Dec 5, 2017

रणदीप सुरजेवाला बोले, बाबरी मस्जिद के वकील कपिल सिब्बल के बयान से कांग्रेस का कोई लेना देना नही


randeep-surjewala-told-kapil-sibal-is-babari-masjid-lawyer-not-congress

अमित शाह के करारे प्रहार का आज कांग्रेस ने भी करारा जवाब दिया है. रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि बाबरी मस्जिद केस में कपिल सिब्बल पैरोकार हैं ना कि कांग्रेस के नेता हैं, वे राजनीतिक जीवन में कांग्रेस पार्टी के नेता हैं लेकिन प्रोफेशनल रूप से एक वकील हैं और स्वतंत्र रूप से किसी भी पक्ष का केस लड़ सकते हैं, बाबरी मस्जिद में कपिल सिब्बल आल इंडिया सुन्नी वक्फ बोर्ड का पक्ष रख रहे हैं ना कि कांग्रेस की तरफ से शामिल हुए हैं, कांग्रेस का उनके बयान से कोई लेना देना नहीं है.

आपको बता दें कि भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस के अगले अध्यक्ष राहुल गाँधी पर बड़ा हमला बोलते हुए उन्हें अयोध्या में राम मंदिर का दुश्मन बताया है. उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी गुजरात में मंदिर मंदिर घूम रहे हैं, खुद को शिवभक्त बता रहे हैं लेकिन यही राहुल गाँधी कपिल सिब्बल के जरिये राम मंदिर का विरोध करवा रहे हैं, सुनवाई की तारीख आगे बढ़वा रहे हैं.

अमित शाह ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि आज से सर्वोच्च अदालत में राम जन्मभूमि मामले की सुनवाई शुरू हुई है, पूरा देश यह चाहता है कि जल्द से जल्द यह सुनवाई समाप्त की जाय और जल्द से जल्द इस मामले का फैसला आये.

उन्होंने कहा कि आज सर्वोच्च अदालत के सामने कांग्रेस के नेता और आल इंडिया सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल ने एक आश्चर्यजनक दलील रखी, उन्होंने कहा कि जुलाई 2019 तक, तब तक आम चुनाव नहीं हो जाते, इस केस की सुनवाई टाल देनी चाहिए.

अमित शाह ने कहा कि जब भी कांग्रेस पार्टी किसी मामले में अलग तरह का स्टैंड लेना चाहती है तो कपिल सिब्बल को आगे करती है, 2G घोटाला हुआ तो भी 0 Loss Theory लेकर कपिल सिब्बल आगे आये थे, गुजरात में आरक्षण का मसला आया तो भी कपिल सिब्बल आगे आये, अब जब राम जन्मभूमि केस के रास्ते में रोड़े अटकाने हैं तो भी कपिल सिब्बल सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील के रूप में आगे आये हैं.

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी से मांग करता हूँ कि राम मंदिर मामले पर अपना स्टैंड सामने रखें, कांग्रेस पार्टी इस बात से सहमत है या नहीं है कि राम जन्मभूमि केस की सुनवाई जल्द से जल्द हो. या कांग्रेस पार्टी भी चाहती है की 2019 चुनाव तक श्री राम जन्मभूमि केस की सुनवाई ना हो, कांग्रेस को अपना रूख विल्कुल स्पष्ट करना चाहिए.

अमित शाह ने कहा कि जब पूरे कागजात का ट्रांसलेशन हो चुका है, यह भी आज निर्णय कर दिया गया है कि इस केस की सुनवाई तीन जज की बेंच करेगी या पांच जज की, तो सुनवाई को रोकने से क्या हासिल होगा.

अमित शाह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी मांग करती है कि कि कांग्रेस पार्टी इस मामले में अपना अधिकृत स्टैंड साफ़ करे, गुजरात में चुनाव चल रहे हैं, राहुल गाँधी जी जो अध्यक्ष बनने वाले हैं, वे मदिर मंदिर जाकर अपनी श्रद्धा व्यक्त कर रहे हैं, एक तरफ ये मंदिरों के दौरे कर रहे हैं और दूसरी तरफ श्री राम मंदिर बनाने से रोकने के लिए कपिल सिब्बल का उपयोग किया जा रहा है.

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने अपने दोहरे रवैय्ये को जनता के सामने स्पष्ट करना चाहिए, उन्हें बताना चाहिए कि राम मंदिर केस की सुनवायी जल्द से जल्द चाहते हैं या नहीं. मैं राहुल गाँधी से भी अपील करना चाहूँगा कि वह स्वयं इस मुद्दे पर उनकी पार्टी का रूख स्पष्ट करें.

उन्होंने कहा कि हमारी मांग है कि राम जन्मभूमि का फैसला जल्दी आना चाहिए और वहां अपर एक भव्य राम मंदिर बनना चाहिए.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: