Jan 28, 2018

कृषि मंत्री ओपी धनखड़ से बोले सरपंच, ऐसा ही रहा तो चुनावों में कोई दरी बिछाने वाला नहीं रहेगा


rewari-sarpanch-angry-with-krishi-mantri-op-dhankhad-haryana

रेवाड़ी, 27 जनवरी: गणतंत्र दिवस समारोह में रेवाड़ी पहुंचे कृषि एवं पंचायत मंत्री ओपी धनखड़ को उस समय सरपंचों की नाराजगी का सामना करना पड़ा जब वें सरपंचों की बैठक ले रहे थे। सरपंचों ने ओपी धनखड़ को आइना दिखाते हुए कहा कि अगर ऐसा ही रहा तो अगले विधनसभा चुनावों में गांव में दरी बिछाने के लिए भी कार्यकर्ता नशीब नहीं होगा। 

सरपंच इस बात से नाराज थे कि पंचायतों को बने दो वर्ष से ज्यादा का समय हो गया। लेकिन विकास के लिए ग्रांट इतनी मिली है कि ऊंट के मुंह में जीरा। सरपंचों ने उन्हें एक तरह से निरुत्तर कर दिया। वहीं कई सरपंचों ने मंत्री को भ्र्ष्टाचार मुक्त शासन देने के दावे पर तंज कसते हुए कहा कि यह मात्र दावा मात्र दावा ही है। चिह्ल्ड के सरपंच ने कहा कि अपने कार्यकाल में एक करोड़ से ज्यादा का दावा किया। दो साल बाद पूर्व सरपंच पर रिकवरी के आदेश हुए है लेकिन वो रिकवरी नहीं हुई। 

सरपंचों के तीखे सवालों से घिरता देख कृषि मंत्री ने कहा कि जो फंड उनके जरिये आता है वो पंचायतों को भेजा जा चुका है और जो केंद्र से आता है वो सीधे पंचायतों के खातों में चला जाता है। ऐसे में उन्हें नहीं पता की पंचायतों के पास कौन से पैसे पहुंचे है या नहीं। उन्होंने सरपंचों को शांत करते हुए कहा कि पंचायतों के लिए बजट का प्रावधान कम है। 

इस लिए अब नाबार्ड से ऋण लेकर पंचायतों को अवार्ड कर रही है। इस बैठक से यह तो साफ हो गया है कि पंचायतों को ग्रांट ना निलने से सरपंच नाराज चल रहे। अगर सरकार समय पर नहीं चेती तो अगले विधनसभा चुनावों में भाजपा को मुश्किलों से सामना करना लाजमी है। 

इस मौके पर रेवाड़ी के विधायक रणधीर सिंह कापड़ीवास भी मौजूद रहे। जब विकास के लिए उन्हें भी घेरा जाने लगा तो उन्होंने कहा कि लगभग 15 करोड़ की ग्रांट उन्हें मिल चुकी है जल्द ही वितरित की जायेगी। अब देखना होगा की क्या सरपंचों को विकास के लिए ग्रांट मिल पाती है या फिर आने वाले चुनावों में सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा।
पोस्ट शेयर करें, कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट करें
loading...

0 comments: