Oct 7, 2017

पियूष गोयल बोले, अब हमारे युवा जॉब सीकर नहीं जॉब देने वाले बन रहे हैं, यह अच्छा संकेत है


piyush-goyal-said-indian-youth-job-producer-instead-of-job-seekar

मोदी सरकार ने युवाओं को स्वरोजगार पैदा करने के लिए मुद्रा योजना, स्टार्ट-अप योजना, स्टैंड-अप योजना के जरिये सस्ता लोन दे रही है, अब तक सिर्फ मुद्रा योजना के जरिये करीब 7-8 करोड़ लोगों को लाखों करोड़ रुपये दिए जा चुके हैं, मोदी सरकार ने एक विजन के साथ यह योजना शुरू की थी ताकि किसी युवा को अगर नौकरी से निकाला जाए या वह स्वरोजगार करना चाहे तो उसे कोई तकलीफ ना हो.

आपको बता दें कि नोटबंदी और GST के बाद कुछ रोजगार ख़त्म हो गए हैं क्योंकि फर्जी कंपनियां बंद हो गयी हैं और लोगों का कालाधन सरकार ने बैंकों में जब्त कर दिया है. हालाँकि मुद्रा और अन्य योजनाओं की वजह से युवाओं को सरकार ने खुद का रोजगार करने का मौका दिया है. इसके बावजूद भी विपक्षी पार्टियाँ मोदी सरकार पर बेरोजगारी पैदा करने का आरोप लगा रही हैं.

कल वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम में भारती एयरटेल के चीफ सुनील मित्तल ने भी विपक्ष की बात पर मुहर लगा दी. उन्होंने कहा कि भारत की टॉप 200 कंपनियों ने नौकरियों में भारी कटौती की है, अगर टॉप 200 कंपनियों में जॉब पैदा होने की संभावना नहीं है तो देश में बेरोजगारी की समस्या पैदा हो सकती है. करोड़ों लोगों को नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है.

इस कार्यक्रम में रेल मंत्री पियूष गोयल भी शामिल हुए थे, उन्होने सुनील मित्तल की बात को खारिज करते हुए कहा, अगर कंपनियां युवाओं को नौकरी से निकाल रही हैं तो यह अच्छा संकेत है क्योंकि भविष्य में हमारे युवा जॉब सीकर नहीं बल्कि जॉब प्रोड्यूसर बनने वाले हैं. हमारी सरकार स्वरोजगारी को बढ़ावा देना चाहती है, युवाओं को जॉब सीकर नहीं बल्कि जॉब प्रोड्यूसर बनाना चाहती है. हम उनकी मदद कर रहे हैं जो इंटरप्रेन्योर बनना चाहते हैं. भविष्य के न्यू इंडिया में किसी को जॉब के लिए परेशानी नहीं होगी.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: