Showing posts with label Bihar. Show all posts
Showing posts with label Bihar. Show all posts

Sunday, January 15, 2017

पटना नाव हादसे से दहला PM MODI का दिल, रद्द किया कार्यक्रम

पटना नाव हादसे से दहला PM MODI का दिल, रद्द किया कार्यक्रम

patna-naav-hadsa-pm-modi-cancels-inauguration-of-gandhi-setu

पटना, 14 जनवरी: बिहार में दर्दनाक नाव हादसे से प्रधानमंत्री मोदी का भी दिल दहल गया है इसलिए आज उन्होंने पटना में गंगा सेतु पर पूरे हुए मरम्मत कार्य के उद्घाटन का प्रोग्राम रद्द कर दिया है, मोदी दिल्ली से वीडियो कांफ्रेंसिंग से इस कार्य का उद्घाटन करने वाले थे लेकिन भीषण हादसे की वजह से उन्होंने यह कार्क्रम रद्द कर दिया साथ ही घटना में मरने वाले लोगों को श्रद्धांजलि भी दी। 

बिहार की राजधानी पटना में शनिवार की शाम गंगा नदी के एनआईटी घाट के पास एक नाव के पलट जाने जाने से कम से कम 25 लोगों की मौत हो गई, जबकि 25 से ज्यादा लोग लापता बताए जा रहे हैं। ये सभी लोग मकर संक्रांति के मौके पर दियारा क्षेत्र में सरकार द्वारा आयोजित पतंग उत्सव देखकर लौट रहे थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस घटना पर दुख जताते हुए जांच के आदेश दिए हैं। इस बीच जनता दल (युनाइटेड) ने मकर संक्रांति पर रविवार को आयोजित दही-चूड़ा भोज को स्थगित कर दिया है। 

पुलिस के अनुसार, मकर संक्रांति के अवसर पर गंगा के सबलपुर दियारा क्षेत्र में पतंग उत्सव का आयोजन किया जाता है। इसका आयोजन पर्यटन विभाग द्वारा प्रत्येक वर्ष की जाती है। इस दौरान दियारा से लोगों को लेकर लौट रही एक नाव गंगा नदी में पलट गई, जिसमें 25 लोगों की मौत हो गई है। 

कहा जा रहा है कि इस नाव पर क्षमता से अधिक लोग सवार हो गए थे। राहत एवं बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ को लगाया गया है। 

एनडीआरएफ के डिप्टी कमांडेंट रविकांत ने बताया, "अब तक 25 शवों को नदी से बाहर निकाल लिया गया है। राहत और बचाव का कार्य अभी भी जारी है। मृतकों की संख्या और बढ़ने की आशंका है।" 

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में अब तक बचाए गए सात लोगों को भर्ती कराया गया है, जिसमें दो बच्चे हैं। इनमें दो की हालत गंभीर बनी हुई है। 

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, नाव पर 50 से ज्यादा लोग सवार थे। 25 लोग तैरकर बाहर निकल गए हैं। 

घटना की सूचना पाकर पटना के वरिष्ठ अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। इधर, लोग लापता हुए अपने परिजनों को खोजने के लिए परेशान हैं। 

इस हादसे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट्वीट कर दुख जताया है। नीतीश ने ट्वीट कर लिखा, "गंगा दियारा में नाव डूबने की घटना दुखद। विभागों को बचाव और राहत कार्य में तेजी लाने का निर्देश।"

मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन को सभी मृतकों के आश्रितों को तत्काल आर्थिक मदद मुहैया कराने का आदेश दिया है। उन्होंने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं। 

इस बीच राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये बतौर मुआवजा दिया जाएगा। 

प्रदेश के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी दुख जताते हुए कहा, "गंगा में नाव डूबने की घटना से दुखी हूं। सरकार की तरफ से संबंधित विभागों को राहत एवं बचाव कार्यो में तेजी लाने का निर्देश दे दिया गया है।"

इधर, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार ने घटना के बाद तत्काल घटनास्थल पर पहुंचे और पीएमसीएच का दौरा किया। उन्होंने इस हादसे के लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा, "राज्य सरकार से व्यवस्था में चूक हुई है।"

राजद के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने घटना पर दुख प्रकट करते हुए ट्वीट कर लिखा, "गंगा में नाव डूबने की दुखद घटना से मर्माहत हूं। सरकार ने राहत व बचाव कार्यो में तेजी एवं दुर्भाग्यपूर्ण घटना की जांच का आदेश दिया है।"

जद (यू) के एक नेता ने बताया कि रविवार को मकर संक्रांति के मौके पर दही-चूड़ा भोज को स्थगित कर दिया है।

Saturday, January 14, 2017

लालू ने नीतीश को खिलाया दही-चूड़ा, दही का तिलक लगाकर बोले, अब गठबंधन में सब ‘शुभ ही शुभ’ होगा

लालू ने नीतीश को खिलाया दही-चूड़ा, दही का तिलक लगाकर बोले, अब गठबंधन में सब ‘शुभ ही शुभ’ होगा

dahi-chuda-bhoj

पटना, 14 जनवरी: मकर संक्रांति के मौके पर शनिवार को बिहार की राजधानी में सत्ताधारी महागठबंधन में शामिल राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की ओर से 'दही-चूड़ा भोज' का आयोजन किया गया, जिसमें राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गर्मजोशी से मिले। लालू ने नीतीश को दही का तिलक लगाया। इस भोज के बहाने जहां महागठबंधन को मजबूत दिखाने की कोशिश की गई, वहीं यह भी जताने का प्रयास किया गया कि राजद और जद (यू) के नेताओं में कोई मनमुटाव नहीं है। 

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास 10, सर्कुलर रोड पर हर साल की तरह इस बार भी मकर संक्रांति के मौके पर दही-चूड़ा भोज का आयोजन किया गया। भोज में शामिल होने के लिए दोपहर बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी लालू प्रसाद के आवास पहुंचे। 

लालू प्रसाद ने नीतीश को दही का टीका लगाते हुए कहा, "गठबंधन सरकार बहुत अच्छा काम कर रही है। लोग कहते रहते हैं कि महगठबंधन में कोई मनमुटाव है, और देखिए मैंने नीतीश के माथे पर दही का तिलक लगाया है। दही का तिलक काफी शुभ होता है। दही के तिलक से ही साबित होता है कि कोई मतभेद नहीं है।"

उन्होंने कहा कि अब गठबंधन में सब शुभ ही शुभ होगा। 

इस भोज में राज्य के मंत्री और लालू प्रसाद के पुत्र तेजप्रताप और तेजस्वी प्रसाद यादव सहित कई मंत्री, सांसद और विधायक भी शामिल हुए। लालू और राबड़ी आगंतुकों के लिए मुस्तैद दिखे तथा खुद दही, चूड़ा और तिलकुट परोसा। 

नीतीश कुमार ने भी इस मौके पर प्रदेशवासियों को मकर संक्रांति की शुभकामना दी। लालू द्वारा दही का तिलक लगाए जाने पर उन्होंने कहा, "मुझे इस भोज में भाग लेने का अवसर मिला, जिसे मैं अपना सौभाग्य मानता हूं। लालूजी ने दही का टीका लगाकर मुझे आशीर्वाद दिया, इसके लिए मैं उनका आभार व्यक्त करता हूं।" 

उन्होंने कहा, "हमलोग मिलकर बिहार को आगे बढ़ाने के लिए प्रयत्नशील हैं। महागठबंधन को जिस प्रकार जनादेश मिला है, उसका हमें एहसास है और हम लोग चुनाव के पूर्व जो वादे किए थे, उसे पूरा करने में लगे हुए हैं।" 

इस भोज में विपक्षी भाजपा के लोगों को भी निमंत्रण दिया गया था, लेकिन वे इस भोज से अलग रहे। 

इस मौके पर कांग्रेस और जद (यू) के लगभग सभी बड़े नेता राबड़ी-लालू के आवास पर पहुंचे और उन्हें मकर संक्रांति की बधाई दी। 

उल्लेखनीय है कि राजद की ओर से दो दिन चूड़ा-दही भोज का आयोजन किया गया है। रविवार को अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के लिए राबड़ी के आवास पर भोज का आयोजन किया गया है। 

15 जनवरी को जद (यू) की ओर से भी चूड़ा-दही भोज का आयोजन किया गया है। इसमें भी भाजपा को निमंत्रण दिया गया है। भाजपा के नेता इस भोज में शामिल हो सकते हैं।
पटना में बड़ा नाव हादसा, लाशों से पट गया घाट: पढ़ें

पटना में बड़ा नाव हादसा, लाशों से पट गया घाट: पढ़ें

patna-breaking-news-boat-drowned-20-dead-25-missing

पटना, 14 जनवरी: बिहार की राजधानी पटना में शनिवार की शाम गंगा नदी के एनआईटी घाट के पास एक नाव के पलट जाने जाने से कम से कम 20 लोगों की मौत हो गई, जबकि 25 से ज्यादा लोग लापता बताए जा रहे हैं। ये सभी लोग मकर संक्रांति के मौके पर दियारा क्षेत्र में सरकार द्वारा आयोजित पतंग उत्सव देखकर लौट रहे थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस घटना पर दुख जताते हुए जांच के आदेश दिए हैं। इस बीच जनता दल (युनाइटेड) ने मकर संक्रांति पर रविवार को आयोजित दही-चूड़ा भोज को स्थगित कर दिया है। 

पुलिस के अनुसार, मकर संक्रांति के अवसर पर गंगा के सबलपुर दियारा क्षेत्र में पतंग उत्सव का आयोजन किया जाता है। इसका आयोजन पर्यटन विभाग द्वारा प्रत्येक वर्ष की जाती है। इस दौरान दियारा से लोगों को लेकर लौट रही एक नाव गंगा नदी में पलट गई, जिसमें 20 लोगों की मौत हो गई है। 

कहा जा रहा है कि इस नाव पर क्षमता से अधिक लोग सवार हो गए थे। राहत एवं बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ को लगाया गया है। 

एनडीआरएफ के डिप्टी कमांडेंट रविकांत ने बताया, "अब तक 20 शवों को नदी से बाहर निकाल लिया गया है। राहत और बचाव का कार्य अभी भी जारी है। मृतकों की संख्या और बढ़ने की आशंका है।" 

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में अब तक बचाए गए सात लोगों को भर्ती कराया गया है, जिसमें दो बच्चे हैं। इनमें दो की हालत गंभीर बनी हुई है। 

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, नाव पर 50 से ज्यादा लोग सवार थे। 25 लोग तैरकर बाहर निकल गए हैं। 

घटना की सूचना पाकर पटना के वरिष्ठ अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। इधर, लोग लापता हुए अपने परिजनों को खोजने के लिए परेशान हैं। 

इस हादसे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट्वीट कर दुख जताया है। नीतीश ने ट्वीट कर लिखा, "गंगा दियारा में नाव डूबने की घटना दुखद। विभागों को बचाव और राहत कार्य में तेजी लाने का निर्देश।"

मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन को सभी मृतकों के आश्रितों को तत्काल आर्थिक मदद मुहैया कराने का आदेश दिया है। उन्होंने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं। 

इस बीच राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये बतौर मुआवजा दिया जाएगा। 

प्रदेश के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी दुख जताते हुए कहा, "गंगा में नाव डूबने की घटना से दुखी हूं। सरकार की तरफ से संबंधित विभागों को राहत एवं बचाव कार्यो में तेजी लाने का निर्देश दे दिया गया है।"

इधर, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष प्रेम कुमार ने घटना के बाद तत्काल घटनास्थल पर पहुंचे और पीएमसीएच का दौरा किया। उन्होंने इस हादसे के लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा, "राज्य सरकार से व्यवस्था में चूक हुई है।"

राजद के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने घटना पर दुख प्रकट करते हुए ट्वीट कर लिखा, "गंगा में नाव डूबने की दुखद घटना से मर्माहत हूं। सरकार ने राहत व बचाव कार्यो में तेजी एवं दुर्भाग्यपूर्ण घटना की जांच का आदेश दिया है।"

जद (यू) के एक नेता ने बताया कि रविवार को मकर संक्रांति के मौके पर दही-चूड़ा भोज को स्थगित कर दिया है।

Friday, January 13, 2017

लालू की चालाकी, कांग्रेस के खिलाफ आन्दोलन किये, उसी की गोद में बैठकर लेंगे 10000 रुपये की पेंशन

लालू की चालाकी, कांग्रेस के खिलाफ आन्दोलन किये, उसी की गोद में बैठकर लेंगे 10000 रुपये की पेंशन

lalu-yadav-rs-10000-pension-accepted-by-bihar-government

पटना, 13 जनवरी: इस दुनिया में लालू यादव से अधिक चालाक आदमी शायद ही कोई होगा, उन्हें जब भी और जहाँ भी लेने का मौका मिलता है वे लेने से नहीं चूकते, उन्हें चारा घोटाले में लेने का मौका मिला तो हजारों करोड़ लूट लिए, देश के रेल मंत्री बनने का मौका मिला तो बन गए, कई वर्षों तक सपत्नी बिहार के मुख्यमंत्री बने रहे और अब जय प्रकाश सेनानी सम्मान योजना के तहत 10 हजार रुपये की पेंशन लेंगे। 

लालू यादव को यह पेंशन क्यों मिलेगी अगर आप इसका कारन जानने तो आपको गुस्सा आएगा, अगर जय प्रकार नारायण भी जिन्दा होते तो वे भी शर्मशार हो जाते। 

आपको बता दें कि वर्ष 1974 में जयप्रकाश नारायण ने 'संपूर्ण क्रांति' का नारा दिया था। उन्होंने इंदिरा गांधी की सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए यह आह्वान किया था। इस आन्दोलन में लाखों लोग शामिल हुए थे, लालू यादव भी कांग्रेस को उखाड़ फेंकने के इस अभियान में शामिल हुए थे और 6 महीने से अधिक समय तक जेल की हवा काटी थी। 

अब आप स्वयं सोचिये, लालू यादव ने कांग्रेस को उखाड़ फेंकने के लिए आन्दोलन किया, 6 महीने जेल गए, उसके बाद कांग्रेस सरकार में रेल मंत्री रहे, आज भी बिहार में वे कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार चला रहे हैं। एक तरह से वे उसी पार्टी की गोद में बैठे हैं जिसके खिलाफ उन्होंने आन्दोलन किया था, उसके बावजूद भी उन्हें 10 हजार की पेंशन मिलेगी और यह पेंशन बिहार सरकार ने मंजूर भी कर ली है। 

यह योजना वर्ष 2009 में उस समय लागू की गयी थी कि बिहार में बीजेपी और नीतीश की मिली जुली सरकार थी, उस समय नीतीश कुमार NDA का बड़ा चेहरा थे, बीजेपी के साथ उनकी दांत काटी रोटी थी, बीजेपी ने सोचा भी नहीं होगा उनकी योजना का लाभ लालू यादव भी उठा लेंगे। आज लालू यादव भी कांग्रेस के साथ बिहार सरकार में हिस्सेदार हैं इसलिए उनकी मांग को कोई नामंजूर नहीं कर सकता। 

उन्होंने 11 जनवरी को जयप्रकाश (जेपी) सेनानी सम्मान योजना के तहत पेंशन के लिए आवेदन पत्र जमा किया और केवल एक दिन बाद 12 जनवरी को उनकी मांग मंजूर कर ली गयी। 

जेपी सम्मान पेंशन राशि की दो श्रेणियां है। जेपी आंदोलन के दौरान छह माह से कम जेल में रहने वालों को राज्य सरकार पांच हजार रुपये पेंशन के रूप में देती है, जबकि छह माह से ज्यादा जेल में रहने वाले व्यक्तियों के लिए पेंशन की राशि 10 हजार रुपये प्रतिमाह है। बिहार में वर्ष 2009 से लागू इस योजना में वर्तमान समय में 2,500 से ज्यादा व्यक्तियों को लाभ मिल रहा है। 

Thursday, January 12, 2017

बिहार में CISF जवानों नें आपस में ही कर ली मार काट, तीन की जीवन लीला समाप्त

बिहार में CISF जवानों नें आपस में ही कर ली मार काट, तीन की जीवन लीला समाप्त

bihar-aurangabad-cisf-jawan-fight-among-themselves-3-dead

औरंगाबाद, 12 जनवरी: बिहार के औरंगाबाद जिले के नबीनगर पॉवर जेनरेटिंग कंपनी (एनपीजीसी) परियोजना में तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ ) के जवानों ने आपस में ही मार काट कर ली जिसकी वजह से तीन की मौत हो गई और एक जवान गंभीर रूप से जख्मी हो गया।

पुलिस के अनुसार, एनपीजीसी में तैनात सीआईएसएफ के जवानों के दो गुटों के बीच गुरुवार की दोपहर किसी बात को लेकर विवाद हो गया। इसके बाद एक जवान ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी। इस घटना में तीन जवानों की मौत हो गई, जबकि एक अन्य जवान गंभीर रूप से घायल हो गया। इस घटना में आरोपी जवान को अन्य जवानों ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि आरोपी जवान को गिरफ्तार कर लिया गया है। घायल जवान को इलाज के लिए नबीनगर अस्पताल भेजा गया है। घायल जवान की हालत गंभीर बताई जा रही है। जिले के वरिष्ठ अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। 
नीतीश कुमार को मिला BJP का साथ, दारुबंदी के समर्थन में बिहार में बनेगी सबसे बड़ी मानव श्रंखला

नीतीश कुमार को मिला BJP का साथ, दारुबंदी के समर्थन में बिहार में बनेगी सबसे बड़ी मानव श्रंखला

bihar-biggest-human-chain-in-support-of-sharab-bandi

पटना, 10 जनवरी: बिहार में शराबबंदी को लेकर जागरुकता अभियान के तहत 21 जनवरी को बनने वाली मानव श्रृंखला में करीब दो करोड़ लोगों के शामिल करने की योजना है। पूरे बिहार में 11,292 किलोमीटर की मानव श्रृंखला बनेगी। 

इस मानव श्रृंखला का केंद्र बिदु पटना का ऐतिहासिक गांधी मैदान होगा जहां से यह राज्य की सीमाओं तक अटूट रूप से बढ़ेगी।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस मानव श्रृंखला के विश्व रिकॉर्ड बनाने की उम्मीद है। नीतीश के इस अभियान को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का भी साथ मिला है। मोदी ने प्रकाश पर्व के दिन भाषण देते हुए सभी राजनीतिक दलों से नीतीश कुमार के अभियान को समर्थन देने की अपील की थी, इस वजह से बीजेपी भी इस अभियान का खुलकर समर्थन कर रही है। 

पटना के जिलाधिकारी संजय कुमार अग्रवाल ने कहा कि यह मानव श्रृंखला सबसे बड़ी होगी और इसमें करोड़ों लोगों की भागीदारी होगी। जिलाधिकारी ने इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए पुलिस बल की नियुक्ति और 'रूट लाइनिंग' करने का निर्देश दिए गए हैं।

बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि 21 जनवरी को बिहार के लोग 11,292 किलोमीटर की ऐतिहासिक मानव श्रृंखला बनाएंगे। 

उन्होंने स्पष्ट कहा, "यह मानव श्रृंखला किसी दल या राजनीतिक पार्टी की नहीं है। इसमें किसी भी दल के कार्यकर्ता पार्टी का झंडा और बैनर लेकर शामिल नहीं हो सकते। यह मानव श्रृंखला बिहार के लोगों की होगी।" 

मुख्य सचिव ने बताया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का मद्य निषेध संदेश राज्य के हर घर-घर में भेजा जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस श्रृंखला की रिकॉर्डिग हर जिले में ड्रोन कैमरों के माध्यम से की जाएगी। इसके अलावा पूरे राज्य के सैटेलाइट तस्वीर के लिए भी इसरो से संपर्क किया गया है।

एक किलोमीटर में लगभग दो हजार व्यक्ति श्रृंखला में शामिल रहेंगे। मानव श्रृंखला में व्यक्ति एक-दूसरे का हाथ पकड़ कर शराबबंदी अभियान का समर्थन करेंगे। 

इस श्रृंखला में कक्षा पांच से कम उम्र के बच्चे शामिल नहीं होंगे। इस मानव श्रृंखला में जिला स्तर के सभी विभागों के सरकारी और संविदाकर्मी हिस्सा लेंगे। 

इस मानव श्रृंखला में सत्ताधारी महागठबंधन में शामिल जद (यू), कांग्रेस और राजद के अलावा अब भाजपा का भी साथ मिला है। 

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि भाजपा मानव श्रृंखला में शामिल होगी। उन्होंने कहा, "भाजपा शुरू से ही पूर्ण शराबबंदी के पक्ष में रही है। पार्टी ने सरकार के शराबबंदी के निर्णय का पहले ही समर्थन किया है। यह जागरूकता का कार्यक्रम है। पार्टी के नेता व कार्यकर्ता मानव श्रृंखला में शामिल होंगे।" 

मालूम हो कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नोटबंदी के फैसले का समर्थन कर चुके हैं। वहीं, प्रकाश पर्व पर पटना आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शराबबंदी को लेकर नीतीश कुमार की प्रशंसा करते हुए कहा था कि यह सामाजिक सुधार का काम है। नीतीश कुमार ने नशामुक्ति का जो बीड़ा उठाया है, उसका हम अभिनंदन करते हैं।

राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने कहा कि पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद के निर्देश पर पंचायत से प्रखंड और जिला मुख्यालयों पर राजद के कार्यकर्ता इस जनजागरूकता अभियान में शामिल होंगे। 

उल्लेखनीय है कि सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी कहा था कि 21 जनवरी को एकजुटता दर्शाने के लिए बिहार के लोग मानव श्रृंखला में शामिल होंगे। 11,000 किलोमीटर से भी ज्यादा लंबी मानव श्रृंखला होगी, जिससे एक विश्व रिकॉर्ड बनेगा।

बिहार में पिछले साल अप्रैल महीने से पूर्ण शराबबंदी लागू है। 

Wednesday, January 11, 2017

10 हजार रूपया प्रति महीना पेंशन चाहिए लालू यादव को, बिहार सरकार के पास भेजा आवेदन: पढ़ें क्यों

10 हजार रूपया प्रति महीना पेंशन चाहिए लालू यादव को, बिहार सरकार के पास भेजा आवेदन: पढ़ें क्यों

lalu-yadav-apply-jp-samman-pension-rashi-10-hajaar-per-month

पटना, 11 जनवरी: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने जयप्रकाश (जेपी) सेनानी सम्मान योजना के तहत पेंशन के लिए आवेदन पत्र जमा किया है। यह आवेदन बिहार के गृह विभाग को भेजा गया है। पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद के नजदीकी और बहादुरपुर विधानसभा क्षेत्र से राजद विधायक भोला यादव ने बुधवार को आईएएनएस से कहा कि सारी प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद लालू प्रसाद के आवेदन को पेंशन भुगतान के लिए गृह विभाग में भेजा गया है।

उन्होंने बताया कि जेपी सेनानी सम्मान योजना के तहत लालू प्रसाद को प्रतिमाह 10 हजार रुपये की राशि पेंशन के रूप में मिलेगी, क्योंकि उन्होंने जेपी आंदोलन के दौरान छह से अधिक माह जेल में गुजारा था। 

जेपी सम्मान पेंशन राशि की दो श्रेणियां है। जेपी आंदोलन के दौरान छह माह से कम जेल में रहने वालों को राज्य सरकार पांच हजार रुपये पेंशन के रूप में देती है, जबकि छह माह से ज्यादा जेल में रहने वाले व्यक्तियों के लिए पेंशन की राशि 10 हजार रुपये प्रतिमाह है। 

बिहार में वर्ष 2009 से लागू इस योजना में वर्तमान समय में 2,500 से ज्यादा व्यक्तियों को लाभ मिल रहा है। 

उल्लेखनीय है कि वर्ष 1974 में जयप्रकाश नारायण ने 'संपूर्ण क्रांति' का नारा दिया था। उन्होंने इंदिरा गांधी की सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए यह आह्वान किया था।

लोकनायक ने कहा था कि संपूर्ण क्रांति में सात क्रांतियां- राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, बौद्धिक, शैक्षणिक व आध्यात्मिक क्रांति शामिल हैं। इन सातों क्रांतियों का समग्र रूप 'संपूर्ण क्रांति' है। 

Sunday, January 8, 2017

बिहार में JDU नेता की गोली मारकर हत्या

बिहार में JDU नेता की गोली मारकर हत्या

bihar-news-jdu-leader-mukesh-kumar-singh-murder

पटना, 8 जनवरी: बिहार के पटना जिले के बाढ़ क्षेत्र में रविवार सुबह अज्ञात अपराधियों ने राज्य में सत्ताधारी जनता दल (युनाइटेड) के एक नेता की गोली मारकर हत्या कर दी और फरार हो गए। पुलिस के अनुसार, भावनचक गांव निवासी जद (यू) नेता मुकेश कुमार सिंह सुबह अपनी मोटरसाइकिल से कहीं जा रहे थे। तभी बाढ़ थाना क्षेत्र के ढेलवा गोसाईं मोहल्ले के पास दो-तीन अपराधियों ने उन पर गोलियों की बौछार कर दी। गोली लगने से घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गई। 

सिंह जद (यू) के जिला महासचिव थे तथा प्राथमिक कृषि साख संस्था (पैक्स) के अध्यक्ष भी थे। वे मंत्री ललन सिंह के करीबी माने जाते थे। 

हत्या के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है, परंतु इसके पीछे इलाके में राजनीतिक वर्चस्व की लड़ाई की आशंका जताई जा रही है। हत्या के बाद से इलाके में तनाव है। पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई है और मामले की छानबीन कर रही है।

Friday, January 6, 2017

RJD नेता ने कहा, अब नीतीश कुमार और लालू यादव में महागठबंधन नहीं दिख रहा है, नीतीश के पर लग गए

RJD नेता ने कहा, अब नीतीश कुमार और लालू यादव में महागठबंधन नहीं दिख रहा है, नीतीश के पर लग गए

rjd-slamd-nitish-kumar-for-close-chemistry-with-modi-prakash-parv

Patna, 6 January: जिसका अंदेशा था वही हुआ, कल पटना में प्रकाश उत्सव का पर्व मनाया गया था, इस उत्सव में भाग लेने के लिए प्रधानमंत्री मोदी भी पहुंचे हुआ थे, मंच पर नीतीश कुमार मोदी के पास बैठे थे जबकि लालू यादव को दर्शक दीर्घा में बैठा दिया गया था, यह बात RJD को खल गयी। 

आज RJD नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि अब दोनों पार्टियों में महागठबंधन नहीं दिख रहा है, ऐसा लग रहा है कि नीतीश कुमार के पर लग गए हैं और वे अपने आप उड़ रहे हैं। 

रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि बिहार सरकार में लालू यादव भी साझेदार हैं और महागठबंधन के नेता हैं, नीतीश कुमार को प्रकाश पर्व के समारोह में लालू यादव को भी मंच पर स्थान देना चाहिए था लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और लालू यादव को दर्शक दीर्घा में बैठा दिया। 

जानकारी के लिए बता दें कि RJD सबसे अधिक जलन इस बात से है कि नीतीश कुमार ने लालू यादव को अपने पास नहीं बिठाया और मोदी से बात करते रहे, नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ भी की जिसके बाद मोदी ने भी नीतीश कुमार की तारीफ की। शायद यह बात RJD को नहीं पची और उन्होंने नीतीश कुमार पर हमला बोल दिया। 

Thursday, January 5, 2017

मोदी और नीतीश कुमार के बीच गहरी होती जा रही केमिस्ट्री, कांग्रेस और लालू को लग सकता है मिर्ची

मोदी और नीतीश कुमार के बीच गहरी होती जा रही केमिस्ट्री, कांग्रेस और लालू को लग सकता है मिर्ची

chemistry-between-modi-and-nitish-kumar-becoming-strong

पटना, 5 जनवरी: प्रधानमंत्री मोदी और नीतीश कुमार के बीच केमिस्ट्री गहरी होती जा रही है, आज तो यह केमिस्ट्री और बढ़ गयी जब प्रकाशोत्सव के समारोह में मोदी और नीतीश एक दूसरे से बात चीत करते रहे और दोनों से एक दूसरे की तारीफ भी की। दोनों की केमिस्ट्री देखकर कांग्रेस और लालू  यादव को मिर्ची लग सकती है क्योंकि दोनों ही महागठबंधन में साझीदार हैं। आज नीतीश कुमार ने पहले मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि वे जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने सफलतापूर्वक 12 साल तक शराब बंदी को लागू किये रखा अब बिहार में भी शराबंदी की गयी है। 

सिखपंथ के 10वें गुरु, गुरु गोविंद सिंह की जन्मस्थली पटना में 350वें प्रकाशोत्सव में भाग लेने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में शराबबंदी और प्रकाशोत्सव की तैयारी को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जमकर तारीफ की। प्रकाशोत्सव के मौके पर पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में आयोजित एक समारोह में प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार विशेष प्रयास कर रही है कि न केवल हिंदुस्तान में, बल्कि पूरे विश्व को इस बात का अहसास हो कि गुरु गोविंद सिंह जी जैसी दिव्य आत्मा का जन्म बिहार में हुआ।

प्रकाशोत्सव के सफल आयोजन को लेकर नीतीश की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा, "नीतीश जी ने काफी मेहनत से इस आयोजन को सफल बनाया है। पटना में प्रकाश पर्व की विशेष अहमियत है।" 

मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार स्वयं आयोजन की एक-एक छोटी-छोटी चीजों अैार तैयारियों को देखते रहे। चंपारण सत्याग्रह के संबंध में प्रस्तावित आयोजन के लिए भी मोदी ने नीतीश का आभार प्रकट किया।

प्रधानमंत्री ने बिहार सरकार द्वारा राज्य में की गई शराबबंदी की तारीफ करते हुए लोगों को इसमें सहयोग करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि नशामुक्ति अभियान केवल सरकार का काम नहीं है, बल्कि आने वाली पीढ़ी को बचाने के लिए यह जन-जन का काम है। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "समाज परिवर्तन का काम बहुत कठिन होता है। उसे हाथ लगाने का काम भी बहुत साहसपूर्ण होता है, लेकिन नीतीश कुमार ने शराबबंदी का काम किया।" 

उन्होंने कहा आगे कहा, "जिस प्रकार बिहार में नशामुक्ति का अभियान चलाया है, उसके लिए मैं उनका अभिनंदन करता हूं। उन्हें (नीतीश कुमार) बधाई देता हूं। मैं बिहार की जनता और सभी राजनीतिक दलों से गुजारिश करता हूं कि यह सिर्फ नीतीश कुमार का काम नहीं है। यह जन जन का काम है। यदि इसे सफल बनाएंगे तो बिहार मिसाल बनेगा। मुझे विश्वास है कि बिहार देश की अनमोल शक्ति बनेगा।"

बिहार में पिछले साल अप्रैल से ही शराब पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है। 

मोदी ने कहा, "प्रकाशोत्सव पर्व हमें सही रास्ते पर चलना सिखाता है। गुरु गोविंद सिंह जी त्याग की प्रतिमूर्ति थे। त्याग की पराकाष्ठा थे। उन्होंने अपनी आंखों के सामने पिता का बलिदान देखा, तो पुत्रों को भी सच्चाई के लिए बलि चढ़ते देखा। गुरु गोविंद सिंह जी की जिदंगी और उनके त्याग हमेशा इस दुनिया को जीने का तरीका बताते रहे हैं।"

उन्होंने अपने संबोधन की शुरुआत में पंजाबी भाषा में पंज प्यारे का जिक्र करते हुए कहा, "पंज प्यारे ने भारत को एकता के सूत्र में बांधने का काम किया। आज के समय में हम सबकी जिम्मेदारी है कि हम उनके आदर्शो से सीखते हुए देश को एकता के सूत्र में बांधने का काम करें।"

इससे पहले, प्रधानमंत्री मोदी ने गांधी मैदान में बने अस्थायी गुरुद्वारे में मत्था टेका और गुरुवाणी सुनी। वह हवाईअड्डे से सीधे यहां पहुंचे। पटना हवाईअड्डे पर बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनका स्वागत किया। 
नीतीश कुमार बिहार में बनायेंगे सिख सर्किट

नीतीश कुमार बिहार में बनायेंगे सिख सर्किट

nitish-kumar-will-make-sikh-circuit-in-bihar

पटना, 5 जनवरी: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को 350वें प्रकाशोत्सव के मौके पर बिहार के गुरुद्वारों को साथ मिलाकर सिख सर्किट बनाने की घोषणा की। प्रकाशोत्सव के मौके पर पटना के गांधी मैदान में आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने प्रकाशपर्व को सफल बनाने के लिए अधिकारियों और बिहार के लोगों का अभिनंदन करते हुए कहा, "हमने इस आयोजन की सफलता के लिए हर संभव प्रयास किया है, फिर भी अगर कोई कमी रह गई होगी हो तो क्षमा करेंगे।"

मुख्यमंत्री ने कहा, "गुरु गोविंद सिंह एक आदर्श व्यक्तित्व थे। उनका संघर्ष दलित और मानवता की रक्षा के लिए था। हम गुरु गोविंद सिंह के जीवन से प्रेरणा लेकर अपने जीवन को बेहतर बनाएंगे। बिहार के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित कई गुरुद्वारों को जोड़कर एक सर्किट बनाया जाएगा। इसके अलावा गुरु के बाग में प्रकाश उद्यान बनाया जाएगा।" 

मुख्यमंत्री ने इस वर्ष महात्मा गांधी के चंपाराण सत्याग्रह के एक सौ साल पूरे होने पर शताब्दी वर्ष मनाए जाने की चर्चा करते हुए कहा कि यह बापू के चंपारण सत्याग्रह का सौवां साल भी है। चंपारण सत्याग्रह ने देश की आजादी की लड़ाई को नया स्वरूप दिया। 

उन्होंने कहा कि बिहार के लिए यह सौभाग्य की बात है कि हम एक ही साल गुरु गोविंद सिंह का 350वां प्रकाश पर्व तथा चंपारण सत्याग्रह के सौवें साल का समारोह मना रहे हैं।

नीतीश ने बाद में शराबबंदी की चर्चा करते हुए कहा कि राज्य में शराबबंदी कर इन दोनों महापुरुषों को सच्ची श्रद्धांजलि देने का प्रयास किया गया है। उन्होंने गुजरात में शराबबंदी की भी तारीफ की। 
गुरु गोबिंद सिंह के पास वीरता के साथ साथ धीरता भी थी, हिंदुस्तान उन्हें हमेशा याद रखेगा: MODI

गुरु गोबिंद सिंह के पास वीरता के साथ साथ धीरता भी थी, हिंदुस्तान उन्हें हमेशा याद रखेगा: MODI

pm-modi-speech-in-patna-350-prakash-parv-guru-gobind-singh

Patna, 5 January: प्रधानमंत्री मोदी ने आज पटना में आयोजित गुरु गोबिंद सिंह के 350वें प्रकाश पर्व पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित किया। मोदी ने कहा कि आज हमने पूरे विश्व में अपने दूतावास के माध्यम से प्रकाश पर्व आयोजित करने का प्रयास किया है ताकि गुरु गोबिंद सिंह को पूरा विश्व जान सके। उन्होंने नीतीश कुमार की भी जमकर प्रशंसा करते हुए कहा कि इन्होने और इनके कार्यकर्ताओं ने बहुत की बढ़िया आयोजन किया है, यह कार्यक्रम भले ही पटना में आयोजित हो रहा है लेकिन इससे पूरे देश को प्रेरणा मिल रही है। 

उन्होंने कहा कि, यह महोत्सव लोगों को यह प्रेरणा देगा कि हम मानव जाति को क्या दे सकते हैं, गुरु गोबिंद सिंह ने अपनी आँखों के सामने ही अपने पिता और अपनी संतानों को बलि चढ़ते देखा और देश के लिया अपना सर्वश्व वलिदान कर दिया। 

वह चाहते तो राजाओं महाराजाओं की तरह से अपना जीवन गुजार सकते थे लेकिन उनके त्याग की पराकाष्ठ तो देखिये, गुरु गोबिंद सिंह ने अपने ज्ञान को केंद्र में रखते हुए गुरु ग्रन्थ साहब के हर शब्द को जीवन ग्रन्थ मना और सबको आखिर में यही कहा कि अब गुरु ग्रन्थ साहब का हर शब्द और हर पन्ना ही हमें प्रेरणा देगा। 

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार ने आदि शंकराचार्य ने देश के सभी कोनों में अलग अलग मठ बनाकर देश की एकता और अखंडता बनाए रखने का प्रयास किया था उसी प्रकार ने गुरु गोबिंद सिंह महाराज ने पञ्च प्यारे और खालसा की स्थापना करके देश को एकता के सूत्र में पिरोने की कोशिश की थी। पञ्च प्यारे और खालसा का निर्माण किया था गुरु गोबिंद साहब ने लेकिन उन्होंने स्वयं को भी उसी परंपरा में भी बाँध दिया और कहा कि यह सभी परम्पराएं मेरे ऊपर भी लागू होती हैं। मोदी ने कहा कि जो व्यवस्था उन्होने स्वयं खड़ी की थी उन्होंने उसमें खुद को भी बाँध दिया। 

मोदी ने कहा कि उनके अन्दर वीरता के साथ साथ धीरता भी थी, वे समाज में बुराइयों के लिए भी लड़ते थे, उंच नीच के खिलाफ लड़ते थे, सबको सामान नजरों से देखते थे, समाज के लिए लड़ते थे, उनके लिए खुद को खपाते थे, आने वाले समय में हमारी पीढियां उसे याद रखेंगी और इन महान मूल्यों को हम भी अपने जीवन में अपनाएंगे और समाज को एक सूत्र में पिरोये रखेंगे। 
प्रकाश सिंह बादल ने नीतीश कुमार की जमकर प्रशंसा की, बोले, पंजाब हमेशा रहेगा नीतीश का कर्जदार

प्रकाश सिंह बादल ने नीतीश कुमार की जमकर प्रशंसा की, बोले, पंजाब हमेशा रहेगा नीतीश का कर्जदार

prakash-singh-badal-praised-nitish-kumar-for-prakash-parv-patna

Patna, 5 January: पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने आज पटना में प्रकाश पर्व के महोत्सव पर बोलते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जमकर प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने श्रद्धा दिखाते हुए जिस प्रकार से इस समागम का आयोजन किया है अगर मुझे इसकी ड्यूटी मिलती तो मै भी शायद इतना बढ़िया व्यवस्था ना कर पाता, मैंने आज तक कई समागम देखें हैं लेकिन नीतीश कुमार ने जिस तरह से व्यवस्था की है वह सबसे बढ़िया है। 

इस अवसर पर बोलते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि हमें इस समागम की तैयारी कई महीनों पहले से ही थी, हमारे सभी अधिकारी कैम्प लगाकर समागम की व्यवस्था देख रहे थे, यहाँ की सड़कें खराब थीं, चौंडी नहीं थी, हमने सड़कों को चौंडा करवाया, फ्लाईओवर बनवाये, हर तरह की व्यवस्था की, अगर हमसे कोई गलती हो गयी हो तो माफ़ कर देगा। 

उन्होंने कहा कि हम बिहार के लोग गरीब हैं, पिछड़े हुए हैं लेकिन हम स्वागत करना, सम्मान करना अच्छी तरह से जानते हैं, हमारे कार्यकर्त्ता हर जगह लगे हुए हैं और लोगों का स्वागत कर रहे हैं, यह अच्छी बात है और इससे एक अच्छी संस्कृत विकसित होगी। 

उन्होंने कहा कि यहाँ पर कई जगह लंगर चल रहे हैं और लाखों लोग वहां पर भोजन कर रहे हैं यह अपने आपने में महान कार्य है। उन्होंने सभी अधिकारीयों की तरीफ की। 

उन्होंने गुरु गोबिंद सिंह की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होने कौम और देश की रक्षा के लिए अपना सर्वश्व वलिदान कर दिया, उन्हें इतिहास हमेशा याद रहेगा और अगर बिहार में हर वर्ष प्रकाश पर्व मनाना पड़ा तो बिहार को ख़ुशी होगी और हम हर वर्ष ऐसी ही व्यवस्था करेंगे। 

Tuesday, January 3, 2017

पंजाब चुनाव में कांग्रेस की तरफ से प्रचार के लिए अमरिंदर सिंह ने नितीश कुमार को दिया न्योता

पंजाब चुनाव में कांग्रेस की तरफ से प्रचार के लिए अमरिंदर सिंह ने नितीश कुमार को दिया न्योता

amarinder-singh-invited-nitish-kumar-compaign-in-punjab-election

पटना, 3 जनवरी: पंजाब की कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार से मुलाकात की और उन्हें पंजाब में कांग्रेस के लिए चुनाव प्रचार करने का आमंत्रण दिया। अमरिंदर सिंह मंगलवार को सिखों के 10वें धर्मगुरु गुरुगोविंद साहिब की 350वीं जयंती पर आयोजित समारोह में हिस्सा लेने पटना पहुंचे हुए थे, जहां उन्होंने नीतिश के साथ दोपहर का भोजन भी किया।

अमरिंदर और कांग्रेस नेता आशा कुमारी ने नीतिश से पंजाब में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस की ओर से चुनाव प्रचार करने का आग्रह किया।

उल्लेखनीय है कि बिहार की सत्तारूढ़ नीतिश सरकार में कांग्रेस भी एक घटक दल है।
बिहार में गुंडाराज जारी, एक और पत्रकार की गोली मारकर हत्या

बिहार में गुंडाराज जारी, एक और पत्रकार की गोली मारकर हत्या

bihar-jangalraaj-continue-one-more-journalist-shot-dead

पटना, 3 जनवरी: बिहार के सीवान जिले में वरिष्ठ पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या और सासाराम में पत्रकार धर्मेद्र सिंह हत्या की गुत्थी अभी सुलझी भी नहीं है कि राज्य के समस्तीपुर जिले के विभूतिपुर में मंगलवार को एक हिन्दी दैनिक के पत्रकार ब्रजकिशोर ब्रजेश की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस के अनुसार, पत्रकार ब्रजकिशोर शाम को सलखनी गांव स्थित अपने पिता के चिमनी ईंट-भट्ठा गए थे, तभी एक बोलेरो पर सवार अपराधियों ने अंधाधुंध गोलीबारी कर दी, जिससे घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गई। 

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पत्रकार को सात गोलियां लगी हैं। पुलिस घटनास्थल पर पहुंच जांच शुरू कर दी है। घटना के बाद स्थानीय पत्रकारों और लोगों में रोष है। फिलहाल हत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। 

उल्लेखनीय है कि सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन की पिछले साल 13 मई को अखबार के दफ्तर से घर लौटते समय कुछ अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस पूरे मामले की जांच फिलहाल केंद्रीय जांच ब्यूरो कर रही है। दिवंगत पत्रकार की पत्नी आशा रंजन को कुछ दिन पूर्व जान से मारने की धमकी भी मिली है। पिछले साल 12 नवंबर को सासाराम में भी पत्रकार धर्मेद्र सिंह की हत्या कर दी गई थी। 

Saturday, December 31, 2016

PM MODI के भाषण को लालू यादव ने बताया 'टांय टांय फिस्स'

PM MODI के भाषण को लालू यादव ने बताया 'टांय टांय फिस्स'

lalu-yadav-make-fun-of-pm-modi-31-december-speech

नई दिल्ली, 31 दिसम्बर: राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के मुखिया लालू प्रसाद ने शनिवार को कहा कि प्रधानमंत्री का नववर्ष की पूर्वसंध्या पर दिया गया भाषण पूरी तरह फ्लॉप रहा। लालू ने कहा कि सोमवार से फिर देशवासियों को बैंकों से अपना पैसा निकालने के लिए कतारों में खड़ा होना पड़ेगा।

लालू ने शनिवार को मोदी द्वारा नववर्ष की पूर्व संध्या पर दिए राष्ट्र के नाम संबोधन के ठीक बाद ट्वीट किया, "टायं-टांय फिस्स! सोमवार से फिर से देश की जनता बैंकों के बाहर लाइन लगाए खड़ी होगी। मोदी का भाषण भावनाहीन, प्रभावहीन, उबाऊ था और बजट से पहले दिए गए भाषण की तरह था।"

लालू ने कहा, "आगर आपमें हिम्मत है तो अपने पूंजीपति मित्रों से बलिदान देने के लिए कहिए।"

लालू ने कहा कि मोदी ने नोटबंदी के चलते मारे गए 100 से अधिक लोगों और नौकरियां गंवाने वाले 25 करोड़ लोगों के प्रति संवेदना का एक शब्द नहीं कहा।

मोदी को ट्वीट किंग की संज्ञा देते हुए लालू ने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपनी गलतियों के लिए माफी तक नहीं मांगी।

Thursday, December 29, 2016

भगवान बुद्ध का दर्शन करके बोले दलाई लामा, भारत हमारा गुरु और हम इसके शिष्य हैं

भगवान बुद्ध का दर्शन करके बोले दलाई लामा, भारत हमारा गुरु और हम इसके शिष्य हैं

dalai-lama-praised-lord-buddha-in-gaya-told-india-his-guru

पटना/गया, 28 दिसंबर: बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा ने पटना में बुधवार को कहा कि भगवान बुद्ध ने अहिंसा, महाकरुणा का संदेश दिया था। दो हजार साल बाद भी यह संदेश जीवंत है। उन्होंने कहा कि न सिर्फ प्रार्थना बल्कि दिमाग का प्रशिक्षण भी आवश्यक है। बौद्ध संप्रदाय के पवित्र स्थल बोधगया में प्रस्तावित 34वें कालचक्र पूजा में भाग लेने बिहार पहुंचे दलाई लामा ने पटना के बौद्ध स्मृति पार्क के पाटलिपुत्र करुणा स्तूप में जाकर पूजा-अर्चना की। बौद्ध भिक्षुओं ने इस अवसर पर सूत्रपाठ कर विश्व शांति, आपसी भाईचारा, प्रेम, सद्भाव के रिश्तों को मजबूत करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। 

इसके बाद दलाई लामा और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुद्ध स्मृति पार्क में भगवान बुद्ध की भूमि स्पर्श मुद्रा की विशाल प्रतिमा के समक्ष पूजा की व पवित्र आनंद बोधिवृक्ष का रोपण किया। 

दलाई लामा ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा, "बौद्ध भिक्षु के रूप में बोधगया आना मेरे लिए गर्व की बात है। भगवान बुद्ध का एक अनुयायी होने पर मुझे गर्व है।"

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार से मिलकर काफी अच्छा लगा। बहुत सालों से हम अच्छे एवं नजदीकी मित्र हैं। 

दलाई लामा ने आगे कहा, "अलग- अलग देशों में रहने वाले बौद्ध धर्मावलंबियों के बीच आपसी प्रेम का रिश्ता रहना चाहिए। भारत एक गुरु के समान है। हमारा सारा ज्ञान भारत से आता है। हम उसके शिष्य हैं। भारत से संबंध गुरु-शिष्य के समान है।"

उन्होंने भारत के लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे अपने इतिहास एवं दर्शन से सीखें। उन्होंने कहा कि आज वैज्ञानिक भी भारत के प्राचीन ज्ञान एवं दर्शन से सीख ले रहे हैं। 

इससे पहले पटना पहुंचने पर धर्म गुरु का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्वागत किया। यहां से वे बोधगया के लिए रवाना हो गए। 

कालचक्र पूजा की अगुवाई करने के लिए बोधगया पहुंचने पर तिब्बतियों के आध्यात्मिक धर्मगुरु दलाईलामा का जोरदार स्वागत किया गया। धर्मगुरु के आगमन को लेकर बोधगया को सजाया संवारा गया है। 

उनके प्रवास स्थल तिब्बती मंदिर और महाबोधि मंदिर को रंगीन बल्बों और पंचशील पताखों से आकर्षक ढंग से सजाया गया। पूजा-स्थल कालचक्र मैदान में पंडाल बनकर तैयार हो चुका है। उनके आगमन को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। दलाई लामा के प्रवास स्थल को सुरक्षा कर्मियों ने अपने घेरे में ले लिया है।

दलाई लामा दो जनवरी को बोधगया में 34वें कालचक्र पूजा का शुभारंभ करेंगे। पूजा में भाग लेने के लिए दो लाख श्रद्धालुओं की भीड़ जुटने की उम्मीद है। कालचक्र पूजा में चत्ति यानी आत्मा को बुद्ध प्राप्ति के लायक शुद्घ और सशक्त बनाने जैसा आध्यात्मिक अभ्यास कराया जाता है। 14 जनवरी को पूजा समाप्त होगी।

Wednesday, December 28, 2016

दलाई लामा पटना पहुंचे, नीतीश ने किया स्वागत

दलाई लामा पटना पहुंचे, नीतीश ने किया स्वागत

dalai-lama-reached-bihar-nitish-kumar-welcome-him

पटना, 28 दिसंबर: बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा बुधवार को पटना पहुंचे। यहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनका स्वागत किया। नीतीश कुमार के साथ धर्मगुरु बुद्ध स्मृति पार्क पहुंचे, जहां उन्होंने आनंद बोधिवृक्ष रोपण कार्यक्रम में भाग लिया। पटना में विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेने के बाद वह बुधवार को ही बोधगया के लिए रवाना हो जाएंगे, जहां वह जनवरी में होने वाले 34वें कालचक्र पूजा में शिरकत करेंगे।

एक अधिकारी ने बताया कि इसके बाद वह वायु मार्ग से बोधगया के लिए रवाना हो जाएंगे। धर्म गुरु बोधगया में दो जनवरी से 14 जनवरी तक प्रस्तावित 34वें कालचक्र पूजा में हिस्सा लेंगे। 

कालचक्र पूजा की अगुवाई करने के लिए तिब्बतियों के आध्यात्मिक धर्मगुरु दलाईलामा के आगमन को लेकर बोधगया सज धजकर तैयार है। धमगुरु के स्वागत में बौद्ध लामाओं ने पूरी तैयारी की है। 

उनके प्रवास स्थल तिब्बती मंदिर और महाबोधि मंदिर को रंगीन बल्बों और पंचशील पताखों से आकर्षक ढंग से सजाया गया है। पूजा स्थल कालचक्र मैदान में पंडाल बनकर तैयार हो चुका है। उनके आगमन को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। दलाई लामा के प्रवास स्थल को सुरक्षा कर्मियों ने अपने घेरे में ले लिया है।

दलाई लामा दो जनवरी को बोधगया में 34वें कालचक्र पूजा का शुभारंभ करेंगे। पूजा में भाग लेने के लिए दो लाख श्रद्धालुओं की भीड़ जुटने की उम्मीद है। कालचक्र पूजा में चत्ति यानी आत्मा को बुद्धव प्राप्ति के लायक शुद्ध और सशक्त बनाने जैसा आध्यात्मिक अभ्यास कराया जाता है। 14 जनवरी को पूजा समाप्त होगी।

Monday, December 26, 2016

BJP को बिहार से भी बुरी हार उत्तर प्रदेश में मिलेगी, हम शिवसेना की बात से सहमत हैं: लालू यादव

BJP को बिहार से भी बुरी हार उत्तर प्रदेश में मिलेगी, हम शिवसेना की बात से सहमत हैं: लालू यादव

hindi-news-lalu-yadav-said-bjp-will-get-big-defeat-in-up-election

पटना, 26 दिसंबर: नोटबंदी को लेकर केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगातार निशाना साध रहे राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने यहां सोमवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का बिहार से ज्यादा बुरा हाल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में होने वाला है। उन्होंने नरेंद्र मोदी से पूछा कि 50 दिनों के बाद किस चौराहे पर उनको सजा दी जानी चाहिए? पटना में नोटबंदी के खिलाफ 28 दिसंबर को राजद के महाधरना कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए प्रचार वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना करने के बाद संवाददाताओं से चर्चा करते हुए लालू ने कहा, "नोटबंदी के बाद प्रधानमंत्री ने कहा था कि 50 दिनों में स्थिति नहीं सुधरी तब चौराहे पर जो सजा दी जाएगी वह कबूल करेंगे।"

मोदी ने 13 नवम्बर को गोवा में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि 50 दिनों में स्थिति नहीं सुधरी तो उन्हें जो भी सजा दी जाएगी, वह उसे स्वीकार करेंगे।

राजद नेता ने कहा कि अब उन्हें बताना चाहिए कि किस चौराहे पर उनको सजा दी जानी चाहिए?

पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद ने शिवसेना के बयान का समर्थन करते हुए कहा कि शिवसेना ने उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर बिल्कुल सही बयान दिया है।

शिवसेना ने भाजपा को नसीहत देते हुए कहा है कि उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर भाजपा मदमस्त हाथी नहीं बने। उत्तर प्रदेश का इतिहास रहा है कि जब-जब सत्ताधारी मस्ती में आए हैं तो जनता ने तब-तब उन्हें सिंहासन से उतार फेंका है। 

लालू ने कहा, "शिवसेना ठीक कह रही है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी फिर विजयी होगी और भाजपा प्रदेश में कहीं नहीं दिखेगी।" 

उल्लेखनीय है कि नोटबंदी के विरोध में राजद ने राज्य के सभी जिला मुख्यालयों में 28 दिसंबर को महाधरना देने की घोषणा की है। 

Sunday, December 25, 2016

नीतीश कुमार की बात तुरंत मान ली PM MODI ने, उन्होंने जैसा कहा था मोदी ने वही करने का ऐलान किया

नीतीश कुमार की बात तुरंत मान ली PM MODI ने, उन्होंने जैसा कहा था मोदी ने वही करने का ऐलान किया

modi-agree-nitish-kumar-demand-to-implement-law-benami-sampatti

नई दिल्ली, 25 दिसम्बर: प्रधानमंत्री मोदी के नोटबंदी के फैसले का बीजेपी शासित मुख्यमंत्रियों ने समर्थन किया और उनका समर्थन करना बनता भी था, अगर गैर बीजेपी मुख्यमंत्रियों की बात करें तो सिर्फ नीतीश कुमार ने ही नोटबंदी के फैसले पर प्रधानमंत्री मोदी का खुलकर समर्थन किया और अभी तक अपने फैसले पर टिके हैं। यहाँ तक कि NDA में शामिल आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्र बाबू नायडू ने हाल ही में नोटबंदी के समर्थन से पलटी मार ली है और कहा है कि वे जैसा चाहते था उस प्रकार से नोटबंदी का फैसला सफल नहीं हुआ क्योंकि लोग अभी भी परेशान हैं, चन्द्र बाबू के अलावा शिवसेना भी नोटबंदी का विरोध कर रही है। 

खैर विरोध करने वाले तो विरोध करेंगे ही लेकिन नीतीश कुमार अभी भी अपने फैसले पर टिके हुए हैं और नोटबंदी का समर्थन कर रहे हैं, नोटबंदी के अलावा नीतीश कुमार ने बेनामी संपत्ति पर भी मोदी से कानून बनाने की मांग की थी और गलत तरह से प्रॉपर्टी के कामों के लगे लोगों पर कार्यवाही की मांग की थी। 

मोदी ने नीतीश कुमार की बात तुरंत मान ली। बेनामी संपत्ति पर कानून तो कांग्रेस के समय में 1988 में ही पास हुआ था लेकिन अभी तक कानून लागू नहीं किया गया था, उस फाइल को दबा दिया गया था, मोदी ने नीतीश कुमार की बात मानते हुए तुरंत ही उस फाइल को निकलवाया और कानून को लागू करने की बात की है।  

आज मन की बात में बोलते हुए मोदी ने कहा भ्रष्टाचार के खिलाफ जारी सरकार के धर्मयुद्ध के हिस्से के तहत बेनामी संपत्तियों से निपटने के लिए बने कानून पर अमल कराया जाएगा। मोदी ने अपने मासिक रेडियो संबोधन 'मन की बात' में कहा, "आप हमारे देश में संभवत: बेनामी संपत्ति से जुड़े कानून के बारे में जानते होंगे। यह कानून 1988 में बना था, लेकिन इसके किसी भी नियम को न तो कभी बनाया गया और न ही इसकी कोई अधिसूचना जारी हुई। इसे निष्क्रिय छोड़ दिया गया।" 

उन्होंने कहा, "हमलोगों ने इसे खोज निकाला है और बेनामी संपत्ति के खिलाफ सख्त कानून के रूप में बदला है। आने वाले दिनों में यह कानून भी काम करने लगेगा।" 

प्रधानमंत्री ने कुछ 'ऐसे लोगों का भी उल्लेख किया जो भ्रष्टाचार के खिलाफ सरकार की लड़ाई के जवाब में नए-नए तरीके और उपाय' ढूंढ रहे हैं। 

अब नीतीश कुमार मोदी की और तारीफ करेंगे क्योंकि मोदी ने उनकी बात जो मानी है, वैसे भी नीतीश कुमार और लालू यादव में आजकल बन नहीं रही है, नोटबंदी के बाद लालू यादव छटपटा रहे हैं, मोदी को गरिया रहे हैं तो नीतीश कुमार मजे ले रहे हैं और मोदी की तारीफ कर रहे हैं।