Dec 13, 2017

अब मनमोहन सिंह को गुस्सा आने लगा है लेकिन 10 साल लूट होती रही तो गुस्सा नहीं आया: अमित शाह


amit-shah-asked-why-manmohan-singh-not-angry-during-loot-scam

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कुछ दिनों पहले पाकिस्तानी के बड़े नेताओं के साथ दिल्ली में चुपचाप मीटिंग की थी, यह मीटिंग कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर के दिल्ली आवास पर हुई थी, मीटिंग में पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री कसूरी, भारत में पाकिस्तानी दूत, भारत के पूर्व आर्मी चीफ दीपक कपूर, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और मणिशंकर अय्यर शामिल हुए थे.

जब इस मीटिंग का खुलासा हुआ तो कांग्रेसी नेताओं ने इसका खंडन किया लेकिन जब मुलाक़ात के सबूत दिए गए तो कांग्रेसी नेताओं ने मीटिंग की बात मान ली लेकिन मीटिंग की टाइमिंग को लेकर कांग्रेसी नेताओं की मानसिकता पर सवाल उठने लगे, गुजरात चुनाव के दौरान पाकिस्तानी नेताओं से मीटिंग करना और उसके दूसरे ही दिन मणिशंकर अय्यर द्वारा मोदी को नीच और असभ्य बताना किसी को समझ में नहीं आया.

मनमोहन सिंह और पाकिस्तानी नेताओं के बीच मीटिंग का यह मुद्दा प्रधानमंत्री मोदी ने भी उठाया तो मनमोहन सिंह नाराज हो गए, उन्होंने कहा कि मुझपर इतने संगीन आरोप लगाए जाने से मैं नाराज हूँ, मोदी को माफी मांगनी चाहिए लेकिन मनमोहन सिंह ने यह नहीं बताया कि उन्हें पाकिस्तानी नेताओं के साथ बातचीत करने और चुपचाप मीटिंग करने की जरूरत क्या थी.

आज मनमोहन सिंह ने फिर से एक वीडियो सन्देश में कहा कि मोदी से हमें राष्ट्रवाद नहीं सीखना, उन्हें माफी मांगनी चाहिए.

मनमोहन सिंह को जवाब बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने दिया. उन्होंने कहा कि गुजरात चुनाव के समय पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को गुस्सा आने लगा है लेकिन यह गुस्सा उस समय क्यों नहीं आया जब इनके 10 साल के कार्यकाल में घोटाले, लूट और भ्रष्टाचार होता रहा. उनकी नाक के नीचे इतने घोटाले हो गए, इतनी लूट हो गयी, देश भ्रष्टाचार में डूब गया लेकिन उन्हें तब गुस्सा नहीं आया, अब वह पाकिस्तान के नेताओं के साथ चुपचाप मीटिंग भी करते हैं और गुस्सा भी आता है. अगर वह उस वक्त भी इतनी गुस्सा दिखाते तो देश ऐसे बर्बाद नहीं होता.

अमित शाह ने कहा कि मनमोहन सिंह खुद को इमानदार बता रहे हैं लेकिन जब इनकी पाकिस्तानी नेताओं के साथ मीटिंग हुई तो उसके बाद भारत सरकार को मीटिंग और उसके रिजल्ट के बारे में क्यों नहीं बताया, उनके प्रवक्ताओं ने इस खबर को गलत क्यों बताया और बात में यू-टर्न क्यों लिया. उन्हें इन सब सवालों के जवाब देना चाहिए क्योंकि देश उनसे जानना चाहता है कि पाकिस्तान से क्यों मीटिंग की गयी, क्या बात हुई और देश से जानकारी क्यों छुपाई गयी.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: