Showing posts with label International. Show all posts
Showing posts with label International. Show all posts

Aug 18, 2017

अगर चीन ने भारत पर किया हमला तो तुरंत शुरू हो जाएगा विश्व युद्ध, चीन हो जाएगा बर्बाद: पढ़ें क्यों

अगर चीन ने भारत पर किया हमला तो तुरंत शुरू हो जाएगा विश्व युद्ध, चीन हो जाएगा बर्बाद: पढ़ें क्यों

japan-announced-india-support-on-doklam-border-issue-with-china

चीन भले ही भारत को युद्ध की गीदड़ भभकी दे रहा है लेकिन भारत पर हमला करना आसान नहीं है क्योंकि चीन जैसे ही भारत पर हमला करेगा, भारत तो उसकी तुड़ाई करेगा ही, जापान भी भारत का साथ देगा और दोनों मिलकर चीन को तहस नहस कर देंगे. आज जापान ने डोकलाम मुद्दे पर खुलकर भारत का साथ देने का ऐलान कर दिया. भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने खुद इस बात की जानकारी दी.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि चीन भूटान पर कब्ज़ा करने के लिए भूटान के क्षेत्र डोकलाम में सड़क बना रहा है और वहां पर अपनी सेना का अड्डा बनाना चाहता है, भूटान को इस पर आपत्ति है, भारत और भूटान दोस्त देश हैं और भारत ने उसकी रक्षा का बचन दिया है. इसीलिए भारत ने चीन को डोकलाम में सड़क बनाने से रोक दिया है. दोनों देशों की सेनाएं डोकलाम में आमने सामने तैनात हैं. चीन भारत को अपनी सेना हटाने को कह रहा है अन्यथा युद्ध के लिए तैयार रहने की धमकी दी है.

चीन की धमकी के बाद भी भारत ने डोकलाम से सेना हटाने से इनकार कर दिया है. भारत ने भी चीन को वापस जाने के लिए कहा है, युद्ध होने पर भारत ने भी करारा जवाब देने की चेतावनी है और अब उसे जापान का भी साथ मिल गया है. सीधी भाषा में कहें तो युद्ध होने पर विश्व युद्ध होगा जिसमें चीन अकेला होगा क्योंकि चीन की अपने सभी पडोसी देशों के साथ दुश्मनी है सिर्फ पाकिस्तान को छोड़कर. वहीँ भारत की बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, जापान, सिंगापुर, मंगोलिया, थाईलैंड और अफ़ग़ानिस्तान के साथ दोस्ती है. 

मतलब अगर युद्ध हुआ तो भारत के सभी दोस्त मिलकर चीन पर हमला करेंगे, इसीलिए चीन भारत पर हमला करने की हिम्मत नहीं कर पा रहा है. अब जापान ने भी भारत का साथ देने का ऐलान कर दिया है इसलिए अब चीन को सपनें में भी भारत पर हमला करने से डर लगेगा क्योंकि चीन जिस क्षेत्र में भारत से अधिक शक्तिशाली है, वह गैप जापान भर देगा और दोनों मिलकर चीन को सबक सिखा देंगे.

Aug 17, 2017

इस महिला के साथ सऊदी अरब में हो रहा है ‘बहुत बुरा काम’ सुषमा स्वराज से बोली 'मैडम बचा लो'

इस महिला के साथ सऊदी अरब में हो रहा है ‘बहुत बुरा काम’ सुषमा स्वराज से बोली 'मैडम बचा लो'

humera-reshma-ke-sath-saudi-arab-me-sexual-harassment-news

हैदराबाद की एक महिला हुमेरा रेशमा सऊदी अरब के रियाध शहर में नौकरी करने गयी थी लेकिन अब उसके साथ इतना गलत व्यवहार हो रहा है कि उसनें विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मदद की गुहार लगाई है. उसके साथ उसका मालिक सेक्स अत्याचार और शारीरिक प्रताड़ना दे रहा है और उसे घर में बंद कर रखा है.

हुमेरा रेशमा की बड़ी बहन से एक VIDEO पोस्ट करके कहा है कि कई दिनों से मेरी बहन का यौनशोषण किया जा रहा है, मेरी बहन को मारा-पीटा जा रहा है और उसे सही से खाना भी नहीं दिया जा रहा है. एक बार मेरी बहन से भागने की कोशिश की तो उसे कमरे में बंद कर दिया गया और चेतावनी दी गयी कि अगर यहाँ से भागने की कोशिश की तो अंजाम बुरा होगा, अब हमारी कोई मदद नहीं कर रहा है, यहाँ तक कि पुलिस भी कोई मदद नहीं कर रही है. अगर उसे बचाया नहीं गया तो वह आत्महत्या के लिए मजबूर हो जाएगी. उसे सेक्सुअली, मेंटली और फिजिकली, हर तरह से परेशान किया जा रहा है. सुषमा जी आप उसकी मदद कीजिये.

जानकारी के अनुसार हुमेरा रेशमा 23 जुलाई को रियाध गयी थी. इससे पहले उसके एजेंट से उसे झूठे सपने दिखाए थे, उससे कहा गया था कि उसका 'उमराह' किया जाएगा और मुस्लिम महिलाओं को जिन्दगी में सिर्फ एक बार उमराह कराने का मौका मिलता है. इसी चक्कर में वह सऊदी अरब चली गयी. हुमेरा से यह भी कहा गया कि उसे सिर्फ एक छोटे परिवार की देखभाल करनी पड़ेगी और महीनें में 25000 रुपये की सैलरी मिलेगी.
बराक ओबामा के एक ट्वीट को मिले सबसे अधिक रिकॉर्ड तोड़ 36 लाख Like, ऐसे क्या था उसमें, पढ़ें

बराक ओबामा के एक ट्वीट को मिले सबसे अधिक रिकॉर्ड तोड़ 36 लाख Like, ऐसे क्या था उसमें, पढ़ें

barack-obama-viral-tweet-on-racism-get-more-than-36-lakh-like

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा एक बार फिर से सुर्ख़ियों में आ गए हैं. इस बार उन्होंने एक ऐसा ट्वीट कर दिया जिसनें पूरी दुनिया में धमाल मचा दिया और उनके ट्वीट को रिकॉर्ड-तोड़ 36 लाख Like मिले हैं, यह Like सिर्फ तीन दिनों में मिले हैं, आने वाले दिनों में यह ट्वीट और अधिक वायरल होगा.

बराक ओबामा का यह ट्वीट Racism यानी रंगभेद पर था. उन्होंने लिखा कि - कोई भी इंसान अपने अन्दर किसी रंग, किसी जाति और किसी धर्म के खिलाफ नफरत लेकर पैदा नहीं होता.

barack-obama-viral-tweet-on-racism

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह कथन बराक ओबामा का नहीं था बल्कि यह कथन साउथ अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला का था जिसे उन्होंने सिर्फ कॉपी किया था लेकिन उनका यह ट्वीट इतना वायरल हो गया कि धमाल मचा दिया. अपने ट्वीट में बराक ओबामा ने गोर और काले रंग के बच्चों की एक साथ फोटो भी दिखाई तो बहुत ही क्यूट लग रही है.

बराक ओबामा के इस ट्वीट को अब तक 3.6 मिलियन यानी करीब 36 लाख लाइक मिल गए हैं और बहुत तेजी से यह ट्वीट फ़ैल रहा है. इससे पहले सबसे अधिक लाइक Ariana Grande’s के ट्वीट को मिले थे जो उन्होंने मैनचेस्टर हमले के बाद अपने फैन्स के लिए इसी वर्ष किया था.

Aug 2, 2017

आएशा गुलालाई ने दिया PTI से इस्तीफ़ा, बोली, इमरान खान मुझे भेजते हैं 'वो वाले मैसेज'

आएशा गुलालाई ने दिया PTI से इस्तीफ़ा, बोली, इमरान खान मुझे भेजते हैं 'वो वाले मैसेज'

ayesha-gulati-resign-from-pti-blame-imran-khan-send-text-massage

पाकिस्तान से एक बड़ी खबर आयी है, पाकिस्तान तहरीक-ए-इन्साफ पार्टी (PTI) की महिला नेता आएशा गुलालाई ने यह कहते हुए इस्तीफ़ा दे दिया है कि पार्टी के अध्यक्ष इमरान खान उन्हें अश्लील मैसेज भेजते हैं. उन्होंने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि इमरान खान के मैसेज बहुत आपत्तिजनक होते थे, मेरा पार्टी में रहना मुश्किल हो रहा था इसलिए मैंने इस्तीफ़ा दे दिया.

उन्होंने कहा कि मुझे पार्टी का टिकट पाने की फिक्र नहीं है, मैंने NA1 मुद्दे के लिए पार्टी से इस्तीफ़ा नहीं दिया है, मैं इमरान खान की वजह से मानसिक तनाव में जी रही थी इसलिए मैंने इस्तीफ़ा दिया है.

उन्होंने कहा कि इमरान खान की और भी गलत आदतें हैं लेकिन टेक्स्ट मैसेज भेजना उनकी सबसे बुरी आदत थी, उन्होंने मुझे सबसे पहला टेक्स्ट मैसेज अक्टूबर 2013 में भेजा, आप इमरान खान के ब्लैकबेरी फोन में चेक कर सकते हैं, वो सभी महिलाओं को ब्लैकबेरी का इस्तेमाल करने की सलाह देते थे क्योंकि उसमें टेक्स्ट मैसेज को ट्रेस नहीं किया जा सकता. आप उनका ब्लैकबेरी चेक कीजिये सब कुछ पता चल जाएगा.

उन्होंने कहा कि इमरान खान के मैसेज ऐसे होते हैं कि कोई भी सम्मानजनक महिला उन्हें बर्दास्त नहीं कर सकती, इमरान खान खुद पर कण्ट्रोल नहीं रख सकते, पार्टी की अन्य महिलायें भी उनकी इन आदतों से परेशान हैं.

उन्होंने यह भी कहा कि इमरान खान मनोवैज्ञानिक डिसऑर्डर से ग्रस्त हैं और कहा कि उन्हें प्रतिभाशाली लोगों की पसंद नहीं है.

Aug 1, 2017

तो भारत से इसलिए डर रहा है चीन, जिनपिंग ने बता दिया: पढ़ें

तो भारत से इसलिए डर रहा है चीन, जिनपिंग ने बता दिया: पढ़ें

xi-jinping-says-would-not-allow-anyone-to-split-chinese-territory

आज चीन के राष्ट्रपति सी जिनपिंग ने इशारों इशारों में बता दिया कि चीन भारत से किसलिए डर रहा हैं, उसने किस वजह से अपनी सेना को डोकलाम में तैनात कर दिया है. आज चीन की सेना पीपल लिबरेशन आर्मी का 90वां स्थापना दिया था. इस मौके पर चीन ने अपनी ताकत का प्रदर्शन किया साथ ही भरत को इशारों इशारों में चेतावनी भी दे डाली.

जिनपिंग ने कहा कि हम किसी को भी चीन में घुसपैठ करने, चीन को बाँटने और हमें नुकसान पहुंचाने की इजाजत नहीं देंगे, हम अपनी सुरक्षा और स्वतंत्रता से समझौता नहीं करेंगे, जो भी हमारी सीमा में घुसपैठ करेगा हम उससे लड़ेंगे और उसे हराएंगे.

जिनपिंग ने कहा कि चीन के लोग शांति पसंद करते हैं, हम कभी भी आक्रमण या विस्तारवादी नीति नहीं अपनाते हैं लेकिन हम अपने हर दुश्मन को हराने की ताकत रखते हैं. हम किसी भी देश, संस्था या राजनीतिक पार्टी को अपने देश के टुकड़े करने की आज्ञा नहीं देंगे, हम हर वक्त ऐसे लोगों को सबक सिखाने के लिए तैयार रहेंगे.

उन्होंने कहा कि कोई हमसे यह उम्मीद ना करें कि हम उस कड़वे फल को खाएंगे जो हमारी स्वतंत्रता, सुरक्षा और विकास के लिए नुकसानदायक है.

जिनपिंग ने इशारों इशारों में यह बतलाने की कोशिश की है कि चीन भारत से इसलिए डरता है कि कहीं भारत उससे तिब्बत वापस ना छीन ले, इसीलिए चीन डोकलाम में सड़क बनाकर वहां पर अपनी सेना को तैनात करना चाहता है, उसे पता है कि दलाईलामा भारत में ही रहकर तिब्बत की निर्वासित सरकार चला रहे हैं, कह तिब्बत को आजाद कराने का प्रयास कर रहे हैं, उसे पता है कि भारत भी दलाईलामा का साथ दे रहा है, अगर भारत ने दलाई लामा के साथ मिलकर चीन पर आक्रमण कर दिया और उधर तिब्बत के लोगों ने भी भारत का साथ दे दिया तो तिब्बत चीन के हाथों से छिन जाएगा. इसीलिए चीन ने मानसरोवर का रास्ता बंद करवाकर भारतीयों को तिब्बत जाने से रोक दिया है. आपको बता दें कि कैलाश मानसरोवर तिब्बत में ही पड़ता है, एक समय था जब तिब्बत भारत के अन्दर था लेकिन 1962 में चीन ने भारत पर हमला करके तिब्बत छीन लिया.

Jul 28, 2017

नवाज शरीफ के ही घर में रहेगी प्रधानमंत्री पद की कुर्सी

नवाज शरीफ के ही घर में रहेगी प्रधानमंत्री पद की कुर्सी

nawaz-sharif-brother-shehbaz-sharif-announced-pakistan-pm

जिस प्रकार से हमारे देश में बीजेपी के आने से पहले प्रधानमंत्री की कुर्सी एक परिवार के लिए रिज़र्व रहती है उसी प्रकार से पाकिस्तान में भी प्रधानमंत्री पद की कुर्सी नवाज शरीफ परिवार के पास रिज़र्व है तभी तो आज नवाज शरीफ के प्रधानमंत्री पद से बर्खास्त किये जाने के बाद उनके ही छोटे भाई शाहबाज शरीफ को प्रधानमंत्री बनाने की घोषणा कर दी गयी, कल वे प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे.

आपको बता दें कि पाकिस्तान में 'पाकिस्तान मुस्लिम लीग' पार्टी की सरकार है, अब तक इसी पार्टी के नेता नवाज शरीफ प्रधानमंत्री थे, आज पनामा गेट केस में सुप्रीम ने उन्हें प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य घोषित कर दिया साथ ही उनपर आपराधिक मुकदमा करने का आदेश दिया.

इस निर्णय के तुरंत प्रधानमंत्री पद की खोज की जाने लगी और नवाज शरीफ के ही छोटे भाई शाहबाज शरीफ को प्रधानमंत्री बनाने की घोषणा कर दी गयी, शाहबाज शरीफ वर्तमान में पंजाब प्रान्त के मुख्यमंत्री हैं.

इससे पहले के पाकिस्तान मुस्लिम लीग पार्टी की मीटिंग बुलाई गयी, शाहबाज शरीफ को अगले चुनाव तक प्रधानमंत्री बनाया गया है, पाकिस्तान में 2018 में लोकसभा चुनाव हैं.
नवाज शरीफ की हो गयी छुट्टी, अब कभी नहीं बन पाएंगे प्रधानमंत्री: पढ़ें क्यों

नवाज शरीफ की हो गयी छुट्टी, अब कभी नहीं बन पाएंगे प्रधानमंत्री: पढ़ें क्यों

panama-gate-case-supreme-court-disqualifies-nawaz-sharif

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के लिए बहुत बुरी खबर है, वहां की सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें आजीवन चुनाव लड़ने के लिए बैन कर दिया है और प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य घोषित कर दिया है, इस आदेश के बाद अब ना तो नवाज शरीफ चुनाव लड़ लाएंगे और ना ही कभी प्रधानमंत्री बन पाएंगे, यही नहीं कश्मीर को पाकिस्तान बनाने का उनका सपना भी अधूरा रह जाएगा क्योंकि कुछ दिनों पहले उन्होंने कहा था कि कश्मीर को पाकिस्तान बनते देखना उनका सबसे बड़ा सपना है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज सुप्रीम कोर्ट ने पनामागेट मामले की सुनवाई हुई जिसमें नवाज शरीफ दोषी पाए गए, सुप्रीम कोर्ट ने ना सिर्फ उन्हें प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य घोषित किया, उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने का आदेश दिया.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के अवाल विदेश मंत्री इशाक डार को भी अयोग्य घोषित कर दिया गया है, इस बात की जानकारी पाकिस्तान के अटॉर्नी जेनरल अश्तार औसफ ने दी.

Jul 27, 2017

अपनी ही बयान से फंस गए राहुल गाँधी 'नेता लोग स्वार्थ के लिए किसी से भी हाथ मिला लेते हैं'

अपनी ही बयान से फंस गए राहुल गाँधी 'नेता लोग स्वार्थ के लिए किसी से भी हाथ मिला लेते हैं'

apne-hee-bayan-se-fans-gaye-rahul-gandhi-nitish-kumar-modi

आज कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी अपने ही बयान से फंस गए, उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान की राजनीति में यही प्रॉब्लम है कि यहाँ पर कोई नियम कानून नहीं चलता, नेता लोग अपने निजी स्वार्थ के लिए किसी से भी हाथ मिला लेते हैं.

राहुल गाँधी के इस बयान के बाद उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले ही यादें ताजा हो गयीं जब उन्होंने एकाएक अखिलेश यादव से गठबंधन कर लिया था जबकि उससे पहले दोनों ही नेता एक दूसरे पर हमले करते थे. राहुल गाँधी ने उत्तर प्रदेश के लिए नारा दिया था '27 साल यूपी बेहाल' मतलब वे अखिलेश यादव सरकार पर ही उत्तर प्रदेश को बेहाल करने का आरोप लगा रहे थे और एकाएक उन्हीं के साथ हाथ मिला लिया.

27-saal-up-behaal-rahul-gandhi

अब लोग कह रहे हैं कि राहुल गाँधी ये बात नीतीश कुमार के लिए नहीं बल्कि अपने लिए भी कह रहे हैं क्योंकि उन्होंने अपने स्वार्थ के लिए अखिलेश यादव के साथ हाथ मिला लिया था. सोशल मीडिया पर राहुल गाँधी का जमकर मजाक बनाया जा रहा है.

बिहार में सिर्फ 12 घंटों में इतनी तेजी से घटनाक्रम बदला कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद का त्याग करके फिर से मुख्यमंत्री बन गए हालाँकि अब उनकी सरकार में RJD की जगह BJP आ गयी है, अब बिहार में नीतीश-सुशील की जोड़ी फिर से एक हो गयी है, आज नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली जबकि सुशील कुमार मोदी ने उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

नीतीश कुमार के कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार को धोखा दिया है, बिहार के लोगों ने साम्प्रदायवाद के खिलाफ नीतीश कुमार को वोट दिया था लेकिन आज वे उन्हीं लोगों से मिल गए.

राहुल गाँधी ने कहा कि हिंदुस्तान की राजनीति में यही कमीं है, यहाँ अपने स्वार्थ के लिए कोई कुछ भी करने को तैयार रहना है, कोई नियम कानून नहीं है.

राहुल गाँधी ने कहा कि नीतीश कुमार और बीजेपी के रिश्तों के बारे में हमें पहले से ही पता था, हम माहौल देखकर ही अंदाजा लगा लेते हैं कि क्या हो रहा है, नीतीश और बीजेपी के बीच पिछले तीन-चार महीनों से खिचड़ी पाक रही थी. वह हमसे भी मिले थे लेकिन हमनें उनका मूंड भांप लिया था.

Jul 24, 2017

चीन ने दी भारत को धमकी, पहाड़ को हिलाना आसान है, PLA को हिलाना मुश्किल है

चीन ने दी भारत को धमकी, पहाड़ को हिलाना आसान है, PLA को हिलाना मुश्किल है

china-threaten-india-for-people-of-liberation-army-pla

आज चीन ने भारत को खुलेआम युद्ध की धमकी दे दी है, चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता वी कियान ने एक बयान में कहा कि अगर भारत सोच रहा है कि PLA को हिला देगा तो यह उसका सपना है, पहाड़ को हिलाना आसान है लेकिन PLA को हिलाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है. आपको बता दें कि चीनी सेना को 'पीपल ऑफ़ लिबरेशन आर्मी' यानी PAL कहा जाता है.

उन्होने कहा कि अगर भारत को शांति स्थापित करना है तो अपनी सेना को डोकलाम सीमा से हटाना पड़ेगा, हमारी पहली शर्त है कि भारत अपनी सेना डोकलाम से हटाए, उसके बाद ही दोनों देशों के बीच बातचीत हो सकती है.

उन्होंने अपनी ताकत का बखान करते हुए कहा कि पिछले 60 वर्षों में हमारी ताकत बढ़ी है इसे भारत को याद रखना चाहिए. सीमा पर शान्ति से ही देश में शान्ति आ सकती है. शान्ति स्थापित करना है तो भारत अपनी सेना हटाए. उन्होंने कहा कि अगर भारत ने जल्द ही अपने सैनिकों को नहीं हटाया तो PAL अपनी सीमा की रक्षा करना जानती है और ऐसा हमले पहले भी किया है.

Jul 20, 2017

भारत के अफजल गैंग के लिए बुरी खबर, आज अमेरिका ने भी पाकिस्तान को बता दिया आतंकी देश

भारत के अफजल गैंग के लिए बुरी खबर, आज अमेरिका ने भी पाकिस्तान को बता दिया आतंकी देश

america-call-pakistan-a-terrorist-nation-no-action-by-government

भारत के आतंक प्रेमियों और अफजल गैंग के लिए आज अमेरिका से एक बुरी खबर आयी है, अमेरिका ने पाकिस्तान को आतंकी देशों की लिस्ट में डाल दिया है, डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन की वार्षिक कंट्री रिपोर्ट ऑन टेररिज्म में साफ़ साफ लिखा गया है कि पाकिस्तान में आतंकियों को खुली छूट है, वहां पर आतंकवादी खुलेआम रैलियां करते हैं, फंड जुटाते हैं और आतंकी घटनाओं को अंजाम देते हैं. सरकार ने पाकिस्तान सरकार पर यह भी आरोप लगाए हैं कि आतंकियों के खिलाफ एक्शन लेने में नाकाम है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान 'एशिया पेसिफिक ग्रुप ऑन मनी लौन्डरिंग' का सदस्य है, यह संगठन फाइनेंसियल एक्शन टास्क फ़ोर्स (FATP) का स्थानीय निकाय है. पाकिस्तान टेरर फंडिंग का अपराधीकरण कर रहा है, हालाँकि न्यायिक व्यवस्था में पारदर्शिता के अभाव में अधिकतर मामले सामने नहीं आ पाते हैं. यही सब देखते हुए 2015 में FATF ने पाकिस्तान को निरीक्षण प्रक्रिया से हटा दिया था.

रिपोर्ट में आगे लिखा गया है - अक्टूबर 2016 में FATP ने पाया था कि पाकिस्तान उन संगठनों पर प्रतिबन्ध नहीं लगाया पा रहा है जिनपर यूनाइटेड नेशन सिक्यूरिटी काउंसिल (UNSC) ने लगाए हैं, जैसे ISIL, al-Qaida. इसके आलवा लश्करे तैयबा पर भी कोई एक्शन नहीं लिया गया और इसके आतंकवादी पाकिस्तान में घूमकर रैलियां कर रहे हैं.

इसके अलावा UNSC में प्रतिबंधित कुछ अन्य आतंकी संगठन जैसे - जमात-उद-दवा और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन भी रैलियों के माध्यम से फंड इकठ्ठे कर रहे हैं.

रिपोर्ट में यह भी लिखा गया है कि लश्करे-तैयबा और जमात-उद-दावा का कमांडर हाफिज सईद जिस पर UNSC ने प्रतिबन्ध लगाया हुआ है, वो पाकिस्तान में खुलेआम घूमता है, रैलियां करता है, उसकी रैलियों को पाकिस्तानी मीडिया कवर करता है, लेकिन पाकिस्तानी की सरकार कोई एक्शन नहीं लेती है.

रिपोर्ट में यह भी लिखा हुआ है कि इस्लामिक स्टेट (ISIS) आज भी दुनिया के लिए सबसे बड़ा खतरा है, इसके 8 ब्रांच और इससे सम्बंधित अन्य संगठन शुरू हो चुके हैं, इराक अभी भी आतंकवाद का सबसे बड़ा गढ़ है.

Jul 13, 2017

सऊदी अरब में 10 भारतीय जिन्दा जले, सुषमा स्वराज ने मदद के लिए भेजी टीम

सऊदी अरब में 10 भारतीय जिन्दा जले, सुषमा स्वराज ने मदद के लिए भेजी टीम

fire-killed-10-indians-in-saudi-arab-najran

सऊदी अरब से एक दर्दनाक खबर आयी हिया, एक मकान में आग लगने से कम से कम 11 लोगों की मौत हो गयी जिसमें से 10 भारतीय हैं जबकि एक बांग्लादेश का है, 6 लोग घायल भी हुए हैं जिसमें से 4 भारतीय हैं, यह घटना नजरान की है, जिस मकान में ये लोग रह रहे थे उसमें खिड़की नहीं थी जिसकी वजह से इन्हें भागने का मौका नहीं मिला और आग ने सबको जलाकर ख़ाक कर दिया.

इस घटना के बारे में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को जैसे ही पता चला उन्होंने जेद्दाह में महावाणिज्यदूत मुहम्मद नूर रहमान शेख से बात की, उन्हें टीम के साथ तुरंत ही नजरान के लिए रवाना किया है.

उन्होंने मदद का आश्वासन देते हुए कहा 'मैंने जेद्दाह के महावाणिज्य दूत से बात की है, हमारे लोग पहली उड़ान से नजरान के लिए रवाना हो रहे हैं, जेद्दाह से नजरान की दूरी 900 किलोमीटर है, हम नजरान के राज्यपाल से भी संपर्क में है, हम आप लोगों की हर संभव मदद करेंगे.

हादसे से प्रभावित सभी लोग भारत और बांग्लादेश के हैं, ये सभी मजदूर थे और एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में काम करते थे, ये लोग फैसलिया जिले के एक बाजार के पास रहते थे लेकिन इनके मकान में खिड़की नहीं थी, शोर्ट शर्किट से आग लगी और अभी उसकी चपेट में आ गए.

नजरान के गवर्नर ने हादसे की जाँच के आदेश दे दिए हैं.

Jul 9, 2017

पाकिस्तानी PM नवाज शरीफ ने भारत को फिर दिलाया गुस्सा

पाकिस्तानी PM नवाज शरीफ ने भारत को फिर दिलाया गुस्सा

india-slams-pakistan-for-glorifying-atanki-burhan-wani

एक साल पहले मारे गए कश्मीरी आतंकवादी बुरहान वानी को शहीद बताकत उसकी बरसी मनाने वाले पाकिस्तान को भारत ने कड़ी फटकार लगाते हुए कहा है कि ऐसा करके पाकिस्तान ने साबित कर दिया है कि वे आतंकवाद और आतंकवादियों का समर्थन करते हैं और भारत में आतंकवाद फैला रहे हैं. 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कल पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मारे गए आतंकवादी बुरहान वानी को श्रधांजलि दी थी साथ ही उसे कश्मीर का हीरो बताया था, उन्होंने कहा था कि हम कश्मीरी भाइयों के साथ हैं और आगे भी हर कदम पर खड़े रहेगें.

आज भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने पाकिस्तान की निंदा करते हुए कहा 'पहले पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने बैन किये गए आतंकी संगठन लश्कर की धुन गयी और उसके बाद बुरहान वानी का गुणगान किया, ये साबित करता है कि पाकिस्तान आतंकवाद का समर्थन करता है और उसकी हर किसी को निंदा करनी चाहिए.

gopal-baglay-news-in-hindi

Jul 8, 2017

डोनाल्ड ट्रम्प ने किया हैरान, G20 सम्मलेन में अपनी जगह बेटी को बिठाकर अमेरिका वापस गए

डोनाल्ड ट्रम्प ने किया हैरान, G20 सम्मलेन में अपनी जगह बेटी को बिठाकर अमेरिका वापस गए

donald-trump-break-protocol-replaces-ivanka-trump-in-g20

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने आज सबको हैरान करते हुए G20 सम्मलेन में अपनी जगह अपनी बेटी इवंका ट्रम्प को बिठाकर अमेरिका वापस चले गए. एक तरह ने G20 में पहली बार प्रोटोकॉल टूटा है क्योंकि डोनाल्ड ट्रम्प की जगह केवल अमेरिकी उप-राष्ट्रपति या स्टेट सेक्रेटरी ही ले सकती हैं लेकिन एक बेटी कभी भी राष्ट्रपति की जगह बड़े सम्मलेन में हिस्सा नहीं ले सकती लेकिन आज ऐसा हुआ है, डोनाल्ड ट्रम्प ने ऐसा करके सभी प्रोटोकॉल तोड़ दिया.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इवांका ट्रम्प पहले से ही विवादों में रही हैं, वह डोनाल्ड ट्रम्प के साथ साए की तरह रहती हैं, जब लोगों ने इस पर आपत्ति दर्ज की तो डोनाल्ड ट्रम्प ने उन्हें बिना सैलरी के राष्ट्रपति का सलाहकार नियुक्त कर दिया. 

बताया जा रहा है कि डोनाल्ड ट्रम्प को द्विपक्षीय मीटिंग में भाग लेने अमेरिका जाना था जिसकी वजह से उन्होंने प्रोटोकॉल तोड़ा है लेकिन हैरानी इस बात की है कि डोनाल्ड ट्रम्प ने इसके बारे में पहले से जानकारी नहीं दी थी, कहा जा रहा है कि G20 सम्मलेन में डोनाल्ड ट्रम्प को इग्नोर किया जा रहा है जिसकी वजह से उन्होंने इस सम्मेलन को बीच में ही छोड़ दिया, इससे पहले G20 राष्ट्राध्यक्षों की ग्रुप फोटो में डोनाल्ड ट्रम्प को एकदम किनारे खड़ा कर दिया जबकि अमेरिका के राष्ट्रपति को बीच में खड़ा किया जाता है. शायद इस वजह से ट्रम्प नाराज हो गए. देखिये ये फोटो,

g20-summit-group-photo

आपको बता दें कि G20 विश्व के सबसे बड़े 20 देशों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों का अंतर्राष्ट्रीय समूह है जिसकी स्थापना 1999 में की गयी थी, ये 20 देश हर वर्ष मीटिंग करते हैं और वैश्विक विकास का अजेंडा बनाते हैं साथ ही ग्लोबल समस्याओं से लड़ने के लिए रोडमैप बनाते हैं.
पढ़ें, किस वजह से किया जा रहा डोनाल्ड ट्रम्प का अपमान, G20 में क्यों खड़ा किया गया किनारे

पढ़ें, किस वजह से किया जा रहा डोनाल्ड ट्रम्प का अपमान, G20 में क्यों खड़ा किया गया किनारे

why-donald-trump-insulted-in-g20-summit-hum-berg-germany

G20 देशों की ग्रुप फोटो में डोनाल्ड ट्रम्प को किनारे खड़ा देखकर आपको आश्चर्य हो रहा होगा, पिछले कई वर्षों में पहली बार हुआ है कि सुपर पॉवर अमेरिका के राष्ट्रपति को इतने बड़े सम्मलेन में किनारे खड़ा किया गया है, अब तक उन्हें विल्कुल बीच में खड़ा किया जाता था लेकिन ऐसा लगता है कि डोनाल्ड ट्रम्प को अलग थलग करने की कोशिश की जा रही है, इसके पीछे कई कारण हैं.

डोनाल्ड ट्रम्प को अलग थलग किये जाने का सबसे बड़ा कारण है पेरिस क्लाइमेट समझौते से अमेरिका को अलग करना, डोनाल्ड ट्रम्प ने पेरिस क्लाइमेट समझौते से अमेरिका को यह कहते हुए अलग कर दिया था कि भारत और चीन के साथ ढिलाई बरती गयी है, डोनाल्ड ट्रम्प के इस कदम ने पूरी दुनिया को चौंका दिया था क्योंकि यह विल्कुल ही गैर-जिम्मेदाराना फैसला था.

दूसरा बड़ा कारण है, डोनाल्ड ट्रम्प का कई मुस्लिम देशों के लिए वीजा बैन का फैसला और शरणार्थियों का अमेरिका में प्रवेश बंद करने का फैसला, जर्मनी की चांसलर एजेंला मार्कल को डोनाल्ड ट्रम्प का यह फैसला पसंद नहीं आया जिसकी वजह से दोनों में तीखी नोंक झोंक भी हुई थी, उसके बाद से ही एंजेला मार्कल ने डोनाल्ड ट्रम्प को इग्नोर करना शुरू कर दिया था और इस मीटिंग में भी उन्होंने डोनाल्ड ट्रम्प को किनारे खड़ा करके अपनी खीज निकाली. एंजेला ही इस मीटिंग को लीड कर रही हैं, अगर वे चाहतीं तो डोनाल्ड ट्रम्प को बीच में बुलाकर अमेरिका के राष्ट्रपति का सम्मान बरकरार रख सकती थीं लेकिन ऐसा लगता है कि उन्होंने डोनाल्ड ट्रम्प का जान बूझकर अपमान किया है.

आपको बता दें कि G20 विश्व के सबसे बड़े 20 देशों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों का अंतर्राष्ट्रीय समूह है जिसकी स्थापना 1999 में की गयी थी, ये 20 देश हर वर्ष मीटिंग करते हैं और वैश्विक विकास का अजेंडा बनाते हैं साथ ही ग्लोबल समस्याओं से लड़ने के लिए रोडमैप बनाते हैं.
मोदी और जिनपिंग को ऐसे मिलते देखकर हैरान हो गए चीनी अधिकारी

मोदी और जिनपिंग को ऐसे मिलते देखकर हैरान हो गए चीनी अधिकारी

india-pm-narendra-modi-and-china-president-xi-jinping-meet-viral
पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है कि पता नहीं कब भारत और चीन में युद्ध हो जाए, सिक्किम बॉर्डर पर दोनों देशों की सेनायें आमने सामने खड़ी हैं, युद्ध की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं, बंदूकें लोड हो गयी हैं, फाइटर प्लेन बम बरसाने के लिए तैयार हैं लेकिन कल G-20 सम्मलेन में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति सी जिनपिंग ऐसे मिले जैसे दोनों देशों के बीच में कुछ हुआ ही नहीं है. दोनों मुस्कराते हुए मिले और एक दूसरे का हाल चाल भी पूछा.

दोनों देशों के अधिकारियों को ये उम्मीद नहीं रही होगी कि दोनों नेता इस तरह से एक दूसरे से मिलेंगे, ये लोग सोच रहे थे कि आँखों में चिंगारी लेकर ये एक दूसरे से मिलेंगे और एक दूसरे की शिकायत करेंगे लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ, दोनों नेताओं ने ऐसा जताया कि सब कुछ नार्मल है, इन्हें इस तरह से मिलते देखकर अधिकारी हैरान थे, आप फोटो में खुद देखिये, लोग कितना हैरान होकर दोनों नेताओं को देख रहे हैं.

मोदी और जिनपिंग की करीब पांच मिनट तक मुलाक़ात हुई, इस दौरान भारत के NSA अजीत डोभाल भी मोदी के साथ थे, वे भी नार्मल दिखाई दे रहे थे लेकिन चीनी अधिकारी हैरान थे. मोदी और जिनपिंग की यह फोटो पूरी दुनिया में वायरल हो रही है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जर्मनी के हमबर्ग शहर में G-20 देशों का सम्मलेन चल रहा है जिसमें मोदी और जिनपिंग भी गए हैं, कल इसी सम्मेलन के इतर BRICS देशों की भी मीटिंग हुई जिसमें जिनपिंग ने आतंकवाद से निपटने के लिए भारत के प्रयासों की तारीफ की थी. यह खबर भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गयी थी. इस सम्मेलन में चीन ने यह भी भरोसा दिया था कि सिक्किम बॉर्डर मसले पर भारत से शान्ति से निपटा जाएगा.
पढ़ें क्यों ठहाके मारकर हंस रहे हैं मोदी, मार्केल और मैक्रॉन

पढ़ें क्यों ठहाके मारकर हंस रहे हैं मोदी, मार्केल और मैक्रॉन

narendra-modi-photo-with-angela-merkel-and-emmanuel-macron
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस वक्त जर्मनी के हमबर्ग में आयोजित G-20 सम्मलेन में हिस्सा ले रहे हैं, प्रधानमंत्री मोदी ने कल G-20 सम्मेलन को संबोधित करते हुए आतंकवाद पर कड़ा प्रहार किया और 12 सूत्रीय अजेंडा पेश किया, उन्होंने कहा कि कुछ देश आतंकवाद को राजनीति हथियार के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं, ऐसे देशों के खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए और सभी देशों को आतंकवाद से मिलकर लड़ना चाहिए.

मोदी ने इतना जोरदार भाषण दिया कि लोग उनकी बात से प्रभावित हो गए, जर्मनी की चांसलर एंजेला मार्केल ने खुद आकर मोदी की तारीफ की, उन्होंने कहा कि मोदी यू आर ग्रेट, व्हाट अ स्पीच यू हैव गिवेन. उनकी बात सुनकर मोदी ठहाके मारकर हंसने लगे, उनके पास बैठे फ़्रांस के राष्ट्रपति Emmanuel Macron ने भी मोदी की तारीफ की.

इन दोनों नेताओं ने मोदी के इजरायल दौरे की भी तारीफ की, उन्होंने कहा कि आपके दौरे की दुनिया भर में चर्चा हो रही थी, हम लोग भी आपको ही देख रहे थे, इतना सुनते ही मोदी और ठहाके मारकर हंसने लगे. वाकई में मोदी जहाँ भी जाते हैं लोगों को प्रभावित कर देते हैं, जिस सम्मलेन में जाते हैं वहां रौनक आ जाती है. 
2019 में BJP की जीत 100% तय मान रहा है इजरायल, तभी मोदी से कर रहा है पक्की दोस्ती, क्योंकि

2019 में BJP की जीत 100% तय मान रहा है इजरायल, तभी मोदी से कर रहा है पक्की दोस्ती, क्योंकि

israel-pm-benjamin-netanyahu-seeing-modi-bjp-vicroty-in-2019

आप भी सोच रहे होंगे कि आखिर इजरायल मोदी पर इतनी जान क्योंकि लुटा रहा है, जब 70 साल में कोई भारतीय प्रधानमंत्री इसलिए इजरायल नहीं गया क्योंकि वे सोचते थे मुस्लिम उन्हें वोट नहीं देंगे, आखिर इजरायल ने भारत से दोस्ती करने के लिए इतना रिस्क क्यों लिया, क्या इजरायल को पता नहीं है कि मोदी सरकार के कार्यकाल में सिर्फ 2 साल बचे हुए हैं, अगर दो साल बाद मोदी हार गए तो आने वाली सरकार फिर से इजरायल से दोस्ती करने में डरने लगेगी, हो सकता है इजरायल के साथ सभी समझौते रद्द कर दिए जाँय, इजरायल भी कांग्रेस के बारे में जानता है, उसे भी पता है कि 70 साल तक कोई कांग्रेसी प्रधानमंत्री इजरायल क्यों नहीं आया. कांग्रेस को किस बात का डर था जो उन्हें इजरायल आने से रोकती थी.

हम आपको बताते हैं कि इजरायल मोदी के साथ इतनी पक्की दोस्ती क्यों कर रहा है और भारत के साथ Make with India प्रोजेक्ट क्यों शुरू करने जा रहा है, बात ये है कि इजरायल 2019 में भी बीजेपी की बहुमत के साथ जीत देख रहा है, उसे 100 फ़ीसदी विश्वास है कि मोदी ही 2019 में चुनाव जीतेंगे और इजरायल के साथ सम्बन्ध जारी रहेंगे, इसीलिए उसनें 3 साल तक मोदी सरकार का इन्तजार किया और जब उसे पक्का विश्वास हो गया कि अब 2019 में मोदी को वापस आने से कोई नहीं रोक सकता तो उसनें मोदी पर डोरे डालने शुरू कर दिए.

आपको बता दें कि अगर 2019 में मोदी की वापसी होती है तो भारत और इजरायल की दोस्ती और मजबूत हो सकती है क्योंकि दोनों देशों की समस्याएँ के जैसी हैं, दोनों ही देश आतंकवाद की समस्या से पीड़ित हैं लेकिन इजरायल ने आतंकवाद से निपटने के लिए बहुत कठोर रणनीति अपनाई है, वहां आतंकियों को बिरयानी नहीं खिलाई जाती बल्कि ख़त्म कर दिया जाता है. इजरायल आतंकवादियों को ढूंढ ढूंढ कर मारता है और इस काम में वहां का विपक्ष भी साथ देता है लेकिन भारत का विपक्ष आतंकवादियों के साथ खड़ा हो जाता है.

इजरायल जानता है कि एक जैसी समस्या से पीड़ित होने के कारण दोनों देश एक दूसरे की मदद कर सकते हैं, एक टैलेंट में आगे है तो दूसरा टेक्नोलॉजी का बादशाह है, भारत के पास मैनपावर है तो इजरायल के पास टेक्नोलॉजी, अगर दोनों देश एक साथ मिल गए तो कमाल हो जाएगा.

इजरायल को 100 फ़ीसदी विश्वास है कि 2019 में मोदी की वापसी होगी और उसके साथ व्यापारिक सम्बन्ध जारी रहेंगे, इसीलिए बेंजामिन नेतनयाहू मोदी के साथ पक्की दोस्ती कर रहे हैं, कल इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू ने एक फोटो पर मोदी के लिए लिखा - प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, विथ डीपेस्ट फ्रेंडशिप ऑन योर हिस्टोरिक विजिट को इजरायल. मोदी ने भी इस फोटो को रि-ट्वीट किया और इतना प्यार करने के लिए उन्हें धन्यवाद दिया.

Jul 7, 2017

पढ़ें, भारत और इजरायल की दोस्ती से क्यों उड़ गयी है चीन की नींद, क्यों लगा बर्बाद होने का डर

पढ़ें, भारत और इजरायल की दोस्ती से क्यों उड़ गयी है चीन की नींद, क्यों लगा बर्बाद होने का डर

why-china-worry-on-india-israel-friendship-why-is-his-loss

अगर आपको पता नहीं है तो जान लीजिये, भारत ने इजरायल के साथ दोस्ती चीन पर लगाम लगाने के लिए की है इसलिए दोनों की दोस्ती से चीन ही अबसे अधिक परेशान है, अगर ये कहें कि भारत और इजरायल की दोस्ती से चीन की नींद उड़ गयी है और उसे अपने बर्बाद होने का डर सता रहा है तो गलत नहीं होगा.

आपने देखा होगा कि भारत और इजरायल ने IT और IT का फ़ॉर्मूला दिया है, जिसका मतलब है Israel की Technology और India के Talent को साल जोड़कर काम करना.

Israel ये मानता है कि भारत के लोगों में Talent है, जबकि India ये मानता है कि Israel Technology में आगे हैं, अगर टैलेंट और टेक्नोलॉजी साथ मिलकर काम करेंगे तो दोनों देशों की तस्वीर बदल जाएगी.

चीन का क्या नुकसान है

वर्तमान में चीन को टेक्नोलॉजी के मामले में काफी तेज माना जाता है लेकिन इजरायल ने टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में चीन को पीछे छोड़ दिया है, टेक्नोलॉजी बेचने के लिए चीन के लिए भारत सबसे बड़ा बाजार है, मतलब टेक्नोलॉजी को डेवेलोप करके चीन उसे भारत के बाजारों में बेचता है जिसे भारत के लोग China Mall कहते हैं. चीन भारत के बाजारों से अँधाधुंध कमाई करता है और भारत में कालेधन को बढ़ावा देता है क्योंकि व्यापारी लोग चीन के सस्ते सामानों को बेचकर करोड़ों कमाते हैं लेकिन सरकार को टैक्स नहीं देते जिसकी वजह से वे कालाधन जमा कर लेते हैं और देश को भी कोई फायदा नहीं होता.

एक तरह से ये कहें कि भारत चीन का बाजारू गुलाम बन चुका है तो गलत नहीं होगा, आप अगर बाजार में जाएँ तो देखेंगे - बर्तन भी चीन का, टिपिन भी चीन का, टीवी भी चीन का, मोबाइल भी चीन का, मोबाइल का हर सामान चीन का, आलमारी चीन की, इलेक्ट्रॉनिक सामान चीन का, खिलौने चीन के, पढ़ाई लिखाई की चीजें चीन का, पेन चीन का, कंप्यूटर चीन का, मतलब हर चीज चीन की मिलेगी.

भारत को अगर चीन की गुलामी से मुक्त होना है तो इजरायल जैसे देशों से दोस्ती करनी पड़ेगी जिसकी टेक्नोलॉजी चीन से भी बढ़िया है, अगर इजरायल भारत में ही उत्पादन शुरू कर देगा तो धीरे धीरे चीन के सामानों पर निर्भरता ख़त्म हो जाएगी और भारत अपना बाजार खड़ा करेगा, अगर ऐसा हुआ तो चीन का बहुत आर्थिक नुकसान होगा क्योंकि इस वक्त चीन भारत के बाजारों पर निर्भर है, अगर एक बार चीन के सामान भारत के बाजारों से बाहर हो गए तो चीन बर्बाद हो जाएगा.

चीन इसीलिए भारत और इजरायल की दोस्ती से डर रहा है, उसे पता है कि अब इजरायल भारत के साथ पार्टनरशिप करके 'Make with India' प्रोजेक्ट शुरू कर रहा है जिसमें भारत में इन्वेस्ट करके उत्पादन शुरू किया जाएगा, चीन अपनी बर्बादी देख रहा है इसलिए भारत को धमकी दे रहा है. कांग्रेसियों को मोदी की यह रणनीति समझनी चाहिए और चीन से डरना नहीं चाहिए क्योंकि भारत आज चीन को टक्कर देने की पोजीशन में है.

Jul 6, 2017

चीयर्स बोलकर मोदी ने चुश्कियाँ लेकर पीया ये चीज: पढ़ें क्या

चीयर्स बोलकर मोदी ने चुश्कियाँ लेकर पीया ये चीज: पढ़ें क्या

pm-modi-drink-water-saying-cheers-in-israel-water-treatment-plant

आज प्रधानमंत्री मोदी की जिन्दगी का सबसे अहम दिन रहा, आपने अब तक मोदी को किसी बीच पर जाते हुए नहीं देखा होगा लेकिन आज वे अपने दोस्त प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू के साथ बीच पर गए, समुंदर में घुसे और लहरों का आनंद लिया हालाँकि मोदी समुंदर में अन्दर तक जाने का साहस नहीं जुटा पाए ऐसा इसलिए क्योंकि लहरें बहुत तेज थीं और मोदी ने सोचा कि हो सकता है ये लहरें उन्हें बहा ले जाए.

आज मोदी इजरायल की एडवांस टेक्नोलॉजी का परिचायक मोबाइल वाटर ट्रीटमेंट प्लांट देखने के लिए डोर बीच पर गए थे, यह मोबाइल वाटर ट्रीटमेंट प्लांट एक जीप के जैसा है जिसमें मशीन फिट की गयी है, यह ऐसे टेक्नोलॉजी है जो समुंदर के भी जल को फ़िल्टर करके शुद्ध पानी बना देती है.
mobile-water-treatment-plant-at-dor-beach

आज मोदी ने खुद अपनी आँखों से इस टेक्नोलॉजी का जायजा लिया और जीप में बैठने का अनुभव भी लिया, स्वयं प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू ने जीप को ड्राइव किया.

इजरायल के वैज्ञानिकों ने मोदी को उनकी आँखों के सामने समुंदर का पानी फ़िल्टर करके दिखाया और वहां मौजूद सभी लोगों को ग्लास में पीने के लिए पानी दिया गया, सबने चीयर्स बोला और चुश्कियाँ लेकर पानी पीया, मोदी ने भी मजे लेकर पानी पिया. देखिये फोटो -
pm-modi-drink-water-in-israel

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मोदी डोर बीच पर वाटर फ़िल्टरेशन प्लांट का जायजा लेने ही गए थे, कहा जाता है कि यह प्लांट हर तरह के पानी को साफ़ कर देता है, इसका इस्तेमाल सूखा पड़ने पर पानी की कमी पूरी करने के लिए किया जाता है, इजरायल सूखाग्रस्त क्षेत्र है इसलिए वह इसी प्लांट से अपनी प्यास बुझाता है. भारत इसे खरीदने पर विचार कर रहा है ताकि समुद्र तट पर तैनात सैनिकों के लिए पानी का पानी आसानी से उपलब्ध कराया जा सके.

मोदी ने इस प्लांट का जायजा लेने के बाद अपना अनुभव साझा करते हुए कहा, यह फ़िल्टर प्लांट वाकई में बेमिशाल है, सूखाग्रस्त इलाकों में यह बहुत काम की चीज है, यह प्राकृतिक आपदा के समय भी पीने का पानी उपलब्ध करा सकती है, मैंने आज अपनी आँखों से इसे देखा है और इसका पानी भी पिया है, इजरायल ने वाकई में कमाल कर दिया है. देखें VIDEO
बेंजामिन नेतनयाहू ने कहा, मेरे दोस्त मोदी के साथ बीच पर जाने से बढ़कर कोई ख़ुशी नहीं

बेंजामिन नेतनयाहू ने कहा, मेरे दोस्त मोदी के साथ बीच पर जाने से बढ़कर कोई ख़ुशी नहीं

pm-narendra-modi-and-benjamin-netanyahu-at-dor-beach-israel
आज इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू ने भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ डोर बीच का दौरा किया, यहाँ पर मोदी इजरायल के वाटर फ़िल्टरेशन प्लांट का जायजा लेने गए थे, कहा जाता है कि यह प्लांट हर तरह के पानी को साफ़ कर देता है, इसका इस्तेमाल सूखा पड़ने पर पानी की कमी पूरी करने के लिए किया जाता है, इजरायल सूखाग्रस्त क्षेत्र है इसलिए वह इसी प्लांट से अपनी प्यास बुझाता है.

इस मौके पर बेंजामिन नेतनयाहू और प्रधानमंत्री मोदी ने बीच की सैर की, दोनों कॉमन मैन की तरह पानी में चले गए और समुंदर की लहरों का आनंद लेते रहे, दोनों नेता करीब आधे घंटे तक पानी में ही खड़े रहे और बातचीत करते रहे.

बीच से वापस आने के बाद इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू ने ट्वीट किया 'दोस्त मोदी के साथ बीच पर घूमने से बढ़कर कुछ नहीं था. उन्होंने मोदी के साथ फोटो भी शेयर की. बाद में दोनों का VIDEO सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. देखें VIDEO