Showing posts with label Haryana. Show all posts
Showing posts with label Haryana. Show all posts

Oct 23, 2017

कांग्रेसी MLA के मुंह से भद्दी भद्दी गा-लियां सुनकर पूरे देश को आएगी शर्म, मंत्री ने खोली पोल

कांग्रेसी MLA के मुंह से भद्दी भद्दी गा-लियां सुनकर पूरे देश को आएगी शर्म, मंत्री ने खोली पोल

krishan-pal-gurjar-exposed-faridabad-tigaon-congress-mla-lalit-nagar

फरीदाबाद: विपक्ष में रहते हुए भी कांग्रेस कांग्रेस नेता अपने ही क्षेत्र के आम आदमी को इतनी भद्दी भद्दी गालियाँ दे सकता है यह कोई सोच भी नहीं सकता, मोदी सरकार के मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने फरीदाबाद के तिगांव विधानसभा के विधायक ललित नागर पर बहुत बड़ा खुलासा किया है और उनकी ऑडियो दिखाया है जिसमें वे एक व्यक्ति को अपशब्द बोल रहे हैं और गुंडागर्दी दिखा रहे हैं. ललित नगर बोल रहे हैं कि बस तू जगह बता दें, वहीं आकर तुझे मारूंगा. देखिये यह वीडियो.



बात दरअसल यह है कि आज तिगांव के विधायक ललित नगर ने केंद्रीय राज्य मंत्री और फरीदाबाद के सांसद कृष्ण पाल गुर्जर के मामा पर गंभीर आरोप लगाए हैं, उन्होंने कहा है कि कृष्ण पाल गुर्जर के मामा उनकी शह पर जिले में दलाली, वसूली कर रहे हैं, बदमाशों से पैसे लेकर उन्हें बचा रहे हैं, उनकी वजह से शहर में लूट, हत्या, बदमाशी को बढ़ावा मिल रहा है, शहर क्राइम सिटी बनता जा रहा है.

इन आरोपों पर सफाई देते हुए मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने कहा कि ये लोग मुझ पर कीचड उछालना चाहते हैं इसलिए मैं इनके आरोपों पर कुछ बोलना नहीं चाहता क्योंकि कीचड में पत्थर मारने से कुछ छींटें मुझपर भी पड़ सकते हैं इसलिए मैं इससे दूर रहना चाहता हूँ लेकिन इनकी सच्चाई मैं दुनिया को दिखाना चाहता हूँ कि इनका चाल और चरित्र कैसा है, कैसे ये एक आम इंसान को गालियाँ दे रहे हैं, उसे मारने की धमकी दे रहे हैं, ये कांग्रेस का कल्चर है. इनका कल्चर है झूठे आरोप लगाना लेकिन हमारा कल्चर है विकास करना, जनता ने मुझे विकास के लिए चुना है और हम काम कर रहे हैं. मैं इनसे यही कहना चाहता हूँ कि मेरे मामा के खिलाफ कोई एक सबूत दिखा दें तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा.

Oct 21, 2017

अवतार भड़ाना को गंभीरता से नहीं लेते कृष्ण पाल गुर्जर, बताया नासमझ नेता, पढ़ें क्यों

अवतार भड़ाना को गंभीरता से नहीं लेते कृष्ण पाल गुर्जर, बताया नासमझ नेता, पढ़ें क्यों

krishan-pal-gurjar-told-avtar-singh-bhadana-is-not-se-serious-leader

फरीदाबाद के पूर्व कांग्रेसी सांसद और उत्तर प्रदेश के वर्तमान बीजेपी विधायक अवतार सिंह भड़ाना को फरीदाबाद के वर्तमान सांसद और केंद्र में सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर गंभीरता से नहीं लेते. गुर्जर ने आज पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मैं सिर्फ समझदार लोगों के सवालों का जवाब देता हूँ, उनके बयान पर मैं कोई प्रतिक्रिया नहीं देता. जब उनसे सवाल किया गया कि क्या फरीदाबाद के पूर्व सांसद को आप नासमझ मानते हैं तो गुर्जर से कहा कि - उनके बारे में यहाँ के सभी लोग जानते हैं, हर कोई जानता है कि वो यहाँ पर क्या करके गए हैं.

बात दरअसल ये है कि दिवाली के दिन फरीदाबाद के एक वरिष्ठ पत्रकार विजेंदर शर्मा को उनके पड़ोसियों ने पटाखा फोड़ने से रोकने पर पिटाई कर दी, उनके घर में घुसकर उनपर जान लेवा हमला किया गया, उनकी पत्नी पर भी हमला किया गया. उनका हाथ टूट गया, कई जगह फ्रैक्चर हो गया, सर में भी गंभीर चोटें आयीं. उन्हें फरीदाबाद के सिविल हॉस्पिटल (बीके) में भर्ती किया गया है.

कल अवतार भड़ाना से पत्रकार से मुलाक़ात की तो हॉस्पिटल की हालत देखकर भड़क गए, पत्रकार को जिस कमरे में रखा गया था वहां पर ना बिजली थी और ना ही पंखे चल रहे थे, यही नहीं वहां पर कोई डॉक्टर भी नहीं था, जब उन्होंने CMO से संपर्क करने की कोशिश की तो वह भी अस्पताल में नहीं थे, अवतार भडाना से तुरंत ही स्वास्थय मंत्री अनिल विज से बात की और अस्पताल की बदहाल हालत से अवगत कराया.

उसके बाद अवतार भड़ाना से कहा कि शहर में अपराध बढ़ते जा रहे हैं, पहले यह बाबा फरीद की नगरी थी लेकिन अब अपराध की नगरी बनती जा रही है, उन्होंने कहा कि पत्रकार को मारने वाले लोगों को कोई मामा बचा रहा है, मामा ने पुलिस वालों को फोन किया और पुलिस वालों ने केस को हल्का बना दिया, इस मामले में 307, 308 की धाराएं लगनी थी लेकिन पुलिस ने यह धाराएं नहीं लगाईं जबकि ऐसे ही एक मामले में जब पुलिस वाले पर हमला हुआ तो अपराधियों के खिलाफ धारा 307 लगा दी गयी.

अवतार भड़ाना से कहा कि अपराधियों को मामा बचा रहा है, मैं सरकार से आग्रह करता हूँ कि इस मामा का पता लगाए वरना यह पार्टी की इज्जत की धज्जियाँ उड़ा देगा, फरीदाबाद के जन मानस परेशान हैं, मैं मोदीजी के सामने भी इस मामा का प्रश्न उठाऊंगा.

जब कृष्ण पाल गुर्जर से मामा के बारे में सवाल किया गया तो उन्होने अवतार सिंह भड़ाना जो उनकी ही पार्टी से विधायक हैं, उन्हें नासमझ नेता बता दिया, गुर्जर ने कहा कि मैं ऐसे नासमझ लोगों के सवालों का जवाब देना मुनासिब नहीं समझता. लेकिन इस मामले के अपराधियों पर कड़ी कार्यवाही का भरोसा जरूर देता हूँ.
मंत्री अनिल विज ने ताजमहल को बताया खूबसूरत कब्रिस्तान, घर में इसका मॉडल रखना असुभ

मंत्री अनिल विज ने ताजमहल को बताया खूबसूरत कब्रिस्तान, घर में इसका मॉडल रखना असुभ

taj-mahal-is-khoobsurat-kabristan-says-anil-vij-haryana-minister

ताज महल पर विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है, पहले उत्तर प्रदेश सरकार ने ताज महल को ऐतिहासिक धरोहरों की लिस्ट से बाहर निकाला, उसके बाद बीजेपी विधायक संगीत सोम ने इसे मुगलों की कलंक कथा का नाम दे दिया और अब बीजेपी के ही एक वरिष्ठ नेता और हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने ताजमहल को एक खूबसूरत कब्रिस्तान बता दिया है.

वैसे अनिल विज का कहना गलत नहीं है क्योंकि ताज महल वाकई में एक कब्रिस्तान है उसे शाहजहाँ ने अपनी पहली पत्नी मुमताज की याद में बनवाया था और उन्हें इसी स्थान पर दफ़न किया गया था. जिस जगह पर किसी को दफ़न किया जाता है उस स्थान को भारत में कब्रिस्तान कहा जाता है.

अनिल विज ने ताज महल की तारीफ करते हुए इसे खूबसूरत कब्रिस्तान बताया साथ ही यह भी कहा कि क्योंकि यह कब्रिस्तान है इसलिए लोग घरों में इसका मॉडल या चित्र रखना अशुभ मानते हैं.

taj-mahal-is-a-khoobsurat-kabristan

ना बिजली, ना पानी, BK अस्पताल बदहाल देखकर भड़के BJP MLA अवतार भड़ाना, खोली खट्टर सरकार की पोल

ना बिजली, ना पानी, BK अस्पताल बदहाल देखकर भड़के BJP MLA अवतार भड़ाना, खोली खट्टर सरकार की पोल

bjp-mla-avtar-singh-badana-visit-bk-hospital-exposed-khattar-sarkar

आज खट्टर सरकार की पोल खुल गयी, पोल खोलने वाले भी BJP के विधायक निकले. आज एक पत्रकार से मिलने के लिए फरीदाबाद के पूर्व सांसद और मीरपुर उत्तर प्रदेश के BJP विधायक अवतार सिंह भडाना शहर के बीके सरकारी अस्पताल पहुंचें. आपको बता दें कि कुछ लोगों ने पत्रकार बिजेंदर शर्मा को पटाखा फोड़ने से रोकने पर उनके घर में घुसपर पीट दिया था, उन्हें इलाज के लिए बीके अस्पताल में भर्ती किया गया है. अवतार भड़ाना जब उनसे मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे तो बदहाल हालत देखकर भड़क गए.

अस्पताल में ना बिजली थी, ना पानी था, ना साफ़-सफाई थी और ना ही पंखे चल रहे थे. अवतार भड़ाना से यह देखा नहीं गया, वे पूर्व में फरीदाबाद के सांसद भी रह चुके हैं इसलिए उन्होंने तुरंत ही हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से बात की.

उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री को बताया कि - यहाँ पर एक पत्रकार, एक पुलिस और एक डॉक्टर को मारा पीटा गया है, सभी लोग यहाँ पर भर्ती हैं, अस्पताल में यह हालत है कि यहाँ पर ना डॉक्टर हैं, ना CMO हैं, ना PMO हैं, ना लिफ्ट है, यहाँ तक कि रूम में लाइट तक नहीं है. यहाँ पर जब पत्रकारों और पुलिस वालों की ऐसी हालत है तो यहाँ पर आने वाले फरीदाबाद के जन मानस के साथ क्या होता होगा.

उन्होंने कहा कि यहाँ पर हमारी सरकार है लेकिन इन्हें कैसे विश्वास दिलाएं कि हमारी सरकार में हम लोगों को न्याय मिलेगा. उन्होंने कहा कि आप यह पूछिए कि बिना लाइट और पंखे के उसे पूरी रात भगवान के रहमो-करम पर क्यों रखा गया.

उन्होंने कहा कि यहाँ पर एक डॉक्टर भी भर्ती है, एक पुलिस वाला भी भर्ती है, मैं आपने न्याय की उम्मीद करता हूँ मंत्री जी, आप अस्पताल की बदहाल हालत पर ध्यान दीजिये.

उन्होंने CMO को फोन पर कहा कि आप यहाँ पर जल्दी पहुँचिये तो ठीक होगा वरना ठीक नहीं होगा, उन्होंने कहा कि आज यहाँ पर जो कुछ भी हो रहा है, ना लाइट है, ना बिजली है, दोबारा ऐसा नहीं होना चाहिए वरना मुझे आपके खिलाफ सख्त कार्यवाही करनी पड़ेगी. मैं आपके साथ बहुत बुरा पेश आऊंगा. मैंने हेल्थ मिनिस्टर को बोल दिया है, मैं मुख्यमंत्री को भी बोलने जा रहा हूँ, फरीदाबाद के अस्पताल की ऐसी बुरी हालत है कि मैं इस शहर के लोगों को रहमों करम पर नहीं छोड़ना चाहता.

उन्होंने CMO को यह भी चेतावनी दी कि अगर पत्रकार की रिपोर्ट में तुम्हारे डॉक्टरों ने कुछ भी कमीं करने की कोशिश की तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा, यह 307 और 308 का मामला है, इनका क़त्ल करने की कोशिश की गयी, घटना के वक्त पुलिस को किसी मामा ने फोन किया और पुलिस वालों ने मामले को दबाने की कोशिश की.

डॉक्टर, पत्रकार और पुलिस, दिवाली पर जिसनें रोका, उसको फरीदाबाद के लोगों ने जमकर पीटा

डॉक्टर, पत्रकार और पुलिस, दिवाली पर जिसनें रोका, उसको फरीदाबाद के लोगों ने जमकर पीटा

faridabad-people-beaten-doctor-patrakar-and-police-for-patakha-bursting

फरीदाबाद, 21 अक्टूबर: दिवाली भारत का सबसे बड़ा त्यौहार है, दिवाली पर पटाखा फोड़ने का रिवाज है, खासकर बच्चों और युवाओं में पटाखा फोड़ने को लेकर बहुत क्रेज रहता है, इस बार दिल्ली एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट ने पटाखा बेचने पर प्रतिबन्ध लगाया था जिसकी वजह से लोग नाराज थे, लोगों ने जैसे-तैसे जुगाड़ करके पटाखे खरीदे और उसे जमकर फोड़ा. फरीदाबाद के लोगों ने भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ भड़ास निकालने हुए जमकर पटाखे फोड़े.

सुप्रीम कोर्ट पर लोगों ने पटाखा फोड़कर गुस्सा निकाला लेकिन कुछ ऐसे लोग भी गुस्से के शिकार बन गए जिन्होंने युवाओं को पटाखा फोड़ने से रोका, फरीदाबाद में पटाखा फोड़ने से रोकने पर एक डॉक्टर, एक पत्रकार और एक पुलिस असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर के साथ मार-पिटाई की गयी. 

कल रात में फरीदाबाद के 3 नंबर में ESI मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर राघवेंद्र ने अस्पताल के ही क्लर्कों को पटाखा फोड़ने से मना किया तो क्लर्क वीरेंद्र दहिया ने अपने साथियों के साथ मिलकर डॉक्टर की जमकर पिटाई की. इस मामले में आरोपी क्लर्क और उसके साथियों पर मार-पिटाई का मामला दर्ज कर लिया गया है.

इसी तरफ से नंगला एन्क्लेव में रहने वाले हरिभूमि अख़बार के ब्यूरो चीफ बीरेंद्र शर्मा की उनके पड़ोसियों ने घर में घुसकर पिटाई की, बिजेंद्र शर्मा ने उन्हें पटाखा फोड़ने से रोका जिसके बाद करीब 12-13 लोगों ने उनके घर में घुसकर उन्हें एवं उनकी पत्नी के साथ मार-पिटाई की, उन्हें काफी चोटें आयीं जिसकी वजह से उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया, इस मामले में भी FIR दर्ज हुई है और करीब 8 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

इसके बाद 3 नंबर में एक असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर जमील खान को भी पीट दिया गया, इन्होने भी गस्त के दौरान कुछ युवाओं को बाहर घूमने से रोका, उन्हें घर जाने के लिए कहा. इनका टोकना भी युवाओं को पसंद नहीं आया और इनकी भी जमकर पिटाई की गयी. इस मामले में भी FIR दर्ज की गयी है. जमीन खान को सिविल अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती किया गया है.

Oct 20, 2017

पढ़ें, दरोगा जमील खान को दिवाली पर क्यों धुना गया

पढ़ें, दरोगा जमील खान को दिवाली पर क्यों धुना गया

why-faridabad-police-asi-jameel-khan-beaten-by-unknown-on-diwali

फरीदाबाद, 20 अक्टूबर 2017:  दिवाली की रात जहाँ पटाखे चलाने से मना करने पर एक पत्रकार की उसके घर में घुसकर जमकर पिटाई की गयी वहीं NIT-2 में गश्त के दौरान शराब पीकर हुड़दंग कर रहे युवको को समझाना एक एएसआई को भारी पड़ गया.

युवको ने लाठी डंडो से आईएसआई पर हमला कर दिया। ANI के साथ एक और कांस्टेबल था लेकिन हमलावरों ने ASI पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया जिसके बाद उसे जिले के सरकारी अस्पताल में भर्ती करा दिया गया. पुलिसने घायल ASI का बयान दर्ज कर आरोपियों की तलाश में जुट गयी है।

आपको बता दें कि पीते गए ASI का नाम जमील खान है. दीवाली की रात जमील खान अपने एक मुलाजिम के साथ गश्त कर रहे थे, टाउन नंबर तीन में गश्त के दौरान जब एएसआई जमील ने कुछ युवको को शराब के नशे में हुड़दंग करते देखा तो उनके पास पहुंचे और उन्हें तुरंत घर जाने को कहा. इस पर शराब के नशे में धुत युवको ने लाठी- डंडो से एएसआई पर हमला कर दिया जिसके चलते वह गंभीर रूप से घायल हो गया.

हमले के बाद हमलावर फरार हो गए. घायल अवस्था में एएसआई जमील को हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया. मौके पर पहुंचे इलाके के एसएचओ ने जमील से उनका हाल चाल पूछा और हमलावरों के बारे में जानकारी ली. घायल एएसआई जमील ने बताया की बीती रात एक बजे कुछ युवक शराब पीकर हुड़दंग कर रहे थे जिस पर वह उनके पास गए और उन्हें घर जाने के लिये कहा इसी बात पर युवको ने उस पर हमला कर दिया।

घायल जमील का इलाज कर रहे डाक्टर उपेंद्र ने बताया कि उन्हें कई अंदरूनी चोटे भी आयी है जिसके लिए उनका एक्सरे और सिटी स्कैन करवाया जाएगा। उनका इलाज शुरू कर दिया गया है. जल्द ही वह स्वस्थ हो जाएंगे. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कल रात एक पत्रकार को भी नंगला एन्क्लेव में पीटा गया था.
प्याली चौक पर खुलेआम बिके पटाखे, फरीदाबाद वालों ने जमकर आतिशबाजी करके मनायी दिवाली, VIDEO

प्याली चौक पर खुलेआम बिके पटाखे, फरीदाबाद वालों ने जमकर आतिशबाजी करके मनायी दिवाली, VIDEO

patakha-sale-on-pyali-chowk-faridabad-diwali-celebration-photo-video

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली एनसीआर में पटाखों की विक्री पर बैन लगाया था हालाँकि पटाखा फोड़ने, खरीदने और कहीं से खरीदकर लाने पर बैन नहीं था इसलिए लोगों ने शहर में ढूंढ ढूंढ कर पटाखे खरीदे और पटाखा बेचने वालों ने भी पुलिस प्रशासन की आँखों में धुल झोंककर जमकर पटाखे बेचे.

शहर की प्याली चौक पर जहाँ हर बार पटाखों का मेला लगता था, इस बार भी वहां पर पटाखे बेचे गए लेकिन पुलिस वालों ने उन्हें नहीं रोका, चौक पर एक कांस्टेबल खड़ा था उसके बावजूद भी पटाखे बेचने वाले पटाखे बेच रहे थे, ऐसा लगता था कि पटाखा बेचने वालों ने उसके साथ साठ-गाँठ कर ली हो. 

कहने का मतलब ये है कि फरीदाबाद वालों को पटाखा खरीदने में कोई परेशानी नहीं हुई और पटाखा बेचने वालों को भी ख़ास दिक्कत नहीं हुई, शाम को शहर के लोगों ने जमकर आतिशबाजी की और सुप्रीम कोर्ट को ठेंगा दिखाते हुए जमकर आतिशबाजी की.

व्यक्ति ने अपने रिश्तेदार से कहा, बिदाई और मिठाई मत भेजना, कहीं से बम खरीदकर भेज देना, दया करो

व्यक्ति ने अपने रिश्तेदार से कहा, बिदाई और मिठाई मत भेजना, कहीं से बम खरीदकर भेज देना, दया करो

faridabad-man-ask-relatives-to-arrange-bomb-instead-of-gift-mithai

सुप्रीम कोर्ट ने दिवाली पर दिल्ली एनसीआर में पटाखों की विक्री पर बैन लगा दिया है जिसकी वजह से दिवाली पर पटाखा खरीदनें में लोगों के पसीनें छूट रहे हैं, पिछली बार दिवाली के दिन किसी भी बाजार में जाकर पटाखे खरीद लाते थे लेकिन इस बार 11 दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने पटाखा विक्री पर बैन लगा दिया जिसकी वजह से लोग परेशान हो गए, कई लोग तो 11 दिन पहले से ही बमों और पटाखों का जुगाड़ करना शुरू कर दिए क्योंकि उन्हें पता था कि दिवाली पर बम नहीं मिल पाएंगे.

फरीदाबाद के एक व्यक्ति को बम नहीं मिले तो उसका बच्चा रोने लगा, बम की जिद कर ली, इसके बाद व्यक्ति ने अपने रिश्तेदारों को फोन करके बोलना शुरू कर दिया कि भाई साहब हमें गिफ्ट मत दो, मिठाई और विदाई भी मत भेजना लेकिन कहीं से बम का जुगाड़ कर दो क्योंकि फरीदाबाद में बम मिल ही नहीं रहे हैं.

व्यक्ति ने कहा कि सरकार ने बमों पर बैन तो लगा दिया है लेकिन बच्चे मानने को तैयार ही नहीं हैं कि इनसे प्रदूषण होगा, व्यक्ति ने कहा कि बच्चे सूखी दिवाली मनाने को तैयार ही नहीं हैं, इसलिए आपसे यही प्रार्थना है कि अगर कहीं से बम मिलते हों तो थोड़े बहुत हमारे लिए भिजवा दो, मिठाई मत भिजवाओ लेकिन बम भिजवा दो यार, मिठाई हम खुद खरीद लेंगे लेकिन हमें फरीदाबाद में बम नहीं मिल रहे हैं, रिश्तेदार हो, कुछ तो फायदा होना चाहिए, मिठाई मत भिजवाना, विदाई भी मत देना, बम दे देना, कम से कम तुम्हारे भांजे फुलझड़ी तो जला लेंगे. उनका पापा भी खुश हो जाएगा. कृपा करके इतनी मेहरबानी करें, आप मिठाई ना भेज कर बम भेज दें.

Oct 19, 2017

फरीदाबाद में पटाखा खरीदने हुआ पहले से आसान, पटाखों बेचने वालों ने निकाला धाँसू जुगाड़, पढ़ें

फरीदाबाद में पटाखा खरीदने हुआ पहले से आसान, पटाखों बेचने वालों ने निकाला धाँसू जुगाड़, पढ़ें

faridabad-me-patakha-khareedna-hua-asan-sold-in-kirana-store

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली और एनसीआर में 30 अक्टूबर तक पटाखा बेचने पर रोक लगायी है, सुप्रीम कोर्ट का ये कहना था कि पटाखा बेचने पर रोक लगाने से लोग पटाखे खरीद नहीं पाएंगे, जब लोग पटाखे खरीद नहीं पाएंगे तो पटाख जला भी नहीं पाएंगे, जब दिल्ली एनसीआर में पटाखे जलेंगे नहीं तो प्रदूषण भी नहीं बढेगा लेकिन सुप्रीम कोर्ट का आदेश कामयाब होता नहीं दिख रहा है क्योंकि पटाखा विक्रेताओं ने पटाखा बेचने के लिए धाँसू जुगाड़ निकाल लिया है.

पहले लोग पटाखा खरीदने के लिए पटाखा बाजारों में जाते थे लेकिन इस बार पटाखा दुकानों पर बैन है इसलिए पटाखा विक्रेताओं ने हर गली हर नुक्कड़ पर स्थिति किराना और अन्य छोटी दुकानों में पटाखे रखवा दिए हैं, गलियों में रहने वाले हर आदमी को पता चल जाता है कि इस दुकान में पटाखे मिल रहे हैं तो वे चुपचाप जाते हैं और पटाखे खरीदकर ले आते हैं.

फरीदाबाद पुलिस पटाखों विक्रेताओं पर कड़ी नजर रख रही है और सादी वर्दी में भी टीमों को तैनात कर रखा है लेकिन जब मियां-बीवी राजी तो क्या करेगा काजी. जब बेचने वाले और खरीदने वाले तैयार हैं तो पुलिस और सुप्रीम कोर्ट क्या कर सकती है, जिसको पटाखा खरीदना है वह जाकर खरीद रहा है, पुलिस वालों को किराना दुकानों पर शक नहीं होता इसलिए पटाखा व्यापारी उनके पास पटाखे रखवा कर बेच रहे हैं और लोग खरीद भी रहे हैं.

हमारी गली वाले लोग भी पटाखे ला रहे थे तो हम भी उनके पीछे जासूसी करने चले गए, दुकानदार ने डर डर कर पटाखे निकाले और हमें बेच दिए. ये जो फोटो दिख रही है उन्हीं पटाखों की है जो कल हम खरीदकर लाए थे. वैसे हम गए तो थे जासूसी करने लेकिन बेचने वाले की उम्र देखकर हमने उसका नाम पता और एड्रेस नहीं दिया है, लेकिन इतना जरूर बता रहे हैं कि पटाखा बेचने वाले बेच भी रहे हैं और खरीदने वाले खरीद भी रहे हैं, पुलिस वाले भी अपना काम कर रहे हैं लेकिन पूरी तरह से पटाखा दुकानों पर नजर रखने के लिए लाखों पुलिस कर्मी चाहियें लेकिन उतने पुलिस वाले हैं ही नहीं तो वे क्या करें.

Oct 18, 2017

हर्षिता दहिया को मारी गयीं 8 गोलियां, सपना चौधरी से था विवाद, देखें VIDEO

हर्षिता दहिया को मारी गयीं 8 गोलियां, सपना चौधरी से था विवाद, देखें VIDEO

why-harshita-dahiya-killed-why-she-problem-with-sapna-chaudhary

नई दिल्ली: हर्षिता दहिया की हत्या हुए 24 घंटे हो रहे हैं लेकिन अब तक उनके हत्यारों का कोई सुराग नहीं लगा है, उनकी पोस्ट मार्टम रिपोर्ट करने वाले डॉक्टर ने बताया कि उन्हें 7-8 गोलियां मारीं गयीं, तीन गोलियां निकाल ली गयी बाकी शरीर के आर पार हो गयीं. 

इस बीच हर्षिता दहिया की बहन लता ने पुलिस को बताया है कि हर्षिता दहिया को मेरे पति ने मारा क्योंकि वह मेरी माँ की हत्या में चश्मदीद गवाह थी, उसनें मेरे पति को मेरी माँ की हत्या करते देख लिया था. 

इस मामले में पुलिस ने जाँच शुरू कर दी है, कई लोगों से पूछताछ की जा रही है, एस.पी. राहुल शर्मा व डी.एस.पी. देशराज ने हर्षिता के साथियों से पूछताछ की लेकिन अब तक कोई सुराग नहीं लगा।

मालुम हो कि हर्षिता दहिया की पानीपत के चमराड़ा-काकोदा गांव में हत्या कर दी गयी, कार सवार बदमाशों ने पहले उनकी रुकवाई फिर उन्हें गोली मार दी।

हरियाणवी सिंगर हर्षिता दहिया नरेला में रहती थीं, हादसे के समय वह, उसके सहयोगी (एक महिला व 2 व्यक्ति) चमराड़ा गांव से कार्यक्रम खत्म करके सायं करीब 4 बजे काकोदा की तरफ अपने घर जा रहे थे। अचानक काले रंग की कार सवार 4 युवकों ने उनकी कार रुकवाकर हर्षिता पर फायरिंग कर दी। हर्षिता की मौके पर ही मौत हो गई। 

सिंगर हर्षिता ने हाल में ही एक वीडियो यू-ट्यूब पर डालकर अपनी हत्या होने की आशंका जताते हुए कहा था कि वह किसी से डरने वाली नहीं है। उन्होंने हत्या का शक टिंकू भाई पर जताया था (औरंगनगर), अब वह पुराना वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। हर्षिता ने इस वीडियो में कहा था कि उन्होंने मेरी इज्जत लूटने की धमकी दी थी जिसके बाद उन्होंने वीडियो में उनके बारे में काफी बुरा भला कहा.

एक अन्य वीडियो में हर्षिता ने सपना चौधरी पर भी काफी हमला बोला था, यह वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वे सपना चौधरी को टक्कर दे रही थीं जिसकी वजह से सपना के प्रमोटर उनसे नाराज थे, उनका एक वीडियो यू ट्यूब पर एक लाख से अधिक बार देखा गया जिसकी वजह से उन्हें धमकियाँ मिलनी शुरू हो गयीं.

Oct 17, 2017

चुनाव हार गए फिर भी विधायक की तरह काम कर रहे हैं BJP नेता यशवीर डागर, 250 करोड़ का विकास कार्य

चुनाव हार गए फिर भी विधायक की तरह काम कर रहे हैं BJP नेता यशवीर डागर, 250 करोड़ का विकास कार्य

yashwir-dagar-working-as-mla-from-nit-faridabad-said-vipul-goel

फरीदाबाद 16 अक्टूबर:  पिछले विधानसभा चुनाव में फरीदाबाद NIT विधानसभा से बीजेपी नेता यशवीर डागर की इनेलो नेता नागेन्द्र भड़ाना के हाथों मामूली वोटों से हार हुई थी, नागेन्द्र भड़ाना विधायक बन गए लेकिन यशवीर डागर ने हार नहीं मानी, वे हार के बावजूद भी क्षेत्र वासियों के लिए काम कर रहे हैं और अब तक मुख्यमंत्री खट्टर से क्षेत्र के विकास के लिए 250 करोड़ रुपये ला चुके हैं.

यह कहना है कि हरियाणा के उद्योग मंत्री विपुल गोयल का. कल उन्होंने सेक्टर-55 स्थित कृष्णा वाटिका में एनआईटी से पूर्व भाजपा प्रत्याशी एवं भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष यशवीर डागर द्वारा आयोजित विशाल कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि यशवीर डागर भले ही चुनाव हार गये लेकिन वह क्षेत्र में विधायक की तरह ही काम कर रहे हैं.

उन्होंने यह भी कहा कि NIT में जितने भी विकास कार्य हो रहे हैं सब यशवीर डागर जी करा रहे हैं लेकिन क्रेडिट क्षेत्र के इनेलो विधायक नागेन्द्र भड़ाना ले रहे हैं लेकिन अब यहाँ पर माल किसी का और कमाल किसी का वाली कहावत नहीं चलेगी, यशवीर डागर जी काम करा रहे हैं तो नाम भी उनका ही होना चाहिए. 

Oct 16, 2017

DCP NIT आस्था मोदी ने दो महिलाओं को दिया 50-50 हजार का इनाम, किया था बहादुरी का ये काम, पढ़ें

DCP NIT आस्था मोदी ने दो महिलाओं को दिया 50-50 हजार का इनाम, किया था बहादुरी का ये काम, पढ़ें

dcp-nit-astha-modi-rewarded-two-brave-women-of-greenfiels-cplony

फरीदाबाद NIT की डिप्टी पुलिस कमिश्नर आस्था मोदी ने आज ग्रीनफील्ड कॉलोनी की दो महिलाओं को 50-50 हजार रुपये का ईनाम दिया है. यह सूचन फरीदाबाद के पुलिस आयुक्त डॉ हनीफ कुरैशी ने ट्विटर पर दी. 

उन्होंने बताया कि इन दोनों महिलाओं ने बहादुरी दिखाते हुए एक चैन स्नैचर को पकड़ा था और उसे पुलिस के हवाले किया था. 
आपको बता दें कि फरीदाबाद पुलिस शहरवासियों को अपराध और अपराधियों के प्रति जागरूक करने और उन्हें बहादुरी के लिए प्रेरित करने के लिए समय समय पर ईनाम देती रहती है, कई बार अपराधियों पर भी ईनाम घोषित किये जाते हैं और उन्हें पकड़वाने वालों को भी ईनाम दिया जाता है. 
अब हरियाणा में न्यूज़ पोर्टल चलाने वाले पत्रकारों के भी आयेंगे अच्छे दिन, मिलेंगे सरकारी लाभ

अब हरियाणा में न्यूज़ पोर्टल चलाने वाले पत्रकारों के भी आयेंगे अच्छे दिन, मिलेंगे सरकारी लाभ

news-portals-in-haryana-will-get-accreditation-like-electronic-media

चण्डीगढ़, 16 अक्तूबर: पहली बार किसी सरकार ने पत्रकारों के बारे में सोचा है और वो भी न्यूज़ पोर्टल के पत्रकारों के बारे में, वरना तो सरकारों ने पत्रकारों के हितों के बारे में सोचना ही छोड़ दिया है, नोटबंदी की जितनी मार पत्रकारों पर पड़ी, उतनी शायद ही किसी पर पड़ी हो.

खैर खट्टर सरकार ने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों के साथ साथ न्यूज़ पोर्टल चलाने वाले पत्रकारों के हितों के बारे में भी सोचा है. आज ही मुख्यमंत्री खट्टर ने Haryana Media Accreditation Act 2007 में संशोधन करने के लिए एक अधिसूचना जारी की है जिसके अनुसार अब उप-मंडल स्तर पर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और न्यूज-पोर्टल वेबसाइट्स के मीडिया कर्मियों को प्रत्यायन (एके्रडिऐशन) और राज्य मुख्यालय, चंडीगढ़ और जिला स्तर के दैनिक समाचार पत्रों और न्यूज एजेंसियों के मीडिया कर्मियों को ‘मान्यता’ प्रदान की जाएगी.

हरियाणा सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग की मंत्री कविता जैन ने आज यहां यह जानकारी बताते देते हुए बताया कि इन तीन फैसलों से अनेक मीडिया कर्मियों को लाभ होगा। उन्होंने कहा कि गत सरकारों ने केवल मीडिया कर्मियों को उनकी दीर्घकालिक मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया जबकि मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अगुवाई वाली वर्तमान राज्य सरकार मीडिया के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने हाल ही में मीडिया कर्मियों के हित के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं घोषित की हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार ने उनकी चिरलम्बित मांग को स्वीकार कर लिया है और अब इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के मीडिया कर्मियों को उप-मंडल स्तर पर भी मान्यता दी जाएगी। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया कर्मियों को पहले ही राज्य मुख्यालय और जिला स्तर पर मान्यता प्रदान की जा चुकी है। मंत्री ने बताया कि अधिसूचित नियमों में दिए गए प्रावधानों के अनुसार अब समाचार पोर्टल/वेबसाइट्स के मीडिया कर्मियों को भी प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथ मान्यता दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में, राज्य मुख्यालय चंडीगढ़ से दैनिक समाचार पत्र और न्यूज एजेंसी के तीन संवाददाताओं, एक खेल संवाददाता, एक विधि संवाददाता और दो फोटोग्राफरों को मान्यता दी जा रही है। इसी प्रकार, जिला स्तर पर दैनिक समाचार पत्र या न्यूज एजेंसी के दो संवाददाताओं और एक फोटोग्राफर को मान्यता प्रदान की जा रही है। अब मान्यता के अलावा हरियाणा सरकार राज्य मुख्यालय, चंडीगढ़ में दैनिक समाचार पत्र और न्यूज एजेंसियों के तीन मीडिया कर्मियों को और जिला स्तर पर दो मीडिया कर्मियों को ‘मान्यता’ भी प्रदान करेगी। 

उन्होंने कहा कि इन तीन योजनाओं के तहत पात्र जिला या उप-मंडल स्तर के मीडिया कर्मी, संबंधित जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी के माध्यम से मान्यता के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसी प्रकार, राज्य मुख्यालय, चंडीगढ़ के पात्र मीडिया कर्मी चंडीगढ़ स्थित निदेशक, सूचना, जनसंपर्क और भाषा विभाग, हरियाणा के कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं।

Oct 15, 2017

फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर हनीफ कुरैशी बोले, नहीं बिकने देंगे पटाखे, SC के आदेश का करेंगे पालन

फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर हनीफ कुरैशी बोले, नहीं बिकने देंगे पटाखे, SC के आदेश का करेंगे पालन

faridabad-cop-hanif-qureshi-will-not-allow-patakha-sale-sc-direction

इस दीवाली पर फरीदाबाद के लोगों को भी धूम-धड़ाके से दूर रहना पड़ेगा क्योंकि फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर हनीफ कुरैशी ने भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार पटाखों की विक्री के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दी है. हनीफ कुरैशी ने कहा कि जैसा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली एनसीआर में पटाखों की विक्री पर बैन लगाया है, फरीदाबाद पुलिस भी सुप्रीम कोर्ट का आदेश मानने के लिए प्रतिबद्ध है. फरीदाबाद में भी पटाखा बेचने वालों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करेगी।

आपको बता दें कि दिल्ली वाले पटाखा खरीदने के लिए फरीदाबाद और आस पास के जिलों में आ सकते हैं, फरीदाबाद में भी पटाखों का बड़ा कारोबार होता है लेकिन अब दिल्ली वाले फरीदाबाद से भी पटाखा नहीं खरीद पाएंगे क्योंकि पुलिस कमिश्नर ने सादी वर्दी में पुलिस कर्मियों की विशेष टीम बनायी हैं तो पटाखा बेचने वालों पर नजर रखेगी.

हनीफ कुरैशी ने सभी शहरवासियों को दिवाली की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि पर्यावरण को बचाने के लिए माननीय सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों पर बैन लगाया है तो हमारा भी फर्ज बनता है कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश मानें, मैं सभी शहरवासियों से अपील करता हूँ कि दिया जलाकर साफ़ सुथरी और परंपरागत दिवाली मनाएं।

उन्होंने यह भी कहा कि हरियाणा में पटाखा फोड़ने पर रोक नहीं है लेकिन निर्धारित समय के अनुसार ही पटाखा फोड़ें, निर्धारित समय के बाद पटाखा फोड़ते हुए पकड़े जाने पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि दूसरे जिलों से पटाखा खरीदकर लाने पर भी कोई रोक नहीं है क्योंकि इस मामले में शासन की तरफ से कोई दिशा निर्देश नहीं दिए गए हैं. मतलब अगर कोई पटाखा फोड़ना चाहे तो दूसरे जिलों से खरीदकर ला सकता है. सिर्फ बेचने पर प्रतिबन्ध है.
एक्शन में आयीं DCP आस्था मोदी, गौ-मांस के शक में मार-पिटाई करके बुरे फंसे फरीदाबाद के गौ-रक्षक

एक्शन में आयीं DCP आस्था मोदी, गौ-मांस के शक में मार-पिटाई करके बुरे फंसे फरीदाबाद के गौ-रक्षक

dcp-nit-astha-modi-said-action-will-be-taken-on-gau-rakshak-news

फरीदाबाद: गौ-मांस के शक में कल फरीदाबाद के गौ-रक्षकों ने पाली के पास बाजड़ी गाँव में पांच लड़कों के साथ मार पिटाई की थी, ये लड़के सुबह 6 बजे अपने ऑटो में मांस लेकर कहीं जा रहे थे, गौ-रक्षकों को इनपर शक हुआ तो ऑटो रुकवाकर जांच की, ऑटो में बोरे में मांस भरा हुआ था, इसके अलावा ड्राईवर की सीट के नीचे में बड़े आकर के टुकड़ों में मांस रखा हुआ था, गौ-रक्षकों को लगा कि यह गौ-मांस है इसलिये उनके साथ मार पिटाई शुरू कर दी और बाद में उन्हें पुलिस को सौंप दिया।

जांच में बताया जा रहा है कि यह भैंस का मांस है हालाँकि इसकी पुष्टि के लिए सैंपल को फॉरेंसिक लैब में भेजा गया है जिसकी रिपोर्ट आने में 2-3 दिन लगेंगे। फिलहाल गौ-रक्षक इस मामले में फंसते दिख रहे हैं क्योंकि उन्होंने कानून अपने हाथों में लिया है.

आज फरीदाबाद NIT की डीसीपी आस्था मोदी ने कानून हाथ में लेने वाले गौ-रक्षकों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही का संकेत दिए. उन्होंने कहा -  हमें कल जानकारी मिली थी कि एक गाड़ी पकड़ी गयी है जिसके अंदर गौ-मांस है, कुछ लोगों ने मांस ले जा रहे 5 लोगों को पकड़ लिया है और उनके साथ मार-पिटाई भी कर रहे हैं, हमारे SHO साहब वहां पर पहुंचे और पाँचों लड़कों को वहां से निकाला, सभी को पुलिस स्टेशन ले जाया गया, एक को ज्यादा चोट लगी होने की वजह से उसका मेडिकल कराया गया और उसे बीके सिविल हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया गया।

उन्होंने कहा कि इस मामले में दो FIR दर्ज हुई हैं, पहली FIR मांस ले जा रहे लड़कों पर Cow Smuggling Act के तहत दर्ज किया गया है और दूसरी FIR लड़कों के साथ मार पिटाई करने वाले लोगों के खिलाफ दर्ज की गयी है. मांस का सरकारी वेटेरिनरी डॉक्टर से परीक्षण कराया गया तो उन्होने कहा कि यह भैंस का मांस है.

आस्था मोदी ने कहा कि गौ-मांस तस्करी करने का आरोप गलत पाया जा रहा है. जिन्होंने मार पिटाई की है उनकी पहचान कर ली गयी है और उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश की जा रही है. उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

Oct 14, 2017

गौ-मांस के साथ बिट्टू बजरंगी ने 5 को पकड़ा, मीडिया इन्हें बता रही गुंडा लेकिन ये है असलियत

गौ-मांस के साथ बिट्टू बजरंगी ने 5 को पकड़ा, मीडिया इन्हें बता रही गुंडा लेकिन ये है असलियत

faridabad-gau-rakshak-news-bittu-bajrangi-cought-5-gau-taskar

फरीदाबाद: फरीदाबाद के गौरक्षक बिट्टू बजरंगी गौमाता की रक्षा के लिए हमेशा जान देने को तैयार रहते हैं, कल इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि फरीदाबाद में गौ-हत्या और गौ-तस्करी रुकने का नाम ही नहीं ले रही है, उन्होंने अब तक कई गौ-हत्यारों को गौ-मांस के साथ पकड़ा है. उन्होंने बताया कि अब तक जितने भी लोगों को पकड़ा है वे सभी के सभी मुसलमान थे.

उन्होंने कहा कि हम गौ-माँ की पूजा करते हैं, लेकिन मुसलमान उन्हें मारकर खा रहे हैं, हम चाहते हैं कि भाई चारा बना रहे लेकिन वे हमारी गौ-माँ को ही मारकर खा रहे हैं तो भाई चारा कैसे बनेगा. उन्होंने कल पाली के नजदीक बाजड़ी के पास पांच मुसलमान लड़कों को संदिग्ध गौ-मांस के साथ पकड़ा और दो चार हाथ लगाकर पुलिस को दे दिया. उन्होंने बताया कि तस्कर लड़के सुबह 5 बजे ऑटो में भरकर गौ-मांस ले जा रहे थे लेकिन उन्होंने पहरा देते समय उन्हें पकड़ लिया. बिट्टू और उनकी टीम ने गौ-तस्करों को जल्द ही काबू में कर लिया हालाँकि दो लोग भागने में कामयाब रहे.

पकड़े गए गौ-तस्करों के नाम और पता

अहसान पुत्र जान मुहम्मद (3 नंबर फरीदाबाद)
शहजाद पुत्र जान मुहम्मद  (3 नंबर फरीदाबाद)
आजाद  (3 नंबर फरीदाबाद)
शकील पुत्र पप्पू (पिंजोर फरीदाबाद)
सोनू पुत्र शरीफ (फतेहपुर फरीदाबाद)

बिट्टू बजरंगी को मीडिया बता रही गुंडा लेकिन ये हैं हीरो

पहलवान बिट्टू बजरंगी जिन्होंने गौ-रक्षा के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर रखा है, उन्होंने शादी भी नहीं की, परिवार भी नहीं बसाया, वे पहलवानी में कई राष्ट्रीय और राज्य स्तर के अवार्ड भी जीत चुकेहैं, वे चाहते तो परिवार बसा सकते थे लेकिन उन्होंने आजीवन अविवाहित रहकर गौ-रक्षा का प्रण लिया है और रात रात भर जागकर वे गौ-रक्षा करते हैं.

कल उनकी गौ-तस्करों के साथ हाथापाई हुई लेकिन मीडिया ने बिना सच्चाई जाने उन्हें गुंडा बताना शुरू कर दिया है, टीवी चैनल वाले यह सब अपनी TRP के लिए कर रहे हैं लेकिन मीडिया की ख़बरों से बिट्टू बजरंगी दुखी हैं. उन्होंने कहा कि हम लोग रात रात भर जागकर गौ-माता की रक्षा करते हैं, गौ-तस्करों सी लोहा लेते हैं लेकिन मीडिया वाले हमें गुंडा बता रहे हैं. बिट्टू बजरंगी ने बताया कि कुछ वर्ष पहले गौ-तस्करों ने उनपर गोली भी चलायी थी लेकिन वे बच गए थे. उसी समय उन्होंने प्रण ले लिया था कि अब जीना है तो सिर्फ गौ-रक्षा के लिए.

देखें बिट्टू बजरंगी का पूरा इंटरव्यू

Oct 13, 2017

गौमांस ले जा रहे 5 गौ-तस्करों को पहलवान बिट्टू बजरंगी ने पकड़ा, भुर्ता बनाया और पुलिस को सौंपा

गौमांस ले जा रहे 5 गौ-तस्करों को पहलवान बिट्टू बजरंगी ने पकड़ा, भुर्ता बनाया और पुलिस को सौंपा

faridabad-gau-rakshak-bittu-bajrangi-beaten-gau-taskar-with-beef

फरीदाबाद: हरियाणा के फरीदाबाद जिले में आज पांच तस्करों को पकड़कर उन्हें गौरक्षक पहलवान बिट्टू बजरंगी ने अकेले ही तोड़ दिया, उन्होंने पाँचों हत्यारों का भुर्ता बनाकर पुलिस को सौंप दिया साथ ही उन्हें चेतावनी दी कि गौमाता की हत्या करना छोड़ दें वरना अच्छा नहीं होगा.

बिट्टू बजरंगी ने अपने साथियों के साथ पाँचों तस्करों को पकड़कर उनके ऑटो से भारी मात्रा में गौ-मांस बरामद किया, पाँचों गौ-तस्करों को पुलिस के हवाले कर दिया गया, पुलिस इस मांस को परीक्षण के लिए लैब भेजेगी, अगर गौ-मांस पाया गया तो इनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही होगी. 

बिट्टू बजरंगी ने पुलिस को गौ-मांस सौंपने के साथ एक पीस अपने पास भी रख लिया, उन्होंने कहा कि मैं खुद भी इसे लैब में परीक्षण के लिए भेजूंगा ताकि मुझे भी जांच में तसल्ली मिल सके.

कौन हैं बिट्टू बजरंगी

पहलवान बिट्टू बजरंगी 18 साल की उम्र में ही संघ से जुड़ गए,  ये बजरंगदल के कई बड़े पदों पर भी काम कर चुके हैं। बजरंगी पावर लिफ्टिंग के बहुत अच्छे खिलाड़ी रह चुके हैं और कई राज्य स्तरीय स्वर्ण पदक भी जीत चुके हैं।

बिट्टू ने बताया कि वो लगभग तीन दशकों से बीजेपी पार्टी से जुड़े हैं. उन्होंने पार्टी पर अपना सब कुछ न्योछावर कर दिया यहाँ तक की अपना घर तक नहीं बसाया, पार्टी की सेवा के लिए शादी नहीं की.

उन्होंने कहा कि देश के लिए जैसे प्रधानमंत्री ने अपना परिवार त्याग दिया, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अपना घर नहीं बसाया वैसे ही मैंने भी पार्टी के लिए  सब कुछ त्याग दिया, अब मैं पूरी तरह से से गाय माता को बचाने में जुटा हूँ और पूरी-पूरी रात जागकर गौ तस्करों को खोजता हूँ और उन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले करता हूँ।

आज पाली के पास पकड़े गए तस्करों के बारे में बिट्टू का दावा है कि पकड़ा गया मांस गाय का मांस है और इसे फरीदाबाद के एक होटल में ले जाया जा रहा था। उन्होंने कहा कि मांस की जांच में कोई गड़बड़झाला न हो इसके लिए वो मांस का एक टुकड़ा अपने साथ लाये हैं और खुद उसे चंडीगढ़ ले जाएंगे और जांच करवाएंगे।

पकड़े गए गौ-तस्करों के नाम और पता

अहसान पुत्र जान मुहम्मद (3 नंबर फरीदाबाद)
शहजाद पुत्र जान मुहम्मद  (3 नंबर फरीदाबाद)
आजाद  (3 नंबर फरीदाबाद)
शकील पुत्र पप्पू (पिंजोर फरीदाबाद)
सोनू पुत्र शरीफ (फतेहपुर फरीदाबाद)

गौ-तस्करों को बिट्टू बजरंगी का कड़ा सन्देश

उन्होंने गौतस्करो को चेतावनी देते हुए कहा कि गौ-हत्या जैसा गलत काम छोड़ दो ताकि हमारा भाईचारा और बढ़े लेकिन अगर न सुधरे तो हम आप जैसे लोगों को कभी नहीं बर्दाश्त करेंगे, उन्होंने कहा हम नहीं चाहते भाईचारा ख़त्म हो लेकिन ताली एक हाँथ से नहीं बजेगी, बजरंगी ने कहा कि स्थानीय पुलिस हमारी टीम का बहुत सहयोग करती है इसलिए सभी पुलिसकर्मियों का धन्यवाद। देखें एक वीडियो

गौमांस तस्करी रोकने में फरीदाबाद पुलिस नाकाम तो गौ-रक्षकों ने मार मार कर निकाला कचूमर

गौमांस तस्करी रोकने में फरीदाबाद पुलिस नाकाम तो गौ-रक्षकों ने मार मार कर निकाला कचूमर

faridabad-man-caught-with-gau-mans-beaten-and-handed-to-police

नई दिल्ली: हरियाणा में गौ-हत्या और गौ-मांस तस्करी की घटनाएं सबसे जायदा फरीदाबाद में देखने को मिल रही हैं, हरियाणा में गौ-हत्या, गौ-तस्करी और गौ-मांस खाने पर भी बैन है लेकिन ये अपराध रुकने का नाम ही नहीं ले रहे हैं, गौ-रक्षक बार बार इन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले करते हैं लेकिन वहां से मामला रफा-दफा कर दिया जाता है. आज फरीदाबाद में एक गौ-तस्करों को गौ-मांस के साथ पकड़ लिया और तस्करों की जमकर धुनाई कर दी. यही नहीं गौ-तस्कर से गौमाता की जय के नारे भी लगवाये.

रिपोर्ट के अनुसार फरीदाबाद के पाली गाँव के हिंदी संगठन ने बड़ी मात्रा में गौ-मांस पकड़ा. हिन्दू नेता बिट्टू बजरंगी ने बताया कि पांच लोगों को भी उनके संगठन ने पकड़ा है जिन्हे मुजेसर थाने ले जाया गया  है। तस्करों को पकड़ने के बाद हिन्दू नेताओं ने तस्कर की जमकर पिटाई की और उससे गाय माता की जय बोलने के लिए कहा गया।  बिटटू बजरंगी के साथ राजू पाली, संजय राठौर, कृष्ण सोलंकी, बलजीत यादव, बम लहरी, संदीप सारन, अंकुश नगला, संदीप पाली आदि ने इन गौमांस तस्करों को दबोचा है। देखें वीडियो

गौमांस तस्करों के नाम

अहसान पुत्र जान मुहम्मद (3 नंबर फरीदाबाद)
शहजाद पुत्र जान मुहम्मद  (3 नंबर फरीदाबाद)
आजाद  (3 नंबर फरीदाबाद)
शकील पुत्र पप्पू (पिंजोर फरीदाबाद)
सोनू पुत्र शरीफ (फतेहपुर फरीदाबाद)

ये दोनों वकील आराम से राम रहीम को साबित कर सकते हैं निर्दोष, CBI को साबित कर सकते हैं झूठा

ये दोनों वकील आराम से राम रहीम को साबित कर सकते हैं निर्दोष, CBI को साबित कर सकते हैं झूठा

rajesh-talwar-lawyer-tanveer-ahmed-meer-may-release-ram-rahim

गुरमीत राम रहीम के खिलाफ उनके आश्रम की दो महिलाओं ने 1999 में रेप का आरोप लगाया, उन्होंने सीधा प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को चिट्ठी लिखकर बताया कि हमारे साथ आश्रम में रेप और यौन शोषण होता है, चिट्ठी पब्लिक में आते ही सनसनी फ़ैल गयी, महिलाओं ने तीन साल बाद राम रहीम पर आरोप लगाया था, मतलब तीन साल उन्होंने कुछ भी नहीं किया, ना तो उनका मेडिकल हुआ, ना ही वह आज तक मीडिया के सामने आयी हैं, उनकी चिट्ठी के आधार पर ही CBI ने जांच की और CBI कोर्ट ने उन्हें 20 साल के लिए जेल भेज दिया.

राम रहीम के समर्थक कह रहे हैं कि बाबा को फंसाया गया है, ब्लैकमेल करने के लिए उनके खिलाफ चिट्ठी लिखकर आरोप लगाए गए, अगर आरोप सही है तो दोनों महिलाओं को सामने लाओ. हालाँकि उनकी फ़रियाद नहीं सुनी गयी और राम रहीम को जेल भेज दिया गया.

अब राम रहीम के लिए खुशखबरी है क्योंकि वकील तनवीर अहमद मीर और दिलीप उन्हें हाईकोर्ट में निर्दोष साबित कर सकते हैं जबकि CBI और CBI कोर्ट को झूठा साबित कर सकते हैं, कल ऐसे ही एक मामले में इलाहबाद हाई कोर्ट ने गाजियाबाद की CBI कोर्ट का फैसला बदल दिया और CBI की दलीलों को खारिज करते हुए पांच साल से जेल में बंद राजेश तलवार और उनकी पत्नी नुपुर तलवार को हत्या के आरोप से बरी कर दिया.

राजेश तलवार और उनकी पत्नी नुपुर तलवार पर उनकी ही बेटी आरुषी तलवार और नौकर हेमराज की हत्या का आरोप था, 19 मई 2008 को आरुषी की हत्या उसके ही बेडरूम में कर दी गयी थी, एक दिन बाद घर के नौकर हेमराज की लाश भी छत से बरामद हुई. जांच में कहा गया था कि माँ-बाप ने आरुषी और हेमराज को आपत्तिजनक हालत में देख लिया और दोनों की हत्या कर दी.

बाद में CBI कोर्ट ने उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुना दी, दोनों पांच साल से डासना जेल में बंद थे लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी, उन्होंने CBI कोर्ट के फैसले को इलाहबाद हाई कोर्ट में चैलेंज किया, कल हाईकोर्ट ने CBI कोर्ट का फैसला बदल दिया, कल CBI की सभी दलीलों को खारिज कर दिया गया.

राजेश तलवार का केस तनवीर अहमद मीर ने लड़ा, उन्होंने ना सिर्फ CBI की दलीलों को गलत साबित किया बल्कि CBI कोर्ट के फैसले को भी गलत साबित कर दिया.

अगर तनवीर अहमद मेरे राम रहीम का भी केस हाई कोर्ट में लड़ें तो वे राम रहीम को बाइज्जत बरी करा सकते हैं, वे CBI से दोनों महिलाओं को सामने लाने और उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराने की मांग कर सकते हैं. यही नहीं सभी गवाहों का भी लाइ डिटेक्टर टेस्ट होना चाहिए. तनवीर अहमद मीर आराम से CBI कोर्ट का फैसला बदलवा सकते हैं जैसा उन्होंने कल करके दिखाया है.

Oct 12, 2017

राम रहीम के भक्त बोले, बाबा को भी CBI ने आरुषी के माँ-बाप की तरह फंसाया, हाईकोर्ट करेगा इन्साफ

राम रहीम के भक्त बोले, बाबा को भी CBI ने आरुषी के माँ-बाप की तरह फंसाया, हाईकोर्ट करेगा इन्साफ

ram-rahim-supporter-hopeful-high-court-will-convert-cbi-court-order

चंडीगढ़: आज जितना खुश आरुषी के माँ-बाप राजेश तलवार और नुपुर तलवार हैं उससे भी ज्यादा ख़ुशी बाबा राम रहीम के करोड़ों समर्थकों में है क्योंकि अब उन्हें भी लग रहा है कि उनके खिलाफ CBI जांच झूठी है और CBI कोर्ट का फैसला भी गलत है क्योंकि यह फैसला सिर्फ दो चिट्ठियों को आधार बनाकर दिया गया है.

आपको बता दें की नोएडा के बहुचर्चित आरुषि एवं हेमराज हत्याकांड मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गाजियाबाद CBI कोर्ट का फैसला पूरी तरह से पलट दिया. आरुषी की हत्या 19 मई 2008 को नॉएडा में उसके ही बेडरूम में कर दी गयी थी, उसकी हत्या का आरोप उसके ही पिता राजेश तलवार और माँ नुपुर तलवार पर लगा था, CBI ने उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी. दोनों पांच साल से जेल में बंद थे लेकिन उन्होंने CBI कोर्ट के फैसले को इलाहबाद हाई कोर्ट में चैलेंज दिया.

आज उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया और राजेश और नूपुर तलवार को बरी कर दिया  है। 

इलाहबाद हाईकोर्ट के फैसले के बाद रेप केस में बीस साल की सजा काट रहे राम रहीम के भक्तों में एक आशा जगी है। भक्तों का कहना है कि हमारे बाबा भी राजेश और नूपुर की तरह पूरी तरह निर्दोष हैं और सीबीआई का शिकार बने हैं। सोशल मीडिया पर राम रहीम के भक्तों की प्रतिक्रियाएं आने लगीं हैं। मालूम हो कि डेरा भक्त बार बार आवाज उठाते हैं कि उन दो महिलाओं को सामने लाओ जिन्होंने चिट्ठी लिख राम रहीम पर रेप का आरोप लगाया था। राम रहीम के भक्त आज के फैसले से काफी खुश हैं। उन्हें आशा है कि राम रहीम बेगुनाह साबित होंगे और जल्द जेल से बाहर आएंगे।