनिवार से आई बाढ़ में फंसे 24 श्रमिकों को बचाया। भारी बारिश के कारण शनिवार शाम को बचाव अभियान में बाधा आ गई थी। रविवार सुबह फिर से बचाव अभियान शुरू कर दिया गया।

अधिकारियों ने कहा कि दो चेतक विमानों ने येदुपयाला में मंजीरा नदी में फंसे श्रमिकों को बचाया।

मध्यप्रदेश और ओडिशा के प्रवासी श्रमिक इलाके में तीन पुलों के निर्माण कार्य में लगे हुए थे।

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीम से यह सूचना मिलने के बाद कि नाव से बचाव कार्य संभव नहीं है, तेलंगाना विधानसभा के उपाध्यक्ष पद्म देवेंद्र रेड्डी और मेडक जिला जिलाधिकारी डी. रोनाल्ड रोस ने भारतीय वायुसेना से मदद मांगी।

Sep 23, 2016

चलती ट्रेन में 20 वर्षीय महिला को अकेली पाकर किया गैंगरेप

चलती ट्रेन में 20 वर्षीय महिला को अकेली पाकर किया गैंगरेप

20-year-women-gangrape-in-running-train-in-assam-tinsukia-district

गुवाहाटी, 23 सितम्बर: असम के तिनसुकिया जिले में रेलगाड़ी में एक 20 वर्षीय महिला के साथ दुष्कर्म करने के मामले में एक युवक को गिरफ्तार किया गया है, जबकि उसके दो साथियों की तलाश की जा रही है। यह जानकारी पुलिस ने दी है। पुलिस ने कहा कि यह घटना तिनसुकिया सीमा के पास बेंगलुरू-तिनसुकिया एक्सप्रेस में गुरुवार रात घटी। 

पुलिस के मुताबिक, "घरेलू नौकरानी के तौर पर बेगलुरू में काम करने वाली युवती दुर्गा पूजा के सिससिले में अपने घर (तिनसुकिया) लौट रही थी। एक विशेष डिब्बे में यात्रा कर रहे अधिकांश यात्री गुरुवार रात डिब्रूगढ़ स्टेशन पर उतर गए। डिब्बे में यात्रा कर रहे तीन युवकों ने उस युवती को रेलगाड़ी के शौचालय में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया।"

युवती ने शुक्रवार सुबह न्यू तिनसुकिया पहुंचने पर उसे लेने आए भाई को इस घटना के बारे में बताया। 

भाई ने स्टेशन पर राजकीय रेलवे पुलिस को सूचित किया, जिसके बाद एक आरोपी को पकड़ा गया।

युवती ने बाद में तीनों युवकों के खिलाफ औपचारिक शिकायत दर्ज कराई है। 

पुलिस ने कहा कि गिरफ्तार युवक प्रहलाद छेत्री ने अपराध में शामिल होने की बात स्वीकार कर ली है, लेकिन अपने दोनों साथियों के शामिल होने की बात से इनकार किया है। 
कर्नाटक विधान परिषद में तमिलनाडु को पानी नहीं देने का प्रस्ताव पारित

कर्नाटक विधान परिषद में तमिलनाडु को पानी नहीं देने का प्रस्ताव पारित

Karnataka-Legislative-Council-passed-resolution-to-ban-water-to-tamil-nadu

बेंगलुरू, 23 सितम्बर: कर्नाटक विधान परिषद ने शुक्रवार को कावेरी नदी का पानी तमिलनाडु को नहीं देने का प्रस्ताव पारित किया। यह प्रस्ताव एकमत से पारित किया गया। इसमें कहा गया है कि राज्य में पेयजल के लिए पानी की आवश्यकता है। सर्वोच्च न्यायालय के 20 सितम्बर के आदेश के असर पर चर्चा के लिए विधान परिषद के एक विशेष सत्र में यह प्रस्ताव पारित किया गया। शीर्ष न्यायालय ने कर्नाटक से 27 सितम्बर तक तमिलनाडु को प्रतिदिन 6,000 क्यूसेक पानी देने को कहा था।

इस मुद्दे पर चर्चा के बाद विधान परिषद ने एकमत से प्रस्ताव पारित किया, जिसके मुताबिक बांधों का पानी राज्य में पेयजल के लिए इस्तेमाल में लाया जाएगा और पानी तमिलनाडु को नहीं दिया जा सकता।
असम में 6 उग्रवादी ढेर, भारी हथियार बरामद

असम में 6 उग्रवादी ढेर, भारी हथियार बरामद

6-Militant-killed-in-assam-heavy-arms-and-weapons-recovered

गुवाहाटी, 23 सितम्बर: असम के पूर्वी कार्बी आंगलांग जिले में सैनिकों ने शुक्रवार को छह उग्रवादियों को मार गिराया। कार्बी आंगलांग के पुलिस अधीक्षक देबजोत देउरी ने कहा कि मारे गए सभी उग्रवादी कार्बी पीपुल लिबरेशन टाइगर्स या केपीएलटी-एस से संबद्ध थे। मुठभेड़ में एक जवान भी घायल हुआ है।

मारे गए उग्रवादियों के पास से एक इनसास राइफल, एक सेल्फ लोडिंग राइफल, तीन पिस्तौल और दो ग्रेनेड बरामद किए गए हैं।

देउरी ने कहा, "सेना की एक इकाई ने गुरुवार रात एक सुदूर इलाके में कार्रवाई की। उन्होंने कुछ संदिग्ध गतिविधियों को देखा। उग्रवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी, जो शुक्रवार को भी जारी रही।"

केपीएलटी-एस, केपीएलटी-एस से टूटकर अलग हुआ एक समूह है। यह समूह कार्बी आंगलांग जिले और आसपास के इलाकों में जबरन वसूली के मामलों में शामिल है।

Sep 21, 2016

केरल में 90 वर्ष की विधवा से रेप की शर्मनाक घटना

केरल में 90 वर्ष की विधवा से रेप की शर्मनाक घटना

90-year-old-women-raped-in-kollam-of-kerala-with-knife

Kollam (Kerala), Sep 21: केरल में इंसानियत को शर्मशार कर देने वाली शर्मनाक घटना सामने आयी है, खबर के अनुसार 90 वर्ष की विधवा महिला के साथ चाकू की नोक पर रेप किया गया है, महिला ने पुलिस में मामला दर्ज कराया है, इससे भी शर्मनाक यह है कि महिला कैंसर की मरीज है। 

महिला ने मीडिया से बताया कि यह घटना किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा अंजाम दी गयी है जो उसके घर से परिचित है, आरोपी उसके घर पर पीछे से दाखिल हुआ, यह कोई ऐसा व्यक्ति ही कर सकता है जो घर से भली भाँती परिचित हो। 

महिला ने बताया कि उन्होंने आरोपी से विनती भी की लेकिन वह नही माना और उसके साथ रेप किया। महिला ने आरोपी को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने और उसे कड़ी सजा देने की मांग की है। 

यह घटना पांच दिन पहले की बतायी जा रही है लेकिन कल इसके बारे में पता चला है। 

कोल्लम की पुलिस अफसर अजीथा बेगम ने मीडिया को बताया कि पुलिस अफसरों ने पीडिता का बयान ले लिया है, इस मामले में एक FIR फर्ज की गयी है, हम पीडिता के सभी रिश्तेदारों और मिलने जुलने वालों से बात करके आरोपी को जरूर गिरफ्तार कर लेंगे।