Showing posts with label Punjab. Show all posts
Showing posts with label Punjab. Show all posts

Aug 2, 2017

ड्रग समस्या पर कांग्रेसी विधायक ने ही खोल दी कांग्रेस सरकार की पोल, खुश होकर बोले बादल 'शाबाश’

ड्रग समस्या पर कांग्रेसी विधायक ने ही खोल दी कांग्रेस सरकार की पोल, खुश होकर बोले बादल 'शाबाश’

congress-mla-exposed-amarinder-singh-sarkar-on-drug-problem

कल पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल खुश हो गए क्योंकि कांग्रेस के ही एक विधायक ने पंजाब में नशे की समस्या पर कांग्रेस और अमरिंदर सिंह सरकार की पोल खोल दी, आपको बता दें कि कांग्रेस ने चुनाव से पहले वादा किया था कि नशे की समस्या को सिर्फ 30 दिन में समाप्त कर देंगे और सभी नशा कारोबारियों और ड्रग माफियाओं को जेल के अंदर बंद कर देंगे.

कल कांग्रेस के ही एक विधायक सुरजीत सिंह धीमान ने एक कार्यक्रम में बोलते हुए कहा, चिट्टा यानी ड्रग पंजाब की हर गली और हर चौराहे पर बिक रहा है, हमारी सरकार का नशे के खिलाफ अभियान सिर्फ 15 दिन दिखा, अब फिर से नशे की विक्री चालू हो गयी है.

उन्होंने कहा कि यद्यपि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने ड्रग और ड्रग माफियाओं को ख़त्म करने का वादा किया था लेकिन उनके वादे का असर सिर्फ 15 दिन दिखा, जब हमने सरकार बनायी थी तो हमें आशा थी कि ड्रग माफिया जल्द ही सलाखों के अन्दर होंगे लेकिन आज मैं आपको बता सकता हूँ कि किन किन क्षेत्रों में ड्रग की सप्लाई हो रही है और जोर शोर से विक्री भी हो रही है.

कांग्रेस विधायक की इस बेबाकी से प्रकाश सिंह बादल खुश हो गए, उन्होंने सुरजीत सिंह की तारीफ करते हुए कहा, उन्होंने सच बोला है, मैं उन्हें बधाई देता हूँ और उनकी हिम्मत की दाद देता हूँ, वे एक ऐसी पार्टी में हैं जहाँ पर बहुत कम लोग सरकार के खिलाफ अपना मुंह खोल पाते हैं.

Jul 24, 2017

अमरिंदर सिंह ने किया ऐसा ऐलान, खुश हो गयीं हरमनप्रीत कौर

अमरिंदर सिंह ने किया ऐसा ऐलान, खुश हो गयीं हरमनप्रीत कौर

amarinder-singh-offer-harmanpreet-kaur-post-in-punjab-police

भारतीय महिला टीम की क्रिकेटर हरमनप्रीत के लिए खुशखबरी है, उन्हें पंजाब सरकार ने पंजाब पुलिस में नौकरी देने का ऐलान किया है, आज खुद मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने यह ऐलान किया, इसके अलावा उन्हें पांच लाख रुपये का नकद इनाम भी दिया जाएगा. 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरमनप्रीत पंजाब के मोगा जिले की निवासी हैं, उन्होंने ICC महिला वर्ल्डकप के सेमी-फाइनल मैच में 115 गेंदों में 171 रनों की धुंवाधार पारी खेलकर भारत को ऑस्ट्रेलिया पर विजय दिलाई थी, यही नहीं उन्होंने ICC वर्ल्डकप के फाइनल मैच में भी 51 रनों की पारी खेली हालाँकि टीम इंडिया फाइनल मैच हार गयी.

भारत भले ही फाइनल मैच हार गया लेकिन हरमनप्रीत कौर के तो अच्छे दिन आ ही गए, उन्हें ICC से लाखों रुपये तो मिलेंगे ही, पंजाब सरकार से भी पांच लाख रुपये मिलेंगे साथ ही पुलिस में नौकरी भी मिलेगी.

मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने यह भी कहा कि अगर हरमनप्रीत आगे पढना चाहेगीं तो पंजाब सरकार हर तरह की मदद करने के लिए तैयार है, अगर वह पुलिस फाॅर्स ज्वाइन करना चाहती हैं तो उन्हें नौकरी भी दी जाएगी.

आपको बता दें कि हरमनप्रीत का पुलिस फाॅर्स ज्वाइन करने का सपना है हालाँकि पंजाब सरकार की मौजूदा नीति के अनुसार किसी भी नेशनल खिलाडी को पुलिस में नौकरी नहीं दी जा सकती, अमरिंदर सिंह ने हरमनप्रीत का शौक पूरा करने के लिए राज्य की नीति में बदलाव करने का फैसला किया है.

Jun 27, 2017

गैस एजेंसी वालों ने शुरू की गैस की खुल्ली लूट, पुलिस, कानून और सरकार लूट रोकने में नाकाम

गैस एजेंसी वालों ने शुरू की गैस की खुल्ली लूट, पुलिस, कानून और सरकार लूट रोकने में नाकाम

rupinder-gas-agency-gas-chori-exposed-in-derabassi-punjab
Derabassi, 27 June: पूरे देश के गैस एजेंसी मालिकों ने गैस की लूट मचा रखी है, इनकी लूट रोकने में पुलिस, प्रशासन और सरकार पूरी तरह से नाकाम है, चाहे राज्य सरकारें हो या केंद्र सरकार, सभी ने इनकी लूट के आगे अपनी आँखें बंद कर रखी हैं, नतीजा यह है कि गैस एजेंसी मालिक करीब करीब हर सिलेंडर से 2-4 किलो गैस निकाल लेते हैं, जो ग्राहक तौलकर सिलेंडर लेता है उसे पूरी पूरा सिलेंडर दिया जाता है लेकिन जो ग्राहक बिना तौले ही सिलेंडर ले लेता है उसमें से 3-4 किलो गैस कम होती है, गैस एजेंसी वाले ग्राहकों के इस ढीलेपन का लाभ उठा रहे हैं और ऐसे सभी ग्राहकों के 100-200 रुपये लूट ले रहे हैं जो बिना तौले सिलेंडर ले रहे हैं.

आज पंजाब के डेराबस्सी में Rupinder Gas Agency द्वारा गैस चोरी का पर्दाफाश हुआ, एक ग्राहक चन्द्र प्रकाश सिंह का गैस सिलेंडर सिर्फ 20 दिन में ख़त्म हो गया. उन्हें शक हुआ कि शायद उन्हें गैस कम मिल रही है क्योंकि इससे पहले उनका सिलेंडर 45 दिन चलता था. उन्होंने तय किया कि अगली बार वे तौलकर गैस सिलेंडर लेंगे, अगर उन्हें गैस कम मिली तो ना सिर्फ गैस एजेंसी की शिकायत करेंगे बल्कि लोगों को भी जागरूक करेंगे, आज उन्होंने ऐसे ही किया, गैस सिलेंडर रिफिल कराने के बाद उसे तौलकर देखा तो 3.5 किलो गैस कम थी, गैस भरकर सिलेंडर का भार होना चाहिए था 30 किलोग्राम (15.8 सिलेंडर + 14.4 गैस) लेकिन उन्हें सिलेंडर मिला 26.4 किलोग्राम का, मतलब 3.6 किलो गैस कम थी.
rupinder-gas-agency-gas-chori

गैस कम देखकर ग्राहक के पैरों तले जमीन खिसक गयी, उन्हें समझ में आ गया कि उन्हें पिछले 2-3 महीनें से कम गैस मिल रही है, मतलब Rupinder Gas Agency वाला उनकी 2-3 महीनों से गैस लूट रहा है. ऐसा नहीं है कि यह घटना सिर्फ चन्द्र प्रकाश सिंह के साथ हुई है, पूछने पर पता चला कि आसपास के सभी लोगों को कम गैस मिल रही है.

देखें VIDEO और समझिये गैस लूट का पूरा खेल


चन्द्र प्रकाश सिंह ने की शिकायत लेकिन कोई कार्यवाही नहीं
गैस चोरी का पर्दाफाश होने के बाद चन्द्र प्रकाश सिंह ने तुरंत गैस डीलर को पकड़ लिया, और डेराबस्सी, SAS नगर मोहाली के SDM को फोन किया, SDM ने उन्हें Food Supply Officer के पास शिकायत करने के लिए कहा तो चन्द्र प्रकाश सिंह ने Food Supply Officer को शिकायत की लेकिन तब तक एजेंसी मालिक ने Food Supply Officer को घूस पानी खिला दिया था इसलिए Food Supply Officer मौके पर आये, शियाकत पत्र लिया और बिना कोई कार्यवाही किये चले गए, एजेंसी मालिक ने चन्द्र प्रकाश सिंह से कहा कि आप शिकायत मत करो, हम आपको खुश कर देंगे, आप चाहे तो फ्री में गैस ले लो.
rupinder-gas-agency-derabassi-image

यहाँ पर हैरान करने वाली बात ये है कि गैस चोरी करने वाले एजेंसियां अपने क्षेत्र की पुलिस, अधिकारियों और Food Supply Officer को घूस खिलाकर ऐसा घिनौना काम कर रही हैं इसलिए चोर गैस एजेंसी मालिकों पर कार्यवाही नहीं हो पाती और ये लूट जारी रखते हैं. कभी कभी शिकायत करने पर ये एक दो महीने के लिए लूट बंद कर देते हैं लेकिन जैसे ही ग्राहक ढीले पड़ते है ये फिर से लूट शुरू कर देते हैं.

शिकायत करने पर क्यों नहीं होती कार्यवाही

गैस चोर एजेंसियों के खिलाफ पुलिस, DM और Food Supply Officer से शिकायत करने करने पर कोई कार्यवाही नहीं होती क्योंकि ये सब मिले होते हैं और लूट का कुछ हिस्सा इनके पास भी पहुँचता है, जैसे ही गैस एजेंसी वालों को पता चलता है कि उनकी चोरी पकड़ी गयी है तो वे तुरंत ही पुलिस अधिकारियों, DM और Food Supply Officer को फोन करके बचाने की प्रार्थना करते हैं, ये अफसर एजेंसी मालिक से घूस मांगते हैं और मामले को रफा दफा कर देते हैं. सके

कहाँ करें शिकायत
  • जब आप सिलेंडर रिफिल कराएं तो पर्ची जरूर ले लें, पर्ची पर Complaint Phone Number होता है जिसपर तुरंत शिकायत करें और बताएं कि आपको कम गैस मिल रही है
  • शिकायत करने से पहले सिलेंडर का सील ना निकालें और तौलते हुए फोटो खींच लें या VIDEO बना लें ताकि आपके पास पर्याप्त सबूत हो
  • अगर इन्टरनेट की सुविधा है तो Gas Company की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन शिकायत की जा सकती है
  • अगर ट्विटर, फेसबुक का ज्ञान है तो अपनी शिकायत लिख दें और  @dpradhanbjp, @MoPNG_eSeva, @NarendraModi को टैग करें, ऐसा करने पर आपकी शिकायत, पेट्रोलियम मंत्रालय, पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान और प्रधानमंत्री मोदी के पास पहुँच जाएगी और तुरंत कार्यवाही होगी, शिकायत करते समय अपना नाम और एड्रेस, एजेंसी का नाम और एड्रेस, सिलेंडर तौलते हुए फोटो या VIDEO भी भेजें ताकि सरकार सबूतों के साथ चोरी एक्शन ले सके.

Jun 16, 2017

कहाँ गए ‘उड़ता पंजाब’ बनाने वाले, सरकार बदलते ही मीडिया हुआ अँधा, अब नहीं दिख रही ड्रग समस्या

कहाँ गए ‘उड़ता पंजाब’ बनाने वाले, सरकार बदलते ही मीडिया हुआ अँधा, अब नहीं दिख रही ड्रग समस्या

panjab-drug-problem-not-raised-by-any-media-after-congress-sarkar
New Delhi: पंजाब में 10 साल अकाली दल की सरकार रही लेकिन शुरुआत के 8 साल में नशे की समस्या का मुद्दा नहीं उठाया गया, जैसे ही चुनाव आया 'उड़ता पंजाब' फिल्म बनाकर नशे की समस्या को जोर शोर से उठाया गया और फिल्म में अकाली दल की सरकार को नशे की समस्या के लिए जिम्मेदार ठहराया गया, इस मुद्दे को कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने भुनाया, पंजाब के अकाली दल के खिलाफ जमकर प्रचार किया, अकालियों को नशे को बढ़ावा देने का आरोप लगाया और बादल सरकार को पंजाबा से साफ़ कर दिया.

फिल्म उड़ता पंजाब के निर्माता-निर्देशकों के अलावा मीडिया ने भी चुनाव से पहले नशे की समस्या को जमकर उठाया और TRP कूटी, लेकिन सरकार बदलने की मीडिया भी अँधा हो गया और उड़ता पंजाब के निर्माता निर्देशक भी अंधे हो गए, ऐसा लगता है कि अकाली दल की सरकार की छवि खराब करने के लिए ही उड़ता पंजाब फिल्म बनायी गयी थी और सोची समझा साजिश के तहत पंजाब में ड्रग समस्या को बढ़ा चढ़ाकर पेश किया गया.

अब आप खुद देखिये, सरकार बदलने के बाद सभी मीडिया अंधे हो गए हैं, अब कोई भी मीडिया, कोई भी अखबार नशे का मुद्दा नहीं उठा रहा है, क्या सरकार बदलते की ड्रग समस्या ख़त्म हो गयी, क्या सरकार बदलते ही पंजाब के युवाओं ने नशा करना छोड़ दिया, राहुल गाँधी जैसे नेता पंजाब के 70 फ़ीसदी युवाओं को नशाखोर बताते थे, क्या अब 70 फ़ीसदी युवाओं ने नशा करना छोड़ दिया.

हमारा कहने का मतलब ये है कि अगर पंजाब में वाकई में नशे की समस्या थी तो अब क्यों ख़त्म हो गयी, मीडिया ने अचानक क्यों ऑंखें बंद कर लीं, क्या चुनाव से पहले ऐसे मुद्दे उठाने से TRP बढती है, अब नशे की समस्या उठाएंगे तो TRP नहीं बढ़ेगी क्योंकि मीडिया वाले भी जानते हैं कि अब कांग्रेस सरकार पांच साल से पहले जाने वाली नहीं है इसलिए 1 साल रह जाएगा तो फिर से TRP बढाने के लिए नशे का मुद्दा उठाना शुरू कर देंगे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राहुल गाँधी ने चुनाव जीतते ही नशे की समस्या ख़त्म करने का वादा किया था लेकिन चुनाव जीतने के बाद नशे को समाप्त करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया, पंजाब में शराब और बीयर की हजारों फैक्ट्रिया हैं जहाँ पर शराब बनती है और युवा उन्हें पीकर बर्बाद हो रहे हैं, कांग्रेस ने कहा था कि वे शराब बंद करवा देंगे, अफीम की तस्करी बंद करवा देंगे लेकिन कुछ भी नहीं किया. जब तक मीडिया इस मुद्दे को नहीं उठाएगा सरकार भी कुछ नहीं करेगी. अब देखते हैं कि मीडिया कब अपनी ऑंखें खोलता है, यह भी देखना है कि उड़ता पंजाब पार्ट 2 फिल्म बनती है या नही.

Jun 15, 2017

किसानों की कर्जमाफी का वादा भूली कांग्रेस, अकाली नेताओं ने याद दिलाया तो सिद्धू ने दी गालियाँ

किसानों की कर्जमाफी का वादा भूली कांग्रेस, अकाली नेताओं ने याद दिलाया तो सिद्धू ने दी गालियाँ

navjot-singh-aidhu-abuse-akali-leaders-in-panjab-assembly

Chandigarh: आपको याद दिला दें कि पंजाब में चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी ने जमकर लोकलुभावन वादे किये थे जिसमें किसानों की कर्जमाफी का वादा भी शामिल था, कांग्रेस ने किसानों के वोट लेकर पंजाब में सरकार बना ली लेकिन कर्जमाफी का वादा भूल गयी, आज पंजाब विधानसभा में अकाली नेताओं ने कांग्रेस को उनका वादा याद दिलाया तो कथित तौर पर नवजोत सिंह सिद्धू ने उन्हें गन्दी गन्दी गालियाँ दी और उनकी आवाज बंद कराने की कोशिश की.

जानकारी के अनुसार अकाली नेताओं ने आज पंजाब में किसानों की कर्जमाफी और उनकी आत्महत्याओं का मुद्दा उठाते हुए जमकर हंगामा किया जिसके बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने उन्हें अपनी सीट पर बैठे बैठे ही जमकर गालियाँ दी.

अब अकाली दल के नेता नवजोत सिंह सिद्धू से सदन में माफी मांगने की जिद पर अड़ गए हैं, अकाली नेताओं का कहना था कि सिद्धू ने उन्हें उस वक्त गालियाँ दी जब वे किसानों की कर्जमाफी और आत्महत्या के मुद्दे पर स्थगन प्रस्ताव लाने की मांग कर रहे थे.