Showing posts with label Society. Show all posts
Showing posts with label Society. Show all posts

Sep 21, 2017

भारत पर पहला ह्यूमन राईट भारतीयों का है, अवैध घुसपैठिये रोहिंग्या का नहीं: राजनाथ सिंह

भारत पर पहला ह्यूमन राईट भारतीयों का है, अवैध घुसपैठिये रोहिंग्या का नहीं: राजनाथ सिंह

indians-more-human-right-on-india-not-illegal-rohingya-rajnath-singh

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह रोहिंग्या पर फुल एक्शन में आ गए हैं. राजनाथ सिंह ने रोहिंग्या मसले पर बोलते हुए कहा है कि भारत के अन्दर जो रिसोर्सेज हैं, इन पर हर भारतीयों का पहला हक है, इसलिए हर भारतीय के ह्यूमन राईट का संरक्षण करना हमारा पहला कर्त्तव्य है.

उन्होंने कहा कि कई बार मानवाधिकारों के नाम पर ऐसी चीजों को बढ़ावा दिया जाता है जिससे भारतीय और भारतीयता दोनों ही खतरे में पड़ने का अंदेशा पैदा हो जाता है. दूसरों के मानवाधिकारों की चिंता करने से पहले हमें अपने हितों की चिंता करनी है और उनका संरक्षण करना है, इस ओर भी हमें विशेष ध्यान रखना पड़ेगा. 

राजनाथ सिंह ने कहा कि आज भारत वर्ष में भी ह्यूमन राईट की चर्चा फिर से तेज हो गयी है. कुछ लोग जो भारत के अन्दर अवैध तरीके से घुस आये हैं अब उनको लेकर मानवाधिकारों की बात हो रही है, 

राजनाथ सिंह ने कहा कि हमने सुप्रीम कोर्ट में जो एफिडेविट करना था कर दिया है. म्यांमार से भारत घुस आये ये रोहिंग्या रिफ्यूजी नहीं हैं इस सच्चाई को हमें समझना होगा. रिफ्यूजी स्टेट्स प्राप्त करने के लिए एक प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है और हमारे यहाँ रह रहे अवैध प्रवासियों में से किसी ने भी उस प्रक्रिया को अपनाया नहीं है. उन्होंने कहा कि रोहिंग्या लोगों को भारत से डिपोर्ट करके भारत किसी भी अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कानून का उल्लंघन नहीं करेगा क्योंकि वह 1951 के UN रिफ्यूजी कन्वेंशन का भी सिग्नेटरी नहीं है.

राजनाथ सिंह ने कहा कि कुछ लोग तर्क देते हैं कि हम इंटरनेशनल लॉ का उल्लंघन कर रहे हैं, ऐसा कुछ नहीं है, इंटरनेशनल लॉ का कहीं पर कोई उल्लंघन नहीं है, क्योंकि UN रिफ्यूजी कन्वेंशन के हम सिग्नेटरी नहीं हैं.

उन्होंने कहा कि किसी भी रोहिंग्या ने भारत में Asylum नहीं लिया है और ना ही किसी ने आज तक इसकी एप्लीकेशन दी है. इसलिए ह्यूमन राईट का हवाला लेकर अवैध अप्रवासी को रिफ्यूजी बताने की गलती नहीं करनी चाहिए. कोई भी स्वतंत्र देश इस बात के लिए स्वतंत्र है कि वह अवैध प्रवासियों पर एक्शन ले सकता है.

राजनाथ सिंह ने कहा कि रोहिंग्या समुदाय के घुसपैठ का एक पक्ष नेशनल सिक्यूरिटी से भी जुड़ा है, इस हकीकत को भी लोगों को समझना चाहिए. इन सारी बातो के बावजूद भी हम लोगों ने रोहिंग्या समुदाय के लोगों को बंगलादेश में मानवीय सहायता प्रदान की है. हमने मानवाधिकार को ध्यान में रखते हुए जितनी भी सहायता दी जा सकती है हमने दी है.

उन्होंने कहा कि अभी कुछ ही दिन पहले हमारे प्रधानमंत्री ने म्यांमार की राजनेता सू ची ने रोहिंग्या लोगों को वापस लेने का बयान दिया है इसलिए अगर भारत को डिपोर्ट करता है तो लोगों को क्या आपत्ति है, बर्मा लोगों को लेने के लिए तैयार है. मुझे पूरा विश्वास है कि बर्मा इस मामले में कोई ठोस कदम उठाएगा.
रोहिंग्या की असलियत बताकर छा गए राजनाथ सिंह, हर कोई कर रहा तारीफ लेकिन स्लीपर सेल परेशान

रोहिंग्या की असलियत बताकर छा गए राजनाथ सिंह, हर कोई कर रहा तारीफ लेकिन स्लीपर सेल परेशान

rajnath-singh-said-rohingya-not-refugee-but-illegal-immigrants

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह सोशल मीडिया पर छा गए हैं. कल उन्होंने रोहिंग्या मुसलामानों की असलियत बता दी जिसके बाद स्लीपर सेल के लोग परेशान हो गए. आपको बता दें कि स्लीपर सेल के लोग रोहिंग्या मुसलमानों की हर संभव मदद कर रहे हैं. उनके लिए रहने, खाने का इंतजाम कर रहे हैं. जहाँ जहाँ भी रोहिंग्या का डेरा लगा है वहां पर बिजली, पानी और खाना भी पहुँच रहा है. भारत में आतंकवादियों के स्लीपार सेल इनके साथ हैं ताकि मौका मिलते ही इन्हें आतंकी गतिविधियों में शामिल करके अपना काम निकाल सकें.

कल ह्यूमन राईट से सम्बंधित के कार्यक्रम में बोलते हुए राजनाथ सिंह ने रोहिंग्या मुसलमानों की असलियत ही बता दी. उन्होंने कहा कि रोहिंग्या लोग भारत में अवैध तरीके से घुस आये हैं और कुछ लोग उनको लेकर मानवाधिकारों की बात कर रहे हैं.

राजनाथ सिंह ने कहा कि हमने सुप्रीम कोर्ट में जो एफिडेविट करना था कर दिया है. म्यांमार से भारत घुस आये ये रोहिंग्या रिफ्यूजी नहीं हैं इस सच्चाई को हमें समझना होगा. रिफ्यूजी स्टेट्स प्राप्त करने के लिए एक प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है और हमारे यहाँ रह रहे अवैध प्रवासियों में से किसी ने भी उस प्रक्रिया को अपनाया नहीं है. उन्होंने कहा कि रोहिंग्या लोगों को भारत से डिपोर्ट करके भारत किसी भी अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार कानून का उल्लंघन नहीं करेगा इसलिए हम उन्हें डिपोर्ट करके रहेंगे और भारत की सुरक्षा के लिए यह जरूरी भी है.
धाकड़ मंत्री गिरिराज सिंह बोले, आतंक की बीमारी नहीं चाहिए, हम करेंगे रोहिंग्या को ALL OUT

धाकड़ मंत्री गिरिराज सिंह बोले, आतंक की बीमारी नहीं चाहिए, हम करेंगे रोहिंग्या को ALL OUT

giriraj-singh-said-we-will-all-out-rohingya-muslims-from-india

मोदी सरकार में केन्द्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह ने रोहिंग्या मामले पर बड़ा बयान दिया है. कल वे सुदर्शन न्यूज़ के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि भारत सरकार से साफ़ साफ़ कह दिया है कि रोहिंग्या शरणार्थी भारत की आन्तरिक सुरक्षा के लिए खतरा हैं, इनके पूर्व में आतंकियों के साथ सम्बन्ध रहे हैं, पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन इन्हें भारत के खिलाफ इस्तेमाल करके इनके जरिये हिंसा करवा सकते हैं, ऐसे में इनका भारत में रहना खतरनाक है.

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार की नीति विल्कुल श्पष्ट है, भारत पहले से ही घुसपैठियों का भार झेलता रहा है, अब रोहिंग्या मुसलमान भी गैरकानूनी तरीके से भारत में घुसपैठ कर चुके हैं, ये हमारी आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा हैं इसलिए हम इन्हें देश में नहीं रख सकते, इनकी वजह से देश में कई आतंकवादी गतिविधियाँ देखने को मिली हैं.

उन्होंने कहा कि इनका समर्थन आतंकवादी मसूद अजहर भी कर रहा है, आतंकी हफीज सईद भी कर रहा है, इनको पाकिस्तान चले जाना चाहिए, यह दुर्भाग्य है कि भारत के भी कुछ नेता रोहिंग्या का समर्थन कर रहे हैं. रोहिंग्या लोगों को पाकिस्तान के आतंकवादी नेताओं का समर्थन मिला है. ये भारत के लिए बहुत खतरनाक हैं इसलिए हम इन्हें भारत में कदापि नहीं रहने देंगे.
प्रेम शुक्ला ने प्रियंका चतुर्वेदी को बोला 'रूपजीवा' तो प्रियंका बोलीं 'मुझे वैश्या बोल दिया'

प्रेम शुक्ला ने प्रियंका चतुर्वेदी को बोला 'रूपजीवा' तो प्रियंका बोलीं 'मुझे वैश्या बोल दिया'

priyanka-chaturvedi-is-slut-prem-shukla-call-her-roopjeewa-meaningco

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने कांग्रेस की महिला प्रवक्ता प्रवक्ताओं के लिए रूपजीवा शब्द का इस्तेमाल किया है जिसकी वजह से कांग्रेस बौखला गयी है और बीजेपी से प्रेम शुक्ला पर कार्यवाही की मांग की है. बात दरअसल ये है कि राहुल गाँधी इस वक्त अमेरिका यात्रा पर हैं और वहां पर मोदी सरकार के खिलाफ बयान दे रहे हैं. इसी को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने News 24 TV Online पर एक ब्लॉग लिखा, जिसका टाइटल था कि 'राहुल गाँधी की अमेरिका यात्रा से बौखला गयी है बीजेपी.

priyanka-chaturvedi-news-in-hindi

इसके जवाब में बीजेपी प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने लिखा कि - बौखलाहट तो कांग्रेस और उनकी रूपजीवा प्रवक्ताओं का प्रकट हो रहा है.
what-is-roopjeeva

वैसे तो रूपजीवा सामान्य शब्द लग रहा है लेकिन इसका मतलब कुछ अलग है, प्रियंका चतुर्वेदी ने तुरंत ही इन्टरनेट पर रूपजीवा का मतलब ढूँढा तो उत्तर आया - वैश्या. मतलब प्रेम शुक्ला ने प्रियंका चतुर्वेदी के लिए रूपजीवा यानी Slut यानी वैश्या शब्द का इस्तेमाल किया था. इसके तुरंत बाद प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि बीजेपी नेता बहुत फ्रस्ट्रेट हो गए हैं और मुझे Slut बोल रहे हैं. उन्होने नरेन्द्र मोदी और अमित शाह से प्रेम शुक्ल के खिलाफ एक्शन लेने की मांग की है. 
meaning-of-roopjiva-in-hindi

राज ठाकरे पहली बार फेसबुक पर हुए LIVE, बोले, इसके इस्तेमाल में हम क्यों पीछे रहें

राज ठाकरे पहली बार फेसबुक पर हुए LIVE, बोले, इसके इस्तेमाल में हम क्यों पीछे रहें

raj-thackeray-live-on-facebook-page-twitter-trend-rajthackerayonfb

महाराष्ट्र के कद्दावर और दबंग नेता राज ठाकरे भी आज फेसबुक पर आ गए. वे पहली बार फेसबुक पर LIVE हुए और अपने समर्थकों को सन्देश दिया. उन्होंने कहा कि आजकल हर कोई फेसबुक और ट्विटर का इस्तेमाल करके संदेशों का आदान प्रदान करते हैं. हम काफी दिनों से राजनीति में एक्टिव हैं लेकिन सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं करते थे, कई लोगों ने मुझसे कहा कि आप भी फेसबुक और ट्विटर का इस्तेमाल करके अपनी पार्टी को आगे बढ़ाओ, इसके बाद मैंने तय किया कि मुझे भी फेसबुक के इस्तेमाल में पीछे रहूँ इसलिए मैं LIVE हो गया.

राज ठाकरे ने कहा कि आज के जमाने में संदेशों का आदान प्रदान करने और पार्टी का प्रचार करने के लिए बहुत सारा पैसा खर्च करना पड़ता है, टीवी, अख़बारों में प्रचार में करोड़ों रुपये खर्च करने पड़ते हैं, कई लोगों ने मुझसे कहा कि आप अपना समाचार पत्र शुरू करो, किसी ने कहा कि मीडिया शुरू करो और कई अन्य ने कहा कि आप फेसबुक और ट्विटर पर अपना पेज शुरू करो और LIVE होकर अपना विचार रखना शुरू कर दो.

राज ठाकरे ने कहा कि इसीलिए मैंने तय किया है कि अब हम भी सोशल मीडिया का इस्तेमाल करेंगे, ट्विटर और फेसबुक पर एक्टिव रहेंगे और अपने कामों के बारे में जनता को अवगत कराते रहेंगे. राज ठाकरे ने फेसबुक पर करीब 1 घंटे तक LIVE भाषण दिया. उनका भाषण ट्विटर पर भी ट्रेंड करने लगा.
धर्म के आधार पर कांग्रेस ने ही किया था देश का बंटवारा,  अब राहुल गाँधी कर रहे बड़ी बड़ी बातें

धर्म के आधार पर कांग्रेस ने ही किया था देश का बंटवारा, अब राहुल गाँधी कर रहे बड़ी बड़ी बातें

rahul-gandhi-forgot-congress-divide-india-and-pakistan-for-religion

कल अमेरिका के टाइम स्क्वायर के एक होटल में भाषण देते हुए राहुल गाँधी ने बड़ी बड़ी बातें की. उन्होंने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि उनकी वजह से असहिष्णुता बढ़ रही है. भारत की हार्मोनी यानी सामाजिक समरसता ख़त्म होती जा रही है, कुछ ताकतें देश को बांटने पर लगी हुई हैं. जब कांग्रेस थी तो लोग मिल जुलकर रहते थे, कांग्रेस देश की 130 वर्ष पुरानी पार्टी है लेकिन हमारी विचारधारा 1000 साल पुरानी है.

अब सवाल यह उठता है कि अगर कांग्रेस सरकार में हिन्दू और मुस्लिम मिल जुलकर रहते हैं तो 1947 में कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश का बंटवारा क्यों किया. कांग्रेस ने हिन्दू और मुस्लिम के आधार पर हिंदुस्तान और पाकिस्तान क्यों बनाया और उस बंटवारे में लाखों लोगों का कत्लेआम क्यों होने दिया. कांग्रेस की वजह से ही आज हिंदुस्तान और पाकिस्तान कट्टर दुश्मन हैं और आपस में लड़ रहे हैं, कांग्रेस की वजह से ही भारत आतंकवाद का शिकार है क्योंकि अगर ये लोग हिंदुस्तान और पाकिस्तान का बंटवारा ना करते तो ना बनता पाकिस्तान और ना होता आतंकवाद क्योंकि पाकिस्तान भारत से कश्मीर छीनने के लिए आतंकवाद फैला रहा है. अगर उसे कश्मीर मिल जाएगा तो आतंकवाद कम हो जाएगा.

राहुल गाँधी ने कहा कि मुझसे अमेरिका के लोग पूछते हैं कि भारत में हार्मोनी क्यों ख़त्म होती जा रही है, पहले तो लोग मिल जुलकर रहते थे, राहुल गाँधी से सवाल यह है कि बंगाल, केरल और कश्मीर में हिन्दुओं को क्यों मारा जा रहा है. राहुल गाँधी इन राज्यों में हिन्दुओं के खिलाफ हो रहे अन्याय को विदेशों में क्यों नहीं उठाते.

राहुल गाँधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी 130 साल पुरानी पार्टी है. हम किसी संस्था का प्रतिनिधि नहीं करते, हम ऐसी विचारधारा का प्रतिनिधि करते हैं जो 1000 साल पुरानी है. हमारे यहाँ कई धर्म के लोग हैं, कई भाषाएँ हैं, सभी लोग मिल जुलकर रहते हैं. यह सिर्फ कांग्रेस की विचारधारा की वजह से होता है.

राहुल गाँधी ने कहा कि अब हमसे लोग सवाल पूछ रहे हैं कि भारत की हार्मोनी को क्या हो रहा है. मैंने अमेरिका में कई जगह भाषण दिया, कई जगह लोगों से बात की, सभी लोगों ने हमसे सिर्फ यही पूछा कि भारत की हार्मोनी को क्या हो रहा है.

अब राहुल गाँधी से सबसे बड़ा सवाल यह है कि जब कांग्रेस की विचारधारा इतनी अच्छी है तो 1984 में इंदिरा गाँधी ही हत्या के बाद कांग्रेस ने सिखों का कत्लेआम क्यों करवाया, अगर कांग्रेस की विचारधारा 1000 साल पुरानी है तो मुगलों ने भारत पर आक्रमण क्यों किया, यहाँ के राजाओं की सत्ता क्यों स्वीकार नहीं की, हिन्दू राजाओं को क्यों ख़त्म किया गया. अगर कांग्रेस की विचारधारा इतनी अच्छी है तो भारत 1000 वर्षों तक गुलाम क्यों रहा, कहीं कांग्रेस की विचारधारा गुलामी की विचारधारा तो नहीं है.

Sep 20, 2017

म्यांमार के सबसे नजदीक है चीन लेकिन रोहिंग्या वहां नहीं जा रहे, क्योंकि तुरंत ठोंकेगा चीन

म्यांमार के सबसे नजदीक है चीन लेकिन रोहिंग्या वहां नहीं जा रहे, क्योंकि तुरंत ठोंकेगा चीन

why-not-rohingya-muslims-went-china-from-myanmar-instead-india

रोहिंग्या को म्यांमार से पिछले एक महीनें से भगाया जा रहा है. करीब 4 लाख रोहिंग्या मुस्लिम बांग्लादेश और भारत की तरफ भागकर आये हैं, करीब 3 लाख रोहिंग्या बांग्लादेश में शरण मांग रहे हैं जबकि 1 लाख भारत में घुस गए हैं जिनमें से 40 हजार लोगों का ही पता ठिकाना मालूम है, बाकी के रोहिंग्या भारत की भीड़ में शामिल हो गए है और अब इनका पता लगाना मुश्किल है.

रिपोर्ट से पता चल रहा है कि रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार से पहले बंगलदेश आये, उसके बाद वहां के कुछ एजेंटों को पैसा देकर भारत में घुसपैठ कर ली, अब ये लोग भारत में झुग्गियां बनाकर सेटल हो गए हैं, यह भी खबर आ रही है कि भारत में रहने वाले स्लीपर सेल रोहिंग्या की मदद कर रहे हैं और इनके रहने, खाने का इंतजाम कर रहे हैं.

हैरानी की बात तो यह है कि रोहिंग्या लोग 2000 किलोमीटर चलकर भारत आ गए लेकिन 200 किलोमीटर चलकर चीन नहीं पहुंचे, कायदे से कहें तो इन्हें जान बचाने के लिए चीन की तरफ भागना था क्योंकि वहां का बॉर्डर काफी नजदीक है लेकिन इन लोगों ने ऐसा नहीं किया क्योंकि चीन जाते ही इन्हें ठोंक दिया जाता. चीन इन्हें शरण देने के बजाय गोली मार देता इसलिए ये लोग वहां नहीं गए बल्कि भारत आ गए.

ये लोग जानते थे कि भारत में इन्हें आसानी से मदद मिल जाएगी क्योंकि कट्टर मुस्लिम नेता और सेक्युलर लोग इन्हें अपना वोट-बैंक बनाने के लिए इन्हें जरूर अपने इलाकों में बसा देंगे और अगर इनके लिए लड़ना भी पड़ा तो वे लड़ेंगे, सुप्रीम कोर्ट जाना पड़ेगा तो वहां जाएंगे. इनकी हर तरह से मदद करेंगे. रोहिंग्या का अनुमान सही था क्योंकि भारत में इन्हें मदद मिल रही है, इन्हें हर सुविधा मिल रही है. स्लीपर सेल एक्टिव हो गए हैं और इन्हें बिजली, पानी, खाना और अन्य चीजें पहुंचा रहे हैं, इनके लिए सुप्रीम कोर्ट में केस लड़ा जा रहा है.
10 साल के लिए जेल जा सकते हैं DUDU के अध्यक्ष रॉकी तुसीद, दिल्ली हाई कोर्ट ने जमकर फटकारा

10 साल के लिए जेल जा सकते हैं DUDU के अध्यक्ष रॉकी तुसीद, दिल्ली हाई कोर्ट ने जमकर फटकारा

dusu-president-rocky-tuseed-may-sentenced-10-year-jail-said-hc

हाल ही में दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्र संघ के चुनाव में NSUI की जीत हुई थी, अध्यक्ष पद पर काबिज होने वाले रॉकी तुसीद और उनके साथियों के लिए बुरी खबर है क्योंकि दिल्ली हाई कोर्ट ने उन्हें जमकर फटकार लगाते हुए 10 साल के लिए जेल भेजने की चेतावनी दी. आज कोर्ट ने इन लोगों को तलब भी किया था लेकिन ये लोग कोर्ट भी नहीं पहुंचे.

आपको बता दें कि छात्र संघ चुनाव के प्रचार में रॉकी तुसीद और उनके साथियों ने दिल्ली यूनिवर्सिटी की सरकार दीवारों पर पोस्टर चिपका दिए और उन्हें बर्बाद कर दिया. इसी सिलसिले में आज दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई थी और रॉकी तुसीद और उनके साथियों को कोर्ट ने तलब किया था. कोर्ट के तलब करने के बाद भी ये लोग वहां नहीं पहुंचे जिसके बाद कोर्ट को गुस्सा आ गया और इन्हें जमकर फटकार लगा दी.

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि तुम लोगों ने सरकारी संपत्ति पर पोस्टर लगाकर उन्हें नुकसान पहुंचाया है इसलिए अब तुम लोग ही उसे साफ़ सुथरा बनाओ, वहां से पोस्टर हटाओ और दीवारों को पहले जैसा बनाओ, अगर तुम लोगों ने यह काम नहीं किया तो 10 साल की सजा हो सकती है.

कोर्ट ने रॉकी के वकील से यह भी पूछा कि तुम लोग सरकारी संपत्ति को साफ़ करने के लिए क्या स्टेप लेने वाले हो, यह दुर्भाग्य है कि तुम लोग इसे हलके में ले रहे हो. सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुँचाना हिंसा के बराबर है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि चुनावों में नेता लोग सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं, जगह जगह दीवारों पर पोस्टर चिपका देते हैं, बाद में इन पोस्टरों को छुड़ाने और दीवारों पर पेंट करने में लाखों रुपये सरकार के लगते हैं लेकिन दिल्ली हाई कोर्ट ने कह दिया है कि जो भी सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाएगा उसे ही भरपाई करनी पड़ेगी.
रोहिंग्या का केस लड़कर उनसे करोड़ों रुपये वसूल रहे हैं प्रशांत भूषण, खूब कमा रहे हैं पैसे

रोहिंग्या का केस लड़कर उनसे करोड़ों रुपये वसूल रहे हैं प्रशांत भूषण, खूब कमा रहे हैं पैसे

prashant-bhushan-fighting-case-of-rohingyas-in-india-news-hindi

सुप्रीम कोर्ट के मशहूर वकील प्रशांत भूषण का नाम एक बार फिर से सुर्ख़ियों में है क्योंकि वे रोहिंग्या मुसलमानों की तरफ से पैरवी कर रहे हैं. प्रशांत भूषण की करोड़ों रुपये की कमाई हो रही है क्योंकि वे ऐसे केस लड़ते हैं जिसे लेने की बड़े बड़े वकीलों में हिम्मत नहीं होती, ऐसा करके प्रशांत भूषण एक दो केसों में ही करोड़ों रुपये कमा लेते हैं. छोटे मोटे केस लड़ने में लाखों की कमाई होती है लेकिन रोहिंग्या जैसे मामलों में एक ही झटके में करोड़ों की कमाई होती है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्रशांत भूषण इस समय देश के सबसे बड़े क्रिमिनल लायर में से एक हैं. इससे पहले राम जेठमलानी सबसे बड़े क्रिमिनल लायर थे लेकिन अब उनकी जगह प्रशांत भूषण ने ले ली है. ये लोग बहुत मौका परस्त होते हैं. विवादित केसों को ढूंढते रहते हैं ताकि एक ही झटके में करोड़ों रुपये कमा लिए जाँय.

जानकारी मिल रही है कि भारत में करीब 40 हजार रजिस्टर्ड रोहिंग्या मुस्लिम रहते हैं जबकि पांच छः लाख गैरकानूनी तरीके से रहते हैं, वकीलों के खर्चे के लिए सभी लोग चंदा दे रहे हैं, रोजाना करोड़ों रुपये इकठ्ठा करके वकीलों को दिए जा रहे हैं ताकि सुप्रीम कोर्ट में रोहिंग्या केस जीत जाँय और उन्हें भारत से भगाया ना जाय. अब देखना है कि प्रशांत भूषण उन्हें बचा पाते हैं या करोड़ों रुपये खाकर उन्हें निराश करते हैं.
मोबाइल पर कब्ज़ा करने के बाद अब चीन करेगा कंप्यूटर पर भी कब्ज़ा, UC Browser दे रहा 5000 का लालच

मोबाइल पर कब्ज़ा करने के बाद अब चीन करेगा कंप्यूटर पर भी कब्ज़ा, UC Browser दे रहा 5000 का लालच

uc-on-pc-contest-china-capturing-computer-after-mobile-india

चाइना ने धीरे धीरे भारत के सभी मोबाइल फोन पर कब्जा कर लिया है. लगभग लगभग UC मोबाइल App सभी भारतीयों ने अपने मोबाइल में डाउनलोड कर लिया है और उसी पर ख़बरें वगैरह पढ़ते हैं. कुछ लोग तो यह भी कह रहे हैं कि चीन UC App से ही भारतीयों की जासूसी कर रहा है डाटा चुरा रहा है लेकिन अब तक इसका कोई सबूत नहीं मिला है.

अब चीन ने UC PC Browser भी बना दिया है और भारत में लांच भी कर दिया है. चीन सभी भारतीयों को UC Browser अपने कंप्यूटर पर डाउनलोड करने और उसे लगातार इस्तेमाल करने के लिए 5000 रुपये का लालच दे रहा है.

UC वालों का कहना है कि UC PC Browser को अपने कंप्यूटर पर डाउनलोड करें और उसके बाद एक्टिविटी पेज पर जाएं और वहां पर Quiz Code को सबमिट करें. उसके बाद इसे शेयर करके अपने दोस्तों को भी बताएं मतलब China की तरफ से अपने दोस्तों को भी यही लालच दें. शेयर करने के बाद आपको चीन 5000 रुपये दे सकता है. चीन बहुत चालाक है लेकिन यह भी डर है कि कहीं हमारा डाटा, बैंक की जानकारी और पासवर्ड चोरी ना हो जाएं क्योंकि गूगल क्रोम और मोज़िला ने आजतक किसी को धोखा नहीं दिया है जबकि चीन तो पाकिस्तानी आतंकवादियों का समर्थन करता है.
ऐसे ही विदेश में घूम घूम कर भाषण देते रहे तो राहुल कभी नहीं बन पाएंगे प्रधानमंत्री, पढ़ें क्यों

ऐसे ही विदेश में घूम घूम कर भाषण देते रहे तो राहुल कभी नहीं बन पाएंगे प्रधानमंत्री, पढ़ें क्यों

congress-exposing-congress-party-in-foreign-by-nonsense-speech

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी इस वक्त खुद को ग्लोबल लीडर दिखाने के लिए अमेरिका में घूम घूम कर भाषण दे रहे हैं लेकिन वे अंजानें में कांग्रेस पार्टी और अपनी ही पोल खोल रहे हैं, हमारे विचार से अगर राहुल गाँधी ऐसे ही विदेश में घूम घूम कर भाषण करते रहे तो वह जिन्दगी में कभी भी प्रधानमंत्री नहीं बन पाएंगे और कांग्रेस पार्टी केंद्र में कभी वापसी नहीं कर पाएगी क्योंकि दुनिया समझ जाएगी कि राहुल गाँधी के अन्दर क्या योग्यता है, वैसे भी राहुल गाँधी के कमान संभालने के बाद कांग्रेस पार्टी पूरे देश से समाप्त हो गयी है और सिर्फ 3-4 राज्यों में उसकी सरकार है.

आपको बता दें कि दुनिया राहुल गाँधी का भारत को लेकर विजन जानना चाहती है, दुनिया जानना चाहती है कि राहुल गाँधी भारत को कैसे बदल सकते हैं, उनके मन में क्या प्लान है लेकिन राहुल गाँधी कुछ भी नहीं पता पा रहे हैं, वे सिर्फ मोदी सरकार की बुराई कर रहे हैं और अपना कोई भी अजेंडा नहीं समझा पा रहे हैं.

कल राहुल गाँधी ने अमेरिका की Princeton University में भाषण दिया और छात्रों से सवाल जवाब किया. वहां पर उनसे इंडिया के Transformation पर सवाल पूछा गया, उन्होंने आजादी के समय 1947 से शुरू किया और सीधा 1991-92 में कूद गए, बीच के 40 साल पर उन्होंने कोई बात नहीं की.

उन्होने कहा कि हमने पहले धीरे धीरे शुरुआत की और भारत को आगे बढ़ाया लेकिन हमारे लिए 1991-92 महत्वपूर्ण है क्योंकि हमने अपनी इकॉनमी को ओपन किया. उसके बाद हमें ग्रीन रेवोलुशन किया, वाइट रेवोलुशन किया, बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया, इन सभी ने इंडिया का आर्थिक सशक्तिकरण किया.

1991 के बाद की बात करते हुए उन्होंने कहा कि एशिया के दो ताकतवर देश हैं, इंडिया और चाइना. एक डेमोक्रेटिक और फ्री है जबकि दूसरा कंट्रोल्ड है. उन्होने कहा कि अब हमारे सामने परेशानी यह है कि हम रूरल इकॉनमी को अर्बन इकॉनमी के कैसे बदलें. अब हमारे सामने सवाल है कि भारत के लोगों को जॉब कैसे दें क्योंकि जब हम लोगों को रोजगार नहीं दे सकते तो हम विजन भी बना सकते.

उन्होंने कहा कि आज हम चाइना से प्रतिस्पर्धा नहीं कर पा रहे हैं, उनका विकास हमसे तेज है, उनका विजन क्लियर है जबकि हमारा नहीं है. चाइना ने पिछले 20-25 साल में बहुत तेजी से आर्थिक विकास किया है.

आपको बता दें कि पिछले 10 साल तक देश में कांग्रेस की सरकार थी इसके बाद भी अगर इंडिया चाइना से पीछे है तो इसकी जिम्मेदारी कांग्रेस सरकार पर बनती है क्योकि मोदी सरकार ने पांच महीनें बाद ही विकास की रफ़्तार चाइना से तेज कर दी थी, GDP के मामले में चाइना हमसे पीछे हो गया था. उसके बाद नोटबंदी और GST लागू की गयी जिसकी वजह से GDP में गिरावट आयी है लेकिन भारत की विकास अभी भी कांग्रेस सरकार से तेज है.
अर्नब गोस्वामी ने रोहिंग्या को भारत में शरण की मांग करने वाले कश्मीरी मुस्लिम को जमकर हड़काया

अर्नब गोस्वामी ने रोहिंग्या को भारत में शरण की मांग करने वाले कश्मीरी मुस्लिम को जमकर हड़काया

arnab-goswami-slamss-irfan-hafeez-lone-on-rohingya-muslim-issue

अगर आपको याद ना हो तो बता दें, कश्मीर से करीब 6 लाख हिन्दू पंडितों और सिखों को कश्मीरी मुसलमानों और जिहादियों ने भगा दिया गया था, उनका कत्लेआम कर दिया गया था, हिन्दुओं की बहन बेटियों की अस्मत से खिलवाड़ किया गया था. लाखों लोगों को मार दिया गया, लाखों लोगों को भगा दिया गया, उन्हें जम्मू और दिल्ली के शरणार्थी शिविरों में रखा गया जिनका आज तक कश्मीर में विस्थापन नहीं किया गया है.

अब वही कश्मीरी मुसलमान जिहादी जिन्होंने हिन्दुओं को कश्मीर से भगा दिया, वे रोहिंग्या मुसलमान शरणार्थियों के लिए रो रहे हैं, उन्हें भारत में शरण देने की मांग कर रहे हैं, अब ये इंसानियत की माला जप रहे हैं लेकिन जब इन्होने कश्मीर से हिन्दुओं को भगाया था तो इनकी इंसानियत मर गयी थी लेकिन रोहिंग्या मुसलमान हैं इसलिए इनके अन्दर की इंसानियत फिर से जाग गयी है.

इन्हीं जिहादियों के एक नेता इरफ़ान हफीज लोन आज रिपब्लिक टीवी पर रोहिंग्या मुसलमान शरणार्थियों की पैरवी कर रहे थे और अर्नब गोस्वामी उनसे डिबेट कर रहे थे. इरफ़ान हफीज लोन ने कहा कि रोहिंग्या मुसलमान इंसान हैं इसलिए भारत को उन्हें शरण देना चाहिए.

इसके बाद अर्नब गोस्वामी ने उन्हें हडका दिया. गोस्वामी ने इरफ़ान से पूछा कि क्या तुम इंडियन हो, क्या तुम भारत के संविधान को मानते हो. उन्होंने इरफ़ान से कई बार पूछा कि क्या तुम इंडियन हो, बोलो, क्या तुम इंडियन हो, इरफ़ान ने उनकी बात का जवाब नहीं किया क्योंकि कश्मीर के जिहादी खुद को इंडियन नहीं बोलते.

इसके बाद अर्नब गोस्वामी ने उनसे कहा कि जब तुम लोग खुद को इंडियन नहीं मानते, भारतीय संविधान को नहीं मानते तो तुम लोग किस आधार पर रोहिंग्या के लिए भारत से मदद मांग रहे हो. तुम तो भारतीय हो ही नहीं और भारत पर अपना हक जता रहे हो. पहले भारतीय बनो फिर भारत पर हक जताओ. भारत को जो करना है करेगा, रोहिंग्या को भारत में रखे या भगाए ये भारत सरकार की मर्जी. अर्नब गोस्वामी से इरफ़ान ने पूछा कि तुम कौन हो तो अर्नब गोस्वामी ने कहा कि मैं इंडियन हूँ और गर्व से कहता हूँ कि मैं इंडियन हूँ.

Sep 19, 2017

लोग बोले, रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने की मांग करने वालों की जब्त करो संपत्ति, फिर करो मदद

लोग बोले, रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने की मांग करने वालों की जब्त करो संपत्ति, फिर करो मदद

sumitra-mahajan-statement-supported-on-social-media-on-rohingyas

रोहिंग्या मुसलमान शरणार्थियों के मामले पर आज लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन से धमाकेदार बयान दिया है. उन्होंने कहा कि भारत रोहिंग्या मुस्लिमों का बोझ नहीं सक सकता, उन्होंने मीडिया से पूछा, आप लोग रोहिंग्या मुस्लिमों के बारे में जानते हो, क्या आप उनका बोझ उठा सकते हैं, उनकी बात सुनकर मीडिया की बोलती बंद हो गयी.

सुमित्रा महाजन के बयान का सोशल मीडिया पर लोग पूरा समर्थन कर रहे हैं, लोगों ने कहा कि सुमित्रा महाजन ने विल्कुल सही कहा है, कुछ लोगों ने यह भी कहा कि जो भी रोहिंग्या का समर्थन करता है वो पहले अपनी सारी संपत्ति सरकार को दान करो फिर रोहिंग्या का समर्थन करो. कुछ लोगों ने यह भी कहा कि रोहिंग्या के खाने, रहने, कपडे और दवा का खर्चा मीडिया को उठाना चाहिए.

rohingya-muslim-issue-in-hindi

आपको बता दें कि भारत में करीब 40 हजार रोहिंग्या मुसलमान अवैध तरीके से रहते हैं, भारत इन्हें देश से बाहर निकालने की तैयारी कर रहा है क्योंकि इन्होने गैर-कानूनी तरीके से भारत में एंट्री मारी है. विपक्षी दलों के नेता रोहिंग्या को बड़े वोट-बैंक के रूप में देख रहे हैं इसलिए इनका समर्थन कर रहे हैं.
भाई इकबाल को अरेस्ट करवाकर आतंकी दाऊद ने बनाया है भारतीयों से अरबों रुपये कमाने का महाप्लान

भाई इकबाल को अरेस्ट करवाकर आतंकी दाऊद ने बनाया है भारतीयों से अरबों रुपये कमाने का महाप्लान

why-iqbal-kaskar-arrested-before-haseena-parkar-movie-release

आतंकी दाऊद इब्राहीम बहुत चालाक इंसान है, उसनें अपने भाई इकबाल कासकर को जान बूझकर गिरफ्तार करवाया है और ऐसा करके वह अरबों रुपये कमाना चाहता है और अगर हम उसकी साजिश को समझ नहीं सके तो वह हमसे ही अरबों रुपये कमाकर पाकिस्तान में ऐश करेगा.

आपको बता दें कि कल दाऊद इब्राहीम के भाई इकबाल कासकर को मुंबई पुलिस के स्पेशल पुलिस अधिकारी प्रदीप मिश्रा ने गिरफ्तार किया था, इस देश के लोगों को पता भी नहीं रहा होगा कि दाऊद का कोई भाई मुंबई में रहता है और खुलेआम यहाँ की सड़कों पर घूमता है लेकिन अब पता चल गया है क्योंकि कल उसे गिरफ्तार किया गया.

इससे भी हैरान करने वाली खबर यह है कि दाऊद के भाई इकबाल कसकर को उसकी बहन हसीना पारकर के घर में गिरफ्तार किया गया है. अब मीडिया में हसीना पारकर की भी चर्चा शुरू हो गयी है, आतंकी दाऊद यही चाहता था.

आतंकी दाऊद चाहता है कि मीडिया में उसकी बहन की चर्चा शुरू हो जाए इसीलिए उसनें जान बूझकर अपने भाई को फिरौती के छोटे से मामले में गिरफ्तार करवा दिया, उसे पता है कि उसके भाई को पांच-सात दिनों में जमानत मिल जाएगी, लेकिन इसी 10-20 दिनों में दाऊद इब्राहीम भारत से अरबों रुपये कमा लेगा.

आपको बता दें कि 22 सितम्बर को हसीना पारकर फिल्म रिलीज होने वाली है. हसीना पारकर दाऊद इब्राहीम की बहन है, यह फिल्म दाउद इब्राहीम की बहन के जीवन पर आधारित है लेकिन अभी इसका इतना प्रमोशन नहीं हुआ था लेकिन दाऊद के भाई के गिरफ्तार होते ही हसीना पारकर का प्रमोशन होने लगा है ऐसा इसलिए क्योंकि इकबाल कासकर अपनी बहन हसीना पारकर के घर में अरेस्ट किया गया है.

दाऊद ने जान बूझकर अपने भाई को अपनी बहन हसीना पारकर के घर में गिरफ्तार करवाया ताकि हसीना पारकर की फिल्म का प्रमोशन हो जाए, लोगों में इस फिल्म को देखने की उत्सुकता जगे, लोग सैकड़ों रुपये खर्च करके यह फिल्म देखें और यह पूरा पैसा दाऊद की जेब में चला जाए. इस फिल्म के निर्माता नाहिद खान हैं जबकि डायरेक्टर अपूर्वा लाखिया हैं, इस फिल्म में जरूर दाऊद इब्राहीम का पैसा लगा होगा वरना भारत में उसकी बहन के जीवन पर फिल्म बनाने की कोशिश कौन करेगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पहले यह फिल्म 18 अगस्त को रिलीज होने वाली थी लेकिन इस फिल्म पर किसी का ध्यान नहीं है और ना ही लोग हसीना पारकर के बारे में जानना चाहते हैं इसलिए इस फिल्म की रिलीज डेट आगे बढ़ा दी गयी और अब 22 सितम्बर को यह फिल्म रिलीज की जाने वाली है इसीलिए जान बूझकर दाउद इब्राहीम ने फिल्म की रिलीज से 3 दिन पहले अपने भाई इकबाल को गिरफ्तार करवाया है, वो भी अपनी बहन हसीना पारकर के यहाँ से जिसके नाम पर हसीना पारकर फिल्म बनी है. अब आप समझ गए होंगे कि दाऊद इब्राहीम कितना चालाक आदमी है और उसका भाई फिल्म की रिलीज से तीन दिन पहले हसीना पारकर के घर में क्यों गिरफ्तार किया गया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि फिल्म हसीना पारकर में शक्ति कपूर की बेटी श्रद्धा कपूर लीड रोल में हैं और वे दाऊद इब्राहीम की बहन हसीना पारकर का किरदार निभा रही हैं.
रोहिंग्या मुस्लिमों को इस्लामिक देश पाकिस्तान अपने यहाँ क्यों नहीं ले जाता: सुब्रमनियम स्वामी

रोहिंग्या मुस्लिमों को इस्लामिक देश पाकिस्तान अपने यहाँ क्यों नहीं ले जाता: सुब्रमनियम स्वामी

subramanian-swamy-statement-on-rohingya-muslim-issue-hindi-news

कुछ लोग रोहिंग्या मुसलमानों का सिर्फ इसलिए समर्थन कर रहे हैं क्योंकि ये मुसलमान हैं, ये लोग यह मानने को तैयार ही नहीं हैं कि ये आतंकी हो सकता हैं, इनका कहना है कि एक दो आतंकियों के लिए हम सभी रोहिंग्या को आतंकी थोड़ी मान लेंगे।

आपको बता दें कि रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने के मामले में कल केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट सबमिट किया जिसमें कहा था कि रोहिंग्या मुसलमान भारत के लिए खतरा बन सकते हैं क्योंकि इनके कई आतंकवादी संगठनों से सम्बन्ध रहे हैं, अभी भी आतंकवादी इन्हें इस्तेमाल करके इन्हें आतंकवादी गतिविधियों में शामिल कर सकते हैं, इससे आम भारतीयों का फंडामेंटल राईट खतरे में पड़ जाएगा. हमारी नजर में ये भारत की शांति और सुरक्षा के लिए खतरा हैं इसलिए हमें इन्हें शरण देने पर विचार नहीं करना चाहिए.

विपक्षी राजनीतिक पार्टियाँ केंद्र सरकार के हलफनामें का विरोध कर रही हैं, कई विपक्षी नेता कह रहे हैं कि सभी रोहिंग्या आतंकी नहीं हैं, सुप्रीम कोर्ट में रोहिंग्या मुस्लिमों की पैरवी कर रहे वकील प्रशांत भूषण ने भी कहा कि इनके आतंकियों से संबंधों का कोई आधार नहीं है. 

कल इन लोगों को जवाब देते हुए सुब्रमनियम स्वामी ने कहा कि दरअसल रोहिंग्या मुसलमानों का मामला सिर्फ भारत में शरण नहीं लेना है, ये भारत को इस्लामिक राष्ट्र बनाना चाहते हैं इसलिए इन्हें बहुत ही Organised तरीके से भारत में बसाया जा रहा है. ये बर्मा को भी इस्लामिक राष्ट्र बनाना चाहते थे और इसीलिए इन्हें वहां से भगा दिया गया. 

सुब्रमनियम स्वामी ने कहा कि आप खुद सोचिये, इस्लामिक देश रोहिंग्या को अपने यहाँ क्यों नहीं ले जा रहे हैं, पाकिस्तान इन्हें अपने यहाँ क्यों नहीं ले जाता, वह तो इस्लामिक स्टेट है, पाकिस्तान तो बर्मा से बदला लेने की बात कर रहा है, वहां के लोग Aung San Suu Kyi को फांसी पर चढ़ाना चाहते हैं लेकिन रोहिंग्या को अपने यहाँ नहीं रखना चाहते, ऐसा इसलिए क्योंकि ये बर्मा को इस्लामिक स्टेट बनान चाहते थे लेकिन इनकी कोशिश फेल हो गयी, आज पाकिस्तान के सभी आतंकवादी संगठन रोहिंग्या का समर्थन क्यों कर रहे हैं, क्योंकि ये पहले ही इनका इस्तेमाल कर रहे थे, इन्हें आतंकी ट्रेनिंग दे रहे थे और इसी वजह से इन्हें बर्मा से भगा दिया गया. दरअसल ये भारत और बर्मा को इस्लामिक स्टेट बनाना चाहते हैं. यह है रोहिंग्या समस्या की असली वजह.
संबित पात्रा का खरा खरा बयान, हम रोहिंग्या आतंकियों को शरण देंगे तो ये हमें अर्थी देंगे

संबित पात्रा का खरा खरा बयान, हम रोहिंग्या आतंकियों को शरण देंगे तो ये हमें अर्थी देंगे

sambit-patra-said-if-india-give-rohingya-place-they-will-give-us-arthi

रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने के मामले में आज केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट सबमिट किया जिसमें कहा था कि रोहिंग्या मुसलमान भारत के लिए खतरा बन सकते हैं क्योंकि इनके कई आतंकवादी संगठनों से सम्बन्ध रहे हैं, अभी भी आतंकवादी इन्हें इस्तेमाल करके इन्हें आतंकवादी गतिविधियों में शामिल कर सकते हैं, इससे आम भारतीयों का फंडामेंटल राईट खतरे में पड़ जाएगा. हमारी नजर में ये भारत की शांति और सुरक्षा के लिए खतरा हैं इसलिए हमें इन्हें शरण देने पर विचार नहीं करना चाहिए.

विपक्षी राजनीतिक पार्टियाँ केंद्र सरकार के हलफनामें का विरोध कर रही हैं, कई विपक्षी नेता कह रहे हैं कि सभी रोहिंग्या आतंकी नहीं हैं, सुप्रीम कोर्ट में रोहिंग्या मुस्लिमों की पैरवी कर रहे वकील प्रशांत भूषण ने भी कहा कि इनके आतंकियों से संबंधों का कोई आधार नहीं है. 

आज ऐसे लोगों को बीजेपी नेता संबित पात्रा ने करारा जवाब दिया. उन्होंने कहा कि इनके आतंकियों के साथ सम्बन्ध हैं, ये जिस देश में रहते थे उस देश को इस्लामिक राष्ट्र बनाना चाहते थे, ये लोग वर्मा को इस्लामिक राष्ट्र बनाना चाहते थे, इनके लश्करे-तैयबा, अलकायदा और ISIS के साथ सम्बन्ध हैं, अगर हमने इन्हें शरण दिया तो ये कल हमें अर्थी देंगे, मतलब हमें ख़त्म कर देंगे.

संबित पात्रा ने कहा कि हमारे देश का विभाजन इसीलिए हुआ क्योंकि इस्लाम को सबसे ऊपर माना गया और एक इस्लामिक राष्ट्र पाकिस्तान बना दिया गया. आज आप हाफिज सईद का ट्वीट देखिये, वो खुलेआम कह रहा है कि बर्मा में आतंकवाद फैलाकर उसे तबाह कर दो.

संबित पात्रा ने कहा कि हमें भारत की जनता ने इसलिए चुना है क्योंकि हम तुष्टिकरण नहीं करते. हम सिर्फ भारत की सोचते हैं, हम भारत को पहले मानते हैं.
नलिन कोहली ने अच्छे से समझा दिया, रोहिंग्या मुस्लिम भारत के लिए क्यों हैं बेहद खतरनाक

नलिन कोहली ने अच्छे से समझा दिया, रोहिंग्या मुस्लिम भारत के लिए क्यों हैं बेहद खतरनाक

bjp-neta-nalin-kohli-told-why-rohingya-muslims-dangerous-for-india

रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने के मामले में आज केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट सबमिट किया जिसमें कहा था कि रोहिंग्या मुसलमान भारत के लिए खतरा बन सकते हैं क्योंकि इनके कई आतंकवादी संगठनों से सम्बन्ध रहे हैं, अभी भी आतंकवादी इन्हें इस्तेमाल करके इन्हें आतंकवादी गतिविधियों में शामिल कर सकते हैं, इससे आम भारतीयों का फंडामेंटल राईट खतरे में पड़ जाएगा. हमारी नजर में ये भारत की शांति और सुरक्षा के लिए खतरा हैं इसलिए हमें इन्हें शरण देने पर विचार नहीं करना चाहिए.

केंद्र सरकार के इस हलफनामे का कई राजनीतिक पार्टियाँ विरोध कर रही हैं, कई लोग कह रहे हैं कि सभी रोहिंग्या आतंकी नहीं हैं, ये भी इंसान हैं, इन्हें भी जीनें का हक हैं, भारत इन्हें शरण ना देकर गलत कर रहा है. इसके बाद बीजेपी प्रवक्ता नलिन कोहली ने बताया कि रोहिंग्या मुस्लिम भारत के लिए क्यों खतरनाक हैं, जिसे आपको जरूर पढना चाहिए.

नलिन कोहली ने कहा कि रोहिंग्या मुसलमानों के बारे में इंटेलिजेंट इनपुट मिले हैं, सिर्फ भारत से ही नहीं, बर्मा और बंगलादेश को भी इनपुट मिले हैं कि रोहिंग्या के आतंकियों के साथ रिश्ते हैं जो हमारे लिए बहुत चिंता की बात है. बांग्लादेश में भी इन्हें जहाँ पर रखा गया है वहां से इन्हें बाहर निकलने की आजादी नहीं है. इन्हें एक जगह से दूसरी जगह पर घूमने की आजादी नहीं है. 

नलिन कोहली ने कहा कि इनका मकसद बर्मा को बर्बाद करके वहां पर आतंकवाद और जिहाद करके एक अलग मुस्लिम राष्ट्र बनाना था, रोहिंग्या के रिश्ते लश्करे तैयबा से हैं, अलकायदा से हैं और ISIS से हैं. यह वास्तविक सिचुएशन है और इसीलिए म्यांमार से इन्हें भगाया गया.

नलिन कोहली ने कहा कि जहाँ तक मानवता का सवाल है तो बांग्लादेश में राहत सामग्री भेजी जा रही है. उन्होंने कहा कि आर्टिकल 21 के अनुसार भारत पर पहला अधिकार भारतीयों का है, यहाँ के लोगों को फ्रीडम के साथ जीने का अधिकार है, यहाँ के लोगों को रिस्क में डालकर दूसरे देशों को यहाँ पर नहीं रखा जा सकता. यहाँ पर आतंकवाद बढ़ने का डर रहेगा, लोगों के जीवन को खतरा रहेगा.

उन्होंने कहा कि अब रोहिंग्या मुसलमानों की वीडियो आ रही हैं जिसमें उनकी असलियत को दिखाया जा रहा है, उन्हें आतंकवाद की ट्रेनिंग दी जा रही है, कल यही लोग बड़े आतंकवादी बनेंगे और देश में जगह जगह आतंकवादी हमले शुरू कर देंगे. हमारे देश के लोगों को आतंकवाद नहीं चाहिए, उन्हें जीने का अधिकार चाहिए.

Sep 18, 2017

1-2 रोहिंग्या मुस्लिम आतंकी होंगे तो क्या सभी रोहिंग्या को आतंकी मान लिया जाएगा: मणिशंकर अय्यर

1-2 रोहिंग्या मुस्लिम आतंकी होंगे तो क्या सभी रोहिंग्या को आतंकी मान लिया जाएगा: मणिशंकर अय्यर

congress-leader-mani-shankar-aiyar-said-all-rohingya-not-terrorist

कांग्रेस के बड़े नेता मणि शंकर अय्यर भी रोहिंग्या मुस्लिमों के समर्थन में आ गए हैं और केंद्र सरकार का हमला बोल दिया है. उन्होंने कहा कि एक तो रोहिंग्या अगर आतंकी होंगे तो इन्हें पकड़ो और सजा दो, इनके चक्कर में क्या हम 40 हजार रोहिंग्या को आतंकी मान लेंगे. यह गलत है.

मणि शंकर अय्यर ने कहा कि भारत रोहिंग्या को शरण ना लेकर गलत कर रहा है, हमें इन्हें शरण देनी चाहिए, हमें पहले भी अन्य लोगों को शरण नी है, अगर कोई आतंकी हम तो उसकी जाँच होनी चाहिए.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने के मामले में आज केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट सबमिट किया था जिसमें कहा था कि रोहिंग्या मुसलमान भारत के लिए खतरा बन सकते हैं क्योंकि इनके कई आतंकवादी संगठनों से सम्बन्ध रहे हैं, अभी भी आतंकवादी इन्हें इस्तेमाल करके इन्हें आतंकवादी गतिविधियों में शामिल कर सकते हैं, इससे आम भारतीयों का फंडामेंटल राईट खतरे में पड़ जाएगा. हमारी नजर में ये भारत की शांति और सुरक्षा के लिए खतरा हैं इसलिए हमें इन्हें शरण देने पर विचार नहीं करना चाहिए.
बिना प्रमाण की पुष्टि किये व्हाट्सअप मैसेज पर ना करें भरोसा, ना करें फारवर्ड: राजनाथ सिंह

बिना प्रमाण की पुष्टि किये व्हाट्सअप मैसेज पर ना करें भरोसा, ना करें फारवर्ड: राजनाथ सिंह

rajnath-singh-suggest-dont-forward-whatsapp-message-with-verify

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सोशल मीडिया और व्हाट्स-अप संदेशों पर आँख मूंदकर विश्वास ना करने की अपील की है, उन्होंने कहा कि व्हाट्स-अप संदेशों पर बिना प्रमाण के विश्वास ना करें और ऐसे संदशों को फारवर्ड भी ना करें क्योंकि कुछ असामाजिक तत्त्व समाज में गन्दगी फैला रहे हैं, ऐसे लोग नफरत भरे सन्देश भेज रहे हैं जिसपर हमें आँख मूंदकर यकीन नहीं करना चाहिए.

राजनाथ सिंह ने आज सशस्त्र सीमा बल के इंटेलिजेंट विंग के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि हमारे जवान भी एंटी सोशल एलेमेंट्स से दूर रहें, उनके संदेशों पर विश्वास ना करें क्योंकि दुश्मन हममें फूट डालने की कोशिश कर रहे हैं.

इससे पहले बीजेपी पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने भी ऐसे ही अपील करते हुए कहा था कि बीजेपी के खिलाफ प्रोपगेंडा चलाया जा रहा है, विशेषकर कांग्रेस पार्टी के लोग सोशल मीडिया पर अफवाहें फैला रहे हैं, मैं युवाओं से अपील करता हूँ कि ऐसे संदेशों पर आँखें मूंदकर भरोसा ना करें. गुजरात के बारे में दुष्प्रचार किया जा रहा है, युवाओं को सोच समझकर विचार करना चाहिए कि कांग्रेस के गुजरात और अब के गुजरात में क्या फर्क है.
मोदी-विरोधी सुप्रतीक चटर्जी बोले, बहुत अच्छा हुआ MODI की उम्र एक साल और कम हो गयी

मोदी-विरोधी सुप्रतीक चटर्जी बोले, बहुत अच्छा हुआ MODI की उम्र एक साल और कम हो गयी

suprateek-charterjee-said-its-good-modi-come-1-year-closed-death

मोदी विरोधी लोग बहुत परेशान हैं, कई लोग तो मोदी की मौत की दुवा कर रहे हैं, कल प्रधानमंत्री मोदी का जन्मदिन था, पूरा देश उनकी लम्बी आयु की कामना कर था, उनके लिए भगवान से आशीर्वाद मांग रहा था ताकि वे लम्बे समय तक देश की सेवा कर सकें लेकिन मोदी विरोध लोग उनकी मौत का दुवा कर रहे थे. ट्विटर पर एक मोदी विरोधी सुप्रतीक चटर्जी इस वजह से खुश थे क्योंकि मोदी की उम्र एक साल और कम हो गयी है.

सुप्रतीक चटर्जी ने ट्विटर पर लिखा - जानकर बहुत अच्छा लगा, मोदी रिटायरमेंट और मृत्यु के एक साल और करीब हो गए हैं, मतलब ये इसलिए खुश थे क्योंकि मोदी की उम्र एक साल और कम हुई गयी.
सुप्रतीक चटर्जी को बीजेपी नेता और दिल्ली के प्रवक्ता तजिंदर बग्गा ने करारा जवाब दिया. उन्होंने कहा कि इनका धंधा बंद हो गया है इसलिए फ्रस्टेशन तो दिखेगी ही.