Oct 19, 2017

फरीदाबाद में पटाखा खरीदने हुआ पहले से आसान, पटाखों बेचने वालों ने निकाला धाँसू जुगाड़, पढ़ें


faridabad-me-patakha-khareedna-hua-asan-sold-in-kirana-store

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली और एनसीआर में 30 अक्टूबर तक पटाखा बेचने पर रोक लगायी है, सुप्रीम कोर्ट का ये कहना था कि पटाखा बेचने पर रोक लगाने से लोग पटाखे खरीद नहीं पाएंगे, जब लोग पटाखे खरीद नहीं पाएंगे तो पटाख जला भी नहीं पाएंगे, जब दिल्ली एनसीआर में पटाखे जलेंगे नहीं तो प्रदूषण भी नहीं बढेगा लेकिन सुप्रीम कोर्ट का आदेश कामयाब होता नहीं दिख रहा है क्योंकि पटाखा विक्रेताओं ने पटाखा बेचने के लिए धाँसू जुगाड़ निकाल लिया है.

पहले लोग पटाखा खरीदने के लिए पटाखा बाजारों में जाते थे लेकिन इस बार पटाखा दुकानों पर बैन है इसलिए पटाखा विक्रेताओं ने हर गली हर नुक्कड़ पर स्थिति किराना और अन्य छोटी दुकानों में पटाखे रखवा दिए हैं, गलियों में रहने वाले हर आदमी को पता चल जाता है कि इस दुकान में पटाखे मिल रहे हैं तो वे चुपचाप जाते हैं और पटाखे खरीदकर ले आते हैं.

फरीदाबाद पुलिस पटाखों विक्रेताओं पर कड़ी नजर रख रही है और सादी वर्दी में भी टीमों को तैनात कर रखा है लेकिन जब मियां-बीवी राजी तो क्या करेगा काजी. जब बेचने वाले और खरीदने वाले तैयार हैं तो पुलिस और सुप्रीम कोर्ट क्या कर सकती है, जिसको पटाखा खरीदना है वह जाकर खरीद रहा है, पुलिस वालों को किराना दुकानों पर शक नहीं होता इसलिए पटाखा व्यापारी उनके पास पटाखे रखवा कर बेच रहे हैं और लोग खरीद भी रहे हैं.

हमारी गली वाले लोग भी पटाखे ला रहे थे तो हम भी उनके पीछे जासूसी करने चले गए, दुकानदार ने डर डर कर पटाखे निकाले और हमें बेच दिए. ये जो फोटो दिख रही है उन्हीं पटाखों की है जो कल हम खरीदकर लाए थे. वैसे हम गए तो थे जासूसी करने लेकिन बेचने वाले की उम्र देखकर हमने उसका नाम पता और एड्रेस नहीं दिया है, लेकिन इतना जरूर बता रहे हैं कि पटाखा बेचने वाले बेच भी रहे हैं और खरीदने वाले खरीद भी रहे हैं, पुलिस वाले भी अपना काम कर रहे हैं लेकिन पूरी तरह से पटाखा दुकानों पर नजर रखने के लिए लाखों पुलिस कर्मी चाहियें लेकिन उतने पुलिस वाले हैं ही नहीं तो वे क्या करें.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: