Showing posts with label Politics. Show all posts
Showing posts with label Politics. Show all posts

Sep 21, 2017

राहुल गाँधी ने NRIs से की कांग्रेस से जुड़ने की अपील, मोदी सरकार को उखाड़ फेंकने में मांगी मदद

राहुल गाँधी ने NRIs से की कांग्रेस से जुड़ने की अपील, मोदी सरकार को उखाड़ फेंकने में मांगी मदद

rahul-gandhi-appeal-nris-to-joint-congress-against-modi-sarkar

राहुल गाँधी ने कल अमेरिका के टाइम्स स्क्वायर में कुछ NRIs के सामने भाषण दिया. उन्होंने NRIs से अपील करते हुए कहा कि आप लोग कांग्रेस पार्टी से जुड़ जाइए और देश को बदलने में मेरा साथ दीजिये. उन्होंने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि भारत की विश्व में छवि खराब हो रही है. मैं अमेरिका में डेमोक्रेटिक और रिपब्लिक पार्टी से मिला, उन्होंने मुझसे पूछा - इंडिया में क्या हो रहा है. पहले तो लोग मिल जुलकर रहते थे लेकिन अब क्या हो रहा है. हमारे देश में लोगों को रोजगार नहीं मिल रहा है, मोदी सरकार सिर्फ बड़े बिजनेस को बढाया दे रही है. छोटे और माध्यम उद्योगों पर कोई ध्यान नहीं है. रोजाना 30 हजार लोग जॉब के लिए आते हैं लेकिन उनमें से 450 लोगों को ही जॉब मिल रहा है.

राहुल गाँधी ने NRIs से कहा कि आप लोगों के पास अच्छा ज्ञान और अमझ है इसलिए आप लोगों को भी भारत को बदलने के अभियान में शामिल होना होगा, मैं आप सभी से अपील करता हूँ कि कांग्रेस पार्टी से जुड़ जाइए. हमें आपकी मदद की जरूरत है.

उन्होंने कहा कि NRIs हमारे देश की रीढ़ हैं क्योंकि आप लोग दो दो देशों को संभालते हो. हम आपको बताना चाहते हैं कि भारत की आजादी का आन्दोलन NRIs ने ही शुरू किया था, महात्मा गाँधी NRI थे, जवाहर लाल नेहरु NRI थे, बाबा साहेब अंबेडकर, आजाद, पटेल सब के सब NRI थे. इनमें से हर कोई पहले विदेश गया, बाहर के देशों को देखा, उसके मन में विचार आया, वह भारत वापस आया और भारत को बदलने में सहयोग किया. हमारे देश में दुग्ध क्रांति करने वाले वर्गीज कुरियन भी NRI थे.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी 130 साल पुरानी पार्टी है. हम किसी संस्था का प्रतिनिधि नहीं करते, हम ऐसी विचारधारा का प्रतिनिधि करते हैं जो 1000 साल पुरानी है. हमारे यहाँ कई धर्म के लोग हैं, कई भाषाएँ हैं, सभी लोग मिल जुलकर रहते हैं. यह सिर्फ कांग्रेस की विचारधारा की वजह से होता है.

राहुल गाँधी ने कहा कि अब हमसे लोग सवाल पूछ रहे हैं कि भारत की हार्मोनी को क्या हो रहा है. मैंने अमेरिका में कई जगह भाषण दिया, कई जगह लोगों से बात की, सभी लोगों ने हमसे सिर्फ यही पूछा कि भारत की हार्मोनी को क्या हो रहा है.

Sep 20, 2017

मैं अपने 3 साल का रिपोर्ट-कार्ड दूंगा, राहुल जी अपनी 3 पीढ़ियों का रिपोर्ट कार्ड दें: अमित शाह

मैं अपने 3 साल का रिपोर्ट-कार्ड दूंगा, राहुल जी अपनी 3 पीढ़ियों का रिपोर्ट कार्ड दें: अमित शाह

amit-shah-asked-report-card-of-congress-3-generation-from-rahul-g

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आज कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गाँधी पर करारा हमला बोला है. उन्होंने कहा कि मैं मोदी सरकार के तीन साल का रिपोर्ट कार्ड देने के लिए तैयार हूँ, मैं बताने को तैयार हूँ कि मोदी सरकार ने तीन साल में कौन कौन से काम किये हैं लेकिन मैं यह भी मांग करता हूँ कि राहुल गाँधी अपनी तीन पीढ़ियों के काम काज का हिसाब दें.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राहुल गाँधी विदेशों में जाकर मोदी सरकार की आलोचना कर रहे हैं. उन्होंने कल अमेरिका की प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में कुछ लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने तीन वर्षों में कौन कौन से काम किये हैं उन्हें बताना चाहिए.

अमित शाह ने कहा कि मैं राहुल गाँधी की बात मानने को तैयार हूँ, मैं अपनी सरकार के तीन साल का कामकाज गिनाने को तैयार हूँ लेकिन राहुल गाँधी की तीन पीढ़ियों ने इस देश पर लगातार राज किया है, उनकी परदादा नेहरु ने देश पर राज किया, उनकी दादी इंदिरा गाँधी ने देश पर राज किया, उनके पिताजी राजीव गाँधी ने देश पर राज किया, उनकी माता सोनिया गाँधी ने मनमोहन सिंह के साथ देश पर राज किया. इन्होने करीब 50-60 साल तक देश पर राज किया है. देश के लोग जानना चाहते हैं कि कांग्रेस ने तीन पीढ़ियों ने क्या काम किया है.

अमित शाह ने इस अवसर पर मोदी सरकार की कई योजनायें भी गिनायीं, उन्होंने कहा कि उजाला योजना से हमें गरीबों को फ्री गैस सिलेंडर दिया, मुद्रा योजना से हमें 7 करोड़ युवाओं को रोजगार के लिए लोन दिया, जन धन योजना से गरीबों का बैंक खाता खुलवाया, स्वच्छ भारत अभियान में टॉयलेट बनवाये, सैनिकों के लिये वन रैंक वन पेंशन लागू किया, जहाँ बिजली नहीं थी वहां बिजली पहुंचाई, नोटबंदी करके कालाधन समाप्त किया, सर्जिकल स्ट्राइक करके पाकिस्तान को करारा जवाब दिया और दुनिया में भारत का डंका बजाया. हमने तीन साल में ऐसे कई काम किये हैं लेकिन राहुल गाँधी की 3 पीढ़ियों ने क्या काम क्या है, हम उनसे बताने की मांग करते हैं.
कांग्रेस ‘PPT - पॉलिटिकल पाखंड के टट्टू’ बन गयी है, राहुल गाँधी हैं CEO: मुख़्तार अब्बास नकवी

कांग्रेस ‘PPT - पॉलिटिकल पाखंड के टट्टू’ बन गयी है, राहुल गाँधी हैं CEO: मुख़्तार अब्बास नकवी

mukhtar-abbas-naqvi-name-congress-political-pakhand-ke-tattu-ppt

कांग्रेस और बीजेपी के बीच ज़ुबानी जंग तेज हो गयी है, राहुल गाँधी विदेश में जाकर भारत की बदनामी कर रहे हैं और मोदी सरकार की आलोचना कर रहे हैं. कल उन्होंने अमेरिका की प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में मोदी सरकार के खिलाफ कई बयान दिए. उन्होंने कहा कि भारत में असहिष्णुता है, धार्मिक ध्रुवीकरण किया जा रहा है, बेरोजगारी है, चीन से पीछे है आदि.

आज राहुल गाँधी को जवाब देते हुए मुख़्तार अब्बास नकवी ने कांग्रेस को ही नया नाम दे दिया. उन्होंने कांग्रेस का PPT बताया है, जिसका मतलब है पॉलिटिकल पाखंड के टट्टू. उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी विदेश में जाकर इनटॉलेरेंस का रोना रो रहे हैं, उन्हें भारत की संस्कृति का ज्ञान ही नहीं है इसलिए वे ऐसे बयान दे रहे हैं.

आपको बता दें कि राहुल गाँधी ने प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में कहा था कि बेरोजगारी और इनटॉलेरेंस भारत की सबसे बड़ी समस्या है, राष्ट्रीय सुरक्षा की दृष्टि से भी यह महत्वपूर्ण है.

मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि टॉलरेंस भारत के DNA में है और भारत की संस्कृति का महत्वपूर्ण अंग है. मुझे लगता है कि अब कांग्रेस PPT बन चुकी है - पॉलिटिकल पाखंड के टट्टू, जिसके CEO राहुल गाँधी है. कुछ लोग ऐसे हैं जो भारत की संस्कृति से परिचित ही नहीं हैं. वे ऐसे ही बयान देते रहते हैं.

Sep 18, 2017

दिग्गज IAS अफसर YC MODI बने NIA के अगले डायरेक्टर जनरल, मोदी सरकार का बड़ा फैसला

दिग्गज IAS अफसर YC MODI बने NIA के अगले डायरेक्टर जनरल, मोदी सरकार का बड़ा फैसला

yc-modi-appointed-as-news-nia-director-general-from-31th-october

आज मोदी सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है, 1984 बैच के दिग्गज IAS अफसर YC MODI को नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी (NIA) का अगला डायरेक्टर जनरल नियुक्त किया गया है. वे शरद कुमार की जगह संभालेंगे जिनका कार्यकाल 30 अक्टूबर 2017 को  समाप्त हो रहा है. फिलहाल पद संभालने के लिए YC MODI को अभी 30अक्टूबर तक इन्तजार करना पड़ेगा इसलिए चीजों को समझने के लिये उन्हें टेम्पोररी रूप से NIA का OSD नियुक्त किया गया है. 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि NIA के डीजी की नियुक्ति कैबिनेट की नियुक्ति कमेटी करती है जबकि गृह मंत्रालय इसकी शिफारिश करती है, YC की नियुक्ति 31.05.2021 तक के लिए की गयी है इसलिए मोदी सरकार के साथ मिलकर काम करने के लिये उनके पास बहुत समय है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि YC MODI को एक इमानदार अफसर माना जाता है उन्हें गुजरात दंगों की जांच में सुप्रीम कोर्ट ने SIT टीम का सदस्य बनाया था, उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को कांग्रेस सरकार के प्रेशर के बाद भी गुजरात दंगों में क्लीन चिट दी थी, अगर कोई और अफसर होता तो मोदी को जेल में ठूंस चुका होता और हो सकता है कि कर्नल पुरोहित के जैसा हाल नरेन्द्र मोदी का भी होता, लेकिन YC MODI कांग्रेस सरकार के दबाव में नहीं आये और मोदी एक साथ कुछ भी गलत नहीं किया और उन्हें सुप्रीम कोर्ट से न्याय दिलाया.

Sep 17, 2017

मोदी भी कम होशियार नहीं हैं, अपने जन्मदिन पर नाम नहीं लिया लेकिन कांग्रेस को दिखा दिए तारे

मोदी भी कम होशियार नहीं हैं, अपने जन्मदिन पर नाम नहीं लिया लेकिन कांग्रेस को दिखा दिए तारे

pm-narendra-modi-attack-congress-jawahar-lal-nehru-without-name

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज देश को सरदार सरोवर बाँध के रूप में बहुत बड़ा गिफ्ट भेंट दिया. मोदी ने पहले नर्मदा जिले में सरदार सरोवर बाँध का लोकार्पण किया उसके बाद बड़ोदरा जिले में एक जनसभा को संबोधित किया. उन्होंने आज अपने भाषण में कांग्रेस पार्टी और उसके किसी भी नेता का नाम नहीं लिया लेकिन उन्होंने अपनी चालाकी से कांग्रेसियों को दिन में तारे जरूर दिखा दिए इसी का नतीजा था कि मनीष तिवारी जैसे सभ्य नेता भी असभ्य हो गए और ट्विटर पर मोदी और उनके समर्थकों को गालियाँ बकने लगे.

मोदी ने कहा कि ये आज भारत के लौहपुरुष सरदार पटेल की आत्म जहाँ भी होगी वह हम पर ढेर सारा आशीर्वाद बरसाती होगी. मोदी ने कहा कि 71 साल पहले, आजादी से भी पहले, मेरे जन्मदिन से भी पहले उन्होने सरदार सरोवर डैम का सपना देखा था और आज यह बनाकर पूरा हो गया.

मोदी ने कहा कि आज मैं बड़े विश्वास के साथ कहना चाहता हूँ कि अगर दो महापुरुष कुछ और साल जीवित रहे होते तो ये सरदार सरोवर डैम 60-70 के ही दशक में बन जाता और पश्चिम के सारे राज्य सुजलाम सुफलाम बन गए होते, सब हरे भरे हो गए होते और भारत के अर्थजगत में योगदान दे रहे होते. मोदी ने दोनों महापुरुषों का नाम बताया - सरदार पटेल और भीम राव अंबेडकर.

मोदी ने कहा कि सरदार पटेल ने नर्मदा नदी के महात्मय और सामर्थ्य को और गुजरात की आवश्यकता को समझा, उन्होंने मध्य प्रदेश, महारष्ट्र, राजस्थान और गुजरात के जीवन को एक माँ नर्मदा कैसे बदल सकती है इसका सपना संयोया था, दीर्घदृष्टि से उसकी कल्पना की थी.

मोदी ने कहा कि दूसरे महापुरुष थे डॉ भीम राव अंबेडकर. उन्होंने मंत्रि-परिषद के अपने अल्पकाल में भी भारत में जल क्रांति के लिए, जल शक्ति के लिए, वाटरवेज़ के लिए, सामुद्रिक सामर्थ्य के लिए जितनी योजनायें, जितनी कल्पनाएँ कर रखी थीं उतना शायद ही कोई सरकार सोच सकती है. बाबा साहेब का अध्ययन करने वाले लोग यह भली भाँती जानते होंगे.

मोदी ने कहा कि अगर ये दो महापुरुष कुछ और साल जीवित रहते, हमें उनकी सेवाओं का लाभ कुछ वर्ष अधिक मिला होता तो आज बाढ़ के कारण जो प्रदेश तबाह हो जाते हैं, सूखे के कारण जहाँ का किसान मर रहा है, इन सारी समस्याओं से देश बाहर निकल आता और प्रगति की नयी ऊँचाइयों को पार कर लेता लेकिन यह हमारा दुर्भाग्य रहा कि हमें इन दोनों महापुरुषों को बहुत पहले खो देना पड़ा. लेकिन आज ये सरदार सरोवर डैम भारत को समर्पित हो रहा है, सवा सौ करोड़ देशवासियों को समर्पित हो रहा है, गाँधी और सरकार की धरती से समर्पित हो रहा है.

अब आप सोचिये, मोदी ने आज दो महापुरुषों को याद किया और कहा कि अगर ये होते तो सरदार सरोवर डैम 1960-70 में ही बन गया होता, इसका मतलब यह है कि पंडित जवाहर लाल नेहरु और अन्य कांग्रेस प्रधानमंत्रियों ने जान बूझकर यह बाँध नहीं बनवाया. मोदी ने एक तरह से कांग्रेस पर बहुत बड़ा हमला बोला है, कांग्रेस की गले की नश पर वार किया है जिसकी चोट से कांग्रेस बिलबिला रही है. आपको बता दें कि सरदार बल्लभभाई पटेल के निधन के बाद भी पंडित जवाहर लाल नेहरु 10 साल तक प्रधानमंत्री रहे, उसके बाद इंदिरा गाँधी भी 14 साल प्रधानमंत्री रहीं, उसके बाद राजीव गाँधी प्रधानमंत्री रहे, उसके बाद 10 साल मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री रहे लेकिन यह बाँध नहीं बनवा पाए, यह बाँध मोदी ने अपने दम पर बनवाया, कई सामाजिक संगठनों ने उनके खिलाफ धरना दिया, भूख हड़ताल की, कांग्रेस की केंद्र सरकार ने मोदी की कोई मदद की उल्टा उन्हें परेशान करते रहे लेकिन मोदी ने आखिरकार यह बाँध बनवा ही दिया.
मोदी के जन्मदिन पर अमित शाह बना रहे हैं सेवा दिवस

मोदी के जन्मदिन पर अमित शाह बना रहे हैं सेवा दिवस

amit-shah-celebrating-seva-diwas-on-pm-narendra-modi-birthday

आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्मदिन है, पूरा देश उनका जन्मदिन बना रहा है और उनकी लम्बी आयु की कामना कर रहा है, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह आज का दिन सेवा दिवस के रूप में मना रहे हैं क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी खुद को देश का प्रधान सेवक कहते हैं. अमित शाह से देश के युवाओं को भी आज का दिन सेवा दिवस के रूप में मनाने का आवाहन किया है.

अमति शाह ने आज एक ब्लाग भी पोस्ट किया है जिसमें उन्होंने कहा है - मैं जब से नरेंद्र भाई को जानता हूं, उन्होंने कभी अपना जन्मदिन नहीं मनाया। उनके लिए यह दिन रोज के किसी भी दिन के समान होता है। आज भी वो गुजरात में हैं और सरदार सरोवर बांध राष्ट्र को समर्पित कर रहे हैं। यह परियोजना लाखों किसानों को लाभ पहुंचाएगी। साथ ही वो स्टेचू ऑफ यूनिटी परियोजना की समीक्षा करेंगे, दाभोई में एक विशाल रैली को संबोधित करेंगे और अमरेली में सहकारी क्षेत्र के लोगों के साथ मुलाकात करेंगे।

मुझे प्रसन्नता है कि आज के दिन को विभिन्न क्षेत्रों के लोग सेवा दिवस के तौर पर मना रहे हैं। कई संगठन और स्वयंसेवी संस्थाएं, विशेषतौर पर युवाओं द्वारा संचालित संगठन आज के दिन सामाजिक सेवाओं के प्रयासों का शुभारंभ कर रहे हैं।

नरेंद्र भाई के जन्मदिन को मनाने का सबसे श्रेष्ठ तरीका इसे सेवा दिवस के तौर पर मनाना ही है। नरेंद्र भाई ऐसे व्यक्ति हैं जिनका ह्रदय सदैव गरीबों, समाज के वंचित वर्ग और किसानों के लिए धड़कता रहा है। उनके कल्याण की दिल की गहराई से चिंता करने के भाव ने ही उन्हें अपने युवा काल से राष्ट्र के निर्माण के लिए प्रेरित किया। अपने जीवन के प्रत्येक क्षण को उन्होंने इंडिया फर्स्ट के भाव के साथ जिया है।

नरेंद्र भाई में देश की जनता एक प्रेम और करुणा से भरा नेता देखती है, जिसके साथ वो खुद को जोड़ती है। वे उनमें स्वयं का प्रतिबिंब देखते हैं। एक ऐसा व्यक्ति जो चौबीसो घंटे बिना किसी निजी स्वार्थ के राष्ट्र के कल्याण के काम में लगा है। उनकी लोकप्रियता सभी सीमाएं लांघ गई है।

Sep 16, 2017

गरीबों को अनाज, बिजली, टॉयलेट और घर देना है तो पेट्रोल को मंहगा करना पड़ेगा ना: मंत्री अल्फोंस

गरीबों को अनाज, बिजली, टॉयलेट और घर देना है तो पेट्रोल को मंहगा करना पड़ेगा ना: मंत्री अल्फोंस

union-minister-alphons-kannanthanam-told-petrol-kyon-manhga-hai

कुछ दिनों से मोदी विरोधी लोग पेट्रोल के दाम पर हाय तौबा मचा रखे हैं, कहा जा रहा है कि पेट्रोल की लागत सिर्फ 30 रुपये है जबकि मोदी सरकार 70-80 रुपये में बेच रही है. कुछ मीडिया ने भी इस मामले में हाय तौबा मचाई हुई है. आज ऐसे ही लोगों को केंद्रीय मंत्री अल्फोंस कन्ननथनम ने करारा जवाब दिया.

अल्फोंस कन्ननथनम ने कहा कि हमारी सरकार गरीबों की सरकार है, हमें पिछड़े लोगों की भलाई के लिए काम करना है, सभी घरों में 24 घंटे बिजली सुनिश्चित करनी है, गरीबों के लिए घर और टॉयलेट देना है, सस्ता अनाज देना है. इस सबमे बहुत पैसा खर्च होगा. यह पैसा कहाँ से आएगा. हम इस पैसे की व्यवस्था करने के लिए ऐसे लोगों से टैक्स ले रहे हैं जो अफोर्ड कर सकते हैं.

उन्होंने कहा कि पेट्रोल कौन खरीदता है जिसके पास कार होती है या मोटरसाइकिल होती है, इसका मतलब है कि वह भूखा नहीं मर रहा है. अगर कोई दे सकता है तो देना पड़ेगा. क्योंकि उनसे लेकर ही गरीबों को दिया जाएगा.
वेंकैया नायडू ने राहुल गाँधी को दिया करारा जवाब 'वंशवाद लोकतंत्र को बर्बाद कर देता है'

वेंकैया नायडू ने राहुल गाँधी को दिया करारा जवाब 'वंशवाद लोकतंत्र को बर्बाद कर देता है'

venkaiah-naidu-said-rajvansh-loktantra-ko-nasht-kar-deta-hai

हाल ही में राहुल गाँधी ने राजनीति में वंशवाद का समर्थन करते हुए कहा कि सिर्फ हमारी पार्टी में वंशवाद नहीं है या सिर्फ मैं वंशवाद का प्रतीक नहीं हूँ, हमारे देश में मेरे अलावा अखिलेश यादव, अभिषेक बच्चन, मुकेश अम्बानी, अनुराग ठाकुर जैसे लोग भी वंशवाद का प्रतीक हैं. हमारे देश में ऐसे ही चलता है. हमारे देश के कांग्रेस के अलावा कई पार्टियाँ हैं जो वंशवाद से चल रही हैं जैसे - RJD, SP, BSP, BJD, DMK आदि. यहाँ पर ऐसे ही चलता है.

आज उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू को करारा जवाब देते हुए कहा कि वंशवाद लोकतंत्र के लिए बहुत खतरनाक होता है, यह लोकतंत्र को नष्ट कर देता है.

उन्होंने कहा कि आज राजवंश पर चर्चा चल रही है, मेरा मानना है कि वंशवाद और लोकतंत्र एक साथ नहीं चल सकते, यह हमारे सिस्टम को कमजोर कर देता हिया.

वेंकैया नायडू ने कहा कि मैं ऐसे लोगों का बहुत विरोध करता था लेकिन अब मैं राजनीति से बाहर हूँ इसलिए ऐसे लोगों को जवाब नहीं दे सकता. मैंने आज जो कुछ भी कहा है कि किसी राजनीतिक पार्टी के खिलाफ नहीं कहा है. कोई मेरे बयान को पर्सनल ना ले, मैंने देश के बारे में कहा है.

Sep 13, 2017

दोनों ने 11 सितम्बर को अमेरिका में भाषण दिया, एक ने बुराई की, दूसरे ने भारत सर ऊंचा कर दिया

दोनों ने 11 सितम्बर को अमेरिका में भाषण दिया, एक ने बुराई की, दूसरे ने भारत सर ऊंचा कर दिया

rahul-gandhi-insulted-india-11-september-vivekanand-proud-india

राहुल गाँधी ने अमेरिका में भाषण देने के लिए वही तारीख चुनी जिस तारीख को स्वामी विवेकानंद ने अमेरिका में ही भाषण देकर भारत का मस्तक ऊंचा कर दिया था. स्वामी विवेकानंद का वह भाषण आज भी दुनिया का सबसे आकर्षक और दमदार भाषण माना जाता है, आज भी उस भाषण की सालगिरह मानाई जारी है. कल विवेकानंद के उसी भाषण की सालगिरह थी और राहुल गाँधी ने भी इसी तारीख पर अमेरिका में भाषण दिया.

विवेकानंद और राहुल गाँधी के भाषण में यह अंतर था कि राहुल गाँधी ने अपने भाषण में सिर्फ भारत की बुराई की, ऐसा लग ही नहीं रहा था कि राहुल गाँधी भारत के नागरिक हैं ही नहीं. ऐसा लग ही नहीं रहा था कि राहुल गाँधी को अपने देश से रत्ती भर भी प्यार है. आप देखते हैं कि किसी और के घर में जाकर कोई भी इंसान अपने घर की बुराई नहीं करता, अपने गाँव की बुराई नहीं करता, अपने शहर की बुराई नहीं करता, अपने प्रदेश की बुराई नहीं करता और अपने देश की बुराई नहीं करता. अगर बिहार का कोई युवक महाराष्ट्र जाता है तो वह अपने राज्य की तारीफ करता है, अपने राज्य की बुराई नहीं सुन सकता और ना ही करता है.

अब आप राहुल गाँधी का भाषण देखिये, उन्होंने सिर्फ भारत की यानी अपने घर की बुराई की. उन्होंने कहा कि हमारे भारत में मुस्लिमों पर हमले हो रहे हैं, दलितों को मारा जा रहा है, लिबरल पत्रकारों को गोली मारी जा रही है, राईट विंग के लोगों ने हिंसा पैदा कर दी है, नफरत पैदा कर दी है, धर्मिल धुर्वीकरण हो रहा है, आतंकवाद बढ़ रहा है, सब कुछ बुरा ही बुरा हो रहा है.

अब आप स्वामी विवेकानंद का भाषण देखिये, उन्होंने अपने भाषण में सिर्फ भारत की तारीफ की थी, उस समय भी हमारा देश अंग्रेजों का गुलाम था, उससे पहले भी सैकड़ों वर्षों तक भारत मुगलों का गुलाम रहा था उसके बावजूद भी स्वामी विवेकानंद ने भारत की बुराई नहीं की. उन्होंने सिर्फ यह बताया कि हमारे भारत में अच्छा क्या है, हमारी ताकत क्या है, हम किस प्रकार से दुनिया से अलग हैं, हम किस प्रकार से प्रकृति से प्यार करते हैं, जानवरों से प्यार करते हैं, पेड़-पौधों से प्यार करते हैं, इंसानों से प्यार करते हैं. उन्होंने कहा था कि हम पूरे विश्व को अपना घर मानते हैं. पूरे विश्व के बारे में सोचते हैं. हमारे भारत में विविधता है, कई भाषाएँ हैं, कई बोलियाँ हैं, इतनी विविधता होने के बाद भी हम एक दूसरे से जुड़े हुए हैं.

11 सितम्बर को विवेकानंद ने भारत की तारीफ करके हमारे देश का मस्तक गर्व से ऊंचा कर दिया था और इसी भाषण की वजह से उन्हें इतिहास में जगह मिली, लेकिन राहुल गाँधी ने 11 सितम्बर को अमेरिका में ही भारत की नाक कटा दी, अपने घर की ही बुराई कर दी.
विदेश में जाकर भारत की बुराई कर रहे हैं लेकिन जितनी भी समस्याएँ हैं वह कांग्रेस की वजह से हैं

विदेश में जाकर भारत की बुराई कर रहे हैं लेकिन जितनी भी समस्याएँ हैं वह कांग्रेस की वजह से हैं

rahul-gandhi-not-done-any-development-work-in-amethi-smriti-irani

विदेश में जाकर भारत की बुराई करने वाले और भारत के विकास का भविष्य सुधारने का दावा करने वाले राहुल गाँधी पर आज केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी जमकर बरसीं. उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी विदेश में जाकर भारत की बुराई कर रहे हैं, उनकी बात सुनने वाला भारत में कोई नहीं है इसलिए विदेश में जाकर अपना दुखड़ा रो रहे हैं.

स्मृति इरानी ने कहा कि राहुल गाँधी विदेश में जाकर बड़ी बड़ी बातें कर रहे हैं, उन्हें यह भी बताना चाहिए था कि 18 साल तक सांसद रहने के बावजूद भी उन्होंने अमेठी के विकास के लिए क्या किया, 10 साल तक लगातार उनकी सरकार थी उसके बावजूद भी अमेठी में कोई विकास क्यों नहीं हुआ. जब वे 18 साल में अमेठी को नहीं सुधार पाए तो पूरे भारत को क्या सुधार पाएंगे.

स्मृति इरानी ने कहा कि मोदी पर तंज कसना राहुल गाँधी की पुरानी आदत है लेकिन आज भारत में जो भी समस्याएँ हैं वह कांग्रेस की देन हैं, कश्मीर में जो भी समस्या है वह राहुल गाँधी के पूर्वजों की देन हैं, आतंकवाद की समस्या है तो वह भी कांग्रेस की ही देन है, कांग्रेस ने हमारे देश पर 50-55 साल राज किया है उसी की वजह से यह सब समस्याएँ हैं. 

Sep 12, 2017

देश में राहुल गाँधी को कोई नहीं सुनता, इसलिए विदेश में जाकर दुखड़ा रो रहे हैं: स्मृति इरानी

देश में राहुल गाँधी को कोई नहीं सुनता, इसलिए विदेश में जाकर दुखड़ा रो रहे हैं: स्मृति इरानी

smriti-irani-said-no-one-listen-rahul-gandhi-in-india-so-he-went-us

राहुल गाँधी ने कल अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया में भाषण दिया था. वंशवाद पर बोलते हुए राहुल गाँधी ने कहा कि सिर्फ मैं वंशवाद का प्रोडक्ट नहीं हूँ, मुकेश अम्बानी, अभिषेक बच्चन, अखिलेश यादव, धूमल, स्टॅलिन जैसे कई नेता और बिजनेसमैन वंशवाद का प्रोडक्ट हैं. राहुल गाँधी ने मोदी पर भी जमकर हमला बोला था.

उन्होंने मोदी के बारे में बोलते हुए कहा कि मोदी एक अन्दर मुझसे बढ़िया भाषण देने की कला है लेकिन वे अपने ही लोगों से बात नहीं करते, जब से मोदी प्रधानमंत्री बने हैं तब से कश्मीर में आतंकवादी घटनाएं बढ़ गयी हैं, हमने 2013 में आतंकवाद की कमर तोड़ दी थी लेकिन अब मोदी सरकार ने फिर से आतंकवाद खडा कर दिया है. अब हमारे देश में दलितों को मारा जा रहा है, मुस्लिमों को मारा जा रहा है, लिबरल पत्रकारों को मारा जा रहा है. नफरत फैलाई जा रही है. धार्मिक ध्रुवीकरण किया जा रहा है. मोदी ने देश पर नोटबंदी थोपकर आर्थिक संकट खड़ा कर दिया, देश की GDP 2 फ़ीसदी घट गयी.

इसी बात पर प्रतिक्रिया देते हुए स्मृति इरानी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसना राहुल गाँधी जी के लिए कोई नयी बात नहीं है. लेकिन ये भी अपने आप में उनकी फेल्ड स्ट्रेटेजी का प्रतीक है क्योंकि जिस देश में वह राजनीतिक पार्टी का नेतृत्व करते हैं उस देश के नागरिकों द्वारा उनके इस कथन का समर्थन प्राप्त ना होने के बाद अब वो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी राजनीतिक पीड़ा को व्यक्त कर रहे हैं. 

स्मृति इरानी ने कहा कि शायद राहुल गाँधी फिर भूल गए हैं कि वोटर तो भारतीय नागरिक ही हैं और उस वोटर ने 2014 में अपने वोट के माध्यम से देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीजी में अपना विश्वास व्यक्त किया है.

स्मृति इरानी ने कहा कि ये भी उचित होगा कि आज राहुल गाँधी जी ने जब विदेश में कहा कि हिंदुस्तान तो ऐसा ही है, यहाँ पर वंशवाद वाले ही सब कुछ चलाते हैं, शायद वह भूल गए हैं कि आजाद हिंदुस्तान में आज कई ऐसे नागरिक हैं जो कई क्षेत्रों में योगदान देते हैं लेकिन वे किसी राजनीतिक परिवार से नहीं है.

स्मृति इरानी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी स्वयं एक सामान्य गाँव से आते हैं. गरीब परिवार में जन्में हैं, भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी एक ऐसे परिवार से हैं जो पिछड़े समाज में गिना जाता है, उपराष्ट्रपति जी किसान के बेटे हैं और संघर्ष के बाद उन्हें ये दाइत्व प्राप्त हुआ है. अपने आप में भारत के संवैधानिक पदों पर इन तीन व्यक्तियों का होना इस बात का संकेत है कि एक जीवंत लोकतंत्र में वंशवाद की नहीं बल्कि मेरिट की जरूरत होती है. आज एक फेल वंशवाद ने अमेरिका में अपनी फेल राजनीति का वर्णन किया है.
स्मृति इरानी ने कहा, राहुल गाँधी ने 2014 चुनाव में हार के लिए ठहराया अपनी माँ को जिम्मेदार

स्मृति इरानी ने कहा, राहुल गाँधी ने 2014 चुनाव में हार के लिए ठहराया अपनी माँ को जिम्मेदार

rahul-gandhi-accused-sonia-gandhi-for-2014-election-loss-smriti-irani

राहुल गाँधी ने कल अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया में भाषण दिया था. उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर हमला बोला साथ ही कांग्रेस के बारे में भी कुछ ऐसा कह दिया जिससे उनके विरोधियों को उनकी हंसी उड़ाने का मौका मिल गया. राहुल गाँधी ने कहा कि मुझे 2012 में लग गया था कि कांग्रेस पार्टी में कुछ घमंड आ गया है और शायद हम इसी वजह से चुनाव हारे.

आज इसी बात पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने राहुल गाँधी का जमकर मजाक उड़ाया. उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी को 2012 में इस बात का अहसास हो गया था कि कांग्रेस घमंडी हो रही है. शायद देश की राजनीति में ये पहला मौका होगा कि कांग्रेस के उपाध्यक्ष ने कांग्रेस की अध्यक्षा के ऊपर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर एक तंज कसा है. शायद वह भूल गए थे कि 2012 में कांग्रेस पार्टी की कमान उनकी माँ सोनिया गाँधी के हाथों में थी.

स्मृति इरानी ने कहा कि राहुल गाँधी का ये उल्लेख करना कि कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गाँधी के नेतृत्व में कांग्रेस घमंडी हो रही और चुनाव हार गयी, ये अपने आप में बहुत बड़ा पोलिटिकल कॉन्फेशन है राहुल गाँधी के द्वारा. राहुल गाँधी ने खुद ही स्वीकार कर लिया है कि सत्ता के घमंड में चूर होने की वजह से कांग्रेस चुनाव हार गयी.
राहुल गाँधी ने दुनिया के सामने किया कबूल, MODI मुझसे अच्छा बोलते हैं, दमदार-असरदार बोलते हैं

राहुल गाँधी ने दुनिया के सामने किया कबूल, MODI मुझसे अच्छा बोलते हैं, दमदार-असरदार बोलते हैं

rahul-gandhi-accept-pm-narendra-modi-communication-skill-better

राहुल गाँधी इस वक्त यूनाइटेड स्टेट्स अमेरिका के दौरे पर हैं. कल उन्होंने बरकेली में विदेशी मीडिया को एक इंटरव्यू दिया. राहुल गाँधी ने इस इंटरव्यू में दुनिया के सामने कबूल कर लिया कि प्रधानमंत्री मोदी उनसे अच्छा भाषण देते हैं, उनका भाषण दमदार और असरदार होता है, वे लोगों को अपना सन्देश अच्छी तरफ और प्रभावी तरीके से देते हैं.

राहुल गाँधी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के अन्दर कुछ गुण तो है, वे एक अच्छे कम्म्युनिकेटर हैं, मुझसे भी अच्छे हैं, वे अच्छा भाषण देते हैं, प्रभावी तरीके से देते हैं लेकिन वे अपने अपने साथ काम करने वाले लोगों से बातचीत नहीं करते, उनके सांसद खुद यह बात बोलते हैं.

वंशवाद पर बोलते हुए राहुल गाँधी ने कहा कि - सिर्फ हमारे परिवार में वंशवाद नहीं है, मुकेश अम्बानी भी वंशवाद की वजह से हैं, अभिषेक बच्चन भी वंशवाद की वजह से हैं.

Sep 9, 2017

बहुत सटीक और ठोस काम करते हैं PM MODI, मुद्रा योजना से मिला 5.5 करोड़ लोगों को रोजगार, वाह

बहुत सटीक और ठोस काम करते हैं PM MODI, मुद्रा योजना से मिला 5.5 करोड़ लोगों को रोजगार, वाह

pradhanmantri-mudra-yojna-pmmy-created-5-crore-jobs-in-2-year

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 8 अप्रैल 2015 को प्रधान मंत्री मुद्रा योजना (PMMY) की शुरुआत की थी. इस योजना में पढ़े लिखे और मेहनती युवाओं को बिजनेस करने, उद्योग लगाने के लिए सस्ता लोन देने की सुविधा थी. मोदी ने सोचा था कि हमारे देश के पढ़े लिखे युवा नौकरी के लिए दर दर भटकने का बजाय खुद उद्योग खोलें और लोगों को खुद नौकरी दें. मोदी सरकार ने करीब 8 करोड़ लोगों को करीब 3.42 लाख करोड़ रुपये लोन दिया. यह रिपोर्ट SKOCH ने छापी है.

अब 8 करोड़ युवाओं ने सिर्फ 2 साल में 5.5 करोड़ लोगों को रोजगार दिया है. मतलब मोदी सरकार की योजना काम कर गयी है, मोदी यही तो चाहते थे कि हमारे युवा जॉब ढूँढने वाले नहीं बल्कि जॉब पैदा करने वाले बने और हमारे युवाओं ने मोदी का सपना सच कर दिया. सिर्फ 2 साल में 5.5 करोड़ लोगों को रोजगार दे दिया. अभी तो ये शुरुआत है. जैसे जैसे उनका उद्योग फलेगा और फूलेगा, लोगों के लिए रोजगार बढेगा और मोदी का सबको रोजगार देने का सपना सच होगा.

दुःख की बात यह है कि मोदी सरकार की मुद्रा योजना का सबसे अधिक फायदा इंडस्ट्रियल स्टेट्स को मिला है जैसे - कर्नाटक, तमिलनाडु, महाराष्ट्र. यहाँ के युवाओं ने मोदी सरकार की योजना का जमकर फायदा उठाया. इन्होने मोदी सरकार से सस्ता लोन लेकर खूब उद्योग खोले और युवाओं को खूब रोजगार दिए लेकिन अभी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार और पूर्वी राज्यों में मोदी सरकार की यह योजना सफल नहीं हुई है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी की मुद्रा योजना सिर्फ कृषि के लिए छोड़कर अन्य सभी व्यवसायों के लिए है. इसमें 10 लाख रुपये तक लोन दिया जाता है. मोदी सरकार की इस योजना का लोगों ने जमकर लाभ उठाया, खुद के लिए तो रोजगार पैदा किया ही, 5.5 करोड़ अन्य लोगों के लिए भी रोजगार पैदा किया.
कांग्रेस को ख़त्म करने में मोदी की सबसे अधिक मदद कर रहे हैं दिग्विजय सिंह: रवीश कुमार

कांग्रेस को ख़त्म करने में मोदी की सबसे अधिक मदद कर रहे हैं दिग्विजय सिंह: रवीश कुमार

digvijay-singh-give-congress-mukt-bharat-credit-to-digvijay-singh

कथित तौर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को गुंडा कहने पर रवीश कुमार की सोशल मीडिया पर जमकर आलोचना हो रही है हालाँकि रवीश कुमार ने साफ़ कर दिया है कि मैंने प्रधानमंत्री मोदी को गुंडा नहीं कहा, यह सब फेक पोस्ट चल रही हैं और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने फेक पोस्ट शेयर की है. 

रावीश कुमार ने कहा कि असल में हुआ क्या है, विपक्ष को तो ख़त्म कर दिया गया है. आयकर, CBI और खुद कांग्रेस की करनी की वजह से. विपक्ष में बहुत सारी समस्याएँ हैं, दिग्विजय सिंह हैं विपक्ष में और क्या चाहिए. दिग्विजय सिंह से बीजेपी को और फायदा हो रहा है.  

रवीश कुमार ने कहा कि विपक्ष ख़त्म हो गया है और मैं मोदी की आलोचना कर रहा हूँ, इसलिए विपक्ष के लोग सोच रहे हैं कि बहुत अच्छा है कि रवीश कुमार मोदी के खिलाफ बोल रहा है. इन लोगों ने एक तरह से अपना काम मुझे आउटसोर्स कर दिया है, लोग समझते हैं कि मैं विपक्ष के इशारे पर काम कर रहा हूँ. 

रवीश कुमार ने कहा कि मोदी समर्थक ऐसा समझते हैं कि नरेन्द्र मोदी का कोई अवतार हुआ है इसलिए उनकी आलोचना नहीं करनी चाहिए, मैं ऐसा नहीं मानता और मैं उनकी आलोचना करूँगा. रवीश ने कहा कि मैंने एक बार प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की भी आलोचन की थी, मैंने एक स्कूल में मिड डे मील के बारे में खबर दिखाई थी और कहा था कि मनमोहन सिंह आयें और खुद यह भोजन खाकर देखें, उस समय ये सभी ट्रोल मेरे बहुत भक्त हुआ करते थे लेकिन आज मुझे गलत बता रहे हैं क्योंकि अब मैं नरेन्द्र मोदी की आलोचना कर रहा हूँ.

Sep 6, 2017

RG से बोले शाहनवाज, कर्नाटक में तुम्हारी सरकार फिर भी हर घटना के लिए हम जिम्मेदार, ऐसा क्यों?

RG से बोले शाहनवाज, कर्नाटक में तुम्हारी सरकार फिर भी हर घटना के लिए हम जिम्मेदार, ऐसा क्यों?

shahnawaz-hussain-ask-why-not-u-arrest-who-killed-gauri-lankesh

कर्नाटक की महिला पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या ने देश में बवाल मचा दिया है. राहुल गाँधी ने बिना किसी सबूत के उनकी हत्या का आरोप सीधा मोदी, बीजेपी, आरएसएस पर लगा दिया. आज बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने राहुल गाँधी को सीधा जवाब हुए कहा कि आपको कोई हक नहीं है बीजेपी और केंद्र सरकार पर बिना सबूतों के आरोप लगाएं. कर्नाटक में आपकी सरकार है उसके बाद भी हर घटना के लिए हम लोग जिम्मेदार हैं. आप जांच कराइए और दोषी लोगों को पकड़कर सजा दीजिये. आप CBI से जांच कराइए. आप अपनी कमियां छुपाने के लिए हम पर अनर्गल आरोप लगा रहे हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वामपंथी समर्थक और हिंदुत्व विरोधी पत्रकार गौरी लंकेश को गोली मारे जाने के बाद आज राहुल गाँधी ने प्रतिक्रिया देते हुए बिना सोचे समझे इसका आरोप मोदी, बीजेपी, आरएसएस और केंद्र सरकार पर लगा दिया. वैसे तो कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार है इसलिए सबसे पहली जिम्मेदारी कांग्रेस सरकार और वहां के कांग्रेसी मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की बनती है लेकिन राहुल गाँधी ने उनसे कोई सवाल नहीं पूछा और सीधा मोदी पर आरोप लगाया.

राहुल गाँधी ने कहा कि मोदी जी केवल एक विचारधारा को आगे करना चाहते हैं इसलिए उनके खिलाफ लिखने वालों को मारा, पीटा जाता है, उन्हें गोली मारी जाती है. गौरी लंकेश की आवाज को बीजेपी वालों ने दबा दिया, आरएसएस के लोगों ने उन्हें मार दिया.
बांग्लादेश बॉर्डर को सील करने का 95 फ़ीसदी काम पूरा, जबरजस्त तेजी से काम कर रही है मोदी सरकार

बांग्लादेश बॉर्डर को सील करने का 95 फ़ीसदी काम पूरा, जबरजस्त तेजी से काम कर रही है मोदी सरकार

modi-sarkar-completed-bangladesh-border-fensing-95-percent-work

मोदी सरकार कितना तेजी से काम करती है इस बात से इसी बात का अंदाजा लग जाता है कि बांग्लादेश बॉर्डर पर बाड़ लगाने का 95 फ़ीसदी काम पूरा कर लिया गया है, अब सिर्फ पांच फ़ीसदी काम नदियों, नालों और अन्य दुष्कर स्थानों पर ही बाड़ लगाने का काम बाकी जिसे जिसे जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा और बंगलादेश बॉर्डर को पूरी तरह से सील कर दिया जाएगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बाड़ के बीच बीच में गेट भी लगाए गए हैं जिसके जरिये काम के समय दोनों देशों के नागरिक परमिशन लेकर आ जा सकेंगे. इस समय दोनों देशों के रिश्ते बहुत अच्छे हैं इसलिए इस काम में भी आसानी हो रही है.

बाड़ लगाने के काम की स्थिति की जानकारी BSF चीफ केके शर्मा ने दी है. भारत और बांग्लादेश दोनों मिलकर यह बाड़ लगा रहे हैं, पिछले साल भारत बांग्लादेश बॉर्डर पर समझौता हुआ था जिसके तुरंत बाद 250 गाँवों को कवर करने के लिए बाड़ लगाने का काम शुरू हुआ. ये सभी गाँव बांग्लादेश की तरफ पड़ते हैं. बाड़ लगाने के बाद घुसपैठ के साथ साथ कई तरह के अपराध भी बंद हो जाएंगे. 

बाड़ लगाने के बाद जानवरों की स्मगलिंग में 5-6 लाख की कमी आयी है. इससे पहले 23 लाख जानवरों की स्मगलिंग होती थी. BSF ने कहा कि हम इसे पूरी तरह से रोकना चाहते हैं.

Sep 5, 2017

BRICS में PM MODI ने किया आतंकवाद पर वार, दर्द से बिलबिला उठा पाकिस्तान: पढ़ें क्या कहा

BRICS में PM MODI ने किया आतंकवाद पर वार, दर्द से बिलबिला उठा पाकिस्तान: पढ़ें क्या कहा

pm-narendra-modi-war-on-terrorism-pakistan-rejects-brics-call

BRICS में प्रधानमंत्री मोदी की शातिर चाल और आतंकवाद पर BRICS देशों द्वारा मिलकर किये गए वार से पाकिस्तान दर्द से बिलबिला उठा है. इस मीटिंग में ब्रिक्स के सभी देशों ने आतंकवाद की कड़ी निंदा की थी और पाकिस्तान के कई आतंकवादी संगठनों को विश्व शांति के लिए खतरा बताया था. इन आतंकवादी संगठनों में - तालिबान, ISIL, अल कायदा, इस्टर्न तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट, इस्लामिक मूवमेंट ऑफ़ उज्बेकिस्तान, हक्कानी नेटवर्क, लश्करे तैयबा, जैश-ए-मुहम्मद, टीटीपी और हिजबुत-तहरीर शामिल हैं.

पाकिस्तान को पहले उम्मीद नहीं थी कि BRICS देश आतंकवाद पर चर्चा करेंगे क्योंकि यह मीटिंग चीन में हुई थी और पाकिस्तान चीन को अपना दादा समझता है, मोदी ने इसकी परवाह नहीं की और अपने भाषण में आतंकवाद का जिक्र किया, मोदी की बात को सभी सदस्य देशों ने माना और आतंकवाद के खिलाफ साथ मिलकर लड़ने का वादा किया. सभी देशों ने उपरोक्त आतंकवादी संगठनों का नाम भी लिया. इनमें से कई आतंकवादी संगठन पाकिस्तान से ही संबधित हैं और इनके आतंकवादी पाकिस्तान में खुलेआम रैलियां करते हैं.

पाकिस्तान ने आज BRICS देशों की आतंकवाद पर घोषणा को रिजेक्ट कर दिया. पाकिस्तान ने कहा कि हमारा देश आतंकवादियों का हैवन नहीं है. हम अपनी जमीन का इस्तेमाल आतंकवादियों को नहीं करने देते जैसा कि लोग कह रहे हैं.

पाकिस्तान के रक्षा मंत्री खुर्रम दस्तगीर ने कहा कि हम BRICS देशों की घोषण को रिजेक्ट करते हैं, हमने हमेशा आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ी है, कई आतंकवादी संगठनों को ख़त्म किया है. पाकिस्तान ने कहा कि 40 फ़ीसदी अफगानिस्तान आतंकवादियों के लिए स्वर्ग है. पाकिस्तान ने यह भी कहा कि हम अपने सहयोगियों के साथ मिलकर यूनाइटेड स्टेट के उस बयान का भी विरोध करेंगे जिसमें पाकिस्तान के खिलाफ बयान दिया गया है और हमें आतंकवाद का गढ़ बताया गया है.

Sep 4, 2017

दो धुरंधर सेनापतियों से एक साथ मिलकर किरण रिजिजू को आ गया जोश, पढ़ें क्या कहा?

दो धुरंधर सेनापतियों से एक साथ मिलकर किरण रिजिजू को आ गया जोश, पढ़ें क्या कहा?

kiren-rijiju-meet-with-general-vk-singh-and-general-bipin-rawat

गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू आज दो सेनापतियों से एक साथ मिले. जनरल वीके सिंह पूर्व में सेनापति रह चुके हैं जबकि जनरल बिपिन रावत वर्तमान में सेनापति हैं. स्वभाव में बिपिन रावत भी कड़क मिजाज हैं इसलिए वीके सिंह की उनसे खूब बनती है. यही वजह थी कि वीके सिंह बिपिन रावत के साथ किरण रिजिजू से मिलने गए और तीनों लोगों से काफी देर तक बात की. इस दौरान तीनों लोग जमकर ठहाके मारते दिखे.

बाद में किरण रिजिजू ने ट्विटर पर फोटो भी शेयर की. उन्होने कहा कि दो धुरंधर सोल्जरों जनरल वीके सिंह और जनरल बिपिन रावत से एक साथ मिलकर अच्छा लगा, हमने काफी व्यवहारिक बातचीत की.

kiren-rijiju-general-vk-singh-and-general-bipin-rawat-image
अमित शाह कई वर्ष पहले ले चुके हैं कांग्रेस को खत्म करने की प्रतिज्ञा, पढ़ें कब और क्यों?

अमित शाह कई वर्ष पहले ले चुके हैं कांग्रेस को खत्म करने की प्रतिज्ञा, पढ़ें कब और क्यों?

amit-shah-have-taken-pratigya-to-finish-congress-completely

बहुत सारे लोग सोचते हैं कि अमित शाह कांग्रेस के पीछे हाथ धोकर क्यों पड़ गए हैं, एक एक राज्य से कांग्रेस को क्यों ख़त्म करते जा रहे हैं, ऐसा क्यों है कि अमित शाह जिस भी राज्य में जाते है वहां भगदड़ मच जाती है और कांग्रेसी नेता भाग भाग कर बीजेपी में आना शुरू कर देते हैं. अब तो कांग्रेस पार्टी के लोग भगवान से मनाते हैं कि अमित शाह का किसी राज्य में दौरा ना हो. क्या पता कितने टूटकर बीजेपी में आ जाएं.

आपको बता दें कि अमित शाह और कांग्रेस का बैर कोई नया नहीं है. कांग्रेस ने उनके साथ कुछ ऐसा किया है कि अमित शाह कांग्रेस को मिटाने की ही कसम खा चुके हैं. आपको बता दें कि कांग्रेस की वजह से उन्हें 2 साल तक गुजरात से तड़ीपार रहना पड़ा था, यही नहीं कांग्रेस ने उन्हें 90 दिन के लिए जेल भी भेज दिया था.

बात उस वक्त की है जब गुजरात में दंगे हुए थे. उस समय वे मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के काफी करीबी थे इसलिए उनपर भी दंगों में शामिल होने के आरोप लगा दिए गए और कुछ समय के लिए जेल में बंद करवा दिया गया. उनकी एक वेबसाइट में इस बात का जिक्र है कि नरेन्द्र मोदी का करीबी होने की वजह से उन्हें कांग्रेस ने निशाना बनाया.

इसके बाद 2010 में आतंकवादी सोहराबुद्दीन एनकाउंटर का मामला आया. गुजरात पुलिस ने उसका एनकाउंटर का दिया था, उस वक्त अमित शाह गुजरात के गृह मंत्री थे. कांग्रेस ने इस एनकाउंटर को फर्जी बताया. कांग्रेस की केंद्र में सरकार थी इसलिए इंटेलिजेंस एजेंसियों का मिसयूज करके अमित शाह को फंसा दिया गया और उन्हें 90 दिन के लिए जेल भेज दिया गया. उनकी जमानत इस शर्त पर हुई कि उन्हें 2 साल तक गुजरात से तड़ीपार रहना पड़ेगा. अमित शाह 2 साल तक गुजरात में नहीं घुस पाए लेकिन इस दौरान उन्होंने पूरे देश में रैलियां करके केंद्र से कांग्रेस सरकार को उखाड़ फेंका. बाद में 2015 में CBI स्पेशल कोर्ट ने उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया.

आपको बता दें कि 2010 में जब कांग्रेस ने अमित शाह को 90 दिन के लिए जेल में बंद करवाया तो उसी दौरान अमित शाह ने कांग्रेस को जड़ से मिटाने की कसम खा ली थी. वे जेल में थे तो उस वक्त सभी कैदियों को गीता का श्लोक सुनाते थे और कांग्रेस को ख़त्म करने की कसम खाते थे.