Showing posts with label Delhi. Show all posts
Showing posts with label Delhi. Show all posts

Friday, February 17, 2017

दिल्ली: मरे चूहे वाला खाना खाकर सरकारी स्कूल के बच्चे बीमार, बुरे फंसे केजरीवाल, चौतरफा विरोध

दिल्ली: मरे चूहे वाला खाना खाकर सरकारी स्कूल के बच्चे बीमार, बुरे फंसे केजरीवाल, चौतरफा विरोध

dead-rat-found-in-mid-day-meal
नई दिल्ली, 16 फरवरी: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का इस वक्त चौतरफा विरोध हो रहा है, दिल्ली के एक सरकारी स्कूल के मिड डे मील में मारा हुआ चूहा पाया गया, इस खाने को खाने वाले 9 बच्चे बीमारी हो गए और उन्हें अस्पताल में कल भर्ती कराना पड़ा। यह खबर दिल्ली के Deoli इलाके के बॉयज सीनियर सेकंडरी स्कूल की है। 

अब केजरीवाल का चौतरफा विरोध शुरू हो चुका है, बीजेपी और कांग्रेस ने उनके खिलाफ हल्ला बोल दिया है खासकर बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी को केजरीवाल के पीछे ही पड़ चुके हैं और पिछले एक महीने से दिल्ली की एक एक गली में घूम केजरीवाल के विकास की पोल खोल रहे हैं। बीजेपी का कहना है कि केजरीवाल, उनके मंत्री और उनके विधायक दूसरे राज्यों में घूम घूम कर चुनाव प्रचार कर रहे हैं और दिल्ली के सरकारी स्कूलों को राम भरोसे छोड़ दिया है और बच्चों को मारा हुआ चूहे वाला खाना खाना पड़ रहा है।

बवाल बढ़ते देखकर दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने स्कूल का दौरा किया और दोषी लोगों के खिलफ FIR दर्ज करने का आदेश दिया लेकिन पुलिस के अनुसार अभी तक कोई लिखित शिकायत उनके पास नहीं आयी थी। फिलहाल केजरीवाल सरकार एक बार फिर से मुसीबत में फंस चुकी है। 

Friday, February 10, 2017

मोदी के पास CBI है तो हमारे पास भी RTI है: मनीष सिसोदिया

मोदी के पास CBI है तो हमारे पास भी RTI है: मनीष सिसोदिया

manish-sisodia-said-if-modi-has-cbi-then-we-have-rti

नई दिल्ली, 10 फरवरी: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल और अन्य सोशल मीडिया अभियानों पर खर्च की गई धनराशि के विवरण हासिल करने के लिए शुक्रवार को एक आरटीआई दाखिल की। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता ने कहा कि चूंकि मोदी सरकार इसी तरह की जानकारी हासिल करने के लिए दिल्ली सरकार के खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) का इस्तेमाल कर रही है, लिहाजा हम आरटीआई का सहारा ले रहे हैं।

सिसोदिया ने यहां संवाददाताओं से कहा, "यदि मोदीजी के पास सीबीआई है, तो हमारे पास आरटीआई (सूचना का अधिकार)।"

सिसोदिया ने यह आरटीआई ऐसे समय में दाखिल की है, जब 'टाक टू एके' सोशल मीडिया अभियान में कथित अनियमितता की जांच के लिए सीबीआई ने पिछले महीने उनके खिलाफ प्राथमिक जांच दर्ज की थी।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने डिप्टी का समर्थन करते हुए कहा कि सीबीआई को चाहिए कि वह मोदी की भी जांच करे।

केजरीवाल ने कहा, "जिस तरह से प्रधानमंत्री कार्यालय ने डिजिटल विज्ञापनों के लिए ठेके दिए थे, उसी तरह मनीष (सिसोदिया) ने भी विज्ञापन दिए थे।"

केजरीवाल ने ट्वीट किया, "चूंकि मोदीजी सीबीआई से मनीष की जांच करा रहे हैं, इसलिए सीबीआई को चाहिए कि वह उनकी (मोदी) भी जांच करे।"

सिसोदिया ने आरटीआई के जरिए मेक इन इंडिया, नमो एप, स्टार्ट-अप इंडिया और डिजिटल इंडिया के लिए सोशल मीडिया विज्ञापन के ठेके देने हेतु केंद्र सरकार द्वारा अपनाई गई प्रक्रियाओं के विवरण मांगे हैं।

सिसोदिया ने पूछा है, "सोशल मीडिया में विज्ञापनों के लिए भुगतान क्रेडिट कार्ड के जरिए किए जाते हैं और इसकी एक क्रेडिट सीमा है। मोदी सरकार ने इन विज्ञापनों के लिए किस क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल किया?"

उन्होंने दुनिया भर की उन कंपनियों और व्यक्तियों के विवरण भी मांगे हैं, जिन्हें विज्ञापनों के ठेके दिए गए।

सिसोदिया ने पूछा है, "जब हम जनता के मुद्दों पर बात करते हैं, तो वह भ्रष्टाचार हो जाता है। जब वह (मोदी) बात (मन की बात) करते हैं तो यह राष्ट्रभक्ति है। ऐसा क्यों?"

सिसोदिया ने कहा है कि यदि मोदी के पास दिल्ली सरकार की फाइलें जब्त करने के लिए सीबीआई है तो वह (सिसोदिया) प्रधानमंत्री कार्यालय की फाइलों तक पहुंचने के लिए आरटीआई का इस्तेमाल करेंगे।

उन्होंने कहा, "हम दोनों फाइलें जनता के समक्ष रखेंगे और जनता तय करेगी कि कौन व्यक्ति जनता का पैसा सही काम के लिए इस्तेमाल कर रहा है और कौन इसका दुरुपयोग कर रहा है।"

'टाक टू एके' अभियान केजरीवाल के साथ बातचीत करने का एक आयोजन था, जिसके तहत जनता सोशल मीडिया के जरिए केजरीवाल तक पहुंच सकती थी।

Wednesday, February 8, 2017

काम ख़तम पैसा हजम, केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के सस्ते निजी स्कूलों को मझदार में छोड़ा

काम ख़तम पैसा हजम, केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के सस्ते निजी स्कूलों को मझदार में छोड़ा

kejriwal-sarkar-leave-delhi-cheap-private-school-in-manjhdaar

नई दिल्ली, 8 फरवरी: दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से मुलाकात के चार महीने बाद उनके द्वारा किए गए वादों के पूरे न होने से निराश सस्ते निजी स्कूलों (बीपीएस) का प्रतिनिधित्व करने वाले एक संगठन का कहना है कि शहर में स्थित कम लागत वाले ऐसे स्कूलों की समस्याओं को सरकार द्वारा नजरअंदाज कर दिया जाता है और इन स्कूलों की हालत बेहद चिंताजनक है। 

देश के सभी सस्ते निजी स्कूलों को एक मंच प्रदान करने वाले संगठन 'नेशनल इंडिपेंडेंट स्कूल्स अलाएंस' (नीसा) ने 28 सितंबर को सिसोदिया से मुलाकात की थी।

नीसा के नीति सलाहकार अमित चंद्रा ने आईएएनएस से कहा, "उन्होंने (सिसोदिया) उस समय हमें सहयोग का वादा किया था और हमें एक समीक्षा समिति के लिए सलाह भेजने को भी कहा था, जो वह हमारे मुद्दों के लिए गठित करने वाले थे..उसके बाद से ही उनसे संपर्क के हमारे सभी प्रयास नाकाम रहे।"

उन्होंने कहा, "हमें लगता है कि दिल्ली के उप मुख्यमंत्री को बड़े-बड़े दावे करने के लिए एक मंच की जरूरत थी। 28 सितंबर को आयोजित हमारे सम्मेलन के बाद चार महीने बीत चुके हैं, जिसमें कई राज्यों के नीसा के प्रतिनिधियों ने उन्हें एक आठ सूत्री चार्टर सौंपा था।"

आईएएनएस ने सिसोदिया के कार्यालय और शिक्षा विभाग के अन्य अधिकारियों से संपर्क करने का बार-बार प्रयास किया, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।

सस्ते निजी स्कूल (बीपीएस) स्कूलों की एक मध्यवर्ती श्रेणी है, जो बड़ी संख्या में बच्चों को शिक्षा उपलब्ध कराते हैं। इन स्कूलों का सालाना बजट दिल्ली सरकार द्वारा एक बच्चे पर सालाना खर्च किए जाने से कम या बराबर है।

चंद्रा के मुताबिक, दिल्ली के 45 प्रतिशत स्कूल निजी हैं, जिनमें से डीपीएस, मॉडर्न, गोयनका आदि जैसे केवल पांच से 10 प्रतिशत स्कूल ही बड़े या संभ्रांत स्कूलों की श्रेणी में आते हैं, जबकि शेष सस्ते निजी स्कूल या बीपीएस श्रेणी में आते हैं, जो कि अपने बच्चों को शिक्षा प्रदान कराने के लिए स्थानीय निम्न या निम्न मध्य वर्ग की पसंद होते हैं।

उन्होंने कहा कि हालांकि बीपीएस स्कूल विद्यार्थियों से बहुत कम फीस लेते हैं, लेकिन उन्हें राज्य सरकार से कोई सहायता नहीं मिलती।

उन्होंने कहा, "बल्कि उन पर कई प्रकार के प्रतिबंध लगाए जाते हैं, जो उनकी वित्तीय स्थिति को देखते हुए उनकी कमर तोड़ने के लिए काफी होते हैं।"

चंद्रा ने कहा, "हमारा पंजीकरण 'सोसायटी पंजीकरण अधिनियम' के तहत होता है, इस लिहाज से हमें गैर-लाभकारी संगठन माना जाता है और हमसे व्यावसायिक संगठनों के समान ही बिजली और पानी के बिल और संपत्ति कर वूसले जाते हैं।"

चंद्रा ने अपनी समस्याओं के लिए जटिल नौकरशाही तंत्र को जिम्मेदार ठहराया, जिसका सामना हर स्कूल को करना पड़ता है।

चंद्रा ने कहा, "निजी स्कूल शुरू करने के लिए श्रमिक, डीडीए, जल, बिजली जैसे विभागों से 50 लाइसेंस लेने पड़ते हैं। हमने इन सभी परेशानियों से बचने के लिए एकल खिड़की व्यवस्था की मांग की थी, लेकिन सिसोदिया जी ने इसका अधिकार न होने का हवाला देते हुए इसमें अपनी असमर्थता जता दी।"

चंद्रा ने बीपीएस की स्थिति को लेकर एक सामाजिक पहलू की ओर भी ध्यान खींचा।

चंद्रा ने कहा कि भारत में ज्यादातर बच्चे कक्षा पांच के बाद स्कूल छोड़ देते हैं। वह इसका कारण यह बताते हैं कि कक्षा पांच से ऊपर के विद्यार्थियों को शिक्षा उपलब्ध कराने वाले बीपीएस स्कूल बेहद कम हैं और कई अभिभावक अपने बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए दूर स्थित बड़े स्कूलों में भेजने में असमर्थ हैं।

भूमि से जुड़े नियम भी बीपीएस स्कूलों की राह में एक बड़ी बाधा हैं। चंद्रा इसे 'अव्यवहारिक' और स्थानीय बच्चों के हित के विपरीत करार देते हैं। 

उन्होंने कहा, "पांचवी कक्षा तक शिक्षा प्रदान करने वाले स्कूलों का क्षेत्रफल 200 वर्ग गज होना जरूरी है, जबकि कक्षा आठ के लिए यह 800 वर्ग गज होना चाहिए।"

चंद्रा ने कहा, "दिल्ली में जमीन मिलना बेहद मुश्किल है और जहां पहले से ही स्कूल बने हो, उस जमीन का विस्तार करना लगभग नामुमकिन है। इसलिए अधिकांश बच्चों के पास पांचवी कक्षा के बाद स्कूल छोड़ने के अतिरिक्त कोई विकल्प नहीं होता।"

स्कूलों का कहना है कि इस मुश्किल का उपाय यह है कि स्कूलों को क्षेत्रफल (फ्लोर एरिया) के आधार पर मान्यता दी जानी चाहिए। अगर यह व्यवस्था लागू कर दी जाती है तो इससे (दिल्ली में स्थित 3,000 बीपीएस स्कूलों में) कम से कम 90,000 अधिक कक्षाएं बनाई जा सकेंगी और इससे कमजोर आय वर्ग (ईडब्लयूएस) के ज्यादा बच्चे इनमें शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे।

सम्मेलन में सिसोदिया से इन स्कूलों को आंशिक तौर पर अनुदान और कम दर पर वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने के लिए एक स्कूल वित्त पोषण समिति गठित करने की मांग भी की गई थी।

चंद्रा ने कहा, "गैर-लाभकारी संस्थाओं के तौर पर हम बैंक से ऋण नहीं ले सकते, इसलिए हमने उच्च शैक्षणिक संस्थानों को वित्त पोषण प्रदान करने वाली उच्च शिक्षा वित्त पोषण एजेंसी (एचईएफए) की तर्ज पर स्कूलों के लिए वित्त पोषण समिति की मांग की थी।"

उन्होंने कहा कि सरकार का अपने वादे से पूरी तरह पलट जाना बेहद निराशाजनक है।

Tuesday, February 7, 2017

बच्चियों को रेप का शिकार बनाने वाला सनकी रेपिस्ट गिरफ्तार

बच्चियों को रेप का शिकार बनाने वाला सनकी रेपिस्ट गिरफ्तार

pshyco-child-rapist-arrested-in-new-delhi
New Delhi, 7 Feb: दिल्ली पुलिस ने एक सनकी रेपिस्ट को गिरफ्तार किया है जो बच्चियों को उठाकर उन्हें रेप का शिकार बनाता था और अपनी हवस मिटाता था, इस रेपिस्ट को पहले भी जेल हो चुकी है इसके बावजूद भी इसकी आदत में सुधार नहीं आया और अपनी दरिंदगी से बाज नहीं आया। 

खबर के अनुसार सनकी रेपिस्ट नरेश को पुलिस ने दिल्ली के बेगमपुर इलाके से अरेस्ट किया, नरेश नशे में धुत्त होकर शिकार के लिए निकला था, उसने जब एक चार साल की बच्ची को खेलते देखा तो उसके अन्दर की हवस जाग गयी, वह बच्ची को गोद में उठाकर भागने लगा। बच्ची के चीखने से उसकी माँ की नजर नरेश पर पड़ गयी और उन्होंने भी शोर मचाना शुरू कर दिया, उसके बाद भीड़ ने उसे पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया। 

पुलिस ने नरेश के ऊपर अपहरण और छेड़छाड़ का मामला दर्ज कर लिया है, गिरफ्तार करने के बाद उसका बही खाता निकाला गया तो चौंकाने वाली बातें निकलकर सामने आयी। इससे पहले भी वह बच्ची के साथ छेड़छाड़ के मामले में तीन साल की जेल काट चुका है और एक बार अवैध शराब की विक्री के जुर्म में भी जेल जा चुका है। 

पुलिस ने बताया कि नरेश झुग्गी-झोपड़ियों के आसपास रहने वाली बच्चियों को उस वक्त शिकार बनाता था जब उनके माँ-बाप काम के लिए घर से बाहर जाते थे, वह बच्चियों को खाने पीने का लालच देकर अपने साथ ले जाता था और सूनसान इलाके में उनके साथ दुष्कर्म करता था। कभी कभी वह बच्चियों की अश्लील फ़िल्में भी बनाता था, पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

Monday, February 6, 2017

DCW भर्ती घोटाले में स्वाती मालीवाल को 20000 रुपये में जमानत

DCW भर्ती घोटाले में स्वाती मालीवाल को 20000 रुपये में जमानत

swati-maliwal-get-bail-in-dcw-recruitment-scam-in-rs-20000-bond
नई दिल्ली, 6 फरवरी: एक स्थानीय अदालत ने सोमवार को दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल को आयोग में नियुक्ति से संबंधित कथित धांधली के मामले में जमानत दे दी। विशेष न्यायाधीश हिमानी मल्होत्रा ने मालीवाल को 20,000 रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दे दी।

अदालत ने मालीवाल को जमानत देते हुए कहा कि यह मामला दस्तावेजी साक्ष्यों पर आधारित है।

मालीवाल जनवरी में जारी समन के बाद अदालत के समक्ष पेश हुईं। अदालत ने मामले की अगली सुनवाई के लिए छह अप्रैल की तिथि तय की है।

भ्रष्टाचार रोधी शाखा (एसीबी) की ओर से दायर आरोप-पत्र पर संज्ञान लेते हुए मल्होत्रा ने 18 जनवरी को मालीवाल के खिलाफ समन जारी किया था।

मालीवाल पर भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था।

एसीबी ने दिल्ली महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष बरखा सिंह शुक्ला की शिकायत पर मामला दर्ज किया था।

शुक्ला ने आरोप लगाए थे कि आम आदमी पार्टी (आप) के कार्यकर्ताओं को वित्तीय लाभ पहुंचाने के मकसद से डीसीडब्ल्यू में उनकी भर्ती की गई। एसीबी ने 85 भर्तियों की जांच की।

मालीवाल ने आरोपों से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ कदम उन्हें एक राजनीतिक दल के नेताओं से जुड़े मामलों की जांच से रोकने के लिए उठाए गए।
दिल्ली लाल किले से विस्फोटक सामग्री बरामद, NSG टीम मौके पर

दिल्ली लाल किले से विस्फोटक सामग्री बरामद, NSG टीम मौके पर

red-fort-delhi-news-in-hindi
New Delhi, 6 Feb: लाल किले से एक बड़ी खबर आयी है, सफाई के दौरान विस्फोटक से भरा एक बॉक्स बरामद किया गया है, विस्फोटक मिलने के तुरंत बाद NSG टीम को सूचना दे दी गयी जिसके बाद NSG और आर्मी के जवान मौके पहुँच गए। 

NSG और आर्मी के अलवा बम निरोधक दस्ता भी मौका पर पहुँच चुका है और किसी अनहोनी से बचने के लिए अग्निशमन गाड़ियों को भी मौके पर बुला लिया गया है। दिल्ली हमेशा आतंकियों के निशाने पर रही है लेकिन पिछले तीन वर्षों में मोदी सरकार आने के बाद कोई भी आतंकी घटना सामने नहीं आयी है। 
'चंदा बंद सत्याग्रह' ने केजरी से कहा ‘बंद करो ये गोरखधंधा, गीता से लो ज्ञान’ केजरी बोले ‘नहीं’

'चंदा बंद सत्याग्रह' ने केजरी से कहा ‘बंद करो ये गोरखधंधा, गीता से लो ज्ञान’ केजरी बोले ‘नहीं’

kejriwal-not-accepted-bhagwat-geeta-from-chanda-bandh-satyagrah
New Delhi, 6 Feb: जब केजरीवाल नए नए राजनीति में आये थे तो कुछ लोगों ने उन्हें इतना ईमानदार समझ लिया कि अपनी गाढ़ी कमाई से उन्हें चंदा देकर उन्हें आगे बढाने लगे, उन्हें पता नहीं था कि केजरीवाल राजनीति में ईमानदारी के लिए नहीं आये हैं बल्कि इमानदारी की टोपी पहनकर चंदा वसूलने और उन पैसों से ऐश करने आये हैं, जो लोग यह समझते थे कि केजरीवाल बंगला नहीं लेगा, गाडी नहीं लेगा, सुरक्षा नहीं लेगा हमारे साथ आम आदमी की तरह रहेगा, हमारे साथ दाल रोटी खाएगा, ऐसे लोगों ने केजरीवाल को धड़ाधड़ चंदा दिया लेकिन ऐसे लोग अब पछता रहे हैं। 

ऐसे लोग अब सोच रहे हैं कि केजरीवाल ने हमें ठग लिया, झूठे सपने दिखाकर हमसे चंदा ऐंठ लिया, कई लोगों को जब ज्यादा ही गुस्सा आ गया तो उन्होंने केजरीवाल के खिलाफ चंदा बंद सत्याग्रह शुरू कर दिया, अब ये लोग दुनिया को बता रहे हैं कि केजरीवाल की इमानदारी पर भरोसा करके उसे चंदा मत दो, ये आदमी गोरखधंधा कर रहा है, इमानदारी की टोपी पहनकर सभी को ठग रहा है। 

कल इन लोगों ने केजरीवाल की अकल पर पड़े ताले को खोलने के लिए केजरीवाल को गीता भेंट की, उन्होंने कहा कि आपने पंजाब में 21 अपरधियों को टिकट दे दिया, आप तो इमानदार और भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए आये थे लेकिन आप खुद भ्रष्ट लोगों को टिकट दे रहे हो तो आप भ्रष्टाचार कैसे ख़त्म करोगे। मनीष रायजादा ने केजरीवाल से मिलकर कहा - सर आप गीता पढो ताकि अच्छे कर्म कर सो, अब गोरखधंधा बंद करो, हमने तो आपको बड़ा इमानदार समझा और आप बड़े बेईमान निकले, आपने तो चंदाचोरी शुरू कर दी। 

केजरीवाल ने मनीष रायजादा द्वारा दी गयी भागवत गीता को छुवा तक नहीं और उसे वापस लौटा दिया। शायद उन्होंने सोचा कि अगर मै गीता लूँगा तो मुस्लिम लोग मुझसे नाराज हो जाएंगे और मुझे वोट नहीं देंगे।

Sunday, February 5, 2017

दिल्ली के AIIMS में 500 नर्से हड़ताल पर: पढ़ें क्यों

दिल्ली के AIIMS में 500 नर्से हड़ताल पर: पढ़ें क्यों

delhi-news-500-aiims-nurses-on-strike

नई दिल्ली, 5 फरवरी: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इलाज के दौरान एक नर्स की मौत से नाराज 500 से अधिक नर्सो ने रविवार को हड़ताल कर दिया। उनका आरोप है कि चिकित्सक ने नर्स के उपचार में लापरवाही बरती। वे चिकित्सक को निलंबित करने की मांग कर रही हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि राजवीर कौर नाम की नर्स का एम्स में इलाज चल रहा था, लेकिन शनिवार को उसकी मौत हो गई।

नर्से डॉक्टर द्वारा इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए कौर का इलाज कर रहे डॉक्टर को निलंबित करने की मांग कर रहे हैं।

एम्स में लगभग 5,000 नर्से हैं और इन्हें अस्पताल की रीढ़ की हड्डी माना जाता है।

Saturday, February 4, 2017

अरविंद केजरीवाल ने तोड़ दी मर्यादा की सभी हदें, ‘चुनाव आयोग’ के लिए बोल दी सबसे अपमानजनक बात

अरविंद केजरीवाल ने तोड़ दी मर्यादा की सभी हदें, ‘चुनाव आयोग’ के लिए बोल दी सबसे अपमानजनक बात

kejriwal-said-most-insulting-statement-to-election-commission

नई दिल्ली, 4 फरवरी: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज मर्यादा की सभी हदें पार करते हुए निर्वाचन आयोग के लिए सबसे अपमानजनक बात बोल दी, उन्होंने निर्वाचन आयोग को 'रीढ़ विहीन' करार देते प्रधानमंत्री का गुलाम बता दिया जबकि इसी चुनाव आयोग के समय 2014 में बीजेपी की जबरजस्त जीत हुई थी, उस समय चुनाव आयोग को ना तो मोदी ने और ना ही कांग्रेस ने किसी का गुलाम बताया था लेकिन आज केजरीवाल ने सभी हदें पार कर दीं। 

केजरीवाल की टिप्पणी उन खबरों के प्रतिक्रियास्वरूप आई है, जिनमें कहा गया है कि लोग पार्टी के चुनाव चिह्न और अन्य प्रचार सामग्रियों के साथ चुनाव के दिन मतदान केंद्रों पर जा रहे हैं और मतदान के दिन सोशल मीडिया और टीवी पर प्रचार कर रहे हैं।

केजरीवाल ने कहा, "आरबीआई और सीबीआई की तरह ही निर्वाचन आयोग ने भी मोदीजी के समक्ष पूरी तरह घुटने टेक दिए हैं।" केजरीवाल ने कहा, "यह बिल्कुल बेशर्म और रीढ़ विहीन निर्वाचन आयोग है।"

केजरीवाल ने कहा, "जिस प्रकार मोदीजी ने आरबीआई को बर्बाद कर दिया, उसी प्रकार उन्होंने निर्वाचन आयोग में अपने साथियों को नियुक्त करके आयोग को भी बर्बाद कर दिया है।"

उल्लेखनीय है कि केजरीवाल के राजनीतिक दलों से पैसा लेने को लेकर दिए गए बयान के बाद से निर्वाचन आयोग और उनके बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है।

निर्वाचन आयोग के निर्देश पर केजरीवाल के खिलाफ पिछले महीने प्राथमिकी भी दर्ज हुई थी। केजरीवाल ने गोवा में चुनाव प्रचार के दौरान नागरिकों से कहा था कि 'दूसरे राजनीतिक दल पैसा दें तो ले लें, लेकिन वोट सिर्फ आप को दें'।

केजरीवाल ने यह भी कहा कि गोवा में पंजाब से एक घंटा पहले ही मतदान क्यों शुरू करवाया गया, जबकि दोनों राज्यों में मतदान समाप्त होने का समय एक ही रखा गया था।

केजरीवाल ने कहा, "निर्वाचन आयोग की अधिसूचना के अनुसार, गोवा में मतदान सुबह 7.0 बजे से शाम 5.0 बजे तक होना था, जबकि पंजाब में सुबह 8.0 बजे से शाम 5.0 बजे तक। आखिर क्यों?"

केजरीवाल ने नोटबंदी को लेकर भी मोदी पर एकबार फिर निशाना साधा।

उन्होंने कहा, "मोदीजी ने कहा था कि नोटबंदी से कालेधन पर लगाम लग जाएगी। लेकिन पंजाब और गोवा में यह खुलेआम बांटा जा रहा है। फिर नोटबंदी का क्या लाभ है।"

Friday, February 3, 2017

ईमानदार केजरीवाल के पास 27 करोड़ कहाँ से आये जवाब ही नहीं, IT ने पकड़ा कालेधन की चंदाखोरी

ईमानदार केजरीवाल के पास 27 करोड़ कहाँ से आये जवाब ही नहीं, IT ने पकड़ा कालेधन की चंदाखोरी

arvind-kejriwal-fraud-of-27-crore-donation-to-aam-aadmi-party

नई दिल्ली, 3 फरवरी: इनकम टैक्स विभाग ने देश के स्वघोषित इमानदार अरविन्द केजरीवाल की बड़ी चंदाखोरी पकड़ी है, केजरीवाल इनकम टैक्स को AAP के 27 करोड़ के चंदे का हिसाब नहीं दे पाए कि ये पैसा उनके पास कहाँ से आया और किसने दिया। केजरीवाल इस कदर फंस

आयकर विभाग ने आम आदमी पार्टी की वर्ष 2013-14 और 2014-15 की ऑडिट रिपोर्ट झूठी और गलत पाया है। आयकर विभाग ने पार्टी को मिलने वाले चंदे के बारे में 'झूठी और गलत' ऑडिट रिपोर्ट दाखिल करने की वजह से निर्वाचन आयोग से आप का राजनीतिक दल के रूप में पंजीकरण रद्द करने को कहा है।

कहा जाता है कि केजरीवाल चंदे के लिए विदेश भी जाते रहते हैं, सऊदी अरब भी कई बार गए हैं, ISI और खालिस्तानी आतंकियों से भी उनके संपर्क सामने आ रहे हैं, पाकिस्तान में केजरीवाल अपने एक ही बयान से हीरो बन जाते हैं, भारतीय सैनिकों से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगते हैं।

कुछ लोग कहते हैं कि केजरीवाल पाकिस्तान एजेंट हैं और उन्हें ISI चुनाव  लड़ने के लिए पैसे देती है। उनके मंत्री सत्येंद्र जैन पर हवाला कारोबार करने का आरोप है, शायद केजरीवाल के पास 27 करोड़ रुपये ऐसे ही कारनामें करके आये हैं जिसका जवाब वे नहीं दे पाए हैं। 
चोरी पकडे जाने पर बौखलाए केजरीवाल, PM MODI को बताया 'बेशर्म तानाशाह'

चोरी पकडे जाने पर बौखलाए केजरीवाल, PM MODI को बताया 'बेशर्म तानाशाह'

arvind-kejriwal-told-pm-narendra-modi-besharm-tanashah

नई दिल्ली, 3 फरवरी: आयकर विभाग द्वारा चोरी पकडे जाने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल बौखला गए हैं और उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को बेशर्म तानाशाह बताया है। आयकर विभाग ने आम आदमी पार्टी की वर्ष 2013-14 और 2014-15 की ऑडिट रिपोर्ट झूठी और गलत पाया है। 

आयकर विभाग ने पार्टी को मिलने वाले चंदे के बारे में 'झूठी और गलत' ऑडिट रिपोर्ट दाखिल करने की वजह से निर्वाचन आयोग से आप का राजनीतिक दल के रूप में पंजीकरण रद्द करने को कहा है।

केजरीवाल ने आयकर विभाग के इस कदम को 'मोदीजी की गंदी चाल' करार दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार ऐसा इसलिए कर रही है क्योंकि भाजपा को पता है कि वह शनिवार को पंजाब और गोवा में होने वाले चुनावों में आप के हाथों हारने वाली है।

केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, "गोवा और पंजाब में (आसन्न) बुरी हार के बाद वह (मोदी) चुनाव के 24 घंटे से पहले जीतने वाली पार्टी का पंजीकरण रद्द करने की कोशिश में जुटे हैं।" 

कुछ मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, आयकर विभाग ने निर्वाचन आयोग को एक रिपोर्ट सौंपी है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि आप ने 2013-14 और 2014-15 में 'झूठी और गलत' ऑडिट रिपोर्ट दी थी। इसलिए एक ट्रस्ट के रूप में और एक पार्टी के रूप में आम आदमी पार्टी के पंजीकरण पर दोबारा गौर किया जाए और इसे रद्द कर दिया जाए।

केजरीवाल ने अपने ट्वीट में राष्ट्रीय दैनिक में प्रकाशित निर्वाचन आयोग को सौंपी गई आयकर विभाग की रिपोर्ट का लिंक भी दिया है।
मनोज तिवारी ने कांग्रेस-केजरीवाल पर बोला हमला, व्यापारियों को चोर समझने और डराने का लगाया आरोप

मनोज तिवारी ने कांग्रेस-केजरीवाल पर बोला हमला, व्यापारियों को चोर समझने और डराने का लगाया आरोप

manoj-tiwari-attack-congress-and-kejriwal-for-scaring-traders

नई दिल्ली, 2 फरवरी: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने आज कांग्रेस और केजरीवाल पर जमकर हमला बोला, उन्होंने कहा कि कांग्रेस बजट का विरोध करके व्यापारियों को डराने, उनपर शक करने का काम कर रही है लेकिन नरेन्द्र मोदी सरकार हमेशा व्यापारियों का सम्मान करती है।

मनोज तिवारी ने आज व्यापारियों की एक बैठक को संबोधित किया, बाद में उन्होने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा यह देश का दुर्भाग्य है कि पिछले कांग्रेस सरकार व्यापारियों को टैक्स चोर के रूप में देखती थीं और आयकर निरीक्षकों के द्वारा छापा राज के जरिये उन्हें दण्डित करती रहीं। 

भाजपा नेता ने कहा, "आज देश में एक ऐसी सरकार है जो व्यापारियों और उनके योगदान का सम्मान करती है। इसलिए यह ऐसा बजट लेकर आई है जिसमें न सिर्फ व्यापारियों को कर दरों में राहत दी गई है बल्कि उन्हें बैंक से कर्ज और दूसरे वित्तीय और प्रशासनिक सहयोग भी दिए गए हैं।"

उन्होंने कहा कि केंद्रीय बजट 2017-18 सिर्फ एक वार्षिक बजट भर ही नहीं हैं, बल्कि यह करदाताओं को उचित सम्मान देने के साथ भारतीय अर्थव्यवस्था में बदलाव की प्रक्रिया की शुरुआत है।

केंद्रीय बजट की सराहना करते हुए तिवारी ने कहा, "नई कर निर्धारण नीति किसी के लिए कर चोरी की कोई वजह नहीं छोड़ेगी। जल्द ही हम अधिकतम ईमानदार करदाताओं की संख्या वाली एक अर्थव्यवस्था होंगे।"

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आलोचना करते हुए मनोज तिवारी ने कहा, "यह एक गहन चिंता का मामला है कि केजरीवाल सरकार दिल्ली के आवंटित बजट 2016-17 का इस्तेमाल करने के सक्षम नहीं साबित हुई और शहर में विकास कार्य में ठहराव आ गया।"

उत्तरपूर्व दिल्ली से भाजपा सांसद ने आरोप लगाया, "प्रधानमंत्री द्वारा नोटबंदी को लागू करने के लिए मांगे गए 50 दिनों के समय के दौरान केजरीवाल सरकार ने केंद्र और दिल्ली के लोगों के साथ सहयोग करने की बजाय वैट विभाग के छापों के जरिए माहौल को खराब करने की कोशिश की और व्यापारियों के परिसरों का सर्वेक्षण किया।"

Saturday, January 28, 2017

NCC जवानों से बोले PM MODI, आप लोग मुझसे भी अधिक होशियार हो इसलिए मुझसे भी आगे जा सकते हो

NCC जवानों से बोले PM MODI, आप लोग मुझसे भी अधिक होशियार हो इसलिए मुझसे भी आगे जा सकते हो

modi-addressed-ncc-rally-in-delhi-cant-encouraged-students

New Delhi, 28 January: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज दिल्ली कैंट में NCC की रैली को संबोधित किया, इससे पहले MODI ने NCC छात्रों की परेड और तैयारी देखी, NCC जवानों ने हैरतंगेज कारनामे दिखाकर सभी को हतप्रभ कर दिया। 

मोदी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा, NCC के कैडेट्स देशभक्ति से भरे होते हैं, अनुशासन इनकी विशेषता होती है, मिलकरके काम कर्ण इनका स्वभाव होता है, कदम से कदम मिलकर चलना, कंधे से कंधा मिलकर चलना लेकिन साथ साथ मिलकर सोचना, सोचकरके चलना, चल करके पाना यह NCC की विशेषता है।



मोदी ने कहा - मेरा सौभाग्य है कि एक समय मै भी NCC का छात्र था, मुझमे भी इस सेन्स की अनुभूति बचपन में हो गयी थी लेकिन मै आप लोगों की तरह होनहार नहीं था, मै आप लोगों की तरह तेजस्वी कैडेट्स नहीं था इसलिए मुझे दिल्ली की परेड में हिस्सा लेने का मौका नहीं मिल पाया, लेकिन आप को देखकर मुझे गर्व होता है कि आप लोग मेरे बचपन की तुलना में मुझसे भी अधिक होनहार हो, मुझे इस बात की बहुत ख़ुशी होती है, इसीलिए यह भरोसा भी होता है कि आप लोगों में आगे जाने का सामर्थ्य भी मुझसे भी कई गुना अधिक है इसलिए मै देश के उज्जवल भविष्य के लिए आश्वस्त हो जाता हूँ।

मोदी ने कहा कि आज विश्वास आतंकवादी की समस्या से जूझ रहा है इसलिए आज सभी युवाओं में देशभक्ति, समाज के प्रति जिम्मेदारी का भाव जगाते रहन चाहिए, हमें निरंतर जागरूक रहना चाहिए, हमारे आस पास का कोई जवान अगर गलत रास्ते पर चल रहा है तो हमें उसे रोकना होगा, भले ही कोई नौजवान NCC में ना हो, हमें उसे भी अच्छे रास्ते पर चलने में प्रति जागरूक करना होगा। 
बड़ी खबर, दिल्ली में मिला मोर्टार सेल, बुलाये गए NSG कमांडो

बड़ी खबर, दिल्ली में मिला मोर्टार सेल, बुलाये गए NSG कमांडो

mortar-shell-found-in-vasant-kunj-delhi-nsg-team-called-in-hindi

New Delhi, 28 January: दिल्ली से एक बड़ी खबर आयी है, खबर के अनुसार दिल्ली के वसंत कुञ्ज इलाके में एक बैंग के अन्दर मोर्टार सेल बरामद हुआ है जिसकी वजह से इलाके में हडकंप फ़ैल गया है, पुलिस ने इलाके को खाली कराकर NSG कमांडो को मौके पर बुला लिया है। 

यह मोर्टार वसंत कुञ्ज के किशन गढ़ गाँव के पास एक बैग में मिला है, जैसे ही पुलिस को इसकी सूचना मिली उन्होंने बम स्क्वाड टीम के साथ NSG कमांडो की टीम को सूचना दी ताकि इस मोर्टार सेल को डिफ्यूज किया जा सके। 

Friday, January 27, 2017

ईमानदारी की टोपी पहनकर बड़े बड़े कांड कर रहे हैं AAP नेता

ईमानदारी की टोपी पहनकर बड़े बड़े कांड कर रहे हैं AAP नेता

aap-leader-sanjay-singh-corruption-exposed-in-hindi

New Delhi, 27 January: आपने देखा होगा कि पंजाब में आप नेताओं पर करोड़ों रुपये में टिकट बेचने का आरोप लग रहा है, सबसे अधिक आरोप संजय सिंह पर लग रहा है क्योंकि वे पंजाब के प्रभारी हैं और पूरी व्यवस्था भी वही देख रहे हैं, संजय सिंह पर टिकट बेचने का आरोप कोई और नहीं बल्कि आप के ही नेता और IT सेल के कार्यकर्ता लगा रहे हैं, पिछले एक महीने से हजारों लोग AAP पार्टी छोड़ चुके हैं।

संजय सिंह पर आरोप लग रहा है कि वह पंजाब के हर उम्मीदवार से एक करोड़ रूपए मांग रहे हैं, जिन्होंने उन्हें पुराने 1000-500 के नोटों से भरे बैग दिए थे उनसे नए नोटों का बैग मांग रहे हैं। 

अब आप सोच रहे होंगे कि ये रुपये आखिर जा कहाँ रहे हैं, सोशल मीडिया के अनुसार इन रुपयों से संजय सिंह दिल्ली में अकूत संपत्तियां खड़ी कर रहे हैं, तीन साल पहले वे किराए के मकान में रहते थे लेकिन आज उनके पास तीन मकान हैं जिसकी कीमत 15 करोड़ रुपये है। 

इस बात का खुलासा दिल्ली के मादीपुर विधानसभा के पूर्व पार्टी इंचार्ज संतोशो सरकार, राजौरी गर्डर के पूर्व आप नेता पीके वर्मा और फिरोजपुर विधानसभा की आप नेता अमनदीप कौर ने किया है। 

अगर यह आरोप सच है तो इसका मतलब है कि AAP नेता केवल इमानदारी की टोपी पहनते हैं, अन्दर से काले कारनामे में लीन हैं, पार्टी की ईमानदारी की हवा बनाकर करोड़ों रुपये में टिकट बेचे जा रहे हैं और बड़े बड़े घोटाले किये जा रहे हैं। अभी केजरीवाल के साले सुरेन्द्र बंसल पर भी करोड़ों रुपये के घोटाले का आरोप लग रहा है और इसकी आंच केजरीवाल पर भी आ रही है। अगर ये आरोप साबित हो गए तो लोगों के पैरों तले जमीन खिसक जाएगी और इमानदारी पर से भरोसा उठ जाएगा। 

Thursday, January 26, 2017

पढ़ें: केजरीवाल और उनकी पत्नी किसलिए खुश दिख रहे हैं

पढ़ें: केजरीवाल और उनकी पत्नी किसलिए खुश दिख रहे हैं

why-kejriwal-become-happy-on-rajnath-republic-parade

New Delhi, 26 January: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल भी गणतंत्र दिवस की परेड देखने के लिए राजपथ पर पहुंचे, साथ में उनकी पत्नी सुनीता केजरीवाल भी थीं, वैसे केजरीवाल चुपचाप बैठकर परेड देख रहे थे लेकिन जैसे ही उन्होंने दिल्ली की झांकी देखा, उनके अन्दर जोश जाग गया, वे उठकर तालियाँ बजाने लगे और झांकी निकालने वालों को उत्साह बढाने लगे, उनकी पत्नी सुनीता केजरीवाल भी खुश हो गयीं और उठकर तालियाँ बजाने लगीं। 

दिल्ली सरकार ने दिल्ली के सरकारी स्कूलों पर झांकी निकाली थी, झांकी में दिखाया गया कि किस तरह से दिल्ली के सरकारी स्कूलों को आदर्श स्कूल बनाकर बच्चों का भविष्य संवारा जा सकता है। (झांकी की फोटो)


देश को 'तानाशाही ताकतों' से बचाने की जरूरत: केजरीवाल

देश को 'तानाशाही ताकतों' से बचाने की जरूरत: केजरीवाल

kejriwal-appeal-to-save-country-from-tanashahi-takaten-in-hindi

नई दिल्ली, 26 जनवरी: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को लोगों को गणतंत्र दिवस की बधाई देते कहा कि देश को 'तानाशाही ताकतों' से बचाने की जरूरत है। आम आदमी पार्टी (आप) नेता ने ट्वीट कर कहा, "देश के सभी नागरिकों को गणतंत्र दिवस की बधाई। हमें देश को तानाशाही ताकतों से बचाने की जरूरत है।"

उन्होंने आम आदमी पार्टी की सरकार की फीडबैक इकाई से संबंधित फाइलों को जब्त करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा।

उन्होंने कहा, "गणतंत्र दिवस से एक दिन पहले मोदी जी ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को भेजकर दिल्ली सरकार की फीडबैक इकाई से संबंधित सभी फाइलों को जब्त करा लिया।"

Wednesday, January 25, 2017

हमने शिक्षा और स्वास्थय में क्रन्तिकारी विकास किया: केजरीवाल

हमने शिक्षा और स्वास्थय में क्रन्तिकारी विकास किया: केजरीवाल

kejriwal-said-we-bring-revolution-in-education-and-health-sectors

नई दिल्ली, 25 जनवरी: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार ने शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक क्रांति की शुरुआत की है। आम आदमी पार्टी के नेता ने अपने गणतंत्र दिवस संबोधन में कहा कि उनकी सरकार के पहले बजट में शिक्षा के लिए आवंटन को दोगुना कर दिया गया और स्वास्थ्य बजट में 50 प्रतिशत की वृद्धि की गई।

उन्होंने कहा कि अगर केंद्र सरकार समेत देश की सभी सरकारें शिक्षा और स्वास्थ्य पर ध्यान देने का फैसला करती हैं तो देश का त्वरित विकास होगा।

केजरीवाल ने कहा, "अगर बच्चे सही तरह से शिक्षित किए जाते हैं तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि वे भारत को गौरवान्वित करेंगे।"

मुख्यमंत्री ने कहा कि जब फरवरी, 2015 में उन्होंने पदभार ग्रहण किया तो दिल्ली की स्वास्थ्य व्यवस्था खस्ताहाल थी। लोग छोटी बीमारियों के इलाज के लिए भी सफदरजंग अस्पताल और एम्स जाते थे।

उन्होंने कहा, "विगत दो वर्षो में हमने राष्ट्रीय राजधानी के कई क्षेत्रों में मोहल्ला क्लीनिक खोले, जहां मुफ्त में चिकित्सकीय देखभाल की जा रही है। हम प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल पर ध्यान दे रहे हैं।"

केजरीवाल ने कहा, "आने वाले साल में हमारे पास 1000 मोहल्ला क्लीनिक होंगे और कोई भी उसे 2-3 किलोमीटर के दायरे में खोज पाएगा।"

Tuesday, January 24, 2017

बुरे फंसे, PWD घोटाले में दिल्ली पुलिस ने केजरीवाल और उनके साले के खिलाफ शुरू की आपराधिक जांच

बुरे फंसे, PWD घोटाले में दिल्ली पुलिस ने केजरीवाल और उनके साले के खिलाफ शुरू की आपराधिक जांच

delhi-police-started-enquiry-against-kejriwal-pwd-scam-in-hindi

New Delhi, 24 January: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल बड़ी मुसीबत में फंस गए हैं, दिल्ली पुलिस ने PWD घोटाले में केजरीवाल और उनके साले सुरेन्द्र कुमार बंसल के खिलाफ जांच शुरू कर दी है, दोनों के ऊपर FIR दर्ज कर ली गयी है। 

केजरीवाल और उनके साले सुरेन्द्र कुमार बंसल के खिलाफ रोड्स एंटी-करप्शन आर्गेनाईजेशन ने शिकायत दर्ज कराई थी, शिकायत में आरोप था कि सुरेन्द्र कुमार बंसल ने PWD विभाग के द्वारा रोड्स और नाला बनाने का ठेका लिया और फर्जी बिल जमाकर करोड़ों रुपये लूट लिए, इस काम में केजरीवाल ने भी उनकी मदद की और लूट का माल आपस में बाँट लिया। 

यह शिकायत लेकर NGO ने कोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया, शिकायत सही पाए जाने पर दिल्ली पुलिस ने अपनी आर्थिक अपराध शाखा को इस घोटाले के खिलाफ प्राथमिक जांच का आदेश दिया है, हालाँकि अभी तक इस मामले में FIR दर्ज नहीं हुई है, कोर्ट ने NGO से कुछ और दस्तावेज मांगे हैं।
हद हो गयी, नजीब को गायब किया मोहम्मद शमीम ने, कांग्रेसिये और आपिए दोष देते रहे MODI-ABVP को

हद हो गयी, नजीब को गायब किया मोहम्मद शमीम ने, कांग्रेसिये और आपिए दोष देते रहे MODI-ABVP को

najeeb-ahmad-mission-case-why-modi-abvp-blamed-in-hindi

New Delhi, 24 January: जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी के 40 वर्षीय छात्र नजीब अहमद के गायब होने की नौटंकी का खुलासा हो गया है, खबर के मुताबिक उसे यूपी के एक गुंडे मोहम्मद शमीम ने छुपा रखा था, पुलिस दोनों लोगों को गिरफ्तार करके दिल्ली लाई है और उनसे सच उगलवाने की कोशिश की जा रही है। 

नजीब अहमद पिछले वर्ष अक्टूबर महीने में गायब हुआ था, उसे गायब करने का आरोप ABVP छात्रों पर लगाया गया था क्योंकि के दिन पहले नजीब अहमद ने ABVP के एक छात्र को थप्पड़ मारा था, ABVP छात्रों के साथ उसकी बहस हुई थी और दूसरे दिन उसे गायब कर दिया गया था। 

सभी विरोधी पार्टियों कांग्रेस, AAP और वामपंथी दलों ने नजीब अहमद के गायब होने के पीछे मोदी, ABVP और आरएसएस का हाथ बताया था और इसे साम्प्रदाईक रंग देने की कोशिश की थी, नजीब की माँ और बहन भी प्रदर्शन में शामिल हुई थी। 

जब मामले ने तूल पकड़ा तो दिल्ली पुलिस नजीब को ढूँढने के काम में लग गयी, उसे मुस्लिम माफिया मोहम्मद शमीम के पास गिरफ्तार कर लिया। 

इस घटना के पीछे दो बातें सामने आ रही हैं, हो सकता है कि नजाब को मोहम्मद शमीम के पास जान बूझकर रखा गया हो ताकि उसके गायब होने का इल्जाम मोदी और ABVP पर लगाकर मुस्लिम वोटों को BJP से दूर रखा जाए, ऐसी हालत में चुनाव समाप्त होते ही नजीब को वापस JNU पहुंचा दिया जाता।

दूसरी बात यह हो सकती है कि जब नजीब मिल गया तो इन लोगों ने उसके अपहरण का मामला दर्ज करा दिया ताकि किसी को शक ना हो कि उसे साजिश के तौर पर गायब किया गया है, ऐसे में उसे गायब करने वाले मुस्लिम माफिया को केवल पांच-छः महीने की सजा होगी। 

अब सवाल यह उठता है कि क्या मोदी, आरएसएस और ABVP को बदनाम करने के लिए बहुत बड़ी साजिश रची गयी थी, अगर हाँ, तो इस घटना के पीछे जरूर बड़ी बड़ी ताकतें काम कर रही हैं और हो सकता है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI का हाथ हो। पुलिस को इस मामले की गहराई के साथ छानबीन करनी चाहिए।