Showing posts with label India. Show all posts
Showing posts with label India. Show all posts

Oct 22, 2017

मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने बनाया राहुल गाँधी का मजाक, इनकी तो लोकप्रियता भी फर्जी निकली

मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने बनाया राहुल गाँधी का मजाक, इनकी तो लोकप्रियता भी फर्जी निकली

mantri-kp-gurjar-make-fun-of-rahul-gandhi-for-twitter-farji-re-tweet

राहुल गाँधी एक बार फिर से मजाक का विषय बन गए हैं क्योंकि उनकी के और शर्मनाक चालाकी पकड़ी गयी है, इस बात के लिए केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने राहुल गाँधी का मजाक उड़ाते हुए कहा है कि इनकी ट्विटर पर लोकप्रियता भी फर्जी निकली, भारत से अधिक इनके चाहने वाले कजाकिस्तान में हैं और वो भी नकली, जिन्हें कंप्यूटर की भाषा में बोट्स कहा जाता है.

krishan-pal-gurjat-make-fun-of-rahul-gandhi

बात दरअसल ये है कि राहुल गाँधी ट्विटर पर चालाकी से लोकप्रियता हासिल कर रहे हैं, वह विदेशी कंपनी को पैसा देकर अपने ट्वीट को रि-ट्वीट करवाते हैं ताकि वजनदार नेता दिख सकें, उनके ट्वीट को रि-ट्वीट करने वाले अधिकतर लोग कजाकिस्तान, इंडोनेशिया और रूस के हैं. मतलब राहुल गाँधी के ट्वीट भारतीयों से अधिक कजाकिस्तान के लोग रि-ट्वीट करते हैं. उनकी चोरी बीजेपी वालों ने पकड़ ली और अब राहुल गाँधी का जमकर मजाक उड़ाया जा रहा है.

rahul-gandhi-tweet-re-tweet-by-bots-in-kazakhstan

Oct 21, 2017

मोदी सरकार का फायदा होगा यह सोचकर राहुल गाँधी कजाख्स्तान, रूस, इंडोनेशिया में उड़ा रहे हैं पैसा

मोदी सरकार का फायदा होगा यह सोचकर राहुल गाँधी कजाख्स्तान, रूस, इंडोनेशिया में उड़ा रहे हैं पैसा

rahul-gandhi-automated-bot-re-tweet-from-kazakh-indonesia-russia

चुनावों का एक फायदा यह भी होता है कि राजनीतिक पार्टियाँ अथाह पैसा खर्च करती हैं, गड़ा हुआ कालाधन भी बाहर आ जाता है, हजारों लोगों को चुनाव प्रचार में पैसे मिलते हैं, बैनर, पोस्टर, ऑटो-रिक्शा, टेंट वालों की अथाह कमाई होती है, अर्थव्यवथा में पैसा बढ़ता है, सरकार का टैक्स कलेक्शन बढ़ता है, जीडीपी बढती है और सरकार को विकास के लिए पैसे मिलते हैं.

क्या आप सोच सकते हैं कि भारत का कोई नेता ऐसा भी सोच सकता है कि मैं भारत में पैसा खर्च करूँगा तो भारत सरकार का फायदा होगा, मोदी सरकार को टैक्स मिलेगा इससे अच्छा है कि मैं विदेशी देशों में पैसा खर्च करूँ, वहां की कंपनियों को पैसा दूं ताकि मेरे देश का फायदा ना हो सके. राहुल गाँधी ऐसा ही सोचते हैं.

राहुल गाँधी खुद को पॉपुलर नेता बनाने के लिए भारत में नहीं बल्कि कजाख्स्तान, इंडोनेशिया और रूस में पैसे खर्च कर रहे हैं, इन्होने विदेशी कंपनियों को पैसा दे रखा है और वहां से इनके ट्वीट को बोट (आटोमेटिक प्रोग्राम) द्वारा रि-ट्वीट किया जता है ताकि देश के लोगों को लगे कि राहुल गाँधी के ट्वीट को बहुत रि-ट्वीट किया जा रहा है, ये तो ग्लोबल लीडर बन गया, ये तो मोदी से भी बड़ा लीडर बन रहा है.

राहुल गाँधी पैसे खर्च करके ट्वीट को रि-ट्वीट कराएं, इससे किसी को कोई दिक्कत नहीं लेकिन अगर वह यही पैसा भारत के युवाओं को दे दें, युवाओं को नौकरी देकर, उन्हें पैसे देकर अपने ट्वीट-को रि-ट्वीट कराएं तो वे हजारों लोगों को रोजगार दे सकते हैं और भारत सरकार का भी फायदा होगा, देश की GDP बढ़ेगी लेकिन राहुल गाँधी पहले ऐसे नेता हैं जो चाहते हैं कि कहीं देश की GDP ना बढ़ जाए, इसलिए मैं विदेशों में पैसे खर्च करूँगा.

राहुल गाँधी ने 15 अक्टूबर को डोनाल्ड ट्रम्प को लेकर मोदी के खिलाफ ट्वीट किया था, जिसके बाद कजाख्स्तान, रूस और इंडोनेशिया ने रि-ट्वीट होने लगे, देखते ही देखते 30 हजार लोगों ने रि-ट्वीट कर दिया, लोग हैरान हो गए कि राहुल गाँधी को कब से लोग इतने सीरियसली लेने लगे, बाद में बता चला कि यह तो बोट यानी कंप्यूटर प्रोग्राम का कमाल है.


ये रहे राहुल गाँधी के ट्वीट को रि-ट्वीट करने वालों के लिंक, इस लिंक पर क्लिक करके आप स्वयं देख सकते हैं, कहावत है मान ना मान, मैं तेरा मेहमान, कजाख्स्तान वाले ना तो राहुल गाँधी की भाषा समझते हैं, ना बोली समझते हैं उसके बाद भी उनके ट्वीट को रि-ट्वीट किये जा रहे हैं जिसका मतलब है कि उन्हें रि-ट्वीट करने के लिए मोटा माल दिया गया है.

https://twitter.com/charlot34583589
https://twitter.com/pkbjdasjyesc557
https://twitter.com/lawannapuchajd9
https://twitter.com/yrlkamcsmc1507

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 2019 लोकसभा चुनाव जितवाने का ठेका भी राहुल गाँधी ने अमेरिका की बड़ी कंपनी Cambridge Analytica को दिया है, यह वही कंपनी है जिसनें डोनाल्ड ट्रम्प को चुनाव जितवाया था, राहुल गाँधी को उसी दिन यह कंपनी भा गयी थी जिस दिन उन्हें पता चला था कि डोनाल्ड ट्रम्प ने चुनाव जितवाने का ठेका इसी कंपनी को दिया था.

यह कंपनी सोशल मीडिया पर लोगों की प्रोफाइलिंग करती है, पता लगाती है कि लोगों को क्या पसंद है और क्या नहीं पसंद है, लोगों की पसंद का डेटा तैयार करती है और उसी के आधार पर उन्हें चीजें परोसी जाती हैं, मान लीजिये आप कल तक मोदी के प्रशंसक थे लेकिन अचानक GST की वजह से आपको नुकसान हो गया और आप मोदी के विरोधी बन गए, कंपनी समझ जाएगी कि आप क्यों मोदी के विरोधी बन गए, उसके बाद कंपनी वही तरीका अपनाकर अन्य लोगों को भी मोदी विरोधी बना देगी और धीरे धीरे मोदी लहर ख़त्म कर देगी.

राहुल गाँधी विदेशों में ऐसे ही नहीं घूम रहे हैं, कह 2019 चुनाव की पूरी तैयारी कर रहे हैं, छल, कपट, धन बल, कुछ भी खर्च करके वह 2019 में ही दिल्ली की सत्ता पर काबिज होना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने अमेरिका की Cambridge Analytica को चुनाव जितवाने का ठेका दे दिया है.

Oct 20, 2017

वीरू से बोले बिजेंदर, तने खेलना छोड़ दिया हमने देखना छोड़ दिया, बैटरी धर के देखते थे तेरा मैच

वीरू से बोले बिजेंदर, तने खेलना छोड़ दिया हमने देखना छोड़ दिया, बैटरी धर के देखते थे तेरा मैच

bijedner-singh-wish-virender-sehwag-happy-birthday-20-october

आज भारत के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का जन्मदिन है, हर कोई उनके जन्मदिन की शुभकामनाएं व्यक्त कर रही है, उन्हें बधाई दे रहा है. भारत के बाक्सिंग चैम्पियन बिजेंदर सिंह ने भी उन्हें बधाई दी लेकिन उनका अंदाज विल्कुल अलग था.

उन्होंने कहा कि - तने खेलना छोड़ दिया हमने देखना छोड़ दिया ना तो वो भी जमाना था जिब भाई की बैटिंग ट्रैक्टर की बैटरी धर के देखा करते, हैप्पी बर्थडे बीरेंद्र सहवाग.


आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज वीरेंद्र सहवाग का 39वां जन्मदिन है. उन्हने दोस्तों और प्रशसंकों की तरफ से बधाइयों का तांता लगा हुआ है.

वीरेंद्र सहवाग भारत के सबसे धाकड़ बल्लेबाज माने जाते हैं, उनकी बैटिंग से बड़े बड़े गेंदबाजों का पसीना छूट जाता था, जब वे अपने फॉर्म में बैटिंग करते थे तो सिर्फ चौके छक्कों से बात करते थे.

Oct 18, 2017

अनिल कुंबले के बर्थडे पर BCCI ने किया ऐसा ट्वीट कि करना पड़ा डिलीट, पढ़ें क्या लिख दिया

अनिल कुंबले के बर्थडे पर BCCI ने किया ऐसा ट्वीट कि करना पड़ा डिलीट, पढ़ें क्या लिख दिया

bcci-deleted-tweet-on-anil-kumble-birthday-read-why-18-october

अनिल कुंबले भले ही भारत के सबसे सफल गेंदबाज रहे हों लेकिन वे भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान भी रहे हैं, बल्लेबाज भी रहे हैं और एक साल तक हेड कोच भी रहे हैं. कल उनका हैप्पी बर्थडे था, उन्हें विश करने के लिए BCCI ने ट्वीट किया जिसमें अनिल कुंबले को सिर्फ गेंदबाज बताया गया, BCCI यह भूल गया कि अनिल कुंबले कप्तान और कोच भी रह चुके हैं.

BCCI के इस ट्वीट को देखते ही अनिल कुंबले के चाहने वालों ने BCCI को जमकर फटकार लगा दी. जब BCCI को अपनी गलती का अहसास हुआ तो उन्होने फटाफट ट्वीट को डिलीट कर दिया और फिर से ट्वीट किया. 

पुराना ट्वीट डिलीट करने के बाद BCCI ने दोबारा ट्वीट किया जिसमें कहा - टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और लीजेंड अनिल कुंबले को हैप्पी बर्थडे. #HappyBirthdayJumbo.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अनिल कुंबले ने बिना थके और बिना आराम किये 132 टेस्ट और 271 वनडे क्रिकेट मैच खेले हैं. उन्होंने 2008 में रिटायरमेंट लिया था. उन्होंने 619 टेस्ट विकेट लिए हैं, वे विश्व के दूसरे गेंदबाज हैं जिन्होंने टेस्ट में एक पारी के सभी 10 विकेट लिए हैं.

Oct 15, 2017

मोदी सरकार अब वैज्ञानिकों से बनवाएगी प्रदूषण मुक्त पटाखे, सुप्रीम कोर्ट भी नहीं कर पाएगा बैन

मोदी सरकार अब वैज्ञानिकों से बनवाएगी प्रदूषण मुक्त पटाखे, सुप्रीम कोर्ट भी नहीं कर पाएगा बैन

modi-sarkar-appeal-scientists-to-make-pollution-free-fire-crackers

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली और एनसीआर में पटाखों की विक्री पर बैन लगा दिया है जिसकी वजह से बच्चों के मुंह लटक गए हैं, दीवाली को लेकर बच्चों का क्रेज ख़त्म हो रहा है जिसे लेकर मोदी सरकार भी परेशान है इसलिए कल मोदी सरकार ने भारतीय वैज्ञानिकों से आवाहन किया है कि वे प्रदूषण मुक्त पटाखे बनाएं जिसे सुप्रीम कोर्ट भी ना बैन कर पाए.

कल केंद्रीय साइंस एंड टेक्नोलॉजी मंत्री हर्षवर्धन सिंह ने सभी वैज्ञानिकों को प्रदूषण मुक्त पटाखा बनाने की चुनौती दी, उन्होने कहा कि प्रदूषण मुक्त पटाखों से प्रदूषण मुक्त आतिशबाजी होगी, केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने भी कहा कि प्रदूषण मुक्त पटाखे बनाकर हमारे वैज्ञानिक देश को प्रदूषण मुक्त बनाने में सहयोग जरूर करेंगे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस दीवाली पर पटाखा बैन करके सुप्रीम कोर्ट यह देखना चाहता है कि इससे दिल्ली एनसीआर के प्रदूषण पर कितना असर पड़ता है. अगर प्रदूषण का स्तर ठीक रहा तो सुप्रीम कोर्ट हमेशा के लिए पटाखों पर बैन कर देगा, अगर प्रदूषण का स्तर बैन करने के बाद भी बढ़ा तो कुछ और रास्ता निकालना पड़ेगा.