Jan 9, 2018

बॉबी कटारिया के समर्थकों पर दादागिरी, जिग्नेश मेवाणी पर नहीं चल रहा है दिल्ली पुलिस का जोर


delhi-police-take-actio-bobby-kataria-supporter-but-not-jignesh-mevani

नई दिल्ली: यह खबर पढ़कर इस देश की सरकार और दिल्ली पुलिस पर लोगों को जरूर शर्म आएगी. दो दिन पहले दिल्ली के रामलीला मैदान में शांतिपूर्वक प्रदर्शन के लिए बॉबी कटारिया के समर्थकों ने इजाजत मांगी थी लेकिन उन्हें इजाजत नही दी गयी, उसके बाद भी जब बॉबी कटारिया के समर्थन वहां इकठ्ठे हुए तो पुलिस की टीम वहां पर लाठी डंडों के साथ पहुँच गयी और उनपर लाठीचार्ज करने के लिए तैयार हो गयी.

दिल्ली पुलिस ने बॉबी कटारिया के समर्थकों को 15 मिनट भी रामलीला मैदान पर खड़े नहीं होने दिया और पूरी दादागिरी दिखाई, उसके बाद जब उनके समर्थक अपना बैनर लेकर सीपी की तरफ निकले तो वहां भी पुलिस पहुँच गयी और उन्हें गिरफ्तार करने के लिए तैयार हो गयी. इसके बाद बॉबी कटारिया के समर्थकों को वहां से गुरुग्राम के लिए भागना पड़ा और गुरुग्राम में उन्हें परमीशन के बावजूद भी कैंडल मार्च नहीं निकालने दिया, उनपर लाठीचार्ज किया गया.

बॉबी कटारिया के समर्थकों पर दिल्ली पुलिस ने दादागिरी दिखा दी लेकिन जिग्नेश मेवाणी पर दादागिरी नहीं दिखा पा रही है, जिग्नेश मेवाणी आज दिल्ली के जंतर मंतर पर रैली करने जा रहे हैं, दिल्ली पुलिस ने इसकी इजाजत नहीं दी है उसके बावजूद भी जिग्नेश के लोगों ने वहां पर टेंट लगा दिया है, जिग्नेश मेवाणी के हजारों दलित समर्थक जंतर मंतर पर पहुँच चुके हैं.

यहाँ पर हैरानी की बात ये है कि दिल्ली पुलिस ने जिग्नेश को कहा है कि आप जंतर मंतर पर नहीं बल्कि रामलीला मैदान में रैली कर सकते हैं. इसी रामलीला मैदान में दिल्ली पुलिस ने बॉबी कटारिया के 200-300 समर्थकों को नहीं इकठ्ठा होने दिया, इसी दिल्ली पुलिस ने जिग्नेश मेवाणी को एक मिनट में रामलीला मैदान पर रैली करने की इजाजत दे दी.

जिग्नेश मेवाणी के खिलाफ दिल्ली पुलिस और मोदी सरकार इसलिए दादागिरी नहीं दिखा पा रही है क्योंकि वह दलित नेता है, दिल्ली में दलित लोग इकठ्ठे हुए हैं, अगर दिल्ली पुलिस ने उनके खिलाफ एक्शन लिया तो दलित समाज के लोग मोदी सरकार से नाराज हो जाएंगे और मोदी को 2019 में वोट नहीं देंगे. वाह से वोट का डर.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें
loading...

0 comments: