Feb 13, 2018

दिल्ली के मालिक की बेईमानी एक ईमानदार अधिकारी ने पकड़ ली: कपिल मिश्रा


delhi-ke-malik-ki-beimani-ek-imandari-adhikari-ne-pakad-li-kapil-mishra

नई दिल्ली: शुरू शुरू में केजरीवाल खुद को इमानदार बताकर लोगों को इमानदारी का प्रमाणपत्र बांटते रहते थे, खुद को सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र की औलाद बताते थे लेकिन अब उनकी इमानदारी की हवा निकल गयी है, अब उन्हें कोई भी इमानदार नहीं मानता, यहाँ तक कि दिल्ली सरकार में काम कर रहे अधिकारी भी उनके आदेश को प्रमाणित और सत्यापित होने के बाद ही मानते हैं, वरना मानने से इनकार कर देते हैं क्योंकि जिस प्रकार से आप के 20 विधायक अयोग्य घोषित कर दिए गए, कल को केजरीवाल के चक्कर में किसी अधकारी की भी नौकरी जा सकती है.

केजरीवाल एक विज्ञापन देना चाहते हैं लेकिन एक अधिकारी ने उनसे कहा कि आप विजिलेंस विभाग से लिखवाकर दीजिये तभी आदेश माना जाएगा. इसी चक्कर में केजरीवाल का विज्ञापन अटक गया है.

यह खबर ट्विटर पर वायरल हो गयी है, दिल्ली के विधायक और केजरीवाल के परम विरोधी कपिल मिश्रा ने इसको लेकर केजरीवाल का मजाक बनाया है, उन्होंने कहा कि दिल्ली के मालिक की बेईमानी एक इमानदार अधिकारी ने पकड़ ली है.
संतोष कुमार ने लिखा -  अपने यहां कहावत है. कि जब आप सच्चाई की राह पर होते हैं तो ब्रह्मांड की सारी दृश्य/अदृश्य शक्तियां मददगार होती हैं. इसको किसी नियम-कानून से प्रमाणित किया जा सकता है क्या? लेकिन दिल्ली सरकार के अधिकारी प्रमाण ढूढ़ रहे हैं. और इस चक्कर में मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का संदेश फंसा हुआ है.
सूरज सिंह ने लिखा - तो क्या मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का विज्ञापन ब्रह्मांड की इन्हीं दृश्य या अदृश्य शक्तियों की वजह से तो नहीं अटक गया?  
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें
loading...

0 comments: