Showing posts with label International. Show all posts
Showing posts with label International. Show all posts

Sunday, January 15, 2017

ब्रिटिश चांसलर की यूरोपीय संघ को चेतावनी ‘रास्ता बंद करोगे तो विल्कुल अलग हो जाएगा ब्रिटेन’

ब्रिटिश चांसलर की यूरोपीय संघ को चेतावनी ‘रास्ता बंद करोगे तो विल्कुल अलग हो जाएगा ब्रिटेन’

british-chancellor-philip-hammond-warned-european-union-brexit

लंदन, 15 जनवरी: चांसलर फिलिप हेमंड ने कहा कि यदि यूरोपीय संघ ब्रेक्सिट के बाद बाजार सुलभ कराने संबंधित समझौते से पीछे हटता है तो ब्रिटेन अपने आर्थिक मॉडल को एक कॉरपोरेट टैक्स हेवेन में तब्दील कर देगा। समाचार पत्र इंडिपेंडेंट में रविवार को प्रकाशित रपट के अनुसार, हेमंड ने एक जर्मन अखबार से कहा है कि यूरोपीय संघ छोड़ने के बाद यदि ब्रिटेन को यूरोपीय बाजारों से वंचित किया गया तो उनका देश यूरोपीय शैली के सामाजिक मॉडल, यूरोपीय शैली की कराधान प्रणाली और यूरोपीय शैली की नियमन प्रणाली को त्यागने पर विचार करेगा और एक अलग तरह का देश बनेगा।

हेमंड ने यूरोपीय संघ के 27 अन्य देशों को एक कड़ी चेतावनी में कहा है कि ब्रेक्सिट के बाद फिर से खड़ा होने के लिए जो भी करने की जरूरत होगी, ब्रिटेन उसे करेगा।

रपट के अनुसार, हेमंड ने स्वीकार किया है कि यदि ब्रिटेन यूरोपीय संघ से अलग होता है और यूरोपीय बाजारों तक उसकी पहुंच समाप्त होती है, तो उसे आर्थिक नुकसान हो सकता है। 

उन्होंने कहा है, "इस स्थिति में हमें मजबूरन अपना आर्थिक मॉडल बदलना होगा और हमें प्रतिस्पर्धात्मकता फिर से हासिल करने के लिए अपने मॉडल को बदलना होगा।"

हेमंड ने कहा है, "और आप इस बात को तय मान लीजिए कि हमें जो भी करना होगा, हम उसे करेंगे। ब्रिटिश लोग अब और चोट नहीं खाने वाले हैं, हम पहले ही बुरी तरह जख्मी हो चुके हैं। हम अपना मॉडल बदलेंगे, और हम वापसी करेंगे और हम प्रतिस्पर्धा में शामिल होंगे।"

हेमंड को आशा है कि दोतरफा आधार पर एक नई व्यवस्था पर सहमति बन जाएगी, जिसमें ब्रिटेन बाकी के ईयू सदस्यों के साथ आवाजाही की आजादी स्वीकार किए बगैर अनुकूल शर्तो पर व्यापार कर सकेगा।

Friday, January 13, 2017

डोनाल्ड ट्रम्प जैसी हिम्मत अगर भारत में कोई नेता दिखाये तो बिकाऊ मीडिया हमेशा के लिए सुधर जाएं

डोनाल्ड ट्रम्प जैसी हिम्मत अगर भारत में कोई नेता दिखाये तो बिकाऊ मीडिया हमेशा के लिए सुधर जाएं

president-donald-trump-told-cnn-fake-news-corrupt-institution

न्यूयॉर्क, 13 जनवरी: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प किसी की भी परवाह नहीं करते हैं, इसका कारण शायद यह है कि उनके पास खोने के लिए कुछ नहीं है, पैसों की कमी नहीं है और उन्हें केवल 4 साल में काम करके निकल जाना है, उन्हें दूसरे कार्यकाल के लिए भी नहीं सोचना है इसीलिए उन्हें अमेरिका के बिकाऊ मीडिया चैनलों की भी कोई परवाह नहीं है। 

कल डोनाल्ड ट्रम्प ने पूरी दुनिया के सामने CNN के पत्रकार को जमकर लताड़ लगाई। उन्होंने कहा कि CNN के भ्रष्ट मीडिया संस्था है, फर्जी ख़बरें छपता है, लोगों में झूठ फैलाता है। उन्होंने अन्य बिकाऊ मीडिया चैनलों को भी चेतावनी देते हुए कहा कि अगर उन्होंने खुद में सुधार नहीं लाया और फेक ख़बरें छापना जारी रखा तो उनपर कड़ी कार्यवाही की जाएगी। 

डोनाल्ड ट्रम्प जैसी हिम्मत शायद ही विश्व का दूसरा कोई नेता दिखा सकता है, भारत में तो आजतक ऐसा नहीं हुआ, यहाँ जमकर फेक ख़बरें छापी जाती हैं, प्रधानमंत्री मोदी के बारे में भी फेक ख़बरें छापी जाती हैं, मीडिया वाले 10 हजार के सूट को 10 लाख का बताते हैं लेकिन किसी नेता की हिम्मत नहीं होती कि उनके खिलाफ कोई कुछ बोल सके, कोई मुकदमा दायर कर सके, कोई कार्यवाही कर सके। 

यहाँ के नेता ऐसा इसलिए नहीं करते क्योंकि उन्हें पता है कि मीडिया वाले उनके खिलाफ प्रचार शुरू कर देंगे, और वे फिर से चुनाव नहीं जीत सकेंगे, इसी डर से बिकाऊ मीडिया पर कोई कार्यवाही नहीं होती और उनका मनोबल बढ़ा रहता है। अगर मोदी सरकार मन में ठान ले कि मीडिया वालों को सुधार कर ही रहता है भले ही दूसरी बार सरकार ना बना पायें, अगर दो तीन मीडिया चैनलों को भी बंद कर दिया गया तो बिकाऊ मीडिया अपने आप सुधर जाएंगे। 

Thursday, January 12, 2017

डोनाल्ड ट्रम्प ने रूस के बारे किया सनसनीखेज खुलासा

डोनाल्ड ट्रम्प ने रूस के बारे किया सनसनीखेज खुलासा

donald-trump-revealed-russia-did-hacking-in-president-election

वाशिंगटन, 12 जनवरी: अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को कहा कि उन्हें लगता है कि राष्ट्रपति चुनाव के दौरान साइबर हमलों की साजिश में रूस का हाथ था। ट्रंप ने राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बाद न्यूयॉर्क में अपने प्रथम संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा, "जहां तक हैकिंग की बात है तो मुझे लगता है कि इसमें रूस का हाथ था।"

बता दें कि इससे पहले पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा और हिलेरी क्लिंटन भी रूस पर हैकिंग का आरोप लगाते थे साथ ही यह भी कहते थे कि यह हैकिंग ट्रम्प को चुनाव जितवाने के लिए की गयी थी। 

ट्रंप ने कहा, "उन्हें (पुतिन) को यह नहीं करना चाहिए और वह नहीं करेंगे। अमेरिका में मेरे नेतृत्व के तहत रूस को अधिक सम्मान मिलेगा।"

ट्रंप ने हैकिंग में रूस के शामिल होने से इनकार करने के कई महीनों बाद पहली बार सार्वजनिक तौर पर इससे सहमति जताई।

गौरतलब है कि अमेरिकी खुफिया एजेंसियां अक्टूबर से ही रूस पर हैकिंग का आरोप लगाती आ रही हैं।

Wednesday, January 11, 2017

अगर इरान परमाणु समझौता रद्द हुआ तो होगा अमेरिका की साख का नुकसान: जॉन केरी

अगर इरान परमाणु समझौता रद्द हुआ तो होगा अमेरिका की साख का नुकसान: जॉन केरी

john-kerry-america-reputation-damaged-break-iran-atmonic-deal

वाशिंगटन, 11 जनवरी: अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने मंगलवार को ईरान परमाणु समझौैते को रद्द करने के खिलाफ ट्रंप के नेतृत्व वाले आगामी प्रशासन को चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि इस तरह के कदम से संघर्ष की स्थिति पैदा हो सकती है और अमेरिका की साख को नुकसान पहुंच सकता है। 

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, केरी ने वाशिंगटन में स्थित 'यूएस इंस्टीट्यूट ऑफ पीस' में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि साल 2015 में ईरान परमाणु करार के लागू होने के बाद ईरान का परमाणु हथियार के निर्माण का मार्ग बंद हो गया है। 

केरी ने कहा, "अब, अगर इस करार को मनमाने ढंग से रद्द कर दिया गया, तो तत्काल ही फिर से संघर्ष की स्थिति पैदा हो जाएगी।"

उन्होंने कहा, "इससे विश्व में हमारी साख को नुकसान पहुंचेगा, क्योंकि मुझे संदेह है कि रूस, चीन, फ्रांस, जर्मनी और ब्रिटेन करार को कायम रखेंगे।"

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले वर्ष अपने चुनाव अभियान के दौरान ईरान परमाणु करार की निरंतर आलोचना की थी। उन्होंने इसे 'सबसे बुरा समझौता' करार दिया था।
20 साल में पहचान बनाने के लिए शिकागो आये थे ओबामा, बन गए अमेरिका के राष्ट्रपति: पढ़ें आखिरी भाषण

20 साल में पहचान बनाने के लिए शिकागो आये थे ओबामा, बन गए अमेरिका के राष्ट्रपति: पढ़ें आखिरी भाषण

barack-obama-term-end-given-farewell-speech-in-chicago

वाशिंगटन, 11 जनवरी: अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने राष्ट्रपति के रूप में अपना कार्यकाल समाप्त होने के मद्देनजर मंगलवार को शिकागो में आखिरी बार देश की जनता को संबोधित किया। 

सीएनएन के अनुसार ओबामा ने अपने विदाई भाषण में कहा, "जब मैं पहली बार शिकागो आया था, तब मेरी आयु 20 वर्ष के करीब थी। मैं अपनी पहचान बनाने की कोशिश कर रहा था और अपने जीवन का लक्ष्य खोज रहा था।" 

उन्होंने कहा, "यह वह जगह है, जहां मैंने सीखा है कि परिवर्तन तभी होता है, जब आम लोग इसमें शामिल होते, जुड़ते हैं और साथ मिलकर इसकी मांग करते हैं।"

ओबामा ने कहा कि अमेरिका अब एक बेहतर जगह है। उन्होंने अपने समर्थकों का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि उन्होंने उन्हें एक बेहतर राष्ट्रपति बनने में मदद की है। 

ओबामा ने अपने अंतिम औपचारिक संबोधन के लिए ओवल ऑफिस या ईस्ट रूम के बजाए शिकागो को चुना। इस शहर से ही ओबामा ने 2008 और 2012 में जीत की घोषणा की थी।

इससे पहले ओबामा ने फेसबुक पर लिखा था कि वह उस शहर में वापस जा रहे हैं, जहां से यह सब शुरू हुआ था।

Monday, January 9, 2017

अभिनेत्री मेरिल स्ट्रीप ने डोनाल्ड ट्रंप को सुनाई खरी-खोटी

अभिनेत्री मेरिल स्ट्रीप ने डोनाल्ड ट्रंप को सुनाई खरी-खोटी

actress-meryl-streep-attack-donald-trump-in-golden-globe-awards

लॉस एंजेलिस, 9 जनवरी: दिग्गज हॉलीवुड अभिनेत्री मेरिल स्ट्रीप ने 74वें गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स में डोनाल्ड ट्रंप पर निशाना साधा। मेरिल को हॉलीवुड में अपने उत्कृष्ट योगदाने के लिए 'सेसिल बी' पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस पुरस्कार को ग्रहण करने के दौरान देश के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर जमकर बरसी।

स्ट्रीप ने कहा, "हॉलीवुड बाहरी लोगों से मिलकर बना हुआ है, यदि आप हम सभी को बाहर निकाल देंगो तो आपके पास फुटबाल और मार्शल आर्ट के अलावा और कुछ नहीं बचेगा जो आर्ट नहीं है।"

उन्होंने आगे कहा कि वह खुद न्यूजर्सी में पली-बढ़ी हैं। इतना ही नहीं सारा पॉलसन, सारा जेसिका पार्कर, एमी एडम्स, नतालिया पोर्टमैन, रूथ नेगा, वॉयला डेविस, देव पटेल और रेयान रेनॉल्डस सभी बाहरी हैं।

मेरिल ने कहा, "हम लोग कौन हैं और हॉलीवुड क्या है? यह बाहर से आए लोगों का समूह है। इनके जन्म प्रमाण पत्र कहां है?"

मेरिल स्ट्रीप ने एक रैली के दौरान ट्रंप द्वारा एक विकलांग रिपोर्टर का सार्वजनिक तौर पर उड़ाए जाने पर भी उनकी आलोचना की।

उन्होंने कहा, "तिरस्कार से तिरस्कार की भावना जन्म लेती है और हिंसा से हिंसा पनपती है।"

Sunday, January 8, 2017

2016 में बमबारी करने में ओबामा ने तोड़ दिया सबका रिकॉर्ड, पढ़ें, कितने गिराए बम

2016 में बमबारी करने में ओबामा ने तोड़ दिया सबका रिकॉर्ड, पढ़ें, कितने गिराए बम

barack-obama-broken-record-of-bombari-air-strike-in-2016

वाशिंगटन, 8 जनवरी: अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के पिछले साल 2016 के कार्यकाल के दौरान अमेरिका ने सात देशों में एक अनुमान के अनुसार 26,171 बम गिराए, जो 2015 की तुलना में 3,027 अधिक थे।

विदेश संबंध परिषद की रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश बम आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के खिलाफ अमेरिका के नेतृत्व वाले गठबंधन अभियान के तहत इराक और सीरिया में गिराए गए। अमेरिकी सैनिकों द्वारा दोनों देशों पर करीब 12,000 से अधिक बम गिराए गए।

इसके अतिरिक्त 1,337 विस्फोटक अफगानिस्तान में गिराए गए जो 2015 की तुलना में लगभग 50 प्रतिशत अधिक है। 

ओबामा प्रशासन के पदभार छोड़ने से पहले सभी अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की मूल योजना के बावजूद वर्तमान में अफगानिस्तान में 9,800 अमेरिकी सैनिक मौजूद हैं।

लीबिया में भी अमेरिकी बमबारी में वृद्धि हुई। उसे 496 विस्फोटकों का सामना करना पड़ा। अन्य 34 बम यमन और 14 बम सोमालिया में गिराए गए। इसके अलावा पाकिस्तान में तीन बम गिराए गए। 

इतनी बड़ी संख्या में बमबारी के बावजूद अमेरिका की इन सातों देशों में से किसी के साथ भी आधिकारिक तौर पर युद्ध की स्थिति नहीं रही है।

Saturday, January 7, 2017

अमेरिका में फ्लोरिडा हवाई अड्डे पर फायरिंग में 5 की मौत, 8 घायल, हमलावर हिरासत में

अमेरिका में फ्लोरिडा हवाई अड्डे पर फायरिंग में 5 की मौत, 8 घायल, हमलावर हिरासत में

america-florida-airport-firing-5-dead-8-injured-attacker-arrested

मियामी, 7 जनवरी: अमेरिका के फ्लोरिडा हवाईअड्डे पर अंधाधुंध गोलीबारी करने वाले संदिग्ध को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इस हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई जबकि आठ घायल हो गए।

सीएनएन न्यूज ने ब्रोवार्ड काउंटी के शेरिफ स्कॉट इजरायल के हवाले से बताया कि स्तेबान सैंटियागो नाम का यह शख्स हवाईअड्डे पर आकर गोलीबारी करने लगा।

कानून प्रवतर्नालय अधिकारियों के मुताबिक, 26 वर्षीय संदिग्ध को हिरासत में ले लिया गया है। हमले के कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है।

अधिकारियों के मुताबिक, संघीय जांच ब्यूरो ने इसे आतंकवादी घटना मानने से इनकार कर दिया है।

सैंटियागो ने अर्धस्वचालित बंदूक को इस्तेमाल किया। हालांकि, इसके बाद उसने आत्मसमर्पण कर दिया।

होमलैंड सुरक्षा विबाग के मुताबिक, संदिग्ध संभावित आतंकवादी कृत्यों के लिए रडार पर नहीं था।

संदिग्ध ने कोई प्रमुख विदेश यात्रा नहीं की थी लेकिन उसने अलास्का में एफबीआई कार्यालय का दौरा किया था और अधिकारियों को बताया कि एक खुफिया एजेंसी ने उसे इस्लामिक स्टेट के वीडियो देखने को कहा था।

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि वह इस गोलीबारी की घटना से व्यथित हैं और इस घटना के बारे में विस्तार से जाने बिना कोई टिप्पणि नहीं कर सकते।

देश के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने भी ट्वीट कर इसके बारे में जानकारी दी।

ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, "फ्लोरिडा में भयावह स्थिति पर नजर रख रहे हैं। अभी गवर्नर स्कॉट से बात की है। मैं सभी के सुरक्षित होने की कामना करता हूं।"

पेंस ने ट्वीट कर कहा, "हमारी संवेदनाएं पीड़ितों और उनके परिवार वालों के साथ हैं।"
अमेरिकी कांग्रेस ने डोनाल्ड ट्रंप की जीत की पुष्टि की

अमेरिकी कांग्रेस ने डोनाल्ड ट्रंप की जीत की पुष्टि की

america-congress-confirmed-donald-trump-victory-us-president

वाशिंगटन, 7 जनवरी: अमेरिकी कांग्रेस ने देश के भावी राष्ट्रपति के रूप में डोनाल्ड ट्रंप की जीत प्रमाणित कर दी है। अमेरिकी कांग्रेस के सांसदों ने निर्वाचन मंडल द्वारा डाले गए वोटों की गणना की प्रक्रिया पूरी करते हुए इसकी पुष्टि कर दी है।

इस संदर्भ में शुक्रवार को एक बैठक में पुष्टि की गई कि ट्रंप को 304 इलेक्टोरल वोट मिले हैं जबकि उनकी प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन को 227 वोट मिले थे। 

ट्रंप 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे।

उपराष्ट्रपति जो बाइडन ने इस बैठक की अध्यक्षता की।

हालांकि मैसाचुसेट्स के जिम मैकगवर्न ने डेमोक्रेटिक राष्ट्रीय समिति में रूस की कथित हैकिंग का हवाला देते हए इन नतीजों की वैधता को चुनौती दी।

इसके साथ ही मैरीलैंड, वाशिंगटन, कैलिफोर्निया और टेक्सास के प्रतिनिधियों ने जिम के सुर में सुर मिलाए।

Friday, January 6, 2017

बांग्लादेश में ढाका हमले का मास्टरमाइंड का किया गया एनकाउंटर

बांग्लादेश में ढाका हमले का मास्टरमाइंड का किया गया एनकाउंटर

bangladesh-news-dhaka-cafe-attack-mastermind-monirul-islam-killed

ढाका, 6 जनवरी: बांग्लादेश की राजधानी ढाका में गुलशान कैफे हमले का मास्टरमाइंड नुरूल इस्लाम मरजान पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया। मरजान आतंकवादी संगठन नियो-जेएमबी का सदस्थ था। 

बीडीन्यूज24 ने ढाका के मेट्रोपॉलिटन पुलिस की आतंकवाद रोधी इकाई के प्रमुख मोनीरूल इस्लाम के हवाले से बताया कि मुठभेड़ तड़के लगभग तीन बजे ढाका के मोहम्मदपुर में हुई।

पुलिस ने बताया कि मरजान के साथ उसका एक साथी भी मारा गया।

Tuesday, January 3, 2017

50 फीसदी से ज्यादा अमेरिकियों को डोनाल्ड ट्रंप की योग्यता पर शक: सर्वेक्षण

50 फीसदी से ज्यादा अमेरिकियों को डोनाल्ड ट्रंप की योग्यता पर शक: सर्वेक्षण

survey-reveald-50-percent-american-doubt-donald-trump-ability

वाशिंगटन, 3 जनवरी: डोनाल्ड ट्रंप 20 जनवरी को अमेरिकी राष्ट्रपति पद की शपथ लेने वाले हैं, मगर विडंबना यह है कि आधे से ज्यादा अमेरिकियों को ट्रंप की योग्यता पर शक है। उन्हें ट्रंप द्वारा अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों को सुलझाने, चतुराईपूर्वक सैन्य बल का इस्तेमाल करने या अपने प्रशासन को विवाद से बचाने की योग्यता पर शक है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने गैलप सर्वेक्षण के हवाले से सोमवार को बताया कि ट्रंप की तुलना में 10 में 7 अमेरिकियों को बराक ओबामा, जॉर्ज डब्ल्यू बुश और बिल क्लिटंन पर ज्यादा भरोसा था। 

सर्वेक्षण में शामिल 46 फीसदी प्रतिभागियों का मानना था कि ट्रंप अंतराष्ट्रीय मुद्दों पर सही रुख अपनाएंगे, जबकि 47 फीसदी का मानना है कि वह सैन्य बल इस्तेमाल बुद्धिमानी से करेंगे और 44 फीसदी का मानना है कि वे अपने प्रशासन को बड़े विवादों से बचा सकते हैं। 

गैलप के सर्वेक्षण विशेषज्ञ जेफरी एम. जोन्स ने कहा कि हालांकि अमेरिकियों ने ज्यादा भरोसा ट्रंप के कांग्रेस के साथ मिलकर प्रभावी तरीके से काम करने (60 फीसदी), अर्थव्यवस्था को प्रभावी ढंग से संभालने (59 फीसदी), राष्ट्रपति के रूप में विदेश में अमेरिकी हितों की रक्षा (55 फीसदी), कार्यकारी शाखा का प्रभावी ढंग से प्रबंधन (53 फीसदी) में जताया। 

ये नतीजे गैलप द्वारा 7 से 11 दिसंबर तक कराए गए सर्वेक्षण पर आधारित हैं, जिसमें 18 साल से अधिक उम्र के 1,028 अमेरिकी शामिल हुए थे। 
ब्राज़ील की जेल में दो ड्रग माफिया गैंग में भिडंत, कई कैदियों के सिर धड़ से अलग, 60 की हत्या

ब्राज़ील की जेल में दो ड्रग माफिया गैंग में भिडंत, कई कैदियों के सिर धड़ से अलग, 60 की हत्या

brazil-jail-riot-more-than-60-prisoner-killed-by-criminals

साओ पाउलो, 3 जनवरी: ब्राजील के अमाजोनास की मनाओस जेल में कैदियों के दो गुटों के बीच भड़की हिंसा में 60 लोगों की हत्या कर दी गई। यह हिंसा रविवार दोपहर शुरू हुई थी, जेल में फैमिलिया डो नोटे (एफडीएन) गिरोह के सदस्य जेल में एक अन्य आपराधिक संगठन फर्स्ट कैपिटल कमांड (पीसीसी) के साथ भिड़ गए। दोनों गैंग ड्रग माफिया से सम्बंधित हैं। 

अमाजोनास सार्वजनिक सुरक्षा सचिव सर्जियो फोन्टस ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जेल में इस हिंसा में कई कैदियों के सिर धड़ से अलग कर दिए गए हैं, शव क्षत-विक्षत कर दिए गए हैं और इस दौरान जेल में आग लगा दी गई। 

फोन्टस ने कहा, "एक तरफ लाशें बिछी हुई थी। एफडीएन ने पीसीसी के संदिग्ध सदस्यों की हत्या कर दी। इसके साथ ही कुछ और कैदियों की भी हत्या कर दी गई।"

सार्वजनिक सुरक्षा सचिवालय के मुताबिक, अमाजोनास की यह घटना अब तक का सबसे बड़ा नरसंहार है।

Sunday, January 1, 2017

नाइट क्लब में आतंकवादी हमले से दहला इस्तांबुल, 35 मरे

नाइट क्लब में आतंकवादी हमले से दहला इस्तांबुल, 35 मरे

terrorist-attack-in-instambul-night-club-35-dead

इस्तांबुल, 1 जनवरी: तुर्की के शहर इस्तांबुल में एक प्रसिद्ध नाइट क्लब में नए साल की पार्टी के दौरान एक बंदूकधारी ने हमला कर दिया, जिसमें 35 लोगों की मौत हो गई। शहर के गवर्नर वासिप साहिन ने रविवार को बताया कि हमलावर ने नाइट क्लब में घुसने से पहले बाहर एक पुलिसकर्मी और एक नागरिक की हत्या कर दी।

'हुर्रियत न्यूज' के अनुसार, 'आतंकवादी' हमला स्थानीय समयानुसार शनिवार देर रात 1.30 बजे के आसपास ओर्ताकोय इलाके के रीना नाइट क्लब में हुआ। इसमें 40 अन्य घायल हो गए।

गवर्नर ने बताया कि एक ही हमलावर ने वारदात को अंजाम दिया। वहीं, 'सीएनएन तुर्क' की रिपोर्ट के अनुसार, हमलावर ने सांता क्लॉज की ड्रेस पहन रखी थी।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, जिस वक्त हमला हुआ, नाइट क्लब में करीब 700 लोग मौजूद थे।

Saturday, December 31, 2016

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव पद से बान की मून की विदाई

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव पद से बान की मून की विदाई

ban-ki-moon-10-year-term-end-on-31-december-2016-in-unsc

संयुक्त राष्ट्र, 31 दिसम्बर: संयुक्त राष्ट्र के निवर्तमान महासचिव बान की मून को शुक्रवार को विदाई दी गई। वह पिछले 10 वर्षो के इस पद पर थे। बान ने पद से विमुक्त होने से पहले संयुक्त राष्ट्र के स्टाफ का शुक्रिया अदा किया और उन्हें संयुक्त राष्ट्र से जुड़े मामलों पर मेहनत जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया। 

इस दौरान संयुक्त राष्ट्र के अधिकारी, राजनयिक, कर्मचारी दल सभी मौजूद थे।

बान ने भीड़ को संबोधित करते हुए कहा कि वह शनिवार को न्यूयॉर्क सिटी के टाइम्स स्क्वायर में नए साल के जश्न के मौके पर रहेंगे।

वह इस दौरान दुनियाभर के लोगों को सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) का समर्थन करने का आह्वान करेंगे।

बान का कार्यकाल एक जनवरी 2007 को शुरू हुआ था और यह 31 दिसंबर 2016 को समाप्त हो रहा है।

बान की जगह पुर्तगाल के पूर्व प्रधानमंत्री एंटोनियो गुटेरेस एक जनवरी 2017 से महासचिव पद संभालेंगे।

Friday, December 30, 2016

पुतिन ने ओबामा की शातिर चाल को समझ लिया, फंसेंगे नहीं: पढ़ें

पुतिन ने ओबामा की शातिर चाल को समझ लिया, फंसेंगे नहीं: पढ़ें

vladimir-putin-and-barack-obama-hindi-news

मास्को, 30 दिसम्बर: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने शुक्रवार को अपने विदेश मंत्रालय के इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया कि अमेरिका द्वारा रूसी राजनयिकों को देश से निकालने के जवाब में रूस को भी 35 अमेरिकी राजनयिकों को देश से निकाल देना चाहिए। आरटी न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, पुतिन ने कहा कि जल्द ही राष्ट्रपति पद का कार्यकाल पूरा करने जा रहे बराक ओबामा की कोशिश जवाबी कार्रवाई के लिए उकसाने की है, लेकिन रूस इस प्रलोभन में नहीं फंसेगा।

पुतिन ने एक बयान में कहा, "हम जवाबी कार्रवाई का अधिकार रखते हैं। लेकिन, हम इस स्तर की गैर जिम्मेदार 'किचेन कूटनीति' तक गिरने के लिए तैयार नहीं हैं। हम नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नीतियों के आधार पर रूस-अमेरिका संबंधों के लिए कदम उठाएंगे।"

इससे पहले रूसी विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को 35 अमेरिकी राजनयिकों को देश से निकालने का प्रस्ताव दिया था।

विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने कहा था, "रूस के विदेश मंत्रालय और अन्य एजेंसियों के उनके सहयोगियों ने प्रस्ताव दिया है कि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन मॉस्को स्थित अमेरिकी दूतावास के 31 और सेंट पीटर्सबर्ग स्थित अमेरिकी वाणिज्य दूतावास के चार राजनयिकों की घोषणा अवांछित व्यक्ति के रूप में करें।"

लावरोव के अनुसार, प्रस्ताव में मॉस्को में अमेरिकी राजनयिकों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे एक मनोरंजन और भंडारण सुविधा केंद्र पर प्रतिबंध लगाना भी शामिल है।

उन्होंने कहा था, "हम उम्मीद करते हैं कि इन प्रस्तावों की समीक्षा यथाशीघ्र की जाएगी।"

इसी के साथ रूस के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मरिया जखरोवा ने सीएनएन की एक रिपोर्ट का खंडन किया कि रूस अंग्रेजी भाषी राजनयिकों के बच्चों के लिए एक स्कूल को बंद करेगा।

टीवी चैनल सीएनएन की रिपोर्ट में कहा गया था कि रूसी अधिकारियों ने अमेरिका से 35 रूसी राजनयिकों के निष्कासन के जवाब में मॉस्को के एंग्लो-अमेरिकन स्कूल को बंद करने का आदेश दिया है। 

रिपोर्ट में कहा गया था, "स्कूल अमेरिकी, ब्रिटिश और कनाडाई दूतावासों के राजनयिकों, अमेरिकी और विदेशी नागरिकों के बच्चों के लिए है।"

चैनल ने अनाम अमेरिकी अधिकारी को अपनी इस सूचना का सूत्र बताया था। 

जखरोवा ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा, "यह झूठ है। स्पष्ट रूप से व्हाइट हाउस पागल हो गया है और अपने ही बच्चों पर प्रतिबंध लगाने का तरीका इजाद करने की शुरुआत कर दी है।"
अमेरिका और रूस में शुरू हुई दुश्मनी, ओबामा ने रूस के 35 सरकारी अधिकारियों को भगाया

अमेरिका और रूस में शुरू हुई दुश्मनी, ओबामा ने रूस के 35 सरकारी अधिकारियों को भगाया

barack-obama-expelled-35-russian-officers-from-america-hacking

वाशिंगटन, 30 दिसम्बर: विश्व की दो महाशक्तियों अमेरिका और रूस के बीच शीत युद्ध की शुरुआत हो चुकी है, अमेरिका में 2016 के राष्ट्रपति चुनाव के दौरान रूस की ओर से कथित हैकिंग पर सख्त रुख अपनाते हुए अमेरिका ने रूस की कुछ खुफिया एजेंसियों और शीर्ष अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाकर उन्हें अमेरिका से बाहर जाने के लिए कहा है।

बराक ओबामा ने गुरुवार को जारी बयान में कहा कि अमेरिका में चुनाव के दौरान रूस की नौ एजेंसियों और वरिष्ठ अधिकारियों के कथित हस्तक्षेप की वजह से प्रतिबंध लगाए गए हैं।

अमेरिकी विदेश विभाग ने गुरुवार को कहा कि अमेरिका से रूस के 35 सरकारी अधिकारियों को बाहर निकाल दिया। इन अधिकारियों को प्रतिकूल ढंग से काम करने की वजह से अस्वीकार्य घोषित कर दिया गया है।

ओबामा प्रशासन ने अक्टूबर में रूस पर अमेरिका के राजनीतिक संस्थानों की हैकिंग करने और अमेरिकी चुनाव प्रक्रिया में हस्तक्षेप का आरोप लगाया था जिन्हें रूस ने बकवास करार देकर खारिज कर दिया था।

ओबामा ने कहा, "डेटा की चोरी और गुप्त जानकारियों को सीधे तौर पर रूस सरकार की ओर से अंजाम दिया गया।"

ओबामा ने अपनी गोटी चल दी है और अब पुतिन की गोटी चलने का इन्तजार किया जा रहा है, अगर पुतिन अमेरिका के अगले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ रिश्ते मजबूत करना चाहेंगे तो वह ओबामा की इस हरकत को नजअंदाज कर देंगे, अगर उन्होंने ओबामा के कूटनीतिक हमले का जवाब दिया और अमेरिकी अधिकारीयों को भी रूस से बाहर निकाल दिया तो ओबामा अपनी चाल में सफल हो जाएंगे और पुतिन और डोनाल्ड ट्रम्प में झगड़ा करवाकर जाएंगे। 

Wednesday, December 28, 2016

निर्वासित बलूच सरकार गठित करने की जल्दी नहीं: नाएला कादरी

निर्वासित बलूच सरकार गठित करने की जल्दी नहीं: नाएला कादरी

naela-quadri-baloch-not-in-hurry-to-make-baloch-exiled-government

कन्नूर (केरल), 28 दिसम्बर: बलूच अंतर्राष्ट्रीय महिला मंच की नेता नाएला कादरी बलूच ने कहा है कि उन्हें निर्वासित बलूच सरकार के गठन की कोई जल्दी नहीं है। समर्थन जुटाने के मकसद से मंगलवार रात को कन्नूर पहुंचीं नाएला कादरी बलूच बुधवार को थालासेरी में एक जनसभा को संबोधित करेंगी।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पुराने कार्यकर्ताओं के संगठन के तत्वावधान में थालासेरी के एक कॉलेज में सभा का आयोजन किया जा रहा है।

नाएला ने कहा, "हमारा लक्ष्य निर्वासन में सरकार का गठन करना है और हमें इसकी कोई जल्दी नहीं है। हम जानते हैं कि आगे का रास्ता काफी लंबा है और फिलहाल हम उसकी नींव रख रहे हैं।"

उन्होंने कहा, "हमारे लिए यह खुशी की बात है कि वाराणासी के लोगों ने हमें समर्थन दिया है और हम इसे वहीं स्थापित करना चाहते हैं। हम इसके लिए भारत सरकार का भी साथ चाहते हैं।"

नाएला पूरे भारत का दौरा कर रही हैं। अब तक वह दिल्ली, मुंबई, नागपुर, चंडीगढ़ और बेंगलुरु में जनसभाएं कर चुकी हैं।

उन्होंने कहा, "इन सभी जगहों पर काफी उत्साहजनक प्रतिक्रिया मिली है, खासतौर पर युवाओं से। हम अपने आंदोलन के लिए समर्थन जुटा रहे हैं। हम दुनियाभर में बसे बलूच लोगों से भी जुड़ रहे हैं। हमारी आबादी करीब चार करोड़ है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 15 अगस्त को अपने स्वतंत्रता दिवस समारोह के भाषण में बलूचिस्तान का मुद्दा उठाने के बाद से पाकिस्तान और अन्य देशों के कई बलूच नेता नई दिल्ली आ चुके हैं।

बलूचिस्तान, पाकिस्तान का क्षेत्रफल के हिसाब से सबसे बड़ा प्रांत है। बलूचिस्तान को पाकिस्तान से अलग कर एक अलग देश बनाने का आंदोलन लंबे समय से चल रहा है।
संदिग्ध पैकेट के चक्कर में खाली कराया गया पूरा 'ट्रम्प टावर' पैकेट खोला तो मिला.. पढ़ें क्या?

संदिग्ध पैकेट के चक्कर में खाली कराया गया पूरा 'ट्रम्प टावर' पैकेट खोला तो मिला.. पढ़ें क्या?

trump-tower-building-vacated-after-suspicious-package-found-toys

न्यूयॉर्क, 28 दिसम्बर: ट्रंप टावर में एक संदिग्ध पैकेट मिलने के बाद पुलिस ने टावर को खाली कराने के आदेश दे दिए। हालांकि, पैकेट में बच्चों के खिलौने मिलने के बाद पुलिस ने राहत की सांस ली।

नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का निवास स्थान और कार्यालय इसी इमारत में हैं। हालांकि, इस समय ट्रंप फ्लोरिडा में छुट्टियां बिता रहे हैं।

समाचार एजेंसी एफे ने अनाधिकृत रिपोर्टों के हवाले से बताया कि अग्निशमन विभाग को इमारत में संदिग्ध पैकेट होने की जानकारी मिली। 

यह इमारत मैनहट्टन में 56वीं स्ट्रीट के पास पांचवें एवेन्यू में है।

न्यूयॉर्क पुलिस विभाग ने जांच के बाद क्लिन चिट दे दी। पुलिस ने बताया कि पैकेट में बच्चों के खिलौने मिले हैं।

पुलिस प्रवक्ता ने ट्वीट कर इसकी पुष्टि की।

Monday, December 26, 2016

इराक के मोसुल में ISIS के 97 आतंकवादी ठोंके गए

इराक के मोसुल में ISIS के 97 आतंकवादी ठोंके गए

iraq-musul-news-97-terrorists-killed-by-iraq-police-army

मोसुल, 26 दिसम्बर: इराक के मोसुल में सुरक्षाबलों के साथ भारी संघर्ष और अमेरिकी सेना के नेतृत्व में हवाई हमलों में इस्लामिक स्टेट (आईएस) के 97 आतंकवादियों को मार गिराया गया। इराक के संयुक्त ऑपरेशंस कमान की ओर से जारी बयान के मुताबिक, नौवें बख्तरबंद प्रभाग के जवानों ने आईएस हमलों का मुहंतोड़ जवाब दिया। इस दौरान 51 आतंकवादी ढेर हो गए जबकि चार आत्मघाती कार बम नष्ट हो गए।

बयान के मुताबिक, संघीय पुलिस के ठिकानों पर आईएस ने हमले किए जिसके जवाब में का्र्रवाई करते हुए आईएस के 21 आतंकवादियों को मार गिराया गया।
इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू ने ओबामा को सुनाई जमकर खरी खोटी, बताया छली और कपटी

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू ने ओबामा को सुनाई जमकर खरी खोटी, बताया छली और कपटी

Israeli-prime-minister-benjamin-netanyahu-criticize-president-obama

जेरूशलम, 25 दिसम्बर: इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू शनिवार को ओबामा प्रशासन पर जमकर बरसे। उन्होंने इजरायल अधिकृत फिलिस्तीनी इलाकों में यहूदी बस्तियों के निर्माण को रोकने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में हुए मतदान में अमेरिका के भाग नहीं लेने की कड़ी निंदा की। नेतनयाहू ने शुक्रवार को 15 सदस्यीय निकाय द्वारा पारित प्रस्ताव पर कहा, "ओबामा प्रशासन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कपटपूर्ण और इजरायल विरोधी पैंतरेबाजी के तहत खुद को अलग रखा।"

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, कट्टरपंथी प्रधानमंत्री ने इस कदम को 'विकृत और शर्मनाक' बताकर इसकी निंदा की।

इजरायल ने अपने न्यूजीलैंड और सेनेगल के राजदूतों को वापस बुला लिया है जिन्होंने वेनेजुएला और मलेशिया के साथ प्रस्ताव पेश किया था। इस प्रस्ताव को 14-0 के बहुमत के साथ पारित किया गया।

नेतनयाहू ने कहा कि इजरायल, संयुक्त राष्ट्र से संबंधों को तोड़ सकता है। उन्होंने कहा कि वह पहले ही पांच 'बेहद शत्रुतापूर्ण' संयुक्त राष्ट्र निकायों की राशि में 3 करोड़ शेकेल (80 लाख डॉलर) की कटौती का आदेश दे चुके हैं।

संयुक्त राष्ट्र में यह मतदान इजरायल के रेग्युलेशन विधेयक के मद्देनजर हुआ। इसे करीब तीन हफ्ते पहले इजरायली संसद ने मंजूरी दी थी। इसे फिलिस्तीन की कब्जाई गई भूमि पर यहूदी बस्तियों को वैध बनाने के लिए पारित कराया गया।