Jan 21, 2018

बॉबी कटारिया जैसे समाजसेवकों के साथ ऐसा ही करती है पुलिस, इसलिए पहले से बरतें ये सावधानी, पढ़ें


bobby-kataria-case-lawyer-told-how-to-save-from-police-action

नई दिल्ली: बॉबी कटारिया गुरुग्राम के समाजसेवा हैं और पुलिस से हमेशा लड़ते थे, कभी गरीबों की FIR लिखवाने के लिए थानों में धमक पड़ते थे, कभी अपराधियों के खिलाफ एक्शन लेने के लिए पुलिस थानों में धमक पड़ते थे, कभी उनकी दारू पीते हुए वीडियो बना लेते थे, कभी सोते हुए वीडियो बना लेते थे, मतलब उन्होंने गुरुग्राम, फरीदाबाद और दिल्ली पुलिस की नाक में दम कर रखा था. एक दिन पुलिस ने उनकी बहस हुई तो उन्होंने लाइव वीडियो में दो पुलिस अधिकारियों के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल किया. इसके बाद पुलिस उन्हें रात 11 बजे उठाकर थाने ले गयी, 6 दिन की रिमांड ली, कथित तौर पर टॉर्चर किया गया, उसके बाद फरीदाबाद पुलिस ने अरेस्ट किया, दो दिन के रिमांड पर लिया, अब उन्हें नीमका जेल में बंद किया गया है.

इस घटनाओं पर प्रतिक्रिया देते हुए पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट के वरिष्ठ वकील राजविंद्र सिंह बैंस ने कहा कि सिस्टम के साथ लड़ने वालों और पुलिस को एक्सपोज करने वालों के साथ पुलिस और प्रशासन ऐसा ही काम करता है, कई धाराएं लगाकर उन्हें जेल में बंद कर दिया जाता है. 

उन्होंने कहा कि अगर कोई बॉबी कटारिया जैसे समाज सेवा करना चाहता है, सिस्टम से लड़ना चाहता है, पुलिस प्रशासन के खिलाफ लड़ता है तो उसके पहले से सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि ऐसा काम करने वालों की पुलिस हमेशा दुश्मन बन जाती है, ऐसे लोगों के खिलाफ झूठे केस बनाकर पहले से रख लेती है और बॉबी कटारिया के केस में ऐसा ही किया गया है. उनके खिलाफ बहुत पहले से केस तैयार करके रख लिया गया था.

ऐसा काम करने वालों को हमेशा वकीलों से संपर्क रखना चाहिए, अगर कोई FIR हो तो उसके खिलाफ याचिका डालकर उन्हें खारिज करवानी चाहिए, वकील के पास कोई कागज़ साईन करके रख देना चाहिए ताकि अगर आपको पुलिस पकड़ भी ले तो आपकी तरफ से वकील तुरंत काम करना शुरू कर दे और आपके गिरफ्तार होते ही वकील पुलिस थाने में पहुँच जाए.

ऐसा करके वकील आपको पुलिस हिरासत में जाने से बचा लेगा, आपका टॉर्चर होने से बच जाएगा. पुलिस को आपको मजिस्ट्रेट के सामने पेश करना पड़ेगा. आपका बयान दर्ज होगा, उस मौके पर भी आपका वकील होना चाहिए. कानून हमें इसकी इजाजत देता है. अगर पुलिस के गिरफ्तार करते वक्त आपके पास वकील नहीं है तो पुलिस कई धाराएं लगाकर रिमांड पर लेती है, टॉर्चर करती है और आपको बहुत परेशान करती है. इसलिए बॉबी कटारिया जैसा हाल होने से बचाना है तो सभी समाजसेवक हमेशा वकीलों को तैयार करके रखें.
पोस्ट शेयर करें, कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट करें
loading...

0 comments: