Nov 15, 2017

हार्दिक पटेल का मुंह काला देखकर फिर से BJP की तरफ मुड़े पाटीदार, उतर गया आँखों का पर्दा


hardik-patel-exposed-2-cd-released-gujarat-patel-turning-towards-bjp

अहमदाबाद: गुजरात में अगर बीजेपी को कोई हरा सकता है तो सिर्फ जातिवाद का जहर हरा सकता है, हार्दिक पटेल के बहकावे में आकर गुजरात के पाटीदार लोग जातिवाद में इस कदर अंधे हो गए कि आंख मूंदकर हार्दिक पटेल पर भरोसा कर लिया और भारतीय जनता पार्टी से दूर होने लगे, उन्हें शायद ये लगता था कि हार्दिक पटेल समाज का लड़का है, उभरता हुआ नेता है, हमारे आरक्षण की बात कर रहा है, अगर आरक्षण नहीं दिलवा पाया तो भी समाज का एक नेता तो बन ही जाएगा, इसलिए लोग आँखें मूंदकर हार्दिक पटेल के साथ जुड़ने लगे.

एक साल पहले हार्दिक पटेल के साथ पाटीदारों की असली भीड़ थी, उस समय वे जातिवाद में अंधे हो गए थे लेकिन अब हार्दिक पटेल की पोल खुलने लगी है, उनकी पोल कई महीनों पहले से खुलने लगी थी क्योंकि देखते ही देखते हार्दिक पटेल करोड़ों रुपये के मालिक बन गए, हार्दिक पटेल के पिता साइकिल की रिपेयरिंग करते थे लेकिन हार्दिक पटेल ने पाटीदार आन्दोलन शुरू करके और आरक्षण की आग लगाकर देखते ही देखते करोड़ों रुपये कमा लिए, आज उनके पास अहमदाबाद के VIP इलाके में 50 करोड़ का बंगला है, 4 फोर्च्युनर गाडी हैं, iPone है और ऐशो आराम की हर चीज है.

इससे भी बड़ा खुलासा दो दिन पहले हुआ, हार्दिक की लगातार दो सेक्स सीडी सामने आ चुकी हैं, एक सीडी में वे एक महिला के साथ दिख रहे हैं और दूसरी सीडी में एक महिला के साथ हार्दिक पटेल और उनके दो दोस्त भी दिख रहे हैं. दूसरी वीडियो तो विल्कुल असली दिख रही है क्योंकि इस वीडियो में हार्दिक पटेल टकले दिख रहे हैं.

आपको बता दें कि जब कुछ महीनों पहले कुल पटेल युवक आरक्षण की आग भड़काते समय पुलिस फायरिंग में मारे गए थे तो उनकी तेरहवीं पर हार्दिक पटेल और उनके दोस्त गंजे हुए थे, कहने को तो हार्दिक पटेल उनकी मौत पर दुःख कर रहे थे लेकिन वह होटल में अपने तीन दोस्तों के साथ एक ही लड़की के साथ मौज कर रहे थे.

अब हार्दिक पटेल की पोल पूरी तरह से खुल गयी है, अब उन्हें बहुत बड़ा अय्याश बताया जा रहा है, पाटीदारों की आँखों से जातिवाद का चस्मा हटने लगा है, उन्हें अपनी गलती का अहसास हो गया है, अधिकतर पटेल यह भी समझ चुके हैं कि कांग्रेस के इशारे पर उन्हें जातियों में बांटने की कोशिश की जा रही है. क्योंकि जो नेता दूसरी जाति के खिलाफ आन्दोलन करके नेता बने थे, आज वह एक हो गए हैं.

अब हार्दिक, अल्पेश और जिग्नेश के शिकार लोग फिर से बीजेपी की तरफ मुड़ने लगे हैं क्योंकि बीजेपी ने एकता का नारा दिया है जबकि कांग्रेस ने जातियों में बांटने का नारा दिया है, अब गुजरात का लोग सारा खेल समझ रहे हैं, उन्हें समझ में आने लगा है कि गुजरात में फूट डालो और राज करो का गेम खेला जा रहा है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: