Jan 7, 2018

पुलिस हो तो इटावा जैसी, पिता ने घुमाने से इनकार किया तो पुलिस ने खुद घुमाया मेला, पूरी की इक्षा


up-etawah-police-praised-for-taking-children-to-mela-numaish-news

उत्तर प्रदेश: पुलिस हो तो उत्तर प्रदेश की इटावा जैसी, दरोगा हों तो इटावा जैसे, सिपाही हों तो इटावा जैसे, यह खबर पढ़कर आप यही कहेंगे. सूचना के अनुसार कल इटावा जिले के एक थाने में एक बच्चा अपने पिता की शिकायत लेकर पंहुचा कि मेरे पिताजी मुझे नुमाइश (मेला) दिखाने नहीं ले जा रहे हैं, आप उन्हें समझाओ या थाने में लाकर कूट दो. बच्चा पूरे कांफिडेंस में लग रहा था.

इसके बाद पुलिस ने खुद निर्णय लिया कि वह बच्चे को नुमाइश में ले जाएंगे, उसके बाद पुलिस ने बच्चे और उनके सभी दोस्तों को इकठ्ठा किया और नुमाइश में ले गए, सभी बच्चों को झूला झुलाया और IceCream भी खिलाई. सोशल मीडिया पर आज इटावा पुलिस की जमकर तारीफ हो रही है. लोग कह रहे हैं कि पुलिस को तो यूपी जैसी, इटावा जैसी. यह घटना 31 दिसम्बर की है.

पढ़ें क्या है पूरा मामला 

आपकी जानकारी के लिए बता दें यूपी पुलिस ने एक वीडियो शेयर किया था जिसमें एक छोटा सा बच्चा ओमनारायण गुट अपने पिता की शिकायत कर रहा है, बच्चे ने कहा कि मेरे पिताजी मुझे नुमाइश दिखाने नहीं ले जा रहे हैं. उनका ध्यान घूमने पर अधिक लगता है, जब मम्मी उन्हें बोलती हैं तो वे घर में कलेश करते हैं जिसे देखकर मम्मी खिसियाती रहती हैं.

जब पुलिस ने कहा की पापा का क्या नाम है तो बच्चे ने बताया - अमरनाथ गप्ता. पुलिस ने पूछा - क्या दिक्कत है तो कहा कि पापा मुझे नुमाइश दिखाने नहीं ले जा रहे हैं, आज मैंने कहा तो उन्होंने मुझे मारा. बच्चे ने कहा कि मेरे दोस्त माधव, सलोनी, तनु नुमाइश घूमने जा रहे रहे रहे हैं, मुझे भी ले जाओ तो बोले नहीं ले जाऊँगा.

पुलिस वाले ने पूछा कि यहाँ किसलिए आये हो तो बच्चे ने कहा कि मेरे पिता ने कहा कि - जो करना है कर लो, नुमाइश दिखाने नहीं ले जाऊँगा तो मैं यहाँ पर शिकायत लेकर आ गया. आप अगर एक बार कह दो तो शायद ले जाएं और अगर उसके बाद भी ना मानें तो यहाँ लाकर उन्हें पीट दो.

पुलिस वाले ने पूछा कि क्या पापा आपको मारते हैं तो बच्चे ने कहा कि जब गुस्सा आता है तो मारते हैं. पुलिस वाले ने कहा कि शिकायत तो आप गुस्से में करने आये हैं तो बच्चे ने कहा कि गुस्से में मेरा पारा गरम हो गया है इसलिए मैं यहाँ आ गया.

पुलिस वाले ने कहा कि अगर आपके पिता को समझा दें तो मान जाओगे तो बच्चे ने कहा की समझा दो, और उनसे कह दो कि शनिवार और रविवार को दुकान बंद करके घर पर ही रहा करें, वे दोनों दिन शटर बंद करके घूमने निकल जाते हैं और घूम घूमते हैं. कहते हैं आ रहे हैं, आ रहे हैं लेकिन दो दो घंटे लगा देते हैं. मम्मी खिसियाती रहती हैं और कहती हैं कि तुम लोगों की वजह से मैं जी रही हूँ. देखें वीडियो.

नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें
loading...

0 comments: