Oct 21, 2017

ना बिजली, ना पानी, BK अस्पताल बदहाल देखकर भड़के BJP MLA अवतार भड़ाना, खोली खट्टर सरकार की पोल


bjp-mla-avtar-singh-badana-visit-bk-hospital-exposed-khattar-sarkar

आज खट्टर सरकार की पोल खुल गयी, पोल खोलने वाले भी BJP के विधायक निकले. आज एक पत्रकार से मिलने के लिए फरीदाबाद के पूर्व सांसद और मीरपुर उत्तर प्रदेश के BJP विधायक अवतार सिंह भडाना शहर के बीके सरकारी अस्पताल पहुंचें. आपको बता दें कि कुछ लोगों ने पत्रकार बिजेंदर शर्मा को पटाखा फोड़ने से रोकने पर उनके घर में घुसपर पीट दिया था, उन्हें इलाज के लिए बीके अस्पताल में भर्ती किया गया है. अवतार भड़ाना जब उनसे मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे तो बदहाल हालत देखकर भड़क गए.

अस्पताल में ना बिजली थी, ना पानी था, ना साफ़-सफाई थी और ना ही पंखे चल रहे थे. अवतार भड़ाना से यह देखा नहीं गया, वे पूर्व में फरीदाबाद के सांसद भी रह चुके हैं इसलिए उन्होंने तुरंत ही हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से बात की.

उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री को बताया कि - यहाँ पर एक पत्रकार, एक पुलिस और एक डॉक्टर को मारा पीटा गया है, सभी लोग यहाँ पर भर्ती हैं, अस्पताल में यह हालत है कि यहाँ पर ना डॉक्टर हैं, ना CMO हैं, ना PMO हैं, ना लिफ्ट है, यहाँ तक कि रूम में लाइट तक नहीं है. यहाँ पर जब पत्रकारों और पुलिस वालों की ऐसी हालत है तो यहाँ पर आने वाले फरीदाबाद के जन मानस के साथ क्या होता होगा.

उन्होंने कहा कि यहाँ पर हमारी सरकार है लेकिन इन्हें कैसे विश्वास दिलाएं कि हमारी सरकार में हम लोगों को न्याय मिलेगा. उन्होंने कहा कि आप यह पूछिए कि बिना लाइट और पंखे के उसे पूरी रात भगवान के रहमो-करम पर क्यों रखा गया.

उन्होंने कहा कि यहाँ पर एक डॉक्टर भी भर्ती है, एक पुलिस वाला भी भर्ती है, मैं आपने न्याय की उम्मीद करता हूँ मंत्री जी, आप अस्पताल की बदहाल हालत पर ध्यान दीजिये.

उन्होंने CMO को फोन पर कहा कि आप यहाँ पर जल्दी पहुँचिये तो ठीक होगा वरना ठीक नहीं होगा, उन्होंने कहा कि आज यहाँ पर जो कुछ भी हो रहा है, ना लाइट है, ना बिजली है, दोबारा ऐसा नहीं होना चाहिए वरना मुझे आपके खिलाफ सख्त कार्यवाही करनी पड़ेगी. मैं आपके साथ बहुत बुरा पेश आऊंगा. मैंने हेल्थ मिनिस्टर को बोल दिया है, मैं मुख्यमंत्री को भी बोलने जा रहा हूँ, फरीदाबाद के अस्पताल की ऐसी बुरी हालत है कि मैं इस शहर के लोगों को रहमों करम पर नहीं छोड़ना चाहता.

उन्होंने CMO को यह भी चेतावनी दी कि अगर पत्रकार की रिपोर्ट में तुम्हारे डॉक्टरों ने कुछ भी कमीं करने की कोशिश की तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा, यह 307 और 308 का मामला है, इनका क़त्ल करने की कोशिश की गयी, घटना के वक्त पुलिस को किसी मामा ने फोन किया और पुलिस वालों ने मामले को दबाने की कोशिश की.

नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: