Showing posts with label Karnataka. Show all posts
Showing posts with label Karnataka. Show all posts

Oct 16, 2017

कांग्रेस के राज में गौ-कत्लखाने का विरोध किया तो महिला को 100 लोगों ने घेरकर अत्याचार किया

कांग्रेस के राज में गौ-कत्लखाने का विरोध किया तो महिला को 100 लोगों ने घेरकर अत्याचार किया

bengaluru-techie-women-attacked-by-mob-for-reporting-cow-slaughter

बेंगलुरु ने एक इंसानियत को शर्मशार करने वाली खबर आयी है, एक महिला को 100 लोगों की भीड़ ने सिर्फ इसलिए मारा पीटा क्योंकि उसनें अपने इलाके में अवैध गौ-कत्लखाने का विरोध किया था. ये लोग उसका क़त्ल कर देना चाहते थे लेकिन भगवान की कृपा से उसका जान बच गयी लेकिन हत्यारों की भीड़ ने उसका एक हाथ तोड़ दिया, महिला के सर अपर भी चोट आयी है. इस घटना के विरोध में ट्विटर पर Hindu Women Lynched ट्रेंड कर रहा है.

hindu-women-lynched

जानकारी के अनुसार नंदिनी और उसके दोस्त जो सॉफ्टवेर कंपनी में काम करते हैं, उन्होंने पुलिस में शिकायत कर दी कि बेंगलुरु के तलघट्टापुरा में अवैध गौ-कत्लखाना चल रहा है जिसमें गायों को काटा जा रहा था. इन लोगों ने खुद गायों को जेपी नगर के अवलाहल्ली टिप्पू सर्किल स्थित कत्लखाने में ले जाते हुए देखा और उसका पीछा भी किया.

दूसरे पक्ष के लोगों को जैसे ही शिकायत पर पता था तो 100 लोगों की भीड़ ने नंदिनी को घेर लिया और उसे मारना पीटना शुरू कर दिया, उसकी कार को तोड़ दिया गया. ये लोग उसकी हत्या करना चाहते हैं लेकिन उसकी जान बच गयी.

Oct 11, 2017

दुखद, कर्नाटक में कांग्रेस सरकार के जबरजस्त विकास की चपेट में आकर 21 वर्षीय वीना की मौत

दुखद, कर्नाटक में कांग्रेस सरकार के जबरजस्त विकास की चपेट में आकर 21 वर्षीय वीना की मौत

veena-death-in-bengaluru-road-congress-development-exposed

कांग्रेस शासित राज्य कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु से एक दुखद खबर आयी है. कांग्रेस पार्टी अन्य राज्यों में विकास ढूंढ रही है, कई राज्यों में विकास को पागल बता रही है लेकिन उन्होंने खुद बेंगलुरु में इतना विकास किया है कि आज उसी विकास की चपेट में आकर एक 21 वर्षीय युवती वीना की मौत हो गयी.

रिपोर्ट के अनुसार वीना अपनी बहन के साथ स्कूटर से सड़क पर जा रही थी, अचानक उसके सामने बड़ा गड्ढा आ गया, गड्ढे में स्कूटर जाने से उसका बैलेंस बिगड़ गया और वह नीचे गिर पड़ीं, उसी वक्त पीछे से आ रहे एक ट्रैक ने वीना को रौंद दिया.

इस हादसे से कर्नाटक में राजनीतिक माहौल गरमा गया है, बीजेपी ने कांग्रेस के विकास की पोल खोल दी है, बीजेपी नेताओं ने आज कांग्रेस सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए कहा कि कांग्रेस ने सिर्फ गड्ढों का विकास किया है, सभी सड़कें गड्ढों से भरी पड़ी हैं, पिछले 4 दिनों में गड्ढों की चपेट में आकर चार लोगों की मौत हुई है.

बीजेपी ने आरोप लगाया कि यहाँ की कांग्रेस सरकार मर चुकी है, उसमें जान नहीं है, राज्य को बर्बाद कर दिया गया है. बीजेपी के आरोप के बाद मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने मोर्चा संभालते हुए कहा कि हम एक दो हप्ते में कर्नाटक को गड्ढामुक्त क्र देंगे.

Sep 19, 2017

राहुल और लिबरल मीडिया को पड़ा जोरदार तमाचा, गौरी लंकेश को RSS ने नहीं माओवादियों ने मारा

राहुल और लिबरल मीडिया को पड़ा जोरदार तमाचा, गौरी लंकेश को RSS ने नहीं माओवादियों ने मारा

big-breaking-news-gauri-lankesh-murder-by-ultra-left-moist-hindi

जिस दिन गौरी लंकेश की हत्या हुई थी उसके दूसरे ही दिन राहुल गाँधी ने मोदी, बीजेपी और आरएसएस पर उनकी हत्या का आरोप लगा दिया था, ऐसा इसलिए क्योंकि गौरी लंकेश आरएसएस के विरोध में हमेशा लिखती रहती थीं इसलिए राहुल गाँधी ने आरएसएस को उनका हत्यारा बता दिया, राहुल गाँधी के आरोपों के बाद लिबरल मीडिया भी उनके सुर में बोलने लगा और मोदी, बीजेपी, आरएसएस को गौरी लंकेश का हत्यारा बताने लगा, यही नहीं प्रेस क्लब में पत्रकारों की मीटिंग में भी आरएसएस पर ही सवाल उठाए गए, वहां पर कन्हैया कुमार और उमर खालिद जैसे देशद्रोह के आरोपियों को बुलाकर मोदी के खिलाफ भाषण दिलवाया गया.

अब खुलासा हो रहा है कि गौरी लंकेश का मर्डर उनके बेटे कन्हैया कुमार और उमर खालिद की गैंग ने ही किया है, ये लोग अल्ट्रा लेफ्ट म्वाईस्ट का समर्थन करते हैं, लाल सलाम बोलते हैं, गौरी लंकेश की हत्या भी इन्हीं लोगों ने की थी.

यह खुलासा जेल में बंद एक माओवादी ने ही किया है. गौरी लंकेश की हत्या की जांच कर रही बैंगलोर SIT ने बैंगलोर की सेंट्रल जेल में बंद इस नक्सली से पूछताछ की. उसनें बताया कि गौरी लंकेश को अल्ट्रा लेफ्ट यानी कट्टर नक्सलियों ने मारा.

हत्या का कारण बताते हुए नक्सली ने बताया कि गौरी लंकेश नक्सलियों को सरेंडर करने की अपील कर रही थीं जिसकी वजह से नक्सली लोग उनसे नाराज थे, क्योंकि उनकी बात मानकर कई लोगों ने सरेंडर किया लेकिन उन्हें जेल में बंद कर दिया गया. उन्हें लगा कि गौरी लंकेश ने उन्हें धोखा दिया है. गौरी लंकेश उनसे हथियार छोड़ने की भी अपील करती थीं इसकी वजह से भी नक्सली नेता उनसे नाराज थे, इसी गुस्से की वजह से अल्ट्रा लेफ्ट के लोगों ने उन्हें मार डाला.

यहाँ पर सवाल लिबरल मीडिया और राहुल गाँधी पर उठ रहा है, पहले तो राहुल गाँधी ने आरएसएस और मोदी पर उसका इल्जाम लगा दिया लेकिन जब पता चला है कि गौरी का मर्डर नक्सलियों ने किया है तब से वे शांत हैं, इससे भी हैरानी की बात यह है कि लिबरल मीडिया वाले भी अब शांत हैं, अब उन्हें गौरी लंकेश की हत्या का कोई दुःख नहीं है क्योंकि उन्हें नक्सलियों ने मारा है, उन्हें गौरी लंकेश की हत्या का तभी दुःख होता जब उन्हें आरएसएस ने मारा होता लेकिन ऐसा हुआ नहीं इसलिए लिबरल मीडिया चुप हो गए.

Sep 16, 2017

कर्नाटक में कांग्रेस सरकार को जोरदार तमाचा, DIG रूपा को मिला प्रेसिडेंट मेडल

कर्नाटक में कांग्रेस सरकार को जोरदार तमाचा, DIG रूपा को मिला प्रेसिडेंट मेडल

karnatak-dig-roopa-awarded-president-medal-slap-on-congress

कर्नाटक में कांग्रेस सरकार और कांग्रेसी मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के गाल पर आज जोरदार तमाचा लगा है क्योंकि जिस DIG रूपा की उन्होने क़द्र नहीं की आज उन्हें उनकी पुलिस विभाग में सराहनीय सेवा के लिए प्रेसिडेंट मेडल से नवाजा गया है. आज राज भवन में राज्यपाल वाजुभाई रुदाभाई वाला ने उन्हें अपने हाथों से मेडल पहनाकर इस पुरष्कार से नवाजा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शशिकला बैंगलोर की सेंट्रल जेल में बंद हैं. उनके बारे में DIG रूपा ने ही खुलासा किया था कि उन्हें जेल में VIP ट्रीटमेंट दिया जा रहा है. उस खुलासे के बाद कांग्रेस सरकार की काफी किचकिच हुई थी. DIG रूपा ने शशिकला के बारे में गृह विभाग और DGP जेल के पास रिपोर्ट भी भेजी थी.

कांग्रेस सरकार ने इसके बाद DIG रूपा को ट्रैफिक विभाग में IGP और ट्रैफिक और रोड सेफ्टी विभाग में कमिश्नर के पद पर ट्रान्सफर कर दिया गया था. इसके बाद कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की जमकर आलोचना की गयी थी और आज DIG रूपा को प्रेसिडेंट मेडल देकर कांग्रेस सरकार के गाल पर जोरदार तमाचा मार दिया गया.

Sep 9, 2017

तो निखिल दधीच ने गौरी लंकेश को इसलिए बोला था कुतिया, आप भी जान लें कारण, पढ़ें सच

तो निखिल दधीच ने गौरी लंकेश को इसलिए बोला था कुतिया, आप भी जान लें कारण, पढ़ें सच

nikhil-dadhich-why-called-gauri-lankesh-kutiya-in-hindi-news

कर्नाटक की एक महिला पत्रकार की जघन्य हत्या हो गयी और उसे बीजेपी के एक समर्थक ने कुतिया बता दिया. निखिल दधीच ने गौरी लंकेश को गोली मारे जाने के दूसरे दिन मीडिया और विपक्षी दलों की हाय-तौबा देखकर कहा - एक कुतिया कुत्ते की मौत क्या मर गयी, सारे पिल्ले एक  सुर में बिलबिला रहे हैं. हैरानी की बात ये थी कि निखिल दधीच को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी फॉलो करते हैं. जैसे ही वामपंथियों, कांग्रेस और लिबरल्स ने देखा कि मोदी द्वारा फॉलो किये जाने वाले एक युवक ने गौरी शंकर को कुतिया बता दिया है, वैसे ही बवाल मच गया. तुरंत ही गौरी लंकेश की हत्या का आरोप मोदी पर लगा दिया गया, ऐसा इसलिए क्योंकि मोदी जिस व्यक्ति को फॉलो करते थे उसनें गौरी लंकेश को कुतिया बता दिया.

अब आप किस्से का दूसरा पहलू देखिये, मान लो निखिल दधीच ने गौरी लंकेश को कुतिया बोलकर गलती की लेकिन जिन लोगों के लिए उन्होंने गलत शब्द का इस्तेमाल किया था, उनके समर्थक निखिल दधीच को अपमानजनक और उनसे भी गलत ट्वीट करने लगे. उनके पूरे परिवार को गालियाँ दी जा रही हैं. उनके पूरे परिवार को मारने की धमकी दी जा रही है. उनका एड्रेस और फोन नंबर माँगा जा रहा है. इस वक्त निखिल दधीच की मदद करने वाला कोई नहीं है.

अब आप देखिये कि निखिल दधीच ने गौरी लंकेश को कुतिया क्यों बोला. उन्होंने गौरी लंकेश के इस ट्वीट को देखने के बाद उन्हें कुतिया बोला होगा. इस ट्वीट में गौरी लंकेश ने संघियों को कहा है कि तुम लोग बलात्कार की पैदाइश हो लेकिन हम फ्री सेक्स की प्राउड पैदाइश हैं.

गौरी लंकेश ने संघियों को कहा है - अगर तुम्हारी माँ ने फ्री सेक्स नहीं किया तो दो बात होंगी. या तो तुम लोग रेप करके पैदा किये गए हो या आप सेक्स वर्कर के द्वारा पैदा किये गये हो जिन्होंने फ्री सेक्स नहीं किया बल्कि फीस के लिए सेक्स किया है.

संघियों, अब विकल्प तुम्हारे सामने है, तुम लोग या तो कह सकते हो कि तुम्हारी माँ ने फ्री सेक्स किया है इसलिए तुम रेप की पैदाइश नहीं हो या तुम कह सकते हो कि तुम्हारी माँ का रेप किया गया है और तुम रेप की पैदाइश हो. 

आगे लिखा है - मैं कविता कृष्णन और उनकी बहादुर माँ का समर्थन करती हूँ, वास्तव में मेरी माँ से मेरे पिता से सहमति से सेक्स किया था इसलिए मुझे उनकी बेटी होने पर गर्व है.

gauri-lankesh-kutiya
गौरी लंकेश संघियों ने बहुत नफरत करती थीं इसलिए उन्हें बलात्कार की पैदाइश बताती थीं और फ्री सेक्स की वकालत करनी थीं, कुतिया भी यही काम करती हैं इसलिए एक संघी होने के नाते निखिल दधीच ने उन्हें कुतिया बोल दिया होगा. अब संघ और गौरी लंकेश एक दूसरे को कुछ भी बोलें, हमें क्या करना है. वैसे सोशल मीडिया पर कुतिया या चू-ति-या का इस्तेमाल गलत है.

Sep 7, 2017

गौरी लंकेश मर्डर, दलाल मीडिया ने धूर्तता दिखाकर कांग्रेस को बचाया, आरोप BJP-RSS पर लगाया

गौरी लंकेश मर्डर, दलाल मीडिया ने धूर्तता दिखाकर कांग्रेस को बचाया, आरोप BJP-RSS पर लगाया

media-saving-siddaramaiah-in-gauri-lankesh-murder-exposed

गौरी लंकेश कैसी भी रही हों, चाहे हो नक्सल समर्थक रही हों, बीजेपी विरोधी रही हों, मोदी विरोधी रही हों या कर्नाटक में कांग्रेस सरकार के घोटालों का खुलासा करने वाली हों, उनकी मौत दुखद है लेकिन भारत के धूर्त और दलाल मीडिया ने जिस तरह से कल जज बनकर कांग्रेस सरकार को बचाया और उनकी हत्या का आरोप बीजेपी और आरएसएस पर लगा दिया उसे देखकर भारत के मीडिया पर से लोगों का भरोसा उठ सकता है.

मीडिया ने कल राहुल गाँधी को फॉलो किया. राहुल गाँधी ने जज बनकर गौरी लंकेश की हत्या का आरोप मोदी, बीजेपी और आरएसएस पर लगा दिया, मीडिया ने भी उनकी बात को मान लिया और बीजेपी आरएसएस को गौरी लंकेश का हत्यारा बताने लगा लेकिन आज मीडिया और कांग्रेस की पोल गौरी लंकेश के भाई ने ही खोल दी. उन्होंने कहा कि गौरी लंकेश को इससे पहले नक्सलियों से धमकी मिल चुकी थी, उन्हें काम करने से रोका जा रहा था.

आपको बता दें कि कर्नाटक में कांग्रेस पार्टी की सरकार है, वहां बीजेपी या आरएसएस द्वारा किसी की हत्या का सवाल ही पैदा नहीं होता, गौरी लंकेश एक पत्रकार थीं और कांग्रेस के घोटालों की लिस्ट तैयार कर रही थीं, बीजेपी और आरएसएस को तो उनसे फायदा होने वाला था, अगर वे कांग्रेस के घोटालों की पोल खोलतीं तो उसका फायदा बीजेपी को मिलता, उनकी अगली बार सरकार बनती, ऐसे में सवाल ही पैदा नहीं होता कि बीजेपी या आरएसएस के लोग उनकी ह्त्या करेंगे.

यहाँ पर शक केवल कांग्रेस सरकार पर पैदा होता है क्योंकि गौरी लंकेश उनकी पोल खोलने वाली थीं, हो सकता है कि पोल खुलने के डर से गौरी लंकेश को मारा गया हो, हो सकता है कि उन्हें रास्ते से हटा दिया गया हो, उन्हें नक्सलियों से धमकी मिलती थी, हो सकता है कि नक्सलियों के जरिये उनकी हत्या कराई गयी हो.

कल भारत के मीडिया चैनलों ने नीचता की हद पार कर दी, अधिकतर के मुंह पर केवल मोदी का नाम था जबकि कर्नाटक में कांग्रेस सरकार है, वहां पर मोदी क्या करेंगे. मीडिया वालों को सीबीआई जांच की मांग करनी थी लेकिन ये लोग खुद जज बन गए और मोदी के खिलाफ फैसला सुना दिया. इतनी घटिया और नीच सोच वाला मीडिया शायद ही किसी देश में होगा.

Sep 6, 2017

हर कांड की CBI जांच की मांग करते हैं राहुल गाँधी, गौरी लंकेश कांड की क्यों नहीं: क्योंकि..

हर कांड की CBI जांच की मांग करते हैं राहुल गाँधी, गौरी लंकेश कांड की क्यों नहीं: क्योंकि..

gauri-lankesh-murder-why-not-congress-ask-for-cbi-investigation

आपने देखा होगा कि देश में जितने भी कांड होते हैं रहुल गाँधी और उनकी कांग्रेस पार्टी सबकी जांच CBI से कराने की मांग करती है लेकिन कल वामपंथी विचारधारा वाली पत्रकार गौरी लंकेश को गोली मार दी गयी लेकिन राहुल गाँधी ने इस कांड की CBI जांच की मांग नहीं की. सबसे हैरानी वाली बात ये है कि राहुल गाँधी ने इस हत्या का दोष प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी पर लगाया है इसके बावजूद भी CBI जांच की मांग की जा रही है, ऐसा लगता है कि कांग्रेस कुछ छुपा रही है.

हैरानी इस बात की है कि बीजेपी नेता इस घटना की CBI जांच की मांग कर रहे हैं लेकिन कांग्रेस पार्टी ने इसकी जांच के लिए SIT का गठन कर दिया है. हर कोई जानता है कि कर्नाटक में पिछले तीन वर्षों में तीन पत्रकारों की हत्या हो चुकी है, सभी मामलों की जांच के लिए SIT का गठन किया गया लेकिन आज तक एक भी आरोपी को नहीं पकड़ा जा सका है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कांग्रेस इस घटना की CIB जांच की मांग इसलिए नहीं कर रही है क्योंकि कांग्रेस में उनकी ही सरकार है और CBI जाँच के बाद हो सकता है कि उनकी ही पोल पट्टी खुल जाय, यह भी चर्चा चल रही है कि गौरी लंकेश कांग्रेस के घोटालों और भ्रष्टाचार पर एक स्टोरी बना रही थीं. हो सकता है कि कांग्रेस पार्टी उनसे नाराज हो और उनके ही किसी आदमी ने यह कांड करवा दिया हो. इस घटना की CBI जांच होनी ही चाहिए.

आपकी जानकारी के लिए बता दने कि हिंदुत्व और आरएसएस विरोधी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या ने तूल पकड़ लिया है, वह लगातार बीजेपी, आरएसएस, हिंदुत्व और मोदी के खिलाफ आग उगलती रहती थीं, कल चार नकाबपोश लोगों ने उनके घर में घुसकर उन्हें गोली मार दी. गौरी लंकेश को कल रात 8-9 बजे के बीच उनके राजेश्वरी नागा स्थित घर में घुसकर गोली मार दी गयी. रिपोर्ट के मुताबिक़ गोलियां उनके शरीर के आर पार हो गयीं. वह गौरी लंकेश पत्रिके की मुख्य संपादक और फाउंडर थीं और कट्टर हिंदुत्व विरोधी पत्रकार के नाम से मशहूर थीं.
पत्रकार का खुलासा, कर्नाटक कांग्रेस सरकार के घोटालों का कच्चा चिटठा खोलने वाली थीं गौरी लंकेश

पत्रकार का खुलासा, कर्नाटक कांग्रेस सरकार के घोटालों का कच्चा चिटठा खोलने वाली थीं गौरी लंकेश

gauri-lankesh-was-working-congress-government-corruption-story

हिंदुत्व और आरएसएस विरोधी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या ने तूल पकड़ लिया है, वह लगातार बीजेपी, आरएसएस, हिंदुत्व और मोदी के खिलाफ आग उगलती रहती थीं, कल चार नकाबपोश लोगों ने उनके घर में घुसकर उन्हें गोली मार दी. गौरी लंकेश को कल रात 8-9 बजे के बीच उनके राजेश्वरी नागा स्थित घर में घुसकर गोली मार दी गयी. रिपोर्ट के मुताबिक़ गोलियां उनके शरीर के आर पार हो गयीं. वह गौरी लंकेश पत्रिके की मुख्य संपादक और फाउंडर थीं और कट्टर हिंदुत्व विरोधी पत्रकार के नाम से मशहूर थीं.

कांग्रेस के लोग इस हत्या के लिए मोदी, बीजेपी और आरएसएस को जिम्मेदार बता रहे हैं, स्वयं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने आज मोदी का नाम लेते हुए कहा कि उनके खिलाफ लिखने वालों को मारा जा रहा है, आवाज दबाई जा रही है. मोदी जी सिर्फ एक विचारधारा को आगे बढ़ाना चाहते हैं.

ABP News के पत्रकार विकास भदौरिया ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि गौरी लंकेश कर्नाटक की कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के भ्रष्टाचारों और घोटालों की स्टोरी पर काम कर रही थीं. पत्रकार की बातों से ऐसा लग रहा है कि गौरी लंकेश कांग्रेस सरकार के घोटालों की पोल खोलने वाली थीं. उनके मर्डर की यह भी वजह हो सकती है.
why-gauri-lankesh-murdered
पत्रकार गौरी लंकेश ने सुबह अपने और अपनी गैंग का किया खुलासा, शाम को मारी गयी गोली, पढ़ें सच

पत्रकार गौरी लंकेश ने सुबह अपने और अपनी गैंग का किया खुलासा, शाम को मारी गयी गोली, पढ़ें सच

journalist-gauri-lankesh-exposed-her-gang-sharing-fake-posts

हिंदुत्व और आरएसएस विरोधी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या ने तूल पकड़ लिया है, वह लगातार बीजेपी, आरएसएस, हिंदुत्व और मोदी के खिलाफ आग उगलती रहती थीं, कल चार नकाबपोश लोगों ने उनके घर में घुसकर उन्हें गोली मार दी. गौरी लंकेश को कल रात 8-9 बजे के बीच उनके राजेश्वरी नागा स्थित घर में घुसकर गोली मार दी गयी. रिपोर्ट के मुताबिक़ गोलियां उनके शरीर के आर पार हो गयीं. वह गौरी लंकेश पत्रिके की मुख्य संपादक और फाउंडर थीं और कट्टर हिंदुत्व विरोधी पत्रकार के नाम से मशहूर थीं.

इस मामले में उनके समर्थक, लिबरल पत्रकार और मोदी विरोधी पार्टियाँ आरएसएस और बीजेपी पर उंगली उठा रही हैं लेकिन गौरी लंकेश के ही कल के ट्वीट ने इसे नया रंग दे दिया है. उनके ट्वीट को देखकर लग रहा है कि उनके और आजादी गैंग के बीच सब कुछ ठीक नहीं था. वे आपस में ही उलझे हुए थे. हो सकता है कि उनकी गैंग वालों ने ही उन्हें मार डाला हो.

अब इस मामले ने कुछ अलग ही मोड़ ले लिया है, कल गौरी लंकेश ने अपने और अपनी गैंग का खुलासा किया था, उन्होंने कहा था कि हममे से ही कुछ लोग गलतियाँ करते हैं, फेक पोस्ट शेयर करते हैं, सभी को बता दो, एक दूसरे की पोल खोलने का प्रयास ना करें. शान्ति.. कॉमरेड्स.

उन्होंने दूसरे ट्वीट में कहा कि मुझे ऐसा लग रहा है कि हममे से कुछ लोग खुद से ही लड़ रहे हैं, हमें पता है कि हमारा सबसे बड़ा दुश्मन कौन है. क्या हम उस पर ही ध्यान केन्द्रित नहीं रख सकते.
gauri-lankesh-exposed-her-gang

उनकी हत्या पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली सरकार में पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने भी कहा कि - मरते मरते गौरी ने अपनों पर ही उंगली उठायी है, लगता है गौरी ने किसी अपनें की ही गोली खायी है.

kapil-mishra-reaction-on-gauri-lankesh-death
हिंदुत्व विरोधी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या पर बोली मेधा पाटेकर 'ये हिंदुत्व ताकतों का काम है'

हिंदुत्व विरोधी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या पर बोली मेधा पाटेकर 'ये हिंदुत्व ताकतों का काम है'

medha-patekar-blamed-hindutva-forces-for-gauri-lankesh-murder

हिंदुत्व और आरएसएस विरोधी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या ने तूल पकड़ लिया है, वह लगातार बीजेपी, आरएसएस, हिंदुत्व और मोदी के खिलाफ आग उगलती रहती थीं, कल चार नकाबपोश लोगों ने उनके घर में घुसकर उन्हें गोली मार दी. आज उनकी मौत पर प्रतिक्रिया देते हुए सामाजिक कार्यकर्त्ता मेधा पाटेकर ने कहा कि यह साम्प्रदाईक और हिंदुत्व ताकतों का काम है.

मेधा पाटेकर ने कहा कि केवल मुट्ठी भर लोग ही साम्प्रदाईक ताकतों के खिलाफ लिखने की हिम्मत कर पाते हैं, ऐसे लोगों को सुरक्षा मिलनी चाहिए, सम्प्रदाईकता ने पत्रकारों के लिए कहीं जगह नहीं छोड़ी है. उन्होंने सभी पत्रकारों की सुरक्षा देने की मांग की. उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी ने इस मामले पर एक्शन लेने की मांग की.

गौरी लंकेश को कल रात 8-9 बजे के बीच उनके राजेश्वरी नागा स्थित घर में घुसकर गोली मार दी गयी. रिपोर्ट के मुताबिक़ गोलियां उनके शरीर के आर पार हो गयीं. वह गौरी लंकेश पत्रिके की मुख्य संपादक और फाउंडर थीं और कट्टर हिंदुत्व विरोधी पत्रकार के नाम से मशहूर थीं.

Sep 5, 2017

कट्टर हिंदुत्व विरोधी और माओवादी समर्थक महिला पत्रकार गौरी लंकेश को मार दी गयी गोली, ख़त्म

कट्टर हिंदुत्व विरोधी और माओवादी समर्थक महिला पत्रकार गौरी लंकेश को मार दी गयी गोली, ख़त्म

gauri-lankesh-murder-shot-dead-in-bengaluru-by-unknows-men

कर्नाटक के बेंगलुरु शहर से एक बड़ी खबर आयी है. अज्ञात हमलावरों ने वरिष्ठ महिला पत्रकार गौरी लंकेश को उनके घर में घुसकर गोली मार दी. गौरी लंकेश की मौके पर ही मौत हो गयी. कहा जा रहा है कि चार अज्ञात हमलावरों ने गौरी लंकेश के राजेश्वरी इलाके में स्थित घर में घुसकर उन्हें काफी करीब से गोलियां मार दीं. उनकी हत्या की चौतरफा निंदा हो रही है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने उनकी हत्या की निंदा करते हुए कहा है कि सच्चाई को कभी दबाया नहीं जा सकता. गौरी लंकेश हमारे दिलों में रहती हैं. मैं उनके परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करता हूँ. दोषी लोगों को सजा होनी चाहिए.
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गौरी लंकेश साप्ताहिक मैगजीन लंकेश पत्रिके की संपादक थीं, वे अख़बारों में भी कॉलम लिखती रहती थीं. उन्हें कट्टर हिंदुत्व विरोधी, बीजेपी विरोधी और माओवादी समर्थक पत्रकार कहा जाता था. एक बार बीजेपी नेताओं की शिकायत पर कोर्ट ने उन्हें सजा भी सुना दी थी हालाँकि उन्हें जमानत मिल गयी थी. उन्होंने आरोप लगाया था कि बीजेपी और मोदी भक्त उन्हें जेल भेजना चाहते हैं. उनपर पेड खबरें छापने का भी कई बार आरोप लगा.

Aug 17, 2017

कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने राहुल को हिंदी भाषा बोलने से मना कर दिया, लोग कांग्रेस से नाराज

कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने राहुल को हिंदी भाषा बोलने से मना कर दिया, लोग कांग्रेस से नाराज

karnataka-congress-sarkar-ban-rahul-gandhi-to-speak-hindi-news

राहुल गाँधी पहले अंग्रेजी में ही बोलते थे लेकिन जब कांग्रेस की मिट्टी पलीद होने लगी और हर जगह से कांग्रेस साफ़ होने लगी तो राहुल गाँधी को भी मजबूर होकर हिंदी सीखना पड़ा, ऐसा इसलिए भी क्योंकि मोदी और बीजेपी नेता हमेशा हिंदी भाषा में भाषण देते हैं और उनकी बात भी देशवासी अच्छी तरह से समझते हैं क्योंकि हिंदी हमारे देश के सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है. जब राहुल गाँधी ने देखा कि अब अंग्रेजी बोलने से काम नहीं चलेगा तो उन्होंने हिंदी भाषा सीखनी शुरू कर दी.

अब राहुल गाँधी अधिकतर हिंदी में ही भाषण देते हैं क्योंकि इससे उनकी बात पूरे देश में पहुँच जाती है लेकिन कल जब राहुल गाँधी कर्नाटक के बेंगलुरु शहर में हिंदी में भाषण दे रहे थे तो वहां की कांग्रेस सरकार ने उन्हें हिंदी बोलने से रोक दिया। एक कांग्रेसी नेता जो मंच के पास ही खड़ा था उसनें कहा कि सर यहाँ पर तो हम हिंदी भाषा को बैन कर रहे हैं, आप यहाँ पर हिंदी मत बोलिए वरना लोग हमें क्या कहेंगे. लोग हमें कहेंगे कि हमारे सबसे बड़े नेता ही हिंदी बोल रहे हैं और हम राज्य के लोगों को हिंदी बोलने से बैन कर रहे हैं. हमारे बारे में गलत सन्देश जाएगा। इसके बाद राहुल गाँधी भी कांग्रेसी नेता की बात मान गए और अंग्रेजी में भाषण शुरू कर दिया।

आपको बता दें कि कर्नाटक की कांग्रेस सरकार कर्नाटक में हिंदी भाषा को बैन कर रही है. हिंदी भाषी लोगों को भगाने की तैयारी चल रही है और उन्हें कन्नड़ भाषा सीखने का फरमान सुना दिया है. सभी बैंकों के भी कर्मचारियों को भी फरमान सुना दिया गया है कि या तो कन्नड़ सीखो या तो जाओ. हाल ही में सभी मेट्रो स्टेशनों से हिंदी नामों को मिटा दिया गया.



कांग्रेस की इस हरकत से सोशल मीडिया पर लोग खासे नाराज हैं क्योंकि कांग्रेस पार्टी भाषा के नाम पर लोगों को बांटने का काम कर रही है. कल को अगर यूपी का कोई व्यक्ति कर्नाटक में जाकर हिंदी बोलेगा तो उसे मारा पीटा जाएगा क्योंकि कांग्रेस पार्टी वहां के लोगों के दिनों में हिंदी भाषी लोगों के प्रति नफरत भर रही है.

सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया देते हुए लोगों ने कहा कि यही हरकत राज ठाकरे ने महाराष्ट्र में की थी, उसका परिणाम देख लो. भाषा के नाम पर जिसनें भी हिन्दुस्तानियों को बांटने का काम किया उसका बुरा हाल हुआ है. देखिये क्या कह रहे हैं लोग - 

congress-ki-social-media-par-hui-fajeehat

हिंदी में भाषण दे रहे थे राहुल गाँधी, अचानक हुआ कुछ ऐसा कि पढ़कर उबल जाएगा आपका खून: पढ़ें

हिंदी में भाषण दे रहे थे राहुल गाँधी, अचानक हुआ कुछ ऐसा कि पढ़कर उबल जाएगा आपका खून: पढ़ें

rahul-gandhi-started-bhashan-in-hindi-in-karnataka-but-stopped

कांग्रेस पार्टी इस वक्त देश में नफरत बोले का काम कर रही है, कर्नाटक में कांग्रेस पार्टी भाषा के नाम पर एक दूसरे को लड़ाने का काम कर रही है इसलिए हिंदी भाषा को वहां पर बैन किया जा रहा है, सभी सरकारी कार्यालयों और बैंकों में भी सभी कर्मचारियों से कह दिया है कि या तो यहाँ की भाषण कन्नड़ सीखो वरना यहाँ से जाओ, यहाँ पर हिंदी नहीं चलेगी.

आज कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने भी कर्नाटक में हिंदी भाषा में ही अपने भाषण की शुरुआत की थी, उन्होंने हिंदी भाषा में ही मंच पर बैठे सभी लोगों का अभिवादन किया और हिंदी में आगे का भाषण बोलन शुरू कर दिया लेकिन इसके बाद वहां खड़े राज्य के कांग्रेसी नेता ने उन्हें हिंदी बोलने से रोक दिया. उन्होने कहा कि सर हम यहाँ पर हिंदी भाषा को बैन कर रहे हैं और आप भी हिंदी में ही बोल रहे हैं. इसके बाद राहुल गाँधी ने उनकी बात मानकर अंग्रेजी में भाषण शुरू कर दिया.

आपको जानकर हैरानी होगी कि राहुल की हिंदी भाषा का जो अनुवाद कर रहे थे उन्हें भी हिंदी समझ में आ रही थी, उन्होंने राहुल गाँधी के शुरुआती भाषण का कन्नड़ में अनुवाद भी किया लेकिन उसके बाद उन्होने राहुल गाँधी को हिंदी बोलने से रोक दिया. राहुल ने भी सर हिलाकर कहा कि कोई बात नहीं, मैं हिंदी नहीं बोलूँगा. आप VIDEO में खुद देख सकते हैं.

Aug 16, 2017

कर्नाटक में भी कांग्रेस का बंटाधार करने पहुँच गए राहुल गाँधी, कर डाली 2 मिस्टेक: पढ़ें

कर्नाटक में भी कांग्रेस का बंटाधार करने पहुँच गए राहुल गाँधी, कर डाली 2 मिस्टेक: पढ़ें

rahul-gandhi-congress-bantadhar-in-karnataka-forget-indira-name

बेंगलुरु:  कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी भारतीय जनता पार्टी के लिए शुभ हैं क्योंकि वे जिन राज्यों में चुनाव प्रचार की शुरुआत करते हैं वहीं पर कांग्रेस का बंटाधार हो जाता है. अब राहुल गाँधी कर्नाटक में भी कांग्रेस का बंटाधार करने पहुँच गए हैं और आज पहले ही दिन उन्होंने दो बड़ी मिस्टेक कर डाली हैं जिसकी वजह से सोशल मीडिया पर उनकी बहुत फजीहत हो रही है. राहुल गाँधी की ही कांग्रेस पार्टी की भी बहुत फजीहत हो रही है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कर्नाटक में चुनावों को देखते हुए वहां की जनता को लुभाने के लिए कांग्रेस सरकार ने इंदिरा कैंटीन की शुरुआत की है जहाँ पर सिर्फ 5 रुपये में नाश्ता और 10 रुपये में भरपेट भोजन मिलेगा. आज राहुल गाँधी ने अपने हाथों से इस कैंटीन की शुरुआत की लेकिन भाषण देते वक्त उनसे दो गलतियाँ हो गयीं.

इंदिरा कैंटीन को बता दिया अम्मा कैंटीन

राहुल गाँधी भले ही इंदिरा कैंटीन की शुरुआत करने गए थे लेकिन उनके दिमाग में तमिलनाडु की अम्मा कैंटीन थी इसलिए उन्होने अपने भाषण में इंदिरा कैंटीन को अम्मा कैंटीन बता दिया. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सिद्धरमैय्या की सरकार में कर्नाटक में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं रहेगा यही अम्मा कैंटीन का विजन है. राहुल गाँधी को जल्द ही अपनी भूल का अहसास हो गया और उन्होने सुधार कर लिया.

बेंगलुरु के अन्य शहरों में भी खुलेंगी ऐसी कैंटीन

राहुल गाँधी भले ही कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष हैं लेकिन शायद उन्हें पता नहीं है कि बेंगलुरु कर्नाटक का शहर है और राजधानी भी है. उन्होंने कहा कि  बेंगलुरु के अन्य शहरों में भी हम ऐसी ही कैंटीन खोलेंगें. राहुल गाँधी को शायद पता नहीं है कि शहर के अन्दर शहर नहीं होते.

Aug 13, 2017

अमित शाह ने पूछे दो सवाल, एक का जवाब हर कोई दे सकता है, दूसरे का कोई नहीं दे सकता: पढ़ें

अमित शाह ने पूछे दो सवाल, एक का जवाब हर कोई दे सकता है, दूसरे का कोई नहीं दे सकता: पढ़ें

amit-shah-ask-who-will-become-next-president-of-bjp-and-congress

बैंगलोर: आज अमित शाह ने कांग्रेस की पोल खोलकर रख दी. उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी अन्य पार्टियों से अलग है, हमारे यहाँ आतंरिक लोकतंत्र मजबूत है, हमारे यहाँ परिवारवाद नहीं चलता. चुनाव आयोग में सभी पार्टियों की ऑडिटिंग चलती है और 50 पार्टियों के जमघट के अन्दर मैं बड़े गर्व के साथ बताना चाहता हूँ कि गिनी चुनी पार्टियाँ ही ऐसी हैं जिनके अन्दर आतंरिक लोकतंत्र है. बाकी पार्टियों के अन्दर आंतरिक लोकतंत्र ध्वस्त हो गया है.

अमित शाह ने कहा कि हमारी पार्टी ने ही आन्तरिक लोकतंत्र को संभाल कर रखा है. उन्होने कहा कि देश में दो प्रमुख दल हैं कांग्रेस और बीजेपी. आप सभी सभागार में बैठे लोगों से मैं पूछता हूँ. मुझे आप लोग एक बात बताइये, सोनिया जी के बाद कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष कौन बनेगा. किसी के मन कोई कोई कंफ्यूजन है. जरा भी नहीं है ना. यह तय है कि जब सोनिया गाँधी कांग्रेस की अध्यक्ष नहीं रहना चाहेगी या नहीं रहेगी तब कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल बनेंगे.

अमित शाह ने पूछा कि अब आप बताइये मेरे बाद बीजेपी का अध्यक्ष कौन बनेगा. आप नहीं बता सकते क्योंकि हमारे यहाँ किसी घर में जन्म लेने से अध्यक्ष नहीं बनता बल्कि अपने कर्तृत्व के आधार पर बनता है. जब कर्तृत्व के आधार पर अध्यक्ष बनता है, जब कर्तृत्व के आधार पर नेता बनता है तो उसके अन्दर के गुणों को देखकर उसे अध्यक्ष बनाया जाता है, किसी घर में जन्म लेने से हमारे यहाँ अध्यक्ष नहीं बनाया जा सकता.

अमित शाह ने कहा कि देवगौड़ा के बाद उनकी पार्टी का अध्यक्ष कौन बनेगा. उनका बेटा बनेगा ये तय है. सिर्फ भारतीय जनता पार्टी में ऐसा होता है कि एक छोटे से कार्यकर्ता को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया जाता है. जब हमारी पार्टी में मौका आया कि देश का प्रधानमंत्री कौन बनेगा तो हम लोगों को किसी घराने का ख्याल नहीं आया, एक गरीब से गरीब घराने में जन्म लेने वाले व्यक्ति को हमारे यहाँ प्रधानमंत्री बनाया गया. यह व्यवस्था भारतीय जनता पार्टी के अलावा कहीं और नहीं है. भारतीय जनता पार्टी में आप कार्यकर्ता बनकर ऊंचे से ऊंचे पदों पर पहुँच सकते हो क्योंकि हमारे यहाँ पर आंतरिक लोकतंत्र है.

अमित शाह ने कहा कि अगर हमारे यहाँ पर आंतरिक लोकतंत्र ना होता तो यहाँ भी पिता के बाद बीटा, बेटे के बाद पोता, पोते के बाद उसका बेटा, ऐसे ही चलता रहता और इमानदार कार्यकर्त्ता ऊंचे पदों पर ना पहुँच पाता.
अमित शाह बोले, BJP के सभी कार्यक्रम देश के लिए होते हैं लेकिन कांग्रेस के सभी कर्यक्रम सिर्फ..

अमित शाह बोले, BJP के सभी कार्यक्रम देश के लिए होते हैं लेकिन कांग्रेस के सभी कर्यक्रम सिर्फ..

amit-shah-told-bjp-programmes-for-india-but-congress-for-party

बैंगलोर: आज बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बैंगलोर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा के सारे कार्यक्रम किसी नेता के महिमामंडन के लिए नहीं बल्कि देश की समस्याओं के समाधान के लिए रहे हैं, जबकि कांग्रेस के सभी कार्यक्रम सिर्फ उनके नेताओं के महिमामंडन के लिये होते हैं.

अमित शाह ने कहा कि आप हमारी पार्टी के कार्यक्रम देख लीजिये और दोनों पार्टियों के कार्यक्रमों की तुलना कर लीजिये. हमारे कार्यक्रम ये हैं - हैदराबाद को स्वतंत्र करवाना, कच्छ सत्याग्रह, गोवा सत्याग्रह, गौहत्या पर प्रतिबन्ध, कश्मीर से कन्याकुमारी की यात्रा, कश्मीर बचाने के लिए श्यामा प्रसाद मुख़र्जी का वलिदान, राम जन्मभूमि का आन्दोलन, भ्रष्टाचार के खिलाफ आन्दोलन, चेतना यात्रा. उन्होंने कहा कि हमारे सारे के सारे प्रोग्राम किसी नेता के महिमामंडन के लिए नहीं हैं, किसी नेता को बनाने के लिए नहीं बने हैं, हमारे सभी कार्यक्रम देश की समस्याओं के समाधान के लिए, देश की समस्याओं के खिलाफ संघर्ष करने के लिए हैं.

अमित शाह ने कहा कि अब आप कांग्रेस के कार्यक्रमों को देख लीजिये, आप इंदिरा जी को याद कीजिये - अर्थी यात्रा, राजीव जी की अर्थी यात्रा. इनके पार्टी के कार्यक्रम भी पार्टी का चरित्र दिखाते हैं.

अमित शाह ने कहा - हमारे यहाँ पार्टी के नेताओं को देख लीजिये, श्यामा प्रसाद मुख़र्जी जो कश्मीर के लिए शहीद हुए, दीन दयाल उपाध्याय जी, अटल जी, आडवानी जी, मुरली मनोहर जोशी, राजमाता सिंधिया जी, कैलाश पति मिश्र, भाई महावीर त्यागी, हमारे यहाँ से इस प्रकार के लोग निकने जिन्होंने अपने जीवन का क्षण क्षण और शरीर का कण कण भारत माता की सेवा के लिए कुर्बान कर दिया.

Aug 3, 2017

IT ने पकडे 11.63 करोड़ तो लोग बोले ‘ये तो कांग्रेसियों के लिए धनिया-मिर्ची और आलू के बराबर है'

IT ने पकडे 11.63 करोड़ तो लोग बोले ‘ये तो कांग्रेसियों के लिए धनिया-मिर्ची और आलू के बराबर है'

income-tax-seized-11-63-crore-from-congress-leader-twitter-reacts

आज ट्विटर पर कांग्रेस पार्टी की जमकर खिंचाई हो रही है, कल खबर आयी थी कि कांग्रेसी नेता डीके शिवकुमार के घर से 10 करोड़ रुपये पकडे गए हैं लेकिन आज उसमें 1.63 करोड़ रुपये और जुड़ गए और कुल जब्त की गयी रकम बढ़कर 11.63 करोड़ रुपये हो गयी. 

रिपोर्ट के अनुसार अब तक उनके दिल्ली आवास से 8.33 करोड़ रुपये, बैंगलोर से 2.5 करोड़ रुपये और मैसूर से 60 लाख रुपये जब्त किये गए हैं. नोटबंदी के बाद इनकम टैक्स की सबसे बड़ी सर्जिकल स्ट्राइक है. अभी भी छापेमारी जारी है और हो सकता है कि कुछ और माल जब्त किया जाय.

dk-shivakumar-latest-news-in-hindi

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि डीके शिवकुमार देश के सबसे अमीर नेताओं में से एक हैं, उनके पास करीब 500 करोड़ की संपत्ति है, उन्हीं के रिजोर्ट में गुजरात के 44 कांग्रेसी विधायक नजरबन्द हैं. डीके शिवकुमार ही उनका बंदोबस्त कर रहे हैं, उनका खर्च उठा रहे हैं, जिस प्रकार से उनके घर पर ठूंस ठूंस कर रुपये मिल रहे हैं उससे लोग ट्विटर पर कांग्रेस का बहुत मजाक उठा रहे हैं.

कई लोग कह रहे हैं कि 11 करोड़ रुपये तो कांग्रेस के लिए कुछ भी नहीं हैं, ये तो सिर्फ धनिया, मिर्चा, नूडल, आलू के बराबर हैं, जब तक कांग्रेसियों के यहाँ से 100 करोड़ रुपये ना मिलें तक तक वे नहीं मानेंगे कि उनके यहाँ रेड में इतना माल जब्त किया गया है. कुछ लोगों ने तो यह भी कहा कि 11 करोड़ रुपये तो कांग्रेस के लिए मूंगफली के बराबर हैं.

congress-slams-on-twitter
10 करोड़ नहीं कांग्रेसी नेता के यहाँ पकडे गए 11.43 करोड़, ठूंस ठूंस कर भर रखे हैं रुपये

10 करोड़ नहीं कांग्रेसी नेता के यहाँ पकडे गए 11.43 करोड़, ठूंस ठूंस कर भर रखे हैं रुपये

ed-seized-more-than-11-43-crore-rupees-from-dk-shivakumar

कल भारत के लोग यह खबर सुनकर हैरान हो गए थे कि कांग्रेस के एक नेता और कर्नाटक सरकार में मंत्री डीके शिवकुमार के ठिकानों से 10 करोड़ रुपये जब्त किए गए थे, आज यह आंकड़ा 11.63 करोड़ तक पहुँच गया, मतलब आज उनके ठिकानों से 1.63 करोड़ रुपये और जब्त कर लिए गए.

रिपोर्ट के अनुसार अब तक उनके दिल्ली आवास से 8.33 करोड़ रुपये, बैंगलोर से 2.5 करोड़ रुपये और मैसूर से 60 लाख रुपये जब्त किये गए हैं. नोटबंदी के बाद इनकम टैक्स की सबसे बड़ी सर्जिकल स्ट्राइक है. अभी भी छापेमारी जारी है और हो सकता है कि कुछ और माल जब्त किया जाय.

dk-shivakumar-latest-news-in-hindi

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि डीके शिवकुमार देश के सबसे अमीर नेताओं में से एक हैं, उनके पास करीब 500 करोड़ की संपत्ति है, उन्हीं के रिजोर्ट में गुजरात के 44 कांग्रेसी विधायक नजरबन्द हैं. डीके शिवकुमार ही उनका बंदोबस्त कर रहे हैं, उनका खर्च उठा रहे हैं, जिस प्रकार से उनके घर पर ठूंस ठूंस कर रुपये मिल रहे हैं उससे लोग ट्विटर पर कांग्रेस का बहुत मजाक उठा रहे हैं.

कई लोग कह रहे हैं कि 11 करोड़ रुपये तो कांग्रेस के लिए कुछ भी नहीं हैं, ये तो सिर्फ धनिया, मिर्चा, नूडल, आलू के बराबर हैं, जब तक कांग्रेसियों के यहाँ से 100 करोड़ रुपये ना मिलें तक तक वे नहीं मानेंगे कि उनके यहाँ रेड में इतना माल जब्त किया गया है. कुछ लोगों ने तो यह भी कहा कि 11 करोड़ रुपये तो कांग्रेस के लिए मूंगफली के बराबर हैं.
कांग्रेसी नेता के घर से 10 करोड़ रूपये जब्त, शर्म आने के बजाय राहुल बोले 'हम इसके खिलाफ लड़ेंगे'

कांग्रेसी नेता के घर से 10 करोड़ रूपये जब्त, शर्म आने के बजाय राहुल बोले 'हम इसके खिलाफ लड़ेंगे'

congress-and-rahul-gandhi-should-be-shame-10-crore-recovered

कल इनकम टैक्स विभाग ने कांग्रेसी नेता और कर्नाटक की कांग्रेस सरकार में ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार के 40 ठिकानों पर छापा मारकर करीब 10 करोड़ रुपये जब्त कर लिए, 7.5 करोड़ रुपये उनके दिल्ली आवास से मिले जबकि 2.5 करोड़ रुपये बैंगलोर आवास से मिले. घर में इतना रूपया रखना कानून जुर्म है और एक तरह से काला धन है.

कांग्रेस को इस छापे के बाद शर्म आनी चाहिए थी क्योंकि छापे में 10 करोड़ रूपये जब्त किये गए लेकिन कांग्रेस को रत्ती भी शर्म नहीं आयी उल्टा उन्होंने संसद में हंगामा करके एक दिन का काम ही बंद करवा दिया, उनके हंगामे की वजह से संसद का कोई काम नहीं हो पाया.

सबसे शर्मनाक बयान राहुल गाँधी ने दिया, उन्हें तो तुरंत ही अपने नेता को पार्टी से निकाल देना चाहिए था और शर्म से सर पकड़ लेना चाहिए था क्योंकि नोटबंदी के बाद भी उनके नेता के घर से 10 करोड़ रुपये मिले, राहुल गाँधी को तनिक भी शर्म नहीं आयी, उन्होंने तो इस कार्यवाही का विरोध करते हुए कहा कि हमारी पार्टी के नेताओं को परेशान किया जा रहा है, IT का इस्तेमाल करके हमारे नेताओं को धमकाया जा रहा है, हम इसके खिलाफ लड़ेंगे.
IT रेड पर सवाल खड़ा करके कांग्रेस अपने ही मुंह पर कालिख पोत रही है: नरसिंहाराव

IT रेड पर सवाल खड़ा करके कांग्रेस अपने ही मुंह पर कालिख पोत रही है: नरसिंहाराव

gvl-narsimha-rao-slams-congress-for-questioning-income-tax-raid

कल इनकम टैक्स ने कर्नाटक के कांग्रेसी नेता और कांग्रेस सरकार में ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार के नई दिल्ली और बैंगलोर स्थित कई ठिकानों पर छापेमारी की, नई दिल्ली में 7.5 करोड़ रुपये जब्त किये गए जबकि बैंगलोर से भी 2.5 करोड़ रुपये जब्त किये गए. कुल मिलाकार 10 करोड़ रुपये जब्त किये गए.

अब आप खुद सोचिये, कोई नेता अगर अपने घर पर 10 करोड़ रुपये रखा है तो इसका मतलब है कि ये कालाधन है क्योंकि कैश में इतना रूपया रखना कानून का उल्लंघन है. इतने रुपये पकडे जाने के बाद आम आदमी को ख़ुशी होगी क्योंकि ये पैसे सरकार के खाते में जाएंगे जो बाद में जनता के ही काम आएंगे.

अब आप देखिये, इनकम टैक्स की कार्यवाही से आम जनता को ख़ुशी हो रही है क्योंकि उन्होंने 10 करोड़ रुपये जब्त कर लिए लेकिन कांग्रेस इस कार्यवाही कर विरोध कर रही है, कल कांग्रेस ने राज्य सभा में भी हंगामा कर दिया और एक दिन काम बंद करा दिया.

आज बीजेपी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि इनकम टैक्स की रेड का विरोध करके कांग्रेस अपने ही मुंह पर कालिख पोत रही है. कांग्रेसअपने आप को ही शर्मशार कर रही है. इन्हें सरकार का समर्थन करना चाहिए और अपने नेता पर कार्यवाही करनी चाहिए जिसके यहाँ 10 करोड़ कैश मिले हैं.

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार भ्रष्ट लोगों के खिलाफ कोई दया नहीं करती, कांग्रेस ऐसे मुद्दों पर संसद में जितना बोलेगी, जितना हंगामा खड़ा करेगी, यह उतनी ही बार अपने मुंह पर कालिख पोतेगी और खुद ही शर्मशार होगी. ANI से बात करते हुए बीजेपी नेता जीवीएल नरसिंहा राव ने यह बात कही.

उन्होंने कहा कि डीके शिवकुमार जांच एजेंसियों के राडार पर बहुत पहले से ही थे, उनपर एकाएक रेड नहीं डाली गयी बल्कि सोच समझकर और प्लानिंग के तहत रेड की गयी है. डीके शिवकुमार पर भ्रष्टाचार और कालेधन के मामले चल रहे थे, उनपर रेड करके कालेधन पर कायवाही की गयी है औ राहुल गाँधी इस कार्यवाही का समर्थन करने के बजाय इनकम टैक्स के खिलाफ लड़ाई छेड़ने का ऐलान कर रहे हैं, ये कालेधन और भ्रष्टाचार पर कार्यवाही का विरोध करने की बात कर रहे हैं.

बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने भी कांग्रेस से सवाल किया, उन्होंने कहा कि आप इनकम टैक्स की कार्यवाही का विरोध कर रहे हो लेकिन कांग्रेस नेता के पास जो 10 करोड़ रुपये मिले हैं क्या उसका जवाब कांग्रेस के पास है, वे बताएं कि उनके पास इतने रुपये कहाँ से आये.