Showing posts with label Bangal. Show all posts
Showing posts with label Bangal. Show all posts

Oct 11, 2017

BJP में शामिल होने वाले हैं मुकुल रॉय, राज्य सभा से इस्तीफ़ा देकर ममता बनर्जी को दिया झटका

BJP में शामिल होने वाले हैं मुकुल रॉय, राज्य सभा से इस्तीफ़ा देकर ममता बनर्जी को दिया झटका

mukul-roy-resign-from-tmc-and-rajya-sabha-member-may-join-bjp

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के दायें हाथ कहे जाने वाले TMC नेता और राज्य सभा सांसद मुकुल रॉय ने ममता बनर्जी को तगड़ा झटका दिया है. आज उन्होंने राज्य सभा की सदस्यता से इस्तीफ़ा देकर TMC के अन्दर हलचल मचा दी है, उन्होंने TMC के सभी पदों से भी इस्तीफ़ा दे दिया है.

पार्टी से इस्तीफ़ा देने के बाद मुकुल रॉय ने छुट्टी पर जाने का फैसला किया है, उन्होंने कहा कि मैं कुछ दिन छुट्टी पर रहकर भविष्य का फैसला करूँगा.

मुकुल रॉय ने भले ही अपने भविष्य के कदम की जानकारी नहीं दी है लेकिन TMC ने उनके बारे में खुलासा कर दिया है. TMC के महासचिव पर्थ चटर्जी ने प्रेस को जानकारी देते हुए कहा कि दरअसल BJP ने मुकुल रॉय के पीछे CBI छोड़ रखी है, उनके पास इस वक्त सिर्फ BJP में जाने के और कोई रास्ता नहीं है इसलिए उन्होने TMC ने इस्तीफ़ा देकर BJP में जानें का फैसला किया है.

मुकुल रॉय के बारे में कहा जा रहा है कि उन्हें करीब 50-60 विधायकों का समर्थन हासिल है, उनके साथ मिलकर या तो वे अलग पार्टी बनायेंगे, या BJP में शामिल होकर ममता बनर्जी को बंगाल से साफ़ करने के मिशन में जुट जाएंगे.

Sep 22, 2017

आज बहुत खुश हैं रूपा गांगुली, ममता बनर्जी को तुस्टीकरण के लिए जमकर लगी फटकार

आज बहुत खुश हैं रूपा गांगुली, ममता बनर्जी को तुस्टीकरण के लिए जमकर लगी फटकार

rupa-ganguli-happy-after-mamata-banerjee-slammed-by-high-court

आज कलकत्ता हाई कोर्ट ने तुस्टीकरण की राजनीति करने वाली ममता बनर्जी को जमकर फटकार लगा दी. कोर्ट ने कहा कि आप मुहर्रम पर दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन पर रोक कैसे लगा सकती हैं, क्या बंगाल में हिन्दू मुस्लिम एक साथ नहीं रहना चाहते, क्या उनके बीच इतना अंतर है कि एक साथ त्यौहार नहीं मना सकते. कोर्ट ने कहा कि एक तरफ तो आप कहती हो कि बंगाल में हार्मोनी है, लोग मिल जुलकर रहते हैं तो आप हिन्दुओं और मुस्लिमों के बीच लाइन क्यों खींच रही हैं, उन्हें एक साथ त्यौहार मनाने दीजिये.

ममता बनर्जी को फटकार लगने के बाद बीजेपी नेता रूपा गांगुली बहुत खुश हैं क्योंकि TMC के लोगों ने उनपर कई बार जानलेवा हमला किया है. उन्हें बार बार धमकी मिलती रहती है. बंगाल में उनका भी बाहर निकलना मुश्किल है.

आज रूपा गांगुली ने ममता बनर्जी पर बंटवारे और तुस्टीकरण की राजनीति का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि हमने देखा है की 2011 में मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्हें बांटने की राजनीति में लिप्त हो गयी थीं, वे सिर्फ वोट बैंक को देखकर काम कर रही हैं, कुछ समुदायों की तुस्टीकरण की राजनीति कर रही हैं. उन्होंने यह भी कहा कि दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन पर प्रतिबन्ध लगाकर भी उन्होने मुस्लिम वोट बैंक को खुश करने की कोशिश की थी लेकिन कोर्ट ने उनका आदेश रद्द कर दिया.

Sep 21, 2017

हाई कोर्ट के फैसले पर बोले तजिंदर बग्गा, आज हिन्दुओं की जीत हुई है और बेगम ममता की बड़ी हार

हाई कोर्ट के फैसले पर बोले तजिंदर बग्गा, आज हिन्दुओं की जीत हुई है और बेगम ममता की बड़ी हार

tajinder-bagga-said-hindu-win-today-big-defeat-of-begam-mamata

पश्चिम बंगाल में दुर्गा माँ की मूर्ति विसर्जन पर ममता सरकार की लगायी रोक को आज कलकत्ता हाई कोर्ट ने हटा दिया है. अपने आदेश में कलकत्ता हाई कोर्ट ने ममता बनर्जी सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि जब तुम सामाजिक समरसता की बात करती हो तो मुहर्रम पर माँ दुर्गा की मूर्ति के विसर्जन पर बैन कैसे लगा सकती हो, आप हिन्दू मुस्लिम के बीच में लाइन खींच रही हो, आप दुर्गा माँ की प्रतिमा पर प्रतिबन्ध हटाइए.

हाई कोर्ट का आदेश आने के बाद ममता सरकार के खिलाफ अभियान शुरू करने वाले बीजेपी नेता तजिंदर बग्गा ने कहा कि आज हिन्दुओं की जीत हुई है जबकि बेगम ममता की बड़ी हार हुई है.

begam-mamata-big-defeat-says-tajinder-badda


आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले ममता बनर्जी ने ऐलान किया था कि दशहरा के दिन सिर्फ शाम 6 बजे तक माँ दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा क्योंकि अगले दिन मुहर्रम का त्यौहार है इसलिए मूर्ति विसर्जन मुहर्रम के अगले दिन शुरू किया जाएगा, ममता बनर्जी के इस आदेश का हिन्दू संगठनों ने विरोध किया और हाई कोर्ट में अर्जी दी, बीजेपी नेता तजिंदर बग्गा ने भी ममता बनर्जी के खिलाफ मैदान में उतरते हुए कहा था कि वे 1 अक्टूबर को मुहर्रम के दिन माँ दुर्गा की मूर्ति का विसर्जन जरूर करेंगे, देखते हैं उन्हें कौन सी सरकार रोकती है.

आज कलकत्ता हाई कोर्ट ने बंगाल सरकार को आदेश दिया है कि मुहर्रम के दिन भी 12 बजे तक प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा. पुलिस को आदेश दिया गया है कि वह दुर्गा की प्रतिमा और ताजिया के लिए अलग अलग रास्ता तय करे ताकि दोनों का आपस में क्लैश ना हो.

कोर्ट ने ममता सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि आपको हिन्दू और मुस्लिम के बीच अंतर करना नहीं बल्कि उन्हें आपस में मिलकर रहना सिखाना चाहिए, उनके बीच में लाइन मत खींचिए, एक तरफ तो तुम कहते हो कि यहाँ पर सामाजिक सद्भाव है और दूसरी तरफ उनके बीच में लाइन भी खींच रहे हो.

आज ममता बनर्जी हाई कोर्ट पर ही बरस पड़ीं. उन्होंने कहा कि मैं किसी की बात नहीं मानूंगी, मेरे काम में कोई दखल नहीं दे सकता, राईट विंग के लोगों को चेतावनी देती हूँ कि आग से खेलने की कोशिश मत करो.
मूर्ति विसर्जन मामले पर हाई कोर्ट से बोलीं ममता बनर्जी, मेरा गला काट दो, काम में दखल मत दो

मूर्ति विसर्जन मामले पर हाई कोर्ट से बोलीं ममता बनर्जी, मेरा गला काट दो, काम में दखल मत दो

mamata-banerjee-says-hc-slit-my-throat-but-not-interfare-my-work

कलकत्ता हाई कोर्ट ने ममता बनर्जी को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा है कि जब तुम सामाजिक समरसता की बात करती हो तो मुहर्रम पर माँ दुर्गा की मूर्ति के विसर्जन पर बैन कैसे लगा सकती हो, आप हिन्दू मुस्लिम के बीच में लाइन खींच रही हो, आप दुर्गा माँ की प्रतिमा पर प्रतिबन्ध हटाइए.

आज ममता बनर्जी कलकत्ता हाई कोर्ट पर ही बरस पड़ीं। उन्होंने कहा कि मुझे मेरे काम से कोई नहीं रोक सकता, कोई मेरा गला काट सकता है लेकिन मेरे काम में कोई भी दखल नहीं दे सकता, मैं वही करूँगी जो राज्य में शांति बनाए रखने के लिए जरूरी होगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले ममता बनर्जी ने ऐलान किया था कि दशहरा के दिन सिर्फ शाम 6 बजे तक माँ दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा क्योंकि अगले दिन मुहर्रम का त्यौहार है इसलिए मूर्ति विसर्जन मुहर्रम के अगले दिन शुरू किया जाएगा, ममता बनर्जी के इस आदेश का हिन्दू संगठनों ने विरोध किया और हाई कोर्ट में अर्जी दी, आज कलकत्ता हाई कोर्ट ने बंगाल सरकार को आदेश दिया है कि मुहर्रम के दिन भी 12 बजे तक प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा. पुलिस को आदेश दिया गया है कि वह दुर्गा की प्रतिमा और ताजिया के लिए अलग अलग रास्ता तय करे ताकि दोनों का आपस में क्लैश ना हो.

कोर्ट ने ममता सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि आपको हिन्दू और मुस्लिम के बीच अंतर करना नहीं बल्कि उन्हें आपस में मिलकर रहना सिखाना चाहिए, उनके बीच में लाइन मत खींचिए, एक तरफ तो तुम कहते हो कि यहाँ पर सामाजिक सद्भाव है और दूसरी तरफ उनके बीच में लाइन भी खींच रहे हो.

आज ममता बनर्जी हाई कोर्ट पर ही बरस पड़ीं. उन्होंने कहा कि मैं किसी की बात नहीं मानूंगी, मेरे काम में कोई दखल नहीं दे सकता, राईट विंग के लोगों को चेतावनी देती हूँ कि आग से खेलने की कोशिश मत करो.

Sep 18, 2017

हमें रोहिंग्या मुस्लिमों की बहुत फिक्र है, हम भारत सरकार की नहीं, UN की बात मानेंगे: दीदी

हमें रोहिंग्या मुस्लिमों की बहुत फिक्र है, हम भारत सरकार की नहीं, UN की बात मानेंगे: दीदी

mamata-banerjee-support-rohingya-muslims-are-not-terrorists

ममता बनर्जी रोहिंग्या मुस्लिमों के खुलकर समर्थन में आ गयी हैं. उन्होंने कहा कि हम मानते हैं कि सभी रोहिंग्या मुस्लिम आतंकवादी नहीं हैं, अगर कोई आतंकवादी है तो हम उसके साथ सख्ती से निपटेंगे, उनके खिलाफ एक्शन लेंगे लेकिन हम रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने के समर्थन में हैं. हम इनकी पूरी मदद करेंगे और यूनाइटेड नेशन के आदेश का पालन करेंगे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने के मामले में आज केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट सबमिट किया था जिसमें कहा था कि रोहिंग्या मुसलमान भारत के लिए खतरा बन सकते हैं क्योंकि इनके कई आतंकवादी संगठनों से सम्बन्ध रहे हैं, अभी भी आतंकवादी इन्हें इस्तेमाल करके इन्हें आतंकवादी गतिविधियों में शामिल कर सकते हैं, इससे आम भारतीयों का फंडामेंटल राईट खतरे में पड़ जाएगा. हमारी नजर में ये भारत की शांति और सुरक्षा के लिए खतरा हैं इसलिए हमें इन्हें शरण देने पर विचार नहीं करना चाहिए.

केंद्र सरकार के एफिडेविट का विरोध करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि हम इस मामले में भारत सरकार का बात नहीं बल्कि UN की अपील को मानेंगे, हम रोहिंग्या की मदद करेंगे, हम विश्वास करते हैं कि सभी शरणार्थी आतंकी नहीं हैं, हमें उनकी बहुत चिंता है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि करीब 3,80,000 रोहिंग्या मुसलमानों को म्यांमार से भगा दिया गया है, इन लोगों ने वहां के लोगों की हत्या करनी शुरू कर दी थी, वहां की आर्मी पर हमला कर दिया था, खतरे को महसूस करके म्यांमार सरकार ने सेना को आदेश दिया और रोहिंग्या मुसलामानों को भगा दिया गया, ये लोग म्यांमार में अलग इस्लामिक स्टेट  (Rakhine State) की मांग कर रहे थे वहां रह रहे हिन्दुओं और बौद्धों को ख़त्म करना शुरू कर दिया था इसी वजह से इन्हें भगा दिया गया.

म्यांमार से भगाए जाने के बाद 3,80,000 से भी अधिक मुस्लिम बांग्लादेश बॉर्डर पर जमें हुए हैं, करीब 40 हजार रोहिंग्या मुस्लिम भारत में घुस चुके हैं और शरणार्थी शिविरों में रह रहे हैं. इनमें से अधिकतर गैर कानूनी तरीके से जम्मू, हैदराबाद, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली में रह रहे हैं. 

भारत के कट्टरपंथी नेता चाहते हैं कि 3,80,000 रोहिंग्या मुस्लिमों को भारत में बसा दिया जाए ताकि उनका वोटबैंक मजबूत हो जाए, ममता बनर्जी भी यही चाहती हैं क्योंकि बंगाल में भी उन्होने बंगलादेशी घुसपैठियों को बसाकर उसका इस्लामीकरण कर दिया और अब बंगाल भी इस्लामिक स्टेट बनता जा रहा है. अब ममता चाहती हैं कि रोहिंग्या भी बंगाल में बस जाएं ताकि उनका वोटबैंक मजबूत हो जाए इसलिए वे भारत सरकार के विरोध में उतर आयी हैं.

Sep 16, 2017

तजिंदर बग्गा बोले, आज हिन्दुओं की जीत हुई है और एंटी-हिन्दू ममता बनर्जी की हार हुई है

तजिंदर बग्गा बोले, आज हिन्दुओं की जीत हुई है और एंटी-हिन्दू ममता बनर्जी की हार हुई है

tajinder-bagga-dare-mamata-banerjee-to-murti-visarjan-vijay-dhashmi

दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तजिंदर बग्गा ने पिछले महीनें ममता बनर्जी को चुनौती देते हुए कहा था कि बंगाल सरकार में हिम्मत नहीं है कि मुझे विजय दशमी के दिन माँ दुर्गा की मूर्ति का विसर्जन करने से रोक सके. आज तजिंदर बग्गा की बात सच साबित हो गयी क्योंकि कोर्ट के आदेश के बाद ममता बनर्जी ने विजय दशमी के दिन मूर्ति विसर्जन का समय बढ़ा दिया. पहले उन्होंने विजय दशमी के दिन सिर्फ 6 बजे शाम तक मूर्ति विसर्जन का समय निर्धारित किया था, लेकिन आज उन्होंने समय बढ़ाते हुए कहा कि अब विजय दशमी के दिन रात 10 बजे तक मूर्ति का विसर्जन किया जा सकेगा क्योंकि उसके बाद मुहर्रम है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तजिंदर बग्गा इस साल विजय दशमी बंगाल में मनाने वाले हैं और वहां पर वे मूर्ति का विसर्जन भी करेंगे, पहले ममता बनर्जी ने सिर्फ 6 बजे तक मूर्ति विसर्जन का फरमान सुनाया था, यह फरमान सुनकर बग्गा ने कहा था कि मैं ममता बनर्जी का आदेश नहीं मानूंगा और विजय दशमी के दिन दुर्गा माँ की मूर्ति का विसर्जन करूँगा, ममता बनर्जी में हिम्मत है तो मुझे रोककर दिखाएं. अब शायद ममता बनर्जी को उन्हें रोकना नहीं पड़ेगा क्योंकि कोर्ट ने उन्हें ऐसी फटकार लगाई कि उन्हें अपना फरमान बदलना ही पड़ा.

कोर्ट में ममता बनर्जी को लगी फटकार के बाद तजिंदर बग्गा ने ट्विटर पर कहा, आज हिन्दुओं की जीत हुई है जबकि एंटी हिंदू ममता बनर्जी की हार हुई है.

Sep 15, 2017

हाई कोर्ट ने फिर चलाया ममता सरकार पर डंडा तो बढ़ा दिया मूर्ति विसर्जन का समय

हाई कोर्ट ने फिर चलाया ममता सरकार पर डंडा तो बढ़ा दिया मूर्ति विसर्जन का समय

mamata-banerjee-extend-murti-visarjan-time-after-high-court-interfare

ममता बनर्जी सरकार पर एक बार फिर से कलकत्ता हाई कोर्ट का डंडा चला है, इसी डंडे की वजह से ममता बनर्जी को मजबूर होकर दशहरा के दिन मूर्ति विसर्जन का समय बदलना पड़ा, ममता सरकार के नए आदेश के अनुसार अब दशमी के दिन रात 10 बजे तक मूर्ति विसर्जन किया जा सकेगा, हालाँकि उसके दूसरे दिन मुहर्रम होने के कारण हिन्दू लोग मूर्ति विसर्जन नहीं कर सकेंगे.

आज मामले की सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने ममता सरकार से पूछा, जब मुंबई में गणेश विसर्जन और मुहर्रम एक साथ हो सकता है तो कलकत्ता में एक साथ क्यों नहीं हो सकता, हाई कोर्ट के इस सवाल का ममता बनर्जी सरकार के पास कोई जवाब नहीं था लिहाजा मूर्ति विसर्जन का समय बढ़ा दिया गया.

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ममता बनर्जी ने एक आदेश दिया था जिसमें कहा गया था कि दशमी के दिन 31 सितम्बर को हिन्दू समाज के लोग सिर्फ शाम 6 बजे तक मूर्ति विसर्जन करें, उसके दूसरे दिन यानी 1 अक्टूबर को मुहर्रम है इसलिए अगर हिन्दू मूर्ति विसर्जन करेंगे तो मुस्लिम बुरा मान जाएंगे इसलिए हिन्दुओं से कहा गया कि आप लोग मुहर्रम के बीतने का इन्तजार करो और मुहर्रम के बीतने के बाद 2 तारीख को मूर्ति विसर्जन करो.

बंगाल सरकार के इस आदेश के खिलाफ यूथ बार एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया कार्यालय के पदाधिकारी सनप्रित सिंह अजमानी, कुलदीप राय और रिकी राय की और से हाई कोर्ट में याचिका डाली गयी जिसकी आज हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. हाई कोर्ट ने बंगाल सरकार को जमकर फटकार लगाई जिसके बाद ममता बनर्जी की सरकार ने कहा कि हम रात 10 बजे तक मुहर्रम का समय बढ़ाते हैं, बंगाल सरकार के इस आदेश से भी हाई कोर्ट सहमत नहीं हुई, अब इस मामले की अगली सुनवाई 18 सितम्बर को होगी.

Sep 14, 2017

अमित शाह ने ह्यूमन राईट वालों को जमकर फटकारा, बंगाल की हिंसा तुम्हें क्यों नहीं दिखाई देती

अमित शाह ने ह्यूमन राईट वालों को जमकर फटकारा, बंगाल की हिंसा तुम्हें क्यों नहीं दिखाई देती

amit-shah-said-why-human-right-people-not-seeing-bengal-violence

अमित शाह ने बंगाल में हिंसा की अनदेखी करने पर ह्यूमन राईट कमीशन को जमकर फटकार लगाई है. उन्होंने कहा कि भारत के अन्य राज्यों में छोटी सी भी घटना हो जाती है तो ह्यूमन राईट वाले उसकी रिपोर्टिंग करते हैं लेकिन बंगाल में हिंसा पर वे ऑंखें बंद करके बैठे रहते हैं. मेरा उनसे निवेदन है कि वे एक बार कलकत्ता के वशीरघाट और वीरभूमि में जो राजनीतिक हिंसा हो रही है इसको भी रिपोर्टिंग करें. क्या ये ह्यूमन राईट का उल्लंघन नहीं है. एक राजनीतिक पार्टी से जुड़ने के कारण किसी के पति की हत्या हो जाए, किसी के भाई की हत्या हो जाए, किसी के पिता की हत्या हो जाए, क्या यह ह्यूमन राईट का हनन नहीं है.

अमित शाह ने कहा कि मैं यह मानता हूँ कि ह्यूमन राईट के चैम्पियन तक मेरी बात जरूर पहुंचेगी और वे दिल्ली के गलियारों से निकलकर बंगाल में आयेंगे और बंगाल के सूदूर विस्तार में आकर यहाँ हो रही हिंसा को देश और दुनिया के सामने रखेंगे.

अमित शाह इस वक्त पश्चिम बंगाल के दौरे पर हैं. 12 सितम्बर को उन्होंने राजनीतिक हत्या के शिकार परिवार वालों से मिलकर उनका दुःख सुना. उन्होंने बाद में मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले 6 महीनें में यहाँ पर जो भी राजनीतिक हिंसा हुई है इसके सारे पीड़ितों से हमने मुलाकात की.

उन्होंने कहा कि पहले भी मुझे बहुत सारे कार्यकर्ताओं के माध्यम से पश्चिम बंगाल में जो राजनीतिक हिंसा होती थी उसकी रिपोर्ट मिलती थी, इसकी गंभीरता भी समझ में आती थी लेकिन आज जब इन पीड़ितों से मिलना हुआ तो मुझे लगता है कि शायद ही दुनिया में किसी जगह पर इससे ज्यादा पॉलिटिकल हिंसा होती होगी. राजनीतिक हिंसा के मामले में बंगाल नंबर के पर है.

अमित शाह ने कहा कि यहाँ पर बहुत सारे लोगों को जान से मार दिया गया, किसी का हाथ तोड़ दिया, किसी का पैर तोड़ दिया गया, घर जला दिया, दुकान जला दिया. यह सिर्फ इसलिए क्योंकि हमारी राजनीतिक विचारधारा से वो सहमत नहीं हैं.

अमित शाह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्त्ता इस राजनीतिक हिंसा का मजबूती से मुकाबला करेंगे, हम हमारा काम चालू रखेंगे और भारतीय जनता पार्टी को बंगाल में बढ़ने से कोई रोक नहीं सकता. बीजेपी के जिन कार्यकर्ताओं को राजनीतिक हिंसा का शिकार होना पड़ा है उसे बीजेपी स्वयं ही संभाल लेगी क्योंकि TMC सरकार हिंसा के बाद मदद के मामले में भी भेदभाव कर रही है. मेरी मीडिया से भी अपील है कि आप दूर दराज के गाँवों में जाइए और इस हिंसा को रिपोर्ट कीजिये.
राजनीतिक हिंसा के मामले में बंगाल नंबर वन, ह्यूमन राईट वालों ने कर ली है ऑंखें बंद: अमित शाह

राजनीतिक हिंसा के मामले में बंगाल नंबर वन, ह्यूमन राईट वालों ने कर ली है ऑंखें बंद: अमित शाह

amit-shah-slammed-human-right-for-not-reporting-west-bengal-violence

अमित शाह इस वक्त पश्चिम बंगाल के दौरे पर हैं. 12 सितम्बर को उन्होंने राजनीतिक हत्या के शिकार परिवार वालों से मिलकर उनका दुःख सुना. उन्होंने बाद में मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले 6 महीनें में यहाँ पर जो भी राजनीतिक हिंसा हुई है इसके सारे पीड़ितों से हमने मुलाकात की.

उन्होंने कहा कि पहले भी मुझे बहुत सारे कार्यकर्ताओं के माध्यम से पश्चिम बंगाल में जो राजनीतिक हिंसा होती थी उसकी रिपोर्ट मिलती थी, इसकी गंभीरता भी समझ में आती थी लेकिन आज जब इन पीड़ितों से मिलना हुआ तो मुझे लगता है कि शायद ही दुनिया में किसी जगह पर इससे ज्यादा पॉलिटिकल हिंसा होती होगी. राजनीतिक हिंसा के मामले में बंगाल नंबर के पर है.

अमित शाह ने कहा कि यहाँ पर बहुत सारे लोगों को जान से मार दिया गया, किसी का हाथ तोड़ दिया, किसी का पैर तोड़ दिया गया, घर जला दिया, दुकान जला दिया. यह सिर्फ इसलिए क्योंकि हमारी राजनीतिक विचारधारा से वो सहमत नहीं हैं.

अमित शाह ने कहा कि मैं पूरे बंगाल से पूछना चाहता हूँ, क्या यह टैगोर का बंगाल है, क्या यह विवेकानंद का बंगाल है, हम बंगाल में किस तरह की संस्कृति को आगे बढ़ाना चाहते हैं. यहाँ पर कोई अपनी राजनीतिक विचारधारा नहीं रख सकेगा, उसको मार देंगे, 6 साल की बच्ची के पेट में गोली लगा देंगे. डॉक्टर गोली भी नहीं निकाल पा रहा है क्योंकि वह भी डरता है.

अमित शाह ने कहा कि इस प्रकार की राजनीतिक हिंसा से बंगाल के अन्दर विकास नहीं होगा. मैं मांग करता हूँ कि जो लोग हिंसा कर रहे हैं उनकी भी भलाई इसी में है कि राजनीतिक हिंसा को तत्काल समाप्त कर दें. TMC पार्टी के कार्यकर्ता जिस प्रकार से राजनीतिक विरोधियों पर हिंसा कर रहे हैं मैं उनको याद दिलाना चाहता हूँ कि कम्युनिस्टों के इसी प्रकार की हिंसा के सामने कभी आप भी लड़ाई लड़ते थे. इसी के खिलाफ आपको भी जनादेश मिला था, इसीलिए आपको पश्चिम बंगाल की जनता से सत्ता पर बिठाया था.

अमित शाह ने कहा कि आज जिस प्रकार से भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं पर अत्याचार हो रहे हैं. अगर कोई मानता है कि इससे भारतीय जनता पार्टी का विकास रुक जाएगा तो उनका मानना गलत है क्योंकि इससे भारतीय जनता पार्टी का विस्तार होगा. आप जितना भी दमन करोगे, जितना भी अत्याचार करोगे, भारतीय जनता पार्टी और आगे बढ़ेगी. मैं दुनिया भर के ह्यूमन राईट के चैम्पियन से भी निवेदन करता हूँ कि अगर कहीं पर कोई घटना हो जाती है तो वे घंटों तक उसके खिलाफ आवाज उठाते हैं, लेकिन वे एक बार कलकत्ता के वशीरघाट और वीरभूमि में जो राजनीतिक हिंसा हो रही है इसको भी रिपोर्ट करें. क्या ये ह्यूमन राईट का उल्लंघन नहीं है. एक राजनीतिक पार्टी से जुड़ने के कारण किसी के पति की हत्या हो जाए, किसी के भाई की हत्या हो जाए, किसी के पिता की हत्या हो जाए, क्या यह ह्यूमन राईट का हनन नहीं है.

अमित शाह ने कहा कि मैं यह मानता हूँ कि ह्यूमन राईट के चैम्पियन तक मेरी बात जरूर पहुंचेगी और वे दिल्ली के गलियारों से निकलकर बंगाल में आयेंगे और बंगाल के सूदूर विस्तार में आकर यहाँ हो रही हिंसा को देश और दुनिया के सामने रखेंगे.

अमित शाह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्त्ता इस राजनीतिक हिंसा का मजबूती से मुकाबला करेंगे, हम हमारा काम चालू रखेंगे और भारतीय जनता पार्टी को बंगाल में बढ़ने से कोई रोक नहीं सकता. बीजेपी के जिन कार्यकर्ताओं को राजनीतिक हिंसा का शिकार होना पड़ा है उसे बीजेपी स्वयं ही संभाल लेगी क्योंकि TMC सरकार हिंसा के बाद मदद के मामले में भी भेदभाव कर रही है. मेरी मीडिया से भी अपील है कि आप दूर दराज के गाँवों में जाइए और इस हिंसा को रिपोर्ट कीजिये.

Sep 13, 2017

बंगाल में चिंताजनक हालात, पुजारी को उसकी बेटी के सामने ही निर्वस्त्र करके घुमाया, बहुत पीटा

बंगाल में चिंताजनक हालात, पुजारी को उसकी बेटी के सामने ही निर्वस्त्र करके घुमाया, बहुत पीटा

bengal-news-in-hindi-pujari-beaten-by-tmc-goons-in-kolkata

बंगाल में हालात बहुत चिंताजनक होते जा रहे हैं. एक समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है. ऐसी ही एक दर्दनाक और हैरान करने वाली खबर कलकत्ता से आयी है. एक पुजारी राजेंद्र पंडित को पूजा करने से रोक दिया गया और उनपर झूठे आरोप लगाकर उनकी बेटी के सामने ही उन्हें मारा पीटा गया. 

बताया जा रहा है कि राजेश पंडित को प्रताड़ित करने वाले TMC के समर्थक थे. राजेश पंडित की बेटी उनके सामने गिडगिड़ाती रही कि मेरे पिताजी को मत मारो, लेकिन गुंडे उसकी बात नहीं माने, उसका मोबाइल भी छीन लिया और उसके पिता को निर्वस्त्र करके पीटना शुरू कर दिया. गुंडों ने राजेश पंडित को निर्वस्त्र करके पूरी मार्केट में घुमाया. इस दौरान वे लोग उसे मारते पीटते भी रहे.

यहाँ पर सवाल यह है कि अगर राजेश पंडित ने कोई गुनाह किया था तो उन्हें पुलिस में देना चाहिए था, कानून हाथ में लेने की क्या जरूरत थी. दूसरा सवाल मीडिया से है, गौरक्षकों की गुंडागर्दी पर मीडिया बवाल मचा देता है लेकिन TMC के गुंडों की गुंडागर्दी पर वे चुप हैं. ये कैसा मीडिया है भारत का. किसी भी मीडिया ने इस खबर को नहीं दिखाया, सिर्फ हम बता रहे हैं.

Sep 12, 2017

बंगाल से दुखद खबर, साउथ 24 परगना जिले में बीजेपी के बूथ प्रेसिडेंट की गला घोंट का हत्या

बंगाल से दुखद खबर, साउथ 24 परगना जिले में बीजेपी के बूथ प्रेसिडेंट की गला घोंट का हत्या

bjp-booth-president-soumitra-ghoshal-killed-in-south-24-pardana-bengal

बंगाल से बहुत बुरी खबर आयी है. यह खबर कोई भी मीडिया नहीं दिखाएगा क्योंकि यहाँ पर बीजेपी नेता को मारा गया है. खबर के मुताबिक बंगाल के साउथ परगना जिले में बरुइपुर इलाके में बूथ नंबर 11 के बीजेपी के बूथ अध्यक्ष सौमित्रा घोषाल के हत्या कर दी गयी. उनकी लाश एक पेड़ से बंधी मिली. उनका गला गमछे से घोंटा गया था. उनके दोनों हाथ भी बाँध दिए गए थे. उन्हें बहुत पूरी तरह तड़पाने के बाद उनकी हत्या की गयी है.

यह घटना कल की है. इस वक्त अमित शाह बंगाल के दौरे पर हैं, बीजेपी कार्यकर्त्ता उत्साहित होकर उनसे मिल रहे हैं. विरोधी दलों के लोग बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमले कर रहे हैं. कल कलकत्ता में अमित शाह के काफिले के पीछे चल रहे लोगों को ख़ास धर्म के लोगों ने पकड़कर बहुत मारा. दो युवाओं को इसलिए मारा गया क्योंकि वे गर्व से कहो हम हिन्दू हैं का नारा लगा रहे थे. 

आज तो उन्होंने इंसानियत को शर्मशार करते हुए बूथ अध्यक्ष सौमित्रा घोषाल को तडपा तडपा कर मार डाला. ऐसा लगता है कि विरोधी लोग नहीं चाहते कि कोई भी बंगाली बीजेपी के लिए काम करे, अगर वे ऐसे ही बूथ अध्यक्षों को मार देंगे तो बीजेपी के लिए काम करने वाले कोई बचेगा ही नहीं.

Sep 11, 2017

हावड़ा में 2 हिन्दुओं ने बोला 'गर्व से कहो हम हिन्दू हैं' मुसलमानों ने बहुत मारा, देखें VIDEO

हावड़ा में 2 हिन्दुओं ने बोला 'गर्व से कहो हम हिन्दू हैं' मुसलमानों ने बहुत मारा, देखें VIDEO

hindu-youth-says-garv-se-kaho-ham-hindu-hain-beaten-my-muslims

बंगाल में इतने बुरे हालात हैं कोई सोच भी नहीं सकता, कम से कम स्वामी विवेकानंद ने तो कभी नहीं सोचा होगा कि उनके बंगाल में कभी ऐसा दिन भी आएगा जब उनका ही नारा 'गर्व से कहो हम हिन्दू हैं बोलने पर लोगों को मारा जाएगा, उन्होंने सोचा भी नहीं होता कि एक दिन ऐसा आयगा जब बंगाल में जिहादी लोग आकर बस जाएंगे और हिन्दुओं का जीना मुश्किल कर देंगे.

आज बंगाल में हिन्दुओं का जीना मुश्किल है, ऐसी हालत है कि हिन्दू लोग विवेकानंद का नारा भी नहीं लगा सकते, विवेकानंद हमेशा बोलते थे, गर्व से कहो हम हिन्दू हैं, वह हमेश वन्दे मातरम बोलते थे लेकिन आज दो हिन्दू लड़कों ने बोल दिया 'गर्व से कहो हम हिन्दू हैं', उनके इतना कहते ही करीब 25 मुसलमान घरों से निकल आए और मार मार कर उनका मुंह सुजा दिया. लड़कों को कई जगह चोटें आयी हैं.

यह घटना बेस्ट बंगला के हावड़ा की है, ये लोग स्वामी जी की याद में रैली निकाल रहे थे, इन्होने स्वामी विवेकानंद की टी शर्ट भी पहन रखी थी लेकिन इन्हें बहुत मारा गया.

Sep 6, 2017

अलग गोरखालैंड की मांग करने वाले बिमल गुरुंग के खिलाफ ममता ने निकाला अरेस्ट वारंट

अलग गोरखालैंड की मांग करने वाले बिमल गुरुंग के खिलाफ ममता ने निकाला अरेस्ट वारंट

arrest-warant-issued-against-bimal-gurung-demanding-gorkhaland

बिमल गुरुंग को अलग गोरखालैंड की मांग करना भारी पड़ा है क्योंकि उन्हें अलग गोरखालैंड देने के बजाय ममता बनर्जी ने उनके खिलाफ अरेस्ट वारंट निकाल दिया है. बिमल गुरुंग गोरखा जनमुक्ति मोर्चा पार्टी के अध्यक्ष हैं, उनके अलावा सात अन्य लोगों के खिलाफ भी अरेस्ट वांट जारी किया गया है.

रिपोर्ट के अनुसार दार्जिलिंग में हिंसा और आगजनी के लिए उनके खिलाफ FIR दर्ज की गयी थी. हाल ही में ममता बनर्जी ने कैबिनेट मीटिंग बुलाई थी जिसमें बिमल गुरुंग के खिलाफ कार्यवाही करने का निर्णय लिया गया. 

इससे पहले बंगाल पुलिस ने बिमल गुरुंग के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया है. उनके खिलाफ कई मामलों के अलावा कलिम्पोंग पुलिस स्टेशन में बम ब्लास्ट का भी आरोप है. इस बम ब्लास्ट में एक नागरिक की मौत हो गयी थी. 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि GJM पार्टी में फूट पड़ने से अलग गोरखालैंड आन्दोलन कमजोर पड़ गया है, हाल ही में बिमल गुरुंग ने GJM के महासचिव बिनय तमांग और गोरखालैंड टेरिटोरियल एडमिनिस्ट्रेशन के सदस्य अनित थापा को पद से हटा दिया था, ये लोग ममता बनर्जी के साथ मिल गए और बिमल गुरुंग का आन्दोलन कमजोर पड़ गया. अब उनका गिरफ्तार होना निश्चित है.

Sep 4, 2017

नारदा स्टिंग घोटाले में CBI की पूछताछ की चिट्ठी देखते ही टेंशन से मर गए TMC MP सुलतान अहमद

नारदा स्टिंग घोटाले में CBI की पूछताछ की चिट्ठी देखते ही टेंशन से मर गए TMC MP सुलतान अहमद


पहली बार हुआ है कि कोई सांसद CBI की चिट्ठी देखकर मरा है. आज पश्चिम बंगाल में तृण मूल कांग्रेस (TMC) पार्टी के सांसद सुलतान अहमद की हार्ट अटैक से मौत हो गयी. वे 67 साल के बताए जा रहे हैं. 

TMC अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तुरंत सुल्तान अहमद के घर गयीं और बाहर आकर मीडिया को बताया कि उनकी मौत CBI की वजह से हुई है. CBI काफी समय से नारदा स्टिंग मामले को लेकर उनपर पूछताछ का दबाव डाल रही थी और आज उनके पास चिट्ठी भेज दे. CBI की चिट्ठी देखते ही सुलतान अहमद को टेंशन हो गयी और हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गयी.

ममता बनर्जी ने कहा कि CBI ही उनकी मौत के लिए जिम्मेदार है क्योंकि लाख डेढ़ लाख रुपये के लिए उन्होंने पूछताछ के लिए इतना डंडा कर दिया कि टेंशन में हमारे सांसद की मौत हो गयी. आपको बता दें कि नारदा स्टिंग घोटाले में सुलतान अहमद का भी नाम सामने आया था, इसीलिए CBI ने पूछताछ के लिए उन्हें चिट्ठी लिखी थी लेकिन यह चिट्ठी उनके लिए काल बन गयी.

Aug 24, 2017

अब बंगाली हिन्दुओं को याद आएँगे योगी, दीदी ने दिया धोखा: पढ़ें

अब बंगाली हिन्दुओं को याद आएँगे योगी, दीदी ने दिया धोखा: पढ़ें

bangali-hindu-will-miss-yogi-adityanath-as-mamata-banerjee-cheated

बंगाल में मुहर्रम की वजह से दशहरा को सिर्फ शाम 6 बजे तक मनाने की आजादी दी गयी है, ममता बनर्जी ने कहा है कि शाम 6 बजे के बाद ना तो दशमी बनाई जा सकेगी और ना ही दुर्गा माँ की प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा ऐसा इसलिए क्योंकि दूसरे दिन मुस्लिमों का त्यौहार मुहर्रम है. ममता ने कहा है कि अगर किसी को दुर्गा माँ की प्रतिमा का विसर्जन करना है तो मुहर्रम के बाद करे क्योंकि मुहर्रम में बाधा नहीं पहुंचनी चाहिए.

अब बंगाल के बंगाली हिन्दुओं को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी बहुत याद आएँगे क्योंकि अब उनके राज्य में ना तो उनकी वैल्यू है और ना ही उनके त्योहारों का कोई आदर है. ऐसा ही फरमान अखिलेश सरकार के समय उत्तर प्रदेश एम् सुनाया जाता था लेकिन योगी के आने के बाद उन्होने हर तरह के प्रतिबन्ध हटा लिए. अखिलेश ने थानों में कृष्ण जन्माष्टमी पर बैन लगा दिया था लेकिन योगी ने आने के बाद ही बैन हटा दिया. योगी ने कहा कि मैं मुस्लिम त्योहारों पर बैन नहीं लगा सकता तो हिन्दू त्योहारों पर बैन क्यों लगाऊं, जब मैं मुस्लिमों को खुली सड़क पर नमाज पढने से नहीं रोक सकता तो मैं थानों में कृष्ण जन्माष्टमी पर रोक क्यों लगाऊं.

योगी ने ऐसा कहते हुए हिन्दू त्योहारों पर से सभी तरह के प्रतिबन्ध हटा लिया. लेकिन बंगाल के लोगों ने फिर से ममता बनर्जी को वोट देकर अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली है क्योंकि अब वे अपने राज्य में दोयम दर्जे के नागरिक हो गए हैं. अब उनके त्योहारों की कोई कीमत नहीं है. अब तो सिर्फ एक धर्म के त्योहारों की कीमत है और अगर उनके लिए हिन्दू त्योहारों पर प्रतिबन्ध भी लगाना पड़ेगा तो ममता बनर्जी चूकेंगी नहीं.

अब बंगाल के लोग सोचेंगे कि काश हमारे भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ होते तो हम बंगाल में भी अपना त्यौहार खुलकर मना पाते, ममता बनर्जी हिन्दू त्योहारों पर बैन लगा रही हैं लेकिन योगी ऐसा कभी नहीं करते, वे कहते कि ना तो मैं मुहर्रम पर रोक लगा सकता हूँ और ना ही दशमी पर, हर कोई अपना अपना त्यौहार मनाओ, हमारे राज्य में किसी भी चीज पर बैन नहीं है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बंगाल में बंगाली हिन्दुओं से बहुत बड़ा धोखा हुआ है, उन्होने जो समझकर पिछली बार ममता बनर्जी को वोट दिया था वह उन्हें नहीं मिल रहा है. अब ना तो उनका मान है और ना ही सम्मान है. जब ममता बनर्जी दुर्गा माँ को दो दिन का इन्तजार करा सकती हैं तो आम आदमियों का क्या हाल होगा.
बंगाल का हो चुका है इस्लामीकरण, अब हिन्दू त्योहारों की कोई वैल्यू नहीं.. तभी तो..?

बंगाल का हो चुका है इस्लामीकरण, अब हिन्दू त्योहारों की कोई वैल्यू नहीं.. तभी तो..?

bangal-islamikaran-completed-hindu-festival-no-value-now-news

एक समय था जब दुर्गा पूजा बंगाल का सबसे बड़ा त्यौहार कहा जाता था, बंगाली हिन्दू साल भर कहीं भी रहें लेकिन दशहरा और दुर्गा पूजा पर बंगाल जरूर आते थे लेकिन धीरे धीरे बंगाल का इस्लामीकरण हो गया और अब वहां पर हिन्दू त्योहारों की कोई वैल्यू नहीं है. अब हिन्दू त्यौहार वहां पर दोयम दर्जे के त्यौहार हैं. अब अगर हिन्दू त्योहारों के दिन मुस्लिम त्यौहार पड़ जाता है तो हिन्दू त्योहारों को बैन कर दिया जाता है.

इस वर्ष विजयदशमी और मुहर्रम एक दिन आगे पीछे पड़ रहे हैं इस वजह से विजयदशमी को शाम 6 बजे के बाद बैन कर दिया गया है. बंगाल में हिन्दू लोग विजयदशमी के दिन शाम को दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन करते हैं जो दूसरे दिन भी जारी रहता है लेकिन इस वर्ष विजयदशमी पर सिर्फ शाम 6 बजे तक दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा, उसके अगले दिन प्रतिमा विसर्जन पर बैन रहेगा और मुहर्रम के बाद फिर से दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन किया जा सकेगा.

मतलब ममता बनर्जी सरकार ने हिन्दुओं के त्यौहार दशहरा को सिर्फ आधा दिन दिया है क्योंकि दशहरा शाम 4 बजे से मनाया जाता है. मतलब बंगाल के हिन्दू सिर्फ दो घंटे दशहरा मना पाएंगे क्योंकि उन्हें शाम 6 बजे से पहले ही प्रतिमा का विसर्जन करना पड़ेगा अगर वे ऐसा नहीं कर पाएंगे तो उन्हें दो दिन तक इन्तजार करना पड़ेगा और मुहर्रम के बाद ही वे प्रतिमा का विसर्जन कर पाएंगे.

आपको बता दें कि अभी भी बंगाल में हिन्दुओं की आबादी ज्यादा है इसके बावजूद भी एक ख़ास धर्म का तुस्टीकरण जारी है. आज पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने फिर से ख़ास धर्म के तुस्टीकरण का फरमान सुना दिया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगले महीनें 30 सितम्बर को दशहरा है जबकि 1 अक्टूबर को मुहर्रम है. बंगाल में दशहरा यानी दशमी मनाई जाती और हिन्दू लोग माँ दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन करते हैं लेकिन ममता बनर्जी ने हिन्दुओं को शाम 6 बजे के बाद दुर्गा माँ की प्रतिमा का विसर्जन करने से प्रतिबंधित कर दिया है. यही नहीं मुहर्रम को देखते हुए उन्होने दुर्गा पूजा की प्रतिमा का विसर्जन 1 तारीख को पूरी तरह से रोक दिया है और विसर्जन की तारीख 2 अक्टूबर को निर्धारित की है.

मतलब हिन्दू लोग दशमी को सिर्फ 6 बजे तक दुर्गा माँ की प्रतिमा का विसर्जन कर सकेंगे. इसके बाद उन्हें दो दिन इन्तजार करना पड़ेगा और 2 तारीख को ही वे प्रतिमा का विसर्जन कर पाएंगे. मतलब ममता बनर्जी माँ दुर्गा को दो दिन का इन्तजार करवाएंगी जबकि मुहर्रम के लिए कोई पाबंदी नहीं होगी. इसे कहते हैं मुस्लिम तुस्टीकरण.

Aug 23, 2017

हिन्दुओं के लिए बुरी खबर, ममता बनर्जी ने फिर सुना दिया एक धर्म को खुश करने का फरमान: पढ़ें

हिन्दुओं के लिए बुरी खबर, ममता बनर्जी ने फिर सुना दिया एक धर्म को खुश करने का फरमान: पढ़ें

bad-news-for-hindu-mamata-banerjee-muslim-tustikaran-on-muharram

अभी भी बंगाल में हिन्दुओं की आबादी ज्यादा है इसके बावजूद भी एक ख़ास धर्म का तुस्टीकरण जारी है. आज पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने फिर से ख़ास धर्म के तुस्टीकरण का फरमान सुना दिया है और हिन्दुओं के लिए बुरी खबर सुना दी है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगले महीनें 30 सितम्बर को दशहरा है जबकि 1 अक्टूबर को मुहर्रम है. बंगाल में दशहरा यानी दशमी मनाई जाती और हिन्दू लोग माँ दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन करते हैं लेकिन ममता बनर्जी ने हिन्दुओं को शाम 6 बजे के बाद दुर्गा माँ की प्रतिमा का विसर्जन करने से प्रतिबंधित कर दिया है. यही नहीं मुहर्रम को देखते हुए उन्होने दुर्गा पूजा की प्रतिमा का विसर्जन 1 तारीख को पूरी तरह से रोक दिया है और विसर्जन की तारीख 2 अक्टूबर को निर्धारित की है.

मतलब हिन्दू लोग दशमी को सिर्फ 6 बजे तक दुर्गा माँ की प्रतिमा का विसर्जन कर सकेंगे. इसके बाद उन्हें दो दिन इन्तजार करना पड़ेगा और 2 तारीख को ही वे प्रतिमा का विसर्जन कर पाएंगे. मतलब ममता बनर्जी माँ दुर्गा को दो दिन का इन्तजार करवाएंगी जबकि मुहर्रम के लिए कोई पाबंदी नहीं होगी. इसे कहते हैं मुस्लिम तुस्टीकरण.

Aug 16, 2017

देश की आजादी के लिए मिटे थे सुभाष चंद्र बोस, लेकिन आजादी के दिन ममता के राज में मिला अपमान

देश की आजादी के लिए मिटे थे सुभाष चंद्र बोस, लेकिन आजादी के दिन ममता के राज में मिला अपमान

west-bengal-me-subhash-chadnra-bose-ki-pratima-par-kalikh

सुभाष चन्द्र बोस को भारत के सबसे बड़े स्वतंत्रता सेनानियों में से एक माना जाता है. यहाँ तक कि उन्हें महात्मा गाँधी से भी बड़ा स्वतंत्रता सेनानी कहा जाता है और अगर उनकी असमय मौत ना होती तो आजादी के बाद उनकी भूमिका कुछ और होती. उन्होंने देश को आजादी दिलाने के लिए आजाद हिन्द फ़ौज बनाई, अग्रेजों से लोहा लिया और उनकी मिट्टी पलीद करके रख दी. उन्होने देश की आजादी के लिए अपना सब कुछ कुर्बान कर दिया था लेकिन अब उनके ही राज्य में ममता बनर्जी की सरकार में उनका अपमान हो रहा है. 

कल आजादी के दिन उनका नमन किया जाना चाहिए था. उन्हें याद किया जाना चाहिए था. उनकी तारीफ की जानी चाहिए थी लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. तारीफ के बजाय उनका अपमान किया गया और वीरभूमि जिले में उनकी प्रतिमा पर कालिख पोत दी गयी. उन्होने सोचा भी नहीं होगा कि देश को आजादी दिलाने की उन्हें ये सजा मिलेगी.

सुभाष चन्द्र बोस के भतीजे और बीजेपी के बंगाल उपाध्यक्ष चन्द्र कुमार बोस ने इसका आरोप TMC के कार्यकर्ताओं पर लगाते हुए ममता बनर्जी को जमकर फटकार लगाई है. उन्होने कहा कि नेताजी का जान बूझकर अपमान किया गया है और यह सब TMC के कार्यकर्ताओं ने किया है.

चन्द्र बोस ने कहा कि यह बहुत अपमानजनक है. नेताजी को भारत के ही नहीं बल्कि एशिया के लोग भी अपना हीरो मानते हैं, उनके साथ यह घटना विशेष दिन पर हुई है. ममता बनर्जी को शर्म आनी चाहिए. हम उनसे इस घटना पर स्टेटमेंट की मांग करते हैं. उन्हें बताना चाहिए कि यह घटना क्यों और कैसे हुई, चन्द्र बोस ने आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए ममता बनर्जी को 24 घंटे का समय दिया है फिलहाल ममता बनर्जी की तरफ से इस मामले पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है.

Jul 31, 2017

बंगाल में TMC नेता अशीकुर रहमान की गोली मारकर हत्या, पढ़ें किसपर लगा आरोप

बंगाल में TMC नेता अशीकुर रहमान की गोली मारकर हत्या, पढ़ें किसपर लगा आरोप

tmc-leader-ashikur-rehman-shot-dead-in-west-bengal-hindi-news

बंगाल में एक TMC नेता की कल गोली मारकर हत्या कर दी गयी, यह घटना पश्चिम बंगाल के भागोर जिले की है, अशीकुर रहमान को गोली लगने के बाद अस्पताल ले जाया गया लेकिन रास्ते में ही उनकी मौत हो गयी. उनकी मौत से क्षेत्र में अशांति है.

जानकारी के अनुसार अशीकुर रहमान TMC नेता अराबुल इस्लाम के काफी करीबी थे, अराबुल इस्लाम ने इस हत्या का आरोप जमीन जीविका कमेटी के प्रतिनिधियों पर लगाया है.

रिपोर्ट के अनुसार कल जमीन जीविका कमेटी के लोग एक जुलूस निकालने वाले थे, उसके कुछ देर पहले अशीकुर रहमान को गोली मार दी गयी.

इस मामले में जमीन जीविका कमेटी का कहना है कि जुलूस को रोकने के लिए अराबुल इस्लाम के कई समर्थक भारी मात्रा में मौजूद थे, उन्हीं में से किसी ने अशीकुर रहमान की हत्या की है.

इस मामले में अराबुल इस्लाम के बेटे हकीबुल का कहना है कि प्रदर्शनकारी अशीकुर रहमान को काफी दिनों से निशाना बना रहे थे, शनिवार की रात उन्होंने मछिभंगा में पंचायत सदस्य अलाऊद्दीन मोल्ला के घर पर हमला किया था जिसके बाद वे अपना घर छोड़कर भाग गए थे.

इस मामले में TMC पार्टी के एक नेता केशर अहमद ने कहा कि माओवादियों ने उनकी हत्या की है.

क्षेत्र के एसपी अरिजीत सिन्हा ने जांच शुरू कर दी है और जल्द ही दोषियों को गिरफ्तार किया जाएगा.

Jul 27, 2017

ममता बनर्जी ने किया प्रधानमंत्री मोदी को फोन: पढ़ें क्यों

ममता बनर्जी ने किया प्रधानमंत्री मोदी को फोन: पढ़ें क्यों

west-bengal-cm-mamata-banerjee-calls-pm-narendra-modi

आपने देखा होगा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हमेशा मोदी को उखाड़ने और मिटाने की बात करती रहती हैं लेकिन आज उन्होंने खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को फोन किया और उन्हें अपने राज्य की समस्या से अवगत कराकर उनसे मदद मांगी.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि झारखंड में कई जगह बाढ़ आ गयी है, कई बाँध पानी से ओवरफ्लो हो रहे हैं, इसीलिए झारखंड का दामोदर वैली कारपोरेशन ( DVC) कई बांधों से  पानी छोड़ रहा है, इस पानी की वजह से पश्चिम बंगाल में कई जगह बाढ़ आ गयी है. ममता बनर्जी कई दिनों से परेशान हैं लेकिन मोदी से पर्सनल दुश्मनी की वजह से वे उनसे बात नहीं कर रही थीं लेकिन आज उन्होंने मजबूरी में उन्हें फोन किया और उनसे मदद मांगी. 

उन्होंने कहा कि आप DVC ने कहिये कि अब पानी ना छोड़ें वरना हमारे राज्य में बाढ़ आ जाएगी, यह मैन मेड फ्लड है, उन्होंने DVC से भी अपील में कहा कि कम से कम पानी छोड़ें, कम से कम मात्रा में पानी छोड़ें ताकि बाढ़ ना आए. उन्होंने कहा कि झारखण्ड से छोड़े गए पानी से हर वर्ष पश्चिम बंगाल में बाढ़ आती है, लोगों के घर बह जाते हैं, आदमी और जानवर मर जाते हैं और प्रॉपर्टी को बहुत नुकसान होता है.