Showing posts with label Madhya Pradesh. Show all posts
Showing posts with label Madhya Pradesh. Show all posts

Thursday, February 16, 2017

शिवराज सिंह ने बीजेपी विधायकों को ज्ञान और तर्कशक्ति बढाने की सलाह दी, पढ़ते रहो, सीखते रहो

शिवराज सिंह ने बीजेपी विधायकों को ज्ञान और तर्कशक्ति बढाने की सलाह दी, पढ़ते रहो, सीखते रहो

mp-latest-news
पचमढ़ी, 15 फरवरी: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पार्टी के विधायकों को अपना ज्ञान बढ़ाने की सलाह देते हुए कहा कि ज्यादा अध्ययन करने से वे ज्यादा तार्किक तरीके से और तथ्यों के साथ अपनी बात लोगों के सामन रख पाएंगे, जिससे उनकी और पार्टी की छवि निखरेगी। मध्यप्रदेश की पर्यटन नगरी पचमढ़ी में बुधवार को दो दिवसीय विधायक प्रशिक्षण शिविर के समापन सत्र में चौहान ने कहा कि, "विधायकों केा अध्ययन बढ़ाकर तथ्यों और तकरे के साथ अपनी बात रखने का सामथ्र्य और बढ़ाना चाहिए, जिससे हम कहीं भी अपनी बात लेकर जाएंगे तो उसे न मानने का कोई कारण किसी के पास नहीं रहेगा। ऐसा करने से समाज में हमारी छवि निखरेगी और जब हमारी छवि निखरेगी तब निश्चित ही भारतीय जनता पार्टी की छवि भी और निखरेगी।"

चौहान ने अपने विधायकों से कहा है, "वे समय का बेहतरीन इस्तेमाल करने के लिए योजना बनाए और जनता के हित के कामों को अधिक से अधिक समय देकर करने का प्रयत्न करें।"

उन्होंने कहा कि सरकार दिन रात मध्यप्रदेश की जनता की सेवा में नई-नई योजनाएं और प्रकल्प लेकर आ रही हैं। विकास के काम दस गुना रफ्तार से आगे बढ़ रहे हैं। इन सभी कार्यो का भूमिपूजन और लोकार्पण उस क्षेत्र के समूचे समाज को साथ लेकर करना चाहिए। 

चौहान ने बताया कि एक मई को आदि गुरु शंकराचार्य की जंयती है। इसे हर जिला स्तर और ग्राम स्तर पर मनाने की योजना है। ओंकारेश्वर में शंकराचार्य की अष्टधातु की प्रतिमा स्थापित की जाना चाहिए, इसके लिए घर घर से धातु मांगी जाएगी। 

समापन सत्र के मंच पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सत्यनारायण जटिया और प्रदेश महामंत्री अजयप्रताप सिंह उपस्थित थे।

Saturday, February 11, 2017

महात्मा गाँधी पहले सेवा को बोझ समझते थे, एक 10 वर्ष की बालिका ने उनकी अंतरात्मा को जगाया: भागवत

महात्मा गाँधी पहले सेवा को बोझ समझते थे, एक 10 वर्ष की बालिका ने उनकी अंतरात्मा को जगाया: भागवत

mohan-bhagwat-told-mahatma-gandhi-understood-service-burden

भोपाल, 10 फरवरी: केंद्र और मध्यप्रदेश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के मार्गदर्शक संगठन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने एक दृष्टांत के जरिए बताया कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी 'सेवा' को बोझ समझते थे, उन्हें 10 साल की एक बच्ची ने बताया था कि सच्ची सेवा क्या है। साथ ही केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की कार्यशैली की सराहना करते हुए उसकी कोशिशों की तुलना संत रविदास (रैदास) के काल से की। संघ प्रमुख ने कहा कि संत रविदास के काल में पसीने के फूल खिलते थे, जिनकी सुगंध अलग ही होती थी, अब एक बार फिर पसीने के फूल खिलाने की बात हो रही है, इसलिए अब देश फिर से बड़ा होगा। 

संत रविदास जयंती के मौके पर मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के लाल परेड मैदान में शुक्रवार को संघ से संबद्ध सेवा भारती के रजत जयंती वर्ष पर आयोजित श्रम साधक संगम (सम्मेलन) में भागवत ने सेवा को परिभाषित करते हुए कहा कि सेवा अपनेपन के भाव के चलते हो जाती है। यह करनी नहीं पड़ती, बल्कि अपने आप हो जाती है, सेवा बोझ नहीं होती। 

उन्होंने एक दृष्टांत देते हुए कहा, "पुणे में एक बार महात्मा गांधी पहाड़ी से उतर रहे थे, तो उन्होंने 10 साल की एक बालिका को पांच साल के भाई को कंधे पर बैठाए देखा तो कहा कि उसे कंधे से उतारो, वह चल सकता है, बोझ क्यों ढो रही हो। तब उस बालिका ने गांधी से कहा था कि क्या बात कर रहे हैं आप, अपना भाई बोझ होता है क्या?"

याद रहे कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आरएसएस को महात्मा गांधी की हत्या के लिए जिम्मेदार ठहरा चुके हैं। इस कारण पुणे में उन पर मानहानि का मुकदमा चल रहा है। गांधी का हत्यारा नाथूराम गोडसे गांधी की हत्या से पहले आरएसएस से निकल चुका था। राहुल का कहना है वह कि आरएसएस की हिंदूवादी विचारधारा को गांधी की हत्या के लिए जिम्मेदार मानते हैं। गोडसे भले ही आरएसएस छोड़ चुका था, लेकिन उसकी विचारधारा वही थी। गांधी की हत्या के समय वह अखिल भारतीय हिंदू महासभा का सदस्य था।

संघ प्रमुख भागवत ने श्रम साधकों को समझाया कि अपनों की सेवा कोई बोझ नहीं होती। उन्होंने कहा कि कोई काम छोटा-बड़ा नहीं होता, जिस देश में श्रम का सम्मान होता है, वही देश प्रगति करता है, संत रविदास जी का भी संदेश है कि अपने श्रम को कम मानो, क्योंकि समाज को उसकी जरूरत है। 

भागवत ने कहा , "रैदास की कीर्ति जब हर तरफ फैलने लगी तो लोग उनके पास जाने लगे, उनके पास तक जाने वाले रास्तों में लोगों को फूलों की नई तरह की खुशबू आई, जिस पर लोगों ने फूलों के बारे में पूछा तो रैदास ने पसीने के फूलों की खुशबू और उन फूलों को श्रम से गिरे पसीने के फूल बताया, पसीने के फूल खिलना बंद हो गया, तो देश अधोगति में चला गया। अब पसीने के फूल फिर से खिलाने की बात हो रही है, इसलिए देश बड़ा होगा।"

सेवा भारती के उद्देश्यों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा, "हिंदू समाज कुटुंब के समान है, इस कुटुंब में एक को मिले और बाकी को नहीं मिले, यह नहीं चलेगा। जिनको मिला है वह दूसरों को देने की कोशिश करें, यह बोझ नहीं है, यह सेवा की बात है।"

इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्रम साधकों के लिए भूखंड और उस पर आवास बनाने के लिए जल्द कानून लाने का वादा किया। साथ ही सरकार की योजनाओं को भी गिनाया। 

भागवत राज्य के आठ दिवसीय दौरे पर हैं। उन्होंने मंगलवार को भोपाल में संघ के प्रमुख पदाधिकारियों के साथ बैठक की थी, बुधवार को बैतूल में हिंदू सम्मेलन और गुरुवार को होशंगाबाद के बनखेड़ी में भाउ साहब भुस्कुटे स्मृति लोक न्यास के रजत जयंती समारोह में हिस्सा लिया था। 

उन्होंने चौथे दिन शुक्रवार को रायपुर में श्रम साधक सम्मेलन में हिस्सा लिया। भागवत के प्रवास और लाल परेड मैदान में कार्यक्रम के आयोजन के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए। भाजपा के मार्गदर्शक की सुरक्षा के लिए राजधानी के कई मार्गो पर यातायात बंद कर दिया गया और कुछ मार्गो पर वाहनों को दूसरे रास्तों से ले जाने का निर्देश दिया गया।

Thursday, January 26, 2017

मध्य प्रदेश को कूड़ामुक्त करने के लिए 1 मई से पोलीथीन को बैन कर देंगे शिवराज सिंह

मध्य प्रदेश को कूड़ामुक्त करने के लिए 1 मई से पोलीथीन को बैन कर देंगे शिवराज सिंह

shivraj-singh-will-ban-use-of-polythene-from-1-may-2017-in-mp

भोपाल, 26 जनवरी: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 68वें गणतंत्र दिवस समारोह में एक मई से राज्य में पॉलीथिन पर प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया है। राजधानी के लाल परेड मैदान में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों से स्वच्छता और कैशलेस अभियान में सहयोग करने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा, "प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है। राज्य सरकार ने 31 मार्च तक प्रदेश को खुले में शौच से मुक्त करने का संकल्प लिया है। स्वच्छता अभियान में सबसे बड़ी बाधा पॉलीथिन है, इसलिए एक मई से राज्य में पॉलीथिन को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा।"

उल्लेखनीय है कि राज्य के राज्यपाल का प्रभार गुजरात के राज्यपाल ओम प्रकाश कोहली के पास है। लिहाजा राजधानी में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में ध्वजारोहण मुख्यमंत्री चौहान ने किया। 

चौहान ने कहा, "पॉलीथिन पर्यावरण के लिए भी घातक है, इसलिए पॉलीथिन के स्थान पर कागज और कपड़े की थैलियों के इस्तेमाल किया जाए। प्रतिबंध के बाद जो व्यक्ति पॉलीथिन का उपयोग करेंगे। उन पर कार्रवाई की जाएगी।"

उन्होंने कहा कि राज्य में स्वच्छता अभियान को लेकर सभी में होड़ मची हुई है। भोपाल से लेकर छोटे शहरों में अपने नगर को सर्वश्रेष्ठ बनाने की होड़ मची हुई है। 

उन्होंने केंद्र सरकार के नोटबंदी के फैसले को ऐतिहासिक करार देते हुए जनता से मिले साथ पर आभार जताया। 

उन्होंने कहा कि इस फैसले से कालाधन, आतंकवाद पर रोक लगेगी। राज्य में कैशलेस लेने-देन को बढ़ावा देने के लिए 'कैशलेस ट्रांजेक्शन मिशन' बनाया जाएगा।

राज्य में 68वां गणतंत्र दिवस धूमधाम से मनाया जा रहा है। जगह-जगह ध्वजारोहण के साथ प्रभातफेरियां निकाली गईं और रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किए गए। राजधानी के लालपरेड मैदान में आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली।

प्रदेश में गणतंत्र दिवस के तहत रंगारंग कार्यक्रमों का दौर जारी हैं। तमाम सरकारी, सार्वजनिक व निजी संस्थाओं में तिरंगा फहराया गया और मिठाइयां बांटी गईं।

Friday, January 13, 2017

कटनी में एसपी गौरव तिवारी के तबादले के बाद शिवराज सरकार का विरोध जारी, कर्मचारी करेंगे हड़ताल

कटनी में एसपी गौरव तिवारी के तबादले के बाद शिवराज सरकार का विरोध जारी, कर्मचारी करेंगे हड़ताल

katni-news-gourav-tiwari-transfer-public-protest-against-shivraj

कटनी, 13 जनवरी: मध्यप्रदेश के कटनी जिले में हवाला कारोबार का खुलासा करने वाले पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी के तबादले से उपजा जनाक्रोश बढ़ता ही जा रहा है। चौथे दिन भी लोग सड़कों पर उतरे, महिलाओं ने चूड़ियां लहराईं, आंदोलन में आम आदमी पार्टी (आप) का साथ मिला तो उधर भोपाल में तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ ने तीन फरवरी से बेमियादी हड़ताल का ऐलान किया। इस बीच कटनी के नवनियुक्त पुलिस अधीक्षक शशिकांत शुक्ला ने कार्यभार संभाल लिया। 

गौरव तिवारी 500 करोड़ रुपये के हवाला कारोबार का खुलासा करने के कारण चर्चा में थे और कई रसूखदारों के नाम हवाला कारोबार में सामने आने लगे थे। मामले की जांच में जुटे एसपी का सोमवार को तबादला कर दिया गया। तिवारी यहां महज छह माह ही तैनात रहे। माना जा रहा है कि उनका तबादला राजनीतिक दबाव में, एक मंत्री को बचाने के लिए किया गया है। जांच पूरी होने से पहले ही अधिकारी का तबादला कर दिए जाने के बाद मंगलवार से शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन जारी है। एक दिन बाजार भी बंद रखा गया।

शुक्रवार को सैकड़ों लोग कांग्रेस विधायक सौरभ सिंह, पूर्व विधायक सरोज बच्चन नायक के नेतृत्व में प्रदर्शन के लिए सड़कों पर उतरे। महिलाएं हाथ में चूड़ियां लिए हुए थीं और ये चूड़ियां शिवराज सरकार को सौंपने के नारे लगा रही थीं। इन सभी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया और कुछ देर बाद रिहा कर दिया।

प्रदर्शन के दौरान सरोज बच्चन कहा, "महिलाओं को सरकार सुरक्षा दे नहीं पा रही है। एक अधिकारी ऐसा आया, जिसने महिलाओं की सुरक्षा के लिए काम किया तो उसे स्थानांतरित कर दिया गया। सरकार को अपना फैसला बदलकर तिवारी को फिर से कटनी में पदस्थ करना चाहिए।"

कांग्रेस विधायक सौरभ सिंह ने सरकार पर एक मंत्री को बचाने के लिए पुलिस अधीक्षक को हटाने का आरोप लगाया।

वहीं कटनी पहुंचकर नवनियुक्त पुलिस अधीक्षक शशिकांत शुक्ल ने शुक्रवार को पदभार संभाला। शुक्ल ने आईएएनएस को बताया कि शुक्रवार को कोई गिरफ्तारी नहीं हुई, बल्कि सड़क पर प्रदर्शन कर रहे लोगों को सिर्फ रोका गया था।"

दूसरी ओर, भोपाल में तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ ने दो फरवरी तक तिवारी का तबादला निरस्त कर उनकी वापसी न होने पर तीन फरवरी से अनिश्चितकालीन हड़ताल का ऐलान कर दिया।

मध्यप्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ के अध्यक्ष अरुण द्विवेदी ने आईएएनएस से कहा, "कटनी के पुलिस अधीक्षक तिवारी एक ईमानदार अफसर हैं। वह हवाला कारोबार की जांच कर रहे थे, इसमें कई बड़े लोगों के नाम भी सामने आ रहे थे। रसूख वाले लोग बेनकाब न हो जाएं, इसलिए उनका तबादला कर दिया गया। अगर दो फरवरी तक तबादला निरस्त नहीं किया गया तो हमारे संगठन के पांच लाख कर्मचारी तीन फरवरी से अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे।"

द्विवेदी ने कहा कि एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी कर कालाधन बाहर लाने की मुहिम चलाई है, तो दूसरी ओर काले कारोबारियों ने हवाला का रास्ता अपना लिया और जब पुलिस ने इसका खुलासा किया तो अफसर का ही तबादला कर दिया गया। इससे प्रदेश सरकार की नीयत का पता चलता है।

राजधानी में शुक्रवार को तिवारी के तबादले के विरोध में आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। आप का आरोप है कि कटनी के हवाला कारोबार में एक मंत्री का नाम आ रहा था, इसीलिए तिवारी का तबादला कर जांच को भटकाने की कोशिश की गई है। आप ने तिवारी का तबादला निरस्त करने की मांग की है। 

लोगों में आक्रोश बढ़ता देख मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को कटनी हवाला मामले की जांच के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से आग्रह करने की बात कही है। वहीं कांग्रेस ने सीधे तौर पर इस मामले को दबाए जाने का आरोप लगाया है।
हवाला कारोबारी का पर्दाफाश करने वाले पुलिस अफसर का ट्रान्सफर करके शिवराज ने मोल ले ली मुसीबत

हवाला कारोबारी का पर्दाफाश करने वाले पुलिस अफसर का ट्रान्सफर करके शिवराज ने मोल ले ली मुसीबत

gaurav-tiwari-transfer-shivraj-singh-becomes-spoiled-his-career

भोपाल, 12 जनवरी: मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार अपने को जनता का हमदर्द बताते का कोई भी मौका हाथ से जाने नहीं देती। मगर यह भी उतना ही सच है कि उसे जनहितैषी अफसर रास नहीं आते हैं, तभी तो ऐसे अफसरों पर सरकार की गाज गिरती है और नाइंसाफी के खिलाफ लोगों को बार-बार सड़कों पर उतरना पड़ता है। शिवराज सिंह पिछले 12 वर्षों से मध्य प्रदेश को विकास के रास्ते पर दावा कर रहे हैं लेकिन ईमानदार और जनता के लिए काम करने वाले अफसरों का ट्रान्सफर करके अपना दामन पर दाग भी लगा रहे हैं। 

ताजा मामला कटनी के पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी के तबादले का है। उनका कसूर सिर्फ इतना था कि उन्होंने 500 करोड़ रुपये के हवाला कारोबार का खुलासा किया और उसकी आंच सत्ता से जुड़े एक व्यक्ति पर आने लगी थी। सरकार ने आनन-फानन में तिवारी का तबादला कटनी से छिंदवाड़ा कर दिया। 

तिवारी के तबादले से कटनी की जनता भड़क उठी। लोग सड़कों पर उतर आए, रैलियां निकलीं, बाजार बंद रहे और सरकार पर भी जमकर हमला बोले। हर जुबां से सिर्फ एक ही आवाज निकली और सरकार से पूछा कि 'जो पुलिस अफसर समाज के लिए काम कर रहा था, जिसकी तैनाती के बाद से अपराधियों पर अंकुश लगा था, महिलाएं व युवतियां सुरक्षित महसूस करती थीं, उसका महज छह माह के भीतर ही तबादला क्यों किया गया?' 

राज्य की पूर्व मुख्य सचिव निर्मला बुच कहती हैं, "सरकार को इतनी जल्दी तबादला नहीं करना चाहिए, यह बात सही है कि कई बार प्रशासन को दबाव में काम करना होता है, हो सकता है कि वह अफसर किसी के लिए रोड़ा बन रहा हो और दबाव के चलते सरकार को उसका तबादला करना पड़ा हो, मगर तिवारी के तबादले से संदेश तो यही जा रहा है कि सरकार की नीयत सही नहीं है।"

राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने कटनी पुलिस अधीक्षक तिवारी के तबादले को 'सामान्य प्रशासनिक प्रक्रिया' करार दिया है। इस पर पूर्व अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक विजय वाते कहते हैं, "तबादलों को लेकर सर्वोच्च न्यायालय का निर्देश है कि दो साल से पहले तबादले न किए जाएं और किए जाएं तो कारण बताया जाए। तिवारी के तबादला आदेश के साथ कारण भी बताया जाना चाहिए। अगर इसी तरह प्रशासनिक प्रक्रिया बताकर छह-छह माह में तबादले होते रहे तो प्रशासन व शासन का तो भगवान ही मालिक है।"

तिवारी इकलौते ऐसे अधिकारी नहीं हैं, जो नियम-सम्मत काम कर रहे थे, और उससे कुछ लोग प्रभावित हुए तो उनका तबादला किया गया। इससे पहले बीते साल शाजापुर के तत्कालीन जिलाधिकारी राजीव शर्मा को सिर्फ इसलिए हटाया गया, क्योंकि उन्होंने जनहित की कई योजनाएं शुरू कर दी थीं, जिसके चलते क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों के दरवाजे पर लगने वाली भीड़ कम हो गई थी।

शर्मा ने शाजापुर में रहते हुए शिक्षा व स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए खास कदम उठाए। इतना ही नहीं, आमजन को होने वाली समस्या को फेसबुक में दर्ज कराने का अभियान चलाया, जिसमें यह व्यवस्था थी कि शिकायत आते ही उस पर बगैर समय गंवाए निराकरण के प्रयास किए जाएं। इसका नतीजा यह हुआ कि लोग जिलाधिकारी व अन्य अधिकारियों के दफ्तरों के चक्कर लगाने की बजाय फेसबुक से शिकायत दर्ज कराने लगे। इससे जहां समस्या का जल्द से जल्द निराकरण हुआ, वहीं भ्रष्टाचार पर अंकुश लगा। 

प्रशासन की जनता को बेहतर सुविधा देने की पहल से क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों को लगा कि उनकी अहमियत घटने लगी है, क्योंकि जिस काम के लिए आमजन को उनके दरबार में आना चाहिए, उसके लिए वे फेसबुक का सहारा ले रहे हैं। बदलते हालात से परेशान नेताओं ने सरकार पर दबाव बनाकर शर्मा का तबादला करा दिया। शर्मा के तबादले के विरोध में जनता भी सड़कों पर उतरी, कई दिन प्रदर्शन चले।

इसी तरह नरसिंहपुर के तत्कालीन जिलाधिकारी सी.बी. चक्रवर्ती का तबादला भी इसलिए किया गया, क्योंकि वे जनता के हिमायती बन गए थे। उनके तबादले के विरोध में भी सड़कों पर लेाग उतरे थे। नीमच में जिलाधिकारी रहे नंद कुमारम् का भी तबादला इसलिए किया गया, क्योंकि उन्होंने अंतर्राज्यीय बैरियर पर अवैध परिवहन पर रोक लगा दी थी। 

इन चार अफसरों के तबादलों ने सरकार की छवि पर आंच आई है। लोगों में संदेश यही गया है कि 'सरकार को नियम और कानून के मुताबिक जनता के लिए काम करने वाले अफसर पसंद नहीं है।'

इतना ही नहीं, जनता ने सड़कों पर उतरकर तबादलों का विरोध किया और सरकार के फैसले पर सवाल उठाए हैं। अब देखना है कि सुशासन का दावा करने वाली सरकार जनता के बीच जा रहे नकारात्मक संदेश से अपनी 'फेस सेविंग' कैसे करती है। 

Thursday, January 12, 2017

हवाला कारोबारी के साथ शिवराज सिंह और उनके मंत्री की एक साथ फोटो से मचा हडकंप

हवाला कारोबारी के साथ शिवराज सिंह और उनके मंत्री की एक साथ फोटो से मचा हडकंप

shivraj-singh-seen-with-hawala-karobari-satish-sarawagi-in-photo

भोपाल, 12 जनवरी: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और उनके मंत्री संजय पठान के साथ एक हवाला कारोबारी सतीश सरावगी की फोटो मिलने से हडकंप मच गया है और मध्य प्रदेश की राजनीति को गरमा दिया है। 

इस तस्वीर के आधार पर कहा जा रहा है कि मध्यप्रदेश के कटनी जिले में हुए पांच सौ करोड़ रुपये के हवाला कारोबार के एक आरोपी सतीश सरावगी की सत्ता के गलियारों में गहरी पैठ रही है। विपक्षी कांग्रेस ने इस बात का खुलासा गुरुवार को एक तस्वीर जारी कर किया। इस तस्वीर में सरावगी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान व लघु, मध्यम व सूक्ष्म उद्योग राज्यमंत्री संजय पाठक के साथ खड़ा है। मंत्री पाठक ने इस तस्वीर को वर्ष 2014 में हुए विधानसभा उपचुनाव के नतीजे के बाद जश्न के समय का होना स्वीकारा है। 

पिछले दिनों कटनी जिले में हुए हवाला कारोबार का तत्कालीन पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी की अगुवाई में खुलासा हुआ था। इस मामले में कई रसूखदारों के नाम आए, जिसमें सरावगी बंधु के नाम भी थे। पुलिस मामले की जांच कर रही थी, इसी बीच बीते सोमवार को तिवारी का तबादला कर दिया गया। इस तबादले की वजह राजनीतिक दबाव मानी जा रही है। 

कटनी का हवाला मामला चर्चाओं में है और तिवारी के तबादले की वजह राजनीतिक दबाव को माना जा रहा है। इसी बीच कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता के.के. मिश्रा ने संवाददाता सम्मेलन में गुरुवार को एक तस्वीर जारी की, जिसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बाईं ओर संजय पाठक (कुर्ता-पजामा पहने) व दाईं ओर सतीश सरावगी (हाफ शर्ट पहने) खड़े हैं। इस तस्वीर से पाठक और सरावगी की नजदीकियां भी जाहिर होती हैं। 

इस तस्वीर को लेकर आईएएनएस ने पाठक से चर्चा की तो उन्होंने कहा, "कटनी छोटा शहर है और यहां सभी एक-दूसरे से परिचित होते हैं। यहां सभी पारिवारिक भाव से रहते हैं, जहां तक सरावगी के साथ तस्वीर की बात है, वह तस्वीर वर्ष 2014 के उपचुनाव के नतीजे आने के बाद की है, जब मुख्यमंत्री जीत पर धन्यवाद जताने आए थे।" 

Wednesday, January 11, 2017

कांग्रेस ने CM शिवराज के खिलाफ FM जेटली को लिखा खत

कांग्रेस ने CM शिवराज के खिलाफ FM जेटली को लिखा खत

congress-complain-arun-jaitley-about-shivraj-singh-notbandi

भोपाल, 10 जनवरी: मध्यप्रदेश के कटनी जिले के पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी के तबादले को लेकर कांग्रेस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर बड़ा हमला बोलते हुए केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली को पत्र लिखा है। इस पत्र में कहा गया है कि मुख्यमंत्री ने हवाला कारोबार में घिरे अपने एक मंत्री को बचाने के लिए पुलिस अधीक्षक का तबादला कर दिया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने मंगलवार को जेटली को लिखे खत में कहा है, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आठ नवंबर 2016 को लागू की गई नोटबंदी के बाद भ्रष्टाचारियों ने देशभर में कालेधन को सफेद करने का खेल जमकर खेला है। भाजपा के शासन वाले मध्यप्रदेश में भी इस तरह का गोरखधंधा जमकर फला और फूला है। इस तरह के कई प्रमाण सामने आए हैं।"

यादव ने अपने पत्र में कटनी में उजागर हुए हवाला कारोबार का जिक्र किया है। उन्होंने लिखा है, "कटनी जिले में पुलिस की शुरुआती जांच में 500 करोड़ रुपयों से ज्यादा का एक घोटाला सामने आया है। पुलिस की जांच में सामने आया है कि हवाला कारोबारियों, बैंक व बैंक अफसरों की सांठगांठ से नोटबंदी के बाद कटनी में पुराने नोटों की अदला-बदली का बड़ा घोटाला हुआ। पुलिस की जांच में कई प्रभावशाली चेहरे सामने आए।"

यादव ने पत्र में आरोप लगाया है कि कटनी पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी को जांच में यह प्रमाण मिल गए थे कि इस काले कारोबार के पीछे शिवराज सरकार का एक मंत्री है। इस पर पुलिस अधीक्षक तिवारी पर दवाब बनाया गया। जब दवाब काम नहीं आया तो सोमवार को उनका तबादला कर दिया गया। हैरान करने वाली बात यह रही कि छह महीने पहले ही इस अधिकारी को कटनी में पदस्थ किया गया था। 

यादव ने जेटली से कटनी मामले की जांच वित्त मंत्रालय के अधीन आने वाली किसी प्रमुख एजेंसी से कराने की मांग की है। 

Sunday, January 8, 2017

अमित शाह प्रकाश पर्व में शामिल होने आज जबलपुर आएंगे

अमित शाह प्रकाश पर्व में शामिल होने आज जबलपुर आएंगे

amit-shah-will-attend-prakash-parv-programme-in-jabalpur-mp

जबलपुर, 8 जनवरी: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आज (रविवार) जबलपुर का दौरा करेंगे। वे यहां गुरु गोविंद सिंह के 350वें प्रकाशोत्सव के कार्यक्रम में शामिल होंगे। भाजपा के प्रदेश कार्यालय से दी गई जानकारी के अनुसार, शाह दोपहर 12 बजे विमान से दिल्ली से जबलपुर पहुंचेंगे। वे यहां के शिवाजी मैदान में आयोजित गुरु गोविंद सिंह के 350वें प्रकाशोत्सव के कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। इसके अलावा वह भाजपा कार्यकर्ताओं से भी मुलाकात करेंगे। 

शाह शाम चार बजे विमान से दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे।

शाह के साथ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय एवं प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान भी कार्यक्रम में शामिल होंगे।

Saturday, January 7, 2017

MP के हरदा नगर निगम चुनाव में कांग्रेस की करारी हार, BJP को 30, कांग्रेस को सिर्फ 4 सीटें

MP के हरदा नगर निगम चुनाव में कांग्रेस की करारी हार, BJP को 30, कांग्रेस को सिर्फ 4 सीटें

mp-harda-municipal-corporation-election-bjp-win-30-congress-4

Bhopal, 7 January: कालेधन पर कार्यवाही करने वाले नोटबंदी जैसे बड़े फैसले का विरोध करके जनता को भ्रमित करने वाली कांग्रेस को मध्य प्रदेश की जनता ने एक बार फिर से करारा सबक सिखाया है। मध्य प्रदेश के हरदा नगर निगम चुनावों के रिजल्ट आ गए हैं। जनता ने कांग्रेस को करारा सबक सिखाते हुए एक बार फिर से जता दिया है कि नोटबंदी के बाद कांग्रेस के रवैये से जनता खुश नहीं है। 

इस चुनाव में बीजेपी की 30 वार्ड पर जीत हुई है जबकि कांग्रेस को सिर्फ 4 वार्ड में जीत मिली है। एक वार्ड निर्दलीय उम्मीदवार के खाते में गया है। 

इससे पहले चंडीगढ़ नगर निगम के भी ऐसे ही रिजल्ट आये थे जिसमें बीजेपी को 21 जबकि कांग्रेस को सिर्फ 4 जगह जीत हुई थी। 

पिछले एक महीने से देश के कई राज्यों में चुनाव हुए हैं और करीब करीब हर जगह जनता ने कांग्रेस को करारा सबक सिखाया है। 

Friday, January 6, 2017

भोपाल के होटल में प्रेमी युगल ने खुदकुशी की

भोपाल के होटल में प्रेमी युगल ने खुदकुशी की

lover-couple-suicide-in-bhopal-hotel-amardeep

भोपाल, 6 जनवरी: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के एक होटल में प्रेमी युगल ने जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी कर ली। युवती इंदौर व युवक भोपाल का निवासी था। पुलिस मामले की जांच कर रही है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, हनुमानगंज थाना क्षेत्र के होटल अमरदीप में गुरुवार को मनीषा लोवंशी (24) और शुभम पटेल (20) ठहरे थे। होटल कर्मचारियों ने रात को कमरे की जांच के लिए दरवाजा खुलवाया तो कोई आवाज नहीं आई। इस पर उन्हें शक हुआ और उन्होंने कमरे का दरवाजा तोड़ा। कमरे के भीतर शुभम बिस्तर पर मृत पड़ा था और मनीषा की हालत गंभीर थी। युवती को हमीदिया अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई।

हनुमानगंज थाने के प्रभारी जितेंद्र पाठक ने संवाददाताओं को बताया, "प्रारंभिक तौर पर लगता है कि दोनों ने सल्फास का सेवन किया है, जिससे उनकी मौत हुई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। होटल के कमरे को सील कर दिया गया है।"

होटल कर्मचारियों ने पुलिस को बताया कि मनीषा और शुभम उनके होटल में इससे पहले भी कई बार रुक चुके हैं। गुरुवार की दोपहर को भी दोनों आए थे और उसके बाद शुभम चला गया। वह रात में फिर लौटा और उसके बाद कमरे में मृत मिला।

Wednesday, December 28, 2016

MP के पूर्व CM सुंदर लाल पटवा का निधन, MODI ने भोपाल पहुंचकर दी श्रद्धांजलि, बताया मेहनती नेता

MP के पूर्व CM सुंदर लाल पटवा का निधन, MODI ने भोपाल पहुंचकर दी श्रद्धांजलि, बताया मेहनती नेता

modi-paid-tribute-to-sunder-lal-in-bhopal-after-his-death-28-12-2016

भोपाल, 28 दिसंबर: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदर लाल पटवा का बुधवार सुबह निधन हो गया। उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित देश-प्रदेश के सत्तापक्ष अैार विपक्ष के नेताओं ने शोक व्यक्त किया है। पटवा का अंतिम संस्कार गुरुवार को मंदसौर जिले के कुकड़ेश्वर में होगा। पटवा को बुधवार सुबह हृदयाघात हुआ था, जिसके बाद उन्हें एक निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां उनका निधन हो गया। वह 92 वर्ष के थे। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भोपाल स्थित भाजपा के प्रदेश कार्यालय में पार्टी के वरिष्ठ नेता व प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदर लाल पटवा को श्रद्धांजलि अर्पित की।

भाजपा के मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पराशर ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा कार्यालय पहुंचकर पटवा के पाथिर्व शरीर पर श्रद्घासुमन अर्पित किए। पटवा के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए पार्टी कार्यालय में रखा गया है। 

प्रधानमंत्री मोदी वायुसेना के विशेष विमान से भोपाल पहुंचे और सीधे भाजपा दफ्तर पहुंचकर पटवा को श्रद्घांजलि दी। इससे पहले मोदी ने ट्वीट में कहा कि उनके अचानक निधन से दुखी हूँ, वह एक मेहनती और समर्पित नेता थे जिसके मुख्यमंत्री के रूप में किये गए काम हो हमेशा याद किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सुंदर लाल पटवा ने हमेशा बीजेपी को मजबूत बनाये रखा और कार्यकर्ताओं को प्रेरणा देते रहे। 

पटवा के निधन पर राज्य सरकार ने तीन दिनों के राजकीय शोक की घोषणा की है। इसके चलते तीन दिनों तक सरकारी इमारतों पर राष्ट्रीय ध्वज आधे झुके रहेंगे और सरकारी स्तर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं होंगे। साथ ही अन्य सरकारी कार्यक्रमों में स्वागत-सत्कार भी नहीं होगा। 

पटवा के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पटवा ने राज्य की राजनीति को नई दिशा दी। शिवराज ने अपने शोक संदेश में कहा, "पटवा ने मध्य प्रदेश की राजनीति को नई दिशा दी थी। वह अजातशत्रु थे और राजनीतिज्ञ के रूप में प्रदेश की जनता के दिलों पर राज करते थे।"

मुख्यमंत्री ने कहा, "पटवा का सभी दल सम्मान करते थे। उनके बिना मध्य प्रदेश की राजनीति की कल्पना नहीं की जा सकती थी। देश के सार्वजनिक जीवन में उनका विशिष्ट स्थान था। वह अद्भुत राजनेता थे। उनके जाने से देश और प्रदेश के सार्वजनिक जीवन में आई रिक्तता की भरपाई नहीं हो सकती।"

राज्यपाल ओम प्रकाश कोहली ने पूर्व मुख्यमंत्री पटवा के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनके निधन से प्रदेश को अपूरणीय क्षति हुई है। वे प्रदेश और देश के महान और लोकप्रिय राजनेता, कुशल प्रशासक, गरीबों और किसानों के हितैषी थे।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने पूर्व मुख्यमंत्री, राजनीतिक चिंतक व वरिष्ठ नेता पटवा के निधन पर शोक प्रकट करते हुए कहा कि पटवा के निधन से राज्य को अपूरणीय क्षति हुई है। 

राज्य के वाणिज्य-उद्योग, रोजगार, खनिज संसाधन तथा प्रवासी भारतीय मंत्री राजेंद्र शुक्ल ने पूर्व मुख्यमंत्री पटवा के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया और उनके निधन को अपूरणीय क्षति बताया। 

राज्य के जनसंपर्क, जल संसाधन तथा संसदीय कार्य मंत्री डॉ़ नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व मुख्यमंत्री पटवा के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा, "पटवा के निधन से एक युग का अंत हो गया है। पटवा ने राजनीति को सेवा का माध्यम बनाया। उन्होंने जन-कल्याण, सुशासन और समाज के दीनहीन वर्ग की भलाई के लिए लगातार कार्य किया।"

राज्य सरकार के कृषि मंत्री गौरी शंकर बिसेन, नगर प्रशासन मंत्री माया सिंह, जेल मंत्री कुसुम महदेले, सहकारिता मंत्री विश्वास सारंग ने पटवा के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया।

पटवा का जन्म 11 नवंबर 1924 को हुआ था। वह दो बार राज्य के मुख्यमंत्री रहे। इसके अलावा, वह अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री भी रहे। 

Tuesday, December 20, 2016

चंडीगढ़ में BJP की जीत सुनकर बौखला गए केजरीवाल, बोले 'बीजेपी वाले अपने बाप को भी बेच खाएंगे'

चंडीगढ़ में BJP की जीत सुनकर बौखला गए केजरीवाल, बोले 'बीजेपी वाले अपने बाप को भी बेच खाएंगे'

kejriwal-attack-modi-amit-shah-bjp-notbandi-bhopal-rally-mp

भोपाल, 20 दिसंबर: चंडीगढ़ में बीजेपी की जीत की खबर सुनकर केजरीवाल अपना आपा खो बैठे और भोपाल रैली में बीजेपी पर जमकर हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी वाले अपने बाप के भी नहीं हैं और अगर इन्हें मौका मिले तो शाम तक अपने बाप को भी बेचकर खा जाएं।

अरविंद केजरीवाल ने यहां कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मिलकर नोटबंदी की साजिश रची। भाजपा ने पहले अपना काला पैसा ठिकाने लगवाया, उसके बाद दोस्तों को ठिकाने लगाने कहा, उसके बाद बिना तैयारी के नोटबंदी की घोषणा कर दी। केजरीवाल ने मोदी की नीयत और नोटबंदी लागू करने के तरीके पर सवाल उठाते हुए कहा, "नोटबंदी के बाद देश की जनता कतारों में खड़े होकर अपना पैसा बैंकों में जमा करा रही है, इन्हीं पैसों की बदौलत उद्योगपतियों का आठ लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया जाने वाला है। जनता को बैंक में जमा अपना पैसा वापस मिलेगा या नहीं, इसकी गारंटी नहीं है।"

मध्यप्रदेश की राजधानी के छोला दशहरा मैदान में पार्टी की रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिलकर साजिश रची, तब नोटबंदी का फैसला किया। इससे पहले भाजपा ने अपना काला पैसा ठिकाने लगवाया, अमित शाह ने अपना पैसा ठिकाने लगवाया, फिर दोस्तों से अपना पैसा ठिकाने लगाने कहा।

केजरीवाल ने कहा, "भाजपा न तो हिंदुओं की पार्टी है और न मुसलमानों की, यह तो सत्ता और पैसों के लालची लोगों की पार्टी है, इनका बस चले तो ये बाप को भी बेचकर खा जाएं शाम तक।"

उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की मां द्वारा नोटबंदी के बाद बैंक की कतार में खड़े होकर चार हजार रुपये निकाले जाने का जिक्र करते हुए कहा, "मोदी जी रोज नाटक करते हैं, अपनी मां को लाइन में लगा दिया चार हजार रुपये के लिए, क्या अच्छा लगता है कि देश के प्रधानमंत्री की मां लाइन में लगे? लानत है ऐसे बेटे को जो अपनी मां को लाइन में लगाता है।"

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी अपने कुछ और उद्योगपति मित्रों का आठ लाख करोड़ का कर्ज माफ करना चाहते हैं, इसके लिए सारे गरीबों की जमा पूंजी बैंकों में जमा करा ली है। ऐसा इसलिए, क्योंकि उन्होंने पिछले दिनों ही कुछ कारोबारियों का आठ हजार करोड़ का कर्ज माफ किया है, जिनमें विजय माल्या के 1200 करोड़ का कर्ज भी है।

केजरीवाल ने कहा कि पहले माल्या को देश से भगाया और फिर उसका कर्ज माफ कर दिया। इसी तरह कुछ और कारोबारियों का भी कर्ज माफ करना है, इसी के चलते समूचे देश को कतार में खड़ा कर दिया गया है। 

उन्होंने कहा कि एक तरफ गरीब, किसान को अपने बेटे-बेटी की शादी के लिए ढाई लाख रुपये नहीं मिल रहे, दूसरी ओर कर्नाटक में मोदी के करीबी जनार्दन रेड्डी 500 करोड़ रुपये अपनी बेटी की शादी में खर्च कर देते हैं।

आप संयोजक ने आयकर विभाग द्वारा बिड़ला और सहारा समूह के ठिकानों पर मारे गए छापों में मिले दस्तावेजों का हवाला देते हुए कहा कि इन दस्तावेजों के मुताबिक, गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को रकम दिए जाने का खुलासा हुआ है। यही कारण है कि इन दस्तावेजों की जांच नहीं कराई जा रही है। ये लोग कितने ईमानदार हैं, यह इसी से समझा जा सकता है।

जनसभा को आप के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल ने भी संबोधित किया। इससे पहले केजरीवाल सुबह साढ़े सात बजे दिल्ली से नियमित उड़ान से भोपाल पहुंचे, जहां पार्टी के पदाधिकारियों ने उनका स्वागत किया।
केजरीवाल बोले, सभी मीडिया झूठे हैं, सिर्फ मै ईमानदार हूँ, मोदी ने 8 नवम्बर को डाका डाल दिया

केजरीवाल बोले, सभी मीडिया झूठे हैं, सिर्फ मै ईमानदार हूँ, मोदी ने 8 नवम्बर को डाका डाल दिया

kejriwal-bhopal-rally-appeal-to-boycott-media-believe-only-kejriwal

भोपाल, 20 दिसंबर: मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल पहुंचे आम आदमी (आप) पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने परिवर्तन रैली में मौजूद लोगों से नोटबंदी की हकीकत जन-जन तक पहुंचाने के लिए मीडिया की बजाय 'सोशल मीडिया' के इस्तेमाल का आह्वान किया। यहां के छोला दशहरा मैदान में उन्होंने कहा, "मैं नोटबंदी के सच को उजागर करने वाले ऐसे दस्तावेज आज आपके सामने पेश करने वाले हूं, जिनसे आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे।"

केजरीवाल ने कहा, "ये मीडिया वाले साथी बहुत अच्छे हैं, मगर इन बेचारों की परेशानी ये है कि वे कागज दिखा नहीं सकते, ये मजबूर हैं। इसलिए मैं जो बोल रहा हूं, उसकी मोबाइल फोन में रिकार्डिग कर लें और उसे सोशल मीडिया के जरिए लोगों तक पहुंचा दें कि नोटबंदी की सच्चाई यह है।"

उन्होंने कहा, "आठ नवंबर को रात आठ बजे प्रधानमंत्री मोदी ने सारे देश के लोगों के बैंक खातों पर डाका डाल दिया। हमारी मेहनत, खून- पसीने की कमाई पर डाका डाल दिया। कहते थे कालाधन, भ्रष्टाचार कम करेंगे, मगर ऐसा नहीं हुआ।"

केजरीवाल ने आगे कहा कि अब तो बैंक मैनेजर भी नोट बदलने के बदले पैसा ले रहे हैं। एक तरफ जनता कतारों में बैंकों के बाहर खड़ी है और पीछे के दरवाजे से करोड़ों रुपये भाजपा वाले निकाल रहे हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने दोस्तों के आठ लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ करने के लिए नोटबंदी लागू की है। एक करोड़ 14 लाख रुपये का कर्ज तो उन्होंने अभी हाल ही में माफ किया है। 
किसी को बख्श नहीं रहे हैं मोदी, MP में बीजेपी के वरिष्ठ नेता के घर पर IT ने मार दिया छापा

किसी को बख्श नहीं रहे हैं मोदी, MP में बीजेपी के वरिष्ठ नेता के घर पर IT ने मार दिया छापा

mp-news-income-tax-raid-bjp-leader-sushil-waswani-house-bhopal

भोपाल, 20 दिसंबर: देश में टैक्स चोरों और कालेधन माफियाओं की धरपकड़ चल रही है, ED और इनकम टैक्स वाले पूरे देश में छापे मार रहे हैं, सैकड़ों चोर पकडे जा चुके हैं, चोरों को पकड़ने में किसी भी तरह का भेदभाव नहीं किया जा रहा है, आपने देखा होगा कि भारत में बीजेपी सरकार होते हुए भी अब कई BJP के भी कई चोर नेता पकडे जा चुके हैं। 

आज इनकम टैक्स वालों ने मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सुशील वासवानी के ठिकानों पर मंगलवार की सुबह आयकर विभाग की टीमों ने दबिश दी है। आयकर विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, आय से अधिक की संपत्ति के मामले में वासवानी के बैरागढ़ क्षेत्र स्थित आवास के अलावा होटल व महानगर सहकारी बैंक पर एक साथ दबिश दी गई। वासवानी महानगर सहकारी बैंक से जुड़े हुए हैं। 

आयकर सूत्रों के अनुसार, यह भी आशंका है कि आठ नवंबर को नोटबंदी के बाद महानगर सहकारी बैंक में बड़े पैमाने पर रकम जमा की गई है। फिलहाल अभी तक जांच चल रही है। 

वासवानी ने संवाददाताओं से चर्चा करते हुए कहा कि यह शासन की कार्रवाई है। 

Sunday, December 18, 2016

2000 के नोटों की फोटोकॉपी करके बना रहे थे नकली नोट, प्रिंटर और स्कैनर के साथ 2 लोग गिरफ्तार

2000 के नोटों की फोटोकॉपी करके बना रहे थे नकली नोट, प्रिंटर और स्कैनर के साथ 2 लोग गिरफ्तार

madhya-pradesh-shahdol-news-2-arrested-for-printing-fake-2000-note
Photo Credit ANI 
शहडोल, 18 दिसंबर: मध्यप्रदेश के शहडोल जिले में दो हजार के नोट की रंगीन फोटो कॉपी बाजार में चलाने की कोशिश करने के जुर्म में रविवार को दो युवकों को गिरफ्तार किया गया। बुढ़ार थाने के प्रभारी प्रफुल्ल राय ने आईएएनएस को बताया कि रवि गुप्ता और अमित राय ने मिलकर दो हजार के नए नोट को स्कैन करके रंगीन फोटो कॉपी करवा ली। इसके बाद अमित ने अपनी कार में फोटो कॉपी वाले नोट से पेट्रोल भरा लिया। बाद में संदेह होने पर पेट्रोल पंप कर्मियों ने पुलिस को सूचना दी।

उन्होंने बताया कि इस मामले में रवि व अमित दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। साथ ही फोटो कॉपी मशीन भी जब्त कर ली गई है। पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने स्वीकार किया कि उन्होंने एक ही रंगीन फोटो कॉपी बनाई थी और उसे चलाने की कोशिश में वे पकड़े गए।

Thursday, December 15, 2016

CM शिवराज ने कहा ‘मैं राहुल गाँधी को सीरियसली लेता ही नहीं’, मोदीजी मोदीजी हैं और राहुल..??

CM शिवराज ने कहा ‘मैं राहुल गाँधी को सीरियसली लेता ही नहीं’, मोदीजी मोदीजी हैं और राहुल..??

cm-shivraj-chauhan-make-fun-of-rahul-gandhi-no-one-take-seriously

New Delhi, 15 December: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गाँधी का मजाक उड़ाते हुए कहा है कि ना तो राहुल गाँधी को कोई सीरियसली लेता है और ना ही उनकी बातों पर भरोसा करता है इसलिए वे कुछ भी कहें उनकी बातों से किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता। 

ANI से बात करते हुए शिवराज सिंह ने कहा 'मुझे सबसे बड़ी तकलीफ तो ये है कि राहुल गाँधी को इस देश कोई कोई सीरियसली लेता ही नहीं है, उनकी बातों में कोई गंभीरता होती ही है, कौन उनकी बातों को सीरियसली लेता है, हम उनकी किस बात का जवाब दें। 

शिवराज सिंह ने कहा - जहाँ तक प्रधानमंत्री मोदी का सवाल है तो इस देश की जनता उनसे खुश है, वे निष्काम कर्मयोगी हैं, देशभक्त हैं और वे सिवाय देश का भला करने के कुछ नहीं सोचते, उनका व्यक्तित्व इतना विशाल है, उनके काम इतने अच्छे हैं कि सारा देश आँखें बंद करके उनके पीछे खड़ा है। 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की छवि चमत्कारिक नेता की बनती जा रही है इसलिए विपक्षी पार्टियों के नेता उनसे परेशान हैं इसलिए उनपर अनर्गल आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे राहुल गाँधी के आरोपों का जवाब नहीं देंगे क्योंकि उन्हें मैं सीरियसली लेता ही नहीं, कहाँ मोदी और कहाँ राहुल गाँधी। 

Tuesday, November 29, 2016

शिवराज सिंह ने 11 वर्षों में मध्य प्रदेश को बीमारू से बना दिया खुशहाल राज्य, मनाया गया जश्न

शिवराज सिंह ने 11 वर्षों में मध्य प्रदेश को बीमारू से बना दिया खुशहाल राज्य, मनाया गया जश्न

shivraj-singh-chauhan-madhya-radesh-completed-11-year-tenure

भोपाल, 29 नवंबर: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के शासनकाल के 11 वर्ष पूरे होने पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पूरे प्रदेश में जश्न मनाया, और इस दौरान सभी 56 संगठनात्मक जिलों के 756 मंडलों से लेकर प्रदेश के 62926 मतदान केंद्रों तक हितग्राही सम्मलेन, रचनात्मक कार्यक्रम एवं घर-घर दीपोत्सव के कार्यक्रम आयोजित किए गए। भाजपा द्वारा पूर्व घोषित कार्यक्रम के मुताबिक, मंगलवार को संगठन की विभिन्न इकाइयों ने विविध कार्यक्रम आयोजित कर शिवराज के 11 वर्ष के कार्यकाल का जश्न मनाया। 

प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान ने बिरसा मुंडा नगर में आयोजित हितग्राही सम्मेलन में कहा कि मध्य प्रदेश कभी बीमारू राज्य कहा जाता था, लेकिन आज शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में देश का खुशहाल राज्य बन चुका है।

उन्होंने कांग्रेस के राज की याद दिलाते हुए कहा, "कांग्रेस के जमाने में दीपावली के दिन भी बिजली नसीब नहीं होती थी और मंगलवार को मध्य प्रदेश के 50 हजार गांव 24 घंटे बिजली से रौशन हो उठे हैं। कांग्रेस के राज में सरकार की तिजोरी सिर्फ अमीरों के लिए खुली रहती थी, लेकिन आज शिवराज सिंह की तिजोरी आम गरीब जनता के लिए खुली है और इसलिए गरीब को एक रुपये प्रति किलोग्राम गेंहू, चावल, नमक मिल रहा है।"

सम्मेलन में प्रदेश अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री कौशल विकास, मजदूरी प्रशिक्षण, कंप्यूटर प्रशिक्षण, लाडली लक्ष्मी, मुख्यमंत्री आवास, युवा उद्यमी सहित विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों का पुष्पहारों से सम्मान किया। 

भाजपा की तरफ से राजधानी के नरेंद्र देव नगर में आयोजित हितग्राही सम्मेलन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनसमूह से आग्रह किया कि वे 11 वर्षो के विकास की योजनाओं पर अपनी राय देकर मन की बात मुखरित करें। हितग्राही सम्मेलन में उन्होंने न तो माला पहनी और न स्वागत सत्कार की औपचारिकताएं कबूली। प्रदेश शासन के मंत्री विश्वास सारंग ने सम्मेलन का संचालन किया। 

मुाख्यमंत्री चौहान ने आश्वस्त किया, "प्रदेश में रोटी, कपड़ा और मकान के अलावा कोई भी रुग्ण व्यक्ति अभाव के कारण उपचार से वंचित नहीं रहेगा, और उसे गंभीर से गंभीर बीमारी में असहाय महसूस नहीं होना पड़ेगा। सरकार के द्वार मदद के लिए खुले हुए हैं।"

भाजपा महिला मोर्चा द्वारा मुख्यमंत्री चौहान के कार्यकाल के 11 वर्ष पूर्ण होने पर प्रदेश कार्यालय पं. दीनदयाल परिसर में रंगोली बनाकर दीप प्रज्जवलित किया गया। महिलाओं ने भजन मंडलियों द्वारा सांस्कृतिक संध्या आयोजित कर चौहान के सफल कार्यकाल की मंगल कामना की। इस तरह भारतीय जनता युवा मोर्चा ने भी कई कार्यक्रम आयोजित किए।

राजधानी के अलावा राज्य के अन्य हिस्सों में भी भाजपा की ओर से विविध कार्यक्रम आयोजित किए गए। इन आयोजनों में पार्टी कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री चौहान के 11 वर्ष के कार्यकाल का गुणगान किया। 

Tuesday, November 22, 2016

नोटबंदी के बाद भी जनता ने नहीं छोड़ा MODI का साथ, उपचुनावों में MP और असम की चारों सीटों पर बढ़त

नोटबंदी के बाद भी जनता ने नहीं छोड़ा MODI का साथ, उपचुनावों में MP और असम की चारों सीटों पर बढ़त

assam-and-mp-bipoll-result-2016-bjp-leading-on-all-4-seat-modi-win

भोपाल, 22 नवंबर: लोगों को आशंका थी कि नोटबंदी की वजह से उपचुनावों में मोदी और बीजेपी को नुकसान होगा लेकिन जिस प्रकार के रिजल्ट आ रहे हैं उसके बाद ऐसा लग रहा है कि नोटबंदी से परेशानी उठाने के बाद भी जनता मोदी के साथ है और नोटबंदी का समर्थन भी कर रही है, आज उपचुनावों की मतगणना हो रही है जिसमें मध्य प्रदेश की 2 और असम की 2 सीटों पर बीजेपी कांग्रेस से आगे है और जीत की तरफ है। त्रिपुरा में जरूर CPIM की जीत हुई है लेकिन वहां पर बीजेपी का कोई अस्तित्व नहीं है। इसके अलावा तमिल नाडू की 3 सीटों पर AIDIMK आगे है और वहां भी बीजेपी के वोटर नहीं हैं। 

असम की लखीमपुर लोकसभा सीट पर बीजेपी 30 हजार वोटों से आगे चल रही है जबकि बैठालंग्शु विधानसभा सीट से भी बीजेपी प्रत्याशी आगे हैं और दोनों स्थानों पर बीजेपी की जीत तय मानी जा रही है। लखीमपुर लोकसभा सीट मुख्यमंत्री सोनोवाल से छोड़ी थी।

महाराष्ट्र विधान परिषद् में कांग्रेस को जरूर सफलता मिली है लेकिन यहाँ भी बीजेपी ने उसकी बराबरी की है, 6 सीटों में 2-2 बीजेपी और कांग्रेस ने जबकि 1-1 शिवसेना और NCP ने जीती हैं। 

मध्य प्रदेश के शहडोल संसदीय क्षेत्र और नेपानगर विधानसभा क्षेत्र में मतगणना का दौर जारी है। दोनों ही स्थानों पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार कांग्रेस उम्मीदवारों के मुकाबले बढ़त बनाए हुए हैं। इन सीटों पर उपचुनाव के तहत 19 नवंबर को मतदान हुए थे।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, शहडोल संसदीय क्षेत्र में भाजपा के उम्मीदवार ज्ञान सिंह ने कांग्रेस उम्मीदवार हिमांद्री सिंह से 12,800 से ज्यादा मतों के अंतर से बढ़त बना ली है।

वहीं, बुरहानपुर जिलाधिकारी दीपक सिंह के मुताबिक, नेपानगर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा उम्मीदवार मंजू दादू ने कांग्रेस उम्मीदवार अंतर सिंह पर 9,000 से अधिक मतों से बढ़त बना ली है।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के मुताबिक, शहडोल संसदीय क्षेत्र की मतगणना चार जिला मुख्यालयों और नेपानगर की मतगणना बुरहानपुर जिला मुख्यालय पर हो रही है। शहडोल लोकसभा क्षेत्र में मुख्य मुकाबला कांग्रेस की हिमाद्री सिंह व भाजपा के ज्ञान सिंह के बीच है, यहां कुल 17 उम्मीदवार हैं। वहीं, नेपानगर विधानसभा में मुख्य मुकाबला भाजपा की मंजू दादू व कांग्रेस के अंतर सिंह के बीच है, यहां कुल चार उम्मीदवार मैदान में हैं।

मतगणना के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। मंगलवार सुबह आठ बजने के साथ डाक मतपत्रों की गणना शुरू हुई।

गौरतलब है कि 19 नवंबर को हुए उपचुनाव में शहडोल संसदीय क्षेत्र के उपचुनाव में 66 प्रतिशत और नेपानगर विधानसभा में लगभग 73 प्रतिशत मत पड़े थे। 

Friday, November 18, 2016

AAP ने शिवराज सिंह पर भी लगाया 10 करोड़ की रिश्वत लेने का आरोप, SIT जांच की मांग

AAP ने शिवराज सिंह पर भी लगाया 10 करोड़ की रिश्वत लेने का आरोप, SIT जांच की मांग

aap-blame-shivraj-singh-for-10-crore-bribe-demand-sit-inquiry

भोपाल, 18 नवंबर: दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) की मध्यप्रदेश इकाई ने कथित तौर पर सहारा समूह द्वारा दो किस्तों में राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को मुख्यमंत्री कार्यालय के उप-सचिव नीरज वशिष्ठ के माध्यम से 10 करोड़ रुपये दिए जाने के मामले की सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में विशेष जांच दल (एसआईटी) से कराने की मांग की है। आप के मप्र संयोजक आलोक अग्रवाल ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में आयकर विभाग द्वारा सहारा समूह के यहां से छापे के दौरान 22 नवंबर, 2014 को बरामद किए गए दस्तावेजों को सार्वजनिक किया। उन्होंने बताया कि यह दस्तावेज पार्टी संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आयकर विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के जरिए मिले हैं।

आयकर विभाग के दस्तावेजों के आधार पर अग्रवाल ने कहा, "राज्य के मुख्यमंत्री चौहान को 29 सितंबर 2013 और एक अक्टूबर, 2013 को मुख्यमंत्री कार्यालय के उप-सचिव नीरज वशिष्ठ के जरिए पांच-पांच करोड़ की दो किस्तें मिली हैं। यह राशि सहारा ने क्यों और किस काम के बदले में दी है, चौहान इस बात का खुलासा करें।"

अग्रवाल का दावा है, "आयकर विभाग के जो दस्तावेज उन्हें मिले हैं, उन पर विभाग की डिप्टी डायरेक्टर अंकिता पांडेय के हस्ताक्षर हैं। ये दस्तखत वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी के आग्रह पर कराई गई फॉरेंसिक जांच में भी सही पाए गए हैं।"

अग्रवाल ने आगे कहा, "एक तो चौहान को इस बात का जवाब देना चाहिए कि ये 10 करोड़ रुपये उन्होंने सहारा समूह से किस काम के लिए लिए। इस मामले की सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में एसआईटी जांच होनी चाहिए।"

आप के आरोपों को लेकर आईएएनएस ने जब मुख्यमंत्री आवास के उप-सचिव वशिष्ठ से संपर्क किया, तो वह एक आवश्यक बैठक में थे। इसलिए वह अपनी बात नहीं कह पाए। 

अग्रवाल ने कहा कि मध्यप्रदेश वह राज्य है जो व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) घोटाले के कारण पूरे देश में चर्चाओं में रहा है। इस अनोखे घोटाले से जुड़े 50 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। नौजवानों की एक पीढ़ी बर्बाद हो चुकी है और शिक्षा मंत्री तक को जेल जाना पड़ा है। 

उन्होंने कहा कि अब नया घपला सामने आया है। आयकर विभाग की यह शीट व्यापमं घोटाले की शीट की याद ताजा कर रही है। भ्रष्टाचार मिटाने का दावा कर रही भाजपा के पास इसका क्या जवाब है?
इंदौर में 4 नोट बदलू दलाल गिरफ्तार, 35 लाख बरामद

इंदौर में 4 नोट बदलू दलाल गिरफ्तार, 35 लाख बरामद

indore-news-4-not-badloo-dalaal-arrested-with-35-lakh-cash

इंदौर, 17 नवंबर: मध्यप्रदेश के इंदौर में पुराने नोटों को बदलवाने का ठेका लेने वाले दलाल सक्रिय हो गए हैं। पुलिस ने गुरुवार को एक गिरोह के चार सदस्यों को गिरफ्तार कर उससे 35 लाख रुपये से ज्यादा की रकम बरामद की। इंदौर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रूपेश कुमार द्विवेदी ने गुरुवार को आईएएनएस को बताया, "एक महिला सहित चार लोगों ने तीन कारोबारियों को नोट बदलवाने की जिम्मेदारी लेने का झांसा देकर उनसे 35 लाख रुपये ठग लिए। ठगी की शिकायत आने पर बुधवार की शाम चारों आरोपियों को 35 लाख रुपये के पुराने नोटों के साथ गिरफ्तार कर लिया गया।"

पुलिस सूत्रों के अनुसार, एक गिरोह के चार सदस्यों को तीन लोगों ने 35 लाख के पुराने नोट बदलवाने का काम दिया। सौदा 10 फीसदी कमीशन पर तय हुआ था। मगर ठगों ने रकम हासिल करने के बाद नोट बदलवाने में टाल-मटोली की और धमकाने लगे। 

ठगी की शिकायत राउ थाने पहुंचने पर पुलिस ने दबिश देकर चारों को गिरफ्तार कर लिया और रकम बरामद कर ली।