Follow by Email

Total Pageviews

Blog Archive

Search This Blog

मोदी तक पहुंची बॉबी कटारिया पर जुल्म की आवाज, गुरुग्राम पुलिस ने बिना FIR लिया था 6 दिन रिमांड

Share it:
bobby-kataria-supporters-complain-gurugram-police-to-pm-modi

गुरुग्राम: गुरुग्राम पुलिस ने बॉबी कटारिया को बिना FIR के 6 दिन के लिए रिमांड पर लेकर मुसीबत मोल ले ली है क्योंकि अब लोग प्रधानमंत्री मोदी से गुरुग्राम पुलिस की शिकायत कर रहे हैं, यह सब बीजेपी सरकार में हो रहा है, मोदी को युवाओं ने बड़ी उम्मीद के साथ प्रधानमंत्री बनाया था, अगर 2014 में देश के युवा मोदी के लिए एकजुट ना होते, सोशल मीडिया पर उनकी लहर पैदा ना करते तो मोदी कभी प्रधानमंत्री ना बन पाते लेकिन अब उनकी ही नाक के नीचे गुरुग्राम पुलिस कानून के साथ खिलवाड़ कर रही है, ऐसे में युवाओं का मोदी सरकार और प्रदेश की खट्टर सरकार से भरोसा उठ रहा है और यह सब सिर्फ गुरुग्राम पुलिस की वजह से हो रहा है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गुरुग्राम के समाज सेवक बॉबी कटारिया जो हर गरीब की मदद के लिए हमेशा तैयार रहते थे और पुलिस के खिलाफ आवाज उठाते थे, उन्हें गुरुग्राम की सेक्टर 9 पुलिस ने एक दिन रात में उठा लिया, उनके खिलाफ पहले से कोई FIR नहीं थी, उन्हें गिरफ्तार करने के बाद उनपर मामले दर्ज किये गए, उनके समर्थक इसे झूठी धाराएं बता रहे हैं क्योंकि जब तक किसी के खिलाफ पहले से FIR ना हो उसे इस तरह से उठाया नहीं जा सकता, आखिर पुलिस जनता की सुरक्षा के लिए होती है. बॉबी कटारिया की गलती यह थी कि उन्होंने किसी बात पर गुस्से में आकर SHO संदीप और SHO घनश्याम को अपशब्द बोल दिए थे, लेकिन अगर यह अपराध था तो पहले इसके खिलाफ FIR लिखी जाती, उनके खिलाफ अरेस्ट वारंट निकाला जाता और उसके बाद ही उन्हें गिरफ्तार किया जा सकता था लेकिन गुरुग्राम पुलिस ने ऐसा कुछ नहीं किया और सीधा उन्हें उठा लिया और उनके खिलाफ कई धाराएं लगा दीं.

इसके बाद सेक्टर 9 थाने ने उन्हें 4 दिन के रिमांड पर ले लिया, उनके समर्थक बताते हैं कि पुलिस ने बॉबी कटारिया को इतना मारा है कि ठीक से चल भी नहीं पाते, चार दिन बाद बिना मेडिकल कराये उन्हें कोर्ट में पेश किया गया और कोर्ट ने सेक्टर 10A चौकी को 2 दिन के रिमांड पर दे दिया. बिना मेडिकल कराये पुलिस रिमांड में भेजना भी कानून के खिलाफ है लेकिन गुरुग्राम के जज और पुलिस मिलकर कानून के साथ खिलवाड़ कर रही है. जब गुरुग्राम पुलिस की 6 दिन की रिमांड ख़त्म हो गयी तो उन्हें फरीदाबाद पुलिस ने हिरासत में ले लिया और कोर्ट में पेश करके 2 दिन की रिमांड पर ले लिया. यहाँ पर बॉबी कटारिया पर एक स्कूल मालिक ने धमकी देने का मामला दर्ज कराया था जो उन्होंने गरीब बच्ची निकिता के इलाज के लिए मांगे थे, क्योंकि अरावली स्कूल की बस से टकराकर निकिता का पैर कट गया था.

गुरुग्राम पुलिस और फरीदाबाद पुलिस ने बीजेपी सरकार की नाक के नीचे कानून से खिलवाड़ किया है, सिर्फ इसलिए क्योंकि बॉबी कटारिया पुलिस के खिलाफ आवाज उठाते थे, जब पुलिस गरीबों की FIR नहीं लिखती थी तो बॉबी कटारिया जाते थे, जब पुलिस अपराधियों के खिलाफ एक्शन नहीं लेती थी तो बॉबी कटारिया उसके खिलाफ आवाज उठाते थे और एक दिन गुस्से में आकर उन्होंने पुलिस वालों को अपशब्द बोल दिया. मान लो पुलिस वालों को अपशब्द बोलकर बॉबी कटारिया ने गुनाह किया है तो उसकी सजा होनी चाहिए लेकिन पुलिस वाले उन्हें रिमांड में लेकर उन्हें खुद सजा दे रहे हैं.

अब बॉबी के समर्थक गुरुग्राम पुलिस और फरीदाबाद पुलिस की मोदी से शिकायत कर रहे हैं. ट्विटर, फेसबुक पर मोदी से गुरुग्राम पुलिस की शिकायत की जा रही है. लोग कह रहे हैं कि हमें बीजेपी सरकार से बहुत उम्मीदें थीं लेकिन हमारी उम्मीदें टूट गयीं. 
Share it:

Haryana

States

Post A Comment:

0 comments: