Showing posts with label Haryana. Show all posts
Showing posts with label Haryana. Show all posts

Tuesday, January 17, 2017

कांग्रेसी नेता की पंडित-जातिवादी राजनीति के खिलाफ इकठ्ठे हुए फरीदाबाद के सभी पार्षद: पढ़ें

कांग्रेसी नेता की पंडित-जातिवादी राजनीति के खिलाफ इकठ्ठे हुए फरीदाबाद के सभी पार्षद: पढ़ें

faridabad-bjp-parshad-unite-request-media-help-to-maintain-peace

Faridabad, 17 January: आपने देखा होगा कि कांग्रेस को लोकसभा चुनावों में हार नहीं पची, हरियाणा विधानसभा चुनावों में भी हार नहीं पची और जाट आन्दोलन के दौरान दंगों में कांग्रेस का हाथ पाया गया, अब फरीदाबाद नगर निगम चुनावों में भी कांग्रेस को अपनी हार नहीं पच रही है।

वार्ड 22 से बीजेपी उम्मीदवार बिल्लू पहलवान उर्फ़ जीतेन्द्र यादव ने कांग्रेसी नेता अवनेश शर्मा को 553 वोटों से हरा दिया, अवनेश शर्मा को अपनी हार नहीं पची तो उन्होंने कहा कि पंडितों के साथ अन्याय किया गया है, जान बूझकर उन्हें हराया गया है। चुनावों में धांधली हुए है, वैसे अगर चुनावों में धांधली हुई होती तो उन्हें 6000 के करीब वोट भी ना मिलते। 

अब अवनेश शर्मा ने फरीदाबाद के पंडितों को बीजेपी के खिलाफ भड़काना शुरू कर दिया है, हाल ही में ब्राह्मण महापंचायत बुलाई गयी, बीजेपी पार्षद बिल्लू ने आरोप लगाया कि अवनेश शर्मा के आदमियों ने उनके कई आदमियों की पिटाई भी कर दी है, खेडी पुल पार करते ही उनके आदमियों को पीटा जाता है, उनकी गाड़ियों पर पत्थर बरसाए जाते हैं। वे सभी पंडितों को बीजेपी के खिलाफ भड़का रहे हैं। हिंसा का रास्ता अपनाया जा रहा है, क्षेत्र में अशांति हो रही है। 

इस अशांति के खिलाफ आज बीजेपी और निर्दलीय पार्षद इकठ्ठे हुए और मीडिया से क्षेत्र में शान्ति बनाए रखने और सच दिखाने की अपील की।

बीजेपी पार्षद धनेश अधलखा ने कहा कि चुनाव हो गया, जिसे जीतना था वह जीत गया और जिसे हारना था वह हार गया, बीजेपी भी 11 वार्डों में हारी है लेकिन हमने कहीं भी ना तो फिर से काउंटिंग कराई और ना ही बवाल किया, लेकिन कांग्रेसी नेता अपनी हार को पचा नहीं पाया और कहा कि पंडितों के साथ अन्याय किया गया है, अब वह जातिवादी राजनीति खेल रहा है।

उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव में हार के बाद उम्मीदवार को समझना चाहिए कि जनता ने उसे नकार दिया जबकि जीतने वाले को जनता की सेवा करनी चाहिए, बीजेपी इसी फ़ॉर्मूले पर चलती है, हम क्षेत्र में शांति चाहते हैं लेकिन अवनेश शर्मा कांग्रेस पार्टी की शह पर इसे जातिवाद का रंग दे रहे हैं जो कि पूरी तरह से गलत है।

इस अवसर पर वार्ड 26 से पार्षद अजय बैसला ने कहा कि बीजेपी सरकार में सुशासन होता है, अवनेश शर्मा ने कानून अपने हाथ में लिया है, उन्होंने तोड़ फोड़ की है और पुलिस वालों के साथ भी हाथापाई की है इसलिए उनपर कानूनी कार्यवाही होनी तय है, उन्हें कानून से बचाने के लिए ही इसे जातिवाद का रंग दिया गया है।


Sunday, January 15, 2017

BJP उम्मीदवारों को चुनाव में पटका, जीतने के बाद दोनों पार्षदों ने चिपका ली BJP नेताओं की फोटो

BJP उम्मीदवारों को चुनाव में पटका, जीतने के बाद दोनों पार्षदों ने चिपका ली BJP नेताओं की फोटो

jaiveer-khatana-ward-3-sheetal-khatana-ward-4-news-faridabad

Faridabad, 15 January: फरीदाबाद नगर निगम चुनावों के नतीजे आये कई दिन हो गए हैं, यहाँ पर बीजेपी ने 40 में से 29 सीटें जीती थीं, अब पार्षदों द्वारा बधाई कार्यक्रम चल रहा है, बैनर पोस्टर और अन्य माध्यमों से जनता को बधाई दी जा रही है। 

जीते हुए कई आजाद उम्मीदवार ऐसे हैं जिन्हें बीजेपी की तरफ से टिकट नहीं दिया गया, उन्होने आजाद उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा और बीजेपी उम्मीदवार को ही पटक दिया। आश्चर्य इस बात का है कि ऐसे उम्मीदवारों ने आजाद लड़कर भी बीजेपी के नाम पर वोट मांगे और जीतने के बाद भी इन्होने बीजेपी नेताओं की फोटो लगा रखी है। 

वार्ड तीन, चार और पांच से बीजेपी की हार हुई थी, वार्ड तीन से आजाद पार्षद जयबीर खटाना और वार्ड चार से आजाद पार्षद शीतल खटाना ने जीतने के बाद अपने बैनरों में बीजेपी नेताओं की भी फोटो लगा रखी है जिससे जाहिर होता है कि ये लोग बीजेपी से टिकट चाहते थे लेकिन इन्हें टिकट नहीं मिला, टिकट ना मिलने पर भी इन लोगों का बीजेपी से प्यार कम नहीं हुआ और जीतने के बाद ये लोग बीजेपी नेताओं की फोटो अपने साथ लगा रहे हैं। 

जयवीर खटाना और शीतल खटाना ने अपने बैनरों में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, फरीदाबाद बीजेपी अध्यक्ष गोपाल शर्मा और मोदी सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री किशन पाल गुर्जर की फोटो लगा रखे हैं जिससे साफ जाहिर हो रहा है कि ये लोग बीजेपी के बुलावे का इन्तजार कर रहे हैं। 

ठीक इसी तरह से वार्ड 37 से दीपक चौधरी की जीत हुई है, वे भी बीजेपी के परम भक्त थे लेकिन जब उन्हें टिकट नहीं मिला तो उन्होने आजाद उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़कर बीजेपी उम्मीदवार को पटक दिया लेकिन उन्हें पार्टी से 6 साल के लिए निष्काषित कर दिया गया। 

जानकारी के अनुसार कम से कम 6-7 आजाद उम्मीदवार ऐसे हैं जिन्हें बीजेपी की टिकट नहीं मिली और इन्होने बीजेपी उम्मीदवारों को पटककर चुनाव जीता, अगर ये लोग बीजेपी में वापस आते हैं तो फरीदाबाद नगर निगम में बीजेपी पार्षदों की संख्या 35-37 हो जाएगी। 
बड़ी खबर, BJP पार्षद बिल्लू पहलवान ने BJP विधायक मूलचंद शर्मा और अन्य नेताओं पर लगाए गंभीर आरोप

बड़ी खबर, BJP पार्षद बिल्लू पहलवान ने BJP विधायक मूलचंद शर्मा और अन्य नेताओं पर लगाए गंभीर आरोप

parshad-billu-pahalwan-jitendra-yadav-exposed-moolchand-sharma

Faridabad, 15 January: हाल ही में फरीदाबाद नगर निगम के नतीजे आये थे जिसमें बीजेपी को 40 में से 29 सीटों पर जीत मिली थी, कांग्रेस मुकाबले से बाहर थी और आजाद उम्मीदवारों को 11 सीटों पर जीत मिली थी, बीजेपी की इस जीत को बम्पर जीत माना गया लेकिन यह जीत बम्पर नहीं मानी जा सकती क्योंकि कई बीजेपी उम्मीदवार हारते हारते बचे, मतलब जनता ने विरोधी उम्मीदवारों को भी खूब वोट दिए थे। 

इस चुनाव में वार्ड 22 से लगातार चार बार पार्षद रहे बिल्लू पहलवान भी मैदान में थे, उनकी भी बड़ी मुस्किल से केवल 534 वोटों से जीत हुई लेकिन हारने वाले आजाद उम्मीदवार अवनेश शर्मा को अपनी हार पची नहीं और उन्होंने कोहराम मचा दिया, उन्होंने बिल्लू पहलवान के आदमियों को पकड़ पकड़ कर पीटना शुरू कर दिया है, अब बिल्लू पहलवान के आदमी जैसे ही खेडी पुल पार करते हैं, अवनेश शर्मा के आदमी उन्हें पकड़ पकड़ कर मारते हैं, उनकी गाड़ियों पर पत्थरबाजी करते हैं। आज खुद बिल्लू पहलवान ने प्रेस के सामने अपना दुखड़ा सुनाया और मदद की गुहार की। 

अब आप सोच रहे होंगे कि फरीदाबाद तो बीजेपी का गढ़ है, वहां पर कई बीजेपी विधायक, कई मंत्री हैं ऐसे में एक आजाद उम्मीदवार की इतनी हिम्मत कैसे बढ़ गयी कि उसने जीते हुए उम्मीदवार के आदमियों को पीटना शुरू कर दिया। 

बिल्लू पहलवान ने खुलासा करते हुए कहा कि दरअसल अवनेश शर्मा के सर पर बीजेपी के ही विधायक मूलचंद शर्मा का हाथ है, इसके अलावा उसके शर पर बसपा विधायक टेकचंद शर्मा का हाथ है, आजकल टेकचंद शर्मा बीजेपी से नजदीकियां बढ़ा रहे हैं और वे एकतरह से अब वे बीजेपी विधायक ही हो गए हैं। दोनों विधायक चाहते थे कि बिल्लू पहलवान को पार्षद का टिकट ना मिले। उनके ना चाहने के बावजूद भी जब बिल्लू को बीजेपी का टिकट मिल गया तो दोनों विधायक उनके खिलाफ हो गए और आजाद उम्मीदवार अवनेश शर्मा का प्रचार करना शुरू कर दिया। 

अब आप सोचिये, बीजेपी विधायक ही चाहता था कि बीजेपी उम्मीदवार चुनाव हार जाए, अगर बिल्लू हार जाते तो दुनिया में यही सन्देश जाता कि लोगों ने मोदी को नोटबंदी के लिए सजा दी है, नोटबंदी फेल है, मोदी फेल है। यहाँ पर बीजेपी विधायक मूलचंद शर्मा ही मोदी का नाम डुबाना चाहते थे। 

बीजेपी पार्षद बिल्लू पहलवान ने कहा कि दोनों विधायकों की शह पर अवनेश शर्मा ने उनके खिलाफ पंडितों की महापंचायत बुलाई है और इसे जातिवाद का रंग दे दिया है, आज ही अवनेश शर्मा ने यह महापंचायत आयोजित की है, इसमें पूरे फरीदाबाद से करीब 2000 ब्राम्हणों को बुलाया गया। बीजेपी विधायक मूलचंद शर्मा बीजेपी और आरएसएस की नीतियों के विपरीत चलते हुए इस महापंचायत का समर्थन कर रहे हैं और फरीदाबाद को अशांत करना चाहते हैं। 

बिल्लू पहलवान ने कहा कि हम क्षेत्र में शांति चाहते हैं, अगर चुनावों में बेईमानी होती तो हमारे कई पार्षद कम अंतर से हारे हैं, हम उन्हें भी जिता देते। उन्होंने कहा कि अवनेश शर्मा हार से बौखलाए हुए हैं और अपनी हार पचा नहीं पा रहे हैं, उन्होंने कहा कि हमारे भी समर्थक हैं लेकिन वे शांत बैठे हैं, अगर पुलिस ने अवनेश शर्मा पर कार्यवाही नहीं की तो क्षेत्र में अशांति फ़ैल सकती है। बिल्लू ने कहा कि अवनेश शर्मा ने उनके खिलाफ झूठ उनके घर की महिलाओं से मारपीट का झूठा आरोप लगाया है। 

Saturday, January 14, 2017

गुरुग्राम में लगी आग, एक परिवार के 4 बच्चे जिंदा जलकर खाक

गुरुग्राम में लगी आग, एक परिवार के 4 बच्चे जिंदा जलकर खाक

gurugram-hindi-news

गुरुग्राम, 14 जनवरी: शनिवार सुबह यहां एक घर में आग लगने के कारण एक ही परिवार के चार बच्चे जिंदा जलकर खाक हो गए, जबकि उनके माता-पिता घायल हो गए हैं। पुलिस ने कहा कि दिल्ली-गुरुग्राम एक्सप्रेसवे के पास मोहम्मदपुर गांव में एक खेत में बने घर में आग लग गई, जिसमें कुसुम (14), कंचन (10), रोहित (6) और मोहित (5) की जलकर मौत हो गई, जबकि सूरजवती देवी और कृपाल सिंह घायल हो गए।

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के रहने वाले सिंह अनुबंध के आधार पर पास में स्थित चार एकड़ जमीन पर खेती करते हैं।

पीड़ित के एक रिश्तेदार ने आईएएनएस को बताया कि नाजुक हालत होने के कारण सिंह को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल भेजा गया है। 

आग लगने के कारणों का तुरंत पता नहीं चल पाया है। 

मृतकों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए गए हैं। 
महात्मा गाँधी ने बेहतर ब्रांड हैं मोदी, अभी तो खादी से हटे है, रुपये से भी गायब होंगे: अनिल विज

महात्मा गाँधी ने बेहतर ब्रांड हैं मोदी, अभी तो खादी से हटे है, रुपये से भी गायब होंगे: अनिल विज

anil-vij-controversial-statement-on-mahatma-gandhi

New Delhi, 14 January: हरियाण के बीजेपी नेता और स्वस्थ्य मंत्री अनिल विज ने महात्मा गाँधी को लेकर विवादास्पद बयान दे दिया है जिसके बाद हडकंप मच गया है। 

अनिल विज खादी ग्रामोद्योग के कैलेंडर में महात्मा गाँधी को हटाये जाने पर सफाई दे रहे थे, उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने महात्मा गाँधी की फोटो हटाकर सही किया है, आज की तारीख में प्रधानमंत्री मोदी महात्मा गाँधी से बेहतर ब्रांड हैं क्योंकि उनके आने से खादी की विक्री 34 फ़ीसदी बढ़ गयी है। प्रधानमंत्री मोदी को देखकर ही युवा खादी के वस्त्र अपना रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि गाँधी का नाम जुड़ने से ही खादी की दुर्गति हुई थी लेकिन मोदी के आने से खादी के अच्छे दिन शुरू हो गए हैं। 

उन्होंने कहा कि जिस तरह खादी के साथ गाँधी का नाम जुड़ने से खादी की दुर्गति शुरू हो गयी उसी तरह से रुपये में गाँधी की फोटो जुड़ने से रुपये की भी दुर्गति शुरू हो गयी और उसकी कीमत गिर गयी। जिस पारकर से खादी से गाँधी की फोटो हटाई गयी है, धीरे धीरे रुपये से भी गाँधी की फोटो गायब हो जाएगी। 

विवाद बढ़ने पर अनिल विज ने ट्विटर पर सफाई दी है, उन्होंने कहा कि यह पार्टी का नहीं बल्कि मेरा निजी बयान है, अगर किसी को मेरे बयान से ठेस पहुँची हो तो मै माफी मांगता हूँ। 
भंडाफोड़: मोदी सरकार राशन भेजती है गरीबों के लिए, लेकिन बेचकर खा जाते हैं बेईमान राशन-माफिया

भंडाफोड़: मोदी सरकार राशन भेजती है गरीबों के लिए, लेकिन बेचकर खा जाते हैं बेईमान राशन-माफिया

mewat-police-exposed-rashan-scam-catch-truck-in-tawdu-haryana

Mewat, 14 January: मोदी सरकार वर्तमान में गरीबों के लिए जितना राशन भेजती है अगर वह इमानदारी से गरीबों को दिया जाए तो देश में ऐसा कोई नहीं होगा जिसके भूखा मरने की नौबत आये, लेकिन इस देश का दुर्भाग्य है कि 80 फ़ीसदी राशन डीलरों का ध्यान गरीबों को राशन देने पर नहीं रहता बल्कि दुकानों में राशन बेचने पर रहता है, नतीजा यह होता है कि गरीबों को राशन के लिए लाईन में लगाकर ये लोग परेशान करते हैं और गरीब इतना परेशान हो जाते हैं कि दोबारा राशन लेने के लिए जाते ही नहीं और ये लोग गरीबों के लिए मिलने वाले राशन को खुद ही बेचकर खा जाते हैं।

हरियाणा के मेवात के तावडू से एक ऐसा ही मामला सामने आया है जो राशन गरीबों के लिए आया था उसे उसे में भरकर अवैध तरीके से बेचने के लिए ट्रक में भेजा जा रहा था। तावडू पुलिस ने बृहस्पतिवार की रात एक ट्रक पकड़ लिया और भ्रष्टाचार के मामले का पर्दाफाश कर दिया। पकड़े गए ट्रक से 320 गेंहू के कटटे बरामद हुए है।

पुलिस ने ट्रक के चालक व उसके एक साथी को गिरफतार कर लिया है। इस गिरफतारी से कई बडे राज खुलने की सम्भावना जताई जा रही है। इससे पहले 2010  व 2016  में अवैध ढंग से गरीबों का राशन भ्रष्टाचार की भेट चढ़ता हुआ पकड़ा जा चुका है। पुलिस ने खाद्य  विभाग के स्थानीय निरीक्षक के बयान पर विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

सिटी चौकी इंचार्ज उप निरीक्षक बच्चू सिंह ने बताया की बृहस्पतिवार की रात करीबन 1 बजे गुप्त सूचना पर बाईपास से गरीबों के राशन से भरे एक गेंहू के ट्रक को आरोपी वारिस पुत्र रशीद निवासी गांव डांडा  थाना पुन्हाना व चालक इंजु पुत्र इब्राहीम निवासी गांव सुनारी थाना तावडू सहित पकड़ा गया है। पकडे गए ट्रक में 320 गेंहू की बोरी बरामद हुई है। गरीबो का राशन वेयरहाउस गोदाम सेवली होडल जिला पलवल से गांव सुनारी थाना तावडू में अवैध तरीके से बेचने के लिए लाया जा रहा था। उन्होंने बताया की चालक ने पूछताछ में बताया की यह राशन इमरान पुत्र महमूद निवासी गांव सुनारी के घर पर अलीशेर पुत्र यूनुस निवासी गांव सुनारी के ट्रक से पहुंचाया जा रहा था। पकड़ा गया गेंहू फिरोजपुर नमक गांव के गरीबों का था। जिसे डिपो होल्डर द्वारा तावडू के गांव सुनारी के इमरान को बेचा गया था।

इस भ्रष्टाचार का भंडाफोड़ व गिरफतारी से जहां विभाग में हडकम्प मच गया वहीं  पूछताछ के बाद कुछ और बडे भ्रष्टाचार का भंडाफोड होने की सम्भावना जताई जा रही है।

भ्रष्टाचार की वजह से गरीब लोग अधिकारियों के शोषण का शिकार हो रहे है। चौकी प्रभारी सब इंसपेटर बच्चू सिंह ने बताया कि पुलिस ने विभाग के निरीक्षक के ब्यान पर विभिन्न धाराओं के तहत राशन को खुर्दबुर्द करने का मामला दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने बताया की पकडे गए आरोपियों से पूछताछ के पशचात बड़े सैकंडल का पर्दाफाश होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। इस मामले में जिसकी भी संल्पिता होगी उसे बख्शा नहीं जायेगा। खाद्य एंव पूर्ति निरीक्षक तावडू इरशाद ने  बताया की उसके क्षेत्र में यह गेंहू अवैध तरीके से पहुंचा है। यह गेंहू फिरोजपुर नमक नूंह डिपो धारक जुबैर का है। जिसने इसे गांव सुनारी के इमरान को बेच दिया। इस मामले को लेकर पुलिस को शिकायत दे दी गई है। पुलिस व विभाग द्वारा मिलकर इस मामले में कार्रवाई की जायेगी जो भी इसमे दोषी होगा उसके विरूद्व कड़ी कार्रवाई होगी।

होनी चाहिए सर्जिकल स्ट्राइक

मोदी सरकार को एक सर्जिकल स्ट्राइक इन लोगों पर भी करनी चाहिए, गरीबों के लिए मिलने वाले राशन को राशन के बजाय उतनी ही रकम उनके खाते में भेजनी चाहिए और राशन डीलरों की दुकानें तुरंत बंद करनी चाहिए, क्योंकि इन्हें भ्रष्टाचार की ऐसी लत लग चुकी है कि वह छूटने वाली नहीं है।

Tuesday, January 10, 2017

ढाई साल हो गए, गरीबों को लाईन में लगाने वाले गैस डीलरों का कुछ नहीं बिगाड़ पाए मोदीजी, कुछ करो

ढाई साल हो गए, गरीबों को लाईन में लगाने वाले गैस डीलरों का कुछ नहीं बिगाड़ पाए मोदीजी, कुछ करो

sumit-enterprises-gas-dealer-faridabad-bad-work-in-modi-sarkar

New Delhi, 10 January: प्रधानमंत्री मोदी गरीबों के लिए बहुत कुछ करना चाहते हैं लेकिन सिस्टम में इतने छेद हैं कि उन्हें भरने में बहुत वक्त लगेगा। प्रधानमंत्री मोदी चाहते हैं कि गैस, तेल, चीनी, राशन और अन्य सुविधाओं के लिए लाईन में ना लगना पड़े, कम से कम गैस के लिए तो लाइन में लगना ही ना पड़े क्योंकि जितने भी गैस के ग्राहक हैं सभी का कोई ना कोई एड्रेस है जो उनकी कॉपी पर लिखा भी होता है। 

गैस डीलर सभी ग्राहकों से गैस की होम डेलिवरी का चार्ज लेते हैं लेकिन अभी भी हजारों लाखों गैस डीलर हैं जो अमीरों को तो उनके घर पर गैस पहुंचाते हैं लेकिन गरीबों को या तो एजेंसी पर बुलाते हैं या कहीं अन्य जगह पर लाईन में लगाकर गैस देते हैं। 

अमीरों को तो गैस बुक करते ही सिलेंडर मिल जाता है क्योंकि गैस डीलर उनके घर पर सिलेंडर पहुंचा देते हैं लेकिन गरीबों को गैस लेने के लिए या तो गैस डीलर के पास आना होता है या कई कई दिन तक किसी अन्य स्थान पर इन्तजार करना पड़ता है, अगर गाड़ी आती है तो उन्हें गैस मिल जाती है, अगर गाड़ी नहीं आती तो उन्हें अगले दिन फिर से लाईन में लगना पड़ता है। अगर गैस कम पड़ जाती है तो उन्हें बिना सिलेंडर लिए ही निराश होना पड़ता है। 

अब आप सोचिये, जिस आदमी को अपना काम काज छोड़कर गैस के लिए लाईन में लगना पड़ता है, कभी कभी दो-तीन दिन तक इन्तजार करना पड़ता है, कभी कभी लाईन में लगने के बावजूद भी उन्हें गैस नहीं मिलती तो उन्हें गुस्सा कितना आता होगा। ग्राहक सरकार को अपने घर पर गैस पहुंचाने के लिए अतिरिक्त पैसा भी दे रहा है उसके बावजूद भी उसे एजेंसी पर गैस लेने के लिए जाना पड़ता है। 

फरीदाबाद का गैस डीलर Sumit Enterprises भी मोदी विरोधी काम कर रहा है, जनता को लाइन में लगवाकर सिलेंडर देता है, प्याली चौक पर एक छोटी गाडी में सिलेंडर भेजता है, 100-150 लोग लाईन में लगते हैं, किसी को गैस मिलती है किसी को नहीं मिलती है, जिसको नहीं मिलती उसे दूसरे दिन आने के लिए बोलता है, अगर दूसरे दिन नहीं मिलती तो तीसरे दिन आने के लिए बोलता है। ग्राहक अपने घर पर होम डिलीवरी का भी पैसा देते हैं उसके बावजूद भी उन्हें प्याली चौक पर लाईन में लगना पड़ता है। गैस एजेंसी इतनी दूर है कि अगर ग्राहक को रिक्शे से जाना पड़े तो 200 रुपये अलग से खर्च करने पड़ते हैं। गरीबों को बुरा हाल है। इसी स्थान पर रिहायशी कालोनियों में यही डीलर घर घर गैस पहुंचाता है लेकिन गरीबों को लाईन में लगवाता है। 

गरीबों की मजबूरी यह है कि वे शिकायत भी नहीं कर सकते, उन्हें इतना ताम झाम आता नहीं, अमीर लोग शिकायत कर देते हैं इसलिए ऐसे गैस डीलरों को गरीबों का डर नहीं होता। गरीब लोग चुपचाप दर्द सहते रहते हैं, अच्छे दिन का इन्तजार करते रहते हैं, मोदी सरकार के तीन साल होने वाले हैं, दो साल और हैं, अब देखते हैं कि मोदी सरकार Sumit Enterprises जैसी गैस एजेंसियों का कुछ बिगाड़ पाती है या नहीं। 

आश्चर्य की बात तो यह है कि हरियाणा और फरीदाबाद में भी बीजेपी की ही सरकार है, उसके बावजूद भी Sumit Enterprises का कोई कुछ बिगाड़ नहीं पा रहा है, मोदी सरकार कहती है कि सभी गैस डीलर सिलेंडर को ग्राहकों के सामने तौलेंगे लेकिन Sumit Enterprises प्याली चौक पर अपने साथ तौलने वाली मशीन लाता ही नहीं है, इसका कारण यह भी हो सकता है कि एक-दो किलो गैस निकाली जा रही हो। मोदी सरकार और हरियाणा बीजेपी सरकार को तुरंत इसपर ध्यान देना चाहिए और ऐसे गैस डीलरों को सुधारना चाहिए, वर्ना अगले विधानसभा और लोकसभा चुनावों में गरीब लोग बीजेपी के खिलाफ अपना गुस्सा निकालेंगे और कमल के बटन को भूल जाएंगे। 

Monday, January 9, 2017

MCF Election 2017: बीजेपी ने नहीं दिया टिकट तो बन्दे से निर्दलीय लड़कर जीत लिया चुनाव, किया कमाल

MCF Election 2017: बीजेपी ने नहीं दिया टिकट तो बन्दे से निर्दलीय लड़कर जीत लिया चुनाव, किया कमाल

mcf-election-2017-deepak-choudhary-win-from-ward-37-faridabad

Faridabad, 9 January: फरीदाबाद नगर निगम चुनावों में बीजेपी की बम्पर जीत हुई है, पहले 40 में से 30 वार्ड पर बीजेपी को जीत मिली थी लेकिन एक निर्दलीय उम्मीदवार ने वार्ड 37 पर जब फिर से काउंटिंग कराई तो उसकी जीत हो गयी। ये निर्दलीय उम्मीदवार थे दीपक चौधरी जो पहले बीजेपी के ही कार्यकर्त्ता थे, ये जमकर बीजेपी का प्रचार करते थे, हर खबर को शेयर करते थे, हर अभियान में साथ देते थे, इन्हें अपनी जीत पर पूरा यकीन था लेकिन बीजेपी ने इनका टिकट काट दिया और इनके स्थान पर वार्ड 37 से महेश गोयल को टिकट दे दिया। 

दीपक चौधरी ने इसके बाद वार्ड 37 से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़कर अपनी ताकत दिखाने का प्रण लिया, कल जब चुनावों के रिजल्ट आये तो इन्हें हारा हुआ घोषित कर दिया गया, इन्हें अपनी हार पर जब यकीन नहीं हुआ तो इन्होने फिर से काउंटिंग कराई। इसके बाद इन्हें 53 वोटों से जीत मिल गयी। 

दीपक चौधरी ने बीजेपी प्रत्याशी महेश गोयल को 53 वोटों से हराकर बीजेपी को बता दिया कि अगर उन्हें टिकट मिलती तो बीजेपी को कई हजार मतों से जीत मिलती क्योंकि उन्हें बीजेपी समर्थकों के भी वोट मिल जाते। 

दुर्भाग्य की बात यह है कि जब दीपक चौधरी ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में लड़ने का निर्णय लिया तो बीजेपी ने इन्हें पार्टी से ही निकाल दिया। अब देखना यह है कि बीजेपी इन्हें वापस पार्टी में शामिल करती है या नहीं। यह भी देखना दिलचस्प होगा कि अब बीजेपी की जीत की संख्या केवल 29 रह गयी है, क्या दीपक चौधरी वापस बीजेपी में शामिल होकर सीटों की संख्या 30 करते हैं। वैसे दीपक के अलावा और भी कई लोग हैं जिन्हें बीजेपी ने टिकट नहीं मिला और उन्होंने निर्दलीय लड़कर चुनाव जीता है, अगर बीजेपी सही लोगों को टिकट देती तो उनकी जीत की संख्या 35 तक पहुँच सकती थी। 

Sunday, January 8, 2017

MCF Election Result 2017: मोदी की आंधी में BJP ने जीती 30 सीटें, कांग्रेस का मिटा नामोनिशान

MCF Election Result 2017: मोदी की आंधी में BJP ने जीती 30 सीटें, कांग्रेस का मिटा नामोनिशान

mcf-election-2017-result

Faridabad, 8 January: कांग्रेस को जिसका डर था फरीदाबाद में वही हुआ है, कांग्रेस ने फरीदाबाद में बीजेपी की आंधी देखकर अपने चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ने से मना कर दिया था और सभी कांग्रेसी नेता निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव में उतरे थे, आज फरीदाबाद MCF का चुनाव हुआ और नतीजे भी आज ही आ गए हैं, 40 वार्ड में से बीजेपी ने 30 पर जीत दर्ज की है, इस चुनाव में कांग्रेस पार्टी का नामोनिशान मिट गया है क्योंकि कांगेस पार्टी चुनाव से पहले ही भाग गयी थी, कांग्रेस के सभी नेता निर्दलीय उम्मीदवार बनकर चुनाव लड़े और सभी के सभी हार गए।

कांग्रेसियों ने सोचा था कि हो सकता है कि निर्दलीय बनकर लड़ने पर जनता उन्हें वोट दे दे, जीतने के बाद वे कांग्रेस की टोपी पहन लेंगे लेकिन हुआ उसका उल्टा, सबके सब हार गए, करीब 10 आजाद उम्मीदवारों ने चुनाव जीता है लेकिन ये लोग भी बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। 

अब तक कौन कौन जीता?

वार्ड 1 - सपना डागर, भाजपा
वार्ड 2 - प्रियंका चौधरी, भाजपा
वार्ड 3 - जयवीर खटाना, आजाद
वार्ड 4 - शीतल खटाना, आजाद
वार्ड 5 - ललिता यादव, आजाद
वार्ड 6 - सुरेंद्र अग्रवाल, भाजपा
वार्ड 7 - वीर सिंह नैन, भाजपा
वार्ड 8 - ममता चौधरी, भाजपा
वार्ड 9 - महेंद्र सरपंच, भाजपा
वार्ड 10 - मनवीर भड़ाना, भाजपा
वार्ड 11 - मनोज नासवा, भाजपा
वार्ड 12 - सुमन बाला, भाजपा
वार्ड 13 - सुमन भारती, भाजपा
वार्ड 14 - जसवंत सिंह, भाजपा
वार्ड 15 - संदीप भारद्वाज, आजाद
वार्ड 16 - राकेश भड़ाना, आजाद
वार्ड 17 - विकास भारद्वाज, आजाद
वार्ड 18 - रतनलाल, आजाद
वार्ड 19 - सतीश कुमार, भाजपा
वार्ड 20 - हेमा चौधरी, भाजपा
वार्ड 21 - जितेंद्र भड़ान, आजाद
वार्ड 22 - जितेंद्र यादव, भाजपा
वार्ड 23 - गीता रक्षवाल, भाजपा
वार्ड 24 - सोमलता भड़ाना, भाजपा
वार्ड 25 - मुनेश भड़ाना, आजाद
वार्ड 26 - अजय बैसला, भाजपा
वार्ड 27 - देवेंद्र चौधरी, भाजपा
वार्ड 28 - नरेश नंबरदार, भाजपा
वार्ड 29 - नीतू भाटी, आजाद
वार्ड 30 - सुभाष अाहूजा, भाजपा
वार्ड 31 - छत्रपाल यादव, भाजपा
वार्ड 32 - मनमोहन गर्ग, भाजपा
वार्ड 33 - धनेश अदलक्खा, भाजपा
वार्ड 34 - कुलबीर, भाजपा
वार्ड 35 - राकेश उर्फ कपिल डागर, भाजपा
वार्ड 36 - दीपक यादव, भाजपा
वार्ड 37 - दीपक चौधरी, आजाद, पहले भाजपा के नेता
वार्ड 38 - ओमवती सैनी, भाजपा
वार्ड 39 - हरप्रसाद गौड, भाजपा
वार्ड 40 - सविता तंवर, भाजपा

BJP से कौन कौन हारा

वार्ड 3, वार्ड 4, वार्ड 5, वार्ड 15, वार्ड 16, वार्ड 17, वार्ड 18, वार्ड 21, वार्ड 25, वार्ड 29  में बीजेपी को हार मिली है। मतलब बीजेपी को 30 वार्डों में जीत मिली है और 10 वार्डों में हार मिली है, यहाँ पर यह देखना भी दिलचस्प है कि बीजेपी को कई वार्डों में एकतरफा हार भी मिली है जैसे वार्ड 3, 4, 5 और 15, 16, 17, 18.
MCF Election Live Result: फरीदाबाद में एकतरफा खिलता जा रहा कमल, मोदी की आंधी में उड़े विरोधी

MCF Election Live Result: फरीदाबाद में एकतरफा खिलता जा रहा कमल, मोदी की आंधी में उड़े विरोधी

faridabad-mcf-election-live-result-bjp-winning-in-modi-lahar

Faridabad, 8 January: कांग्रेस को जिसका डर था फरीदाबाद में वही हुआ है, कांग्रेस ने फरीदाबाद में बीजेपी की आंधी देखकर अपने चुनाव चिन्ह पर चुनाव लड़ने से मना कर दिया था और सभी कांग्रेसी नेता निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव में उतरे थे, आज फरीदाबाद MCF का चुनाव हुआ और नतीजे भी आने शुरू हो गए हैं, अब तक 40 में से करीब 30 सीटों पर बीजेपी की जीत हो चुकी है, अगर यही ट्रेंड रहा तो बीजेपी को 40 में से कम से कम 32-35 सीटों पर जीत मिलेगी। पूरा रिजल्ट कल सामने आएगा। 

अब तक कौन कौन जीता?

वार्ड 1 - सपना डागर, भाजपा
वार्ड 2 - प्रियंका चौधरी, भाजपा
वार्ड 3 - जयवीर खटाना, आजाद
वार्ड 4 - शीतल खटाना, आजाद
वार्ड 5 - ललिता यादव, आजाद
वार्ड 6 - सुरेंद्र अग्रवाल, भाजपा
वार्ड 7 - वीर सिंह नैन, भाजपा
वार्ड 8 - ममता चौधरी, भाजपा
वार्ड 9 - महेंद्र सरपंच, भाजपा
वार्ड 10 - मनवीर भड़ाना, भाजपा
वार्ड 11 - मनोज नासवा, भाजपा
वार्ड 12 - सुमन बाला, भाजपा
वार्ड 13 - सुमन भारती, भाजपा
वार्ड 14 - जसवंत सिंह, भाजपा
वार्ड 15 - संदीप भारद्वाज, आजाद
वार्ड 16 - राकेश भड़ाना, आजाद
वार्ड 17 - विकास भारद्वाज, आजाद
वार्ड 18 - रतनलाल, आजाद
वार्ड 19 - सतीश कुमार, भाजपा
वार्ड 20 - हेमा चौधरी, भाजपा
वार्ड 21 - जितेंद्र भड़ान, आजाद
वार्ड 22 - जितेंद्र यादव, भाजपा
वार्ड 23 - गीता रक्षवाल, भाजपा
वार्ड 24 - सोमलता भड़ाना, भाजपा
वार्ड 25 - मुनेश भड़ाना, आजाद
वार्ड 26 - अजय बैसला, भाजपा
वार्ड 27 - देवेंद्र चौधरी, भाजपा
वार्ड 28 - नरेश नंबरदार, भाजपा
वार्ड 29 - नीतू भाटी, आजाद
वार्ड 30 - सुभाष अाहूजा, भाजपा
वार्ड 31 - छत्रपाल यादव, भाजपा
वार्ड 32 - मनमोहन गर्ग, भाजपा
वार्ड 33 - धनेश अदलक्खा, भाजपा
वार्ड 34 - कुलबीर, भाजपा
वार्ड 35 - राकेश उर्फ कपिल डागर, भाजपा
वार्ड 36 - दीपक यादव, भाजपा
वार्ड 37 - महेश गोयल, भाजपा
वार्ड 38 - ओमवती सैनी, भाजपा
वार्ड 39 - हरप्रसाद गौड, भाजपा
वार्ड 40 - सविता तंवर, भाजपा

BJP से कौन कौन हारा

वार्ड 3, वार्ड 4, वार्ड 5, वार्ड 15, वार्ड 16, वार्ड 17, वार्ड 18, वार्ड 21, वार्ड 25, वार्ड 29  में बीजेपी को हार मिली है। मतलब बीजेपी को 30 वार्डों में जीत मिली है और 10 वार्डों में हार मिली है, यहाँ पर यह देखना भी दिलचस्प है कि बीजेपी को कई वार्डों में एकतरफा हार भी मिली है जैसे वार्ड 3, 4, 5 और 15, 16, 17, 18.


Faridabad MCF Election 2017, वोटिंग शुरू, बीजेपी से मुकाबले में कांग्रेस पहले ही बाहर

Faridabad MCF Election 2017, वोटिंग शुरू, बीजेपी से मुकाबले में कांग्रेस पहले ही बाहर

faridabad-mcf-election-2017-voting-started-on-8-january

Faridabad, 8 January: फरीदाबाद में MCF Election 2017 में पार्षदों के चुनाव के लिए वोटिंग शुरू हो चुकी है, इस बार इतिहास में पहली बार हो रहा है जब बीजेपी को टक्कर देने के लिए कोई पार्टी नहीं है, कांग्रेस पार्टी हार के डर से चुनाव नहीं लड़ रही है और उसके सभी नेता निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं। 

इस बार फरीदाबाद में वोटरों के अधिक जोश नहीं दिख रहा है इसलिए हो सकता है कि केवल 55 फ़ीसदी मतदान हो, जिस प्रकार का जोश लोकसभा और विधानसभा चुनावों में दिखा था वह जोश MCF चुनावों में नहीं दिख रहा है, वोटरों को शायद पार्षदों या नगर निगम से किसी प्रकार की उम्मीद नहीं है इसलिए लोग घरों से वोट देने के लिए बाहर नहीं निकल रहे हैं। 

फरीदाबाद नगर निगम से फरीदाबाद के लोग इस कदर निराश हैं कि इसे फरीदाबाद नरक निगम भी कहते हैं, इससे पहले यहाँ पर कांग्रेस का राज रहता था, ज्यादातर पार्षद और मेयर कांग्रेसी थे, लेकिन इस बार हार के डर से पूर्व कांग्रेसी पार्षद निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में लड़ रहे हैं और सभी ने इमानदारी की टोपी पहन ली है। अब देखना यह है कि फरीदाबाद के वोटर कांग्रेसी नेताओं पर फिर से भरोसा करते हैं या कमल खिलाते हैं।

आश्चर्य की बात तो यह है कि सभी कांग्रेसी नेता भले ही निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं लेकिन उन्होंने नोटबंदी को प्रमुख मुद्दा मनाया है और मोदी सरकार के खिलाफ जमकर आग उगली है। अब देखना यह है कि वोटर्स उनकी बात पर भरोसा करते हैं या नोटबंदी का समर्थन करते हुए बीजेपी को वोट देते हैं। 

Tuesday, January 3, 2017

फरीदाबाद में 100 ATM में से केवल 4-5 ATM से ही निकल रहा है पैसा, ज्यादातर ATM मुर्दा हालत में

फरीदाबाद में 100 ATM में से केवल 4-5 ATM से ही निकल रहा है पैसा, ज्यादातर ATM मुर्दा हालत में

notbandi-end-most-of-faridabad-atms-not-giving-cash

Faridabad, 3 January: नए साल में तीन दिन बीत गए हैं, लेकिन फरीदाबाद सहित दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के एटीएम को अब भी हालात सामान्य नहीं हुए है। अभी भी 100 में से 95 ATM या तो ख़राब हैं या इनमें कैश नहीं डाला जाता है। 

ज्यादातर बुरा हाल तो प्राइवेट बैंक के ATM का है, प्राइवेट बैंक वालों ने तो जैसे अपने ATM में कैश ना डालने की कसम खा ली है, Asix Bank के किसी भी ATM में नोटबंदी के बाद कैश नहीं डाला गया, HDFC, ICICI और अन्य बड़ी बैंकों का भी वही हाल है, स्टेट बैंक के ATM में जरूर कैश मिलता है लेकिन 10 में से सिर्फ 2-3 ATM में ही नोट डाले जाते हैं। 

फरीदाबाद की तरह दिल्ली में भी अभी तक कैश की समस्या ख़त्म नहीं हुई है। आज हुए सर्वे में लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री आवास से महज दो किलोमीटर के दायरे में नई दिल्ली इलाके में स्थित कनॉट प्लेस में चालू स्थिति में मिले जबकि लगभग उतने ही एटीएम ऐसे थे जिनमें या तो नकदी नहीं था या वे काम नहीं कर रहे थे। 

बी और सी ब्लॉक के स्टैंडर्ड चार्टर्ड एवं भारतीय स्टेट बैंक के एटीएम के सर्वर ही काम नहीं कर रहे थे। 

ए ब्लॉक में ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम में नकदी थी और हर एटीएम पर औसतन 15-20 लोग लाइन में थे। 

प्रधानमंत्री मोदी ने नकदी संकट पर लोगों से राहत के लिए 50 दिन का समय मांगा था। नोटबंदी के बाद सभी सरकारी और निजी क्षेत्र के बैंकों के एटीएम सभी नकदी संकट से जूझ रहे हैं। 

प्रधानमंत्री का खुद तय की गई 50 दिनों की समय सीमा 30 दिसंबर को समाप्त हो गई है लेकिन बैंकों में या एटीएम के जरिए नकदी कम-कम ही मिल रही है। अधिकांश एटीएम अब भी खाली हैं। बहुत सारे एटीएम मशीनों को अब भी नकदी निकालने के लिए विभिन्न आकार के नोटों को निकालने के लायक बनाया जाना है। 

Sunday, January 1, 2017

जूता अटैक के लिए केजरीवाल ने ठहराया मोदी को जिम्मेदार, बोले 'कायर हैं मोदी, सामना नहीं कर सकते'

जूता अटैक के लिए केजरीवाल ने ठहराया मोदी को जिम्मेदार, बोले 'कायर हैं मोदी, सामना नहीं कर सकते'

kejriwal-criticize-modi-for-joota-attack-in-rohtak

रोहतक, 1 जनवरी: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हरियाणा में उन पर हुए जूते हमले के लिए रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया। रोहतक में एक रैली को संबोधित करने के दौरान एक युवक ने आम आदमी पार्टी (आप) नेता की तरफ एक जूता फेंका। यह मंच के किनारे से टकराया और केजरीवाल से काफी दूर गिरा। वह उस समय नोटबंदी के खिलाफ बोल रहे थे।

आप कायकर्ता तुरंत हमलावर पर टूट पड़े, लेकिन केजरीवाल ने उसे छोड़ने का लगातार अनुरोध किया।

हंगामे के बीच गरजते हुए केजरीवाल ने कहा, "मैंने बार-बार कहा कि मोदी जी कायर हैं। आज (रविवार को) उनके कुछ समर्थकों ने मुझ पर जूता फेंका। मोदी में हम लोगों का सीधा सामना करने का साहस नहीं है। वह अपने एजेंट भेजते हैं।"

बाद में केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, "मोदी जी, हमलोग भी ऐसा कर सकते हैं, लेकिन हमारे सांस्कृतिक मूल्य यह करने की इजाजत नहीं देते हैं।"

उन्होंने कहा, "मेरे एक मंत्री पर आपके सीबीआई छापे या जूता हमले के बावजूद मैं नोटबंदी घोटाला और सहारा-बिड़ला रिश्वत मामले के पीछे के सत्य को उजागर करना जारी रखूंगा।"

Thursday, December 29, 2016

हरियाणा में बंद होगी गेंहू की कालाबाजारी, खट्टर सरकार बांटेगी सेहतमंद आटा, बढेगा रोजगार

हरियाणा में बंद होगी गेंहू की कालाबाजारी, खट्टर सरकार बांटेगी सेहतमंद आटा, बढेगा रोजगार

haryana-khattar-sarkar-will-distribute-fortified-floor-instead-of-wheat

चण्डीगढ़, 29 दिसंबर: अक्सर सुनने में आता है कि राशन कार्ड डीलर गरीबों को दिए जाने वाले गेंहू को गरीबों को ना देकर उन्हें दुकानों पर बेच देते हैं और गरीबों के हक दाना खुद ही खा जाते हैं, हरियाणा की खट्टर सरकार ने अब इसका भी तरीका खोज निकाला है, अब BPL परिवारों को गेंहू के बजाय सेहतबंद आटा बांटने का निर्णय किया है, आट में विटामिन्स और आयरन मिलकर इसे सेहतमंद भी बनाया जाएगा और इस प्रक्रिया में हजारों लोगों को रोजगार भी मिलेगा। 

इस निर्णय से विशेषकर महिलाओं, बच्चों को फायदा मिलेगा क्योंकि आटे में आयरन, विटामिनस तथा अन्य मिनरल्स मिलाया जाएगा ताकि गरीबों को जरूरत का पोषण भी मिल सके। प्रारम्भ में, इस योजना को पॉयलट प्रोजेक्ट के रूप में जिला अम्बाला के खण्ड बराड़ा और नारायणगढ़ में लागू किया जाएगा। 

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में आज यहां सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत फोर्टिफाइड आटा वितरित करने के सम्बंध में आयोजित एक बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया। महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती कविता जैन और खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले राज्य मंत्री श्री कर्ण देव काम्बोज भी इस बैठक में उपस्थित थे। 

इस योजना के तहत खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग इन दोनों खण्डों में गेहूं के स्थान पर प्रतिदिन आयरन, फोलिक एसिड और विटामिन बी12 से युक्त लगभग 1450 मीट्रिक टन आटा वितरित किया जाएगा। इस परियोजना की सफलता के उपरांत इस योजना को प्रदेशभर में लागू किया जाएगा। 

मनोहर लाल ने हैफेड को अपनी आटा मिल, करनाल की वर्तमान क्षमता बढ़ाने या प्राईवेट मिल को दीर्घावधि पट्टे पर लेने के निर्देश दिए ताकि इन दोनों खण्डों में फोर्टिफाइड आटे की आवश्यकता को पूरा किया जा सके। इसके अतिरिक्त, उन्होंने खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग और हैफेड को इसमें उचित तत्वों (फोर्टिफिकेशन) की गुणवत्ता नियंत्रण को  सुनिश्चित करने के लिए फुलप्रूफ तंत्र तैयार करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के लोगों को पौष्टिक आहार प्रदान करने के लिए कृतसंकल्प है। उन्होंने कहा कि अप्रैल मास से मिड डे मिल योजना के तहत स्कूल में बच्चों को दूध दिया जाएगा। 

फोर्टिफाइड गेहूं के आटे के वितरण से विशेषकर महिलाओं में न केवल आयरन की कमी को पूरा किया जा सकेगा बल्कि उचित मूल्यों की दुकानों पर गेहूं के अनुचित उपयोग पर अंकुश लगाने में भी सहायता मिलेगी। बैठक में बताया गया कि हैफेड ने फोर्टिफिकेशन के क्षेत्र में अनेक कदम उठाएं हैं। 

बैठक में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजेश खुल्लर, अतिरिक्त प्रधान सचिव डॉ० राकेश गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग एस.एस. प्रसाद, हैफेड की प्रबन्ध निदेशक श्रीमती सुकृति लिखी, पीजीआईएमईआर, चंडीगढ़ के कम्युनिटी मेडिसिन एंड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के विभागाध्यक्ष डॉ० राजेश कुमार और राज्य सरकार के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।  
Axis Bank के ग्राहक कहते हैं ‘इस बैंक ने हमें परेशान किया, हम भी खाता बंद करवाकर ले लेंगे बदला’

Axis Bank के ग्राहक कहते हैं ‘इस बैंक ने हमें परेशान किया, हम भी खाता बंद करवाकर ले लेंगे बदला’

axis-bank-customer-will-close-their-account-due-to-cheating-fraud

Faridabad, 28 December: फरीदाबाद शहर लगभग लगभग नोटबंदी के बाद हो रही परेशानी से उबर चुका है, एक्सिस बैंक को छोड़कर लगभग सभी बैंकें अपने ग्राहकों को पैसे देने लगी हैं, एक्सिस बैंक को छोड़कर सभी बैंकों में लाइनें ख़त्म हो गयी हैं।

फरीदाबाद 1-2 चौक के एक्सिस बैंक में बुरा हाल है, यहाँ पर सुबह 9-10 बजे तक टोकन बांटा जाता है और पांच दिन बार कैश के लिए बुलाया जाता है, अन्य बैंकों में आधे घंटे में कैश मिल जाता है लेकिन एक्सिस बैंक में पांच दिन बाद कैश मिल जाता है, जो इमानदार ग्राहक 9-10 बजे के बीच नहीं आते उन्हें टोकन नहीं दिया जाता और ना ही उन्हें कैश मिलता है। हाँ बेईमानों को तुरंत ही गेट से अन्दर प्रवेश कर दिया जाता है और उन्हें कैश दे दिया जाता है, अधिक मात्रा में कैश लेने वालों को बैंक के चोर अधिकारी खुद लिफ़ाफ़े में कैश भरकर बाहर ही दे देते हैं। यह खेल खुलेआम चलता है। बैंक अधिकारीयों को किसी का डर नहीं है। इनकम टैक्स की भी नजरें अभी तक इस ब्रांच पर नहीं पड़ी हैं। 

इस बैंक के इमानदार ग्राहकों को घंटों घंटों बैंक से बाहर लाइन में खड़ा किया जाता है, पैसा जमा कराने वालों को भी एक ही लाईन में खड़ा किया जाता है, अन्य बैंकों को पुराने नोट तुरंत ही जमा कर दिए जाते हैं और उनमें अलग से काउंटर भी होते हैं लेकिन एक्सिस बैंक में एक ही काउंटर पर पैसे जमा भी होते हैं और उसी काउंटर पर कैश भी दिया जाता है इसलिए कैश के लिए लोगों को घंटों घंटों लाइनों में खड़ा होगा पड़ता है। 

लाइन में खड़े होने वाले लोग कहते हैं - अगर मोदी फेल हुए तो सिर्फ एक्सिस बैंक की वजह से फेल होंगे क्योंकि यह बैंक पूरी तरह से धांधली में लगा हुआ है, इसके लगभग सभी इमानदार ग्राहक परेशान हैं, चोर खुश हैं क्योंकि वे बैंक के अधिकारियों को कमीशन देकर अपने कालेधन को सफ़ेद कर रहे हैं। पाप करने के चक्कर में ही यह बैंक ग्राहकों को बैंक के बाहर लाइन में लगवाकर रखता है ताकि इसके पाप को कोई देख ना सके। 

इस बैंक के लगभग सभी इमानदार ग्राहक यही कहते हैं कि नोटबंक के बाद इस बैंक की असलियत का पता चल गया, यह एक चोर और धोखेबाज बैंक है और इस बैंक में खाता बंद करवाना चाहिए। लगभग सभी बैंक ग्राहक अपने खातों को बंद कराने वाले हैं। सभी लोग एक्सिस बैंक से खाता बंद करवाकर सरकारी स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में खाता खुलवाने की बात करते हैं। नोटबंदी के बाद ग्राहक ही इस बैंक को सबक सिखाने की सोच रहे हैं। 

Tuesday, December 27, 2016

फरीदाबाद 1 नम्बर मार्किट का Axis Bank दिखाता है दादागिरी, ग्राहकों को करता है परेशान

फरीदाबाद 1 नम्बर मार्किट का Axis Bank दिखाता है दादागिरी, ग्राहकों को करता है परेशान

axis-bank-1-2-chowk-crown-complex-branch-news-after-notbandi

Faridabad, 27 December: नोटबंदी के बाद बैंकों में भीड़ ख़त्म होने लगी है, कई बैंक ग्राहकों की अच्छी सेवा कर रहे हैं खासकर सरकारी बैंक लेकिन एक्सिस बैंक अभी भी ग्राहकों को परेशान कर रहा है, फरीदाबाद 1-2 चौक पर स्थित एक्सिस बैंक नोटबंदी की शुरुआत से ही धांधली और नोटों की कालाबाजारी में लग चुका था, जब इस बैंक के खिलाफ नारेबाजी हुई तो इसने कुछ काम करना शुरू किया लेकिन अभी भी इस बैंक का ज्यादातर समय पाप छिपाने में लगता है इसलिए ग्राहकों को परेशान किया जा रहा है। 

हालात यह है कि 2 बजे के बाद ही ग्राहकों को बैंक के अन्दर जाने से रोक दिया जाता है। कुछ ग्राहक भीड़ ख़त्म होने का इन्तजार कर रहे थे इसलिए आखिरी हफ्ते में पैसा जमा करवा रहे हैं, सुबह पैसा लेने वालों की भीड़ होती है इसलिए कुछ लोग 2 बजे के बाद पुराने नोट जमा करवाने जाते हैं, ऐसे ग्राहकों को गार्ड बैंक के अन्दर जाने ही नहीं देते और सुबह आने के लिए कहते हैं। 

सरकारी बैंक शाम पांच बजे तक नोट जमा कर रहे हैं और वहां पर किसी को रोका भी नहीं जाता लेकिन एक्सिस बैंक ग्राहकों को बैंक के अन्दर जाने ही नहीं देता, जो सुबह आते हैं और दो तीन घंटे तक लाइन में खड़े होते हैं उन्हें टोकन दे दिया जाता है और उन्हें ही अन्दर जाने दिया जाता है, कालेधन वालों को किसी भी समय बैंक में प्रवेश दे दिया जाता है और उनके साथ साठ-गाँठ चलती रहती है लेकिन इमानदार ग्राहकों को गार्ड देखते ही रोक देते हैं। 

अगर ऐसा ही चलता रहा तो इस एक्सिस बैंक के ग्राहक जल्द ही अपना खाता बंदकर इस बैंक को सबक सिखाएंगे। अभी तक सबसे अधिक नोट घोटाले का मामला भी एक्सिस बैंक में ही सामने आया है। सरकार को इस बैंक पर छापा मारकर इसके बैंक खातों की जांच करनी चाहिए, कहीं ऐसा ना हो कि यह बैंक अपने पापों को छिपा ले क्योंकि आजकल इस बैंक का आधा समय अपने पापों को छिपाने और सबूत मिटाने में लग रहा है। 
राहुल और कांग्रेस की बदनामी से डरकर सभी कांग्रेसी निर्दलीय लड़ रहे हैं MCF चुनाव, पंजा हुआ गायब

राहुल और कांग्रेस की बदनामी से डरकर सभी कांग्रेसी निर्दलीय लड़ रहे हैं MCF चुनाव, पंजा हुआ गायब

congres-leaders-fighting-independent-in-faridabad-mcf-election-2017

New Delhi, 27 December: फरीदाबाद दिल्ली से अधिक दूर नहीं है, NCR में फरीदाबाद भी आता है लेकिन इतिहास में पहली बार हो रहा है कि फरीदाबाद  नगर निगम चुनाव में कांग्रेस के सभी प्रत्याशी कांग्रेस पार्टी से नहीं बल्कि निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में लड़ रहे हैं। वे जानते हैं कि चुनाव में हारने के बाद कांग्रेस पार्टी और खासकर राहुल गाँधी की बहुत बदनामी होती है, लोग उनकी जमकर हंसी उड़ाते हैं इसलिए कांग्रेस पार्टी ने बदनामी से डरकर फरीदाबाद में अगले महीने होने वाले MCF चुनावों में पार्टी को ना लड़ाने का फैसला किया, इसका नतीजा यह हुआ है कि सभी प्रत्याशी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं और चुनाव प्रचार से हाथ का पंजा गायब है। 

फरीदाबाद में 40 वार्ड के लिए 8 जनवरी को चुनाव होने हैं, पहली बार देखा जा रहा है कि बीजेपी के सामने कांग्रेस ने चुनाव से पहले ही हथियार डाल दिए हैं, कांग्रेस ने चंडीगढ़ नगर निगम में बीजेपी के खिलाफ चुनाव लड़ा था लेकिन वहां पर उसकी करारी हार मिली, बीजेपी को 26 में से 21 सीटें मिली तो कांग्रेस को केवल 4 सीटें मिलीं। 

चंडीगढ़ चुनाव हारने के बाद कांग्रेस और राहुल गाँधी की बहुत बदमानी हुई, उन्होंने नोटबंदी के खिलाफ जमकर प्रचार किया था, मोदी को जमकर गालियाँ दी थीं लेकिन जनता ने उन्हें सबक सिखा दिया। 

कांग्रेस ने सोचा कि कहीं फरीदाबाद में भी ऐसा ही ना हो, इससे पहले नगर निगम में उनकी ही सरकार थी, ज्यादातर पार्षद कांग्रेस पार्टी के थे, मेयर भी कांग्रेस पार्टी के थे उसके बावजूद भी कांग्रेस हार से इतना डर गयी कि सभी प्रत्याशियों को स्वतंत्र कर दिया।

इस वक्त फरीदाबाद में चुनाव प्रचार बहुत जोर शोर से चल रहा है, सभी कांग्रेसी नेता नोटबंदी के खिलाफ जमकर प्रचार कर रहे हैं, लोगों को जमकर भड़का रहे हैं, मोदी को जमकर कोस रहे हैं, वोटों के भीख मांग रहे हैं लेकिन पंजे का नाम नहीं ले रहे हैं, राहुल गाँधी का भी नाम नहीं ले रहे हैं, अपने बैनरों और पोस्टरों ने कांग्रेस और सोनिया गांधी की फोटो हटा दी है, हाथ का पंजा निशान को गायब कर दिया है। अब देखते हैं कि फरीदाबाद की जनता इनके झांसे में आती है या नहीं। 

Sunday, December 25, 2016

कैशलेस की रफ़्तार में 'मोदी के मनोहर' ने लगाई दौड़, हरियाणा को कैशलेस बनाने के लिए लगा दी ताकत

कैशलेस की रफ़्तार में 'मोदी के मनोहर' ने लगाई दौड़, हरियाणा को कैशलेस बनाने के लिए लगा दी ताकत

manohar-lal-khattar-making-haryana-cashless-supporting-pm-modi

Haryana, 25 December: प्रधानमंत्री मोदी देश को कैशलेस बनाना चाहते हैं ताकी कालेधन और भ्रष्टाचार की बीमारी ख़त्म हो और सभी लोग इमानदारी से अपना टैक्स जमा करें। अगर लोग अपनी कमाई का टैक्स जमा करेंगे तो देश के खजाने में अधिक रुपये आयेंगे और देश का तेज गति से विकास होगा। 

प्रधानमंत्री मोदी के सपनों को पूरा करने के लिए उन्हें राज्यों का साथ चाहिए, सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों का साथ चाहिए, केजरीवाल और ममता बनर्जी जैसे लोग तो उनका साथ देंगे नहीं क्योंकि ये लोग तो चाहते हैं कि लोग बैंकों में अपने पैसे जमा ही ना करें। ऐसे में मोदी को बीजेपी शासित राज्यों पर ही अधिक भरोसा है। 

मोदी का साथ देने वालों में सबसे आगे हैं हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर। खट्टर ने पहले ही दिन से मोदी के सपनों को पूरा करने की कोशिश शुरू कर दी है, उन्होंने हरियाणा को कैशलेस की रफ़्तार में सबसे आगे दौड़ा दिया है। वे खुद कैशलेस के बारे में लोगों को जागरूक कर रहे हैं। अपने मंत्रियों और विधायकों को जागरूकता के काम में लगा दिया है। 

आज उन्होंने ANI से बात करते हुए नोटबंदी और कैशलेस अर्थव्यवस्था के लिए प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि हमारी सरकार ने कैशलेस अर्थव्यवस्था को अपनाना शुरू कर दिया हिया। 

उन्होंने कहा कि हरियाणा के कई गाँव कैशलेस अर्थव्यवस्था को अपना रहे हैं, हमने लोगों को प्रोत्साहन राशि भी देनी शुरू कर दी है और अब तक 65 लोगों को 1.5 लाख रुपये दिए जा चुके हैं।

खट्टर ने कहा कि नकद लेनदेन ने भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है और कालेधन की समस्या उत्पन्न होती है, कैशलेस लेनदेन ने भ्रष्टाचार के रास्ते बंद हो जाएंगे।

आज मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए कई तरह की प्रोत्साहन राशि की घोषणा की। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद कैशलेस लेनदेन में 200-300 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हुई है। 

Wednesday, December 21, 2016

60 सालों में देश को लूटकर गरीबों का खून कांग्रेस ने चूसा था, मोदी तो खून चढ़ा रहे हैं: KP गुर्जर

60 सालों में देश को लूटकर गरीबों का खून कांग्रेस ने चूसा था, मोदी तो खून चढ़ा रहे हैं: KP गुर्जर

krishan-pal-gurjar-strong-reply-to-rahul-gandhi-on-notbandi

Faridabad, 21 December: केंद्रीय राज्य मंत्री और फरीदाबाद से बीजेपी सांसद कृष्ण पाल गुर्जर ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी के उस बयान का करारा जवाब दिया है जिसमें राहुल गाँधी ने कहा था कि मोदी ने नोटबंदी करके इस देश एक 99 फ़ीसदी लोगों का खून चूस लिया है।

पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए मंत्री गुर्जर ने कहा - आज चंडीगढ़ के चुनाव नतीजों ने साफ़ साफ़ बता दिया है कि मोदी ने अगर गरीबों का खून खींचा है तो उनके कल्याण के लिए। उन्होंने कहा कि गरीबों का खून तो राहुल गाँधी की पार्टी कांग्रेस ने देश को 60 वर्षों तक लूटकर, भ्रष्टाचार करके खींचा था। खून खींचने की बात वही कर रहे हैं जिन्होंने इस देश के गरीबों का खून पिया है, इन्होने घोटालों के द्वारा, भ्रष्टाचार के द्वारा, बेईमानी के द्वारा असली खून तो उन्होंने ही चूसा था गरीबों का।

गुर्जर ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी तो गरीबों को फिर से खून चढ़ा रहे हैं, उसको ऑक्सीजन देने का काम कर रहे हैं।

गुर्जर ने यह भी कहा कि बीजेपी हर जगह लोकल चुनावों और विधानसभा, लोकसभा उपचुनावों में में जीत रही है जिसका मतलब है कि गरीब लोग मोदीजी की नीतियों पर विश्वास करते हैं। उन्होंने कहा कि मोदीजी की सभी नीतियां देश को मजबूत करने वाली हैं, देश को कालेधन से मुक्त करने वाली हैं, भ्रष्टाचारियों से मुक्त करने वाली हैं, घोटालेबाजों से मुक्त करने के लिए हैं। मोदी जी इस देश में इमानदारी के काम कर रहे हैं, देश की जनता जानती है कि मोदीजी का सिर्फ एक ही अजेंडा है विकास विकास और विकास।

उन्होंने कहा कि मोदीजी ने शपथ देने के बाद ही कहा था कि मेरी सरकार गरीबों को समर्पित सरकार है, आज वे गरीबों के लिए काम कर रहे हैं तो कांग्रेस के मित्रों को परेशानी हो रही है, लेकिन देश की जनता मोदीजी के साथ है इसका जीता जागता उदाहरण चंडीगढ़ की विशाल जीत है। उन्होंने कहा कि मै चंडीगढ़ की जनता को धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने विपक्षियों को बता दिया कि तुम गरीबों के हितैषी नहीं हो, तुम लोग गरीब लोगों के खीलाफ हो, मोदीजी गरीबों का कल्याण करना चाहते हैं और तुम उसमें बाधा बने हुए हो।

उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ का चुनाव उन विपक्षी दलों के लिए आइना है जो गरीबों के काम में बाधा बनते हैं, गरीबों का कल्याण करने वालों के रास्ते में रुकावट डालते हैं, यह उनके लिए सबक है कि तुम कालेधन वालों की हिमायत मत करो,  तुम गरीबों के लिए किये जा रहे कामों को मत रोको, यह सबक चंडीगढ़ के लोगों ने दे दिया है और अब फरीदाबाद के लोग भी इन्हें यही सबक देना चाहते हैं इसीलिए कांग्रेस अपने चुनाव चिन्ह पर लड़ने से भाग रही है क्योंकि इनको मालुम है कि जैसे देश मोदीजी के साथ खड़ा है वैसे ही फरीदाबाद की जनता भी मोदी के साथ खड़ी रहेगी। उन्होंने कहा कि मुझे फरीदाबाद की जनता पर पूरा भरोसा है कि वह बीजेपी को दो-तिहाई के बहुमत से नगर निगम चुनावों में विजयी बनाएगी।

गुरुग्राम में दिल्ली-जयपुर राजमार्ग पर 15 लाख रुपये जब्त

गुरुग्राम में दिल्ली-जयपुर राजमार्ग पर 15 लाख रुपये जब्त

gurugram-news-rs-15-lakh-recovered-from-delhi-jaipur-highway

गुरुग्राम, 20 दिसंबर: पुलिस ने यहां दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 पर दो कार से करीब 15.33 लाख रुपये जब्त किए हैं। एक पुलिस अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए बिलासपुर अपराध शाखा के प्रमुख बाबू लाल और उनकी टीम ने बिलासपुर के पुराने टोल प्लाजा पर चेकिंग के दौरान दो कार से 15.33 लाख रुपये बरामद किए।

दोनों कार हरियाणा के महेंद्रगढ़ से दिल्ली की ओर आ रही थीं।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि एक कार से 2000 रुपये के नोटों में छह लाख रुपये बरामद हुए हैं, जबकि दूसरी कार से 933,600 रुपये बरामद हुए हैं, जिनमें 50 रुपये के नोटों में 25000 रुपये और शेष राशि 1000 रुपये के नोटों में हैं।

अधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, करीब पंद्रह दिनों के अंदर गुरुग्राम में 1.75 करोड़ रुपये 2000 और 500 रुपये के नए नोटों में जब्त किए गए हैं।