Jan 9, 2018

देशभक्त बॉबी कटारिया की कोई खबर नहीं, आजादी गैंग के लिए गिद्धों की तरह टूट पड़ा मीडिया, वाह


media-no-news-on-bobby-kataria-but-run-for-jignesh-mevani-rally

नई दिल्ली: देश में मीडिया को चौथा स्तम्भ कहा जाता है लेकिन अब मीडिया की भूमिका ना सिर्फ शर्मनाक हो गयी है बल्कि सन्देश के भी घेरे में आ चुकी है. मीडिया से उम्मीद की जाती है कि वह हर तरह की ख़बरें दिखाए और सभी पक्षों को अपनी बात रखने का मौका दे लेकिन आज का मीडिया ऐसा नहीं कर रहा है.

गुरुग्राम में बॉबी कटारिया का इतना बड़ा मामला चल रहा है एक दो मीडिया को छोड़कर अब तक किसी ने भी उसकी खबर नहीं दखाई है. प्रशासन ने बॉबी कटारिया और उसके समर्थकों को दबाने के लिए पूरी ताकत लगा दी, कल उन्हें दिल्ली के राम लीला मैदान से भगा दिया गया, कनाट प्लेस तक मार्च निकालने की इजाजत नहीं दी गयी, उनपर पुलिस लाठीचार्ज करने के लिए तैयार हो गयी, करीब 300-400 युवाओं ने बॉबी कटारिया के समर्थन में मार्च निकाला लेकिन उसको कवर करने के लिए कोई भी मीडिया नहीं पहुंचा.

आज दिल्ली के जंतर मंतर पर आजादी गैंग के सदस्य जिग्नेश मेवाणी की रैली है, जिग्नेश मेवाणी पर दलित राजनीति करके दलितों और अन्य समुदायों में नफरत का माहौल बनाने के आरोप लग रहे हैं, इनके साथी उमर खालिद और कन्हैया कुमार देश के टुकड़े टुकड़े करने के नारे लगाते हैं. ये दलित और अन्य समाज में नफरत फैलाकर समाज के टुकड़े टुकड़े करने की बात करते हैं.

आज सबसे अधिक सवाल मीडिया पर उठ रहे हैं, जनता मंतर पर जिग्नेश की रैली में सिर्फ 200-300 लोग आये हैं लेकिन इससे अधिक मीडिया की भीड़ आयी है, जिस तरह से गिद्ध लाश पर टूट पड़ते हैं उसी तरह से आज मीडिया के लोग जिग्नेश की एक फोटो खींचने के लिए जंतर मंतर पर टूट पड़े हैं. आज ऐसा लग रहा है जैसे दुनिया का सबसे बड़ा नेता आ रहा हो.

अब आप खुद सोचिये, एक तरह गरीबों के हीरो, गुरुग्राम के भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग लड़ने वाले बॉबी कटारिया के समर्थन में रैली निकालने के लिए रामलीला मैदान में 500 लोग पहुँचते हैं लेकिन वहां पर कोई मीडिया नहीं जाता और दूसरी तरह आजादी गैंग की रैली होती है, सिर्फ 200-300 लोग आते हैं लेकिन वहां पर 500 पत्रकार पहुँचते हैं, गिद्धों की तरह टूट पड़ते हैं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: