Oct 9, 2017

राहुल गाँधी बोले 'जय शाह जादा खा गया, मोदीजी आप चौकीदार थे या भागीदार'


rahul-gandhi-blame-modi-partnership-in-jay-shah-case-guajrat

जय अमित शाह के 16000 गुना टर्न-ओवर बढ़ने के मुद्दे को कांग्रेस ने भुनाना शुरू कर दिया है जबकि इसमें कोई दम नहीं है और यह पूरी तरह से फेल आरोप है क्योंकि जय शाह ने 2015-16 में लोन लेकर बिजनेस शुरू किया था जिसकी वजह से उनका टर्न-ओवर 16000 गुना जरूर बढ़ा लेकिन उसके बाद भी बिजनेस में डेढ़ करोड़ का घाटा हुआ.

कल वायर ने खबर छापी थी थी कि जय शाह की कंपनी टेम्पल इंटरप्राइज प्राइवेट लिमिटेड ने 2013 में बिजनेस शुरू किया लेकिन कंपनी को 6230 रुपये का नुकसान हुआ, 2014 में भी 1724 रुपये का नुकसान हुआ. इसके बाद 2014-15 में 18,728 करोड़ रुपये का फायदा हुआ जबकि 50000 रुपये टर्न-ओवर दिखाया गया. 

वायर के मुताबिक जय शाह की कंपनी ने इसके बाद ऐसी छलांग लगाई कि 2015-16 उन्होने 16000 गुना यानी 80.5 करोड़ का टर्न ओवर दिखा दिया.

आज इसी बात को मुद्दा बनाते हुए राहुल गाँधी ने ट्विटर पर लिखा - मोदीजी, जय शाह - जादा खा गया, आप चौकीदार थे या भागिदार.


आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जय शाह के 16000 गुना टर्न-ओवर की खबर को सिर्फ सनसनी फैलाने के लिए दिखाया गया था, उन्होने बैंक से 82 करोड़ के आसपास लोन लेकर बिजनेस शुरू किया था इसी वजह से उनका टर्न-ओवर 50000 से बढ़कर 80.5 करोड़ हो गया, जाहिर है कि अगर कोई भी व्यक्ति बैंक से लोन लेकर बिजनेस करेगा तो टर्न-ओवर बढेगा, हाँ अगर उनकी कमाई 16000 गुना बढती तो बात कुछ और थी लेकिन उनका तो सिर्फ टर्न-ओवर बढ़ा है और डेढ़ करोड़ का घाटा हुआ है लेकिन कांग्रेस ने इस फेक न्यूज़ पर भी बवाल मचा दिया और इसे चुनावी मुद्दा भी बना लिया है.

पियूष गोयल ने वायर की खबर को बता झूठी, आधारहीन

इस मामले पर केंद्रीय रेल मंत्री पियूष गोयल ने सफाई देते हुए कहा - ये जो झूठे और पूरे तरीके से आधारहीन, दुर्भावनापूर्ण भाव से लगाए गए आरोप हैं. हम इन सभी आरोपों का खंडन करते हैं. हमारे जय शाह जी के सभी बिजनेस, सभी व्यापार ईमानदारी से किये जाते हैं, सभी हिसाब किताब सही से रखे जाते है, उसपर टैक्स भरा जाता है.

पियूष गोयल ने कहा कि समझने लायक जरूरी बात यह है कि झूठे आरोपों को झूठे आंकड़े देके ऐसा बताने की कोशिश की जैसे कि कोई बड़ी इनकम बढ़ गयी हो, वास्तविकता ये है कि कमोडिटी ट्रेडिंग में टर्न-ओवर ज्यादा होने के कारण 80 करोड़ का टर्न-ओवर जरूर हुआ और नया बिजनेस था तो स्वाभाविक है कि पहले साल ज्यादा टर्न-ओवर होगा ही लेकिन उसपर भी पहले ही वर्ष में डेढ़ करोड़ का नुकसान हुआ. नुकसान की वजह से जय शाह ने अक्टूबर 2016 में ही इस कमोडिटी ट्रेडिंग के बिजनेस को ही बंद कर दिया और सभी लोन्स को व्याज समेत पे कर दिए. उन्होंने किसी का लोन बकाया नहीं रखा.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: