Showing posts with label Bihar. Show all posts
Showing posts with label Bihar. Show all posts

Aug 19, 2017

नीतीश कुमार ने तोड़ दिया लालू यादव का भ्रम, बता दी हकीकत

नीतीश कुमार ने तोड़ दिया लालू यादव का भ्रम, बता दी हकीकत

nitish-kumar-told-lalu-yadav-reality-of-bihar-politics-news-hindi

लालू यादव बिहार की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करते हैं साथ ही यह भी कहते हैं कि हमने ही नीतीश कुमार को बिहार का मुख्यमंत्री बनाया है क्योंकि सबसे अधिक सीटें हमने जीती थीं और जनता ने जनादेश भी हमें ही दिया था.

आज नीतीश कुमार ने लालू यादव की कलई खोल दी, नीतीश कुमार ने कहा कि कुछ लोगों को भ्रम है कि उन्होंने हमसे अधिक सीटें जीतीं हैं, ऐसे लोगों को बताना चाहता हूँ कि जिसके साथ हम होते हैं उसकी अपने आप जीत हो जाती है, RJD के साथ हम थे इसलिए उनकी जीत हुई, रही बात हमारी कम सीटें आने की तो उन्हें यह भी सोचना चाहिए कि हमारी कम सीटें क्यों आयीं, इसका मतलब है कि उन्होंने गठबंधन धर्म का पालन नहीं किया और हमारा साथ नहीं दिया.

नीतीश कुमार ने शरद यादव को भी जवाब देते हुए कहा कि आज वे हमपर दल बदलने का आरोप लगा रहे हैं लेकिन जब हम 2013 में NDA से अलग हो रहे थे तो उस समय उन्होंने हमें क्यों नहीं रोका, उस समय तो वे पार्टी के अध्यक्ष थे और हमें यह कदम उठाने से रोक सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया.
BJP ने कहा, सुशील मोदी ने लालू की असली हकीकत बताई है: पढ़ें

BJP ने कहा, सुशील मोदी ने लालू की असली हकीकत बताई है: पढ़ें

sushil-modi-exposed-lalu-yadav-link-with-sand-mafia-in-bihar

भारतीय जनता पार्टी ने सुशील मोदी की तारीफ करते हुए कहा है कि उन्होंने वही कहा है जो लालू यादव की हकीकत है. उन्होंने लालू यादव और सैंड माफिया के बीच में रिश्तों को एक्सपोज किया है. बीजेपी नेता एस प्रकाश ने कहा कि ऐसा नहीं है कि सुशील मोदी ने पहली बार लालू यादव के खिलाफ कोई खुलासा किया है, वे विपक्ष में थे तो भी लालू यादव के खिलाफ खुलासे करते थे.

एस प्रकाश ने कहा कि लालू यादव एक भ्रष्ट और दोषी नेता हैं और अब उनके बेटे भी उसी रास्ते पर चल रहे हैं, इन लोगों के खिलाफ सुशील मोदी ने विपक्ष में रहते भी भ्रष्टाचार के कई खुलासे किये थे. लालू यादव के भ्रष्टाचार को देखकर ही नीतीश कुमार ने उनसे रिश्ता तोड़ा था इसलिए सुशील मोदी वही बता रहे हैं जो लालू यादव की हकीकत है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सुशील मोदी ने कल लालू यादव और सैंड माफिया के बीच रिश्तों का खुलासा किया था. उन्होंने पटना में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा था कि बिहार के सैंड माफिया राबड़ी देवी की संपत्तियों को खरीद रहे हैं.

उन्होंने कहा कि विधायक अरुण यादव जो सैंड माफिया भी हैं वो राबड़ी देवी की संपत्ति खरीद रहे हैं. अरुण यादव के बेटे राजेश कुमार रंजन और दीपू रंजन और उनकी पत्नी किरण देवी ने राबड़ी देवी के 9 मकानों को खरीदने के लिए 2.56 करोड़ रुपये के कालेधन का इस्तेमाल किया है. यही नहीं ये लोग कालेधन को सफ़ेद करने की एक कंपनी भी बना रहे हैं. 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 15 अगस्त के दिन सुशील मोदी ने लालू यादव के भ्रष्टाचार का खुलासा करने की कसम खाई थी. कल उन्होंने लालू यादव और सैंड माफियाओं के बीच रिश्ते का खुलासा करके अपनी कसम पूरी कर ली.
कांग्रेस का बहुत ही अप्पतिजनक बयान, नीतीश कुमार को बताया अमित शाह का नौकर, पढ़ें किसने कहा?

कांग्रेस का बहुत ही अप्पतिजनक बयान, नीतीश कुमार को बताया अमित शाह का नौकर, पढ़ें किसने कहा?

congress-told-nitish-kumar-is-working-as-amit-shah-servant-news

नीतीश कुमार के महागठबंधन से हटने के बाद कांग्रेस पार्टी के नेता बौखलाए हुए हैं और अनाप शनाप बयान दे रहे हैं. आज कांग्रेसी नेता संदीप दीक्षित ने नीतीश कुमार को अमित शाह का नौकर बता दिया. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के नौकर की तरह काम कर रहे हैं.

संदीप दीक्षित ने कहा कि JDU पार्टी के कई नेता नीतीश कुमार के कदम से टेंशन में हैं, वे जिस तरह से पाला बदल रहे हैं वह आश्चर्यचकित करने वाला है क्योंकि आज तक किसी भी नेता ने नीतीश कुमार की तरह रंग नहीं बदला है. उनके अन्दर नैतिकता नाम की चीज नहीं है, वह एक कमजोर मुख्यमंत्री है, एक समय था जब वे सम्मानजनक नेता माने जाते थे लेकिन अब वह अमित शाह के नौकर की तरह काम कर रहे हैं इसलिए मेरा सुझाव है कि JDU के सभी अच्छे नेता पार्टी छोड़ दें.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि JDU के वरिष्ठ नेता शरद यादव ने पार्टी के खिलाफ बगावत कर दी है, कांग्रेस भी आग में घी डालने का काम करके JDU में बगावत करवाना चाहती है ताकि JDU में फूट पड़े और नीतीश कुमार की सरकार गिर जाए, अगर 15-20 JDU विधायक भी टूटकर लालू या कांग्रेस के पास चले गए तो नीतीश कुमार की सरकार गिर जाएगी और बिहार में लालू-कांग्रेस की सरकार बन जाएगी.

Aug 18, 2017

नीतीश कुमार ने मान ली लालू और तेजस्वी की ये बात: पढ़ें क्या

नीतीश कुमार ने मान ली लालू और तेजस्वी की ये बात: पढ़ें क्या

nitish-kumar-accept-lalu-tejashwi-demand-cbi-bhagalpur-srijan-scam

आज नीतीश कुमार ने अपने विरोधी लालू यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव की बात मानते हुए भागलपुर सृजन घोटाले में सीबीआई जांच के आदेश दे दिए हैं. आज कैबिनेट की मीटिंग के बाद नीतीश कुमार ने ये फैसला लिया और लालू-तेजस्वी की मांग के बाद इस घोटाले की CBI जांच की शिफारिश कर दी. नीतीश कुमार ने राज्य के चीफ सेक्रेटरी को इस मामले को सीबीआई को देने के आदेश दे दिए हैं. इस घोटाले में गैरकानूनी तरीके से सरकारी खजाने से फंड निकालने के आरोप हैं. फिलहाल इस मामले की जांच SIT कर रही है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि लालू यादव और तेजस्वी यादव इस घोटाले का आरोप नीतीश कुमार पर लगा रहे हैं. दोनों लोग नीतीश कुमार पर 1000 करोड़ रुपये गबन करने का आरोप लगाये थे और CBI जांच की मांग कर रहे हैं. तेजस्वी यादव ने इस मामले पर बवाल खड़ा कर दिया है.

आज लालू यादव ने नीतीश कुमार पर लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगाते हुए कहा कि तेजस्वी यादव की भागलपुर में जनसभा को रद्द करना साबित करता है कि नीतीश कुमार डरे हुए हैं और घोटाले में शामिल हैं. लालू यादव ने नीतीश कुमार की जीरो करप्शन नीति का भी मजाक उड़ाया.

आज तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि मैं भागलपुर में नीतीश कुमार की पोल-पट्टी खोलने वाला था लेकिन स्थानीय प्रशासन ने मुझे रोकने के लिए जिले में धारा 144 लगा दी और मुझे जाने से रोक दिया.

क्या है सृजन घोटाला

रिपोर्ट के अनुसार करीब 1000 करोड़ रुपये भागलपुर के डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन के खाते में रखे गए थे लेकिन उन्हें गैरकानूनी तरीके से एक NGO सृजन और उसके कर्मचारियों के बैन खातों में ट्रान्सफर कर दिए गए. यह NGO मनोरमा देवी द्वारा शुरू किया गया था लेकिन बाद में उनके बेटे ने इसे चलाया और उनकी मौत के बाद उनकी पत्नी इसकी देखभाल कर रही हैं. अब तक इस मामले में तीन FIR दर्ज हुई है. फाइनेंस विभाग की ऑडिट टीम भागलपुर पहुंचकर इस मामले को ऑडिट कर रही है.

Aug 14, 2017

नीतीश कुमार ने आर्मी को तैयार रहने के लिए निर्देश

नीतीश कुमार ने आर्मी को तैयार रहने के लिए निर्देश

nitish-kumar-order-army-to-be-ready-for-flood-relieaf

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आर्मी को तैयार रहने के लिए कहा है साथ ही NDRF की टीमों को बाढ़ प्रभावित इलाके में तैनात कर दिया है. आज नीतीश कुमार ने आपातकालीन मीटिंग बुलाई और पूरी तैयारी का जायजा लिया. उन्होंने इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बात की और केंद्र से बाढ़ प्रभावित इलाकों में मदद के लिए आग्रह किया. मोदी ने भी उनकी बात मान ली और NDRF की टीमों को तुरंत ही बिहार के लिए रवाना कर दिया गया.

बिहार के गंगा प्रभावित 10 जिलों में करीब पांच लाख लोग प्रभावित हुए हैं, सभी के लिए राहत शिविरों की व्यवस्था की गयी है. कैम्पों में अभी तरह के सामान पहुंचा दिए गए हैं. इंडियन एयरफोर्स के हेलिकॉप्टर को राहत और बचाव के लिए लगा दिया गया है. बाढ़ प्रभावित लोगों को बचाकर शिविरों में लाया जा रहा है. फ़ूड पैकेट तैयार कर दिए गए हैं और लोगों में बाँटें जा रहे हैं.

Aug 13, 2017

JDU का 2 हिस्सा करवाएंगे अली अलवर, दिया ये बयान: पढ़ें

JDU का 2 हिस्सा करवाएंगे अली अलवर, दिया ये बयान: पढ़ें

ali-anwar-said-sharad-yadav-has-equal-right-as-nitigh-kumar-in-jdu

JDU ने निष्कासित किये गए सांसद अली अनवर ने JDU को दो हिस्सों में बंटवाने की कोशिश शुरू कर दी है. आज उन्होने कहा कि JDU पर शरद यादव का भी उतना ही हक है जितना नीतीश कुमार का क्योंकि उन्होंने पार्टी की स्थापना की थी. अगर उन्हें पार्टी से निकाला जाएगा तो पार्टी में गलत सन्देश जाएगा.

अली अनवर ने कहा कि शरद यादव पार्टी के संस्थापक है, उन्होंने दलितों और पिछड़े क्लास के लोगों के लिए काम किया है. उन्हें निकाले जाने से बाद राजनीतिक दुनिया में गलत सन्देश जाएगा. देश में उनकी छवि एक निर्दोष और इमानदार नेता की है. उनका भी पार्टी पर उतना ही अधिकार है जितना नीतीश कुमार का.

केसी त्यागी ने कहा कि शायद यादव के क़दमों से पार्टी में दरार होगा. यह सबकी पार्टी है और किसी भी व्यक्ति को पार्टी में दरार डालने की इजाजत नहीं दी जाएगी. अगर शरद यादव पार्टी में दरार डालने की कोशिश करेंगे तो उनपर कार्यवाही होगी और सभी कार्यकर्त्ता मिलकर ये फैसला करेंगे.

आपको बता दें कि 19 अगस्त को JDU की कमेटी की मीटिंग होने वाली है जिसमें शरद यादव और अली अनवर के बारे में अंतिम फैसला लिया जाएगा. दोनों मीटिंग में अनुपस्थित रहेंगे. केसी त्यागी ने खुद इस बात की जानकारी दी है.

Aug 12, 2017

नितीश कुमार ने शरद यादव को किया पद से बर्खास्त: पढ़ें

नितीश कुमार ने शरद यादव को किया पद से बर्खास्त: पढ़ें

nitish-kumar-remove-sharad-yadav-from-rajya-sabha-jdu-leader

बिहार के मुख्यमंत्री और JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने अब शरद यादव के खिलाफ एक्शन लेना शुरू कर दिया है. शरद यादव लगातार एंटी पार्टी गतिविधियों में संलिप्त हैं, हाल ही में उन्होंने नीतीश कुमार के खिलाफ तीन दिनों की जन संवेदना यात्रा निकाली थी और JDU राज्य सभा सांसद अली अनवर को विपक्षी पार्टियों की मीटिंग में शामिल होने के लिए भी भेजा था.

शरद यादव को नीतीश कुमार के खिलाफ जाना मंहगा पडा है क्योंकि उन्हें राज्य सभा में JDU अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है. उनकी जगह राम चंदर सिंह को राज्य सभा में पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया है. मतलब शरद यादव को अब तक सबसे आगे की कुर्सी मिलती थी लेकिन अब उन्हें पीछे भेज दिया गया है और उनकी वैल्यू कम कर दी है.

JDU सांसदों का कहना है कि यह निर्णय नीतीश कुमार ने सभी सांसदों के साथ मिलकर किया है क्योंकि शरद यादव एंटी-पार्टी गतिविधि में शामिल हैं और पार्टी से अलग रास्ते पर जा रहे हैं.

यह भी खबर आ रही है कि 19 अगस्त को JDU की कमेटी की मीटिंग होने जा रही है जिसमें शरद यादव को पार्टी से बाहर किया जा सकता है. वैसे भी शरद यादव अब इतना आगे निकल चुके हैं कि उनका वापस लौटना मुश्किल है. अब तो उन्हें लालू के साथ ही चले जाना चाहिए. 
15 अगस्त से पहले नीतीश कुमार ने अली अलवर को कर दिया आजाद, जाओ अब ऐश करो

15 अगस्त से पहले नीतीश कुमार ने अली अलवर को कर दिया आजाद, जाओ अब ऐश करो

nitish-kumar-expelled-ani-alwar-from-jdu-before-15-august

15 अगस्त आने वाला है, देश के लोग आजादी दिवस मनाने वाले हैं लेकिन नीतीश कुमार ने अपनी पार्टी के राज्य सभा सांसद अली अलवर को 15 अगस्त से पहले ही आजाद कर दिया और उन्हें अपनी पार्टी से निकाल दिया, उन्हें निकालने का फैसला JDU की पार्लियामेंट पार्टी ने लिया. अली अनवर ने कई दिन पहले ही नीतीश कुमार के खिलाफ बगावत कर दी थी और आज वे विपक्ष की मीटिंग में भी शामिल हुए थे. यह मीटिंग सोनिया गाँधी ने बुलाई थी जिसमें कई पार्टियों के लोग शामिल होकर बीजेपी के खिलाफ मोर्चा तैयार करने की योजना बनाने वाले थे.

अली अलवर के मीटिंग में शामिल होने के बाद ही उन्हें बर्खास्त कर दिया गया और उन्हें सस्पेंशन लेटर भी भेज दिया गया. JDU का कहना था कि विपक्ष की मीटिंग में शामिल होना JDU के फैसले के खिलाफ था क्योंकि अब JDU विपक्ष के साथ नहीं बल्कि सत्ता पक्ष के साथ है.

अली अनवर ने दी नीतीश कुमार को चुनौती

पार्टी से निकाले जाने के बाद अली अनवर ने कहा कि JDU अब बदल चुकी है. उन्होंने कहा कि जनता हमारे साथ है. किसी ना किसी को तो नीतीश कुमार के सामने आना ही था, अब अली अनवर सामने आ गया है. 

Aug 10, 2017

शरद यादव को मंहगा पड़ेगा नीतीश से पंगा लेना, ये भी जाएंगे

शरद यादव को मंहगा पड़ेगा नीतीश से पंगा लेना, ये भी जाएंगे

nitish-kumar-may-sack-sharad-yadav-for-anti-party-activity

नीतीश कुमार से पंगा लेना शरद यादव के लिए भारी पड़ने वाला है क्योंकि नीतीश कुमार उन्हें पार्टी से बर्खास्त करने का मन बना रहे हैं. वैसे भी जो कोई भी नीतीश कुमार के खिलाफ जाता है वो उसे रास्ते से हटा देते हैं और अब शरद यादव के साथ भी ऐसा होने वाला है.

शरद यादव आज से नीतीश कुमार के खिलाफ अभियान चलाने वाले हैं. वह तीन दिनों की जन संवाद यात्रा निकालने वाले हैं जिसमें वे नीतीश कुमार के महागठबंधन से अलग होने पर जनता से चर्चा करेंगे और उनकी राय जानेंगे. नीतीश कुमार का मानना है कि अभी इस सब की जरूरत नहीं थी क्योंकि बीजेपी-जेडीयू के काम से जनता अपने आप खुश हो जाएगी लेकिन शरद यादव नीतीश कुमार की बात नहीं मान रहे हैं और उनके खिलाफ अभियान चलाने वाले हैं.

अपनी जन संवेदना यात्रा में शरद यादव तीन दिनों में 10 विधानसभाओं का भ्रमण करेंगे और उनकी राय जानेंगे, शरद यादव कई रैलियों को भी संबोधित करेंगे.

शरद यादव ने कहा कि मैं महागठबंधन से अलग होने के लिए तैयार नहीं था, मुझसे बिना पूछे ये निर्णय लिया गया. मैं अब जनता से मिलूँगा और इस बारे में उनसे चर्चा करूँगा. उन्होंने कहा कि जनता ने बड़ी उम्मीदें लगाकर महागठबंधन का समर्थन किया था लेकिन नीतीश कुमार ने महागठबंधन से अलग होकर लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचाई.

Aug 6, 2017

नीतीश कुमार ने BJP से कर दी खुलकर डिमांड, बोले ‘अब दोस्ती हुई है तो दिखनी भी चाहिए’: पढ़ें क्या

नीतीश कुमार ने BJP से कर दी खुलकर डिमांड, बोले ‘अब दोस्ती हुई है तो दिखनी भी चाहिए’: पढ़ें क्या

nitish-kumar-ask-centre-to-full-fill-bihar-demand-after-friendship

आज नीतीश कुमार और केंद्रीय कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद साथ में बिहार के एक सरकारी कार्यक्रम में शामिल हुए, कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रवि शंकर प्रसाद ने नीतीश से दोस्ती पर अपनी ख़ुशी जाहिर की और न्यायिक क्षेत्र में 50 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता करने की घोषणा की.

इस कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए नीतीश कुमार ने मजाक मजाक में केंद्र सरकार ने बड़ी डिमांड कर डाली, उन्होंने कहा कि रवि शंकर प्रसाद जी मेरे मित्र हैं, उन्होंने आज हमसे दोस्ती की बहुत ख़ुशी जाहिर की और कहा कि हम साथ आ गए हैं. 

नीतीश कुमार ने चालाकी दिखाते हुए कहा कि अब हम साथ आ गए हैं तो कुछ दिखना भी चाहिए, इतना बड़ा राज्य और न्यायिक क्षेत्र में आप सिर्फ 50-60 करोड़ दे रहे हैं. इससे क्या होगा, देना है तो उदारतापूर्वक दीजिये.

मतलब नीतीश कुमार ने केंद्र सरकार से साफ़ कर दिया है कि अगर हमसे दोस्ती की है तो कीमत तो चुकानी ही पड़ेगी. मतलब बिहार का पेट भरना ही होगा और मोटा फंड देना ही पड़ेगा.

Aug 4, 2017

नीतीश कुमार से बोले तेजस्वी यादव, अब गद्दी छोड़ दो और रिटायर हो जाओ: पढ़ें क्यों

नीतीश कुमार से बोले तेजस्वी यादव, अब गद्दी छोड़ दो और रिटायर हो जाओ: पढ़ें क्यों

tejashwi-yadav-advised-nitish-kumar-to-resign-from-cm-bihar

आज लालू यादव के पुत्र और बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को रिटायरमेंट लेने की सलाह दी है, उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार अब 65 वर्ष के हो चुके हैं इसलिए उन्हें गद्दी छोड़ देनी चाहिए, उन्होंने यह भी कहा कि अगर नीतीश कुमार गद्दी छोड़ देंगे तो बिहार का भला हो जाएगा क्योंकि जनता को आप जैसे अवसरवादी मुख्यमंत्री से छुटकारा मिल जाएगा. तेजस्वी यादव ने यह भी कहा कि नीतीश कुमार से बिहार की शिक्षा व्यवस्था नहीं संभल रही है अगर ये कुर्सी छोड़ दें तो शिक्षा अपने आप सही हो जाएगी.

तेजस्वी यादव ने क्यों दी नीतीश को कुर्सी छोड़ने की सलाह

दरअसल बिहार में शिक्षा व्यकस्था की खराब हालत से नाराज होकर नीतीश कुमार ने फैसला लिया है कि 50 साल की उम्र से अधिक के शिक्षकों को जबरन रिटायर किया जाएगा, नीतीश कुमार उन्हीं शिक्षकों को हटाएंगे जहाँ पर रिजल्ट खराब आ रहा है. मतलब अगर आपको नौकरी करनी है तो बच्चों को पढ़ाना ही होगा.

नीतीश कुमार के फैसले का तेजस्वी ने किया विरोध

बिहार में बड़े नेता बनने का सपना देख रहे तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार के फैसले का विरोध किया है, उन्होंने कहा है कि अगर नीतीश कुमार 50 उम्र पार वाले शिक्षकों को हटाने का फैसला किया है तो उन्हें भी रिटायरमेंट ले लेना चाहिए क्योंकि वे भी 65 उम्र से अधिक हो गए हैं.
भोजपुर बीफ कांड पर लालू यदव ने मोदी से की कड़े एक्शन की मांग

भोजपुर बीफ कांड पर लालू यदव ने मोदी से की कड़े एक्शन की मांग

bhojpur-beef-kand-lalu-yadav-demand-strict-action-from-modi

राष्ट्रीय जनता पार्टी पार्टी के अध्यक्ष लालू यादव ने आज फिर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को याद किया है, कल बिहार के भोजपुर में ट्रक में बीफ ले जा रहे तीन लोगों को स्थानीय लोगों ने मिलकर पीट दिया था. लोगों को खबर मिली थी कि ट्रक में बीफ भरकर ले जाया जा रहा है. हालाँकि उस घटना के बाद पुलिस ने तीन आरोपियों को हिरासत में भी लिया था, उसके कुछ देर बाद स्थानीय लोगों ने अवैध बूचडखानों को बंद करने की मांग करते हुए NH-84 को ब्लॉक कर दिया. ट्रक ड्राईवर ने बताया था कि गौमांस मुजफ्फरपुर से भागलपुर के रास्ते कलकत्ता ले जा रहा था.

 आज लालू यादव ने उसी घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से कड़े एक्शन की मांग की. उन्होंने कहा कि मैं यह देखना चाहता हूँ कि नरेन्द्र मोदी इस घटना पर क्या एक्शन लेते हैं. गौरक्षकों ने आज फिर से गाय की रक्षा के नाम पर 3 लोगों को पीट दिया है, मोदी ने कहा था कि वे ऐसे लोगों पर कड़ी कार्यवाही करेंगे, अब देखते हैं कि वो क्या कार्यवाही करते हैं.

आपको बता दें कि हाल में ही गौरक्षा और मोब लिंचिंग का मुद्दा संसद में भी उठाया गया था, इससे पहले ही मोदी से गौरक्षकों को कड़ा सन्देश देते हुए कहा था कि कोई भी गौरक्षक अपने हाथों में कानून लेने की कोशिश ना करे, गौ के नाम पर लोगों की जान लेना सही नहीं है और ऐसे लोगों पर कड़ी कार्यवाही की जानी चाहिए.

Aug 1, 2017

लालू यादव समझ गए हैं नीतीश कुमार के इरादे, आज बता दिया

लालू यादव समझ गए हैं नीतीश कुमार के इरादे, आज बता दिया

lalu-yadav-strong-reply-to-nitish-kumar-is-palturam

कुछ दिनों पहले लालू यादव और नीतीश कुमार जिगरी दोस्त थे लेकिन अब जानी दुश्मन बन चुके हैं, कल नीतीश कुमार ने लालू यादव को भ्रष्टाचारी बताया था तो आज लालू यादव ने उन्हें पल्टूराम बताकर हिसाब बराबर कर दिया. 

आज लालू यादव ने एक प्रेस कांफ्रेंस करके कहा कि मै नीतीश कुमार को बहुत पहले से जानता हूँ, मैं उनका सीनियर हूँ, वे इतने बड़े पल्टूराम हैं की जल्द ही अपने रंग बदलने लगते हैं. शुरुआत से ही वे विश्वास करने लायक नहीं रहे हैं. नीतीश कुमार वो दिन भूल गए हैं जब वो किसी राजनीतिक डिबेट या भाषण में जाते थे तो पहले मेरा आशीर्वाद लेने आते थे.

लालू यादव ने अपने हाथ मलते हुए कहा कि मैं नीतीश कुमार के साथ कभी भी दोस्ती ना करता वो तो मैं मुलायम सिंह की बातों में आ गया और उनके साथ गठबंधन कर लिया.

लालू ने कहा कि कल वे मुझपर और मेरे परिवार पर आरोप लगा रहे थे, मुझे पता था कि वे ऐसा ही करेंगे, वे ऐसे आदमी हैं जिसकी बातों में दम नहीं है, वे उस दिन को भूल गए जब मैंने उन्हें अपने गले लगाकर बिहार की सत्ता सौंपी थे, मैंने मुलायम सिंह की बातों में आकर उनके साथ रिश्ता बनाया था लेकिन अब मैं पछता रहा हूँ क्योंकि मुझे उनके साथ कोई रिश्ता नहीं बनाना था.

लालू यादव ने यह भी कहा कि पहले नीतीश कुमार बीजेपी के खिलाफ बोलते थे लेकिन अब वे बीजेपी के गुण गा रहे हैं, वे कल तक प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना करते थे लेकिन एकाएक उनके बोल बदल गए और उन्होंने मोदी को भारत का सबसे बड़ा नेता बताना शुरू कर दिया. उनकी बात सुनकर मुझे शॉक लगा. उन्होंने यह भी कहा कि मोदी को कोई हरा नहीं सकता, मैं नीतीश के इरादों को समझ रहा हूँ, वे अपने भविष्य के खातिर मेरे बच्चों का भविष्य बर्बाद करना चाहते हैं.

Jul 31, 2017

नीतीश कुमार के बयान से कांग्रेस में मची खलबली तो याद करा दिया नीतीश कुमार का पुराना बयान

नीतीश कुमार के बयान से कांग्रेस में मची खलबली तो याद करा दिया नीतीश कुमार का पुराना बयान

anand-sharma-remind-nitish-kumar-once-you-told-modi-ruin-india

आज नीतीश कुमार के बयान ने कांग्रेसी खेमे में खलबली बचा दी है, कांग्रेसी पार्टी वाले 2019 में मोदी को हराने का सपना देख रहे थे लेकिन आज नीतीश कुमार ने उनके सपनों पर पानी फेरते हुए कहा कि 2019 में कोई ताकत मोदी को नहीं हरा सकती, आज मोदी देश के सबसे बड़े नेता हैं और उनका सामने करने की किसी में क्षमता भी नहीं है.

कांग्रेसी नेता आनंद शर्मा ने नीतीश कुमार पर काउंटर अटैक करते हुए कहा कि नीतीश कुमार आज कह रहे हैं कि मोदी को कोई हरा नहीं सकता, एक बार ये यह भी बोले थे कि मोदी देश को बर्बाद कर देंगे.

आनंद शर्मा ने ANI से बात करते हुए कहा, आज नीतीश कुमार मोदी के गुण गा रहे हैं, पहले ये कहते थे कि मोदी देश को बर्बाद कर देंगे इसलिए मैं बीजेपी के साथ कभी नहीं जाऊँगा. उन्होने कहा कि नीतीश कुमार बिना सिद्धांतों वाले इंसान हैं इसलिए उन्हें 2019 लोकसभा चुनाव में किसी की जीत का निर्णय करने का हक नहीं है, देश खुद निर्णय करेगा किसकी जीत होगी और किसकी हार.

कांग्रेस के अन्य नेता राजीव शुक्ला ने भी नीतीश कुमार के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अब नीतीश कुमार बीजेपी के साथ सरकार बना लिए हैं इसलिए मोदी की तारीफ तो करेंगे ही, अब नीतीश कुमार यह तो कहेंगे नहीं कि मोदी 2019 में चुनाव हार जाएंगे.
मोदी के बारे में धमाकेदार बयान देकर नीतीश कुमार ने उड़ा दी कांग्रेस और विपक्ष की नींद: पढ़ें

मोदी के बारे में धमाकेदार बयान देकर नीतीश कुमार ने उड़ा दी कांग्रेस और विपक्ष की नींद: पढ़ें

nitish-kumar-said-no-one-can-defeat-narenra-modi-in-2019-election

नीतीश कुमार और नरेन्द्र मोदी के बीच में पिछले चार वर्षों के दौरान कैसे भी रिश्ते रहे हों लेकिन आज उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बारे में एक ऐसी भविष्यवाणी कर दी है जिसे सुनकर उन्हें हराने का सपना देख रही कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों की नींद उड़ जाएगी.

आज नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री बनने के बाद अपनी पहली प्रेस कांफ्रेंस के कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में कोई ताकत मोदी को नहीं हरा सकती, उनके सामने कोई नहीं टिक पाएगा क्योंकि वह भारत के सबसे बड़े नेता हैं, उनका सामना करने की किसी में क्षमता ही नहीं है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वर्ष 2013 में नीतीश कुमार मोदी को प्रधानमंत्री उम्मीदवार बनाए जाने से नाराज होकर NDA से अलग हो गए थे, चार साल तक दोनों के बीच जमकर आरोप-प्रत्यारोप हुए लेकिन अंततः पिछले हप्ते दोनों एक हो गए और बिहार में फिर से JDU-BJP की सरकार बन गयी.
पटना हाई कोर्ट ने लालू यादव के लिए आयी बहुत बुरी खबर: पढ़ें

पटना हाई कोर्ट ने लालू यादव के लिए आयी बहुत बुरी खबर: पढ़ें

patna-high-court-dismisses-rjd-plea-against-nitish-sushil-sarkar

आज पटना हाई कोर्ट से भी लालू यादव के लिए बहुत बुरी खबर है क्योंकि नीतीश कुमार सरकार के खिलाफ उनकी याचिका नामंजूर कर दी गयी है और उन्हें खाली हाथ वापस भेज दिया गया है, एक तरह से हाई कोर्ट ने नीतीश-सुशील सरकार पर मुहर भी लगा दी है.

आपको बता दें कि नीतीश कुमार के इस्तीफ़ा देने के बाद लालू यादव ने भी सरकार बनाने के लिए पूरा जोर लगा दिया था, उनके बेटे तेजस्वी यादव ने रात दो बजे अपने विधायकों के साथ पैदल मार्च किया था लेकिन उनकी कोशिश रंग नहीं लाई और नीतीश कुमार ने बीजेपी की मदद से मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली.

नीतीश और सुशील मोदी के शपथ लेने के बाद लालू यादव अपने वकील से मिले और बिहार के राज्य पाल के फैसले के खिलाफ याचिका दायर कर दी, लेकिन आज हाई कोर्ट ने उनकी याचिका को रद्द करके नीतीश सरकार पर मुहर लगा दी.

RJD की तरफ से दो PIL दाखिल की गयी थी, एक PILसरोज यादव और दूसरी PIL चन्दन वर्मा ने दाखिल की थी लेकिन दोनों ही PIL रद्द कर दी गयीं हैं.
नीतीश कुमार के खिलाफ खुलकर आये शरद यादव, पढ़ें क्या कहा

नीतीश कुमार के खिलाफ खुलकर आये शरद यादव, पढ़ें क्या कहा

sharad-yadav-told-jdu-bjp-alliance-unfortunate-in-bihar

बिहार में नीतीश और बीजेपी की सरकार बनने के बाद JDU के पूर्व अध्यक्ष और राज्य सभा सांसद शरद यादव खुलकर नीतीश कुमार के खिलाफ आ गए हैं, आज उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के इस निर्णय से सहमत नहीं हूँ, यह दुर्भाग्यपूर्ण फैसला है, बिहार के लोगों ने हमें इसलिए मैंडेट नहीं दिया था.

sharad-yadav-opposed-nitish-kumar-decision

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कांग्रेस और लालू से शरद यादव की नजदीकी का अंदाजा लगाकर नीतीश कुमार ने बीजेपी से हाथ मिलाने की बात उन्हें नहीं बतायी, उन्हें लगा कि शरद यादव घर का भेद बताकर उनका खेल खराब कर देंगे, जब नीतीश कुमार ने एकाएक बीजेपी के साथ सरकार बना ली तो शरद यादव को सदमा लग गया और उन्होंने तीन दिनों तक किसी से बात नहीं की, हालाँकि लालू यादव से वो बात करते रहे.

अब लालू यादव नीतीश कुमार से बदला लेना चाहते हैं इसलिए शरद यादव को मोहरा बना रहे हैं, उन्हें लगता है कि अगर शरद यादव ने नीतीश कुमार के खिलाफ विद्रोह कर दिया और अपने साथ 10 विधायकों को भी तोड़ लिया तो बिहार में नीतीश कुमार की सरकार गिर जाएगी और लालू कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना लेंगे. लालू यादव की रणनीति काम भी कर रही है क्योंकि शरद यादव ने नीतीश कुमार के फैसले को गलत बताया है.

Jul 30, 2017

इस्लाम से डर गए 'जय श्री राम' बोलने वाले खुर्शीद अहमद, मांगी माफी

इस्लाम से डर गए 'जय श्री राम' बोलने वाले खुर्शीद अहमद, मांगी माफी

khurshid-ahmad-says-sorry-for-jai-shree-ram-remark

बिहार के मंत्री खुर्शीद अहमद आखिरकार इस्लाम से डर ही गए, सुबह उन्होंने जोश में जय श्री राम बोला था और कहा था कि मुसलमान किसी से नहीं डरता लेकिन शाम होते ही उन्होंने जय श्री राम का नारा लगाने के लिए माफी मांग ली. जय श्री राम का नारा लगाने के लिए उनके खिलाफ इमारत शरिया ने फतवा जारी क्या था, फतवे में उन्हें इस्लाम से बर्खास्त करने की धमकी दी थी, यही नहीं उनका निकाह रद्द करके फर से निकाह करने का आदेश दिया गया था.

अगर खुर्शीद अहमद माफी ना मांगते तो उन्हें अपनी पत्नी को तलाक देकर दोबारा निकाह करना पड़ता और इस्लाम के नियम के मुताबिक़ अपनी पत्नी का हलाला भी कराना पड़ता, इसलिय उन्होने मुस्लिमों से माफी मंहगा ही उचित समझा.

उन्होंने माफी मांगते हुए कहा, अगर मेरी वजह से किसी की भावना को ठेस पहुंची है तो उसके लिये माफी मांगता हूँ, मेरा किसी धर्म को गलत ठहराने का मकसद नहीं था, हर आदमी अपनी आस्था के अनुसार जीता है, मैंने किसी को गाली नहीं दी थी, अगर किसी को लगता है कि मैंने किसी को गलत कहा है तो मुझसे सवाल कर सकता है.

उन्होंने यह भी कहा कि इस दुनिया में पैदा होने वाला हर आदमी इंसान होता है लेकिन उसके बाद हिन्दू मुसलमान बनता है, हमारा समाज ही हमें हमें हिन्दू मुस्लिम बनाता है, मैं इंसान पहले हूँ और मुसलमान बाद में.

फतवे का जिक्र करते हुए कहा कि, मेरे खिलाफ फतवा निकालने के लिए पहले मुझसे पूछा नहीं गया, अपने आप फतवा निकाला गया है, अब देखते हैं आगे क्या होता है लेकिन अगर किसी को बुरा लगा हो तो मैं माफी मांगता हूँ.
मंत्री खुर्शीद अहमद बोले, लालू से पीछा छुड़ाने के लिए बोला ‘जय श्री राम, दूसरे दिन हो गया काम’

मंत्री खुर्शीद अहमद बोले, लालू से पीछा छुड़ाने के लिए बोला ‘जय श्री राम, दूसरे दिन हो गया काम’

khurshid-ahmad-lalu-se-peechha-chhudane-ke-liye-bole-jai-shree-ram

कल बिहार में नीतीश सरकार के मंत्रियों ने शपथ ली, JDU विधायक खुर्शीद अहमद को अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री बनाया गया, शपथग्रहण के बाद उन्होंने जोश में जय श्री राम के नारे लगाने शुरू कर दिए, उन्होंने कहा कि मैं पहले भी जय श्री राम के नारे लगाता था और आज भी जय श्री राम बोलता हूँ.

मंत्री खुर्शीद अहमद ने यह भी कहा कि मैंने दो दिन पहले लालू यादव से पीछा छुड़ाने के लिए भगवान श्री राम की पूजा की थी और दूसरे ही दिन काम हो गया, लालू और नीतीश का गठबंधन ख़त्म हो गया और बिहार में बीजेपी के साथ हमारी नयी सरकार भी बन गयी.

उन्होंने कहा कि मुझे इस देश की तरक्की के लिए जय श्री राम बोलने में परहेज नहीं है, मैं जहाँ रहता हूँ वहां मंदिर बना चुका हूँ, मैं मंदिर में अपना माथा भी टेकता हूँ, हमारा धर्म इस्लाम दूसरे धर्मों से भेदभाव नहीं सिखाता है इसलिए मैं सभी धर्मों का सम्मान करता हूँ. उन्होंने कहा कि अगर मुझे श्री राम की मूर्ती के आगे अगरबत्ती दिखाना पड़े तो भी पीछे नहीं हटूंगा.

खुर्शीद अहमद के मुंह से जय श्री राम के नारे कुछ लोगों को अच्छे नहीं लगे, इमारत शरिया के मुफ़्ती ने उनके खिलाफ फतवा जारी कर दिया है, उन्होंने कहा है कि आपने जय श्री राम का नारा लगाया है इसलिए आपका निकाह टूट गया है, अब आपको मुफ़्ती से माफी मांगने के बाद दोबारा निकाह करना पड़ेगा. मुफ़्ती ने कहा कि आपने सत्ता में लोभ में आकर इस्लाम का अपमान किया है.

फतवे की खबर सुनकर खुर्शीद अहमद ने कहा कि मैं एक सच्चा मुसलमान हूँ और मुसलमान का ईमान सच्चा होता है, मैं किसी से डरता नहीं हूँ, मैं मरने से भी नहीं डरता, मैं जय श्री राम बोलूँगा जिसको जो करना है करे.
पढ़ें, नीतीश ने शरद यादव से क्यों नहीं बताई NDA में जाने की बात, क्यों नहीं किया रत्ती भर भरोसा

पढ़ें, नीतीश ने शरद यादव से क्यों नहीं बताई NDA में जाने की बात, क्यों नहीं किया रत्ती भर भरोसा

why-nitish-kumar-not-trust-sharad-yadav

खबर आ रही है कि नीतीश कुमार ने अपनी पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेता शरद यादव से बीजेपी के साथ जाने की अपने 'मन की बात' नहीं बतायी, नीतीश कुमार ने खुद से फैसला लिया और अचानक बीजेपी के साथ चले गए, शरद यादव इसी बात को लेकर नाराज हैं. कल उन्होंने अपने घर पर मीटिंग बुलाई और कई JDU नेताओं के साथ इस बात की चर्चा की. मीटिंग में JDU के बागी सांसद अली अनवर भी पहुंचे थे. ऐसा लगता है कि शरद यादव अपनी अलग पार्टी बना सकते हैं हालाँकि शरद यादव ने सोचने के लिए दो दिन का समय माँगा है.

नीतीश को रत्ती भर भी नहीं है शरद यादव पर भरोसा

ऐसा लगता है कि नीतीश कुमार को शरद यादव पर रत्ती भर भी भरोसा नहीं था, शरद यादव लालू और कांग्रेस के बहुत नजदीक हैं और राज्य सभा में भी वे हमेशा कांग्रेस के साथ रहते हैं. नीतीश ने सोचा होगा कि अगर उनसे चर्चा की गयी तो वे तुरंत लालू यादव और कांग्रेस से यह बात लीक कर देंगे और उनका खेल खराब हो जाएगा.

शरद यादव ने की मोदी सरकार की आलोचना

आज शरद यादव ने पहली बार अपना मुंह खोला है और इशारों इशारों में अपनी आगे की रणनीति का खुलासा किया है, उन्होंने वही बात बोली है जो राहुल गाँधी बोल रहे हैं, इसलिए ऐसा लगता है कि वे कांग्रेस पार्टी के ही साथ रहेंगे, ये भी हो सकता है कि वे कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर लें. 

शरद यादव ने कहा है कि ना तो विदेश से कालाधन आया और ना ही उन लोगों पर कोई कार्यवाही हुई जिनके नाम पनामा पेपर्स में आये हैं, विदेशों से काला धन वापस लाना बीजेपी सरकार का मुख्य नारा था. शरद यादव ने ये बयान देकर इशारा कर दिया है कि वे बीजेपी मोदी का विरोध जारी रखेंगे.

shara-yadav-latest-news-in-hindi