Sep 8, 2017

मीडिया ने गौरी लंकेश की हत्या का मातम मनाया, भाषण लिए कन्हैया को भी बुलाया, ये कब बना पत्रकार


why-kanhiaya-kumar-seen-in-press-club-with-journalists-gauri-lankesh

भारत के मीडिया चैनलों और पत्रकारों का दोगलापन लोगों की समझ में नहीं आ रहा है. ठीक है गौरी लंकेश की हत्या का मातम मनाना चाहिए, वह भले ही एक विचारधारा के खिलाफ थीं और एकपक्षीय पत्रकार थीं लेकिन पत्रकारों को उनकी हत्या का मातम विल्कुल मनाना चाहिए क्योंकि उनकी बिरादरी का एक सदस्य मारा गया है लेकिन ये कन्हैया कुमार कब से पत्रकार बन गया भाई.

आपको बता दें कि दो दिन पहले मीडिया ने दिल्ली के प्रेस क्लब में गौरी शंकर की मौत का मातम मनाया लेकिन उसनें भाषण देने के लिए देशद्रोह के आरोपी और देश के टुकड़े टुकड़े करने मंशा रखने वाले कन्हैया कुमार को भी बुला लिया. कन्हैया कुमार ने वहां पर भाषण भी दिया.

यहाँ पर पत्रकारों से सवाल ये है कि तुम लोगों ने कन्हैया कुमार को अपनी जमात में कब से शामिल कर लिया, तुमने कन्हैया कुमार को अपनी जमात में शामिल किया है या तुम लोग खुद उसकी जमात में शामिल हो गए हो. क्या तुम लोगों को अपने आप पर विश्वास नहीं है, क्या तुम लोगों को अपनी ताकत पर भरोसा नहीं है. क्या तुम लोग भाषण देना नहीं जानते, भारत में एक से बढ़कर एक जर्नलिस्ट हैं, एक से बढ़कर एक एंकर हैं लेकिन तुम लोगों ने उन्हें नहीं बुलाया, और कन्हैया कुमार जो देशद्रोह का आरोपी है, 14 दिन के लिए जेल जा चुका है और जमानत पर बाहर है, उसे तुम लोगों ने भाषण देने के लिए बुला लिया. मीडिया वालों तुमनें अपना मुंह खुद काला कर लिया है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: