Oct 18, 2017

राम मंदिर के लिए पहले विनम्रता से प्रार्थना करेंगे, बात नहीं बनी तो जय श्री राम: केपी मौर्या


up-dcm-keshav-prasad-maurya-will-use-ram-method-for-ram-mandir

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने आज राम मंदिर की चर्चा करते हुए कुछ बड़ा इशारा किया. उन्होंने भगवान राम की याद दिलाते हुए कहा कि लंका पार करने के लिए पहले भगवान राम ने तीन दिनों तक हाथ जोड़कर विनम्रता के साथ समुद्र देव से प्रार्थना की थी, तीन दिनों तक प्रार्थना करने के बाद जब बात नहीं बनी तो भगवान राम ने भी क्रोध दिखाया था - उन्होंने कहा था -

बिनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति। (अर्थ - इधर तीन दिन बीत गए, किंतु जड़ समुद्र विनय नहीं मानता। तब श्री रामजी क्रोध सहित बोले- बिना भय के प्रीति नहीं होती)

उन्होंने कहा कि जब बिनय से बात नहीं बनती तो भय दिखाना भी गलत नहीं होता. उन्होंने कहा कि आज अयोध्या में जो आयोजन हो रहा है उसे देखकर दुनिया भर के राम-भक्त बहुत खुश हो रहे होंगे एक राम भक्त होने के नाते मैं भली भाँती महसूस कर रहा हूँ.

उन्होंने कहा कि राम मंदिर का मामला सुप्रीम कोर्ट में है, हम विनम्रता से उनके फैसले का इन्तजार कर रहे हैं, चाहे उनके आदेश से फैसला हो या समझौते से फैसला हो, हम भव्य राम मंदिर बनायेंगे लेकिन आज जो काम हमको करना है उसे करने से कोई नहीं रोक सकता, राम मंदिर बनाने से तो हमें रोक सकते हैं लेकिन अयोध्या का विकास करने से कोई नहीं रोक सकता.

नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: