Showing posts with label Bihar. Show all posts
Showing posts with label Bihar. Show all posts

Oct 15, 2017

बिहार में शुरू हुआ 53 हजार करोड़ का काम, तेजस्वी यादव बोले 'नीतीश को मोदी ने दिया घुमा के'

बिहार में शुरू हुआ 53 हजार करोड़ का काम, तेजस्वी यादव बोले 'नीतीश को मोदी ने दिया घुमा के'

tejashwi-yadav-make-fun-of-nitish-kumar-on-patna-university

कल प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि बिहार में 53 हजार करोड़ रुपये के रोड बनाने के काम या तो शुरू हो चुके हैं या उन्हें मंजूरी दी जा चुकी है, कल मोदी ने बिहार को पौने 4000 करोड़ रुपये के विकास का तोहफा और दे दिया हालाँकि पटना यूनिवर्सिटी को सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनाने की मांग का उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया.

नीतीश कुमार ने पटना को सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनाने की मांग की थी लेकिन मोदी ने उनकी मांग मानने के बजाय कहा कि हम 10 पब्लिक और 10 प्राइवेट यूनिवर्सिटी को वर्ल्ड क्लास की संस्थाओं में बदलने के लिए हर एक को 10000 करोड़ रुपये देना चाहते हैं लेकिन इसके लिए यूनिवर्सिटी को अच्छा प्रदर्शन करना पड़ेगा और प्रतिस्पर्धा में आगे होना पड़ेगा, सभी को मिलकर यूनिवर्सिटी को डेवेलोप करने में सहयोग देना होगा.

नीतीश कुमार की यह मांग ना मंजूर होने पर विपक्षी पार्टी RJD के अध्यक्ष  लालू यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार का जमकर मजाक उड़ाया. तेजस्वी यादव ने कहा कि, नीतीश कुमार मोदी के सामने हाथ जोड़कर गिडगिडा रहे थे लेकिन पीएम का दिल नहीं पसीजा, दे घुमा के. 

Oct 14, 2017

मोदी सरकार ने बिहार में शुरू किया 53000 करोड़ रुपये का विकास प्रोजेक्ट, खुश हो गए नीतीश कुमार

मोदी सरकार ने बिहार में शुरू किया 53000 करोड़ रुपये का विकास प्रोजेक्ट, खुश हो गए नीतीश कुमार

modi-sarkar-started-rs-54000-crore-development-project-in-bihar

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज बिहार के मोकामा में जनसभा को संबोधित किया और कई विकास योजनाओं की शुरुआत की. प्रधानमंत्री मोदी ने आज बिहार को पौने 4000 करोड़ रुपये के विकास का तोहफा दिया साथ ही यह भी जानकारी दी कि बिहार में 53000 करोड़ रुपये के रोड प्रोजेक्ट शुरू हो चुका है, यह सुनकर नीतीश कुमार बहुत खुश हुए क्योंकि उन्होंने बिहार के विकास के लिए ही बीजेपी के साथ दोस्ती की थी.

मोदी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा - हमारी सरकार की एक विशेषता है, आजतीन साल के बाद हमारी आलोचना करने वालों को भी इस बात को स्वीकार करना पड़ रहा है हम सिर्फ विकास की राजनीति करते हैं.

मोदी ने कहा कि पहले सरकारों की आदत हुआ करती थी चुनाव को ध्यान में रखकर योजनाओं की घोषणा कर देते थे, और उसके बाद योजनाओं को भूल जाते थे, आज दिल्ली में हमारी ऐसी सरकार चल रही है कि हम जिस योजना की कल्पना करते हैं उसका रोड-मैप भी तैयार करते हैं.

मोदी ने कहा कि देश आजाद होने के बाद शायद इतने कम समय में इंफ्रास्ट्रक्चर का इतना बड़ा काम बिहार की धरती पर कभी नहीं हुआ होगा, अकेले बिहार में 53000 करोड़ रुपये के विकास के काम या मंजूर हो चुके हैं या शुरू हो चुके हैं, ये आने वाले समय में बिहार के जीवन में बहुत बड़ा बदलाव लाएंगी.

मोदी ने कहा कि आने वाले युग में विकास के लिए कनेक्टिविटी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा, हमें रोड कनेक्टिविटी भी चाहिए, रेल कनेक्टिविटी भी चाहिए, इन्टरनेट कनेक्टिविटी चाहिए, गैस ग्रिड चाहिए, बिजली का कनेक्शन चाहिए, शुद्ध पानी की नलियां चाहियें, ये कनेक्टिविटी गरीबों से जुड़ा हुआ विषय है, इसमें हमारे गडकरी जी के नेतृत्व में वाटरवे का भी काम चला है. वाटरवे के बाद नदियों का महत्व भी बढ़ जाएगा और नदियाँ भी आर्थिक क्षेत्र से जुड़ जाएंगी.

मोदी ने कहा कि हम जिन योजनाओं की घोषणा करते हैं उसे पूरा करने में जी जान से जुट जाते हैं, हमें पांच करोड़ गरीबों को फ्री गैस सिलेंडर और कनेक्शन देने की घोषणा की,आज पूरे देश में तीन करोड़ से अधिक गरीब परिवारों को गैस का सिलेंडर पहुँच गया है, अब वो गैस के चूल्हे से रोटी बनाने लगे हैं. आने वाले दो वर्षों में 2 करोड़ बचे लोगों को भी गैस सिलेंडर दे दिए जाएंगे.

हमने स्वच्छता अभियान भी अपनी माताओं और बहनों के लिए शुरू किया है जो माँ बहनें गाँवों और शहरों की झुग्गी झोपडी में रहती है और खुले में शौच पर जाने के लिए मजबूर हैं. हम सभी देशवासियों को फ्री में टॉयलेट दे रहे हैं ताकि उन्हें खुले में शौच के लिए मजबूर ना होना पड़े.
पूर्व सरकारें गरीबों से मांगती थीं बिजली के खंबे और तार का पैसा, हम देते हैं फ्री कनेक्शन: मोदी

पूर्व सरकारें गरीबों से मांगती थीं बिजली के खंबे और तार का पैसा, हम देते हैं फ्री कनेक्शन: मोदी

pm-narendra-modi-free-bijli-pradhanmantri-saubhagya-yojna-news

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज बिहार के मोकामा में जनसभा को संबोधित किया और कई विकास योजनाओं की शुरुआत की. प्रधानमंत्री मोदी ने यहाँ पर प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना का जिक्र किया. मोदी ने कहा कि जिन गाँवों में बिजली नहीं है, उन गाँवों में हमने बिजली पहुंचाने का बड़ा अभियान चलाया है, हमारे आने से पहले 18000 गाँव ऐसे थे जहाँ पर बिजली नहीं पहुंची थी, हमने 1000 दिनों में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य तय किया.

मोदी ने कहा कि हमारा लक्ष्य पूरा होने में कुछ महीनें बाकी हैं लेकिन हमने अब तक करीब 15000 से अधिक गाँवों में बिजली पहुंचा दी है. अभी ढाई-तीन हजार गाँव बाकी हैं लेकिन उनपर भी तेज गति से काम जारी है.

मोदी ने कहा कि अभी अभी हमने प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना लागू की है, मैं बिहार के लोगों से आग्रह करूँगा कि आप इस योजना का भरपूर लाभ उठाइये.

मोदी ने बताया कि प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के अनुसार केंद्र और राज्य सरकार मिल करके जिसके भी घर में बिजली का कनेक्शन नहीं है, उनके यहाँ हम मुफ्त में बिजली का कनेक्शन देंगे, अगर झुग्गी झोपडी होगी तो भी उसके यहाँ पर बल्ब जलेगा.

मोदी ने बताया कि पहले जब किसी को बिजली लेनी होती थी तो सरकार कहती थी कि बिजली का खंभा बहुत दूर है, यहाँ पर बिजली लाने के लिए 10 खम्भे और लगाने  पड़ेंगे, तार भी लगेगा, इसमें करीब 30 हजार का खर्चा आएगा, अगर तुम 30000 रुपये दोगे तभी तुम्हें बिजली का कनेक्शन मिलेगा. यह सुनकर गरीब लोग कहते थे कि मुझे बिजली नहीं चाहिए. मैं इतने पैसे नहीं दे सकता.

मोदी ने कहा कि हमने तय किया है कि अब हिंदुस्तान का कोई भी परिवार 18वीं शताब्दी में जीने के लिए मजबूर नहीं होगा, मुफ्त में कनेक्शन दिया जाएगा, खम्भे डालने होंगे तो सरकार लगाएगी, तार डालने होंगे तो सरकार डालेगी, हर गरीब के घर तक बिजली ले जाएंगे और मुफ्त में कनेक्शन दे दिया जाएगा ताकि गरीब भी अपने बच्चों को पढ़ा सकें, उनका भविष्य बना सकें.
बिहार पर माँ सरस्वती की कृपा है लेकिन हम लक्ष्मी माँ को भी बिहार लाना चाहते हैं: मोदी

बिहार पर माँ सरस्वती की कृपा है लेकिन हम लक्ष्मी माँ को भी बिहार लाना चाहते हैं: मोदी

pm-narendra-modi-said-bihar-needs-laxmi-with-saraswati-patna

प्रधानमंत्री मोदी ने आज पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में शिरकत की और जनसभा को संबोधित किया. मोदी के मंच पर आते ही मोदी मोदी के नारे लगने लगे जिसे सुनकर मोदी खुश हो गए. मोदी ने कहा कि अभी अभी मुझे पता चला है कि पटना यूनिवर्सिटी में आने वाला मैं देश का पहला प्रधानमंत्री हूँ, ये मेरा सौभाग्य है कि पहले जितने भी अच्छे प्रधानमंत्री होकर गए हैं वे मेरे लिए कई अच्छे काम बाकी छोड़कर गए हैं.

मोदी ने कहा कि बिहार पर सरस्वती माँ मेहरबान हैं, देश के IAS में हर पांचवें में से एक बिहार की पटना यूनिवर्सिटी का होता है, यहाँ पर माँ सरस्वती की कृपा है लेकिन आज वक्त बदल गया है, अब हमें सरस्वती और लक्ष्मी दोनों को साथ साथ लेकर चलाना है, बिहार के पास सरस्वती माँ की कृपा है, बिहार के पास लक्ष्मी माँ की भी कृपा बन सकती है इसलिए भारत सरकार की सोच सरस्वती और लक्ष्मी माँ का मिलन करते हुए बिहार को नयी ऊँचाइयों पर पहुँचाना है.

मोदी ने कहा कि नीतीश जी का जो कमिटमेंट है, बिहार के विकास के लिए उनकी जो प्रतिबद्धता है, उसके अनुसार भारत सरकार पूर्वी भारत का विकास करने के लिए प्रतिबद्ध है. जब हम भारत की आजादी का 75वां वर्ष बनाएं तो मेरा बिहार राज्य भी हिंदुस्तान के समृद्ध राज्यों की बराबरी में आकर खड़ा हो जाए. हमें उस संकल्प को लेकर आगे बढ़ना है. 2022 तक हम बिहार को सबसे समृद्ध राज्यों में लाना चाहते हैं.
पीएम मोदी बोले, जितने भी प्रधानमंत्री होकर गए हैं, मेरे लिए कई अच्छे काम बाकी छोड़कर गए हैं

पीएम मोदी बोले, जितने भी प्रधानमंत्री होकर गए हैं, मेरे लिए कई अच्छे काम बाकी छोड़कर गए हैं

pm-narendra-modi-at-centenary-celebrations-of-patna-university

प्रधानमंत्री मोदी ने आज पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में शिरकत की और जनसभा को संबोधित किया. मोदी के मंच पर आते ही मोदी मोदी के नारे लगने लगे जिसे सुनकर मोदी खुश हो गए. मोदी ने कहा कि अभी अभी मुझे पता चला है कि पटना यूनिवर्सिटी में आने वाला मैं देश का पहला प्रधानमंत्री हूँ, ये मेरा सौभाग्य है कि पहले जितने भी अच्छे प्रधानमंत्री होकर गए हैं वे मेरे लिए कई अच्छे काम बाकी छोड़कर गए हैं.

मोदी ने कहा कि आज पटना यूनिवर्सिटी आकर अच्छा काम करने का मुझे सौभाग्य मिला है. मैं सबसे पहले इस पवित्र धरती को नमन करता हूँ, क्योंकि आज हमारा देश जहाँ भी है, उसे यहाँ तक पहुंचाने में इस यूनिवर्सिटी कैम्पस का बहुत बड़ा योगदान है.

मोदी ने कहा - चीन में एक कहावत है कि अगर आप साल भर का सोचते हैं तो अनाज बोइये, अगर आप 10-20 साल का सोचते हैं तो फलों का वृक्ष लगाइए, लेकिन अगर आप पीढ़ियों का सोचते हैं तो मनुष्य को बोइये.

मोदी ने कहा - पटना यूनिवर्सिटी इस बात का जीता जागता सबूत है कि 100 साल पहले छात्रों के रूप में जो बीज बोया गया, वे यहाँ आकर माँ सरस्वती की साधना करके निकल लिए लेकिन वे अपने साथ साथ देश को भी आगे ले गए.

यहाँ पर पढ़े कुछ राजनेताओं ने भिन्न भिन्न जगहों पर सेवाएँ की हैं, लेकिन आज मैं अनुभव से कह सकता हूँ कि आज हिंदुस्तान का शायद ही कोई ऐसा राज्य होगा जहाँ सिविल सेवा करने वाले पहले 5 लोगों में बिहार की पटना यूनिवर्सिटी का विद्यार्थी ना हो.

उन्होंने बताया कि मैं इन दिनों सभी राज्यों से आये हुए अधिकारियों से विचार विमर्श कर रहा हूँ, रोजाना 80-90 लोगों से बात करने के लिए बैठता हूँ, मैं रोजाना डेढ़-दो घंटे उनसे बात करता हूँ और देखता हूँ कि उनमें से अधिकतर लोग बिहार के होते हैं.

Oct 3, 2017

एक ही कार्यक्रम में दिखेंगे संघ प्रमुख मोहन भागवत और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

एक ही कार्यक्रम में दिखेंगे संघ प्रमुख मोहन भागवत और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

nitish-kumar-mohan-bhagwat-will-attend-ramanuj-jayanti-program

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और संघ प्रमुख मोहन भागवत एक ही कार्यक्रम में दिखेंगे. यह देखना दिलचस्प होगा क्योंकि कांग्रेस और लालू के साथ महागठबंधन के दौरान नीतीश कुमार संघ मुक्त भारत की बात करते थे, उन्होंने ही संघ मुक्त भारत का नारा दिया था लेकिन अब वे NDA और BJP के साथ आ गए हैं इसलिए संघ ही उनकी शक्ति बन गयी है.

आपको बता दें कि बुधवार 4 अक्टूबर को बिहार के आरा जिले में रामानुज स्वामी महाराज की 1000वीं जयंती का समारोह है जिसमें बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और संघ प्रमुख मोहन भागवत के भी शामिल होने की सूचना है.

रिपोर्ट के अनुसार संघ प्रमुख मोहन भागवत सुबह 10 बजे पटना एयरपोर्ट पहुंचेंगे जिसके बाद वह रोड से सीधे आरा जिले के चंदवा गाँव में लिए रवाना हो जाएंगे, शाम को 4 बजे के आसपास वे कार्यक्रम में पहुंचेंगे. हालाँकि अभी तक यह नहीं पता चल पाया है कि ने नीतीश कुमार से मिलेंगे या नहीं.

इस कार्यक्रम के बाद संघ प्रमुख इसी स्थान पर हो रहे अन्तर्रष्ट्रीय धर्म महासम्मेलन में भी शामिल होंगे. इसके बाद वे 5 अक्टूबर को चंदवा गाँव में ही RSS कार्यालय की आधारशिला रखेंगे.

Sep 20, 2017

उद्घाटन से 2 दिन पहले ही टूट गया बाँध, तेजस्वी यादव ने उड़ाया नीतीश कुमार की ईमानदारी का मजाक

उद्घाटन से 2 दिन पहले ही टूट गया बाँध, तेजस्वी यादव ने उड़ाया नीतीश कुमार की ईमानदारी का मजाक

bihar-rs-389-crore-dam-collapse-before-inauguration-by-nitish-kumar

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार की ईमानदारी का मजाक उड़ाया है क्योंकि नीतीश कुमार दो दिन बाद जिस बाँध का लोकार्पण करने के लिए आने वाले थे वह बाँध टूट गया और आस पास के इलाकों को पानी से लबालब कर दिया, आस पास के कई घरों में भी बाँध का पानी भर गया, घटना की जानकारी मिलते ही नीतीश कुमार ने अपना कार्यक्रम रद्द कर दिया. भागलपुर जिले में गाटेश्वर पंथ कैनाल प्रोजेक्ट नामक यह प्रोजेक्ट 389.31 करोड़ की लागत से बना है.

जैसे ही यह खबर नीतीश कुमार के परम विरोधी और पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को हुई उन्होंने नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए कहा - 389.31 करोड़ का बांध उद्घाटन के 24 घंटे पहले टूटा। CM ताम-झाम के साथ कल काटने वाले थे फीता। भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा एक और बाँध.

ghateshwar-panth-canal-project-hindi-news

इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए बिहार के जल संसाधन मंत्री लल्लन सिंह ने कहा, तेजी से पानी छोड़े जाने की वजह से बाँध पानी का प्रवाह सह नहीं पाया और टूट गया, हालाँकि प्रोजेक्ट के नवनिर्मित भाग में कोई नुकसान नहीं हुआ है. इस दुर्भाग्यपूर्व घटना की वजह से बाँध का उद्घाटन समारोह रद्द कर दिया गया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गाटेश्वर डैम प्रोजेक्ट बहुत पुराना प्रोजेक्ट है और इसे बनने में कई साल लगे हैं, नीतीश कुमार को इसकी जांच करवानी चाहिए. इस बाँध का मुख्य उद्देश्य पानी का संचयन करना था ताकि किसानों को पानी मिल सके. 1977 में पास हुआ यह प्रोजेक्ट सिर्फ 13.88 करोड़ रुपये का था लेकिन इसके पूरा होने में 389 करोड़ रुपये खर्च हो गए.

Sep 13, 2017

शरद यादव ने नीतीश कुमार के बारे में बताई एक सीक्रेट बात: पढ़ें

शरद यादव ने नीतीश कुमार के बारे में बताई एक सीक्रेट बात: पढ़ें

sharad-yadav-revealed-nitish-kumar-convinced-lalu-for-grand-alliance

जनता दल यूनाइटेड (JDU) के नेता शरद यादव ने खुलासा किया है कि लालू यादव महागठबंधन में शामिल होना नहीं चाहते थे लेकिन जब नीतीश कुमार ने बार बार उनसे रिक्वेस्ट की तो वह मान गए और कांग्रेस के साथ मिलकर दोनों पार्टियों ने महागठबंधन बनाया. 

शरद यादव ने आज मीडिया को संबोधित करते हुए कहा - लालू यादव को नीतीश कुमार ने ही महागठबंधन में शामिल होने के लिए कहा था, मैं भी इसके पक्ष में नहीं था क्योंकि मैं अपने सिद्धांतों पर कायम रहने वाला इंसान हूँ, लेकिन नीतीश कुमार बार बार उनके घर पर गए. लालू यादव महागठबंधन के पक्ष में नहीं थे, उन्होंने नीतीश कुमार को कई बार मना किया लेकिन बार बार रिक्वेस्ट करने से लालू यादव मान गए और महागठबंधन बन गया.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शरद यादव अब खुलकर नीतीश कुमार के खिलाफ हो गए हैं. उन्होंने JDU पार्टी और उसके चुनाव चिन्ह पर अपना हक जताया था और इसके लिए चुनाव आयोग में एप्लीकेशन भेजा था लेकिन कल उनका एप्लीकेशन रद्द कर दिया गया.
शरद यादव गए थे JDU का सिम्बल हथियानें, चुनाव आयोग ने लौटा दिया खाली हाथ

शरद यादव गए थे JDU का सिम्बल हथियानें, चुनाव आयोग ने लौटा दिया खाली हाथ

eci-disposes-off-sharad-yadav-plea-for-capturing-jdu-party-symbal

शरद यादव के लिए बुरी खबर है क्योंकि चुनाव आयोग ने JDU पार्टी के सिम्बल पर उनके दावे की अपील खारिज कर दी है, शरद यादव चुनाव आयोग से खाली हाथ वापस आ गए हैं. शरद यादव ने चुनाव आयोग में JDU पार्टी के सिम्बल पर अपना हक जताने के लिए एप्लीकेशन दिया था लेकिन चुनाव आयोग ने उनका एप्लीकेशन यह कहते हुए रिजेक्ट कर दिया कि उनके पास पर्याप्त दस्तावेज नहीं हैं.

शरद यादव ने यह एप्लीकेशन पिछले महीनें दिया था. शरद यादव के खिलाफ नीतीश कुमार ने भी याचिका डाली थी. JDU ने कहा था कि शरद यादव अपने आप पार्टी छोड़ चुके हैं और एंटी-पार्टी गतिविधियों में शामिल हो गए हैं. उनका दावा पार्टी के सिम्बल पर नहीं बनता. चुनाव आयोग ने नीतीश कुमार की याचिका मंजूर कर ली जबकि शरद यादव के अरमानों पर पानी फेर दिया.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पिछले महीनें नीतीश कुमार ने एका एक चौंकाने वाला कदम उठाकर लालू यादव के साथ गठबंधन तोड़ लिया था और बीजेपी के साथ मिलकर बिहार में सरकार बना ली थी. शरद यादव नीतीश कुमार के इस फैसले से नाराज हैं इसलिए लालू यादव के साथ हो गए हैं हालाँकि अभी तक उन्हें JDU से बाहर नहीं किया गया है.

Sep 12, 2017

लालू यादव परिवार की बेमानी संपत्ति का मामला अंतिम स्टेज तक पहुंचा, अब आएगा फाइनल रिजल्ट

लालू यादव परिवार की बेमानी संपत्ति का मामला अंतिम स्टेज तक पहुंचा, अब आएगा फाइनल रिजल्ट

lalu-yadav-benami-sampatti-matter-refer-to-adjudicating-authority

लालू यादव और उनके परिवार की बेनामी सम्पत्ति का मामला अब अंतिम स्टेज पर पहुँच गया है, आज आयकर विभाग ने जांच पूरी करके इसे निर्णयकर्ता अधिकारी के पास भेज दिया. निर्णयकर्ता अधिकारी इस मामले में निर्णय करने के बाद बेनामी संपत्ति को जब्त करने का आर्डर पास करेगा. आयकर विभाग द्वारा जमा किये गए सभी दस्तावेजों की जाँच करने के बाद निर्णयकर्ता अधिकारी फाइनल आदेश पारित करेगा जिसके बाद लालू यादव और उनके परिवार की पूरी बेनामी संपत्ति को जब्त किया जाएगा. 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आयकर विभाग नी जांच पूरी कर ली है, IT ने अपनी जांच में लालू यादव और उनके परिवार की 14 बेनामी संपत्तियों को अटैच किया किया है जिसमें 2 दिल्ली में हैं जबकि 12 पटना में हैं. लालू यादव परिवार के खिलाफ बेनामी सपत्ति एक्ट कानून के तहत कार्यवाही हो रही है.

आयकर विभाग की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में दो बेनामी संपत्तियों को अटैच किया गया है जिसमें - बिजवासन में एक फार्म हाउस और मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी है जिसके मालिक मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार हैं. इस फार्म हाउस की मार्केट वैल्यू 40 करोड़ है जबकि दस्तावेजों में इसकी कीमत सिर्फ 1.4 करोड़ रुपये है.

दिल्ली में दूसरी प्रॉपर्टी - न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में AB एक्सपोर्ट्स नाम से एक बँगला है. यह बँगला लालू यादव के पुत्र तेजस्वी यादव, पुत्री चंदा और रागिनी यादव के नाम है. इस बंगले की भी मार्केट वैल्यू 40 करोड़ रुपये है लेकिन दस्तावेजों में इसकी कीमत सिर्फ 5 करोड़ रुपये है.

बचे हुए 12 प्लॉट्स जलापुर और पटना में हैं जैसे - डिलाइट मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड और ऐके इन्फो सिस्टम्स भी बेनामी संपत्तियां हैं लेकिन बेनामीदर तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी हैं. इन सपत्तियों की मार्केट वैल्यू 85 करोड़ रुपये है लेकिन बुक वैल्यू सिर्फ 3.5 करोड़ रुपये है.

आयकर विभाग ने पिछले महीनें से दिल्ली, पटना सहित 22 स्थानों पर रेड मारी है, लालू यादव परिवार की कम से कम 1000 करोड़ रुपये की कीमत की बेनामी संपत्ति बतायी जा रही है.

Sep 10, 2017

होटल टेंडर घोटाला में बड़ी खबर, लालू यादव और तेजस्वी यादव ने CBI को दे दी गोली

होटल टेंडर घोटाला में बड़ी खबर, लालू यादव और तेजस्वी यादव ने CBI को दे दी गोली

hotel-tender-scam-lalu-yadav-tejaswi-yadav-will-not-appear-cbi

रेलवे होटल टेंडर घोटाले में सीबीआई ने एक्शन शुरू कर दिया है लेकिन लालू यादव और उनके पुत्र तेजस्वी यादव खुद को CBI से भी होशियार समझ रहे हैं इसलिए आज दोनों ने ही CBI को गोली दे दी है. आपको बता दें कि रेलवे होटल टेंडर घोटाले में लालू यादव, उनके बेटे तेजस्वी यादव और उनकी पत्नी राबड़ी देवी का नाम है, इसी मामले में CBI ने लालू यादव और तेजस्वी यादव को पूछताछ के लिए समन भेजा था.


CBI के समन के अनुसार लालू यादव को 11 सितम्बर को जबकि तेजस्वी यादव को 12 सितम्बर को CBI के सामने पेश होना था लेकिन दोनों ने ही आज CBI को गोली दे दी. अब दोनों ने ही CBI के सामने पेश ना होने का निर्णय लिया है, लालू यादव ने तारीख बढ़ाने की मांग की है. उन्होंने कहा है कि मैं अगली तारीख पर CBI के सामने पेश होऊंगा. यही बात तेजस्वी यादव ने कही है.

railway-hotel-tender-case

Sep 8, 2017

DM से मिलने गए थे, उन्हें उठाकर उनकी ही कुर्सी पर बैठ गये बिहार के मंत्री विजय कुमार सिन्हा

DM से मिलने गए थे, उन्हें उठाकर उनकी ही कुर्सी पर बैठ गये बिहार के मंत्री विजय कुमार सिन्हा

bihar-mantri-vijay-kumar-sinha-sits-on-dm-chair-in-bihar-sheikhpura

हाल ही में नीतीश कुमार और बीजेपी के बीच दोस्ती हुई है, दोनों ने मिलकर बिहार में सरकार बनायी है. नीतीश की नयी सरकार में बीजेपी के भी 11 मंत्री बने हैं जिसमें विजय कुमार सिन्हा भी शामिल हैं. विजय कुमार सिन्हा को श्रम संशाधन मंत्री बनाया गया है जिसे बड़ा मंत्रालय कहा जा सकता है क्योंकि बिहार के योवओं को रोजगार देने का जिम्मा उनके कन्धों पर है.

इतना बड़े मंत्री होने के बाद भी विजय कुमार सिन्हा को यह नहीं पता कि उन्हें किसी अधिकारी की कुर्सी पर नहीं बैठना चाहिए लेकिन कल उन्होंने ऐसा किया. विजय कुमार सिन्हा शेखपुरा के DM से मिलने गए थे. उनके कमरे में जाने के बाद मंत्री जी DM को उठाकर उनकी कुर्सी पर बैठ गए जबकि DM साहब सामने की कुर्सी पर बैठ गए. शायद सामने की कुर्सी पर बैठने से मंत्री जी की शान कम हो जाती.
बिहार के मंत्री विजय कुमार सिन्हा की सोशल मीडिया पर जमकर खिंचाई हो रही है. एक ने कहा कि बस इसके बाद सीधा नीतीश कुमार की कुर्सी पर बैठ जाना और फिर दिल्ली की फ्लाइट पकड़कर PMO में मोदीजी की कुर्सी पर लैंड करना. देखिये क्या बोले लोग-

bihar-mantri-vijay-kumar-sinha-news

Sep 7, 2017

गुजरात ने भेजा 5 करोड़ रुपये की मदद, इस बार नीतीश कुमार ने नहीं किया इनकार. पिछली बार तो..

गुजरात ने भेजा 5 करोड़ रुपये की मदद, इस बार नीतीश कुमार ने नहीं किया इनकार. पिछली बार तो..

nitish-kumar-recieved-rs-5-crore-help-from-gujarat-for-flood-relief

बिहार में जब भी बाढ़ आती है गुजरात से कुछ ना कुछ मदद जरूर आती है, इस बार भी गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने नीतीश कुमार को 5 करोड़ का चेक भेजा है जिसे नीतीश कुमार ने स्वीकार कर लिया है. यह पैसे मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा होंगे जिसका इस्तेमाल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए किया जाएगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नीतीश कुमार ने एक बार गुजरात से मिली आर्थिक मदद को ठुकरा दिया था. बात 2008 की है जब नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे, उन्होंने नीतीश कुमार को 5 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद भेजी, जिसे नीतीश कुमार ने वापस कर दिया था. उस समय भी बिहार में बीजेपी और जेडीयू की सरकार थी और इस समय भी वही हालात हैं, लेकिन अबकी बार नीतीश कुमार ने पैसे ले लिए क्योंकि पहले उनके दिल में नरेन्द्र मोदी से मनमुटाव पैदा हो गया था लेकिन अब सब कुछ सही है, अब उन्हें नरेन्द्र मोदी से प्यार हो गया है इसलिए मदद लौटाने का कोई सवाल ही नहीं पैदा होता.
एक्शन शुरू, CBI ने लालू और उनके बेटे तेजस्वी यादव को भेज दिया न्योता, अब होगी खातिरदारी

एक्शन शुरू, CBI ने लालू और उनके बेटे तेजस्वी यादव को भेज दिया न्योता, अब होगी खातिरदारी

cbi-summoned-lalu-prasad-yadav-and-tejashwi-yadav-for-inquiry

रेलवे होटल टेंडर घोटाले में सीबीआई ने एक्शन शुरू कर दिया है. इस घोटाले में लालू यादव, उनके बेटे तेजस्वी यादव और उनकी पत्नी का नाम है. आज सीबीआई ने लालू यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव को पूछताछ के लिए समन भेज दिया है. लालू यादव और उनके बेटे से अलग अलग पूछताछ की जाएगी.

लालू यादव को 11 सितम्बर को बुलाया गया है जबकि तेजस्वी यादव को 12 सितम्बर को बुलाया गया है. ऐसा लग रहा है कि लालू और तेजस्वी बहुत बड़ी मुसीबत में फंसने वाले हैं. ED ने दो दिन पहले लालू यादव की बेटी मीसा भारती का फार्म हाउस जब्त करके पहले ही कड़े इरादे जाहिर कर दिए हैं. अब CBI क्या एक्शन लेती है, यह देखना काफी दिलचस्प होगा.
cbi-enquiiry-lalu-yadav-and-tejashwi-yadav

Sep 6, 2017

एक और बिगड़े बेटे को मिली सजा, आदित्य सचदेवा के हत्यारे रॉकी यादव को उम्रकैद

एक और बिगड़े बेटे को मिली सजा, आदित्य सचदेवा के हत्यारे रॉकी यादव को उम्रकैद

rockey-yadav-convicted-life-time-jail-in-adityanath-sachdeva-muder

आज एक और बिगड़े बेटे को कोर्ट ने सजा दी है. रोड रेज में आदित्य सचदेवा की हत्या करने वाले हत्यारे रॉकी यादव को आज बिहार-गया की एक अदालत ने उम्र कड़ी की सजा सुना दी है. आपको बता दें कि रॉकी यादव JDU की बर्खास्त MLC मनोरमा देवी का बेटा है. इस हत्याकांड में शामिल रॉकी यादव के 2 दोस्तों को भी उम्र कैद हुई है जबकि रॉकी यादव के पिता बिंदी याव को पांच साल की सजा सुनाई गयी है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 7 मई 2016 को 12वीं कक्षा में पढने वाले आदित्य सचदेवा ने रॉकी यादव की कार को ओवरटेक कर दिया था. माँ-बाप की नेतागिरी के घमंड में चूर रॉकी यादव को ये बात सहन नहीं हुई और उन्होने आदित्य सचदेवा को एक स्थान पर रोककर उसे गोली मार दी.

इस मामले की जाँच होने के बाद आज गया की कोर्ट ने फैसला सुनाया इसमें रॉकी यादव, उनके पिता बिंदी यादव, उनकी माँ के सुरक्षा गार्ड राजेश कुमार, दोस्त टेनी यादव को सजा सुनाई गयी.

Sep 4, 2017

नीतीश कुमार ने लालू यादव को बताया 'डार्लिंग नेता' अपना नहीं बल्कि इन लोगों का: पढ़ें

नीतीश कुमार ने लालू यादव को बताया 'डार्लिंग नेता' अपना नहीं बल्कि इन लोगों का: पढ़ें

nitish-kumar-told-lalu-yadav-media-darling-neta-read-why

आपने देखा होगा कि मोदी मंत्रिमंडल फेरबदल में JDU को ना शामिल करने पर लालू यादव ने नीतीश कुमार का जमकर मजाक उड़ाया, नीतीश को उन्होंने ऐसा बन्दर बताया जो अपने झुण्ड से अलग हो गया है और अब उसे कोई पूछ नहीं रहा है. आज नीतीश कुमार ने लालू यादव को जवाब दिया और मीडिया को भी आड़े हाथों लिया.

नीतीश कुमार ने आज लालू यादव को डार्लिंग नेता बताया लेकिन अपना नहीं बल्कि मीडिया का. ऐसा इसलिए क्योंकि मंत्रिमंडल फेरबदल के लिए मीडिया लालू यादव के घर का चक्कर काटता रहा और उनके मुंह से नीतीश कुमार के खिलाफ अनाप शनाप बयान दिलवाता रहा.

नीतीश कुमार ने कहा कि JDU का मंत्रिमंडल में शामिल होना सिर्फ मीडिया की अटकलबाजी थी और, JDU हाल ही में NDA में शामिल हुई है इसलिए हमने इस विषय पर ना तो गौर किया था, ना ही मंत्रिमंडल में शामिल होने की हमारी इक्षा थी और ना ही अपेक्षा रही.

नीतीश कुमार ने कहा कि मीडिया ने अकारण ही हमारे खिलाफ हव्वा खड़ा किया जिसकी वजह से आपके डार्लिंग नेता लालू यादव को हमारा मजाक उड़ाने का मौका मिल गया हालाँकि बिहार में उन्हें कोई गंभीरता से लेता नहीं है.

उन्होंने मीडिया से कहा कि अगर हमारी पार्टी के विषय में कुछ भी बात हो तो हमसे पूछ लिया कीजिये क्योंकि हम तो पारदर्शी तरीके से काम करते हैं. इस बार आप लोगों का अनुमान विफल हो गया.

नीतीश कुमार ने कहा कि बीजेपी के साथ सरकार बनाने के बाद हमारे खिलाफ अपमानजनक और कटु शब्दों का प्रयोग हो रहा है लेकिन हम सिर्फ बिहार की जनता के हित में काम कर रहे हैं, हमारी प्रतिबद्धता न्याय के साथ सबके विकास की है. हमने जनता के भले के लिए बीजेपी से हाथ मिलाया है.
मीडिया ने फ़ालतू का तूफ़ान खड़ा कर दिया, NDA में 49 पार्टियाँ हैं, हम अकेले थोड़ी है: नीतीश कुमार

मीडिया ने फ़ालतू का तूफ़ान खड़ा कर दिया, NDA में 49 पार्टियाँ हैं, हम अकेले थोड़ी है: नीतीश कुमार

nitish-kumar-slammed-media-for-blowing-issue-out-of-proportion

कल मोदी सरकार ने अपने मंत्रिमंडल में फेरबदल किया. उन्होंने 4 राज्य मंत्रियों का प्रमोशन करके केंद्रीय मंत्री बनाया जबकि 9 नए मंत्रियों को जगह दी. इस फेरबदल और विस्तार में NDA के किसी भी सहयोगी को जगह नहीं मिली इसके बावजूद भी मीडिया ने JDU और शिवसेना को नीचा दिखाने की कोशिश की. मीडिया ने बीजेपी, JDU और शिवसेना में लड़ाई करवाने के लिए बवाल मचा दिया और कहा कि मोदी ने इन्हें पूछा भी नहीं और फेरबदल कर लिया.

NDA में 49 पार्टियाँ शामिल हैं लेकिन मीडिया ने यह नहीं दिखाया कि मोदी ने अकाली दल को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया, यह नहीं दिखाया कि TDP को शामिल नहीं किया, अपना दल को शामिल नहीं किया, मीडिया ने अन्य सहयोगियों का नाम नहीं लिया. मीडिया ने सिर्फ दो पार्टियों का नाम लिया और बवाल मचा दिया. मीडिया के इस ववाल से लालू यादव को नीतीश कुमार के खिलाफ बोलने और उन्हें नीचा दिखाने का मौका मिल गया, उन्होने नीतीश कुमार का जमकर मजाक उड़ाया और दिन भर प्रतिक्रिया देते रहे.

आज नीतीश कुमार ने इसका गुस्सा मीडिया पर निकाला. उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल में हमारे शामिल होने को लेकर बिना मतलब के बवाल मचा दिया. जब मैं मीडिया की ख़बरें देख रहा था तो मुझे हैरानी हो रही थी क्योंकि मेरा नाम बिना वजह सुर्ख़ियों में आ रहा था, उन्हें मालूम होना चाहिए कि जब बिहार में हमारा गठबंधन अच्छा काम कर रहा है तो हमें केंद्र में जाने की क्या जरूरत है.

नीतीश कुमार ने कहा कि हम ना तो मंत्रिमंडल में शामिल होना चाहते थे और ना ही इस बारे में विचार कर रहे थे, NDA में 49 पार्टियाँ हैं, वे किस किस को मंत्रिमंडल बाटेंगे. उन्होंने अपना फेरबदल किया है, किसी अन्य को उसमें शामिल नहीं किया गया है तो हमारी JDU को क्यों शामिल किया जाएगा. मीडिया वालों ने बिना मतलब के इसे तूल दे दिया.
जब ड्राईवर को गाड़ी चलानी ही नहीं आती तो इंजन-टायर-क्लच बदलने से क्या फायदा: तेजस्वी यादव

जब ड्राईवर को गाड़ी चलानी ही नहीं आती तो इंजन-टायर-क्लच बदलने से क्या फायदा: तेजस्वी यादव

tejashwi-yadav-make-fun-of-modi-cabinet-reshuffle-in-hindi

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री और लालू यादव के पुत्र तेजस्वी यादव दिन रात मोदी मोदी की रट लगाना शुरू कर दिए हैं. जिस प्रकार से मोदी मोदी की माला जपते हुए केजरीवाल ने अपना कैरियर बनाया उसी तरह से अब तेजस्वी यादव ने मोदी और आरएसएस पर दिन रात हमला शुरू कर दिया है.

आज प्रधानमंत्री मोदी ने अपने मंत्रिमंडल में फेरबदल किया. उन्होंने चार मंत्रियों का प्रमोशन किया, 9 नए मंत्री शामिल किये और कई मंत्रियों को इधर से उधर कर दिया. 

लालू यादव के पुत्र तेजस्वी यादव ने मोदी मंत्रिमंडल में फेरबदल का मजाक उड़ाया. उन्होंने कहा कि जब गाडी चलाने वाला ड्राईवर कुशल, प्रभावी और प्रैक्टिकल नहीं है, मतलब जिसे गाडी चलानी आती ही नहीं है, अगर गाडी का इंजन, टायर, क्लच, ब्रेक बदल दिया जाए तो क्या फायदा होगा.

tejashwi-yadav-news-in-hindi

Sep 2, 2017

सुशील मोदी बोले, चूहों के अलावा लालू और कांग्रेस भी है बिहार में बाढ़ के लिए जिम्मेदार, क्योंकि.

सुशील मोदी बोले, चूहों के अलावा लालू और कांग्रेस भी है बिहार में बाढ़ के लिए जिम्मेदार, क्योंकि.

rats-lalu-yadav-congress-also-responsible-for-bihar-flood-sushil-modi

बिहार में बाढ़ के लिए चूहों को जिम्मेदार बताया जा रहा है क्योंकि चूहों ने नदी के किनारों पर इतने गड्ढे बना दिए हैं कि नदी की चौड़ाई बढ़ती जा रही है और बाढ़ का दायरा भी बढ़ता जा रहा है. पहली बार ऐसा हुआ है कि आधा बिहार बाढ़ में डूबा हुआ है. कल बिहार के जल संसाधन मंत्री ललन सिंह ने बाढ़ का जायजा लेने के बाद कहा कि चूहों ने नदी के तटों पर गड्ढे कर दिए हैं जिसकी वजह से बाढ़ में मिटटी धंस जाती है और पानी मिटटी को काटकर फैलता जाता है.

आज बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने बाढ़ के लिए चूहों के अलावा लालू यादव और कांग्रेस को भी जिम्मेदार बता दिया. सुशील मोदी ने कहा कि बिहार में बाढ़ के लिए सिर्फ चूहे जिम्मेदार नहीं हैं, इसके लिए लालू यादव और कांग्रेस की सरकारें भी जिम्मेदार हैं क्योंकि चूहे आज से गड्ढा नहीं कर रहे हैं, यह काम पिछले 50 वर्षों से हो रहा है. चूहे पिछले 50 वर्षों से नदी के किनारों में गड्ढे बना रहे हैं जो आज बाढ़ का कारण बन रहा है. लालू और कांग्रेस की सरकारों ने इन गड्ढों को क्यों नहीं भरा. चूहों को क्यों नहीं रोका गया.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बिहार में चूहों ने उत्पात मचा रखा है. कभी ये दारू पी जाते हैं और कभी इन पर नदी के किनारों को खोखला करने का आरोप लगता है. कांग्रेस पार्टी सरकार के इस दावे को गलत बता रही है.

Aug 29, 2017

इनकम टैक्स के अफसरों ने 8 घंटे की माँ-बेटे से पूछताछ, एक एक बेनामी संपत्ति का लिया हिसाब: पढ़ें

इनकम टैक्स के अफसरों ने 8 घंटे की माँ-बेटे से पूछताछ, एक एक बेनामी संपत्ति का लिया हिसाब: पढ़ें

it-officers-inquiry-tejaswi-yadav-rabari-devi-benami-sampatti-case

लालू यादव का परिवार मुसीबत में है, उन्होंने कथित रूप से कई घोटाले करके अपने बेटे और पत्नी के नाम पर बेशुमार संपत्ति खरीद ली थी लेकिन अब इनकम टैक्स एक एक संपत्ति का हिसाब ले रहा है. आज दिल्ली से आये इनकम टैक्स के बड़े अधिकारियों ने बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से करीब 8 घंटे तक पूछताछ की. इन लोगों से इनकी एक एक बेनामी संपत्ति का हिसाब माँगा गया. इनसे पूछा गया कि इतना माल कहाँ से आया कि आपने इतनी संपत्ति कैसे खरीद ली.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जांच के बाद इनकी को भी संपत्ति अवैध पाई जाएगी केंद्र सरकार उसे अपने कब्जे में लेकर इन्हें जेल भी भेजेगी क्योंकि मोदी सरकार ने हाल ही में बेनामी संपत्ति के खिलाफ कठोर कानून पास किया था जिसके अनुसार अब बेनामी संपत्तियों पर कब्ज़ा करने के साथ साथ अपराधियों को जेल भी भेजा जाएगा और जुर्माना भी वसूला जाएगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज IT की जॉइंट कमिश्नर ऋतु कुमार शर्मा और आशुतोष कुमार ने दोनों लोगों से पहले अलग अलग कमरों में कई घंटे पूछताछ की और बाद में इनके चार्टर अकॉउंटेंट को बुलाकर इनसे आमना सामना करवाया. बताया जा रहा है कि इनके CA काफी राज उगल चुके हैं.

आप को बता दें कि लालू यादव के परिवार पर बेनामी संपत्ति का मामला उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने दर्ज करवाया था. जैसे ही तेजस्वी यादव पर आरोप लगे नीतीश कुमार ने उनसे सफाई मांगी, जब तेजस्वी यादव सफाई नहीं दे पाए तो नीतीश ने लालू से गठबंधन तोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बना ली. पहले बिहार के उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव थे लेकिन अब उनपर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले सुशील मोदी उप-मुख्यमंत्री हैं. सुशील मोदी पहले भी नीतीश कुमार के साथ काम कर चुके हैं इसलिए नीतीश कुमार को एक भरोसेमंद साथी मिल चुका है साथ ही केंद्र सरकार का साथ भी है.