Showing posts with label Haryana. Show all posts
Showing posts with label Haryana. Show all posts

Feb 20, 2018

अशुभ रहा सपना चौधरी का फिल्मों का सफ़र, पहली फिल्म में कॉपीराईट केस में फंसी, 7 करोड़ का नोटिस

अशुभ रहा सपना चौधरी का फिल्मों का सफ़र, पहली फिल्म में कॉपीराईट केस में फंसी, 7 करोड़ का नोटिस

sapna-chaudhary-first-movie-copyright-case-for-rs-7-crore-vikas-kumar

नई दिल्ली: हरियाणा की सुपरस्टार डांसर और करोंड़ों दिलों की धड़कन सपना चौधरी अब मुश्किलों में घिरती नजर आ रही हैं. सपना चौधरी ने बिग बॉस से लौटकर बालीवुड फिल्म वीरे द वेडिंग में अभिनय किया है.

इस फिल्म में एक गाना है - हट जा ताऊ पाछे ने, मुझे तल्ली होकर नाचन दे, जिसको लेकर फिल्म डायरेक्टर और सपना चौधरी समेत 16 लोगों अपर कॉपीराईट का कामला दर्ज कराया गया है.

इन लोगों पर गाने की कॉपीराइट का मामला दर्ज कराकर सिंगर विकास कुमार ने 7 करोड़ का नोटिस भेजा है.  विकास का दावा है कि ‘हट जा ताऊ पाछे नै’ उनका गाना है, जो कई साल पहले गाया गया था और इसके कॉपीराइट भी उनके पास हैं। लेकिन इस गाने की रिलीज के वक्त उनसे कोई इजाजत नहीं ली गई.

आपको बता दें कि हरियाणा के सोनीपत के रहने वाले वाले सिंगर विकास कुमार 2006 में ‘हट जा ताऊ पाछे नै नाचन दे जी भर कै नै’ सॉन्ग गाया था। इस गाने से विकास पॉपुलर हुए थे। ये गाना हरियाणा ही नहीं पूरे देश में छा गया था और देश में शादियों में अन्य समारोह के दौरान ये गाना अब भी सुना जा सकता है। हाल में यही गाना एक फिल्म वीरे की वेडिंग में बजता दिखा जिस गाने में हरियाणा की सिंगर सपना चौधरी ने अभिनय किया है और सोशल मीडिया पर ये गाना हिट हो गया है। ये फिल्म  2 मार्च को रिलीज होगी। और ये एक रोमांटिक कॉमेडी है।

जानकारी के मुताबिक फिल्म में पुलकित सम्राट, जिमी शेरगिल, कृति खरबंदा, युविका चौधरी, सपना चौधरी सुप्रिया कर्णिक और सतीश कौशिक जैसे एक्टर्स काम कर रहे हैं। फिल्म के प्रोड्यूसर रजत बख्शी और प्रमोद कुमार हैं, डायरेक्टर आशु त्रिखा हैं इन सब के ऊपर विकास ने सात करोड़ का नोटिस ठोंका हैं.

देखिये सिंगर विकास के गाने का वीडियो

 
बॉबी कटारिया के टॉर्चर-पत्र से बढ़ा उसके समर्थकों का गुस्सा, खट्टर सरकार से CBI जांच की मांग

बॉबी कटारिया के टॉर्चर-पत्र से बढ़ा उसके समर्थकों का गुस्सा, खट्टर सरकार से CBI जांच की मांग

harmeet-singh-demand-cbi-enquiry-bobby-kataria-case-gurugram-police

गुरुग्राम: बॉबी कटारिया का टॉर्चर का पत्र सामने आने से उसके समर्थकों में गुरुग्राम पुलिस के खिलाफ काफी गुस्सा है, बॉबी कटारिया ने एक पत्र में गुरुग्राम पुलिस के 6 दिन के रिमांड में हुए टॉर्चर का खुलासा किया था जिसे सुनकर लोगों की रूह काँप जाती है.

बॉबी कटारिया ने पत्र के जरिये बताया है कि पुलिस रिमांड में उन्हें रात भर निर्वस्त्र रखकर मारा जाता था, उनकी टांगे फाड़ दी जाती थीं, उनके जाँघों पर एक एक क्विंटल का रोलर रखकर पैरों पर चलाया जाता था और उसपर एक दो पुलिस वाले बैठ जाते थे, उसके चेहरे पर पुलिस वाले थूकते थे और उसे चाटने के लिए बोलते थे, ऐसा ना करने पर पूरे परिवार को ख़त्म करने की धमकी देते थे, उसे लेडीज कपडे पहनाकर नाचने के लिए बोला जाता था, उसे दूर दूर से पुलिस वाले आकर पीटते थे और उसके शरीर पर थूक-कर चले जाते थे. उसके साथ हर तरह का टॉर्चर किया गया, जिसे उसनें सह लिया.

इतने खतरनाक टॉर्चर से बॉबी कटारिया के दिल में कई बार सुसाइड करने का विचार आया लेकिन उसके समर्थक और परिवार वाले उसकी आँखों में घूमने लगते थे इसलिए वह अपनी जान नहीं दे पाया.

बॉबी कटारिया की पीड़ा समझते हुए उसके समर्थक हरमीत सिंह खट्टर सरकार और हरियाणा के डीजीपी बीएस संधू से बॉबी कटारिया मामले की CBI जांच करने की मांग कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अगर बॉबी कटारिया ने किसी को गाली दी थी तो उसे उस गलती की सजा मिलनी चाहिए थी लेकिन उसके खिलाफ कई FIR दर्ज करके उसके इस तरह से टॉर्चर देने के मामले की जांच होनी चाहिए और दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्यवाही होनी चाहिए वरना कुछ गलत पुलिस वालों की वजह से पूरी हरियाणा पुलिस पर सवाल उठेंगे जो खट्टर सरकार के लिए सही नहीं होगा.

उन्होंने हरियाणा के डीजीपी बीएस संधू और भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी इस मीमले में कार्यवाही करने की मांग की. उन्होंने खट्टर से कहा कि आप हरियाणा के गृह मंत्री हैं इसलिए आपकी जिम्मेदारी बढ़ जाती है. इस मामले में तुरंत कार्यवाही करें, CBI जांच का आर्डर दे और दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्यवाही करें.

Feb 19, 2018

हाईकोर्ट के आदेश पर गुरुग्राम के सिविल हॉस्पिटल में हुआ बॉबी कटारिया का मेडिकल, CMO मौजूद

हाईकोर्ट के आदेश पर गुरुग्राम के सिविल हॉस्पिटल में हुआ बॉबी कटारिया का मेडिकल, CMO मौजूद

bobby-kataria-medical-test-in-gurugram-civil-hospital-high-court-order

गुरुग्राम: बॉबी कटारिया को 24 दिसम्बर को गुरुग्राम पुलिस ने अरेस्ट करके 6 दिन के रिमांड में लिया था. उसके साथ कथित तौर पर थर्ड डिग्री टॉर्चर किया गया था लेकिन उसका मेडिकल नहीं कराया गया और ना ही उसके घर वालों को मेडिकल रिपोर्ट सौंपी गयी. 

यह मामला अब पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में पहुँच चुका है, उसके वकील रवींद्र सिंह ढुल ने बॉबी कटारिया के पत्र के आधार पर गुरुग्राम पुलिस पर टॉर्चर का आरोप लगाया और बॉबी कटारिया की सम्पूर्ण बॉडी की मेडिकल की मांग की ताकि उसके शरीर की आन्तरिक चोटों का पता लगाया जा सके और उसे टॉर्चर करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ एक्शन लिया जा सके.

हाईकोर्ट के आदेशानुसाक आज गुरुग्राम के सिविल हॉस्पिटल में बॉबी कटारिया का मेडिकल परीक्षण किया गया, इस अवसर पर हाईकोर्ट के आदेशानुसार गुरुग्राम के CMO भी मौजूद थे. 

बॉबी कटारिया इस वक्त फरीदाबाद की नीमका जेल में बंद है, उसके खिलाफ फरीदाबाद में भी मामले दर्ज किये गए थे, अरावली स्कूल की प्रिंसिपल रीम रॉय ने उसके खिलाफ धमकी देने, जबरन वसूली का केस दर्ज कराया था, इसी मामले में उसे नीमका जेल में बंद किया गया है, इससे पहले गुरुग्राम पुलिस ने उसके खिलाफ मोबाइल चोरी और अन्य कई आरोप लगाकर 6 FIR दर्ज की और उसे 6 दिन की रिमांड में ले लिया.

बॉबी कटारिया ने पत्र के जरिये बताया है कि पुलिस रिमांड में उन्हें रात भर निर्वस्त्र रखकर मारा जाता था, उनकी टांगे फाड़ दी जाती थीं, उनके जाँघों पर एक एक क्विंटल का रोलर रखकर पैरों पर चलाया जाता था और उसपर एक दो पुलिस वाले बैठ जाते थे, उसके चेहरे पर पुलिस वाले थूकते थे और उसे चाटने के लिए बोलते थे, ऐसा ना करने पर पूरे परिवार को ख़त्म करने की धमकी देते थे, उसे लेडीज कपडे पहनाकर नाचने के लिए बोला जाता था, उसे दूर दूर से पुलिस वाले आकर पीटते थे और उसके शरीर पर थूक-कर चले जाते थे. उसके साथ हर तरह का टॉर्चर किया गया, जिसे उसनें सह लिया.

इतने खतरनाक टॉर्चर से बॉबी कटारिया के दिल में कई बार सुसाइड करने का विचार आया लेकिन उसके समर्थक और परिवार वाले उसकी आँखों में घूमने लगते थे इसलिए वह अपनी जान नहीं दे पाया.

अगर मेडिकल रिपोर्ट में टॉर्चर की बात साबित हो गयी तो गुरुग्राम पुलिस के कई अधकारियों पर मुसीबत आ सकती है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पर्सनल खुन्नस निकालने के लिए किसी को टॉर्चर नहीं किया जा सकता, अगर कोई ऐसा करता है तो उसे कानूनी आतंकवाद कहा जाता है और ऐसे अधिकारियों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जा सकता है.
बॉबी कटारिया के दर्दनाक टॉर्चर का पत्र पढ़ने वाले हरमीत सिंह को भी मिलने लगीं धमकियाँ, पढ़ें

बॉबी कटारिया के दर्दनाक टॉर्चर का पत्र पढ़ने वाले हरमीत सिंह को भी मिलने लगीं धमकियाँ, पढ़ें

harmeet-singh-threatened-for-helping-bobby-kataria-exposed-his-torture

गुरुग्राम: बॉबी कटारिया के सनसनीखेज पत्र से हरियाणा की राजनीति में भूचाल आ गया है और कई पुलिस वालों की नींद उड़ गयी है. बॉबी कटारिया का पत्र पढ़ा उनके समर्थक हरमीत सिंह ने जो लुधियाना के रहने वाले हैं. उनका आरोप है कि अब कुछ लोग उन्हें भी धमकियाँ दे रहे हैं. हरमीत सिंह ने कहा कि मैं बॉबी कटारिया की अच्छाई देखकर उसकी मदद करने आया हूँ, मेरे साथ जो होगा देखा जाएगा.

बॉबी कटारिया ने पत्र के जरिये बताया है कि पुलिस रिमांड में उन्हें रात भर निर्वस्त्र रखकर मारा जाता था, उनकी टांगे फाड़ दी जाती थीं, उनके जाँघों पर एक एक क्विंटल का रोलर रखकर पैरों पर चलाया जाता था और उसपर एक दो पुलिस वाले बैठ जाते थे, उसके चेहरे पर पुलिस वाले थूकते थे और उसे चाटने के लिए बोलते थे, ऐसा ना करने पर पूरे परिवार को ख़त्म करने की धमकी देते थे, उसे लेडीज कपडे पहनकर नाचने के लिए बोला जाता था, उसे दूर दूर से पुलिस वाले आकर पीटते थे और उसके शरीर पर थूक-कर चले जाते थे. उसके साथ हर तरह का टॉर्चर किया गया, जिसे उसनें सह लिया.

इतने खतरनाक टॉर्चर से बॉबी कटारिया के दिल में कई बार सुसाइड करने का विचार आया लेकिन उसके समर्थक और परिवार वाले उसकी आँखों में घूमने लगते थे इसलिए वह अपनी जान नहीं दे पाया.

हरमीत सिंह ने यह भी कहा कि बॉबी कटारिया ने काफी मेहनत करके 3 लाख फॉलोवर बनाए थे लेकिन अब सूचना आ रही है कि उसके पेज बंद किये जा सकते हैं. उन्होंने बॉबी के लिए एक नया पेज भी बनाया है.

Feb 18, 2018

दिलेर था बॉबी कटारिया जो हरियाणा पुलिस की 6 दिन की रिमांड में बच गया, हरिया 3 दिन में मर गया

दिलेर था बॉबी कटारिया जो हरियाणा पुलिस की 6 दिन की रिमांड में बच गया, हरिया 3 दिन में मर गया

bobby-kataria-alive-in-6-day-police-remand-but-hariya-dead-in-6-day

गुरुग्राम: आज हरियाणा के पलवल से सनसनीखेज खबर आयी है, पुलिस और प्रशासन की नाक में दम करने वाले बदमाश हरिया की पुलिस रिमांड में मौत हो गयी. कहा जा रहा है कि उसकी मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई है. हालाँकि कुछ लोग कह रहे हैं कि यह मौत पुलिस की थर्ड डिग्री से हुई होगी, खैर हरिया के लिए कोई दुखी होने वाला नहीं है क्योंकि वह बदमाश था, इसलिए शायद उसके लिए कोई खड़ा नहीं होगा.

हरिया की मौत से इतना तो साफ़ है हरियाणा पुलिस की रिमांड बहुत खतरनाक होती है, इनके टॉर्चर से किसी का बचना मुश्किल है लेकिन गुरुग्राम के समाजसेवक बॉबी कटारिया गुरुग्राम पुलिस की 6 दिन की रिमांड से बचकर जिन्दा निकल आये, उन्हें भी पुलिस ने चोरी का आरोप लगाकर 6 दिन के रिमांड में लिया था.

बॉबी कटारिया के पत्र के अनुसार 6 दिन में उन्हें इस कदर से टॉर्चर किया गया कि उनके मन में कई बार सुसाइड का ख्याल आया लेकिन उन्होने ऑंखें बंद करके पुलिस का हर जुल्म सह लिया. उनके पीछे दो बच्चे, बीवी, पिता, माँ और भाई भी थे, इसके अलावा उनके लाखों समर्थक भी थे, सुसाइड का विचार आते ही उनके मन में इन लोगों का ख्याल आ जाता था इसलिए उन्होंने जान देने का ख्याल निकाल दिया और इसी का नतीजा है कि आज वह जिन्दा हैं और अपने साथ हुए टॉर्चर को दुनिया के सामने ला रहे हैं.

लेकिन हरिया अपनी जान नहीं बचा पाया, वह बदमाश था, उसनें फरीदाबाद-पलवल में आतंक मचा रखा था, उसनें तीन दिन पहले ही सरेंडर किया था, पलवल पुलिस ने उसे 6 दिन की पुलिस रिमांड में लिया था लेकिन तीसरे दिन ही उसकी मौत की खबर आ गयी.

कहने का मतलब ये है बॉबी कटारिया बहुत हिम्मत वाला था जो हरियाणा पुलिस की 6 दिन की रिमांड से बचकर वापस आ गया जबकि हरिया की तीन दिन में ही मौत हो गयी.

बॉबी कटारिया बताते हैं कि पुलिस रिमांड में उन्हें रात भर निर्वस्त्र रखकर मारा जाता था, उनकी टांगे फाड़ दी जाती थीं, उनके जाँघों पर एक एक क्विंटल का रोलर रखकर पैरों पर चलाया जाता था और उसपर एक दो पुलिस वाले बैठ जाते थे, उसके चेहरे पर पुलिस वाले थूकते थे और उसे चाटने के लिए बोलते थे, ऐसा ना करने पर पूरे परिवार को ख़त्म करने की धमकी देते थे, उसे लेडीज कपडे पहनकर नाचने के लिए बोला जाता था, उसे दूर दूर से पुलिस वाले आकर पीटते थे और उसके शरीर पर थूक-कर चले जाते थे. उसके साथ हर तरह का टॉर्चर किया गया, जिसे उसनें सह लिया.

इतने खतरनाक टॉर्चर से बॉबी कटारिया के दिल में कई बार सुसाइड करने का विचार आया लेकिन उसके समर्थक और परिवार वाले उसकी आँखों में घूमने लगते थे इसलिए वह अपनी जान नहीं दे पाया.