Follow by Email

Total Pageviews

Blog Archive

Search This Blog

3 तलाक बिल लागू होने के बाद बंद हो जाएगा महिलाओं का हलाला, इसलिए परेशान हो गए हैं लाखों मौलवी

Share it:
three-talaq-bill-passed-no-halala-for-muslim-women-maulawi-jobless

नई दिल्ली: आज मुस्लिम महिलाओं के लिए खुशखबरी है क्योंकि मोदी सरकार ने आज ही तीन तलाक बिल लोकसभा में पेश किया और आज ही बिल बहुमत के साथ पास हो गया, AIMIM के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बिल को रोकने की बहुत कोशिश की, बिल के खिलाफ लम्बा चौड़ा भाषण दिया और कई खामियां गिनाई लेकिन उनकी कोई भी चाल कामयाब नहीं हुई और अंततः बिल पास ही हो गया.

तीन तलाक बिल लागू होने के बाद कम से कम 10 लाख मौलवियों का धंधा बंद हो जाएगा, अब तक मौलवी तीन तलाक के बाद महिलाओं का हलाला करके खूब पैसे कमाते थे लेकिन अब वे ऐसा नहीं कर पाएंगे क्योंकि अब तीन तलाक बोलने के बाद भी सुलह का एक मौका मिलेगा, अगर शौहर अपनी गलती मान लेगा तो दोनों की शादी ख़त्म नहीं होगी और वह फिर से हंसी ख़ुशी रह सकेंगे लेकिन अगर शौहर ने जान बूझकर देगा और अपनी गलती नहीं मानेगा तो उसे तीन साल के लिए जेल भेज दिया जाएगा.

पहले जब कोई शौहर गलती से तीन तलाक़ दे देता था तो वह किसी मौलवी के पास जाता था, मौलवी उससे कहता था कि अगर बीवी से दोबारा शादी करना चाहता है तो हलाला कराना पड़ेगा, उसके बाद मौलवी कुछ पैसे लेकर महिला का हलाला करवाता था, दूसरे मर्द से महिला की शादी करवाकर उसे एक रात उसे सौंप देता था और दूसरे दिन उसके साथ फिर से पहले वाले पति से निकाह करवा देता था. कई बार खुद मौलवी ही पैसे लेकर शादी कर लेता था और महिला के साथ एक रात गुजार लेता था. लेकिन अब ऐसा नहीं हो सकेगा क्योंकि अब तीन तलाक के बाद मौलवी की जगह मजिस्ट्रेट के पास जाना पड़ेगा और अपनी गलती माननी पड़ेगी या तीन साल जेल जाना पड़ेगा.

आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने भी बिल को सीधे पास होने से रोकने के लिए इसे स्टैंडिंग कमेटी के पास भेजने की अपील की ताकि बिल कुछ महीनें और रुक जाए लेकिन मोदी सरकार ने उसकी बात नहीं मानी और वोटिंग कराने का आग्रह किया, वोटिंग में बिल के समर्थन में 244 वोट पड़े जबकि ओवैसी के सुझाए संशोधन के समर्थन में सिर्फ 4 वोट पड़े. इस तरह से ओवैस की बात को खारिज करते हुए बिल को लोकसभा में पास कर दिया गया.

अब यह बिल राज्य सभा में जाएगा, वहां पर बिल अटक सकता है क्योंकि कांग्रेस पार्टी और उसके समर्थकों का वहां पर बहुमत है, अगर कांग्रेस ने समर्थन दे दिया तो यह बिल राज्य सभा से भी पास हो जाएगा और कानून अस्तित्व में आ जाएगा.
Share it:

India

Politics

Religion

Post A Comment:

0 comments: