Feb 4, 2018

करणी सेना पर खूब बरसीं काजल, हमें तो इन दोगले हिन्दुओं ने लूटा, मुगलों में कहाँ दम था, पढ़ें


kajal-hindustani-slammed-karni-sena-for-fake-protest-on-padmaavat

नई दिल्ली: अब तो पूरी दुनिया जान गयी है कि पद्मावत फिल्म को लेकर करणी सेना का विरोध फर्जी था और इसके पीछे दो कारण थे, एक तो भंसाली की कमाई करवाने के लिए फिल्म का प्रचार और दूसरा राजपूतों को बीजेपी के खिलाफ भड़काकर उप-चुनावों में कांग्रेस को जीत दिलाना, करणी सेना अपने मकसद में कामयाब रही और 2 तारीख को उनके नेताओं ने काम पूरा होने के बाद फिल्म को देखा और उसे बहुत अच्छी फिल्म बताकर आन्दोलन ख़त्म कर दिया, आपने देखा होगा कि करणी सेना का आन्दोलन 25 फ़रवरी को ही ख़त्म हो गया था, उसके बाद किसी ने चूं तक नहीं किया.

करणी सेना का असली चेहरा देखकर हिन्दू समाज के लोग ठगा हुआ सा महसूस कर रहे हैं, इनकी बातों में आकर हिन्दुओं ने भी इनका साथ दिया था लेकिन ये तो मिले हुए थे, ये तो अपना धंधा कर रहे थे, इनकी असलियत देखकर सोशल एक्टिविस्ट काजल हिन्दुस्तानी ने इन्हें जमकर फटकार लगाई है.

उन्होंने कहा कि जाति के इन ठेकेदारों ने बहुत ही शर्मनाक काम किया है, ये लोग कांग्रेस के मोहरे हैं, जैसे कांग्रेस ने गुजरात में तीन लफंगों - हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी को खड़ा कर दिया था, उसी तरह से राजस्थान में करणी सेना को खड़ा किया और अब 2019 तक कांग्रेस का यही खेल चलता रहेगा, कांग्रेस के पास करने को कुछ नहीं है इसलिए अलग अलग जाति के ऐसे ठेकेदारों को खड़ा करके हर जाति को एक दूसरे के खिलाफ खड़ा कर दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान या मुग़ल हमारे दुश्मन नहीं थे, हमारे दुश्मन तो दोगले हिन्दू थे, हमें तो इन दोगले हिन्दुओं ने लूटा, मुगलों में कहाँ दम था, हम इनकी वजह से हार गए, गुलाम बन गए. जयचंद और मानसिंह जैसे लोगों ने गद्दारी करके देश को गुलाम बना दिया और अब यही काम करणी सेना कर रही है.

उन्होंने कहा कि पृथ्वीराज का इतिहास हो, महाराणा प्रताप का इतिहास हो या राजा रत्न सिंह का इतिहास हो, या पद्मावत फिल्म की बात हो, जयचंद तब भी थे और जयचंद अब भी हैं, आज के जो जयचंद हैं वो गुजरात के तीन गद्दार हैं और उसके बाद करणी सेना के सभी नेता हैं. जो इन्हें अपने इशारे पर नचा रही है और हिन्दुस्तानी पर शासन करने का सपना देख रही है वो एंटोनियो माइनो (सोनिया गाँधी) है.
पोस्ट शेयर करें, कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट करें
loading...

1 comment:

  1. कहीं आंदोलनों को बदनाम कर राजनीति का रंग मटमैला तो नही किया जा रहा है अन्ना हार्दिक और अब करणी

    ReplyDelete