Oct 14, 2017

इससे फैलता है पटाखों से भी 100 गुना प्रदूषण और बीमारियाँ, सुप्रीम कोर्ट इसे बैन करके दिखाए


supreme-court-should-ban-mosquito-coil-and-liquid-as-patakha-ban

सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की विक्री पर यह कहते हुए बैन लगा दिया कि इससे प्रदूषण फैलता है, बच्चों को सांस की बीमारियाँ हो जाती हैं और उनका जीना मुश्किल हो जाता है, सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला करते हुए थोड़ी सी भी समझदारी का इस्तेमाल नहीं किया क्योंकि प्रदूषण सिर्फ पटाखों से ही नहीं फैलता, सांस की बीमारियाँ सिर्फ पटाखों से नहीं होतीं, कई और चीजें हैं जिनकी वजह से बीमारियाँ फैलती हैं.

आप खुद देखिये, मच्छरों को भगाने वाली Coil और Liquid जैसे मोर्टीन, गुड नाईट, आल आउट आदि में पटाखों से भी ज्यादा जहर होता है, ये पटाखों से भी 100 गुना अधिक बीमारियाँ फैलाते हैं, ये पटाखों से भी हजारों गुना अधिक प्रदूषण फैलाते हैं लेकिन इनका इस्तेमाल सभी घरों में होता है.

अगर सुप्रीम कोर्ट वाकई में प्रदूषण के लिए गंभीर है तो उसे पहले इन चीजों को बंद करना चाहिए क्योंकि जब दीवाली पर पटाखे जलते हैं तो उसके धुंवे में सभी मच्छर ख़त्म हो जाते हैं, आप देखते होंगे कि दीवाली के बाद एक भी मच्छर नहीं दिखते, पटाखों के धुंवे में सभी मच्छर मर जाते हैं, जैसा Coil के धुंवे से मरते हैं.

Coil का धुंवा मच्छरों को तो भगाता है लेकिन साथ में सांस और अन्य बीमारियाँ भी दे जाता है, लोग मच्छरों से बचने के लिए सांस की बीमारियाँ लेने को मजबूर हैं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट को इनपर बैन लगाना चाहिए. अन्यथा पटाखों को बैन करना हिन्दू धर्म का अपमान ही माना जाएगा.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: