Showing posts with label Bangal. Show all posts
Showing posts with label Bangal. Show all posts

Jan 10, 2018

ममता बनर्जी के साथ लंदन गए थे कुछ पत्रकार, होटल से चुरा लाए चांदी के चम्मच, कराई बेइज्जती

ममता बनर्जी के साथ लंदन गए थे कुछ पत्रकार, होटल से चुरा लाए चांदी के चम्मच, कराई बेइज्जती

journalist-stolen-silver-spoon-went-london-with-mamata-banerjee

लन्दन: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ विदेशी दौरों पर गए कुछ पत्रकारों ने देश की नाक काट दी, उनपर होटल में चांदी के चम्मच चुराने का शर्मनाक आरोप लगा है.

बता दें कि ममता बनर्जी के साथ लंदन गए पत्रकारों के लिए लग्जरी होटल में डिनर का आयोजन किया गया था. आउटलुक की रिपोर्ट के अनुसार होटल के सुरक्षा अधिकारी ने लाइव सीसीटीवी कैमरे में वीवीआईपी मेहमानों के साथ मौजूद पत्रकारों को चम्मच चुराते हुए देखा.

वीडियो में कुछ पत्रकार चांदी की चम्मच चुराकर पर्स और बैग में डाल रहे थे। चौंकाने वाली बात यह है इनकी पहचान वरिष्ठ पत्रकारों और संपादकों के रूप में की गई है। रिपोर्ट के अनुसार सबसे पहले टेबल से जिस शख्स ने चम्मच चुराई वह बंगाल के सम्मानित समाचार पत्र के एक वरिष्ठ पत्रकार हैं।

आउटलुक के हवाले से मिली रिपोर्ट के अनुसार एक अन्य वरिष्ठ पत्रकार पर भी चम्मच चोरी चुराने का आरोप लगा है। वह अन्य समाचार प्रकाशन के संपादक हैं। एक अन्य प्रकाशन के संपादक ने बताया कि ये पत्रकार मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ विदेशी दौरों पर साथ जाते रहे हैं।

एक अन्य बंगाली पत्रकार ने बताया कि चोरी के आरोप में पकड़े गए पत्रकारों की समझ थी कि जो कैमरे उनके आसपास लगे हैं वो शायद काम नहीं कर रहें हों, क्योंकि अक्सर बंगाल में सीसीटीवी कैमरे काम नहीं करते हालांकि ऐसा नहीं था. सभी कैमरे काम कर रहे थे.

रिपोर्ट के अनुसार होटल के सुरक्षा दस्ते ने जब पत्रकारों को चोरी करते हुए देखा तो उन्होंने बताया गया कि वह जो कुछ कर रहे हैं वह कैमरे में नजर आ रहा है। उन्हें होटल में चोरी करते हुए देखा जा रहा है. आपको बता दें की चम्मच चुराने वाले पत्रकारों पर 50 पौंड का जुरमाना ठोंका गया है. 

Jan 7, 2018

सुरंग में चल रहा था बहुत बड़ा सेक्स रैकेट, इलाके के लोगों ने किया पर्दाफाश, पढ़ें

सुरंग में चल रहा था बहुत बड़ा सेक्स रैकेट, इलाके के लोगों ने किया पर्दाफाश, पढ़ें

sex-racket-running-in-kokata-surang-people-exposed-hindi-news

कोलकाता: कलकत्ता में एक सुरंग में चल रही बहुत बड़े सेक्स रैकेट का पर्दाफाश हुआ है कोलकाता के बड़ा बाजार में सिंघानिया नाम के एक गेस्ट हाउस में लगभग पिछले दो सालों से सेक्स रैकेट चल रहा है लेकिन किसी को इस पर कोई भनक नही थी. लोगों को सिंघानिया गेस्ट हाउस में देह व्यापार का धंधा चलाये जाने की जानकारी पिछले 25 दिसंबर को हुई थी, जब यहां बड़ी संख्या में संदिग्ध लड़के और लड़कियां इकट्ठा हुए थे।

27 दिसम्बर को जब आस पास के लोगों ने गेस्ट हाउस पर रेड मारी तो मामला पूरी तरह सामने आ गया गेस्ट हाउस का मालिक प्रमोद सिंघानिया ने इस गेस्ट हाउस में काफी पुख्ता इंतजाम कर रखा था। गेस्ट हाउस से सड़क के दूसरी तरफ निकलने के लिए सुरंग बनाई गई है। साथ ही सुरंग में उतरने के लिए लकड़ी की सीढ़ी बनाई गई है।

इलाके के लोगों के मुताबिक गेस्ट हाउस में प्लाइवुड के छोटे-छोटे कमरे बनाए गए हैं। दस दिनों पहले हुए इस सेक्स रैकेट के खुलासे के बाद अभी तक पुलिस आरोपी प्रमोद सिंघानिया को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि प्रमोद सिंघानिया खुद को राम रहीम का भक्त बताता था।

Dec 31, 2017

मालदा में पकडे गए 2000 के नकली नोट, BSF का कमाल

मालदा में पकडे गए 2000 के नकली नोट, BSF का कमाल

bsf-apprehended-2-person-with-2000-fake-indian-currency-image

मालदा: पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में आज BSF ने कमाल करते हुए दो लोगों को 2000 रुपये के नकली नोटों के साथ पकड़ लिया है. मालदा जिले को नकली नोटों का हब बताया जाता है, पहले भी यहाँ पर कई बार नकली नोट पकडे गए हैं.

रिपोर्ट के अनुसार दोनों लोगों से करीब 325 नकली नोट पकडे गए जिसकी वैल्यू  6,50,000 रुपये है. सभी नोट 2000 के हैं.

Dec 18, 2017

ममता बनर्जी ने दी गुजरात की जनता को जीत की बधाई, बोलीं, 2019 में मोदी होंगे क्लीनबोल्ड

ममता बनर्जी ने दी गुजरात की जनता को जीत की बधाई, बोलीं, 2019 में मोदी होंगे क्लीनबोल्ड

mamata-banerjee-congratulate-gujarat-ki-janta-for-their-verdict

गुजरात और हिमाचल प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने एक बार फिर अपना परचम लहराया है, ताजा जानकारी के मुताबिक गुजरात  विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 182 सीटों पर हुए मतदान में से 99 सीटों पर जीत दर्ज की है जबकि कांग्रेस को 80 सीटें मिली हैं. अन्य को 3 सीटें मिल रही है। 

बीजेपी की धुर विरोधी ममता बनर्जी भी कांग्रेस के अच्छे प्रदर्शन से उत्साहित हैं, उन्होंने गुजरात की जनता को बधाई देने के अलावा मोदी पर निशाना भी साधा है. उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि - मैं गुजरात की जनता को उनके न्यायपूर्ण मतदान के लिए बधाई देती हूँ, यह बीजेपी की अस्थायी और चेहरा बचाने वाली जीत है लेकिन बीजेपी की मोरल डिफीट भी है, गुजरात की जनता ने अन्याय, जुल्म, घबराहट के खिलाफ वोट दिया है.

ममता बनर्जी ने यह भी कहा कि गुजरात ने 2019 का रास्ता दिखा दिया है, उनके कहने का मतलब है कि 2019 में मोदी क्लीनबोल्ड होंगे.

Dec 8, 2017

राजस्थान में मारे गए लव जिहादी अफराजुल के परिवार को ममता बनर्जी देंगी 3 लाख रुपये की मदद

राजस्थान में मारे गए लव जिहादी अफराजुल के परिवार को ममता बनर्जी देंगी 3 लाख रुपये की मदद

mamata-banerjee-will-give-killed-love-jihadi-afrajul-rs-3-lakh-help

कोलकाता: राजस्थान में लव जिहादी अफराजुल की जघन्य हत्या देखकर हर कोई बिचलित हो गया है, यह लव जिहादी पश्चिम बंगाल के मालदा जिले का रहने वाला था जिसनें अपने ही दोस्त की गर्लफ्रेंड को प्यार के जाल में फंसा लिया. बाद में उसके ही दोस्त शम्भू दयाल ने उसे ख़त्म कर दिया.

पश्चिम बंगाल का होने के कारण मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अफराजुल के परिवार को तीन लाख रुपए और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देगी। उन्होंने कहा कि अफराजुल हमारे राज्य का एक श्रमिक था जिसकी राजस्थान में निर्मम हत्या कर दी गई है। राजस्थान के राजसमंद जिले में एक व्यक्ति ने अफराजुल पर कुल्हाड़ी से वार किया तथा उसे जिंदा जला दिया था।

ममता ने एक बयान में कहा कि दुखी परिवार को हमारी सरकार ने शुरुआती सहायता के तौर पर तीन लाख रुपए के अलावा पीड़ित परिवार के किसी योग्य व्यक्ति को नौकरी देने का फैसला किया है।

उन्होंने कहा कि मजदूर का परिवार पूरी तरह से बेबस है। सरकार की ओर अन्य सहायता भी मुहैया कराई जाएगी। ममता ने कहा, मैं मंत्रियों और सांसदों के हमारे दल को परिवार से मिलने के लिए भेज रही हूं। राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि राज्य के शहरी विकास और नगर निकाय कार्य मंत्री फिरहाद हकीम और परिवहन मंत्री सुवेंदु अधिकारी शनिवार को मालदा जिले में अफराजुल के घर जाएंगे।

Nov 28, 2017

बंगाल में कूड़े के ढेर में मिले हजारों वोटर आईडी कार्ड

बंगाल में कूड़े के ढेर में मिले हजारों वोटर आईडी कार्ड

more-than-hundreds-voter-id-card-found-in-dustbin-hooghly-uttarpara

बंगाल से हैरान करने वाली खबर आयी है, हजारों मतदाता पहचान पत्र कूड़े के ढेर में पाया गए हैं, आज एक सफाई कर्मी कूड़े के ढेर में से कूड़ा निकाल रहा था, एक थैले में हजारों पहचान पत्र दिखाई दिए, उसनें फ़ौरन उन्हें निकालकर पुलिस को सूचना दी.

यह घटना हूगली के उत्तरपारा की है, आज सुबह स्वीपर ने कूड़ेदान से वोटर आईडी कार्ड निकाल लिए, कहा जा रहा है कि इन्हें फर्जी वोटिंग के लिए इस्तेमाल किया जाता रहा होगा.

इस घटना ने पूरे राज्य को हिलाकर रख दिया है क्योंकि अगर सच में इनके जरिये फर्जी वोटिंग कराई जाती रही होगी तो इसका मतलब है कि बंगाल में वोट से नहीं फर्जी वोटों से सरकार बन रही है.

Nov 24, 2017

टीम-भंसाली के लिए खुशखबरी, ममता बनर्जी बोलीं, बंगाल में लगाओ पद्मावती, देखती हूँ कौन रोकता है

टीम-भंसाली के लिए खुशखबरी, ममता बनर्जी बोलीं, बंगाल में लगाओ पद्मावती, देखती हूँ कौन रोकता है

mamata-banerjee-give-green-signal-to-padmavati-in-west-bengal

नई दिल्ली: संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म पद्मावती का देश के लगभग सभी राज्यों में विरोध हो रहा है, राजपूत समाज सड़कों पर है, फिल्म के निर्माता और कलाकारों के पुतले जलाए जा रहे हैं, तरह तरह के फतवे जारी हो रहे हैं लेकिन बंगाल से टीम भंसाली के लिए खुशखबरी आयी है क्योंकि बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि कोई राज्य इजाजत दे या ना दें लेकिन बंगाल में पद्मावती रिलीज होगी, देखते हैं कि बंगाल में पद्मावती की रिलीज को कौन रोकता है.

आज ममता बनर्जी ने एक न्यूज़ चैनल पर बात करते हुए कहा कि अगर भंसाली की फिल्म को प्रदर्शन की इजाजत नहीं मिल रही है तो कोई बात नहीं, वह बंगाल आयें, यहाँ पर उनका स्वागत है, बंगाल में वह फिल्म को रिलीज कर सकते हैं, फिल्म का प्रीमियर भी रख सकते हैं.

आपको बता दें कि बंगाल में ममता बनर्जी पाकिस्तानी कलाकारों का भी स्वागत करती रही हैं, जब भी किसी फिल्म का विरोध होता है या पाकिस्तानी कलाकारों के प्रोग्राम का विरोध होता है तो ममता बनर्जी उसे अपने यहाँ बुलाती हैं. अब पद्मावती फिल्म को भी वह बंगाल में रिलीज करवाना चाहती हैं, उन्हें पता है कि बंगाल में हिन्दुत्ववादी ताकतों को पुलिस हमेशा कुचलने का काम करती रहती है, जब लोग यहाँ पर फिल्म का विरोध करने उतरेंगे तो ममता की पुलिस को हिन्दुत्ववादी ताकतों को कुचलने का मौका मिलेगा.

Nov 21, 2017

कलकत्ता एसटीएफ की बड़ी कामयाबी, खतरनाक आतंकी संगठन अंसार-बांग्ला के तीन आतंकवादियों को दबोचा

कलकत्ता एसटीएफ की बड़ी कामयाबी, खतरनाक आतंकी संगठन अंसार-बांग्ला के तीन आतंकवादियों को दबोचा

three-terrorists-from-ansar-bangla-team-arrested-by-kolkata-stf

कोलकाता: विशेष टास्क फोर्स (एसटीएफ) को बड़ी कामयाबी मिली है, मंगलवार को कोलकाता रेलवे स्टेशन से तीन संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया है। एसटीएफ का कहना है कि उनके पास से कुछ संदेहास्पद दस्तावेजों को भी बरामद किया गया है।

आतंकवादियों की पहचान मोंटॉश डे (46) और दो बांग्लादेशी नागरिक- संधाद मिया (26) और रिजौल इस्लाम (25) के रूप में की गई है। वे सभी आतंकी बांग्लादेश में एक प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन के सदस्य बताये जा रहे हैं.

कोलकाता एसटीएफ के डिप्टी कमिश्नर मुरलीधर शर्मा ने मीडिया से कहा, ये सभी आतंकी आतंकवादी संगठन अंसार बांग्ला टीम के सदस्य हैं जो बहुत सारे बांग्लादेशी ब्लॉगर्स की हत्या में शामिल हैं।

शर्मा ने कहा कि गिरफ्तार आतंकवादी पिछले डेढ़ साल से भारत में गैरकानूनी तरीके से रह रहे थे और इंटेलिजेंस ब्यूरो द्वारा दिए गए इनपुट के आधार पर उन्हें गिरफ्तार किया गया है.

Nov 19, 2017

टोपी वालों को खुश करने के बजाय हिन्दुओं को खुश करेंगी ममता बनर्जी, सबको मुफ्त में बांटेंगी गाय

टोपी वालों को खुश करने के बजाय हिन्दुओं को खुश करेंगी ममता बनर्जी, सबको मुफ्त में बांटेंगी गाय

mamata-banerjee-to-distributes-cow-in-bengal-before-local-election

पहले नेता लोग सिर्फ टोपी वालों को खुश करने की नीति पर चलते थे लेकिन अब देश के अलग अलग राज्यों में चुनाव जीतने के लिए कई नेता हिन्दुओं को खुश करने में लगे हुए हैं. उन्हें समझ में आ गया हैं यदि हिन्दुओं को नाराज कर दिया तो कोई भी चुनाव जीता नहीं जा सकता हैं. अब राहुल गाँधी भी मन्दिर जाने लगे हैं, टीका लगाने लगे हैं, गीता पढने लगे हैं, और रैलियों में गीता के उपदेश भी देने लगे हैं.

पच्छिम बंगाल में जल्द ही पंचायत चुनाव होने वाले हैं ममता बनर्जी भी राहुल गाँधी की तरह हिन्दुओ को खुश करने के लिए एक स्कीम लेकर आयी हैं. ममता बनर्जी सरकार ने पंचायत चुनाव से पहले गाँव में मुफ्त गाय बाँटने का ऐलान किया हैं. उन्होंने कहा हम गाँव में घर-घर जाकर मुफ्त गाय वितरण करेंगे, ताकि दुग्ध उत्पादन में भी बढ़ोतरी हो और गाँव के लोगो को रोजगार मिल सके.

बीजेपी ने मुफ्त में गाय बांटने का विरोध किया हैं. प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने पीटीआई से बात करते हुए कहा, पच्छिम बंगाल में विकास की राजनीति पर बात नही हो रही हैं राज्य सरकार खैरात की राजनीति पर जोर दे रही हैं वे पहले साइकिल और जूते दे चुके हैं और अब गाँव में मुफ़्त गाय देने जा रहे हैं।

दिलीप घोष ने आगे कहा कि अगर ममता बनर्जी सरकार गाय की सुरक्षा को लेकर संजीदा होती तो गायों की तस्करी को रोकने के लिए कदम उठाती. पच्छिम बंगाल में सबसे अधिक गायों की तस्करी होती हैं.

Nov 11, 2017

इसलिए हर पार्टियों से अलग है BJP, रैलियों में नहीं फैलाते गन्दगी, खुद करके जाते हैं साफ़-सफाई

इसलिए हर पार्टियों से अलग है BJP, रैलियों में नहीं फैलाते गन्दगी, खुद करके जाते हैं साफ़-सफाई

bjp-workers-cleaning-after-rally-at-esplanade-kolkata-hindi-news

बीजेपी हमेशा दावे करती है कि वह अन्य पार्टियों से अलग है. बीजेपी में मजबूत लोकतंत्र है जबकि अन्य पार्टियों में कोई लोकतंत्र नहीं है. यही नहीं जब से बीजेपी ने देश में स्वच्छता अभियान शुरू किया है अन्य पार्टियाँ बीजेपी का मजाक उडाती रहती हैं लेकिन बीजेपी नेता और कार्यकर्ता समय समय पर साबित भी करते हैं कि वे वाकई में स्वच्छता में प्रति गंभीर हैं. 

दो दिनों पहले कलकत्ता के एस्प्लांडे में भारतीय जनता पार्टी की एक बड़ी रैली हुई जिसमें TMC से BJP में आये मुकुल रॉय भी शामिल हुए. इस रैली में बड़ी संख्या में बीजेपी कार्यकर्ता एकत्रित हुए. बीजेपी के कई बड़े नेता भी इस रैली में आये और एक होकर ममता बनर्जी की सरकार को उखाड़ने की कसम खायी.

जब यह रैली समाप्त हुई तो काफी कूड़ा इकठ्ठा हो गया, अक्सर देखने में आता है कि रैली समाप्त होने के बाद लोग अपने अपने घरों को भागते हैं लेकिन बीजेपी कार्यकर्ताओं ने पहले रैली स्थल की गन्दगी साफ़ की. झाडू लेकर कूड़ा साफ़ किया, अपने हाथों से कूड़ा उठाया. इस काम में एक दो नहीं बल्कि दर्जनों लोग लग गए. देखते ही देखते रैली स्थल साफ़ सुथरा हो गया. बीजेपी ने साबित कर दिया कि वह औरों से अलग है.

Oct 11, 2017

BJP में शामिल होने वाले हैं मुकुल रॉय, राज्य सभा से इस्तीफ़ा देकर ममता बनर्जी को दिया झटका

BJP में शामिल होने वाले हैं मुकुल रॉय, राज्य सभा से इस्तीफ़ा देकर ममता बनर्जी को दिया झटका

mukul-roy-resign-from-tmc-and-rajya-sabha-member-may-join-bjp

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के दायें हाथ कहे जाने वाले TMC नेता और राज्य सभा सांसद मुकुल रॉय ने ममता बनर्जी को तगड़ा झटका दिया है. आज उन्होंने राज्य सभा की सदस्यता से इस्तीफ़ा देकर TMC के अन्दर हलचल मचा दी है, उन्होंने TMC के सभी पदों से भी इस्तीफ़ा दे दिया है.

पार्टी से इस्तीफ़ा देने के बाद मुकुल रॉय ने छुट्टी पर जाने का फैसला किया है, उन्होंने कहा कि मैं कुछ दिन छुट्टी पर रहकर भविष्य का फैसला करूँगा.

मुकुल रॉय ने भले ही अपने भविष्य के कदम की जानकारी नहीं दी है लेकिन TMC ने उनके बारे में खुलासा कर दिया है. TMC के महासचिव पर्थ चटर्जी ने प्रेस को जानकारी देते हुए कहा कि दरअसल BJP ने मुकुल रॉय के पीछे CBI छोड़ रखी है, उनके पास इस वक्त सिर्फ BJP में जाने के और कोई रास्ता नहीं है इसलिए उन्होने TMC ने इस्तीफ़ा देकर BJP में जानें का फैसला किया है.

मुकुल रॉय के बारे में कहा जा रहा है कि उन्हें करीब 50-60 विधायकों का समर्थन हासिल है, उनके साथ मिलकर या तो वे अलग पार्टी बनायेंगे, या BJP में शामिल होकर ममता बनर्जी को बंगाल से साफ़ करने के मिशन में जुट जाएंगे.

Sep 22, 2017

आज बहुत खुश हैं रूपा गांगुली, ममता बनर्जी को तुस्टीकरण के लिए जमकर लगी फटकार

आज बहुत खुश हैं रूपा गांगुली, ममता बनर्जी को तुस्टीकरण के लिए जमकर लगी फटकार

rupa-ganguli-happy-after-mamata-banerjee-slammed-by-high-court

आज कलकत्ता हाई कोर्ट ने तुस्टीकरण की राजनीति करने वाली ममता बनर्जी को जमकर फटकार लगा दी. कोर्ट ने कहा कि आप मुहर्रम पर दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन पर रोक कैसे लगा सकती हैं, क्या बंगाल में हिन्दू मुस्लिम एक साथ नहीं रहना चाहते, क्या उनके बीच इतना अंतर है कि एक साथ त्यौहार नहीं मना सकते. कोर्ट ने कहा कि एक तरफ तो आप कहती हो कि बंगाल में हार्मोनी है, लोग मिल जुलकर रहते हैं तो आप हिन्दुओं और मुस्लिमों के बीच लाइन क्यों खींच रही हैं, उन्हें एक साथ त्यौहार मनाने दीजिये.

ममता बनर्जी को फटकार लगने के बाद बीजेपी नेता रूपा गांगुली बहुत खुश हैं क्योंकि TMC के लोगों ने उनपर कई बार जानलेवा हमला किया है. उन्हें बार बार धमकी मिलती रहती है. बंगाल में उनका भी बाहर निकलना मुश्किल है.

आज रूपा गांगुली ने ममता बनर्जी पर बंटवारे और तुस्टीकरण की राजनीति का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि हमने देखा है की 2011 में मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्हें बांटने की राजनीति में लिप्त हो गयी थीं, वे सिर्फ वोट बैंक को देखकर काम कर रही हैं, कुछ समुदायों की तुस्टीकरण की राजनीति कर रही हैं. उन्होंने यह भी कहा कि दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन पर प्रतिबन्ध लगाकर भी उन्होने मुस्लिम वोट बैंक को खुश करने की कोशिश की थी लेकिन कोर्ट ने उनका आदेश रद्द कर दिया.

Sep 21, 2017

हाई कोर्ट के फैसले पर बोले तजिंदर बग्गा, आज हिन्दुओं की जीत हुई है और बेगम ममता की बड़ी हार

हाई कोर्ट के फैसले पर बोले तजिंदर बग्गा, आज हिन्दुओं की जीत हुई है और बेगम ममता की बड़ी हार

tajinder-bagga-said-hindu-win-today-big-defeat-of-begam-mamata

पश्चिम बंगाल में दुर्गा माँ की मूर्ति विसर्जन पर ममता सरकार की लगायी रोक को आज कलकत्ता हाई कोर्ट ने हटा दिया है. अपने आदेश में कलकत्ता हाई कोर्ट ने ममता बनर्जी सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि जब तुम सामाजिक समरसता की बात करती हो तो मुहर्रम पर माँ दुर्गा की मूर्ति के विसर्जन पर बैन कैसे लगा सकती हो, आप हिन्दू मुस्लिम के बीच में लाइन खींच रही हो, आप दुर्गा माँ की प्रतिमा पर प्रतिबन्ध हटाइए.

हाई कोर्ट का आदेश आने के बाद ममता सरकार के खिलाफ अभियान शुरू करने वाले बीजेपी नेता तजिंदर बग्गा ने कहा कि आज हिन्दुओं की जीत हुई है जबकि बेगम ममता की बड़ी हार हुई है.

begam-mamata-big-defeat-says-tajinder-badda


आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले ममता बनर्जी ने ऐलान किया था कि दशहरा के दिन सिर्फ शाम 6 बजे तक माँ दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा क्योंकि अगले दिन मुहर्रम का त्यौहार है इसलिए मूर्ति विसर्जन मुहर्रम के अगले दिन शुरू किया जाएगा, ममता बनर्जी के इस आदेश का हिन्दू संगठनों ने विरोध किया और हाई कोर्ट में अर्जी दी, बीजेपी नेता तजिंदर बग्गा ने भी ममता बनर्जी के खिलाफ मैदान में उतरते हुए कहा था कि वे 1 अक्टूबर को मुहर्रम के दिन माँ दुर्गा की मूर्ति का विसर्जन जरूर करेंगे, देखते हैं उन्हें कौन सी सरकार रोकती है.

आज कलकत्ता हाई कोर्ट ने बंगाल सरकार को आदेश दिया है कि मुहर्रम के दिन भी 12 बजे तक प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा. पुलिस को आदेश दिया गया है कि वह दुर्गा की प्रतिमा और ताजिया के लिए अलग अलग रास्ता तय करे ताकि दोनों का आपस में क्लैश ना हो.

कोर्ट ने ममता सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि आपको हिन्दू और मुस्लिम के बीच अंतर करना नहीं बल्कि उन्हें आपस में मिलकर रहना सिखाना चाहिए, उनके बीच में लाइन मत खींचिए, एक तरफ तो तुम कहते हो कि यहाँ पर सामाजिक सद्भाव है और दूसरी तरफ उनके बीच में लाइन भी खींच रहे हो.

आज ममता बनर्जी हाई कोर्ट पर ही बरस पड़ीं. उन्होंने कहा कि मैं किसी की बात नहीं मानूंगी, मेरे काम में कोई दखल नहीं दे सकता, राईट विंग के लोगों को चेतावनी देती हूँ कि आग से खेलने की कोशिश मत करो.
मूर्ति विसर्जन मामले पर हाई कोर्ट से बोलीं ममता बनर्जी, मेरा गला काट दो, काम में दखल मत दो

मूर्ति विसर्जन मामले पर हाई कोर्ट से बोलीं ममता बनर्जी, मेरा गला काट दो, काम में दखल मत दो

mamata-banerjee-says-hc-slit-my-throat-but-not-interfare-my-work

कलकत्ता हाई कोर्ट ने ममता बनर्जी को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा है कि जब तुम सामाजिक समरसता की बात करती हो तो मुहर्रम पर माँ दुर्गा की मूर्ति के विसर्जन पर बैन कैसे लगा सकती हो, आप हिन्दू मुस्लिम के बीच में लाइन खींच रही हो, आप दुर्गा माँ की प्रतिमा पर प्रतिबन्ध हटाइए.

आज ममता बनर्जी कलकत्ता हाई कोर्ट पर ही बरस पड़ीं। उन्होंने कहा कि मुझे मेरे काम से कोई नहीं रोक सकता, कोई मेरा गला काट सकता है लेकिन मेरे काम में कोई भी दखल नहीं दे सकता, मैं वही करूँगी जो राज्य में शांति बनाए रखने के लिए जरूरी होगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले ममता बनर्जी ने ऐलान किया था कि दशहरा के दिन सिर्फ शाम 6 बजे तक माँ दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा क्योंकि अगले दिन मुहर्रम का त्यौहार है इसलिए मूर्ति विसर्जन मुहर्रम के अगले दिन शुरू किया जाएगा, ममता बनर्जी के इस आदेश का हिन्दू संगठनों ने विरोध किया और हाई कोर्ट में अर्जी दी, आज कलकत्ता हाई कोर्ट ने बंगाल सरकार को आदेश दिया है कि मुहर्रम के दिन भी 12 बजे तक प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा. पुलिस को आदेश दिया गया है कि वह दुर्गा की प्रतिमा और ताजिया के लिए अलग अलग रास्ता तय करे ताकि दोनों का आपस में क्लैश ना हो.

कोर्ट ने ममता सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि आपको हिन्दू और मुस्लिम के बीच अंतर करना नहीं बल्कि उन्हें आपस में मिलकर रहना सिखाना चाहिए, उनके बीच में लाइन मत खींचिए, एक तरफ तो तुम कहते हो कि यहाँ पर सामाजिक सद्भाव है और दूसरी तरफ उनके बीच में लाइन भी खींच रहे हो.

आज ममता बनर्जी हाई कोर्ट पर ही बरस पड़ीं. उन्होंने कहा कि मैं किसी की बात नहीं मानूंगी, मेरे काम में कोई दखल नहीं दे सकता, राईट विंग के लोगों को चेतावनी देती हूँ कि आग से खेलने की कोशिश मत करो.

Sep 18, 2017

हमें रोहिंग्या मुस्लिमों की बहुत फिक्र है, हम भारत सरकार की नहीं, UN की बात मानेंगे: दीदी

हमें रोहिंग्या मुस्लिमों की बहुत फिक्र है, हम भारत सरकार की नहीं, UN की बात मानेंगे: दीदी

mamata-banerjee-support-rohingya-muslims-are-not-terrorists

ममता बनर्जी रोहिंग्या मुस्लिमों के खुलकर समर्थन में आ गयी हैं. उन्होंने कहा कि हम मानते हैं कि सभी रोहिंग्या मुस्लिम आतंकवादी नहीं हैं, अगर कोई आतंकवादी है तो हम उसके साथ सख्ती से निपटेंगे, उनके खिलाफ एक्शन लेंगे लेकिन हम रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने के समर्थन में हैं. हम इनकी पूरी मदद करेंगे और यूनाइटेड नेशन के आदेश का पालन करेंगे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रोहिंग्या मुसलमानों को शरण देने के मामले में आज केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट सबमिट किया था जिसमें कहा था कि रोहिंग्या मुसलमान भारत के लिए खतरा बन सकते हैं क्योंकि इनके कई आतंकवादी संगठनों से सम्बन्ध रहे हैं, अभी भी आतंकवादी इन्हें इस्तेमाल करके इन्हें आतंकवादी गतिविधियों में शामिल कर सकते हैं, इससे आम भारतीयों का फंडामेंटल राईट खतरे में पड़ जाएगा. हमारी नजर में ये भारत की शांति और सुरक्षा के लिए खतरा हैं इसलिए हमें इन्हें शरण देने पर विचार नहीं करना चाहिए.

केंद्र सरकार के एफिडेविट का विरोध करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि हम इस मामले में भारत सरकार का बात नहीं बल्कि UN की अपील को मानेंगे, हम रोहिंग्या की मदद करेंगे, हम विश्वास करते हैं कि सभी शरणार्थी आतंकी नहीं हैं, हमें उनकी बहुत चिंता है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि करीब 3,80,000 रोहिंग्या मुसलमानों को म्यांमार से भगा दिया गया है, इन लोगों ने वहां के लोगों की हत्या करनी शुरू कर दी थी, वहां की आर्मी पर हमला कर दिया था, खतरे को महसूस करके म्यांमार सरकार ने सेना को आदेश दिया और रोहिंग्या मुसलामानों को भगा दिया गया, ये लोग म्यांमार में अलग इस्लामिक स्टेट  (Rakhine State) की मांग कर रहे थे वहां रह रहे हिन्दुओं और बौद्धों को ख़त्म करना शुरू कर दिया था इसी वजह से इन्हें भगा दिया गया.

म्यांमार से भगाए जाने के बाद 3,80,000 से भी अधिक मुस्लिम बांग्लादेश बॉर्डर पर जमें हुए हैं, करीब 40 हजार रोहिंग्या मुस्लिम भारत में घुस चुके हैं और शरणार्थी शिविरों में रह रहे हैं. इनमें से अधिकतर गैर कानूनी तरीके से जम्मू, हैदराबाद, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली में रह रहे हैं. 

भारत के कट्टरपंथी नेता चाहते हैं कि 3,80,000 रोहिंग्या मुस्लिमों को भारत में बसा दिया जाए ताकि उनका वोटबैंक मजबूत हो जाए, ममता बनर्जी भी यही चाहती हैं क्योंकि बंगाल में भी उन्होने बंगलादेशी घुसपैठियों को बसाकर उसका इस्लामीकरण कर दिया और अब बंगाल भी इस्लामिक स्टेट बनता जा रहा है. अब ममता चाहती हैं कि रोहिंग्या भी बंगाल में बस जाएं ताकि उनका वोटबैंक मजबूत हो जाए इसलिए वे भारत सरकार के विरोध में उतर आयी हैं.

Sep 16, 2017

तजिंदर बग्गा बोले, आज हिन्दुओं की जीत हुई है और एंटी-हिन्दू ममता बनर्जी की हार हुई है

तजिंदर बग्गा बोले, आज हिन्दुओं की जीत हुई है और एंटी-हिन्दू ममता बनर्जी की हार हुई है

tajinder-bagga-dare-mamata-banerjee-to-murti-visarjan-vijay-dhashmi

दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तजिंदर बग्गा ने पिछले महीनें ममता बनर्जी को चुनौती देते हुए कहा था कि बंगाल सरकार में हिम्मत नहीं है कि मुझे विजय दशमी के दिन माँ दुर्गा की मूर्ति का विसर्जन करने से रोक सके. आज तजिंदर बग्गा की बात सच साबित हो गयी क्योंकि कोर्ट के आदेश के बाद ममता बनर्जी ने विजय दशमी के दिन मूर्ति विसर्जन का समय बढ़ा दिया. पहले उन्होंने विजय दशमी के दिन सिर्फ 6 बजे शाम तक मूर्ति विसर्जन का समय निर्धारित किया था, लेकिन आज उन्होंने समय बढ़ाते हुए कहा कि अब विजय दशमी के दिन रात 10 बजे तक मूर्ति का विसर्जन किया जा सकेगा क्योंकि उसके बाद मुहर्रम है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तजिंदर बग्गा इस साल विजय दशमी बंगाल में मनाने वाले हैं और वहां पर वे मूर्ति का विसर्जन भी करेंगे, पहले ममता बनर्जी ने सिर्फ 6 बजे तक मूर्ति विसर्जन का फरमान सुनाया था, यह फरमान सुनकर बग्गा ने कहा था कि मैं ममता बनर्जी का आदेश नहीं मानूंगा और विजय दशमी के दिन दुर्गा माँ की मूर्ति का विसर्जन करूँगा, ममता बनर्जी में हिम्मत है तो मुझे रोककर दिखाएं. अब शायद ममता बनर्जी को उन्हें रोकना नहीं पड़ेगा क्योंकि कोर्ट ने उन्हें ऐसी फटकार लगाई कि उन्हें अपना फरमान बदलना ही पड़ा.

कोर्ट में ममता बनर्जी को लगी फटकार के बाद तजिंदर बग्गा ने ट्विटर पर कहा, आज हिन्दुओं की जीत हुई है जबकि एंटी हिंदू ममता बनर्जी की हार हुई है.

Sep 15, 2017

हाई कोर्ट ने फिर चलाया ममता सरकार पर डंडा तो बढ़ा दिया मूर्ति विसर्जन का समय

हाई कोर्ट ने फिर चलाया ममता सरकार पर डंडा तो बढ़ा दिया मूर्ति विसर्जन का समय

mamata-banerjee-extend-murti-visarjan-time-after-high-court-interfare

ममता बनर्जी सरकार पर एक बार फिर से कलकत्ता हाई कोर्ट का डंडा चला है, इसी डंडे की वजह से ममता बनर्जी को मजबूर होकर दशहरा के दिन मूर्ति विसर्जन का समय बदलना पड़ा, ममता सरकार के नए आदेश के अनुसार अब दशमी के दिन रात 10 बजे तक मूर्ति विसर्जन किया जा सकेगा, हालाँकि उसके दूसरे दिन मुहर्रम होने के कारण हिन्दू लोग मूर्ति विसर्जन नहीं कर सकेंगे.

आज मामले की सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने ममता सरकार से पूछा, जब मुंबई में गणेश विसर्जन और मुहर्रम एक साथ हो सकता है तो कलकत्ता में एक साथ क्यों नहीं हो सकता, हाई कोर्ट के इस सवाल का ममता बनर्जी सरकार के पास कोई जवाब नहीं था लिहाजा मूर्ति विसर्जन का समय बढ़ा दिया गया.

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ममता बनर्जी ने एक आदेश दिया था जिसमें कहा गया था कि दशमी के दिन 31 सितम्बर को हिन्दू समाज के लोग सिर्फ शाम 6 बजे तक मूर्ति विसर्जन करें, उसके दूसरे दिन यानी 1 अक्टूबर को मुहर्रम है इसलिए अगर हिन्दू मूर्ति विसर्जन करेंगे तो मुस्लिम बुरा मान जाएंगे इसलिए हिन्दुओं से कहा गया कि आप लोग मुहर्रम के बीतने का इन्तजार करो और मुहर्रम के बीतने के बाद 2 तारीख को मूर्ति विसर्जन करो.

बंगाल सरकार के इस आदेश के खिलाफ यूथ बार एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया कार्यालय के पदाधिकारी सनप्रित सिंह अजमानी, कुलदीप राय और रिकी राय की और से हाई कोर्ट में याचिका डाली गयी जिसकी आज हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. हाई कोर्ट ने बंगाल सरकार को जमकर फटकार लगाई जिसके बाद ममता बनर्जी की सरकार ने कहा कि हम रात 10 बजे तक मुहर्रम का समय बढ़ाते हैं, बंगाल सरकार के इस आदेश से भी हाई कोर्ट सहमत नहीं हुई, अब इस मामले की अगली सुनवाई 18 सितम्बर को होगी.

Sep 14, 2017

अमित शाह ने ह्यूमन राईट वालों को जमकर फटकारा, बंगाल की हिंसा तुम्हें क्यों नहीं दिखाई देती

अमित शाह ने ह्यूमन राईट वालों को जमकर फटकारा, बंगाल की हिंसा तुम्हें क्यों नहीं दिखाई देती

amit-shah-said-why-human-right-people-not-seeing-bengal-violence

अमित शाह ने बंगाल में हिंसा की अनदेखी करने पर ह्यूमन राईट कमीशन को जमकर फटकार लगाई है. उन्होंने कहा कि भारत के अन्य राज्यों में छोटी सी भी घटना हो जाती है तो ह्यूमन राईट वाले उसकी रिपोर्टिंग करते हैं लेकिन बंगाल में हिंसा पर वे ऑंखें बंद करके बैठे रहते हैं. मेरा उनसे निवेदन है कि वे एक बार कलकत्ता के वशीरघाट और वीरभूमि में जो राजनीतिक हिंसा हो रही है इसको भी रिपोर्टिंग करें. क्या ये ह्यूमन राईट का उल्लंघन नहीं है. एक राजनीतिक पार्टी से जुड़ने के कारण किसी के पति की हत्या हो जाए, किसी के भाई की हत्या हो जाए, किसी के पिता की हत्या हो जाए, क्या यह ह्यूमन राईट का हनन नहीं है.

अमित शाह ने कहा कि मैं यह मानता हूँ कि ह्यूमन राईट के चैम्पियन तक मेरी बात जरूर पहुंचेगी और वे दिल्ली के गलियारों से निकलकर बंगाल में आयेंगे और बंगाल के सूदूर विस्तार में आकर यहाँ हो रही हिंसा को देश और दुनिया के सामने रखेंगे.

अमित शाह इस वक्त पश्चिम बंगाल के दौरे पर हैं. 12 सितम्बर को उन्होंने राजनीतिक हत्या के शिकार परिवार वालों से मिलकर उनका दुःख सुना. उन्होंने बाद में मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले 6 महीनें में यहाँ पर जो भी राजनीतिक हिंसा हुई है इसके सारे पीड़ितों से हमने मुलाकात की.

उन्होंने कहा कि पहले भी मुझे बहुत सारे कार्यकर्ताओं के माध्यम से पश्चिम बंगाल में जो राजनीतिक हिंसा होती थी उसकी रिपोर्ट मिलती थी, इसकी गंभीरता भी समझ में आती थी लेकिन आज जब इन पीड़ितों से मिलना हुआ तो मुझे लगता है कि शायद ही दुनिया में किसी जगह पर इससे ज्यादा पॉलिटिकल हिंसा होती होगी. राजनीतिक हिंसा के मामले में बंगाल नंबर के पर है.

अमित शाह ने कहा कि यहाँ पर बहुत सारे लोगों को जान से मार दिया गया, किसी का हाथ तोड़ दिया, किसी का पैर तोड़ दिया गया, घर जला दिया, दुकान जला दिया. यह सिर्फ इसलिए क्योंकि हमारी राजनीतिक विचारधारा से वो सहमत नहीं हैं.

अमित शाह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्त्ता इस राजनीतिक हिंसा का मजबूती से मुकाबला करेंगे, हम हमारा काम चालू रखेंगे और भारतीय जनता पार्टी को बंगाल में बढ़ने से कोई रोक नहीं सकता. बीजेपी के जिन कार्यकर्ताओं को राजनीतिक हिंसा का शिकार होना पड़ा है उसे बीजेपी स्वयं ही संभाल लेगी क्योंकि TMC सरकार हिंसा के बाद मदद के मामले में भी भेदभाव कर रही है. मेरी मीडिया से भी अपील है कि आप दूर दराज के गाँवों में जाइए और इस हिंसा को रिपोर्ट कीजिये.
राजनीतिक हिंसा के मामले में बंगाल नंबर वन, ह्यूमन राईट वालों ने कर ली है ऑंखें बंद: अमित शाह

राजनीतिक हिंसा के मामले में बंगाल नंबर वन, ह्यूमन राईट वालों ने कर ली है ऑंखें बंद: अमित शाह

amit-shah-slammed-human-right-for-not-reporting-west-bengal-violence

अमित शाह इस वक्त पश्चिम बंगाल के दौरे पर हैं. 12 सितम्बर को उन्होंने राजनीतिक हत्या के शिकार परिवार वालों से मिलकर उनका दुःख सुना. उन्होंने बाद में मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले 6 महीनें में यहाँ पर जो भी राजनीतिक हिंसा हुई है इसके सारे पीड़ितों से हमने मुलाकात की.

उन्होंने कहा कि पहले भी मुझे बहुत सारे कार्यकर्ताओं के माध्यम से पश्चिम बंगाल में जो राजनीतिक हिंसा होती थी उसकी रिपोर्ट मिलती थी, इसकी गंभीरता भी समझ में आती थी लेकिन आज जब इन पीड़ितों से मिलना हुआ तो मुझे लगता है कि शायद ही दुनिया में किसी जगह पर इससे ज्यादा पॉलिटिकल हिंसा होती होगी. राजनीतिक हिंसा के मामले में बंगाल नंबर के पर है.

अमित शाह ने कहा कि यहाँ पर बहुत सारे लोगों को जान से मार दिया गया, किसी का हाथ तोड़ दिया, किसी का पैर तोड़ दिया गया, घर जला दिया, दुकान जला दिया. यह सिर्फ इसलिए क्योंकि हमारी राजनीतिक विचारधारा से वो सहमत नहीं हैं.

अमित शाह ने कहा कि मैं पूरे बंगाल से पूछना चाहता हूँ, क्या यह टैगोर का बंगाल है, क्या यह विवेकानंद का बंगाल है, हम बंगाल में किस तरह की संस्कृति को आगे बढ़ाना चाहते हैं. यहाँ पर कोई अपनी राजनीतिक विचारधारा नहीं रख सकेगा, उसको मार देंगे, 6 साल की बच्ची के पेट में गोली लगा देंगे. डॉक्टर गोली भी नहीं निकाल पा रहा है क्योंकि वह भी डरता है.

अमित शाह ने कहा कि इस प्रकार की राजनीतिक हिंसा से बंगाल के अन्दर विकास नहीं होगा. मैं मांग करता हूँ कि जो लोग हिंसा कर रहे हैं उनकी भी भलाई इसी में है कि राजनीतिक हिंसा को तत्काल समाप्त कर दें. TMC पार्टी के कार्यकर्ता जिस प्रकार से राजनीतिक विरोधियों पर हिंसा कर रहे हैं मैं उनको याद दिलाना चाहता हूँ कि कम्युनिस्टों के इसी प्रकार की हिंसा के सामने कभी आप भी लड़ाई लड़ते थे. इसी के खिलाफ आपको भी जनादेश मिला था, इसीलिए आपको पश्चिम बंगाल की जनता से सत्ता पर बिठाया था.

अमित शाह ने कहा कि आज जिस प्रकार से भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं पर अत्याचार हो रहे हैं. अगर कोई मानता है कि इससे भारतीय जनता पार्टी का विकास रुक जाएगा तो उनका मानना गलत है क्योंकि इससे भारतीय जनता पार्टी का विस्तार होगा. आप जितना भी दमन करोगे, जितना भी अत्याचार करोगे, भारतीय जनता पार्टी और आगे बढ़ेगी. मैं दुनिया भर के ह्यूमन राईट के चैम्पियन से भी निवेदन करता हूँ कि अगर कहीं पर कोई घटना हो जाती है तो वे घंटों तक उसके खिलाफ आवाज उठाते हैं, लेकिन वे एक बार कलकत्ता के वशीरघाट और वीरभूमि में जो राजनीतिक हिंसा हो रही है इसको भी रिपोर्ट करें. क्या ये ह्यूमन राईट का उल्लंघन नहीं है. एक राजनीतिक पार्टी से जुड़ने के कारण किसी के पति की हत्या हो जाए, किसी के भाई की हत्या हो जाए, किसी के पिता की हत्या हो जाए, क्या यह ह्यूमन राईट का हनन नहीं है.

अमित शाह ने कहा कि मैं यह मानता हूँ कि ह्यूमन राईट के चैम्पियन तक मेरी बात जरूर पहुंचेगी और वे दिल्ली के गलियारों से निकलकर बंगाल में आयेंगे और बंगाल के सूदूर विस्तार में आकर यहाँ हो रही हिंसा को देश और दुनिया के सामने रखेंगे.

अमित शाह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्त्ता इस राजनीतिक हिंसा का मजबूती से मुकाबला करेंगे, हम हमारा काम चालू रखेंगे और भारतीय जनता पार्टी को बंगाल में बढ़ने से कोई रोक नहीं सकता. बीजेपी के जिन कार्यकर्ताओं को राजनीतिक हिंसा का शिकार होना पड़ा है उसे बीजेपी स्वयं ही संभाल लेगी क्योंकि TMC सरकार हिंसा के बाद मदद के मामले में भी भेदभाव कर रही है. मेरी मीडिया से भी अपील है कि आप दूर दराज के गाँवों में जाइए और इस हिंसा को रिपोर्ट कीजिये.

Sep 13, 2017

बंगाल में चिंताजनक हालात, पुजारी को उसकी बेटी के सामने ही निर्वस्त्र करके घुमाया, बहुत पीटा

बंगाल में चिंताजनक हालात, पुजारी को उसकी बेटी के सामने ही निर्वस्त्र करके घुमाया, बहुत पीटा

bengal-news-in-hindi-pujari-beaten-by-tmc-goons-in-kolkata

बंगाल में हालात बहुत चिंताजनक होते जा रहे हैं. एक समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है. ऐसी ही एक दर्दनाक और हैरान करने वाली खबर कलकत्ता से आयी है. एक पुजारी राजेंद्र पंडित को पूजा करने से रोक दिया गया और उनपर झूठे आरोप लगाकर उनकी बेटी के सामने ही उन्हें मारा पीटा गया. 

बताया जा रहा है कि राजेश पंडित को प्रताड़ित करने वाले TMC के समर्थक थे. राजेश पंडित की बेटी उनके सामने गिडगिड़ाती रही कि मेरे पिताजी को मत मारो, लेकिन गुंडे उसकी बात नहीं माने, उसका मोबाइल भी छीन लिया और उसके पिता को निर्वस्त्र करके पीटना शुरू कर दिया. गुंडों ने राजेश पंडित को निर्वस्त्र करके पूरी मार्केट में घुमाया. इस दौरान वे लोग उसे मारते पीटते भी रहे.

यहाँ पर सवाल यह है कि अगर राजेश पंडित ने कोई गुनाह किया था तो उन्हें पुलिस में देना चाहिए था, कानून हाथ में लेने की क्या जरूरत थी. दूसरा सवाल मीडिया से है, गौरक्षकों की गुंडागर्दी पर मीडिया बवाल मचा देता है लेकिन TMC के गुंडों की गुंडागर्दी पर वे चुप हैं. ये कैसा मीडिया है भारत का. किसी भी मीडिया ने इस खबर को नहीं दिखाया, सिर्फ हम बता रहे हैं.