Showing posts with label Jammu and Kashmir. Show all posts
Showing posts with label Jammu and Kashmir. Show all posts

Monday, January 16, 2017

खुशखबरी, फौजियों ने तीन आतंकियों का कर दिया 'राम नाम सत्य'

खुशखबरी, फौजियों ने तीन आतंकियों का कर दिया 'राम नाम सत्य'

kashmir-hindi-news

श्रीनगर, 16 जनवरी: कश्मीर से एक खुशखबरी आयी है, खबर है कि दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में सोमवार को फौजियों ने मुठभेड़ में तीन आतंकवादियों राम नाम सत्य कर दिया। आतंकवादियों के शव अनूरा गांव से बरामद किए गए।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, "आतंकवादियों के खिलाफ अभियान रविवार शाम बंद होने के बाद सोमवार सुबह दोबारा शुरू हो गया।"

यह मुठभेड़ गांव के एक घर में आतंकवादियों के छिपे होने की सूचना के बाद शुरू हुई।

Friday, January 13, 2017

कश्मीर में भीषण आग में दो बैंक, डाकघर और कई दुकानें जलकर खाक

कश्मीर में भीषण आग में दो बैंक, डाकघर और कई दुकानें जलकर खाक

kashmir-fire-2-banks-post-office-and-many-shops-burnt

श्रीनगर, 13 जनवरी: कश्मीर घाटी में शुक्रवार को भीषण आग में दर्जनभर से अधिक दुकानें, दो बैंक और डाक घर जलकर खाक हो गए। पुलिस के मुताबिक, इस घटना में अभी तक किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। 

पुलिस के मुताबिक, यह आग लाल चौक के पास कोर्ट रोड क्षेत्र में पुरानी मैजिस्टिक होटल की इमारत से आग की लपटें और धुंआ निकलते देखा गया।"

दमकल विभाग की आधे दर्जन से अधिक गाड़ियां आग बुझाने के लिए मौके पर पहुंची।

पुलिस ने बताया, "एक पुरानी लकड़ी की इमारत में आग लगी और यह दुकानों, बैंक की शाखाओं और डाक घरों के परिसर तक फैल गई।"

आग को क्षेत्र की अन्य इमारतों में फैलने से रोका गया।

Wednesday, January 11, 2017

जम्मू एंड कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों के वेतन में 2018 से होगी व्यापक वृद्धि

जम्मू एंड कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों के वेतन में 2018 से होगी व्यापक वृद्धि

jammu-and-kashmir-government-employee-salary

जम्मू, 11 जनवरी: जम्मू एवं कश्मीर के वित्त मंत्री हसीब दराबु ने अपने कार्यकाल का तीसरा बजट पेश करते हुए बुधवार को कहा कि राज्य सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों का क्रियान्वयन अप्रैल 2018 से करेगा। इससे राज्य के लाखों सरकारी कर्मचारियों व पेंशनधारकों के वेतन व पेंशन में 23.5 फीसदी की बढ़त होगी। दराबु ने विधानसभा में अपने बजट भाषण में कहा कि वेतन व पेंशन में बढ़त उसी दिन से लागू होगी, जिस दिन से आयोग की सिफारिशों को केंद्र सरकार द्वारा क्रियान्वित किया गया था।

दराबु ने कहा कि पहले का बजट माइक्रो फाइनेंस तथा औद्योगिक रूप से पिछड़े राज्य में विनियोजन पर आधारित था, जबकि मौजूदा बजट का उद्देश्य परियोजना संचालन पर है।

केंद्र सरकार ने बीते साल जून महीने में अपने कर्मचारियों के लिए आयोग की सिफारिशों के क्रियान्वयन का ऐलान किया था।

उन्होंने सरकार की भुगतान प्रणाली में सुधार की पेशकश की और घोषणा की कि कोषागारों की जगह पे एंड अकाउंट ऑफिस (पीएओ) लेंगे। इसका उद्देश्य भुगतान, बजटीय मंजूरी, उचित वर्गीकरण तथा अतिरिक्त भुगतान के मुद्दों पर निगरानी रखना तथा नियंत्रण करना होगा।

उन्होंने कहा, "वे उन लेखा प्रमुखों से संपर्क में रहेंगे, जो उनसे संबंधित विभागों के कार्यो से संबंधित हैं।"

दराबु ने कहा, "पावती ग्रहण करने तथा कोषागारों द्वारा विभिन्न विभागों के भुगतानों का निपटारा करने के बदले पीएओ केवल एक विभाग से संबंधित होगा।"

उन्होंने कहा कि नई प्रणाली, आडिट के लिए कोषागारों तक बिल तथा चालानों को ले जाने तथा विभागीय स्तर पर चालानों को जांच के लिए ले जाने की प्रक्रिया से छुटकारा दिलाएगी।

उन्होंने कहा, "इन सबके बदले एक कंप्यूटरीकृत एकीकरण वित्तीय प्रबंधन प्रणाली (आईएफएमएस) उन सभी कार्यो को ऑनलाइन करेगी। नई प्रणाली एक अक्टूबर, 2017 से अस्तित्व में आ जाएगी और अगले साल 31 मार्च तक अपने कामकाज को निश्चित रूप देगी।"

उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार ने सार्वजनिक परिवहन संचालकों को छह महीने तक टोकन कर में छूट देने का फैसला किया है, जिसकी शुरुआत इस साल जुलाई से शुरू होगी।

यह कदम कश्मीर में संकट के दौरान बंद तथा कर्फ्यू से परिवहन संचालकों को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए उठाया गया है।

उन्होंने यह भी घोषणा की है कि राज्य सरकार के विभिन्न विभागों में कार्यरत अस्थायी मजदूरों की सेवा को अगले साल से स्थायी किया जाएगा। वहीं ठेके पर काम कर रहे उन मजदूरों की सेवाओं को नियमित करने के लिए तत्काल कदम उठाए जाएंगे, जिन्होंने विकास कार्यो के लिए अपनी जमीनें मुफ्त में दी हैं।

बजट प्रस्ताव में उन व्यक्तियों के लिए आधार कार्ड को अनिवार्य किया गया है, जो राज्य में सरकारी नौकरी चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि सरकारी विभागों को 10 फरवरी से उनके फंड आवंटन का 50 फीसदी हिस्सा मिलेगा और यह कदम इस बात को सुनिश्चित करेगा कि विभिन्न परियोजनाएं जल्द से जल्द शुरू हों।

Tuesday, January 10, 2017

जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा से विपक्ष का वॉकआउट

जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा से विपक्ष का वॉकआउट

opposition-walked-out-of-the-jammu-and-kashmir-assembly

जम्मू, 10 जनवरी: जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा में मंगलवार को हंगामे के बीच विपक्षी सदस्यों ने सदन से वॉकआउट किया। कठुआ जिले में दो समुदायों के बीच तनाव बढ़ने पर सदन में हंगामा हो रहा था, जिसके बीच विपक्षी सदस्यों ने सदन से वॉकआउट कर दिया।

कठुआ में दो समुदायों के बीच सोमवार को झड़प हुई थी।

सदन में प्रश्नकाल के लगभग समाप्त होने पर निर्दलीय विधायक इंजीनियर राशिद ने दोनों समुदायों के बीच तनाव कम करने में राज्य सरकार की असफलता को लेकर नारेबाजी शुरू कर दी।

विधानसभा अध्यक्ष कविद्र गुप्ता ने व्यवस्था बनाए रखने की कोशिश की लेकिन नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अन्य विधायक भी उनके साथ मिलकर नारेबाजी करने लगे। इसमें पूर्व मंत्री अली मुहम्मद सागर और मियान अल्ताफ अहमद भी थे।

अल्ताफ ने कहा कि ऐसा पहली बार नहीं है कि दोनों समुदायों के बीच तनाव झड़प में तब्दील हो गया है।

उन्होंने राशिद को चुप कराने के लिए स्पीकर पर भी आरोप लगाने की कोशिश की।

सदन में अब्दुल रहमान वीरी और सागर के बीच तीखी बहस हुई। हंगामे के बीच आखिरकर विपक्षी दलों ने सदन से वॉकआउट कर दिया।
जम्मू एवं कश्मीर में सेना मार गिराया एक आतंकवादी

जम्मू एवं कश्मीर में सेना मार गिराया एक आतंकवादी

jammu-and-kashmir-hindi-news

श्रीनगर, 10 जनवरी: जम्मू एवं कश्मीर में मंगलवार को सुरक्षाबलों की कार्रवाई में एक आतंकवादी ढेर हो गया। कार्रवाई में सेना का एक जवान भी घायल हुआ है। 

एक पुलिस अधिकारी ने बताया, "सुरक्षा बलों ने कश्मीर के बांदीपुरा जिले के हाजिन इलाके में स्थित पारे मोहल्ले में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद मंगलवार सुबह इलाके को घेर लिया।"

अधिकारी ने बताया कि सुरक्षाबल जब इलाके में घेराबंदी बढ़ा रहे थे, तब आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी की, जिसके बाद दोनों ओर से गोलीबारी शुरू हो गई।

उन्होंने कहा, "इस कार्रवाई में एक आतंकवादी मारा गया और एक जवान घायल हो गया।"

गोलीबारी रुक गई है, लेकिन इलाके में खोजबीन जारी है।

Monday, January 9, 2017

जम्मू-कश्मीर में वर्ष 2017 का पहला आतंकी हमला, तीन की मौत

जम्मू-कश्मीर में वर्ष 2017 का पहला आतंकी हमला, तीन की मौत

jammu-kashmir-news-3-killed-in-terrorist-attack-in-jref-camp

जम्मू, 9 जनवरी: जम्मू में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास सोमवार को जनरल रिजर्व इंजीनियर फोर्स (जीआरईएफ) के शिविर पर आतंकवादी हमले में तीन मजदूरों की मौत के बाद हाई अलर्ट जारी कर दिया गया। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों ने अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास अखनूर सेक्टर के बटाल में रात लगभग दो बजे हमला किया। 

उन्होंने बताया, "इस हमले में जीआरईएफ के लिए काम कर रहे तीन मजदूरों की मौत हो गई।"

रिपोर्टों के मुताबिक, हमले के बाद आतंकवादी भागने में सफल रहे। हालांकि, अभी तक आतंकवादियों की संख्या का पता नहीं चल पाया है।

पुलिस ने शिविर के आसपास तलाश शुरू कर दी है।

हालांकि, अभी आतंकवादियों के बारे में कुछ पता नहीं चल पाया है।

जीआरईएफ, सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) का प्रमुख कैडर इकाई है जो देश में सीमावर्ती सड़कों का निर्माण और रखरखाव करती है।

जम्मू में 2017 का यह पहला आतंकवादी हमला है।

Saturday, January 7, 2017

महबूबा का भाई तसदुक मुफ़्ती भी पीडीपी में शामिल

महबूबा का भाई तसदुक मुफ़्ती भी पीडीपी में शामिल

mehbooba-mufti-brother-tasaduk-mufti-joins-pdp-in-kashmir

श्रीनगर, 7 जनवरी: जम्मू एवं कश्मीर के दिवंगत मुख्यमंत्री मुफ्ती मुहम्मद सईद के बेटे तसदुक हुसैन शनिवार को आधिकारिक तौर पर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) में शामिल हो गए। तसदुक हुसैन मुफ्ती ने इंडोर स्टेडियम में पीडीपी नेताओं और कार्यकर्ताओं के समक्ष कहा, "मैं राज्य में शांति एवं समृद्धि के लिए काम करता रहूंगा और यहां आम आदमी और वीवीआईपी एक साथ काम कर सकेंगे।"

ऐसा माना जा रहा है कि 'ओमकारा' और 'कमीने' जैसी फिल्मों में छायांकन कर चुके तसदुक को पार्टी मामलों में बहन की मदद के लिए पार्टी में शामिल किया गया है। 

उन्होंने डल झील के बिगड़ रहे पारिस्थितिकी और राज्य में घट रहे वन क्षेत्र पर भी चिंता जताई।

Friday, January 6, 2017

सैनिकों ने लश्करे-तैयबा के शीर्ष आतंकी कमांडर को ठोंक दिया

सैनिकों ने लश्करे-तैयबा के शीर्ष आतंकी कमांडर को ठोंक दिया

army-encountered-lashkare-taiyaba-commander-muja-maulawi

श्रीनगर, 6 जनवरी: जम्मू एवं कश्मीर के बडगाम जिले में शुक्रवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा का शीर्ष कमांडर मारा गया। पुलिस के अनुसार, सुरक्षा बलों को गुलजारपुरा गांव में लश्कर कमांडर के छिपे होने की सूचना मिली, जिसके बाद उन्होंने शुक्रवार सुबह अभियान चलाया।

पुलिस के अनुसार, "सुरक्षा बलों के जवान जब उस मकान के पास पहुंचे, जिसमें मुजफ्फर अहमद नकू अली उर्फ मुजा मौलवी छिपा था तो उन पर गोली चलाई गई। इसके बाद सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई की, जिसमें आतंकवादी मारा गया।"

पुलिस के मुताबिक, "इलाके में तलाशी अभियान अभी जारी है।"

पुलिस का कहना है कि मारा गया लश्कर कमांडर जम्मू एवं कश्मीर में सर्वाधिक वांछित आतंकवादी था।

Tuesday, January 3, 2017

CRPF अफसर को गोली मारकर भागे आतंकी, हालत नाजुक

CRPF अफसर को गोली मारकर भागे आतंकी, हालत नाजुक

crpf-officer-attack-by-terrorists-situation-critical

श्रीनगर, 3 जनवरी: जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा जिले में मंगलवार को आंतकवादियों ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के एक अधिकारी को गोली मारकर घायल कर दिया। पुलिस ने कहा यहां से करीब 40 किमी दूर मुरान चौक पर सहायक उप निरीक्षक पर गोली चलाई गई।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, "जाहिर तौर पर यह एक 'हिट एंड रन' हमला था। जवान को श्रीनगर के सेना के बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत स्थिर बताई जा रही है।"
कश्मीर में 100 पत्थरबाज नागरिकों की मौत की जिम्मेदारी दें मुख्यमंत्री  महबूबा: उमर अब्दुल्ला

कश्मीर में 100 पत्थरबाज नागरिकों की मौत की जिम्मेदारी दें मुख्यमंत्री महबूबा: उमर अब्दुल्ला

omar-abdulla-attack-cm-mehbooba-mufti-for-100-kashmiri-death

जम्मू, 3 जनवरी: जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने मंगलवार को मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से घाटी में छह महीने तक जारी रही हिंसा के दौरान हुई पत्थरबाज नागरिकों की मौत की जिम्मेदारी लेने को कहा। विधानसभा अध्यक्ष कविंद्र गुप्ता ने विपक्ष द्वारा पेश किए गए स्थगन प्रस्ताव को मंजूर कर लिया, जिसके बाद नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि घाटी में 2008 से 2010 के बीच भी हिंसा जारी रही थी, लेकिन 'तब हमने इसके लिए विपक्ष को दोषी नहीं ठहराया था।'

उन्होंने विधानसभा में कहा, "2010 से 2016 की स्थिति की तुलना नहीं की जा सकती।"

उन्होंने कहा, "हमने उस स्थिति के लिए पाकिस्तान या विपक्ष को दोषी नहीं ठहराया था। 2010 में मैने अपने अधिकारियों को दोष नहीं दिया था।"

उन्होंने कहा, "2016 में मीडिया पर हमला किया गया और समाचार पत्रों के कार्यालयों में छापे मारे गए।"

उन्होंने कहा, "हमसे गलतियां हुईं और मैने स्थिति को संभालने के दौरान गलतियां होने को स्वीकार किया था।"

उमर ने महबूबा पर निशाना साधते हुए कहा, "आपने राज्य में आतंकवाद के लिए जवाहर लाल नेहरू, मेरे पिता, मेरे दादा और पुलिस को जिम्मेदार ठहराया।"

उमर ने कहा, "क्या कश्मीर में सामान्य स्थिति बहाल करने में अपनी नाकामी के लिए आपने कभी खुद को जिम्मेदार ठहराया?"

उमर ने कहा कि राज्य सरकार पिछले साल आठ जुलाई को आतंकवादी कमांडर बुरहान वानी के सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से स्थिति को संभालने में पूरी तरह नाकाम रही है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को अपने प्रशासन की नाकामी और करीब 100 पत्थरबाज नागरिकों की मौत के लिए विपक्ष को जिम्मेदार ठहराने के स्थान पर इसकी जिम्मेदारी खुद स्वीकार करनी चाहिए।

इसी बीच, भारतीय जनता पार्टी के विधायकों ने सोमवार को दोनों सदनों के संयुक्त सत्र के दौरान राष्ट्रगान का कथित तौर पर अपमान करने के लिए नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस से माफी मांगने को कहा।

इससे पहले विपक्ष ने घाटी में अशांति के मुद्दे पर चर्चा की मांग करते हुए विधानमंडल के दोनों सदनों की कार्यवाही में व्यवधान डाला।

सत्ता पक्ष के यह कहने के बाद कि उन्हें अशांति पर चर्चा को लेकर कोई आपत्ति नहीं है, अध्यक्ष ने चर्चा की अनुमति दी।

Saturday, December 17, 2016

पम्पोर में सेना के काफिले पर आतंकवादी हमला, 3 जवान शहीद

पम्पोर में सेना के काफिले पर आतंकवादी हमला, 3 जवान शहीद

pampore-terrorist-attack-three-soldiers-martyr

श्रीनगर, 17 दिसम्बर: जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग पर अज्ञात बंदूकधारियों ने शनिवार को सेना के काफिले पर गोलीबारी की जिसमें तीन जवान शहीद हो गए हैं। एक पुलिस अधिकारी के अनुसार, "बंदूकधारियों ने पुलवामा जिले के पंपोर इलाके में सेना के काफिले पर छुपकर गोलीबारी की। 


सेना ने भी आतंकवादियों पर जवाबी हमला किया लेकिन वहां पर पब्लिक की अधिक मौजूदगी की वजह से सेना खुलकर आतंकवादियों पर फायरिंग नहीं कर सकी और इस मौके का फायदा उठाकर आतंकी भाग निकलने में सफल रहे। 
कुछ RTI एक्टिविस्ट ऐसे भी रहे हैं कि उनसे गंदा आदमी कोई नहीं होगा: शिवराज सिंह

कुछ RTI एक्टिविस्ट ऐसे भी रहे हैं कि उनसे गंदा आदमी कोई नहीं होगा: शिवराज सिंह

shivraj-singh-chauhan-said-some-rti-activist-are-so-much-bad

भोपाल, 16 दिसंबर: मध्य प्रदेश की नजर में अरविन्द केजरीवाल बहुत ही गंदे आदमी हैं, आज उन्होंने इशारों इशारों के केजरीवाल पर हमला बोलते हुए कहा कि इमानदार लोगों की इज्जत करता हूँ लेकिन कुछ RTI एक्टिविस्ट ऐसे भी हैं कि अगर उनकी जिन्दगी में झांककर देखें तो उनसे गंदा आदमी कोई नहीं होगा। जानकारी के लिए बता दें कि केजरीवाल भी पहले RTI एक्टिविस्ट थे लेकिन बाद में मौके का फायदा उठाकर मुख्यमंत्री बन गए। 

क्या कहा शिवराज ने

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सूचना के अधिकार कार्यकर्ताओं और व्हिसलब्लोअर पर करारा हमला बोलते हुए कहा कि 'कई तो ऐसे हैं कि अगर उनकी जिंदगी में झांककर देख लें तो उनसे गंदा आदमी कोई नहीं होगा।' राजधानी की प्रशासन अकादमी शुक्रवार को आईएएस ऑफीसर्स एसोसिएशन की तीन दिवसीय सर्विस मीट के उद्घाटन के मौके पर शिवराज ने कहा, "आरटीआई एक्टिविस्ट, व्हिसिलब्लोअर ये ऐसे तत्व हो गए हैं लोकतंत्र में, जो किसी की भी हालत खराब करने को खड़े रहते हैं। मैं ईमानदारी से लड़ने वाले का सम्मान करता हूं, अन्याय के खिलाफ कोई आरटीआई एक्टिविस्ट, व्हिसिलब्लोअर ईमानदारी से लड़े, हम उसका आदर व सम्मान करेंगे।" 

अपने प्रदेश की नौकरशाही को देश की सर्वश्रेष्ठ नौकरशाही बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आवश्यकता सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ चुनौतियों को स्वीकार करने की है। लोकतंत्र की सारी व्यवस्थाएं जनता के लिए हैं। जनहित और राष्ट्रहित के विरुद्ध कार्य करने वालों के साथ पूरी कठोरता के साथ पेश आना चाहिए। किसी प्रकार की दया-माया की कोई जरूरत नहीं है।

Friday, December 16, 2016

जम्मू में महिला सैन्य अधिकारी ने खुद को गोली मारी

जम्मू में महिला सैन्य अधिकारी ने खुद को गोली मारी

jammu-hindi-news-women-army-officer-anita-kumari-suicide

जम्मू, 16 दिसम्बर: जम्मू एवं कश्मीर में सेना की एक अधिकारी ने सर्विस पिस्तौल से गोली मार कर खुदकुशी कर ली। पुलिस ने बताया, "मेजर अनीता कुमारी (36) ने गुरुवार रात बरी ब्रह्मण स्थित अपने आधिकारिक आवास पर अपने सर्विस पिस्तौल से गोली मार कर खुदकुशी कर ली।"

पुलिस के अनुसार, "अनीता कुमारी हिमाचल प्रदेश के चंबा इलाके से ताल्लुक रखती थीं। वह यहां 259 फील्ड सप्लाई डिपो में तैनात थीं।"

Thursday, December 15, 2016

कश्मीर में आतंकियों ने बैंक से लूट लिए 11 लाख के नए नोट

कश्मीर में आतंकियों ने बैंक से लूट लिए 11 लाख के नए नोट

news-jammu-and-kashmir-bank-terrorist-looted-11-lakh-rs-news-cash

Pulwama, 15 December: कश्मीर ने एक बड़ी खबर आयी है, जानकारी के अनुसार आतंकवादियों ने पुलवामा जिले में जम्मू और कश्मीर बैंक की रतनीपोरा ब्रांच पर हमला करके वहां से 11 लाख रुपये के नए नोट लूट लिए हैं। 

इससे पहले भी आतंकवादी दो बार बैंक लूट की वारदात को अंजाम दे चुके हैं, माना जा रहा है कि ये लोग नोटों को लूटकर पाकिस्तानी आतंकियों को सप्लाई कर रहे हैं। इससे पहले आतंकियों की जेब से भी 2000 रुपये के नोट बरामद हो चुके हैं। 

Wednesday, December 14, 2016

कश्मीर में B.Tech की पढ़ाई छोड़कर आतंकी बनने वाले युवक का एनकाउंटर करके सैनिकों ने भेज दिया ऊपर

कश्मीर में B.Tech की पढ़ाई छोड़कर आतंकी बनने वाले युवक का एनकाउंटर करके सैनिकों ने भेज दिया ऊपर

kashmir-latest-hindi-news-abdul-basit-encouter

श्रीनगर, 14 दिसम्बर: दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में बुधवार को सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में एक स्थानीय अलगाववादी आतंकवादी को मार गिराया। अब्दुल बासित नाम का यह आतंकी पहले BTech का छात्र था लेकिन अचानक उसे आतंकी बनने का शौक हो गया और वह आतंकी गतिविधियों में लिप्त हो गया। 

अब्दुल बासित के एनकाउंटर के बाद घाटी में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया। पुलिस ने बताया कि बिजबेहरा शहर के निकट हादीगाम में बुधवार को मुठभेड़ के दौरान आतंकवादी बासित रसूल मारा गया।

सेना के अनुसार, आतंकी के कब्जे से एक हथियार और कुछ गोला-बारूद बरामद हुए हैं और इलाके में एक तलाशी अभियान चल रहा है।

बासित जिले के मरहामा गांव का रहने वाला था। आतंकवादी गतिविधियों से जुड़ने से पहले वह अनंतनाग जिले स्थित विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के इस्लामिक विश्वविद्यालय से बी.टेक. कर रहा था।

आतंकवादी के मारे जाने की खबर फैलते ही बिजबेहरा और आसपास के क्षेत्र में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया।
कश्मीर में आतंकी बुरहान वानी के परिवार को मुआवजे का आदेश

कश्मीर में आतंकी बुरहान वानी के परिवार को मुआवजे का आदेश

mehbooba-mufti-sarkar-4-lakh-relief-to-terrorist-burhan-wani-family

श्रीनगर, 13 दिसंबर: जम्मू एवं कश्मीर सरकार ने हिजबुल मुजाहिदीन के मारे गए आतंकवादी बुरहान वानी के भाई की पिछले साल अप्रैल में रहस्यमय परिस्थितियों में हुई मौत के लिए उनके परिवार को चार लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया है। उनके पिता मुजफ्फर वानी ने हालांकि मुआवजा लेने से इनकार कर दिया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि उनके बड़े बेटे खालिद की सुरक्षाबलों ने सुनियोजित तरीके से हत्या की। मुजफ्फर वानी पेशे से स्कूली शिक्षक हैं।

पुलवामा जिले के उपायुक्त मुनीर उल इस्लाम ने सोमवार को एक अधिसूचना में आतंकवाद से संबंधित घटनाओं में मारे गए या घायल हुए लोगों के परिजनों को वित्तीय राहत प्रदान करने का आदेश दिया।

दक्षिण कश्मीर जिले के कम से कम 17 परिवारों को मुआवजे का आदेश दिया गया है। अधिसूचना में वानी का नाम नौवें स्थान पर है। उनके परिजन को चार लाख रुपये या सरकारी नौकरी देने की पेशकश की गई है।

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय खुला विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र की पढ़ाई कर रहा 25 वर्षीय खालिद 14 अप्रैल को उस वक्त मारा गया था, जब वह कथित तौर पर त्राल में जंगल में एक ठिकाने पर रह रहे अपने भाई बुरहान वानी से मिलने गया था।

राज्य पुलिस ने आरोप लगाया था कि खालिद हिजबुल मुजाहिदीन आतंकवादी संगठन का सदस्य था। उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने उसे तथा उसके तीन दोस्तों को जंगल में बुरहान से मिलने जाने के दौरान रोका था। लेकिन वे नहीं रुके, जिसके बाद मुठभेड़ में खालिद तथा उसका एक साथी मारा गया।

परिजनों ने आरोप लगाया था कि खालिद के शव पर चोट के निशान थे और सुरक्षाबलों पर हिरासत के दौरान उसकी हत्या करने का आरोप लगाया।

Sunday, December 11, 2016

अभी तो पाकिस्तान के 2 टुकड़े हुए हैं, हरकतों से बाज नहीं आया तो 10 टुकड़े हो जाएंगे: राजनाथ सिंह

अभी तो पाकिस्तान के 2 टुकड़े हुए हैं, हरकतों से बाज नहीं आया तो 10 टुकड़े हो जाएंगे: राजनाथ सिंह

hm-rajnath-singh-kathua-jammu-shahidi-diwas-attack-pakistan

Jammu, 11 December: गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज जम्मू के कठुआ में शहीदी दिवस के कार्यक्रम में बोलते हुए पाकिस्तान पर जमकर हमला बोला। उन्होंने पाकिस्तान को कायर बताते हुए कहा कि जो बहादुर होते हैं वह सामने से वार करते हैं लेकिन जो कायर होते हैं वो आतंकवाद के जरिये हमला करते हैं। 

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के अन्दर भारत से युद्ध करने की क्षमता नहीं है, उसने भारत पर पहले भी 4 बार हमला किया है लेकिन सभी हमलों में भारत के बहादुर जवानों ने उसके दांत खट्टे कर दिए हैं। 

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को इस बात को समझना चाहिए कि आतंकवाद बहादुरों का हथियार नहीं है, ये कायरों का हथियार है। कारगिल वार में पाकिस्तान को शिकस्त खानी पड़ी थी, इसलिए अब वो समझ चुका है कि वह भारत को सीधी लड़ाई में पराजित नहीं कर सकता इसलिए वो आतंकवाद के जरिये जम्मू और कश्मीर को भारत से अलग करना चाहता है। 

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की इन्हीं हरकतों की वजह से उसके दो टुकड़े हुए थे लेकिन अगर वो अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो उसके शायद 10 टुकड़े हो जाएंगे।

कुछ लोगों का शायद पता नहीं होगा कि पहले बांग्लादेश भी पाकिस्तान का पार्ट था लेकिन 1971 में भारत ने पाकिस्तान को पराजित करके उसके दो टुकड़े कर दिए और बांग्लादेश अलग देश बन गया। इस वक्त बलोचिस्तान भी पाकिस्तान से आजादी की मांग कर रहा है, POK, सिंध और पंजाब भी पाकिस्तान से आजाद होना चाहता है, हो सकता है कि आने वाले समय में पाकिस्तान के सच में 10 नहीं तो 8 टुकड़े हो जाँय क्योंकि पाकिस्तान आठ प्रान्तों में बंटा हुआ है, अगर पाकिस्तान ने आतंकवाद का रास्ता नहीं छोड़ा तो उसके 8 टुकड़े होने तय हैं। 

Thursday, December 8, 2016

BREAKING NEWS, बुरहान वानी की तरह आज 3 और खूंखार कश्मीरी आतंकियों को 'ठोंक डाला' जवानों ने

BREAKING NEWS, बुरहान वानी की तरह आज 3 और खूंखार कश्मीरी आतंकियों को 'ठोंक डाला' जवानों ने

kashmir-latest-hindi-news-three-kashmiri-terrorists-killed-by-army

श्रीनगर, 8 दिसंबर: जवानों ने आज कश्मीर में एक और सफलता हासिल की है, जवानों ने जिस प्रकार से खतरनाक आतंकी बुरहान वानी को ठोंका था उसी प्रकार से तीन और आतंकियों का एनकाउंटर कर दिया, मारे गए आतंकियों में लश्कर-ए-तैयबा के डिविजनल कमांडर अबु दुजाना भी है जो लश्कर के सबसे खूंखार वांछित आतंकवादियों में से एक है।

कश्मीर में गुरुवार को सुरक्षाबलों की लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों के साथ छह घंटे तक चली मुठभेड़ के दौरान तीन आतंकवादी मारे गए। अफवाहों व मुठभेड़ से संबंधित जानकारी को सोशल मीडिया पर फैलने से रोकने के लिए दक्षिणी कश्मीर के कई हिस्सों में मोबाइल फोन तथा इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गईं।

पुलिस ने कहा कि मारे गए सभी आतंकवादी कश्मीरी हैं और जाहिर तौर पर दक्षिण कश्मीर से ताल्लुक रखते हैं।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, "लश्कर-ए-तैयबा के तीन स्थानीय आतंकवादी मारे गए। लेकिन तलाशी अभियान अभी भी जारी है।"

आतंकवादियों के मारे जाने की खबर जैसे ही फैली, सुरक्षाबलों तथा प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प शुरू हो गई। प्रदर्शनकारियों ने अनंतनाग जिले के अरवानी गांव स्थित मुठभेड़ स्थल तक जाने का प्रयास किया, जो यहां से 40 किलोमीटर दक्षिण में स्थित है।

दक्षिण कश्मीर में कई अन्य हिस्सों में पथराव कर रहे प्रदर्शनकारियों तथा सुरक्षाबलों के बीच झड़पें हुईं।

अनंतनाग जिले के अरवानी गांव के एक घर में छिपे आतंकवादियों में लश्कर-ए-तैयबा के डिविजनल कमांडर अबु दुजाना के भी शामिल होने की संभावना जताई जा रही थी। राज्य में यह लश्कर के सबसे खूंखार वांछित आतंकवादियों में से एक है।

दुजाना को लेकर परस्पर विरोधी खबरें थीं। स्थानीय लोगों का कहना था कि वह मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के पैतृक शहर बिजबेहरा के नजदीक स्थित अरावनी गांव के अपने ठिकाने से भाग निकला।

सुरक्षा अधिकारियों ने हालांकि इस बात को न तो स्वीकार किया और न ही पुष्टि की है कि बुधवार रात पकड़े गए आतंकवादियों में वह था या नहीं।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि सुरक्षा बलों ने अरवानी गांव में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद बुधवार देर रात इलाके को घेर लिया। उसके कुछ घंटों के बाद तड़के गोलीबारी तेज हो गई।

अधिकारी ने बताया, "सुरक्षा बलों ने घेरेबंदी बढ़ा दी, जिसके बाद गोलीबारी की आवाजें सुनाई दीं। लेकिन, उसके बाद गोलीबारी नहीं हुई। इसके बाद गुरुवार तड़के सूर्योदय होते ही आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी।"

मुठभेड़ शुरू होते ही दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में मोबाइल फोन तथा इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गईं। 

हालांकि टेलीफोन सेवाओं के बंद होने की कोई आधिकारिक सूचना नहीं मिली है, लेकिन विश्वसनीय सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि अफवाहें फैलने से रोकने के लिए यह कदम उठाया गया।

Wednesday, December 7, 2016

NIA करेगी नगरोटा आतंकी हमले की जांच

NIA करेगी नगरोटा आतंकी हमले की जांच

nagrota-terrorist-attack-investigation-handed-over-to-nia-india

नई दिल्ली, 7 दिसम्बर: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने 29 नवंबर को जम्मू एवं कश्मीर के नगरोटा में हुए आतंकवादी हमले के सिलसिले में बुधवार को एक मामला दर्ज किया। हमले में दो अधिकारियों सहित सात जवान शहीद हो गए थे। केंद्रीय गृह मंत्रालय से निर्देश मिलने के बाद एनआईए ने दिल्ली स्थित अपने पुलिस थाने में मामला दर्ज किया।

रणबीर दंड संहिता (आरपीसी) की धारा 120बी, 121 तथा 307 एवं शस्त्र अधिनियम, 1958 की धारा सात एवं 27 के तहत एक मामला दर्ज किया गया है।

इससे पहले नगरोटा पुलिस थाने में अज्ञात आतंकवादियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। आतंकवादियों ने सैन्य शिविर पर हमला किया था।

एनआईए ने एक बयान में कहा, "बीते 29 नवंबर को पुलिस थाने को मिली सूचना के आधार पर नगरोटा पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया था। थाने को सूचना मिली थी कि भारी हथियारों से लैस अज्ञात आतंकवादी अपने विदेशी आकाओं के निर्देश पर बालिनी पुल के निकट नगरोटा के सैन्य शिविर में घुसे और जवानों की हत्या के इरादे से उन्होंने उनपर अंधाधुंध गोलीबारी की।"

एनआईए अधिकारियों का एक दल घटनास्थल पर जाएगा और जांच शुरू करेगा। साथ ही वह जम्मू में एनआईए के विशेष न्यायालय में एक प्राथमिकी भी दर्ज करेगा।

जम्मू स्थित नगरोटा में सैन्य शिविर पर भारी हथियारों से लैस फिदायीन हमलावरों के हमले में दो सैन्य अधिकारियों सहित सात जवान शहीद हो गए थे।

तीन हमलावरों को शिविर में ही मुठभेड़ के दौरान मार गिराया गया, जबकि तीन अन्य आतंकवादी पाकिस्तान के साथ लगी अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षाबलों से मुठभेड़ के दौरान मारे गए।

कश्मीर घाटी के उड़ी में भारतीय सेना के ब्रिगेड मुख्यालय पर 18 सितंबर को हुए भीषण हमले के बाद किसी एक आतंकवादी हमले में भारतीय सेना को लगा यह सबसे बड़ा झटका था, जिसमें सात जवान शहीद हो गए। उड़ी हमले में 19 जवान शहीद हो गए थे।

नगरोटा हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दिए जाने की मांग करते हुए विपक्ष ने संसद में भारी हंगामा किया था।

Monday, December 5, 2016

खुलेआम गद्दारी पर उतरे फारूक अब्दुल्ला, कश्मीर को आजाद कराने के लिए अलगावादियों का देंगे साथ

खुलेआम गद्दारी पर उतरे फारूक अब्दुल्ला, कश्मीर को आजाद कराने के लिए अलगावादियों का देंगे साथ

traitor-farooq-abdullah-joined-hand-with-separatists-to-slice-kashmir

श्रीनगर, 5 दिसम्बर: पूर्व मुख्यमंत्री व नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने अलगाववादी हुर्रियत नेताओं को समर्थन देने का संकल्प लेते हुए उन्हें 'अजादी के इस आंदोलन को अंजाम तक पहुंचाने के लिए कहा।' उन्होंने अपने पिता तथा नेकां के संस्थापक शेख मुहम्मद अब्दुल्ला की कब्र पर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने कश्मीरी अलगाववादी नेताओं से कहा कि उनकी पार्टी उनके खिलाफ नहीं है, लेकिन 'आजादी के उनके आंदोलन को अंजाम तक पहुंचाने के लिए' उन्हें पूर्ण समर्थन देंगे।

उन्होंने कहा, "आगे बढ़िए, हम आपके साथ हैं। इस आंदोलन के लिए हमने अपना जीवन कुर्बान किया है।"

अब्दुल्ला ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को 'आजादी' के लक्ष्य को पाने के लिए एकजुट हुर्रियत नेतृत्व के साथ काम करने को कहा। उन्होंने कहा कि जब तक हम एकजुट नहीं होंगे, इसे हासिल नहीं कर पाएंगे।

फारूक अब्दुल्ला ने प्रधानमंत्री मोदी पर भी हमला करते हुए कहा कि वे पाकिस्तान का पानी रोककर दिखाएँ, जब तक हम जिन्दा हैं उन्हें ऐसा नहीं करने देंगे।