Showing posts with label Religion. Show all posts
Showing posts with label Religion. Show all posts

Feb 24, 2018

मुस्लिम लोग आबादी बढ़ा रहे हैं तो हिन्दुओं को भी आबादी बढ़ानी चाहिए, मैंने खुद किया: विक्रम सैनी

मुस्लिम लोग आबादी बढ़ा रहे हैं तो हिन्दुओं को भी आबादी बढ़ानी चाहिए, मैंने खुद किया: विक्रम सैनी

bjp-mla-vikram-saini-appeal-hindus-to-increase-population-like-muslims

मुजफ्फरनगर: भाजपा विधायक ने हिंदुओं को ज्यादा बच्चे पैदा करने की सलाह दी है. विधायक विक्रम सैनी ने कहा कि हिंदुओं को तब तक बच्चे पैदा करना बंद नहीं करना चाहिए, जब तक कि देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू ना हो जाए. अपने विवादित बयानों के जरिए अक्सर मीडिया की सुर्खियों में बने रहने वाले विक्रम सैनी मुजफ्फरनगर के खतौली विधानसभा से भाजपा विधायक हैं.

आपको बता दें कि उन्होंने जनसंख्या नियंत्रण अभियान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि एक नारा पहले भी चला था हम दो हमारे दो लेकिन अब कुछ समुदाय के लोग कहते हैं, हम दो हमारे 10, हम 5 हमारे 25. मतलब जब तक जनसंख्या नियंत्रण कानून नहीं आ जाता, मेरे हिंदू भाइयों तुम्हें छूट है. तुम्हें बच्चे पैदा करना जारी रखना चाहिए. उन्होंने ये भी कहा कि हिंदू दो बच्चे वाली नीति को अपनाते हैं, लेकिन दूसरे ऐसा नहीं करते. तो कानून सबके लिए समान होना चाहिए.

इतना ही नहीं विधायक ने ये भी कहा कि जब हमारे दो बच्चे थे तो मेरी पत्नी ने कहा कि हमें तीसरे बच्चे की जरूरत नहीं है, लेकिन मैंने कहा कि हमारे चार से पांच बच्चे होने चाहिए'. उनका ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.  देखेने वीडियो 

Jan 25, 2018

मोदी का 56 इंच का सीना सिर्फ मुसलमानों के लिए है, राजपूतों के आगे कर दिए हैं सरेंडर: ओवैसी

मोदी का 56 इंच का सीना सिर्फ मुसलमानों के लिए है, राजपूतों के आगे कर दिए हैं सरेंडर: ओवैसी

asaduddin-owaisi-told-pm-modi-56-inch-only-for-muslims-not-rajput

नई दिल्ली: पद्मावत फिल्म के विरोध प्रदर्शन पर AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि मोदी खुद को 56 इंच वाले प्रधानमंत्री बताते हैं लेकिन इनका 56 इंच सिर्फ मुसलमानों के लिए है. राजपूतों के आगे मोदी ने पूरी तरह से सरेंडर कर दिया है. मोदी राजपूतों को नहीं रोक रहे हैं, उन्हें पूरी छूट दे दी गयी है.

असदुद्दीन ओवैसी मुस्लिम समाज को भी तीन तलाक कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए उकसा रहे हैं. ओवैसी कहते हैं कि सिर्फ 4 फ़ीसदी राजपूतों ने पूरे देश को हिला दिया. भारत के मुस्लिम समाज को उनके सीख लेनी चाहिए. जिस तरह से राजपूत संगठित होकर प्रदर्शन कर रहे हैं वह सीखने लायक है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पद्मावत फिल्म के विरोध में राजपूत और अधिकतर हिन्दू संगठन सड़क पर उतर आये हैं, यह फिल्म आज पूरे देश में रिलीज हो गयी है लेकिन करणी सेना के हिंसात्मक प्रदर्शन पर लोग मोदी और बीजेपी सरकारों पर सवाल उठा रहे हैं. किसी भी बीजेपी सरकार ने राजपूतों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया है. बीजेपी राजपूतों को नाराज नहीं करना चाहती क्योंकि राजपूत लोग बीजेपी को अपनी पार्टी मानते हैं. अगर बीजेपी सरकारें राजपूतों पर एक्शन लेंगे तो उन्हें आने वाले चुनावों में काफी नुकसान होगा. 

Jan 16, 2018

मोदी सरकार का बोल्ड फैसला, बंद की हज पर दी जाने वाली सब्सिडी, हर साल बचेंगे 450 करोड़ रुपये

मोदी सरकार का बोल्ड फैसला, बंद की हज पर दी जाने वाली सब्सिडी, हर साल बचेंगे 450 करोड़ रुपये

modi-sarkar-closed-haj-sabsidy-to-save-rs-450-crore-yearly

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने आज बहुत बोल्ड फैसला लिया है. हज पर दी जाने वाली सब्सिडी पर पूरी तरह से रोक लगा दी है. इस फैसले के बाद देश के 450 करोड़ रुपये हर साल बचेंगे. इस पैसों को मुस्लिमों को ही शिक्षा देने पर इस्तेमाल किया जाएगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत से करीब 1.70 लाख लोग हर साल हज यात्रा पर जाते हैं. केंद्र सरकार प्रत्येक हज यात्री पर करीब डेढ़ लाख रुपये खुद खर्च करती है. अब ये पैसे बचेंगे और देश के काम आएँगे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हज यात्रा पर जाने वाले प्रत्येक यात्री सिर्फ 45000 रुपये जमा करते हैं जबकि फ्लाइट का टिकट करीब Rs.1,85,000 से Rs.2,19,000 है. बाकी के पैसे केंद्र सरकार देती है.

तुष्टिकरण बंद सबका शशक्तिकरण शुरू

इस फैसले पर केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि हज सब्सिडी बंद होने से जो भी पैसे बचेंगे वह गरीब मुसलमान बच्चों के शिक्षा पर खर्च किये जाएंगे, इस तरह से तुस्टीकरण बंद करके सबका शशक्तिकरण किया जाएगा.

Jan 10, 2018

केंद्रीय विद्यालयों में हिंदी में प्रार्थना क्यों, सिर्फ एक धर्म को बढ़ावा क्यों: सुप्रीम कोर्ट

केंद्रीय विद्यालयों में हिंदी में प्रार्थना क्यों, सिर्फ एक धर्म को बढ़ावा क्यों: सुप्रीम कोर्ट

supreme-court-questioned-why-hindi-pray-in-kendriya-vidyalaya

नई दिल्ली: देश में अंधेरगर्दी मची हुई है, सुप्रीम कोर्ट में एक के बाद एक हिन्दू-विरोधी याचिकाएं डाली जा रही हैं और सुप्रीम कोर्ट उन याचिकाओं पर हिन्दू धर्म के खिलाफ एक्शन ले रहा है. आजादी के बाद भारत हिन्दू देश था क्योंकि मुस्लिमों को अलग देश पाकिस्तान दे दिया गया था. हिन्दू देश होने की वजह से यहाँ पढ़ाई लिखाई, प्रार्थना, बोल चाल, सरकारी काम हिंदी भाषा में होते थे और अब तक वही चला आ रहा है. पिछले कुछ समय से भले ही अंग्रेजी भाषा को बढ़ावा दिया जा रहा है लेकिन अभी भी हमारे देश की अधिकतर लोगों की भाषा हिंदी ही है.

बता दें कि केंद्रीय विद्यालयों में भी हिंदी-संस्कृति भाषा में ही प्रार्थना होती आ रही है लेकिन अब कुछ लोगों ने इसको भी धर्म से जोड़ दिया है और सुप्रीम कोर्ट ने भी उनकी याचिका पर एक्शन लिया है.

याचिका की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और केंद्रीय विद्यालय संगठन को नोटिस जारी कर पूछा है कि रोजाना सुबह स्कूल में होने वाली इस हिंदी और संस्कृत की प्रार्थना से किसी धार्मिक मान्यता को बढ़ावा मिल रहा है? इसकी जगह कोई सर्वमान्य प्रार्थना क्यों नहीं कराई जा सकती? इन तमाम सवालों के जवाब कोर्ट ने 4 हफ्ते में तलब किये हैं.

सुप्रीम कोर्ट में विनायक शाह ने याचिका लगाई है, जिनके बच्चे केंद्रीय विद्यालय में पढ़े हैं. याचिका के मुताबिक देश भर में पिछले 50 सालों से 1125 केंद्रीय विद्यालयों की प्रार्थना में ये ऋचाएं शामिल हैं. इस प्रार्थना में और भी ऋचाएं शामिल हैं, जिनमें एकता और संगठित होने का संदेश है. 

कोर्ट इस याचिका पर अगली सुनवाई में केंद्र के जवाब पर विचार करेगा.

Jan 3, 2018

भारत के लिए बहुत खतरनाक है मुस्लिमों की बढती आबादी, इसपर अंकुश लगाए सरकार: विनय कटियार

भारत के लिए बहुत खतरनाक है मुस्लिमों की बढती आबादी, इसपर अंकुश लगाए सरकार: विनय कटियार

increasing-muslim-population-in-india-big-problem-says-vinay-katiyar

नई दिल्ली: भाजपा नेता एक से बढ़कर धमाकेदार बयान दे रहे है जिसको लेकर विपक्षी दलों में खलबली मची हुयी है. खासकर मुस्लिमों की बढती आबादी को लेकर अधिकतर बीजेपी नेता बोलते रहते हैं, अब इस फेहरिस्त में भाजपा के सांसद विनय कटियार का भी नाम जुड़ गया है। कटियार ने कहा है कि देश की बढ़ती आबादी पर अंकुश लगाया जाना चाहिए। टाइम्स नाऊ से बात करते हुए कटियार ने यह बात कही 

इससे पहले राजस्थान के अलवर से बीजेपी विधायक बनवारी लाल सिंघल ने एक पोस्ट में लिखा था कि मुसलमान देश पर राज करने के मकसद से ज्यादा बच्चे पैदा कर रहे हैं। वे हिंदुओं को उनके ही देश में किनारे करने के लिए आबादी बढ़ा रहे हैं। 

सिंघल के इस विवादित बयान का केंद्रीय मंत्री गिरिराज ने भी समर्थन किया। उन्होंने तो मुसलमानों की बढ़ती आबादी को देश के लिए खतरा बता डाला और कहा कि इसे रोकने के लिए जल्द से जल्द कानून बने।

Dec 28, 2017

3 तलाक बिल लागू होने के बाद बंद हो जाएगा महिलाओं का हलाला, इसलिए परेशान हो गए हैं लाखों मौलवी

3 तलाक बिल लागू होने के बाद बंद हो जाएगा महिलाओं का हलाला, इसलिए परेशान हो गए हैं लाखों मौलवी

three-talaq-bill-passed-no-halala-for-muslim-women-maulawi-jobless

नई दिल्ली: आज मुस्लिम महिलाओं के लिए खुशखबरी है क्योंकि मोदी सरकार ने आज ही तीन तलाक बिल लोकसभा में पेश किया और आज ही बिल बहुमत के साथ पास हो गया, AIMIM के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बिल को रोकने की बहुत कोशिश की, बिल के खिलाफ लम्बा चौड़ा भाषण दिया और कई खामियां गिनाई लेकिन उनकी कोई भी चाल कामयाब नहीं हुई और अंततः बिल पास ही हो गया.

तीन तलाक बिल लागू होने के बाद कम से कम 10 लाख मौलवियों का धंधा बंद हो जाएगा, अब तक मौलवी तीन तलाक के बाद महिलाओं का हलाला करके खूब पैसे कमाते थे लेकिन अब वे ऐसा नहीं कर पाएंगे क्योंकि अब तीन तलाक बोलने के बाद भी सुलह का एक मौका मिलेगा, अगर शौहर अपनी गलती मान लेगा तो दोनों की शादी ख़त्म नहीं होगी और वह फिर से हंसी ख़ुशी रह सकेंगे लेकिन अगर शौहर ने जान बूझकर देगा और अपनी गलती नहीं मानेगा तो उसे तीन साल के लिए जेल भेज दिया जाएगा.

पहले जब कोई शौहर गलती से तीन तलाक़ दे देता था तो वह किसी मौलवी के पास जाता था, मौलवी उससे कहता था कि अगर बीवी से दोबारा शादी करना चाहता है तो हलाला कराना पड़ेगा, उसके बाद मौलवी कुछ पैसे लेकर महिला का हलाला करवाता था, दूसरे मर्द से महिला की शादी करवाकर उसे एक रात उसे सौंप देता था और दूसरे दिन उसके साथ फिर से पहले वाले पति से निकाह करवा देता था. कई बार खुद मौलवी ही पैसे लेकर शादी कर लेता था और महिला के साथ एक रात गुजार लेता था. लेकिन अब ऐसा नहीं हो सकेगा क्योंकि अब तीन तलाक के बाद मौलवी की जगह मजिस्ट्रेट के पास जाना पड़ेगा और अपनी गलती माननी पड़ेगी या तीन साल जेल जाना पड़ेगा.

आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने भी बिल को सीधे पास होने से रोकने के लिए इसे स्टैंडिंग कमेटी के पास भेजने की अपील की ताकि बिल कुछ महीनें और रुक जाए लेकिन मोदी सरकार ने उसकी बात नहीं मानी और वोटिंग कराने का आग्रह किया, वोटिंग में बिल के समर्थन में 244 वोट पड़े जबकि ओवैसी के सुझाए संशोधन के समर्थन में सिर्फ 4 वोट पड़े. इस तरह से ओवैस की बात को खारिज करते हुए बिल को लोकसभा में पास कर दिया गया.

अब यह बिल राज्य सभा में जाएगा, वहां पर बिल अटक सकता है क्योंकि कांग्रेस पार्टी और उसके समर्थकों का वहां पर बहुमत है, अगर कांग्रेस ने समर्थन दे दिया तो यह बिल राज्य सभा से भी पास हो जाएगा और कानून अस्तित्व में आ जाएगा.

Dec 20, 2017

अयोध्या में बनेगा राम मंदिर तो बिहार के सीतामढ़ी में बनेगा सीता मंदिर: सुब्रमनियम स्वामी

अयोध्या में बनेगा राम मंदिर तो बिहार के सीतामढ़ी में बनेगा सीता मंदिर: सुब्रमनियम स्वामी

subramanian-swamy-promised-to-make-sita-mandir-after-ram-mandir

मोदी सरकार ने राम मंदिर के पक्ष में भारत में माहौल बना दिया है, बीजेपी नेता सुब्रमनियम स्वामी ने इस अभियान में बहुत मेहनत की है जिससे अब हिन्दुओं को लगने लगा है कि राम मंदिर जल्द ही बनेगा, अगर कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल ने टांग ना अड़ाई तो सुप्रीम कोर्ट राम मंदिर के हक में फैसला देगा और अगले साल से राम मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा.

आज बीजेपी सांसद सुब्रमनियम स्वामी ने हिन्दुओं को एक और खुशखबरी सुना दी, उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के बाद बिहार के सीतामढ़ी में सीता मंदिर बनाने के लिए कदम उठाएंगे.

Dec 17, 2017

गुजरात चुनाव बीतते ही धर्म-कर्म भूले जनेऊधारी शिवभक्त राहुल गाँधी, गायब हुआ टीका, भूल गए मंदिर

गुजरात चुनाव बीतते ही धर्म-कर्म भूले जनेऊधारी शिवभक्त राहुल गाँधी, गायब हुआ टीका, भूल गए मंदिर

janeudhari-rahul-gandhi-forgot-shivbhakti-mandir-after-gujarat-election

गुजरात चुनाव आते ही राहुल गाँधी ने खुद को शिवभक्त बताना शुरू कर दिया, अचानक मंदिरों के चक्कर लगाने लगे, गुजरात के सभी मंदिरों में उन्होंने माथा टेक डाला, अचानक जनेऊधारी ब्राह्मण भी बन गए, रुद्राक्ष भी पहनने लगे. हर समय माथे पर टीका लगाने लगे, अचानक बहुत बड़े भक्त बन गए.

राहुल गाँधी की भक्त शायद गुजरात चुनावों के लिए ही थी क्योंकि जैसे ही गुजरात चुनाव बीता उन्होंने रूप बदल लिया, कल उन्होंने कांग्रेस का अध्यक्ष पद सम्भाला, यह उनके लिए शुभ काम था, जनेऊधारी हिन्दू हमेशा शुभ काम करने से पहले मंदिर जाते हैं, टीका लगाते हैं लेकिन राहुल गाँधी ने ऐसा कुछ भी नहीं किया, कल उन्होंने ना टीका लगाया, ना किसी मंदिर गए और ना ही हवन-पूजन किया. खासकर शुभ काम करने से पहले गणेश की पूजा जरूर करते हैं लेकिन राहुल गाँधी ने ऐसा कुछ भी नहीं किया.

अब राहुल गाँधी की भक्ति पर साल उठने शुरू हो गए हैं, ट्विटर पर एक ने कहा - मेरा धर्म हिंदू है मैं जाति का पंडित हूँ जनेऊ धारण करता हूँ. जनेऊ में 6 धागे होते है (तीन पति के,तीन पत्नी के) मैं किसी भी शुभ कार्य करने के लिए प्रथम देवता गणेश जी की पूजा करके श्री गणेश करता हूँ..क्या जनेऊधारी राहुल गाँधी ने किया?? बस वैसे पूछ रहा था ?

Dec 16, 2017

राहुल गाँधी की हो चुकी है हिन्दू धर्म में पूर्ण घर वापसी, आधा क्रेडिट मोदी को, आधा सूरजेवाला को

राहुल गाँधी की हो चुकी है हिन्दू धर्म में पूर्ण घर वापसी, आधा क्रेडिट मोदी को, आधा सूरजेवाला को

janeudhari-pandit-rahul-gandhi-become-ghar-wapasi-in-hindu-dharm

अब राहुल गाँधी की हिन्दू धर्म में पूरी तरह से वापसी हो गयी है क्योंकि अब वह साधारण हिन्दू नहीं बल्कि जनेऊधारी पंडित राहुल गाँधी बन गए हैं, अब वह ना तो इफ्तार पार्टियों में टोपी लगा सकते हैं और ना ही मस्जिदों में जा सकते हैं. यही नहीं अब उन्हें मजबूरीवश देश के सभी मंदिरों में जाना पड़ेगा, अब राज्यों में चनाव में उनपर हमेशा नजर रहेगी कि वह कितने मंदिरों में जाते हैं, अब उनसे अपेक्षा की जाएगी कि वह सभी मंदिरों में जाएं और भगवान के चरणों में माथा टेकें.

राहुल गाँधी की हिन्दू धर्म में घर वापसी का आधा श्रेय प्रधानमंत्री मोदी को जाता है क्योंकि उनके ही डर से गुजरात चुनाव में राहुल गाँधी ने मंदिरों में जाना शुरू किया, टीका लगाना शुरू कर दिया, भभूती लगानी शुरू कर दी. भगवा वस्त्र पहनने शरू कर दिए.

राहुल की हिन्दू धर्म में वापसी का दूसरा श्रेय कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला को जाता है क्योंकि पहले राहुल गाँधी ने सोमनाथ मंदिर में खुद को गैर-हिन्दू बताया लेकिन उन्हें हिन्दू धर्म में शामिल करने के लिए रणदीप सुरजेवाला ने उन्हें जनेऊधरी हिन्दू बता दिया.

जनेऊधारी हिन्दू बताये जाने के बाद राहुल गाँधी बुरी तरफ फंस गए, इसके बाद कांग्रेसी कार्यकर्ता उन्हें जनेऊधारी हिन्दू बताने लगे, अब तो उन्हें जनेऊधारी पंडित राहुल गाँधी बोला जाने लगा है. पोस्टर में भी राहुल गाँधी को जनेऊधारी हिन्दू लिखा जा रहा है. अब बात बहुत आगे बढ़ चुकी है, अब राहुल गाँधी चाहकर भी पीछे नहीं हट सकते. अब उनकी हिन्दू धर्म में परमानेंट वापसी हो चुकी है जिसके लिए मोदी और रणदीप सूरजेवाला बधाई के पात्र हैं.
कांग्रेस को मंहगा पड़ेगा शनिवार को जनेऊधारी राहुल गाँधी को अध्यक्ष बनाना, भारी पड़ सकते हैं शनि

कांग्रेस को मंहगा पड़ेगा शनिवार को जनेऊधारी राहुल गाँधी को अध्यक्ष बनाना, भारी पड़ सकते हैं शनि

congress-making-janeudhari-rahul-gandhi-congress-president-on-shanivar

राहुल गाँधी खुद को जनेऊधारी हिन्दू बता रहे हैं, कुछ कांग्रेसी भक्त उन्हें पंडित राहुल गाँधी बता रहे हैं लेकिन आज कांग्रेसियों ने शनिवार को पंडित राहुल गाँधी को कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी पर बिठा दिया है जो हिन्दू धर्म में कम ही होता है और जनेऊधारी पंडित तो ऐसा काम विल्कुल भी नहीं करते हैं.

आपको बता दें कि आज शनिवार है, हिन्दू धर्म में शनिवार को कोई भी शुभ काम नहीं करते, शनिवार को शुभ काम करने से शनि भारी पड़ जाते हैं और बुरा ही बुरा होने लगता है. कांग्रेस पार्टी पर पहले से ही शनि भारी पड़ रहे हैं, पिछले तीन वर्षों से 10 राज्यों में उनकी सरकार जा चुकी है. अभी अभी हिमाचल में भी उनकी सरकार जा रही है, गुजरात में भी उनकी करारी हार हो रही है.

अब कांग्रेस की सिर्फ चार राज्यों में सरकार है जिसमें से तीन में अगले साल चुनाव होने वाले हैं और तीनों जगह कांग्रेस के खिलाफ एंटी-इनकम्बेंसी है. तीनों राज्यों में कांग्रेस की हालत खराब है उसके बाद भी राहुल गाँधी को शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष बनाकर कांग्रेस ने गलती की है.

अगर राहुल गाँधी हिन्दू ना होते तो ठीक था लेकिन वह तो जनेऊधारी ब्राह्मण हैं. ब्राह्मणों को धर्म के अनुसार चलना चाहिए वरना उन्हें बहुत बड़ा नुकसान होता है, बहुत बड़ा पाप लगता है, आज जनेऊधारी राहुल गाँधी के सर पर ताज नहीं बल्कि बहुत बड़ा पाप रखा जा रहा है, तीन राज्यों में कांग्रेस का विनाश हो सकता है.

Dec 13, 2017

तजिंदर बग्गा बोले, मैं अमरनाथ जाऊँगा, बम बम भोले और हर हर महादेव बोलूँगा, रोक कर दिखाए NGT

तजिंदर बग्गा बोले, मैं अमरनाथ जाऊँगा, बम बम भोले और हर हर महादेव बोलूँगा, रोक कर दिखाए NGT

tajinder-bagga-challenged-ngt-to-stop-bam-bam-bhole-har-har-mahadev

आज नेशनल हरित न्यायाधिकरण (NGT) ने विवादास्पद फैसला सुनाते हुए अमरनाथ यात्रा पर भगवान का नारा लगाने, जय जय कारे लगाने, मंत्रोच्चार करने, मंदिर में घंटियाँ बजाने पर रोक लगा दी है, NGT ने इससे पहले वैष्णो देवी मंदिर में भी जय जय कारा लगाने और एक दिन में 50 हजार से अधिक लोगों के दर्शन करने पर रोक लगाई थी, आज हिन्दुओं के खिलाफ NGT ने लगातार दूसरा आदेश सुनाया.

सोशल मीडिया पर NGT के इस आदेश का जमकर विरोध किया जा रहा है, बीजेपी नेता तजिंदर बग्गा ने भी NGT को चैलेंज करते हुए कहा - मैं अमरनाथ यात्रा पर जाऊँगा, बम बम भोले और हर हर महादेव बोलूँगा, मैं NGT को चैलेंज करता हूँ कि मुझे रोक सको तो रोक लो.

tajinder-bagga-challenge-ngt

NGT कोर्ट ने लगाई भगवान की जय बोलने पर रोक तो भड़के सूरजपाल अमू, बोले, इतना जुल्म सही नहीं

NGT कोर्ट ने लगाई भगवान की जय बोलने पर रोक तो भड़के सूरजपाल अमू, बोले, इतना जुल्म सही नहीं

surajpal-amu-slams-ngt-court-for-banning-bhagwan-ki-jai-slogan

नई दिल्ली: हिन्दुओं के लिए वैष्णो देवी और अमरनाथ मक्का मदीना से कम नहीं है लेकिन मक्का मदीना में लोग खुलेआम अल्लाह-हु-अकबर बोल सकते हैं लेकिन NGT के आदेश के अनुसार अब वैष्णो देवी और अमरनाथ की यात्रा करने वाले भक्त जय माता दी या जय भोलेनाथ नहीं बोल सकते, एक नए आदेश के अनुसार राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी) ने हिन्दू तीर्थ स्थलों पर भगवानों के जय जय कारे लगाने पर रोक लगा दी है.

आपको बता दें कि राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (एनजीटी) ने एक बार फिर धार्मिक मामलों में दखल देते हुए विवादित निर्देश दिए हैं। हिंदू आस्था के केंद्र वैष्णो देवी के बाद अमरनाथ यात्रा पर निर्देश देते हुए एनजीटी ने मंत्रोच्चारण, जयकारों और घंटिया बजाने पर रोक लगा दी है, NGT का कहना है कि जय जय कारा लगाने से पर्यावरण को खतरा पहुँचता है। एनजीटी के आदेश के बाद अमरनाथ यात्रा पर जाने वाले भोले भक्त अब हर हर महादेव नहीं बोल सकेंगे, मंत्र नहीं पढ़ सकेंगे, नारे नहीं लगा सकेंगे, घंटी नहीं बजा सकेंगे, मोबाइल पर बात नहीं कर सकेंगे।

इस फैसले के साथ ही सोशल मीडिया पर इसका विरोध शुरु हो गया है। लोगों ने एनजीटी के आदेश को गैर जरूरी बताते हुए उसे राष्ट्री विरोधी करार कर दिया है। कई भाजपा नेताओं ने एनजीटी को चुनौती दी है। राजपूत नेता सूरजपाल अम्मू ने भी एनजीटी को आइना दिखाया है और इस आदेश को गलत बताया है। सूरजपाल जम्मू का कहना है कि मुझे आश्चर्य हो रहा है कि यह “मेरा हिन्दुस्तान है या NGT वालों का भारत है। कमाल हो गया जनाब। अब यह तो बता दो इमरजेंसी दोबारा कब लगेगी, 1977 के बाद मुझे लगने लगा है अब 2017 मे पुनः यह सब होने वाला है।

सूरजपाल अमू ने कहा कि NGT को दिल्ली NCR के दूषित पर्यावरण की चिन्ता नही है, अब हिन्दू देवी देवताओं के मन्दिरों पर जाने वाले भक्तों पर ज़ुल्म करने ओर पाबन्दी लगाने की ज़िद्द है। हरियाणा मे फरीदाबाद मे ताक पर रखकर सूरजकुण्ड के आसपास बिल्डर्स को NOC दी गई है करोड़ों रूपये खाकर, कहाँ गये NGT और हरियाणा सरकार के वरिष्ठ अधिकारी और जागरूक मीडिया. उसपर कोई नही बोलता क्यूँ कहाँ गई ‘ज़ीरो टालरेंस की नीति ओर प्रदूषण बोर्ड व NGT….वाह री NGT….???

मालूम हो कि सूरजपाल अम्मू ने हाल में संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म के खिलाफ आवाज उठाया था जिसके बाद कई राज्यों में विवादित फिल्म को बैन कर दिया गया। अम्मू ने फिल्म की अदाकारा दीपिका पादुकोण को भी धमकाया था।
हो गयी श्री राम की जीत, अमेरिका ने भी मान ली रामसेतु की सच्चाई, फिर गलत साबित हुई कांग्रेस

हो गयी श्री राम की जीत, अमेरिका ने भी मान ली रामसेतु की सच्चाई, फिर गलत साबित हुई कांग्रेस

america-science-channel-accepted-ramsetu-build-by-human-7000-year-ago

7000 साल पहले भगवान राम ने लंका पर जीत दर्ज की थी लेकिन आज श्री राम ने पूरी दुनिया और कांग्रेस पार्टी से जीत दर्ज की है. कांग्रेस पार्टी के नेता श्री राम को मिथ्या मानते थे, वह रामसेतु को भी मिथ्या मानते थे, इस मामले में 2008 में पूर्व UPA कांग्रेस सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दर्ज किया था और रामसेतु को सिर्फ मिथ्या मानकर उसे तोड़ने की मांग की थी लेकिन अब अमेरिका ने भी मान लिया है रामसेतु सिर्फ कल्पना नहीं बल्कि सच्चाई है, इसे 7000 साल पहले इंसानों ने बनाया था और पत्थर कहीं अन्य स्थान से लाकर यहाँ पर लगाए गए थे.

अमेरिकी के साइंस चैनल ने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया है और वीडियो में दिखाया गया है कि रामसेतु 7000 साल पहले आस्तित्व में था। चैनल ने वैज्ञानिक तथ्यों को आधार में रखते हुए दोनों देशों को जोड़ने के लिए एक पुल के होने का दावा है।

इस कार्यक्रम को आज 13 दिसंबर को ऑनएयर किया जाएगा। वीडियो के नीचे कई तरह के ऐतिहासिक कमेंट्स आ रहे हैं। लोगों का कहना है कि जो भगवान् राम को काल्पनिक बताते हैं उनके गाल पर एक करारा तमाचा पड़ा है। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर ‘जय श्रीराम’ लिखकर अभिवादन व्यक्त किया है। देखें वीडियो-

Dec 10, 2017

राहुल गाँधी का मंदिर जाना सही हैं, बीजेपी को धर्म की कोई जानकारी नहीं है: तेजस्वी  यादव

राहुल गाँधी का मंदिर जाना सही हैं, बीजेपी को धर्म की कोई जानकारी नहीं है: तेजस्वी यादव

tejashwi-yadav-told-bjp-dont-have-knowledge-of-religion-dharma

गुजरात चुनाव जीतने के लिए राहुल गाँधी मंदिर मंदिर घूम रहे हैं, सभी देवताओं से आशीर्वाद मांग रहे हैं, राहुल गाँधी की पहली बार ऐसी भक्ति देखकर बीजेपी के लोग उनका जमकर मजाक उड़ा रहे हैं, कांग्रेस के लिए इससे भी बड़ी मुसीबत तब आ गयी जब रणदीप सुरजेवाला ने राहुल गाँधी को जनेऊधारी हिन्दू बता दिया.

आज लालू यादव के बेटे और बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने राहुल गाँधी का समर्थन किया, उन्होंने कहा कि भारत में किसी को भी मंदिरों में जाकर पूजा-पाठ करने का हक है चाहे वह राहुल गाँधी हों, कोई अमीर हो या गरीब हो. बीजेपी वाले धर्म के नाम पर राजनीति करते हैं लेकिन इन्हें धर्म के बारे में कोई ज्ञान नहीं है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि बीजेपी को ना तो धर्म का ज्ञान है और ना ही इतिहास का ज्ञान है इसलिए इन्हें धर्म की राजनीति बंद कर देनी चाहिए, जब इन्हें वोट नहीं मिलते तो धर्म की राजनीति करना शुरू कर देते हैं.

आपको बता दें कि राहुल गाँधी ने आज भी गुजरात में दो मंदिरों के दर्शन किये, सबसे पहले उन्होंने रणछोड़जी मंदिर के दर्शन किये लेकिन वहां का अनुभव अच्छा नहीं रहा क्योंकि मंदिर से बाहर निकलते ही मोदी मोदी के नारे लगने लगे.

Dec 6, 2017

वसीम रिजवी ने किया खुलासा, गुजरात के मुसलमानों को दंगों के लिए उकसा रहे हैं कांग्रेसी नेता

वसीम रिजवी ने किया खुलासा, गुजरात के मुसलमानों को दंगों के लिए उकसा रहे हैं कांग्रेसी नेता

wasim-rizvi-revealed-congress-leader-provoking-muslim-for-riots

शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कांग्रेस के बारे में बड़ा खुलासा किया है, उन्होंने कहा कि मुसलमानों को कांग्रेस से बचकर रहना चाहिए क्योंकि वह उन्हें दंगा करने के लिए उकसा रही है और भारत में फिर से अशांति का माहौल बना रही है.

उन्होंने कहा कि राम मंदिर मामले में कहीं ना कहीं कांग्रेस गेम खेल रही है, अगर कोई पार्टी मंदिर और मस्जिद के बीच असली राजनीति खेल रही है तो वह कांग्रेस पार्टी है. उन्होंने बताया कि कांग्रेस नहीं चाहती कि वहां पर राम मंदिर बने, ये मामला हल हो, वह चाहती है कि वहां पर ना मंदिर बने और ना ही मस्जिद.

उन्होंने कहा कि मैं इस सिलसिले में हिंदुस्तान में कई राज्यों के मुस्लिमों से संपर्क में हूँ और इस मामले को लेकर आम राय बना रहा हूँ, मैंने गुजरात के मुसलमानों से भी बात की है.

उन्होंने बताया कि गुजरात में कांग्रेसी नेता वहां के मुसलमानों के जेहन में यह डाल रहे हैं कि अगर ये हुकूमत चली गयी और कांग्रेस की हुकूमत बन गयी तो यहाँ के मुसलमानों को सर उठाकर जीने का मौका मिलेगा, उनके जेहन में गुजरात दंगों का बदला लेने की बात डाली जा रही है. यह एक बहुत गंभीर बात है.

उन्होंने बताया कि गुजरात के दंगों के बाद से गुजरात में हर जगह शांति है लेकिन शांत गुजरात में कांग्रेस दंगे की चिंगारी पैदा कर रही है, गुजरात के मुसलमानों को बहुत सोच समझकर कांग्रेस का साथ देना चाहिए क्योंकि उन्होंने मुसलमानों को हमेशा नुकसान पहुँचाया है.
कांग्रेसी कपिल सिब्बल ने किया इशारा, हिन्दू जीत चुके हैं केस, अयोध्या में बनेगा सिर्फ राम मंदिर

कांग्रेसी कपिल सिब्बल ने किया इशारा, हिन्दू जीत चुके हैं केस, अयोध्या में बनेगा सिर्फ राम मंदिर

kapil-sibal-dont-want-ram-mandir-till-2019-he-hinted-hindu-win-case

कल पूरे देश की नजरें सुप्रीम कोर्ट पर टिकी थीं, हर कोई राम मंदिर और बाबरी मस्जिद मामले पर फैसले का इन्तजार कर रहा था लेकिन इतने में खबर आयी कि मामले पर सुनवाई की तारीख आगे बढ़ा दी गयी है, यह भी खबर आयी कि कांग्रेस नेता और मुस्लिम पक्ष के वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट में दलील दी कि इस मामले की सुनवायी 2019 आम चुनाव तक टाल देनी चाहिए क्योंकि इससे भारतीय जनता पार्टी को फायदा होगा.

आपको बता दें कि कपिल सिब्बल आल इंडिया सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील है और बाबरी मस्जिद की पैरवी कर रहे हैं, उन्होंने सुनवाई की तारीख 2019 के बाद करने की मांग करके साबित कर दिया कि यह केस हिन्दू ही जीतने वाले हैं और सुप्रीम कोर्ट हिन्दुओं के पक्ष में ही फैसला देने वाला है.

कपिल सिब्बल को भी पता है कि इस केस का फैसला राम मंदिर के पक्ष में आने वाला है इसलिए उन्होंने कहा कि अगर आप अभी निर्णय देंगे और अयोध्या में राम मंदिर बन जाएगा तो बीजेपी को 2019 के आम चुनाव में इसका लाभ मिलेगा इसलिए आप इस मामले की सुनवायी 2019 आम चुनाव तक टाल दें ताकि राम मंदिर के समर्थन में फैसला आने पर बीजेपी को राजनीतिक लाभ ना हो.

कपिल सिब्बल से साफ़ इशारा कर दिया है कि भले ही इस मामले का फैसला 6 महीनें बाद आये या 2019 चुनाव के बाद, लेकिन अयोध्या में सिर्फ राम मंदिर ही बनेगा लेकिन कांग्रेस किसी भी कीमत पर बीजेपी को राम मंदिर बनाने का क्रेडिट नहीं लेने देगी, इसलिए सुनवाई की तारीख 2019 के बाद करने की मांग की गयी है. 

कपिल सिब्बल के साथ साथ सुन्नी वक्फ बोर्ड भी यह बात जानता है कि फैसला राम मंदिर के समर्थन में आएगा इसलिए उन्होंने कल कागजात अधूरे होने का हवाला देते हुए केस को आगे बढाने की मांग की लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ साफ़ कह दिया कि अब इस मामले की सुनवायी 8 फ़रवरी को होकर रहेगी, दोनों पक्ष के लोग अपने अपने दस्तावेज तैयार कर लो, अब इसके आगे तारीख नहीं बढ़ाई जाएगी.

Nov 30, 2017

श्रीराम की तुलना 3 तलाक से करने वाले कपिल सिब्बल बाँट रहे हैं हिन्दू सर्टिफिकेट: संबित पात्रा

श्रीराम की तुलना 3 तलाक से करने वाले कपिल सिब्बल बाँट रहे हैं हिन्दू सर्टिफिकेट: संबित पात्रा

sambit-patra-slams-kapil-sibal-for-distributing-hinduism-certifate

कांग्रेसी नेता और भारत के पूर्व कानून मंत्री कपिल सिबल ने आज बहुत बड़ा बयान दिया है. उन्होंने मोदी को नकली हिन्दू बताया है, मीडिया से बातचीत करते हुए कपिल सिबल ने राहुल गाँधी को जनेऊधारी हिन्दू बताया जबकि मोदी को नकली हिन्दू बताया।

उन्होंने कहा - प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी असली हिन्दू नहीं हैं, बीजेपी के नेता भी असली हिन्दू नहीं हैं, ये लोग हिंदुत्व को मानते हैं, हिन्दू अलग धर्म है जबकि हिंदुत्व अलग धर्म है.

कपिल सिब्बल एक बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा - ये वही कपिल जी हैं ना तो ट्रिपल तलाक केस में कोर्ट में श्रीराम की तुलना तलाक से कर रहे थे, आज ये हिन्दू धर्म का सर्टिफिकेट बाँट रहे हैं.


आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राहुल गाँधी ने सोमनाथ मंदिर में दर्शन से पहले खुद को गैर हिन्दू बताया था और गैर हिन्दुओं के रजिस्टर में एंट्री भी करवाई थी जिसके बाद बवाल मच गया था.

बवाल मचने के बाद कांग्रेसी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सफाई में कहा था कि राहुल गाँधी साधारण हिन्दू नहीं बल्कि जनेऊधारी हिन्दू हैं.

बीजेपी ने इसे मुद्दा बना लिया है, कई लोगों ने राहुल गाँधी से यह भी पूछा कि वह कौन सी जनेऊ पहनते हैं, तीन धागे वाली, छह धागे वाली यह 9 धागे वाली।

इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कपिल सिबल ने मोदी को ही नकली हिन्दू बता दिया।
कपिल सिब्बल बोले, मोदी असली हिन्दू नहीं हैं, ये कब का छोड़ चुके हैं हिन्दू धर्म, पढ़ें

कपिल सिब्बल बोले, मोदी असली हिन्दू नहीं हैं, ये कब का छोड़ चुके हैं हिन्दू धर्म, पढ़ें

kapil-sibal-said-modi-is-not-real-hindu-he-left-hindu-dharm-in-back

कांग्रेसी नेता और भारत के पूर्व कानून मंत्री कपिल सिबल ने आज बहुत बड़ा बयान दिया है. उन्होंने मोदी को नकली हिन्दू बताया है, मीडिया से बातचीत करते हुए कपिल सिबल ने राहुल गाँधी को जनेऊधारी हिन्दू बताया जबकि मोदी को नकली हिन्दू बताया। 

उन्होंने कहा - प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी असली हिन्दू नहीं हैं, बीजेपी के नेता भी असली हिन्दू नहीं हैं, ये लोग हिंदुत्व को मानते हैं, हिन्दू अलग धर्म है जबकि हिंदुत्व अलग धर्म है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राहुल गाँधी ने सोमनाथ मंदिर में दर्शन से पहले खुद को गैर हिन्दू बताया था और गैर हिन्दुओं के रजिस्टर में एंट्री भी करवाई थी जिसके बाद बवाल मच गया था.

बवाल मचने के बाद कांग्रेसी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सफाई में कहा था कि राहुल गाँधी साधारण हिन्दू नहीं बल्कि जनेऊधारी हिन्दू हैं.

बीजेपी ने इसे मुद्दा बना लिया है, कई लोगों ने राहुल गाँधी से यह भी पूछा कि वह कौन सी जनेऊ पहनते हैं, तीन धागे वाली, छह धागे वाली यह 9 धागे वाली।

इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कपिल सिबल ने मोदी को ही नकली हिन्दू बता दिया।
शास्त्री जी बोले, जो जनेऊधारी हिन्दू होता है वह टोपी लगा ही नहीं सकता, नियम के खिलाफ है, पढ़ें

शास्त्री जी बोले, जो जनेऊधारी हिन्दू होता है वह टोपी लगा ही नहीं सकता, नियम के खिलाफ है, पढ़ें

janeudhari-hindu-rahul-gandhi-exposed-by-raj-kumar-shastri-news

राहुल गाँधी बड़ी मुसीबत में फंस चुके हैं. पहले उनके बारे में खुलासा हुआ कि वह गैर-हिन्दू हैं लेकिन उसके बाद कांग्रेसी प्रवक्त रणदीप सुरजेवाला ने उससे भी बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि वह साधारण हिन्दू नहीं हैं बल्कि जनेऊधारी हिन्दू हैं.

जैसे ही रणदीप सुरजेवाला ने राहुल गाँधी को जनेऊधारी हिन्दू बताया देश में बवाल मच गया क्योंकि जनेऊ धारण करने के लिए यज्ञोपवीत नाम का संस्कार कराया जाता है, इसके अलावा जनेऊ धारण करने वाला इंसान उसे दोबारा उतार नहीं सकता, और भी कई नियम के पालन करने पड़ते हैं वरना बहुत बड़ा पाप माना जाता है.

आज जी न्यूज़ पर राहुल गाँधी के जनेऊ पर बहस हुई, हिन्दू धर्म के एक्सपर्ट पंडित राजकुमार शास्त्री भी चर्चा में भाग ले रहे थे, उन्होंने जनेऊ का अर्थ बताते हुए कहा, जनेऊ में तीन गांठे होती हैं और 9 सूत्र होते हैं, राहुल गाँधी बताएं कि वह कौन सी जनेऊ पहनते हैं.

राजकुमार शास्त्री ने यह भी बताया कि जो जनेऊ धारण कर लेता है वह अन्य धर्म को नहीं मान सकता, यहाँ तक कि मुस्लिमों की जालीदार टोपी भी नहीं पहन सकता लेकिन राहुल गाँधी को हमेशा टोपी पहनते हैं. कई बार उनकी टोपी में फोटो वायरल हुई है.

क्या सच में राहुल गाँधी जनेऊधारी हिन्दू हैं?

जनेऊधारी हिन्दू वह होता है जो जनेऊ धारण करे, एक बार जनेऊ धारण करने के बाद उसे जिंदगीभर उतार नहीं सकते, ऐसे लोग जब भी टॉयलेट जाते हैं तो जनेऊ को तीन बार कान में लपेट लेते हैं ताकि वह कमर से ऊपर ही रहे क्योंकि कमर से नीचे या जननांगों से जनेऊ के छूने पर बहुत बड़ा पाप लगता है. वैसे राहुल गाँधी अगर जनेऊ धारण करते तो किसी ना किसी को जरूर दिखता क्योंकि रैलियों में या अन्य सार्वजनिक स्थानों पर अगर राहुल गाँधी टॉयलेट जाते तो जनेऊ को कान में तीन बार जरूर लपेटते लेकिन ऐसा आज तक हुआ ही नहीं है. जिसका मतलब है कि राहुल गाँधी जनेऊधारी हिन्दू नहीं हैं, अगर हैं तो जनेऊ को कान में ना लपेटकर बहुत बड़ा पाप कर रहे हैं. अगर राहुल जनेऊधारी नहीं हैं तो रणदीप सुरजेवाला ने उनके बारे में झूठ बोला है.

तो इसका मतलब शादीशुदा हैं राहुल गाँधी

रणदीप सुरजेवाला ने एक तरह से राहुल गाँधी को बहुत बड़ी मुसीबत में फंसा दिया है क्योंकि उन्होंने राहुल गाँधी की जनेऊ में जो फोटो शेयर की है उसमें राहुल गाँधी ने छह धागों वाली जनेऊ पहनी है जिसका मतलब है कि वो शादीशुदा हैं. कुंवारे लोग सिर्फ तीन धागों वाली जनेऊ पहनते हैं और वह काफी पतली होती है लेकिन राहुल गाँधी ने बचपन में ही छह धागों वाली मोटी जनेऊ पहन रखी है जिसका मतलब है कि उनकी शादी बचपन में हे हो चुकी है.



क्या होता है जनेऊधारी हिन्दू

हर हिन्दू का कर्तव्य है कि वह जनेऊ पहने और उसके नियमों का पालन करे। हर हिन्दू जनेऊ पहन सकता है बशर्ते कि वह उसके नियमों का पालन करे लेकिन जरूरी नहीं है कि सभी लोग जनेऊ धारण करें लेकिन एक बार जनेऊ धारण करने के बार उसे उतारा नहीं जा सकता वरना बहुत बड़ा पाप माना जाता है.

हर जाति के लोग पहन सकते हैं जनेऊ

पहले कहा जाता था कि सिर्फ ब्राह्मण ही जनेऊ पहन सकते हैं लेकिन सच यह है कि ब्राह्मण ही नहीं समाज का हर वर्ग जनेऊ धारण कर सकता है। जनेऊ धारण करने के बाद ही द्विज बालक को यज्ञ तथा स्वाध्याय करने का अधिकार प्राप्त होता है। द्विज का अर्थ होता है दूसरा जन्म. लड़कियां भी जनेऊ धारण कर सकती हैं लेकिन उन्हें आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन करना होता है.

ब्रह्मचारी और विवाहित के लिए अलग अलग जनेऊ

ब्रह्मचारी तीन और विवाहित छह धागों की जनेऊ पहनता है। विवाह के बाद छह धागों में से तीन धागे स्वयं के और तीन धागे पत्नी के बतलाए गए हैं।

जनेऊ में मुख्‍यरूप से तीन धागे होते हैं

प्रथम: यह तीन सूत्र त्रिमूर्ति ब्रह्मा, विष्णु और महेश के प्रतीक होते हैं। 
द्वितीय: यह तीन सूत्र देवऋण, पितृऋण और ऋषिऋण के प्रतीक होते हैं.
तृतीय: यह सत्व, रज और तम का प्रतीक है। 
चतुर्थ: यह गायत्री मंत्र के तीन चरणों का प्रतीक है। 
पंचम: यह तीन आश्रमों का प्रतीक है। 
छह: संन्यास आश्रम में यज्ञोपवीत को उतार दिया जाता है।

नौ तार :यज्ञोपवीत के एक-एक तार में तीन-तीन तार होते हैं। इस तरह कुल तारों की संख्‍या नौ होती है। एक मुख, दो नासिका, दो आंख, दो कान, मल और मूत्र के दो द्वार मिलाकर कुल नौ होते हैं। हम मुख से अच्छा बोले और खाएं, आंखों से अच्छा देंखे और कानों से अच्छा सुने।

पांच गांठ :यज्ञोपवीत में पांच गांठ लगाई जाती है जो ब्रह्म, धर्म, अर्ध, काम और मोक्ष का प्रतीक है। यह पांच यज्ञों, पांच ज्ञानेद्रियों और पंच कर्मों का भी प्रतीक भी 

Nov 16, 2017

दीपिका से बोला राजपूत, हम स्त्रियों पर हाथ नहीं उठाते लेकिन लक्ष्मण ने काटी थी सूर्पनखा की नाक

दीपिका से बोला राजपूत, हम स्त्रियों पर हाथ नहीं उठाते लेकिन लक्ष्मण ने काटी थी सूर्पनखा की नाक

rajput-youth-warn-deepika-padukone-to-make-soorpnakha-lakshman

नई दिल्ली: पद्मावती फिल्म में महारानी पद्मावती का रोल करके और घूमर गाने पर डांस करके दीपिका पादुकोण बुरी तरह से फंस गयी हैं, उन्होंने कई बार विरोध करने वालों को फटकार लगाने की कोशिश की जिसकी वजह से वह लोगों की नजरों में आ गयीं, कल बीजेपी नेता सुब्रमनियम स्वामी ने दीपिका पादुकोण की डीएनए एनालिसिस करते हुए इन्हें गैर-हिन्दुस्तानी बता दिया था, उन्होंने कहा था कि दीपिका पादुकोण हिन्दुस्तानी नहीं हैं, वह डच नागरिक हैं, ऐसे में वह राजपूत महिलाओं का स्वाभिमान समझ सकती हैं.

आज करणी सेना के अध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना ने एक वीडियो जारी करके कहा है कि राजपूत महिलाओं पर कभी हाँथ नहीं उठाते लेकिन दीपिका याद रखें लक्ष्मण जी से सूर्पनखा के साथ क्या किया था। एक तरह से महिपाल सिंह चेतावनी दे रहे हैं कि अगर पद्मावती के समर्थन में दीपिका पादुकोण ने चपड़ चपड़ करने की कोशिश की तो उनका भी हाल सूर्पनखा जैसा हो सकता है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अब करणी सेना के पूरी तरह से पाद्मावती के विरोध में आ चुके हैं, लोगों ने 1 दिसम्बर को भारत बंद का ऐलान किया है जिसे देखते हुए पद्मावती के फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है.