Jan 8, 2018

जितनी ताकत कैंडल मार्च निकालने से रोकने में लगाई, उतनी ताकत अपराधियों के खिलाफ लगाती पुलिस, तो


gurugram-police-use-full-strength-to-prevent-candle-march-bobby-kataria

गुरुग्राम: बॉबी कटारिया मामले को प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया कवर नहीं कर रहा है इसलिए लोगों को पता नहीं चल पा रहा है कि गुरुग्राम और फरीदाबाद में हो क्या रहा है. यहाँ पर युवाओं और पुलिस के बीच बहुत बड़ी जंग चल रही है, युवा अपनी ताकत लगा रहे हैं तो पुलिस अपनी ताकत लगा रही है. पुलिस युवाओं के खिलाफ जितनी ताकत लगा रही है अगर उतनी ही ताकत जुर्म और जुर्म करने वालों के खिलाफ लगाती तो जुर्म से लड़ने वाले बॉबी कटारिया जैसे लोग पैदा ही नहीं होते.

जी हाँ, गुरुग्राम का बॉबी कटारिया जुर्म के खिलाफ लड़ने वाला हीरो है, गुरुग्राम के भ्रष्ट पुलिस अफसर उसके नाम से थर थर कांपते थे, भ्रष्टाचार करने से पहले सोचते थे कि कहीं बॉबी कटारिया ना आ जाए और उनकी लाइव वीडियो ना बना ले, जी हाँ, बॉबी कटारिया पुलिस थानों में घूमता रहता था और दारू पीते हुए, सोते हुए पुलिस वालों की वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर देता था. धीरे धीरे पुलिस में बॉबी कटारिया से डर फ़ैल गया. पुलिस भी बदला लेने के लिए मौके का इन्तजार करने लगी, एक दिन बॉबी कटारिया ने कुछ पुलिस वालों को गाली दे दी तो पुलिस ने उसी रात उसे गिरफ्तार कर लिया.

गुरुग्राम पुलिस ने बॉबी कटारिया को 6 दिन की रिमांड में लिया. इसके बाद फरीदाबाद पुलिस ने भी उसे दो दिन की रिमांड पर लिया. उसके मम्मी पापा बताते हैं कि गुरुग्राम और फरीदाबाद पुलिस ने मिलकर उनके बेटे को 8 दिन रिमांड में लेकर इतना मार दिया है कि वह अब अपने पैरों पर खड़ा भी नहीं हो पा रहा है. 

इस वक्त बॉबी कटारिया फरीदाबाद की नीमका जेल में बंद हैं, उन्हें 24 दिसम्बर को गुरुग्राम पुलिस ने रात 11 बजे गिरफ्तार किया था, उन्हें या उनके परिवार को ना तो FIR की कॉपी दी गयी और ना ही वारंट दिखाया गया, पुलिस ने सीधा उठाकर उन्हें थाने ले गयी और कई धाराएं ठोंक दी, इसके बाद उन्हें 6 दिन का रिमांड लेकर कथित कौर पर थर्ड डिग्री दी गयी जो कि बड़े बड़े आतंकवादियों को दी जाती है. 

कल बॉबी कटारिया के लिए न्याय की उम्मीद में उनके हजारों समर्थक गुरुग्राम के देवीलाल स्टेडियम के बाहर इकठ्ठे हुए और कैंडल मार्च निकालने की कोशिश की, वहां पर उन्हें रोकने के लिए 1000 पुलिस के जवान लगाए गए, कई लोगों को गिरफ्तार किया गया, कई लोगों पर लाठीचार्ज किया गया. इस घटना पर भी मीडिया ने चुप्पी बनाए रखी.

कुछ लोग कह रहे हैं कि गुरुग्राम पुलिस जितनी ताकत बॉबी कटारिया के समर्थन में कैंडल मार्च निकालने से रोकने में लगा रही है, अगर इतनी ताकत अपराधियों के खिलाफ लगाती, अगर हजारों पुलिस वालों को उनके पीछे दौडाती तो बॉबी कटारिया पैदा ही नहीं होता, बॉबी कटारिया को देश विदेश के लाखों करोड़ों युवक अपना हीरो मानते ही नहीं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें
loading...

0 comments: