Jan 30, 2018

बड़ा खुलासा, सिख दंगे के दौरान दिल्ली में घूम घूम कर सिखों की लाशें गिन रहे थे राजीव गाँधी


manjinder-singh-sirsa-exposed-rajiv-gandhi-sikh-danga-1984-news

नई दिल्ली: दिल्ली के राजौरी गर्दन के बीजेपी विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि जब दिल्ली में 1984 में सिख दंगा हुआ था और सिखों का कत्लेआम हुआ था तो उस समय के प्रधानमंत्री राजीव गांधी दिल्ली में घूम घूम कर लाशें गिन रहे थे, उन्होंने कांग्रेसी सांसदों को अधिक से अधिक सिखों को मरवाने का आदेश दिया था और लाशें खुद गिन रहे थे ताकि उनका कलेजा ठंडा हो जाए.

आपको बता दें कि सिख दंगा 1984 में प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी की हत्या के बाद हुआ था, दो सिखों ने इंदिरा गाँधी को गोली मार दी थी, उनके मरते ही राजीव गाँधी ने विवादास्पद बयान दिया था, उन्होंने कहा था कि जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है.

इस मामले में उस समय के सांसद जगदीश टाइटलर दोषी हैं, उन्होंने हाल ही में खुलासा किया है कि मेरे साथ राजीव गाँधी भी इस मामले में शामिल थे, उन्होंने मेरे साथ खुद दिल्ली में घूम घूम कर सिखों की लाशें गिनी थीं.

कल मनजिंदर सिंह सिरसा ने बताया - जगदीश टाइटलर ने खुलासा किया है कि उस दिन राजीव गाँधी हमपर चिल्लाए थे कि तुम यहाँ क्या कर रहे हो, अपनी लोकसभा में जाओ, उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा - जगदीश टाइटलर मेरे साथ आ गाडी में, उसके बाद हम मॉडल टाउन गए, पूरी दिल्ली में घूमे.

मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा - हम भी तो आज तक यही कह रहे थे कि जगदीश टाइटलर उस समय अपनी लोकसभा में घूम रहा था और लोगों को मरवा रहा था लेकिन आज जगदीश ने एक बात और कह दी कि मैं अकेला नहीं था बल्कि मेरे साथ राजीव गाँधी भी लोगों को मरवाने के लिए जा रहा था.

मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि इस खुलासे से जगदीश ने दो इशारे किये हैं, उसनें कांग्रेस पार्टी को आगाह किया है कि अगर तुम मेरे साथ खड़े नहीं रहोगे तो मैं राजीव गाँधी की पोल खोल दूंगा.

मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि - आज तक इतनी रिपोर्ट आयी, अख़बारों में खबर छपी, इंटेलिजेंस की रिपोर्ट आयी लेकिन किसी ने यह नहीं बताया कि राजीव गाँधी खुद लाशों को गिनने गए थे, इस बात को आज तक छुपाया गया, उस समय के प्रधानमंत्री राजीव गाँधी दिल्ली में सिखों का हाल चाल पूछने नहीं गए थे बल्कि अपने सांसदों पर इसलिए चिल्लाये थे कि तुम लोग यहाँ पर क्यों बैठे हो, मेरी तो माँ मर गयी है, तुम लोगों को नहीं मार रहे हो. इसके बाद सज्जन कुमार, जगदीश टाइटलर ने सिखों का कत्लेआम करवाया और उसके बाद राजीव गाँधी का दौरा कराकर दिखाया और मारे गए सिखों की लाशें गिनवायीं. सभी लोगों ने बताया कि मेरे इलाके में मैंने ज्यादा लोगों को मरवाया.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें
loading...

0 comments: