Jan 21, 2018

जितनी पूजा BCCI वाले विराट कोहली की करते हैं उतनी कैबिनेट में मोदी की नहीं होती: रामचंद्र गुहा


historian-ramchandra-guha-big-attack-on-bcci-and-captain-virat-kohli

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के अफसर और बड़े बड़े अधिकारी जितनी पूजा टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली की करते हैं, उतनी पूजा केंद्रीय मंत्री अपने प्रधानमंत्री मोदी की भी नहीं करते हैं. मतलब पूजा किये जाने के मामले में विराट कोहली ने मोदी को पीछे छोड़ दिया है. यह कहना है इतिहासकार रामचंद्र गुहा का.

आज इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने BCCI के अलावा विराट कोहली पर तीखा प्रहार किया. उन्होंने कहा कि विराट कोहली अपने अहंकार में डूबे हुए हैं और BCCI ने उनके अहंकार के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रामचंद्र गुहा सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर (सीओए) के मेंबर भी थे। उन्होंने भारतीय क्रिकेट में सुपरस्टार कल्चर का हवाला देकर सिर्फ चार महीने में पद से इस्तीफ़ा दे दिया था।

रामचंद्र गुहा ने BCCI के सभी अधिकारियों के अलावा सलाहकार समित के सदस्य सचिन तेंडुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण को भी नहीं बख्शा. उन्होंने कहा कि ये लोग हर फैसले में विराट कोहली की राय लेते हैं. इसी वजह से इन्होने अनिल कुंबले जैसे अच्छे कोच को हटाकर साधारण क्रिकेटर रवि शास्त्री को टीम इंडिया का कोच बनाया, ऐसा करके BCCI ने विराट कोहली के रुतबे के आगे सरेंडर कर दिया और उनको और अहंकारी बना दिया.

विराट अच्छे बल्लेबाज लेकिन अहंकारी

रामचंद्र गुहा ने विराट कोहली को अच्छा बल्लेबाज बताते हुए कहा कि वह अच्छे बल्लेबाज हैं, आल टाइम ड्रीम इंडियन टीम के सदस्य हैं लेकिन साथ में घमंडी भी हैं, यह उनके खेल के लिए ठीक नहीं है, इससे टीम को नुकसान हो रहा है. उन्हें अपना घमंड दूर करना चाहिए क्योंकि यह क्रिकेट के लिए अच्छा होगा.

विराट के आगे सब बौने

रामचंद्र गुहा ने कहा कि कप्तान विराट कोहली के आगे सब बौने हैं, कोचिंग स्टाफ, सिलेक्शन कमेटी, प्रशासक सब के सब ने विराट कोहली के आगे हथियार डाल दिए हैं. हर मामले में सिर्फ विराट कोहली की राय चलती है.

दक्षिण अफ्रीका में खुली कोच-कप्तान की पोल

उन्होंने कहा कि अनिल कुंबले बड़े कद के क्रिकेटर थे, वह भारतीय क्रिकेट के इतिहास के सबसे बड़े मैच विनर बॉलर थे इसलिए वह कप्तान विराट कोहली की हर बात नहीं मानते थे, इसी वजह से उन्हें कोच पद से हटाया गया, लेकिन अब इसकी कमीं खल रही है. भारत में कमजोर कोच रवि शास्त्री की कमीं छुप गयी लेकिन दक्षिण अफ्रीका में ना सिर्फ टीम इंडिया का पसीना निकल रहा है, कोच की पोल भी खुल गयी है.
पोस्ट शेयर करें, कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट करें
loading...

0 comments: