Showing posts with label Punjab. Show all posts
Showing posts with label Punjab. Show all posts

16 June, 2017

कहाँ गए ‘उड़ता पंजाब’ बनाने वाले, सरकार बदलते ही मीडिया हुआ अँधा, अब नहीं दिख रही ड्रग समस्या

कहाँ गए ‘उड़ता पंजाब’ बनाने वाले, सरकार बदलते ही मीडिया हुआ अँधा, अब नहीं दिख रही ड्रग समस्या

panjab-drug-problem-not-raised-by-any-media-after-congress-sarkar
New Delhi: पंजाब में 10 साल अकाली दल की सरकार रही लेकिन शुरुआत के 8 साल में नशे की समस्या का मुद्दा नहीं उठाया गया, जैसे ही चुनाव आया 'उड़ता पंजाब' फिल्म बनाकर नशे की समस्या को जोर शोर से उठाया गया और फिल्म में अकाली दल की सरकार को नशे की समस्या के लिए जिम्मेदार ठहराया गया, इस मुद्दे को कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने भुनाया, पंजाब के अकाली दल के खिलाफ जमकर प्रचार किया, अकालियों को नशे को बढ़ावा देने का आरोप लगाया और बादल सरकार को पंजाबा से साफ़ कर दिया.

फिल्म उड़ता पंजाब के निर्माता-निर्देशकों के अलावा मीडिया ने भी चुनाव से पहले नशे की समस्या को जमकर उठाया और TRP कूटी, लेकिन सरकार बदलने की मीडिया भी अँधा हो गया और उड़ता पंजाब के निर्माता निर्देशक भी अंधे हो गए, ऐसा लगता है कि अकाली दल की सरकार की छवि खराब करने के लिए ही उड़ता पंजाब फिल्म बनायी गयी थी और सोची समझा साजिश के तहत पंजाब में ड्रग समस्या को बढ़ा चढ़ाकर पेश किया गया.

अब आप खुद देखिये, सरकार बदलने के बाद सभी मीडिया अंधे हो गए हैं, अब कोई भी मीडिया, कोई भी अखबार नशे का मुद्दा नहीं उठा रहा है, क्या सरकार बदलते की ड्रग समस्या ख़त्म हो गयी, क्या सरकार बदलते ही पंजाब के युवाओं ने नशा करना छोड़ दिया, राहुल गाँधी जैसे नेता पंजाब के 70 फ़ीसदी युवाओं को नशाखोर बताते थे, क्या अब 70 फ़ीसदी युवाओं ने नशा करना छोड़ दिया.

हमारा कहने का मतलब ये है कि अगर पंजाब में वाकई में नशे की समस्या थी तो अब क्यों ख़त्म हो गयी, मीडिया ने अचानक क्यों ऑंखें बंद कर लीं, क्या चुनाव से पहले ऐसे मुद्दे उठाने से TRP बढती है, अब नशे की समस्या उठाएंगे तो TRP नहीं बढ़ेगी क्योंकि मीडिया वाले भी जानते हैं कि अब कांग्रेस सरकार पांच साल से पहले जाने वाली नहीं है इसलिए 1 साल रह जाएगा तो फिर से TRP बढाने के लिए नशे का मुद्दा उठाना शुरू कर देंगे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राहुल गाँधी ने चुनाव जीतते ही नशे की समस्या ख़त्म करने का वादा किया था लेकिन चुनाव जीतने के बाद नशे को समाप्त करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया, पंजाब में शराब और बीयर की हजारों फैक्ट्रिया हैं जहाँ पर शराब बनती है और युवा उन्हें पीकर बर्बाद हो रहे हैं, कांग्रेस ने कहा था कि वे शराब बंद करवा देंगे, अफीम की तस्करी बंद करवा देंगे लेकिन कुछ भी नहीं किया. जब तक मीडिया इस मुद्दे को नहीं उठाएगा सरकार भी कुछ नहीं करेगी. अब देखते हैं कि मीडिया कब अपनी ऑंखें खोलता है, यह भी देखना है कि उड़ता पंजाब पार्ट 2 फिल्म बनती है या नही.

15 June, 2017

किसानों की कर्जमाफी का वादा भूली कांग्रेस, अकाली नेताओं ने याद दिलाया तो सिद्धू ने दी गालियाँ

किसानों की कर्जमाफी का वादा भूली कांग्रेस, अकाली नेताओं ने याद दिलाया तो सिद्धू ने दी गालियाँ

navjot-singh-aidhu-abuse-akali-leaders-in-panjab-assembly

Chandigarh: आपको याद दिला दें कि पंजाब में चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी ने जमकर लोकलुभावन वादे किये थे जिसमें किसानों की कर्जमाफी का वादा भी शामिल था, कांग्रेस ने किसानों के वोट लेकर पंजाब में सरकार बना ली लेकिन कर्जमाफी का वादा भूल गयी, आज पंजाब विधानसभा में अकाली नेताओं ने कांग्रेस को उनका वादा याद दिलाया तो कथित तौर पर नवजोत सिंह सिद्धू ने उन्हें गन्दी गन्दी गालियाँ दी और उनकी आवाज बंद कराने की कोशिश की.

जानकारी के अनुसार अकाली नेताओं ने आज पंजाब में किसानों की कर्जमाफी और उनकी आत्महत्याओं का मुद्दा उठाते हुए जमकर हंगामा किया जिसके बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने उन्हें अपनी सीट पर बैठे बैठे ही जमकर गालियाँ दी.

अब अकाली दल के नेता नवजोत सिंह सिद्धू से सदन में माफी मांगने की जिद पर अड़ गए हैं, अकाली नेताओं का कहना था कि सिद्धू ने उन्हें उस वक्त गालियाँ दी जब वे किसानों की कर्जमाफी और आत्महत्या के मुद्दे पर स्थगन प्रस्ताव लाने की मांग कर रहे थे.

06 June, 2017

कांग्रेस का कमाल, स्वर्ण मंदिर में लगे खालिस्तान जिंदाबाद के नारे, आतंकवाद के रास्ते पर पंजाब

कांग्रेस का कमाल, स्वर्ण मंदिर में लगे खालिस्तान जिंदाबाद के नारे, आतंकवाद के रास्ते पर पंजाब

khalistan-jindabad-slogan-raised-in-golden-temple-bad-news-punjab
Amritsar: पंजाब के लिए बुरी खबर है क्योंकि पंजाब में फिर से आतंकवाद की गूँज सुनाई दे रही है, कांग्रेस सरकार के आते ही पंजाब में आतंकवाद की शुरुआत भी हो गयी है क्योंकि कल ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में खुलेआम आतंकवादी संगठन खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे, पुलिस और कानून बहरा होकर सुनता रहा, अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

कल ऑपरेशन ब्लू स्टार की 33वीं बरसी थी, 33 साल पहले कांग्रेस सरकार ने प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी के आदेश के बाद स्वर्ण मंदिर में सेना ने घुसकर आतंकियों जरनैल सिंह भिंडरावाले और उनके समर्थकों  का सफाया किया था, उस ऑपरेशन में सैकड़ों लोग मारे गए थे.

उसके कुछ दिन बाद इंदिरा गाँधी की सुरक्षा में लगे दो सिखों ने इंदिरा गाँधी को गोली मार दी थी, जिसके बाद दिल्ली में सिखों का कत्लेआम किया गया था.

कल स्वर्ण मंदिर में 33वीं बरसी के मौके पर कई सिख संगठन मौजूद थे, लोगों ने जमकर खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए. इससे पहले जब पंजाब के सिख चरमपंथी संगठनों ने ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी मनाने का ऐलान किया तो गृह मंत्रालय की सलाह पर पंजाब पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई थी लेकिन पुलिस लोगों को खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने से नहीं रोक सकी.

ऑपरेशन ब्लूस्टार की 33वीं बरसी के मौके पर अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे. इस दौरान कई सिख संगठन वहां पर मौजूद रहे, और नारेबाजी की.

इससे पहले कल पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने स्वयं कहा था कि अगर SYL का मामला पंजाब के पक्ष में नहीं आया तो पंजाब एक बार फिर से आतंकवाद के रास्ते पर चल पड़ेगा, अमरिंदर सिंह के बयान से साफ़ साफ़ लग रहा है कि वे पंजाब के लोगों को भड़का रहे हैं और अलगाववाद की आग लगाने की तैयारी कर रहे हैं.

30 May, 2017

वाह! Arunaya Shine Institute ने 100 परसेंट नतीजे देकर किया कमाल

वाह! Arunaya Shine Institute ने 100 परसेंट नतीजे देकर किया कमाल

arunaya-shine-institute-derabassi-100-percent-result-in-cbse-12th
डेराबसी, चंडीगढ़: इस बार CBSE बोर्ड की 12वीं परीक्षा में छात्रों को उम्मीद के अनुसार नंबर नहीं मिले और ना ही बढ़िया नतीजे आये लेकिन डेराबसी स्थित Arunaya Shine Institute ने CBSE बोर्ड की 12वीं परीक्षा में 100 फीसदी नतीजे देकर कमाल कर दिया है और क्षेत्र का अग्रणी इंस्टिट्यूट बन गया है. 

जानकारी के लिए बता दें कि 28 मई को CBSE बोर्ड की 12वीं परीक्षा के नतीजे घोषित किये गए थे, इस वर्ष पिछले वर्ष की तुलना में केवल 82 फ़ीसदी छात्र सफल हुए थे लेकिन Arunaya Shine Institute ने 100 फ़ीसदी रिजल्ट दिया है.

इंस्टिट्यूट के डायरेक्टर प्रिंस बंसल का कहना है कि हम हमेशा से ही बढ़िया नतीजे देते आये हैं लेकिन इस बार हमने 100 फ़ीसदी नतीजे दिए हैं, हमने फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ में भी 100 फ़ीसदी रिजल्ट दिया है. हमें इस बात की बहुत ख़ुशी है कि हमारे यहाँ पढने वाला कोई भी छात्र फेल नहीं हुआ.

CBSE बोर्ड के अलावा JEE Main में भी यहाँ के 6 छात्र सफल हुए हैं, डायरेक्टर प्रिंस बंसल ने दावा किया है कि आने वाले समय में यह इंस्टिट्यूट चंडीगढ़ क्षेत्र का नंबर 1 इंस्टिट्यूट बनेगा.

CBSE Board 12th Exam में छात्रों को मिले नंबर (Arunaya Shine Institute)
Gagan Raj - Physics (95), Chemistry (87), Math (95)
Bhupinder Pal - Physics (94), Chemistry (91), Math (95)
Naval Jeet Kaur - Physics (92), Chemistry (91), Math (94)
Riya Baliyan - Physics (95), Chemistry (92), Math (95)
Kiran Deep Kaur - Physics (85), Chemistry (85), Bio (91)
Navneet - Physics (80)
Himanshi Godiyal - Chemistry (87)
Parbhat Rajput - Physics (80), Math (85)
Sparsh Thakur - Physics (87)
Devanshi - Math (80)

11 May, 2017

झाडू से इतनी हुई नफरत की घुग्गी ने दे दिया इस्तीफ़ा

झाडू से इतनी हुई नफरत की घुग्गी ने दे दिया इस्तीफ़ा

gurpreet-singh-ghuggi-resign-from-aap-party-in-panjab

अमृतसर: आम आदमी पार्टी के लगभग सभी नेता केजरीवाल की तरह जल्द से जल्द मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं, किसी को इन्तजार करना पसंद नहीं है, ये लोग चाहते हैं कि पार्टी में आते ही उन्हें बड़ा पद मिल जाए, एक ही चुनाव में विधायक, मंत्री या मुख्यमंत्री बन जाएं ताकि अगले पांच साल में सीधा प्रधानमंत्री बन जाएँ, ये सपना केजरीवाल भी देखते हैं और उन्हीं की तरह आम आदमी पार्टी के सभी नेता देखते हैं इसलिए कोई भी नेता इस पार्टी में अधिक दिनों तक नहीं टिकता और उसे झाडू से इतनी नफरत हो जाती है कि पार्टी छोड़ देता है.

कल पंजाब में भी ऐसा ही देखने को मिला, मशहूर कॉमेडियन और फिल्म कलाकार गुरप्रीत सिंह घुग्गी को पार्टी में आये केवल एक साल हुए थे, स्टारडम की वजह से केजरीवाल ने उन्हें पंजाब का संयोजक बना दिया, वे सीधा मुख्यमंत्री भी बनना चाहते थे लेकिन आम आदमी पार्टी पंजाब में चुनाव हार गयी, पार्टी की हार के बाद उन्हें संयोजक पद से हटाकर उनकी जगह आप सांसद भगवंत मान को पंजाब का संयोजक बना दिया गया.

जैसे ही घुग्गी को भगवंत मान को पंजाब का संयोजक बनाए जाने की खबर मिली उन्हें तुरंत ही झाडू से नफरत हुई और उन्होंने तुरंत ही पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया. उन्होंने कहा कि वे भगवंत मान के संयोजक बनाए जाने से नाराज नहीं हैं लेकिन जिस तरह से उन्हें बिना बताये हटाया गया वह उस तरीके से नाराज हैं. कम से कम एक बार उन्हें सूचना तो दे दी जाती कि उनकी जगह भगवंत मान को राज्य का संयोजक बनाया गया है.

घुग्गी के अलावा आप के एक और बड़े नेता सुखपाल सिंह ने भी भगवंत मान को संयोजक बनाने की वजह से इस्तीफ़ा दे दिया है, उन्होने कहा है कि भगवंत मान तो नशे में डूबे रहते हैं, उनके साथ काम करना मुश्किल है.