Oct 21, 2017

डॉक्टर, पत्रकार और पुलिस, दिवाली पर जिसनें रोका, उसको फरीदाबाद के लोगों ने जमकर पीटा


faridabad-people-beaten-doctor-patrakar-and-police-for-patakha-bursting

फरीदाबाद, 21 अक्टूबर: दिवाली भारत का सबसे बड़ा त्यौहार है, दिवाली पर पटाखा फोड़ने का रिवाज है, खासकर बच्चों और युवाओं में पटाखा फोड़ने को लेकर बहुत क्रेज रहता है, इस बार दिल्ली एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट ने पटाखा बेचने पर प्रतिबन्ध लगाया था जिसकी वजह से लोग नाराज थे, लोगों ने जैसे-तैसे जुगाड़ करके पटाखे खरीदे और उसे जमकर फोड़ा. फरीदाबाद के लोगों ने भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ भड़ास निकालने हुए जमकर पटाखे फोड़े.

सुप्रीम कोर्ट पर लोगों ने पटाखा फोड़कर गुस्सा निकाला लेकिन कुछ ऐसे लोग भी गुस्से के शिकार बन गए जिन्होंने युवाओं को पटाखा फोड़ने से रोका, फरीदाबाद में पटाखा फोड़ने से रोकने पर एक डॉक्टर, एक पत्रकार और एक पुलिस असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर के साथ मार-पिटाई की गयी. 

कल रात में फरीदाबाद के 3 नंबर में ESI मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर राघवेंद्र ने अस्पताल के ही क्लर्कों को पटाखा फोड़ने से मना किया तो क्लर्क वीरेंद्र दहिया ने अपने साथियों के साथ मिलकर डॉक्टर की जमकर पिटाई की. इस मामले में आरोपी क्लर्क और उसके साथियों पर मार-पिटाई का मामला दर्ज कर लिया गया है.

इसी तरफ से नंगला एन्क्लेव में रहने वाले हरिभूमि अख़बार के ब्यूरो चीफ बीरेंद्र शर्मा की उनके पड़ोसियों ने घर में घुसकर पिटाई की, बिजेंद्र शर्मा ने उन्हें पटाखा फोड़ने से रोका जिसके बाद करीब 12-13 लोगों ने उनके घर में घुसकर उन्हें एवं उनकी पत्नी के साथ मार-पिटाई की, उन्हें काफी चोटें आयीं जिसकी वजह से उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया, इस मामले में भी FIR दर्ज हुई है और करीब 8 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

इसके बाद 3 नंबर में एक असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर जमील खान को भी पीट दिया गया, इन्होने भी गस्त के दौरान कुछ युवाओं को बाहर घूमने से रोका, उन्हें घर जाने के लिए कहा. इनका टोकना भी युवाओं को पसंद नहीं आया और इनकी भी जमकर पिटाई की गयी. इस मामले में भी FIR दर्ज की गयी है. जमीन खान को सिविल अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती किया गया है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: